हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती

छवि स्रोत,इंडियन मुसलमानी सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

मेहंदी शायरी: हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती, काकू ने भी अपने कपड़े बदल कर एक लूज बर्मूडा और स्लीवेलेस टी शर्ट डाल ली.

सनी लियोनी xx

रिया ने एक नयी बोतल थामी और वो मेरे बगल में आ खड़ी हुई, बोतल को ऊँचा करके उसने पुछा- बोलो तुम्हें शराब चाहिए, या ये लड़की चाहिये?सबने जोर से बोला- लड़की के बदन पर शराब चाहिये!रिया ने बेहद धीमे शराब को मेरे बदन से बहाना शुरू किया. सेक्सी बीएफ वीडियो में एचडीबताओ तो मुझे!टीना- देख फ्लॉरा के घर पर सब लोग रात को आएँगे, अभी उसमें बहुत टाइम बाकी है.

मेरे हाथ में सामान देख कर वो पूछने लगी- ये क्या है?मैं- आज तुझे चुदाई दिखाऊंगा. एक्स एक्स एक्स बीएफ हिंदीलेकिन तुम ज्यादा नहीं चीखी और चिल्लाईं और तुमने मेरा पूरा का पूरा लंड अपनी चुत में ले लिया.

मेरा लंड खड़ा हो गया था, जो उस स्पोर्ट ड्रेस से साफ़ खड़ा दिख रहा था.हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती: कहानी का पिछला भाग :मैंने अपने देवर से चुदवा लिया-3अब तक आपने मेरी देवर भाभी की चुदाई कहानी में जाना कि मेरे पति की जानकारी में मेरे देवर के मूसल लंड से मेरी चूत गांड की चुदाई हो रही थी.

मैं चुचे मसलने में इतना मशगूल था कि ध्यान ही नहीं दिया कि नीता मुझे देख रही है.मेरे बर्दाश्त के बाहर था माहौल, मैं बस आँखें बंद कर के हर पल का आनन्द ले रही थी.

डॉक्टर की सेक्सी वीडियो दिखाएं - हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती

इस झटके से मेरा आधा लंड उसकी चुत में जा चुका था, जिससे संगीता दर्द के मारे कराह उठी.उनके चेहरे पर शैतानी और हवस दोनों दिख रही थी; शायद वो मेरी हालत समझ चुके थे; वो मेरे इतने करीब तो आ ही चुके थे कि मैं हाथ बढ़ा कर खम्बे जैसे टाइट, एकदम 90 डिग्री पर खड़े उनके लौड़े को पकड़ सकता था… लेकिन शायद मेरा शरीर एकदम मेरे काबू में नहीं था; हाथ पाँव सब जमे हुए थे! ना मैं कोठरी से बाहर जा रहा था और ना ही हाथ हिला पा रहा था.

शोभा- तुम मुझसे क्या चाहते हो?वरुण- मैं ये चाहता हूँ कि तुम जो कर रही थीं वही करती रहो. हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती चाची का पेटीकोट अभी तक कमर के ऊपर था और ब्लाउज के बटन भी खुले हुए थे और उनके चूचे बाहर निकले हुए थे.

कभी-कभी तो घर से बोल कर जाती थी कि आज पूरी रात सहेली के यहां पढ़ाई करूँगी.

हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती?

उसके बाद मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से लगा कर एक लंबा सा किस किया. मैंने नेहा की जीन्स का बटन फिर से खोला और सोनिया ने उसका टॉप उतार दिया. मैदान काफी बड़ा था और शहर से दूर भी था… वहाँ आस पास कोई घर नहीं थे, खुला मैदान और खेत थे… साथ ही रावण के जलने में अभी करीब एक घंटे का समय बाकी था और भीड़ बस मैदान में थी बाकी आस पास सुनसान काली रात थी जो मुझे लंड के मिलने की उम्मीद जगा रही थी.

आधी रात को मैं बाथरूम जाने के लिय उठी तो देखा कि सैफिना वहाँ नहीं थी. मॉम ने कहा- तुम दोनों को तो नहीं आ रही पेशाब क्या?मैंने कहा- मुझे आ रही है…तो मॉम कहने लगी- तो अब तू कर मेरे ऊपर पेशाब!मैं बेड पर चढ़ गयी और खड़ी होकर मॉम की चूत मुख, चूची पर पेशाब कर दिया. वैसे वो मेरी बेटियाँ हैं… इसलिए हो सकता है कि वो कालेज में लड़कों से चुदवाती हों.

