इंग्लिश बीएफ मां बेटे की

छवि स्रोत,सेक्सी मूवी एचडी में सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

मटका इडिया: इंग्लिश बीएफ मां बेटे की, इतना बोल के रानी सरक के मेरे लंड के पास मुंह ले आयी और अपनी चूत मेरे तरफ कर ली.

भाभी की चोदा चोदी सेक्सी वीडियो

काफी देर धकापेल के बाद आखिरकार उन दोनों का पानी निकल गया और दोनों निढाल हो गए. लेडीज कोंडोमफिर मैंने सहला सहला कर बिल्कुल ही गर्म कर दिया और उसकी ब्रा पेंटी भी उतार डाली.

ओल्ड आंटी सेक्स कहानी में पढ़ें कि एक बार बड़ी उम्र की आंटी ने मुझे मालिश के लिए बुलाया. भाभी का हिंदी सेक्सी वीडियोइसलिए मैं अबसे अपने बाथरूम का दरवाज़ा खुला रख कर नहाने लगा और मेरा निशाना सही लगा.

मैंने कहा- सॉरी भाभी, आपका नम्बर सेव नहीं था इसलिए मैंने आपको पहचाना नहीं.इंग्लिश बीएफ मां बेटे की: मैंने उसके पति को प्रेगनेंसी चैक करने वाली किट दी और कहा- चैक करके आओ.

सच कहता हूं दोस्तो, मन तो किया कि अभी दरवाजा खोल कर अन्दर चला जाऊं और मौसी को वहीं बाथरूम में चोदने लगूं, पर ऐसा मुमकिन नहीं था, क्योंकि मौसी ने शायद दरवाजा अन्दर से लॉक किया था.जब मैंने सोनू की ब्रा में से उसके मम्मे को आजाद किया तो देखा कि वहां पर मेरे काटने के नीले निशान पड़े हुए थे.

इंडियन देहाती वीडियो सेक्सी - इंग्लिश बीएफ मां बेटे की

मैं समझ चुका था कि साली गर्म हो चुकी है, लंड चाहती है ये मेरा!तो मैं चड्डी से इसकी परीक्षा ले रहा था.इसके लिए एकांत की जरूरत थी, जिसके लिए मकान मालिक का घर पर नहीं रहना जरूरी था.

वहां मुझे एक तीस बत्तीस के सज्जन दिखे, वे मुझे ध्यान से देख रहे थे. इंग्लिश बीएफ मां बेटे की मैंने ना में मुंडी हिलाई, तो बोला- साली नाटक करती है, खोल मुँह और चूस मेरा लौड़ा!वो जबरदस्ती मेरा मुँह खुलवाने लगा, पर मैंने नहीं खोला, कसकर दांत पीस कर बन्द कर लिया.

1 मिनट तक ऐसे ही वो पड़ी रही, फिर मुझे गाली देते हुए बोली- मादरचोद भोसड़ी के … रुक क्यों गया? चोद न कुत्ते मुझे … कमर चला!उसके मुख से गाली सुन के मैं पागल से हो गया। मैंने भी उसके मुँह में अपनी उंगलियों को घुसेड़ दिया.

इंग्लिश बीएफ मां बेटे की?

जैसे ही मेरे होंठ उनकी चूत के पास पहुंचे, मैंने अपने होंठों से उनकी चूत के नीचे के होंठों को चूम लिया. तभी उसने पूछा- सेक्स किए हुए कितने दिन हो गए?मैंने इस बार बिंदास कहा- सात महीने हो गए हैं डाक्टर. मेरे दोस्त मुझे बाबा जी कह कर बुलाते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि मुझमें सेक्स का ज्ञान बहुत भरा हुआ है.

पर मैं करूं तो क्या ये मेरी समझ में नहीं आ रहा था क्योंकि मैं इन चक्करों से बिल्कुल अनजान थी. ऐसे ही करते करते बीस मिनट बाद मैंने कहा- मेरा निकलने वाला है … मुँह में निकालूं क्या?शीतल- हां, तेरा माल मुझे मेरे मुँह में चाहिए … मैं इसका रस पीना चाहती हूं. फिर दो तीन दिन ऐसे ही भाभी किसी न किसी बहाने से मेरी तरफ देख कर मुस्करा देतीं.

