सेक्सी वाली बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,पति-पत्नी का सेक्सी बीएफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सीसीडीएक्स: सेक्सी वाली बीएफ फिल्म, घर पहुंचा तो पाया दरवाजे में अन्दर से कोई लॉक नहीं लगा था, मैं बैडरूम में गया तो देखा कि शंकर जी और मदन दोनों नंगे एक दूसरे से लिपट कर मस्त सोए हुए थे.

चोदा चोदी के बीएफ वीडियो

मैं डर सा गया लेकिन उसे यकीन नहीं हो रहा था तो मैंने उससे माफ़ी भी मांगी. सेक्सी बीएफ सेक्स डॉट कॉमइस कहानी के बारे में अपने विचार आप मुझे नीचे दिये गए मेल पर बता सकते हैं.

मैं अपने कपड़े उतार कर अन्दर नहाने चला गया और अभी मैंने शॉवर चालू ही किया था कि गीता मेरे पीछे आ कर मुझसे चिपक गयी. देहाती सेक्सी बीएफ वीडियो मूवीमैंने तो उसको मना भी किया कि यहीं कोई जॉब ढूंढ लो मगर वह नहीं माना.

इतने में स्टेशन आया, तो मैं बदनामी के डर से उस डिब्बे से उतर गया और उस लड़के से आंख बचा कर दूसरे डिब्बे में चढ़ गया.सेक्सी वाली बीएफ फिल्म: अब मुझे डर लगने लगा तो नामित ने बोला- कुछ नहीं जान … बस आज तेरी जमकर कुटाई होगी और तुझे कई तरह के मजे मिलेंगे.

भाभी उदास होकर बोलीं- उसका हंसबैंड उसको समय ही नहीं देता, वो बिजनेसमैन है, रोज सुबह रायपुर जाता है और रात को 10 से 11 बजे आता है, थक हार के सो जाता है.हम कितना भी छिपाने की कोशिश करें लेकिन किसी न किसी को आपके मन की हालत का पता लग ही जाता है.

हिंदी में बीएफ फिल्म चलने वाली - सेक्सी वाली बीएफ फिल्म

फिर मैंने अंकल आंटी को बोला- भाभी की तैयारी तो होगी ही, तो उनका सामान दे दो … और हमें भी आज्ञा दे दीजिए.इस बार उसने बार-बार मुझे रोका क्योंकि वो झड़ गई थी, और झड़ने के बाद वो चुदाई कर नहीं पाती थी.

उन दिनों हल्की ठंडक रहती ही है उसके ठंडे हाथ से मैं एकदम से बौखला सा गया और जब रंग लगा देखा तो मुझे बहुत गुस्सा आया. सेक्सी वाली बीएफ फिल्म रात को जब वो आए तो मैंने उन्हें बताया कि भैया का फोन आया था और वो ऐसे पूछ रहे थे.

मैं तो न जाने कबसे आपके जैसे लंड वाले की तलाश कर रही थी, क्योंकि जब मैं गर्म होती हूँ, तो मेरे पति के लंड का पानी निकल जाता है और वो गांड औंधी करके सो जाते हैं.

सेक्सी वाली बीएफ फिल्म?

उसने मेरे सिर को पकड़ लिया और अपने लंड को मेरे मुंह में घुसा दिया और मेरे मुंह को चोदना शुरू कर दिया. कुछ देर ऐसे ही मस्ती करने के बाद हम दोनों बहुत गर्म हो गए थे, तो मैंने उसे घुमाया और अपने से चिपका लिया. फिर एक दिन शाम को रिया का फोन आया- जल्दी आ जाओ, आज घर पर कोई नहीं है, दो दिन के लिए मकान मालिक की फैमिली बाहर जा रही है.

फिर उसका हाथ पकड़ कर अपने लण्ड के ऊपर रख दिया और उसकी आँखों में देखता रहा. वो सोच रही थी कि अगर उंगली जाने से इतना दर्द हो रहा है, तो फिर रवि का मोटा लंड तो खड़ा होने के बाद 7″ का हो जाता है … तब क्या होगा? ये सोच कर ही वो डर गयी थी. वो मुझे बहुत अच्छे से चोद रहा रहा था और जोर लगा कर मेरी चूत में अपना पूरा लंड डाल कर मेरी चूत को चोद रहा था.