इधर मैंने अपने कपड़े भी उतार दिए थे और मेरे जिस्म पे सिर्फ मेरा अंडरवियर ही बाकी था. वह मेरी इस हरकत से मानो पागल सा हो गया और उस बात को भूल गया और सिसकारियाँ लेते हुए बोलने लगा- आह… आह… आह… ओह… ओओह. मैंने चाची का सर पकड़ा और पूरी ताकत से अपना 8 इंच का लंड चाची के गले तक उतार दिया और झड़ गया.

वो हंसी और धन्यवाद कहते हुए बोली- चलें?मैंने सोचा ये आसानी से हाथ नहीं आने वाली. तो मुझे समझ आया कि मैंने अनामिका को नहीं पटाया बल्कि अनामिका ने अपनी कामुकता की संतुष्टि के लिए मुझे साधन बनाया है.

सच बोलो अंकल, मेरे और मम्मी के जिस्म में सबसे अच्छा किसका जिस्म है? वेल… मम्मी का किसी के साथ पोस्ट मैरिटल लफ़ड़ा है… यह तो मैं मान नहीं सकती.

फिर अगले दिन आए तो आज मैं मन में सोच कर बैठी थी कि कैसे न कैसे दोनों के लंड खा लूँ.

वहाँ सबसे मिले और बच्चों के साथ वक्त बिताते रहे, ऐसे ही शाम हो गयी. मैंने शरारत इसलिए की कि अगर साबिया को बुरा लगा तो बात खत्म हो जाएगी और अगर न बुरा लगा तो… तो… तो… तो…शहज़ाद ने मेरे से पूछा- साबिया, तुम्हें बुरा तो नहीं लगा?और उसने अपनी हम दोनों को बाँहों में भरकर अपनी छाती से कस कर चिपका लिया और हम जोर से हंस पड़े. इस वक्त टीना भी अब चुदाई के चरम सुख का मज़ा लेना चाहती थी तो उसने जाने को कह दिया.

अजीब बात थी कि मामी ने बिना अंडरवियर पहने ही पेटीकोट और साड़ी पहन ली. ”मैंने पूछा- ये राजू कौन है?ये तुम्हारे भाई जी की मौसी के लड़की के लड़का का. अभी यहाँ भी हमारे काम का कुछ नहीं बचा, तो चलो अब मोना और नीतू के पास जाकर थोड़ा झाँक लेते हैं कि वहां क्या हो रहा है.

मेरी अर्जी पर ट्रान्सफर के आर्डर आते-आते एक महीना लग गया, तब तक हम दोनों का अलग रहना हमारी मजबूरी बन गया.

अभी शोभा अपनी चूचियों को मसलते हुए चुत में उंगली कर ही रही थी कि उसी वक्त बाहर सविता भाभी का आना हो गया. पप्पू के मुँह में अपनी चूची और दबाते हुए वो बोली- उफ्फ्फ्फ्फ़ अंकल… कितना अच्छा लग रहा है आपका डाँडिया मसलने में. हाय दोस्तो, मैं निकिता फिर से एक बार आप सबको मेरी धांसू मेरी इंडियन लेस्बियन सेक्स स्टोरी सुनाने आयी हूँ.

” मैंने बहू रानी की पतली कमर दोनों हाथों से कसके पकड़ के उसकी गांड में लंड से कसकर ठोकर लगाई, साथ में नीचे उसकी चूत में अपनी बीच वाली उंगली घुसा के अन्दर बाहर करने लगा. गुलशन जी को असीम आनन्द की प्राप्ति हुई, मगर वो अपने ज़ज्बात को काबू में किए हुए वैसे ही खड़े रहे. मम्मी-पापा दोनों गवर्नमेंट जॉब करते हैं तो दोनों सारा दिन घर पर अकेले ही रहते हैं.

तभी 3 लेडीज जिनकी उम्र लगभग 35-40 के अराउंड होगी, मेरी बगल वाली सीट पर आकर लाइन से बैठ गईं.

उनकी चूत गीली हो रही थी और वो मेरे पैंट के ऊपर से मेरे लंड को सहला रही थी. तो चलो ये भी जान लो आप मगर आज नहीं अगले पार्ट में पूरा खुलासा करूँगी.

हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती उसकी बात सुन कर मेरी आँखों से अश्रु निकल आये और मैंने कहा- मुझे खुद नहीं मालूम कि मैंने कहाँ जाना है. वाह क्या छाती थी उसकी… बिल्कुल कड़क और बीच में एक दरार… मैंने उसके छाती के उभर पर एक ज़ोरदार किस कर दी और अपने चेहरे को उसकी छाती पर रगड़ने लगा और अपनी नाक फूली छाती के बगल में घुसा दी.

हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती फिर क्या हुआ?अगले पार्ट में आपसे उसके घर में इस चुदाई की कहानी को साझा करूँगा. वैसे अभी हो कहां?मैं- ऑफिस में!पीटर- मतलब अपने केबिन में हो या फ्लोर पर?मैं- केबिन में… बाकी सारे जा चुके हैं.