अगली सुबह आने से पहले हम साथ नहाये और उसको नहाते हुए मैंने रगड़ कर चोदा. वह डर कर बोली- क्या कर रहे हो साहिल?मैंने कहा- कुछ नहीं, मैं तो वहाँ बैठ कर बोर हो रहा था. खासकर विधवा औरतें व बूढ़ी हो चुकी औरतें, जिनके पति उनकी भूख को सतुंष्ट करने में सक्षम नहीं होते और उनकी इच्छा अभी भी जागृत होती है.

कपिल ने फटाफट अपने लंड को हाथ में लेकर थोड़ा सा हिलाया और झट से चाची की चूत में घुसा दिया. मुझे गुस्सा भी बहुत आ रहा था, पर नितिन के बॉस होने की वजह से ग़ुस्से पर काबू करना पड़ रहा था.

अब जैसा ऊषा ने मुझे बताया वो भी सुनो:मैंने (ऊषा) इतनी ही देर में पूरे कपड़े उतार दिये थे.

कल्पना- दर्द चला गया अब … और अब कभी दर्द नहीं करेगा वहां … जितना दर्द होना था हो चुका, अब तो बस!यह कह कर उन्होंने अपनी बात अधूरी छोड़ दी.

नहाने धोने के बाद हम दोनों पेपर देने चले गए और पेपर देकर वापस आ गए. मेरी रंडी बहनिया, मेरी कुतिया!और ऐसा कहते हुए कपिल ने अपनी जीभ उसकी बुर में ठेल दी. दस मिनट बाद मैंने उसे वहीं नीचे फर्श पर घोड़ी बना दिया और पीछे से उसकी गांड देखी, जो बड़ी मस्त लग रही थी.

इसके बाद जब तक शीतल भाभी के पति अपनी बिजनेस ट्रिप से वापस लौट कर नहीं आ गए, मैं शीतल भाभी को रोज़ चोदता रहा. कमरे के अंदर वसुन्धरा की आहों-सीत्कारों का बाजार खूब गर्म हो उठा था. फिर आया वो पल … मैंने वसुन्धरा के दोनों होंठों को अपने होंठों में लिया और लगा वसुन्धरा के दोनों होंठ चूसने.

साउथ इंडियन सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी जॉब चेन्नई में लगी तो मेरे रूम के पास रहने वाली एक हसीना मुझे पसंद आ गयी.

मैंने मम्मी के एक दूध को अपने मुँह में लेकर हाथ ऊपर की तरफ करके उनकी पट्टी को हटा दिया. पिंकी बोली- हमें जाने दो सर … प्लीज़ … मैं आपके आगे हाथ जोड़ती हूँ … आप कुछ भी कर लेना … पर हमें अभी जाने दो. वो फिर से रोने लगी, लेकिन मैंने अब उसकी परवाह ना करके उसकी जोरदार चुदाई चालू कर दी, लंड के लम्बे लम्बे धक्के देता रहा.

कोरोना काल में अब लोग स्पा-सेंटर पर आने से घबरा भी रहे थे, तो काम नाममात्र ही आता था. उसने मेरी टी-शर्ट उतारी और मेरी बनियान उतारते हुए बोली- इस सर्दी में मेरे कपड़े तो सारे उतार दिए, खुद पहने खड़े हो. अगले चार-पांच मिनट मैं यही हरक़त बार-बार दोहराता रहा लेकिन हर बार अपने लिंग को पिछली बारी से ज़रा सा ज्यादा बाहर निकाल कर वापिस वसुन्धरा की योनि में उतार देता और हर बार वसुन्धरा के मुंह से निकलने वाली सिसकारियों में दर्द की मात्रा क्रमश: कम और आनंद की मात्रा बढ़ती गयी.

मगर उससे पहले ही मैंने साबुन खोज कर उनकी पीठ पर लगाना शुरू कर दिया.

मैं उसके बूब्स को अपने होंठों में लेकर चूसता रहा और पूरा लंड उसकी चुत से अन्दर बाहर करता रहा. लगभग बीस मिनट बाद आंटी अपने कमरे से बाहर आईं और मेरे सामने वाले सोफे पर बैठते हुए मुझसे बोलीं- अरे तुम इतनी देर से यहीं बैठे ही हो?मैं उनकी इस बात को समझ नहीं पाया क्योंकि मैं तो उनके आने का ही इंतजार कर रहा था.