मेरा हाथ उसके ऊपर ही रखा हुआ था। मैं थोड़ा डर गया लेकिन मैंने हाथ नहीं हटाया।थोड़ी देर रुकने के बाद मैं फिर हरकत करने लगा। अब तक तो मेरा बाबूराव 7″ हो गया था और उसकी जाँघों को छू रहा था। फिर उसने करवट बदली और मेरी तरफ चेहरा कर लिया. उसने पीछे से मुझे अपनी बांहों में पकड़ लिया और मेरे चूचों को दबाने लगा. आपको मेरी यह बहन की चुदाई कहानी कैसी लगी, इस बारे में मुझे अपने विचार जरूर बताएं.

पैंटी पतली डोरी वाली थी, जिससे केवल योनि की दरार ही छिपती थी, मगर योनि के उभार उस पर छप जाती थी. सुजाता ने दो गिलास भरे तो रमेश ने कहा- अरे, अजय के लिए भी बना न!सुजाता- ये आपके और अजय जी के लिए ही तो है.

पूरा पेटीकोट ऊपर कर दिया, इससे मेरी बीवी की गोरी जांघें केले के तने की तरह चिकनी सामने दिखने लगी थीं.

वो बार बार मेरी नाभि में उंगली डाल कर घुमाने लगे, तो मेरी सांसें तेज हो चली और सीना तेजी से धड़कने लगा.

क्या हुआ मेरे सील तोड़ राजा … थक गए क्या … अभी तो रात बाकी है न … हेहेहै …”अरे मेरी मिष्टी डोई … मैंने आज तक तेरी जैसी गुद गुद औरत नहीं देखी … तुझे चोद कर परम आनन्द आ गया. मुझे पता नहीं क्यों अजीब सा लगा और मैंने सुखबीर से फिर से उन्हें भगाने को कहा. उसने मेरी चूत की तरफ देखा तो मैंने एक बार पेंटी नीचे खिसका कर उसे अपनी गरम चूत की झलक दिखाई और फिर से चूत ढक ली.

मैंने दरवाज़ा बंद किया और सलवार नीचे खिसका कर अपनी फुद्दी की कुछ तस्वीरें खींच लीं और अपनी रसीली चुचियों की कुछ सेक्सी तस्वीरें उनको भेज दीं. एकता ने बोला- यार, इतना कड़क और सॉलिड लंड है … और फिर ये गांड भी बहुत अच्छी मारता है. लता बोली- ट्राई जल्दी करनी है, दो-तीन दिन में मेरे हस्बैंड टूर से वापिस आ जायेंगे, उनके सामने या किसी पड़ोसन से यह बात न कर ले.

फिर हम दोनों बिस्तर में आ गए और मैंने हचक कर भाभी की चुदाई की, पर मेरे मन में कमला आ रही थी.

मैं बोला- अच्छा जी …वो बोली- वैसे जो मैं सोच रही हूं, वही करने रहे हो … तो साथ देने अन्दर चल सकती हूं. उन्होंने मुझसे ये पूछा कि अभी इन दोनों ने क्या मेरी चूत में अपना माल छोड़ा था, जिस पर मैंने मना कर दिया. मैं मौसी की बेटी, जिसकी शादी थी और उसकी दो सहेलियां हमको मेकअप कराने ब्यूटी पार्लर बाहर जाना था.

मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी हथेली पर रख दिया, मेरे मुंह से निकल पड़ा- ठीक है, हम दोस्त हैं अमित जी. मैंने उसे इशारा किया तो उसने मुझे गोद में उठा कर मेरे बेडरूम में ले गया. इस घुटन से ज्यादा अच्छा है मैं अपने दिल की बात कोमल को बता ही दूँ।मैंने मन ही मन सोच लिया और कह दिया- हाँ प्यार तो हो गया है.

रिशु ने मिशिका की चूत में लंड को एडजस्ट किया और फिर धीरे धीरे उसकी चूत में लंड को हल्के से अंदर से बाहर की तरफ और फिर बाहर से अंदर की तरफ धकेलना शुरू कर दिया.

मैंने उसके कंधे पर हाथ रखा ही हुआ था कि वह मेरे हाथ को पकड़ कर रोने लगी. बस जब भी चाहत होती है, टॉयलेट में जाकर फिंगर्स से काम चला लेता हूँ.