इसके बाद मेरा स्खलन होने लगा, पेट सिकुड़ने लगा, सर से पैर तक करंट दौड़ गया.

सेक्सी ब्लू फिल्म दिखाइए हिंदी में

उसने कहा- मेरे राजा एक बार और चोदेगा क्या?मैंने कहा- साली तुझे तो आज पूरी रात चोदूँगा. और सबसे कातिलाना उसके डोले शोले जो उसकी प्लेन काले रंग की सिली हुई शर्ट में से साफ़ दिखायी दे रहे थे, शर्ट गहरे नीले रंग की जीन्स में अंदर की हुई थी, पीछे वाले जेब में रखा हुआ पर्स गान्ड पर अलग सा उभार दे रहा था… मानो उसे अपने पहनावे से ज्यादा मतलब नहीं था… वैसे भी ऐसे मर्दाना जवान जिस्म को तो किसी कपड़े की ज़रूरत ही नहीं थी. फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और 5 मिनट बाद मैं भी उसकी चुत में ही डिसचार्ज हो गया.

जैसे ही मैं वाशरूम से बाहर आया तो सोनिया और नेहा मेरी तरफ ही देख रही थीं. जिस चूत को मैंने उसकी छोटी निक्कर में ढके हुए देखा था अब वही चूत मेरे सामने पाव रोटी की तरह फूली हुई, गुलाबी रंगत लिए, एकदम नंगी थी. संजय और सुमन के इस खेल में टीना इतनी खोई हुई थी कि बस पूछो मत, वो अपनी चुत को रगड़ रही थी और बहुत ज़्यादा उत्तेजित हो गई थी.

इसलिए 10 मिनट उसको उसी पोजीशन में चोदने के बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और फिर से उसकी चूत चाटने लगा.

जब तक मुझे अपनी योनि में तरुण के लिंग को समायोजित करने में कुछ समय लगा तब तक वह रुका रहा और जब मेरे चेहरे पर सामान्य भाव आये तब उसने धक्का लगा दिया. मैंने पानी की बॉटल उठाई और आगे झुकने पर उसकी गांड का जो हिस्सा दिख रहा था, उसके अन्दर मैंने पानी डाल दिया. मैंने रूबी को कहा- वह सीधे ही क्यों नहीं करवा लेती? स्पर्म बैंक का चक्कर क्यों रखती है?रूबी ने कहा- पता नहीं वह राजी होगी या नहीं?मैंने पूछा- सुन्दर है?तो रूबी कहने लगी- अप्सरा जैसी सुन्दर है.

मैंने पैर फ़ैलाने को बोला तो उसने थोड़ा झुकते हुए अपने पैरों को फैलाकर मुझे अपनी चूत के दर्शन दे दिए. सुमन- नहीं दीदी पापा गुस्सा करेंगे और वहां कोई आ गया तो?टीना- तू एकदम बुद्धू है. मुझे एहसास हुआ कि मुझसे गलती हो गयी है, अब क्या करूँ…वास्तव मैं उस जवान कसरती जिस्म से लिपटकर में पागल हो गया था इसीलिए मुझसे ये गलती हो गयी थी… मैंने कहा- सॉरी यार… सर्वेश… जोश जोश मैं हो गया… मेरी दूसरी टीशर्ट पहन लेना भाई…!कहते हुए मैंने उसके लण्ड के उभार पर अपना मुँह घुसा दिया और अपना चेहरा लोवर के ऊपर से ही रगड़ने लगा.

उसकी जींस पर बीयर गिर गई थी, या उसने जानबूझ कर गिरा ली थी, मणि ने जींस गीली होने के बहाने से उतार दी. हम वैसे ही टीवी देख रहे थे, मुझे उन पर प्यार सा आया तो मैं उनसे चिपक कर बैठ गई.

मैंने देर न करते हुए उन्हें भी बुला लिया तो रोस्टन भी तुरन्त नंगा हो गया और सिंडी भी नंगी हो गई. आंटी बोली कि आज तक उन्होंने ऐसी मजेदार चुदाई नहीं की थी, मजा आ गया. टीना ने सुमन से मॉंटी वाली बात भी की मगर सुमन कसम खाते हुए साफ मुकर गई कि उसकी मॉंटी से ऐसी कोई बात नहीं हुई.

फिर कुछ मिनट में मेरे लंड ने दीदी के मुँह के अन्दर ही पानी छोड़ दिया.