इंग्लिश बीएफ मां बेटे की वह डर कर बोली- क्या कर रहे हो साहिल?मैंने कहा- कुछ नहीं, मैं तो वहाँ बैठ कर बोर हो रहा था. मैं सोचने लगी कि कहीं उसने हम दोनों को इस हालत में देख तो नहीं लिया? मैं जरूर डर गई लेकिन विलियम को कोई फर्क नहीं पड़ा उसने डेविड को बोला- चलो भी अब!विलियम के ऐसा बोलते ही डेविड ने अपना बैग अपनी पीठ पर डाला और हम दोनों को देखकर मुस्कुराते हुए बस की गैलरी में से आगे बढ़ने लगा.

इंग्लिश बीएफ मां बेटे की आज मैंने पहली बार किसी लड़की को पूरा नंगी देखा था और वो तो एकदम जन्नत की हूर लग रही थी, उसके गोल-गोल छोटे-छोटे मम्मे क्या मस्त लग रहे थे. इस बार जैसे ही निशा की गांड पीछे आई … उसी समय मैंने भी आगे की तरफ धक्का दे दिया जिससे मेरा लंड लोअर के अन्दर से ही उसकी गांड को रगड़ गया.

हम घर में बिल्कुल अकेले थे।मैंने एक सेकेंड के लिए देखा तो उसकी आँखें बंद थीं और वह सिर ऊपर किये वासना की गहराइयों में गोते लगा रही थी। उसके हाथ उसके बालों में थे जिससे कि उसके आर्मिपिट्स दिख रहे थे।इस हालत से मुझे कल का सीन याद आ गया.

देसी बीएफ सेक्सी एचडी

कुछ देर बाद डाक्टर ने लंड सहलाना बंद कर दिया और टिश्यू पेपर से पूरे लंड और अंडकोश को साफ करने लगी थी. इस पर सुखबीर खुश हो गया और बोला- सारिका जी बस आप उसे अपनी तरह बना दो, मैं आपका हमेशा ग़ुलाम रहूंगा. मैं ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने लगा ताकि मामू भी चुदाई की आवाज़ सुन लें और समझ जाएं कि हम जाग रहे हैं.

फिर मैंने लंड आधा बाहर निकाला तो सरिता की चूत से चूतरस बाहर बहकर उसकी जांघों पर बहने लगा था. जैसे ही मेरा हाथ उसके कोमल चुचे पर गया, उसकी हल्की सी सिसकारी निकल गई. तब भी मैं आदतों को पसंद नहीं करती थी, बाकी उसके अन्दर सब कुछ ठीक था.

मैंने निशा को हाथ से पकड़कर अपने पास खींचा और उसके कान में बोला कि बेड के नीचे आओ.

मैंने अपनी जीन्स की पैंट की जेब से रुमाल बाहर निकाला और उसकी चूत के साथ-साथ अपने लंड को भी साफ कर दिया. मैं अभी अपने ही ख्यालों में खोया ही था कि मुझे बाथरूम में हलचल महसूस हुई तो होल से देखा तो मौसी बाथरूम में रखे छोटे से स्टूल पर बैठ कर नहाने लगीं. बड़ी-बड़ी, काली, मदमस्त आँखें, गुलाबी होंठ, हल्के भूरे रंग के लम्बे बाल, बड़े-बड़े गोल-गोल बूब्स, नर्म चूतड़, पतली कमर, सपाट पेट, पतला छरहरा बदन और फिगर 36-24-36 का था.

मैं कुछ बोल नहीं पा रही थी मगर सच में मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा था उस समय क्योंकि मैं नहीं चाहती थी कि मेरी सहेली पिंकी उसकी आंखों के सामने मेरे साथ ये सब होता हुआ देखे।अभी तो एक ही पेपर हुआ है, 5 तो बाकी हैं ना, सेंटर में इतनी सख्ती कर दूँगा कि एक दूसरे से भी कुछ पूछ नहीं सकोगी. तो कुलीन मुझ पर लाइन मारने लगा था और ऐसे ही हम दोनों लोग की दोस्ती भी हो गयी. मेरे मुँह से आह आह निकल रहा था- आह चूसो भाभी … आह चूसो इसे! बहुत परेशान करता है ये लंड।भाभी- चिंता न कर, आज इसे ठीक करती हूँ मैं!और मुँह में लेकर चूसने लगी।मैंने भाभी की ब्रा तेज़ी से निकालने के चक्कर में फ़ाड़ ही दी.

धीरे-धीरे समय बीतता जा रहा था और मैं सोच रहा था कि आज मैं उससे अपने दिल की बात करूंगा … कल उससे अपने दिल की बात करूँगा, नहीं कल तो पक्का ही करूँगा. इसीलिए मैंने अपनी मम्मा सौम्या को किस करना और हग करना बन्द कर दिया ताकि दोनों को ही सुविधा रहे.