सेक्सी वाली बीएफ फिल्म उसने मेरे बालों में हाथ फेरे और कहने लगी- यार नेहा ने तुम्हारे बारे में कहा था, वो एकदम सही निकला. मेरे ऐसा करते ही वाणी खुद नीचे से अपनी कमर उठाते हुए लंड पर धक्के मारने लगी और मैं उसकी चुची को चूसता रहा.

सेक्सी वाली बीएफ फिल्म अपनी पढ़ाई पूरी करके मैं अपने सभी रिश्तेदारों से मिलने अपने गाँव गया. तो दोनों एक दूसरे को देख कर हंसने लगीं और बोलीं- नहीं ऐसी कोई बात नहीं है.

मैंने कमीज को थोड़ा नाभि के ऊपर कर लिया और अपनी सलवार का नाड़ा भी खोल दिया, जिससे मेरी पेंटी की सिरा भी आसानी से दिख रहा था.

इंडियन sex video

वो कराहते हुए बोली- अरे दबा लेना, पहले यह बताओ तुमको कैसी लगी मैं?मैं बोला- एकदम गांड फाड़ माल हो यार … तेरी चुचियां देख कर तो कल ही पागल हो गया था मैं … आज चुचियां सामने हैं, तो समझ नहीं आ रहा है, क्या करूँ, चूस लूँ या दबाऊं इनको. भाभी ने अपनी आंखें बंद कर ली थीं और मैंने उसकी गर्दन पर अपनी जीभ हल्के से फिरा दी तो भाभी के मुंह से एक हल्की सी आह्ह् निकल गई. मैंने भी बदले में उसे कस कर चिपकाते हुए उसकी गांड दबाते हुए चूम लिया.

रात का वक्त था और समय भी काफी हो गया था। उसके बाद हम दोनों फिर एक बार ज़बरदस्त तरीके से किस करने लगे. मेरा कद साढ़े पांच फुट का है और मर्द का सबसे जरूरी अंग यानि मेरा लंड 6 इंच का है. जैसा कि मेरी पहले की कहानियों को पढ़ने के बाद कई महिलाओं एवं लड़कियों के ईमेल भी मुझे मिले, कई ने मिलने की इच्छा भी जताई, अन्नू और डॉली ने भी बाहर जाने की अनुमति दे दी, (अन्नू और डॉली की कहानी) तो मैंतीन आंटियों की दिल की मुरादउन्हीं के घर में पूरी करके आ गया.

बाल वाल साफ करके चूत सफाचट चिकनी कर ली थी और दोपहर उसका फोन आने तक बैठ कर पोर्न देखती और सेक्स चैट करती अपनी चूत का तापमान बढ़ाती रही।लेकिन थोड़ी गड़बड़ फिर हुई.

तुझे जाने दूंगा, पर ऐसे नहीं थोड़ा तो देख लूं, अपनी भांजी बंध्या की चढ़ती जवानी का जलवा. मैंने इंदु की गांड में ही आखिरी के 8-10 धक्के के बाद जोर जोर से आहह हहह आहह करते हुए सलहज की गांड में अपना ढेर सारा कामरस छोड़ दिया. मैं झड़ने को हुआ, तो उससे पूछा कि माल अंदर गिराऊं या बाहर निकाल लूँ, उसने इशारे से कहा कि अंदर ही डाल दो.

देखने में संजीव भी अच्छा था मगर जो लड़का गाड़ी चला रहा था उसे देखकर तो मैं यही कहूंगा कि संजीव अगर 19 था तो उसके बगल वाला 24 था. लंड चिकना हो गया और सीमा ने दोबारा से मेरे लंड की मुट्ठ मारना शुरू कर दिया. यहां उसका कोई दोस्त नहीं था, तो जल्दी ही लौट आया, आकर टीवी देखने लगा.

मैं डर रहा था कि चुदाई के चक्कर में मैंने मुसीबत ही अपने गले में डाल ली. तब मम्मी ने मुझे सब समझाया और हमेशा मास्टरबेट करने को मना भी किया, पर कभी कभी के लिए मुझे छूट भी दे दी.