कार में मैंने पिंकी से पूछा- तुम्हारी बुर कैसी है अभी?बहुत दर्द है. तभी मेरे दिमाग़ में आया तो मैंने पूछा- दीदी अब तो बताओ कि वो नींद की गोलियाँ किस लिए मँगवाई थीं आपने?दीदी- अंजलि आज अचानक आ गई थी और उसको देर रात तक पढ़ने की आदत है, अगर वो जागती रहती तो तू मुझे कैसे चोद पाता इसीलिए उसके और अपनी सास के दूध के गिलास में मिला कर दे दी, ताकि हम दोनों पूरी रात बिना किसी रुकावट के मज़े कर सकें माई डार्लिंग संचू. मजाक करते हुए अपनी उंगलियों से उसके पेट के ऊपरी हिस्सों को छूने लगा.

कार की खिड़की खुली और अंदर से एक लेडी की मधुर आवाज आई- किस का इंतजार कर रहे हो? आओ गाड़ी में बैठ जाओ!मैंने खिड़की से झाँक कर देखा तो गाड़ी में एक 35-40 साल की सुन्दर सी औरत बैठी थी. जब बेटा दूध पीते पीते सो गया तब मैंने उसे बिस्तर पर सुला कर कमरे की उस अलमारी को खोल कर देखा तो उसमें भी मर्दाना कपड़े ही पड़े हुए थे.

मेरा बिल्कुल क्लीन किया हुआ बड़ा लौड़ा देखकर साली ने झट से उसको अपने हाथ में लिया, बोली- आज तो मेरा हरामी मिट्ठू बहुत मस्त लग रहा है, इसे खा जाऊँगी. मैंने उसकी जीन्स का बटन जैसे ही खोला तो सोनिया ने उसकी जीन्स को टांगों के रास्ते बाहर कर दिया. मजे की बात ये थी कि हम तीनों भाई बहन नंगे थे।दोस्तो, मजा आ रहा है ना?आगे की सेक्स कहानी अगले भाग में जारी रहेगी.

सी बीएफ वीडियो

मेरी फैमिली में 4 मेंबर हैं, मम्मी पापा, मैं और मेरी एक बहन, जिसका नाम रेणु है.

ना कि कभी ऐसा भी हो सकता है।दोनों ने एक साथ कहा- हम्म्म…मज़ा तो बहुत आया लेकिन सोना, तुम्हें बुरा तो नहीं लगा? और रूपा तुम्हें?” मैंने दोनों से एक साथ सवाल कर दिया।पहले रूपा बोली- शुरू में अजीब लगा था लेकिन नशे में कुछ ज्यादा समझ नहीं आया और फिर बाद में मजा आने लगा।सोना ने भी इसी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा- शुरू में नशे और मस्ती में ये समझ ही नहीं आया कि तुम मेरे सामने अपनी बहन चोद रहे हो. इस बीच दो बार दीदी की फुद्दी ने पानी छोड़ दिया था पर अब भी वो जोर जोर से चोदने को बोल कर मेरा उत्साह बढ़ा रही थीं. उसे नहीं पता था मैंने वियाग्रा खा रखी है और मेरा लंड दो घण्टे तक नहीं बैठेगा.

एक दो मर्दों ने भीड़ में ही अपना लंड पैंट की ज़िप खोल कर बाहर निकाल कर मेरी साड़ी के ऊपर से गांड पे रगड़ा भी और मेरी पीठ और साड़ी पर अपना वीर्य भी छोड़ा, पर मैंने अब तक चुदवाया किसी से नहीं है. मैंने लाल रंग का पटियाला अनारकली सूट पहना था और हल्का मेकअप भी किया था. बीएफ मोठीवैसे तो ममता को ज़्यादा चोटें नहीं आई थीं मगर उसके सर में कोई अंदरूनी चोट लग गई, जिससे वो कोमा में चली गई.

नीता के हाथ से अपना लौड़ा छुड़ाते हुए पप्पू ने फिर नीता को बेड पे लिटाया. अब की बार लंड पर कंडोम दीदी ने चढ़ाया और मैंने उनको कुतिया स्टाइल में होने को बोला.

यही उथल पुथल दिमाग में चलती रही; इन ख्यालों से बचने का कोई रास्ता नज़र नहीं आ रहा था. ” मैंने कहा और लंड को थोडा पीछे ले कर पूरे दम से पेल दिया बहूरानी की गांड में. मैं आपस आया और इस बार चाची के बिल्कुल नजदीक आकर लेट गया और उनकी साइड मुँह करके बात करने लगा.

फिर मैं उससे इधर-उधर की बातें करने लगा कि आप कहाँ से हो और इस काम में कैसे आ गईं. आंटी मेरा पूरा रस पी गईं और लंड को चूसती रहीं, जिससे लंड फिर से खड़ा हो गया. अब अनु प्यार से डालने लगा था और धीरे धीरे उसने पूरा लंड मेरी गांड में पेल दिया.