वहां मुझे एक तीस बत्तीस के सज्जन दिखे, वे मुझे ध्यान से देख रहे थे. हमारी चुचियां मसलना, चूसना, होंठ चूसना, जांघें और चूतड़ दबाना, लंड चुसवाना सब साथ साथ चला. मेरा मन तो किया कि उन्हें अभी पकड़ कर दबा दूं … पर मैं कुछ कर भी नहीं सकता था.

अब वो समय बिल्कुल नजदीक था, जब मुझे मेरी ही पकाई हुई खीर को खाने का मौका मिलने वाला था.

मैंने बाथरूम में जाकर कमोड को खोला और अपना अधसोया लंड निकालकर पेशाब की धार को कमोड की तलहटी में इकट्ठा हो रखे पानी में गिराने लगा. क्या तुम तैयार हो इस सजा के लिए?मैंने उसको अपनी बांहों में लेते हुए चूमा और कहा कि हां मैं कोई भी सजा भुगतने को तैयार हूँ. उसने अपना हाथ सलवार से खींचना चाहा लेकिन मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे अपने खड़े लौड़े पर रख दिया.

इसके बाद मैं रात में अपने और निक के बारे में सोचती रहती कि उसका लौड़ा कितना बड़ा होगा. मेरा लंड उनकी चूत की दीवार को चीरता हुआ पूरा चूत में समा गया और उनकी बच्चेदानी से टकरा गया.

मैंने पूछा- कैसा स्वाद था?वह बोली- थोड़ा कड़वा था और थोड़ा सा नमकीन भी. अगर तुम अपने दोस्त के साथ मेरी बात करवा सकते हो तो बताओ?मुझे इस वक्त उसके साथ बहस करना ठीक नहीं लगा. उसने नशीले अंदाज में कहा- जानू तुम ही निकाल दो ना!मैंने उसके शर्ट और पजामी को निकाल दिया.

लड़की के सेक्सी बीएफ वीडियो

कभी मैं उसके लिए नाश्ता स्नेक्स वगैरह भी ले जाती थी, कभी वो मेरे लिए भी लाता था.

मैंने कहा- चूस कर प्यार नहीं करोगी भाभी!भाभी तो जैसे लंड चूसने को मरी जा रही थीं. उस रात सुबह तीन बजे तक हमारी चुदाई चली।उसके बाद पूजा की चूत की पूजा करने के लिए मेरे वासनामयी लौड़े ने कौन-कौन से जतन किये वह सब मैं आपको आगे की कहानियों में बताऊंगा. दरवाजे पर पहुंचते ही भाभी ने सेनेटाइजर निकाला और खुद को, मुझको और साथ लाए हुए सामान को सेनेटाइज किया.

मैं सोचता था कि यदि मुझे ऐसी मशीन मिल गई तो मैं सबसे पहले अपने भूतकाल में जाकर अपनी मम्मा को पटाऊंगा और उन्हें बहुत मजे से चोदूंगा. मेरे होंठ का स्पर्श अपनी चूत पर पाकर कल्पना मचल उठीं और सिसकारियां भरने लगीं. बॅड मस्तीमैंने कहा- पाण्डे जी, अगर मैंने बात की और उसने कुछ बोल दिया तो मेरी इज़्जत की तो वाट लग जायेगी.

गांड के छेद पर उंगली का स्पर्श पाते ही नीरजा इस डर से घोड़ी बनी हुई ही आगे को भाग गई कि मैं उसकी गांड में लंड डालूँगा. जब भी मैं उनके घर पर जाता था तो भाभी को थैंक्यू बोलता था क्योंकि उनकी वजह से ही मेरी जॉब लगी थी.

कुछ देर चुप रहकर और एक लंबी सांस लेते हुए आंटी आगे बोलीं- अर्जुन, क्या तुम मेरे साथ सम्भोग कर सकते हो?यह सुनकर कुछ देर के लिए तो मैं सुन्न हो गया था. उसने मुझे बताया कि उसके पति का लन्ड अब खड़ा ही नहीं होता है जबकि उसके सेक्स की भूख बहुत बढ़ गयी है. ऊपर जाने के लिए सीढ़ियों पर गेट लगा था, जिसको अमीषी ने अन्दर से कुंडी लगाई थी.