ठरकी तो मैं भी शुरू से ही रहा हूँ इसलिए बस चूत के मिलने के इंतज़ार में रहता हूँ. मैंने उसे फिर से बुलाया तो वह थोड़ी पास आई, पर मुझसे दूरी पर खड़ी होकर हंसने लगी. चूत बिल्कुल गीली हो चुकी थी और मेरा लंड भी भाभी के थूक से गीला हो चुका था.

वो कभी कभी लंड निकाल कर मेरी चूत को चाटने लगता था और उसके बाद जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूत को चोदने लगता था.

उसके बर्ताव से मुझे थोड़ा अजीब लगा, फिर सोचा शायद पहली बार मिल रहे हैं, तो हितेश शरमा रहा होगा. आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी, इसके बारे में आप कहानी पर कमेंट जरूर करें. मैंने उसे समझाया कई मर्द अपनी बीवी से प्यार तो करते हैं, पर वो एक्सप्रेस नहीं कर पाते.

मैं बोला- ये सरप्राईज़ क्या है?तो वो बोली- बस थोड़ी देर और … चलो पहले बियर पीते हैं. मैं ये देख कर हैरान रह गया कि उसकी मनी (कामरस) भी बिल्कुल मेरी मनी की तरह गाढ़ी थी.

फिर कुछ देर बाद में वो अचानक से बोली- एक मिनट रुको, मैं सुसु करके आती हूँ. खैर, शाम को भाभी को चोदने के ख्याल से मैं अन्तर्वासना की सेक्स स्टोरी पढ़ के अपने लंड को हिला रहा था. सुबह उठा तो देखा कि रिंकी अपने मायके यानि मेरी बुआ के घर जाने की तैयारी कर रही थी.

बीएफ सेक्सी फिल्म बीएफ सेक्सी फिल्म

यह देख कर उस डंडे जैसी लम्बी आकृति ने एक उछाल दे दिया और उसकी पैंट को तान दिया.

उसके बाद आंटी ने मुझे उठने के लिए कहा और खुद मुझे नीचे लेटने के लिए बोला. वो बोलता था कि जिस बात से दिल खुश हो, वो सब काम करूंगा … मेरी वजह से किसी का दिल ना दुखे, मुझे इसकी फ़िक्र रहती है. मुझे शुरुआत में बहुत डर लग रहा था लेकिन मेरी रांड सहेली को इस सबकी आदत थी, इसलिए उसको जरा भी डर नहीं लग रहा था.

आअअह्ह … बस जल्दी … करो … ओओ … ह्ह … मैंने उसके सिर को अपने लंड पर दबा दिया और मेरे पूरा बदन ऐंठने लगा. भगवान का शुक्र और सर की मेहरबानी से मैं परीक्षा में फर्स्ट क्लास से पास हुई। घरवाले बहुत खुश थे। पिंकी भी सेकेंड क्लास से पास हुई थी। मेरी अधिकतर सहेलियाँ जल भुन गई थीं. एक्स एक्स एक्स बीएफ मूवी सेक्समगर उसने मेरा वीर्य अपने मुंह से बाहर निकाल दिया और मेरा वीर्य उसके होंठों से बहता हुआ नीचे उसके चूचों पर गिरने लगा.

वहां जाकर मैं जल्दी-जल्दी आन्सर कॉपी करने लगी। उन्होंने भी अपना वादा निभाया और रोज मुझे आंसर देते रहे। मैं हर पेपर में उन्हीं के द्वारा बताए गए आन्सर को लिखने लगी. अब रमेश जी को जब जब टाइम मिलता है, तब तब वो सुजाता को बुला लेते हैं और चुदाई का भरपूर मजा करते हैं.

उसकी पीठ को पकड़ कर एक जोर का धक्का मारा और पूरा लंड उसकी चूत में उतर गया. उधर रिसेप्शन की तैयारी चल रही थी और शाम को रिसेप्शन के बाद एक बजे करीब भाभी को वापस रस्म बाकी रहती हैं, कुछ उसके लिए ले गए. मैं ज़रीना को पागलों की तरह चूमने लगा और बोला- मेरी ज़रीना, मैं पहली झलक में ही तुम्हारा तो दीवाना हो गया था.