उसी वक्त सविता भाभी के ऑफिस से उनके बॉस मिश्रा जी का फोन आ गया और भाभी की मजबूरी हो गई थी कि पहले अपने बॉस के पास जाकर उनकी सुनतीं.

उसने लंड चूस चूस कर मुझे झाड़ दिया और मेरा पूरा वीर्य अपने चुचों पर ले लिया. जैसे ही मैं उनके लंड को चूत में डालने की बात बोली, उन्होंने तुरन्त ही उनके लंड पर कोंडोम पहना और चिंटू को मेरी चूत चोदने के लिये बोलने लगे.

फिर थोड़ी देर सोने के बाद वापस हमारा चुदाई कार्यक्रम स्टार्ट हो गया और पूरी रात में हमने 4 बार सेक्स किया. कभी मेरे बाल्स को भी किस करती और अपने उंगलियां मेरे निपल्स पे गोल-गोल घुमाने लगी. चूंकि मामा जी अपना चेहरा छत की ओर किए हुए थे इसलिए लंड भी ऊपर की ओर तना हुआ था, मैंने सोचा कि यह मौका है मामा जी के लंड को अच्छी तरह से देखने का… मैंने झट से मामा जी की पैन्ट को नीचे खींच दी और चड्डी से लंड को बाहर निकाल लिया, लंड के गुलाबी टोपे के ऊपर चमड़ी चढ़ी हुई थी इसलिए लंड उतना बड़ा नहीं दिख रहा था.

हमने उसे बोला कि अगर उसके घर वाले चिंता न करते हों तो वो रात हमारे यहाँ ही सो जाए और अपने घर फ़ोन कर दे. तभी राहुल ने अपनी पैन्ट उतार दी और करीब 7 इंच का तूफानी लंड उनके सामने आ गया. मैंने उससे कहा- तू जानती है ये क्या है?उसने बड़ी मासूमियत से कहा- गोल-गुंडा.

हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती अतः मैंने भी ज्यादा कुछ नहीं कहा और ये दो दिन बिना कुछ किये ऐसे ही निकल गए. आशीष पूरा लंड निकल कर एकबारगी अंदर तक डाल देते मेरे न चाहते हुए भी चीख निकल जाती ‘उईइइ ईई ई ई ई आह्हः उफ्फ ओह्ह्ह आ…शी…ष.

नॉटी america.com

वो तो बहुत जल्दी ही ढीला पड़ गया और ढेर सारा माल मेरे गले में ही छोड़ दिया. मैंने देर न करते हुए उन्हें भी बुला लिया तो रोस्टन भी तुरन्त नंगा हो गया और सिंडी भी नंगी हो गई. हम तीनों काम वासना के मज़े में मस्त थे कि अचानक हमारे दरवाजे पे दस्तक हुई, हम दरवाजा लॉक करना भूल गए थे और मनोज खाने का सामान लेकर अन्दर दाखिल हुआ.

अंकल और कुछ करो जिससे मुझे और मजा आए, कुछ भी करो पर और मजा दो मुझे. सेक्स पार्टनर्स में भी अदला बदली होती थी, जैसा कि लोगों के मुँह से मैंने सुना था. बीएफ हिंदी देसी वालीगीले होंठों के स्पर्श से और फिर मेरे गालों को दोनों हाथों से पकड़ कर मेरे लरज़ते होंठों पे अपने होंठ रख दिए; उफ्फ्फ… कितना गर्म स्पर्श!कितनी देर हम ऐसे ही रहे, मुझे पता नहीं… पर जब हम दोनों अलग हुए तो हम दोनों की सांसें बेकाबू थी.

अब मेरे लेफ्ट साइड में जो लड़की थी, उसने धीरे से मुझसे पूछा- वर्जिन हो क्या?मैं एकदम शॉक्ड रह गया.

दोस्तों टी-शर्ट पहने होने के कारण उसके दोनों चूचे खूब उछल रहे थे और लोअर में होने के कारण उसकी टांगें और पीछे चूतड़ों के उभार हिलते थिरकते हुए साफ़ नज़र आ रहे थे. ऐसा लग रहा है जैसे फट जायेगा… मजा तो बेइंतेहा आ रहा है लेकिन दर्द सा हो रहा है यार… अब नहीं करते यार!मैंने उसे समझाते हुए बोला- तुम्हारा यह पहली पहली बार है और लण्ड लगभग 1 घण्टे से फूल तम्बू की तरह तना हुआ है और अभी तक उसका उपयोग नहीं हुआ है इसलिए तुम्हें ऐसा लग रहा है… डोंट वरी…बोलते हुए मैंने एक बार फिर अपना मुँह उसके लोवर में घुसा दिया.