मैंने भाभी से रोने के बारे में पूछा, तो भाभी ने रोते हुए कहा- इनका तो रोज का यही नियम है … शराब पीकर बेहोश हो जाते हैं और मैं रो रोकर रात गुजारती हूँ. भाई बहन या मां बेटे जा रिश्ता सिर्फ सामाजिक रिश्ते होते हैं, जो सबके सामने दिखाने पड़ते हैं. जब लौंडिया स्खलित होती है तो उसके हाथ पैर ठन्डे हो जाते और बदन मूर्छित जैसा हो जाता है.

फिर मैंने डॉक्टर के कहने मुताबिक दवा ली और रिया की कमर में लगाना चालू कर दी.

कुछ मिनट में मेरा लंड चुत में ही वापिस खड़ा हो गया और मैं उसको चोदने लगा. जीजू- शिवांगी, तुम घबराओ मत, आराम से डालूंगा तुम्हारी चूत में … तुम को जरा भी परेशानी नहीं होने दूंगा.

कुछ ही देर में मैंने रानी का चूत प्रदेश, झांटें इत्यादि सब साफ कर दी थी. दरअसल बहुत दिनों के बाद इतने मोटे लंड से चुदने के कारण मेरी चूत से खून बाहर आ गया था. कपिल और शारदा चाची बाहर निकलने ही वाले थे इसलिए तब मैं भी वहीं से भागा, लेकिन भागने के कारण जो आवाज हुई उसकी वजह से शायद शारदा चाची का ध्यान दरवाजे की तरफ गया और दरवाजा हल्का खुला हुआ देख कर वह तुरंत समझ गई होगी कि कोई देख रहा था.

उसने अपनी एक उंगली मेरी चुत के छेद में डाली तो मैं एकदम से उछल गई और चिल्लाई- उईईई ईईई!उसने मुझे हिलने नहीं दिया और एक पूरी उंगली चुत में डाल दी. वैसे भी जब मर्द की कमी महसूस होती है औरत को अपनी प्यास बुझाने के लिए कोई न कोई तरीका तो खोजना ही पड़ता है. ठंडी हवा में दोस्तो … चांदनी रात में चूत मारने का मजा ही अलग होता है.

इंग्लिश बीएफ मां बेटे की कुछ देर बाद उसने खुद ही अपनी ब्रा खोल दी और मेरी भी शर्ट और पैन्ट खोल दी. वो मेरे चेहरे पर, मेरे होठों पर, मेरी गर्दन पर और मेरे कानों के लौ को बार बार चूमने लगा.

एक्स एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश फिल्म

वसुन्धरा ने तत्काल अपनी दोनों टांगें हवा में उठा कर मेरे लिंग का अपनी योनि के मुख पर स्वागत किया. मैं फिर से उसकी चूचियां दबाने लगा और फिर उसके ऊपर चढ़ कर उसकी साड़ी ऊपर करके उसकी पैन्टी में हाथ डाल कर थोड़ी देर उसे देखने लगा. जब से मैंने अन्तर्वासना पर कहानी पढ़ना शुरू की, तब से ही मेरा मन था कि मैं अपनी सेक्स स्टोरी आप सभी के साथ शेयर करूँ.

उसके बाद मैंने उसके बालों को हटाया तो देखा कि उसकी कुर्ती के पीछे चेन लगी हुई थी. मैंने उससे कहा- यहां दर्द हो रहा है क्या?उसने कहा- नहीं रोहन … जरा और नीचे. सेक्सी सदस्यबात करते करते मैं श्वेता को किस करने लगा और शर्ट के ऊपर से उसकी चूचियाँ दबाने लगा जिसे देखकर शुभी हंसने लगी और बोली- तुम लोग बेशर्म हो.

अन्तर्वासना में उस सत्य कहानी का टाइटल है ‘भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी.

शायद मोनी का पति उसके साथ ना तो ठीक‌ से कुछ करता था और ना ही वो उसको‌ बच्चा दे पा रहा था, इसलिये ही मोनी ने मुझे अब कॉन्डोम पहनने से मना किया था और इसलिये ही शायद वो आज खुद मेरे पास आकर सोयी थी. फिर मैंने अपना अंतिम झटका उसकी चूत में मारा और लंड बाहर निकाल कर अपना माल उसके दोनों चूतड़ों पर गिरा डाला.