वह जोर जोर से आवाजें निकाल रही थी- आह्ह … ऊऊऊ … आआआ … उम्म … ओह्ह … अम्म … मा … उफ्फ … करती हुई वह चुदाई का मजा लेने लगी. मगर एक बात जरूर बता देना चाहता हूँ कि कहानी के पात्रों की गोपनीयता बनाए रखने के लिए मैंने इसमें व्यक्तियों और स्थानों के नाम बदल दिये हैं. मैंने कहा- आज प्लीज टाइम निकालो, मुझे बहुत खुजली हो रही है, अभी घर पर कोई नहीं है प्लीज, दोपहर तक कोई डर नहीं है.

जब अमित को पता लगा कि मैं स्खलित हो चुकी हूँ तो उसने तीन-चार जोरदार योनि भेदन वाले जबरदस्त धक्के लगाये और वह रुकते हुए मेरे नग्न शरीर पर निढाल हो गया.

फिर दो मिनट बाद हम दोनों लोग सेक्स करते करते झड़ गए और हम दोनों लोग का पानी निकल गया. मैंने अपना सर उसकी छातियों के बीच अड़ा दिया था और एक हाथ से एक मम्मे को मसलता हुआ, दूसरे के निप्पल को चूसने में लगा हुआ था.

तभी रमेश ने सुजाता की ब्रा को खोल दिया और उसके एक चूचे को अपने मुँह में भरके चूसने लगा. मैंने उससे कहा- जब फर्स्ट टाइम करते हैं, तो लड़की को बहुत दर्द होता है और खून भी आता है. उसने अपने जिम ट्रेनर से बोला कि मेरी कमर में कर्व आना चाहिए और बूब्स भी बड़े बड़े दिखने चाहिए.

मैंने मुन्ने की शक्ल को ध्यान से देखा, उसकी शक्ल भी मनोहर से ही मिलती-जुलती थी. मैंने उस सेठ के लौंडे की तरफ देखा तो उसी ने उनको मेरे बारे में बताना शुरू कर दिया कि यही वह लड़की है, जो उस दिन स्टोर पर मिली थी और मैंने आपको इसी की फोटो दिखाई थी. शायद मेरी झिल्ली फट चुकी थी और इधर मेरी बहन की चूत से भी खून बह रहा था.

सेक्सी वाली बीएफ फिल्म हम कितना भी छिपाने की कोशिश करें लेकिन किसी न किसी को आपके मन की हालत का पता लग ही जाता है. मैं कुछ भी कहने की हालत में नहीं थी और वह मेरे पिछवाड़े में जोर से रगड़ने लगे.

चाची की चूत की चुदाई वीडियो

पहले तो मेरे पापा ने बोला- उनको कैसा लगेगा कि फैमिली से कोई नहीं गया और ये जाएगा, तो कैसा लगेगा. कभी कभी जब स्कर्ट में किसी लौंडिया को देखता, तो मन करता कि इसकी स्कर्ट में घुस कर इसकी चूत चाट लूँ. ऐसा कहते हुए उसने मुझे और तेज जकड़ा और पीछे से पकड़ कर मेरी गांड से लिपटने लगा.

थोड़ा सा मैंने होंठों को गीला किया और प्रिया के होंठों पर रगड़ने लगा. वो मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछती, मैं उसे उसकी सब बातें बता देता था. नवीन बीएफ पिक्चरउसी के साथ में वाणी ने गीता का मुँह पकड़ा और अपनी चुची उसके मुँह में घुसा कर बोली- साली, इन्हें चूसने के लिये क्या तेरे बाप को बुलाऊं.

कुछ हफ्ते बाद मुझे सुबह से ही अजीब लग रहा था और एक बार वोमिट भी हुई तो मैंने प्रेग्नेंसी का रिपोर्ट करवाई, तो वो पॉजिटिव आई.

जब मैं मेरी जीभ को उसकी चुत में डाल कर गोल गोल घुमाने लगा, तो वो एकदम से गर्म हो गई. मैंने कहा- आप नेहा मैडम की दोस्त बोल रही हैं?तो उन्होंने कहा- हाँ!मैंने उनका हाल-चाल पूछा.

अब हम दोनों अकेले थे और उसकी गोल-मटोल मोटी चूचियाँ मेरे अंदर सेक्स की आग जला रही थीं. मैंने पूछा- खाना किधर है?वो बोले- इसको तुमने गर्म किया है ना … अब इसको ठंडा भी तो करो. मैं भईया से बोला- क्या हुआ भैया?भैया बोले- ले गए लौड़े लोग … माल को चोदने तो देते लौड़े.