लंड का सारा जूस मेरी गांड में निकाल देने के बाद जय हट गया और मेरे बगल में लेट गया. ठीक 8 बजे डोर बेल बजी, काकू था, और जैसा बातों से लग रहा था वो बहुत ही स्मार्ट कश्मीरी युवक था. क्लीन शेव लड़का उसके नजदीक आ गया और नताशा उसकी ओर देखकर मुस्कुराते हुए तकिए के ऊपर अपना बांया गाल टिकाए हुए अपने चूतड़ ऊपर की ओर उठा कर उन्हें गोल-गोल घुमाने लगी.

तभी जो रिया की गांड मार रहा था, उसने भरभरा कर पानी छोड़ा और शायद उसका पानी महसूस करके रिया ने भी पानी छोड़ दिया।दो पल के रिया चुप सी हो गयी.

सुमन का कॉलेज और गुलशन जी की दुकान की वजह से दोनों नहीं जा सकते थे, तो ये तय हुआ कि शाम की ट्रेन से हेमा जी जयपुर जाएंगी. अभी तो आपसे विदा लेने का वक़्त आ गया है तो दोस्तो जल्दी से कमेंट्स दो ताकि आगे के पार्ट में आपको बताऊं कि इनके नहाने के बाद क्या हुआ था. जैसे ही मैं वाशरूम से बाहर आया तो सोनिया और नेहा मेरी तरफ ही देख रही थीं.

ट्रिपल सेक्स एचडी हिंदीकरीब 6 महीने बाद कॉलेज की छुट्टियाँ हुईं तो मैंने उसके साथ 2 दिन के लिए घूमने का प्लान बनाया. अब तो जैसे अनु को पता नहीं क्या मिल गया हो… वो ‘आई लव यू… आई लव यू…’ बोलने लगा.

बाबा क्सक्सक्स

सुमन कुछ देर तो डरते-डरते लंड को छू रही थी मगर थोड़ी देर बाद वो खुल गई और सीधे लंड को पकड़ लिया और जैसे ही गुलशन जी का अज़गर उसके हाथ में आया, उसकी साँसें ऊपर-नीचे हो गईं और होती भी क्यों नहीं. नीता का चेहरा सहलाते और उसके बालों में हाथ घुमाते हुए पप्पू उसका मुँह चोदते हुए बोला- आहहह साली… रंडी रूपा की छिनाल बेटी, बड़ा अच्छा लग रहा है मुझे तेरा मुँह चोदना. लेकिन तब तक आप हमें चोदो ना, श्वेता जब आएगी तब देखेंगे क्या करना है.

अब वो दिन आया जब भैया की नाइट ड्यूटी थी, तो पायल ने मुझे रात को फोन किया और आने को कहा. मुझे लगा कि आज तो मेरा काम हो जाएगा और मैंने हिम्मत करके आंटी को किस कर लिया. सुमन- अब क्या करना है पापा, क्या आप पहले मेरे बाल साफ करोगे?पापा- हाँ मेरी जान… पहले तेरे जिस्म के सारे बाल साफ करूँगा, उसके बाद तू मेरे करना… मजा आएगा.

मुझे आशा है बाकी कहानियों की तरह यह कहांनी भी आपको बहुत पसंद आयेगी और आपके लंड या चूत का पानी निकालेगी. इस प्रकार प्रतिदिन वरुण की देखभाल के साथ साथ मैं इसी गतिविधि के अनुसार हवेली और झोंपड़ी का कार्य करती रही और आठ माह कैसे बीत गए पता ही नहीं चला. मैंने फ़ोन में देखा तो ब्लू मूवी पड़ी हुई थी, थोड़ी देर के लिए तो मुझे यक़ीन ही नहीं हुआ.

और ख़त्म ही ना हो! मेरे हाथ अपने आप उनकी नंगी पीठ पर चले गए और उनकी पीठ को सहलाने, दबोचने और नोचने लगे! मेरे हाथ कभी उनकी पीठ पर होते, कभी उनके बड़े बड़े चूतड़ों पर, कभी उनकी गर्दन पर, और कभी उनके बड़े बड़े घुंघराले बालों में!उनको भी पूरा मजा आ रहा था… उनके मुँह से हाय मेरी जान. मैं हमेशा से ही उसको लाइन मारता था और शायद वो भी मुझे पसंद करती थी.

मैं बोली- आप थूक क्यों लगा रहे हो? मैं लंड को चूस कर गीली कर देती हूँ.