वो जोर-जोर से सीत्कारने लगीं- हां आह आह मजा आ गया … औरजोर से चोदो मुझे… आंह और तेज और तेज़. उसी तरह मेरी हालत थी कि जब कभी भी मैं अपनी बीवी को ओरल सेक्स करने के लिये कहता, तो वो मना कर देती. वो फिर से मजा लेकर चुदने लगी।मैं उसे कंधे पर किस करते हुए उठा और हाथ में रखी रस्सी को उसके गले में फंसा कर अपनी तरफ खींचा.

अब उसके दिमाग में कुछ और चलने का मुझे अंदेशा सा होने लगा था क्योंकि जब मैं उसके रूम पे जाती, तो वह टी शर्ट नहीं पहनता था, सिर्फ हाफ पैंट में ही रहता.

वो नीचे से हाथ ले जाकर अपने हाथ से मेरे लण्ड को सहलाने लगी तो मैं भी एक हाथ से उसकी चूची को मसलने लगा. वह भी कहने लगी कि वह शुभी को चुदवाने के लिए ले आएगी मगर उसके बाद मैं उससे कभी नाराजगी से बात नहीं करूंगा. लम्बे, गोरे, स्लिम, छरहरे माशूक, शार्प तीखा चेहरा, गर्दन तक बाल, हल्की दाढ़ी.

मिथिला सेक्सी वीडियोतभी मेरी सहेली रिम्पी ने मुझे फ़ोन किया कि मैं उसको कुछ देर के बाद होटल में लेने आ जाऊं. मुश्किल से एक या डेढ़ मिनट ही बीता होगा कि उन्होंने मेरे बाल कस कर पकड़ लिए और काँपने लगीं … और भलभला कर मेरे मुँह में ही झड़ गईं.

देसी सेक्सी बीएफ चाहिए

मैंने अपने एक हाथ से एलेक्स को रोकने की कोशिश की लेकिन वो नहीं रुक रहा था. जैसे ही मैंने अपना हाथ उसके लंड पर रखा, मुझे अहसास हो गया कि इसका लंड भी धीरज से कम नहीं है. क्योंकि हम दोनों लोग जब भी अकेले में मिलते थे, तो वो मुझे अपने गले से लगा लेता था और मुझसे बात करते करते अपना हाथ मेरी गांड पर फेरने लगता था.

आज भी वो दोनों एक साथ होने या मौका मिलने पर खुल कर चुदाई या कई बार तो साड़ी ऊपर उठा कर फटाफट वाली चुदाई कर लेते हैं. मैंने नमस्कार किया, वे सवालिया निगाहों से देख कर बोले- पहचाना?मैं- जी. मेरी बाइक स्पोर्ट बाइक होने की वजह से उसकी पिछली सीट ऊपर को उठी थी, जिससे रिया मुझ पर झुक कर बैठी थी.

तो उसने मुझसे कहा- मैं तुमको तुम तुम करके बोल रही हूँ और तुम मुझे आप मत बोलो. मैं थोड़ा सा आगे होकर बिस्तर पर बैठ गया और उसके हाथ पर अपना हाथ रख दिया. नैना की आंखें लाल हो चुकी थीं, उनमें वासना तैर रही थी और इधर मैं भी इसी आग में जल रहा था.

उसकी चिकनी टांगें मुझे साफ दिखाई दे रही थी। उसको देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया। मुझे डर लग रहा था कि कहीं बहन जाग न जाये और मैं अपनी जगह पर आकर सो गया. अमर ने पिंकी को गोद में उठाया और बेड पर ले जाकर पेट के बल उल्टा लिटा दिया.

मैं उत्तेजना में चिल्ला रही थी और उन तीनों में से कोई भी रुक नहीं रहा था.

अगर उन्हें घर में ही लंड मिल जाए, तो उन्हें बदनामी का भी डर नहीं रहेगा और उनके शरीर की जरूरतें भी पूरी हो जाएंगी. हिंदी हीरोइन का सेक्सी फोटोफिर मैंने एक हाथ उसकी पैंटी में डाला और अपनी दोनों उंगलियों के बीच में उसकी चूत को लेकर मसलने लगा. नताशा की सेक्सी वीडियोमेरी भावनाओं को समझते हुए वो मुझे रोक ना पाईं और मुझे जाते हुए देखती रहीं. भाभी ने मुझे ये भी बताया- रश्मि की वजह से ही मैं कोलकाता शादी में नहीं गयी।हम दोनों से मुखातिब हो के भाभी ने कहा- मैं अब अगले 2 घंटे के लिए तुम दोनों को अकेले छोड़ रही हूँ.