’‘फिर कब आ रही है नंगी मेरे नीचे लेटने के लिए?’‘जल्दी आऊंगी … मेरी भी चूत तरस रही है तेरे लंड के लिए.

उसे लौड़ा चूसने का बड़ा शौक है, चुदाई चाहे करनी हो या नहीं … पर हर रोज़ रात को जब तक लौड़ा नहीं चूस लेती है, उसे नींद नहीं आती, अपनी भी मौज है यार. सुषी भी उम्म्ह… अहह… हय… याह… की सिसकारियों के साथ चुदाई का मजा लेने लगी थी. उन्होंने मेरी चूत और गांड पोंछ पोंछ कर सब साफ कर दिए और मेरे कपड़े भी दिए.

बीएफ हिंदी मूवी डाउनलोडहर वक्त मैं इसी बात को लेकर परेशान रहने लगा था कि आखिर इस समस्या का इलाज हो तो हो कैसे. मैंने उसके होंठ अपने होंठ में भींच कर एक ज़ोर का धक्का मारा और नीरू बहन की चूत से एक बार फिर से खून आने लगा.

छोटी लड़की की बीएफ

”दस मिनट की अलग अलग तरीकों से चुदाई के बाद, जिस बीच में मैं एक बार पानी छोड़ चुकी थी, सुनील जी के लंड की पिचकारी ने मेरी फुद्दी की आग को ठंडा कर दिया और मैं भी दुबारा झड़ गई. उसने कहा- मतलब वेजीना में पेनिस का शॉट?मैंने कहा- हां सही पकड़े हैं. मैं अपने पति से उतना मजा नहीं ले पाती हूँ, जितना उस लड़के से मजा लेती हूँ.

उसने अपने जिम ट्रेनर को बोल कर अपनी गांड को बड़ी, गोल और सुडौल करने वाली एक्सर्साइज़ करनी शुरू कर दी थी. मेरे पास खुद को शांत करने के लिए मुठ मारने के अलावा और कोई रास्ता ही था. मेरी बीवी की चूचियां एकदम उसकी मुट्ठी में थीं और बॉस उनको ऐसे दबा रहा था कि जैसे रबड़ की कोई गेंदें हों.

रात में हॉस्पिटल हमारे यहाँ से 13-14 किलोमीटर था। सोनू जो अभी मात्र ढाई साल का था, आगे बैठा होने से मैं बाइक धीरे-धीरे चला रहा था। अचानक स्पीडब्रेकर आने से मुझे ब्रेक लगाने पड़े और रेखा जो कि मेरे पीछे बैठकर आगे सोनू को पकड़े हुए थी. मैं आप से कुछ पूछना चाहती हूँ और ख़ास इसीलिए आज मैं आपके पास आई हूँ. मुझे बहुत मजा आ रहा है, राजा! मुझे चोदो, चोदो … मुझे … हाय … हाय … आई …करते हुए भाभी अपना सिर बेड पर इधर-उधर मारती रही.

उसने खुद को ढीला छोड़ दिया और अपने मम्मों को मसलवाने का मजा लेने लगी. इस बीच हमारे बेटे का जन्म हुआ, जीवन में नयी खुशी आई, पर वासना को कुछ समय के लिए दूर करना पड़ा.

उनकी सूखी चूत में मेरे लंड ने अपने रस की बारिश की और भाभी ने मुझे अपने सीने से लगा कर मेरे लंड के रस एक एक बूंद को आत्मसात कर लिया.

वह उनके काम आ जाता था जहां वे रात को काम बना लेते थे।यह अलग बात थी कि मुझे उस संभावित जगह का आइडिया था तो एक कैमरा वहां भी मौजूद था।वैदेही पढ़ाई के सिलसिले में तीन साल वहां रही और लगभग वे रोज ही सेक्स करते… ओरल, वेजाइनल, एनल। कैसा भी, कुछ भी बाकी नहीं रखा था. भाई और बहन की बीएफ पिक्चरआठ-दस धक्कों के बाद लंड की पिचकारी छूट पड़ी और सारा का सारा माल सारा की बुर में भरता चला गया. दिल्ली का बीएफ हिंदीउसके बाद मैं, पापा और मामी वहीं ड्राइंग रूम में ही बैठकर बातें करने लगे. फिर पंकज ने मुझे बेड के साथ में खड़ी कर लिया और मेरे शर्ट को उतारने लगा.