पापा- नहीं मेरी बेटी क्रीम से वो चिकनाई नहीं आती, जो इससे आएगी समझी और वैसे भी तुझे डरने की जरूरत नहीं है. भोजपुरी में बीएफ एचडीतो क्या आप संचू को 4-5 दिनों के लिए भेज दोगी?मैं- तो फिर आपने क्या कहा मम्मा?मम्मा- मैंने बोला कि ठीक है आ जाएगा कोई बात नहीं. बीएफ जंगल मेंफिर आरती ने मेरे मुझे एक फेक ईमेल आईडी बनाने का बोला और कहा कि अपने भाई को भाई-बहन वाली चुदाई कहानी के लिंक पोस्ट किया करो. पानी निकलने के बाद फ्लॉरा को अपने पापा से बहुत शर्म आई, उसने सर झुका लिया और धीरे से ‘सॉरी’ कहा.

वो डर कर मम्मी-पापा को पीछे देखने लगी और उसने जल्दी से मेरा हाथ हटा दिया.

भाभी बोलने लगीं- क्या हुआ?मैंने कुछ नहीं बोला तो बोलीं- शर्मा रहे हो क्या?मैंने कहा- हाँ, मैंने आज तक किसी लड़की को हाथ तक नहीं लगाया है. संगीता ने देखा कि पूरा टब का पानी उस की चुत के खून से लाल सा हो गया था. कमसिन लड़की की चुत जितनी टाइट होती है, उससे कहीं ज़्यादा उसमें गर्मी होती है.

जब मूवी में श्रद्धा और आदित्य का बेड सीन आया तब उसने मेरी आँखें बंद कर दीं और बड़े प्यार से मेरी तरफ देखने लगी. मैंने अपना सारा वीर्य भाभी की और पायल की चूचियों पर गिरा दिया, जिसे दोनों ने चाट लिया. आखिर एक 20 साल की पटाखा टाइप की युवती, जो मोटे-मोटे बोबों की मालकिन हो, उसे यूं मस्त नाचता हुआ देख कर किसी भी आदमी का मन क्यों न ख़राब हो जाए.

ಕನ್ನಡದಲ್ಲಿ ಸೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ

रीना उठी और कविता के ऊपर ही लेट गयी और उसके होंठों से अपने होंठ मिला दिए. ये कह कर मैं जाने लगा तो राहुल बोले- यार फर्स्ट टाइम घर आए हो… चाय तो पीकर जाओ. उसका नशा मुझमें ऐसा घुसा कि मैंने अपना मुँह उसकी चुत पर लगा दिया और उसे चाटने लगा.

अब आगे…मैंने अपनी छोटी बहन से पूछा- कैसा लगा अन्नू बहना??अनुराधा बड़े प्यार से बोली- आई लव यू भैया! बहुत मजा दिया आपने!उसकी इस बात से मुझे उस पे प्यार आ गया और हम दोनों ने किस करना शुरू कर दिया.

और सबसे बड़ी बात, कि उसका लंड बिल्कुल सीधा था और किसी लोहे के हथौड़े की तरह लड़की के मुंह में घुसते हुए उसके गले तक वार कर रहा था.

लेकिन मैंने अपनी जिज्ञासा की प्यास को धीरज का पानी पिलाना जारी रखा. वैसे काफ़ी पवित्र दिन होता है इसलिये मैं भी मंदिर गया, पूजा अर्चना की और दशहरे के चल रहे समारोह में भी हिस्सा लिया. सी बीएफ फुल एचडीजब उसकी साँसें कुछ धीमी हुई तो मणि बोला कि आज उसे भी बहुत ही मजा आया.

पापा जी, चलो अब खाना खा लो!” बहूरानी की आवाज ने मुझे जैसे सोते से जगाया. ये लो अपनी बहूरानी की गांड!” अदिति बोली और अपनी गांड को मेरे लंड से लड़ाने लगी. टीना ने झट से नीचे बैठ कर अतुल के लंड को मुँह में भर लिया और चूसने लगी.

मुझे बहुत ही शरम लगी, पर रितु दीदी ने मेरा ढांढस बंधाते हुए कहा- घबराओ मत, पहली बार कई लोग ऐसे ही बिना चोदे झड़ जाते हैं. अगर तेरा बाप नहीं तो कोई और तेरी मस्त माल मां की गांड में लंड पेलता होगा, तेरी माँ को कुतिया बना कर चोदता होगा.

जब मोनिका से बर्दाश्त नहीं हुआ, तब उसने खुद उठ कर मुझको नीचे लिटा दिया और मेरे ऊपर दोनों तरफ पैर करके चढ़ गई.

मैं धीरे-धीरे उसके नंगे जिस्म पे चढ़ता गया और फाइनली उसके होंठों पर मैंने अपने होंठ रखे. इस बार मैं उनकी गांड मारना चाहता था तो मैंने उनसे कहा, वो मना करने लगीं, पर समझाने पर मान गईं. मैंने अपने राइट हैड से उसकी एक टांग को ऊपर किया और साइड से उसकी गांड पे जोर का थप्पड़ मारा- साली.