इतना कहकर आंटी नाश्ता लगाने के लिए वहां से किचन की तरफ चली गयी।सुषी उदास बैठी थी.

पहले मेरी कजिन से दोनों एक साथ वहीं लेट्रीन करते में ही पटक कर चढ़ गए. उसके कोमल मुलायम बदन से टच होने के बाद तो हालात मेरे काबू से बाहर हो गये. मेरा लंड खड़ा ही तन्ना रहा था, यही सोच सोच कर कि आज इतनी खूबसूरत उस औरत को चोदूंगा, जो रिश्ते में मेरी मम्मी है.

फिर डॉक्टर ने स्टेथोस्कोप से उसको चैक किया और कहा कि मैं तुम्हें एक दवाई लगा देता हूं. फिर जॉन ने मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और मेरे बूब्स को आज़ाद कर दिया. उसकी चूत के आसपास मैंने जांघों पर अपनी जीभ से चाटा और उसकी चूत के छेद के अन्दर अपनी जुबान को डाल दिया.

सेक्सी हिंदी बीएफ एचडी में

इसके बाद मैं रात में अपने और निक के बारे में सोचती रहती कि उसका लौड़ा कितना बड़ा होगा. मैंने थोड़ा करीब जाकर झांका तो देखा कि परी अपनी चूत में उंगली कर रही है और उसके मुंह से ही वो सिसकारियाँ निकल रही हैं. शायद उसकी छोटी और कड़क चूत चाटने कर मुझको मजा आ रहा था, तभी मैं बारी बारी से उसकी दोनों संतरे जैसी गुलाबी फांकों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा.

फिर श्वेता ने पूछा- अब क्या करें?तो मैंने कहा- तुम शुभी को यहाँ बुलाओ.

इतने में ही वो वह मुझे धकेलने लगी, उसे मेरे मोटे लंड का अहसास नहीं था.

जिस बाथरूम को विपिन जी यूज करते हैं उसमें बिना बल्ब के कोई नहीं जा सकता. मैंने अपनी मम्मा की चूत की फांक पर अपना लंड रखा और एक झटके से लंड को अन्दर दबा दिया. ஒலியின் செக்ஸ் வீடியோउसकी चूत के ऊपर सहलाते हुए मैं उसकी चूत के छेद पर दबाव बनाते हुए लंड पेलने की कोशिश करने लगा.

कुछ समय तो मुझे कुछ समझ में नहीं आया कि सब कहां चले गए दरवाजा खुल्ला छोड़ कर?मैं थोड़ा और अन्दर की तरफ गया, तभी मुझे बाथरूम से पानी गिरने की आवाज सुनाई दी. लेकिन कुछ भी हो, मीना एक स्त्री है उसका सम्मान हर हाल में होना चाहिए, उसकी इच्छा के विरुद्ध उसके साथ संभोग करना उचित नहीं था. तभी अंकल ने बोला- बेटी ओवर एक्टिंग नहीं करनी चाहिए, कहीं ज्यादा चोट लग गयी तो.

मैं उसे लगातार धक्के देकर चोदता रहा। मैं पीछे से उनके मोमों को पकड़ कर दबाता रहा और चूचुक मसलता रहा. अगली सुबह हम दोनों मिले और बाइक से चालीस किलोमीटर दूर एक पार्क में आ गए.

मेरी शादी को 2 महीने हो गये थे, अब मेरा लंड फड़फड़ा रहा था किसी नयी लड़की की बुर की सील तोड़ने के लिये!संयोग से मेरी साली जो 19 वर्ष की थी, जिसका नाम ऋतु था, वो एग्जाम देने मेरे घर आयी.

इतना कहकर वह बेड पर जाकर मेरे सामने लेट गई और मुझे अपने ऊपर आने के लिए कहने लगी. पहली बार मैं उनकी चूत चुसाई के समय ही झड़ चुकी थी, अब मैं दूसरी बार झड़ने वाली थी. मेरा तो बुरा हाल था एक कमसिन लड़की मेरा लंड चटकारे ले लेकर चूस रही थी.

आशिकी 2 सेक्सी दस मिनट के बाद भाभी ने अपनी चूत का पानी छोड़ दिया जिसे मैं सारा पी गया. कुछ देर ऐसे ही जवान भाभी की चुदाई करने के बाद मैंने भाभी को आंगन के फर्श पर लिटा दिया और खुद उनके ऊपर लेट कर अपना लंड उनकी चूत में घुसा दिया.

ऊपर वाले से बस यही दुआ करता था कि जल्द से जल्द कोई आइटम चोदने को मिल जाए. मैंने वक्त जाया न करते हुए उसके जिस्म को चूमना शुरू कर दिया, कभी उसके कंधे पर काट लेता तो कभी उसकी कमर को नोच लेता. एक बार जब सारा मेरे लण्ड को सहला रही थी तो डॉक्टर जूली से उसकी नज़रें मिलीं और दोनों मुस्कुरा दीं.

भाई वीडियो बीएफ

कुछ देर पहले तो वह इतनी गर्म हो गई थी और फिर अचानक से उसको क्या हो गया. मैंने उसके चूतड़ों को अपने हाथों से सहारा दिया और उन्हें ऊपर नीचे करते हुए धीरे-धीरे सोनू को अपनी गोद में पूरा लंड फिट करके बैठा लिया. मैंने सोचा कि क्यों न मामा के साथ मिलकर एक-दूसरे का लंड हिलाया जाए.

फिर जब मैंने थोड़ी सी जबरदस्ती दिखाई तो उसने अपना मुंह खोल दिया और मेरी जीभ को भी अपने मुंह में अंदर जाने का रास्ता दे दिया. वैसे मैं एक बात आपको बताना भूल ही गया कि अमर की पिंकी के साथ बहुत अच्छी बनती थी.

कसम खा कर कहता हूं दोस्तो, जब घर से निकला था, तब यही सोच रहा था कि चलो आज फिर चोदने को एक नई चूत मिलेगी, पर ऐसी चूत मिलेगी, ऐसा तो मैंने सोचा ही नहीं था.

मैं कपड़े प्रेस नहीं करती हूँ, क्योंकि मेरे हाथ से एक बार मेरी साड़ी जल गई थी. भैया के धक्के इतने तेज थे कि पूरे किचन में थप्प-थप्प की आवाज गूंज रही थी. पर अंकल जी ने मेरी बात अनसुनी करते हुए मुझे पास के पेड़ के तने के सहारे खड़ा कर दिया और मुझे बांहों में लिए चुपचाप खड़े रहे.

उसके दूध से सफ़ेद शरीर पर काले रंग के अंडरगारमेंट्स देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया. नमस्कार दोस्तो, आप सभी ने अन्तर्वासना पर प्रकाशित मेरी पहली कहानीप्यासी बंगालन की चूत चुदाईको पढ़ा. वो थोड़ा डालते, फिर रुक जाते और मेरे निप्पल मींजते … और फिर डालने लगते.

मैंने अपनी क्लास की एक लड़की आकांक्षा को प्रपोज किया था लेकिन उसने मना कर दिया था.

इंग्लिश बीएफ मां बेटे की: भाभी बोली- तेरे भैया पंद्रह दिन के लिए बाहर जा रहे थे इसलिए जाते टाइम हम दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स का मजा ले रहे थे. कुछ मिनट में मेरा लंड चुत में ही वापिस खड़ा हो गया और मैं उसको चोदने लगा.

मेरे पापा का यहां बिजनेस था, तो मैं जब छोटी थी, तब से ही उपलेटा राजकोट से आणंद में रहने आ गए थे. हॉल में डाइनिंग टेबल पर बिल्कुल नंगी बैठी हुई मेरी बहन मुझसे अपनी सेक्सी चूत चटवा रही थी. मेरा तो बुरा हाल था एक कमसिन लड़की मेरा लंड चटकारे ले लेकर चूस रही थी.

दोस्तो, मैंने आंटी की चुत की आग किस तरह से भड़का दी और उनकी चुत चुदाई के लिए रेडी कर दी.

तो वो बोली- आप बनोगे मेरे दोस्त?मैंने हाँ कर दी, तो उन्होंने हंस के अपना हाथ आगे किया और बोली- लेट्स बिगिन न्यू फ्रेंडशिप …मैंने भी अपना हाथ बढ़ा दिया. पर आज तो फ़लक ही मेरी चॉकलेट थी; मुझे उसमें ही अपनी चॉकलेट दिखाई दे रही थी. मम्मा ये सुनकर हंस दीं और मेरे बालों में हाथ फिरा कर बोली- पागल … अपनी मम्मा से भी कोई शादी करता है भला!मेरी बातों को मम्मा ने हल्के में लिया था या नहीं … ये तो मैं नहीं कह सकता, लेकिन उस टाइम मुझे थोड़ा सुकून मिल गया था.