सेक्सी बीएफ वीडियो मूवी हिंदी और मैं उस भीड़ को मानो भूल सा गया, मुझे बस हम दोनों और हमारी कामुकता में डूबी हुई मानो सुहागरात लग रही थी. अब मैंने उन्हें बेड पे सीधा किया और उनकी कमर के नीचे एक तकिया लगा दिया, जिससे उनकी चुत ऊपर को हो गई.

फिर मैंने धीरे-धीरे अपना शॉट लगाना चालू रखा, थोड़ी देर बाद जब वो पूरी कंफर्टबल फील करने लगी, तब मैंने अपनी स्पीड बढ़ाना चालू कर दिया. अब मैंने उं भाभी से पूछा- भाभी, आप कहाँ जा रही हैं?भाभी ने कहा- मैं अपने घर जा रही हूँ. और हाँ, एक बात और… मेरी शादी हो गई है… अब चुदने का लाइसेंस भी मिल गया है.

हिंदी बीएफ जबरदस्ती चोदा

टीना तो उसके निप्पल ऐसे चूस रही थी जैसे आज वो सारा रस निचोड़ कर ही रुकेगी. हम दोनों के बीच में हमारे रिश्ते को लेकर काफी बातें भी हुईं जिसमें नतीजा यह निकल कर आया कि वो अपनी सेक्स की प्यास बुझाने के लिए मेरे साथ भले ही दोस्ती जैसा रिश्ता निभा रहा था लेकिन उसके दिल में मेरे लिए एक सॉफ्ट कॉर्नर भी था जिसको वो अपने मुंह से स्वीकार नहीं करना चाहता था. वैशाली बोली- आपका कितनी देर में छूटता है? अब मैं थक गई हूँ, चूत और शरीर बुरी तरह दुःख रहे हैं, चूत तो देखो, एक दिन में ही गुलाबी से नीली हो गई है.

फिर एक बड़े थैले को मेरे पास और दूसरे छोटे थैले को मेज़ पर रख कर कमरे से बाहर जाते हुए कहा- इसमें बच्चे एवं तुम्हारे लिए कुछ कपड़े लाया हूँ. अपने होंठ उसके होंठ पर रख कर एक किस किया तो उसने इतनी गहरी साँस ली कि मैं उसके होंठ को चूसता ही रहा.

मैं जब भी उनकी मोटी चूचियों को देखता हूँ तो मेरा मन करता है कि बस पकड़ के रगड़ दूं.

अब इसको क्या पता तुम इसको मुँह में लेकर मज़ा दोगी या अपनी चुत में लोगी. दीदी मेरे सिर पे हाथ फिराने लगीं और बोलीं- भैया हम दोनों सगे भाई बहन हैं. उसने ऊपर के जंगले में से मेरी कल की चुत में उंगली करते हुए वीडियो बना ली थी.

इस समय चाची के चेहरे पर सन्तुष्टि के भाव बिल्कुल साफ़ देखे जा सकते थे. स्कूल के दिनों में हम रोज किस किया करते थे पर कभी आगे कुछ नहीं कर पाए. तू जिस हिसाब से मेरी बात माने बिना भीड़ में ब्लाउज खोलने लगा… तभी मैंने फ़ैसला कर लिया था कि तुझे अपने साथ आने को कहूँगी.

मैंने भैया को आवाज़ दी लेकिन वो उठे ही नहीं तो मैंने उन्हें थोड़ा हिलाया.

हिंदी बीएफ सेक्सी गांव की देहाती: अभी तक आपने पढ़ा कि मैंने अपनी बहु की झांटें शेव करके उसकी चूत को चिकनी कर दिया. करीब तीन घंटे उसको चोदने के बाद मुझे तसल्ली हुई कि आज बड़ा आनन्द आया.

मेरे लंड के सुपारे को कभी वो अपने होंठों से दबाकर चूसती, कभी पूरा लंड मुँह में भरकर आगे पीछे करके लंड चूसे जा रही थी. भाई से चूत चुदाई की मेरी रियल सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी?[emailprotected]. मैंने अचानक उसका रिएक्शन देखने के लिए अपना हाथ रोक दिया और खड़ा हो गया.

मुझे बहुत तेज गुस्सा आया, मैं गुस्से में बोली- पहले बता देते तो मैं इतनी रात को नहीं आती.

मैंने अपना हाथ उसकी चुत पे ले गया और पहली बार किसी चुत को फील किया. साले गाँव के जवान छोरे शर्ट की खुली बटनों से झाँकती मर्दाना हल्के बालों वाली छाती औरजिस्म की मदमस्त खुशबूसे मुझे मदहोश कर रहे थे. पर आँख लग गई, जब आँख खुली तो आशीष मेरे पास नहीं थे, मैं चादर से ढकी थी पर अंदर से नग्न थी.