रमेश ने सिगरेट सुलगाते हुए एक ठहाका लगाया और बोला- और तू क्या सूखी सूखी होली खेलेगी? चल एक और बना.

बस यही सोच रहा था कि अनामिका का क्या हुआ होगा क्योंकि उसने फोन भी नहीं किया मुझे।अगले दिन अनामिका का फ़ोन आया. पहले दिन तो उसने मुझसे ज्यादा कुछ नहीं पूछा, लेकिन उसके तेवर बता रहे थे कि वो हम दोनों की चुदाई की कहानी पूरी तफ्सील से सुनना चाहती है. मैंने दरवाजा बंद कर दिया और एक तरफ ले जाकर आंटी के चूचों को ऊपर से ही दबा दिया.

खिड़की खोल कर उसे उस पर झुका दिया और पीछे से उसकी साड़ी उठा कर अपना लंड उसकी चुत में घुसा दिया. पापा ने उठकर मम्मी की टांगों को मोड़ा और अपना लंड मम्मी की सुंदर चूत के अंदर दे दिया और ऊपर नीचे अपने चूतड़ों को करते हुए मम्मी को चोदने लगे. मैंने जैसे ही पेंटी खींची, वो लाज से सिमट गई और अपने हाथ से अपनी चूत छिपाने लगी.

फुल सेक्सी वीडियो एचडी बीएफ

उसकी नाइटी का हुक खोला, चुचियों को दोनों हाथों से दबा दबा कर चूसने लगा. फिर जब अन्तर्वासना पर बहन भाई की चुदाई की कहानियां पढ़ीं, तो मेरे मन में भी कुछ हिम्मत जागी और मुझे अविका की चुदाई करने की लालसा बढ़ गई. अगर उन्होंने देख लिया तो मैं मम्मी को मुँह दिखाने लायक नहीं रहूँगी.

और थक कर कुछ देर हम ऐसे ही आंखें बंद करके एक दूसरे की बांहों में पड़े रहे.

मेरा बैठ कर खाने का मन हुआ तो मैंने सोचा कि कोई अखबार मिल जाए, तो बिछा कर बैठ कर खा लूँ.

मेरे तलाक़शुदा होने की बात कुछ साथ काम करने वालों को पता चली, तो मौका पाने पे उन्होंने मुझमें दिलचस्पी लेना शुरू कर दिया. खैर काफ़ी खत्म करके वाणी बोली- चलो मैं तो नहाने जा रही हूँ … तुम दोनों का क्या प्लान है देख लो. ब्लू फिल्म बीएफ पंजाबीपर उसके इतने तेज़ और जोरदार धक्कों ने मेरे मन में भय ला दिया कि कहीं वो मुझसे पहले न झड़ जाए.

मैंने बोला- तुम्हारी कोई फ़्रेंड सहेली के घर मिल सकते हैं?उसने बताया- मेरी दो फ्रेंड हैं, जिसमें एक की टीचर की जॉब इसी शहर में होने की वजह से वो पास वाली बिल्डिंग में एक फ्लैट में किराए पर रहती है. पहले उसने मेरे लंड के सुपारे को किस किया, फिर मुँह में लंड भर लिया. वो बार बार मेरी नाभि में उंगली डाल कर घुमाने लगे, तो मेरी सांसें तेज हो चली और सीना तेजी से धड़कने लगा.

उसकी पतली कमर भी ग़ज़ब दिख रही थी और उसके बूब्स ज़मीन की तरफ लटक रहे थे. ”मुझे कोई परेशानी नहीं है … हाँ अगर तुम्हें कोई परेशानी है तो बताओ … अगर कहो तो तुम्हारे लिए दूसरा कमरा ले लूँ?”नहीं कमरे की कोई जरूरत नहीं है … आप बहुत अच्छे है … मुझे आपके साथ कोई परेशानी नहीं … मैं एडजस्ट कर लूँगी.

मैंने कहा- उसकी तुम चिंता ना करो, बस आज जो मैं कह रही हूँ, वो ही करो ताकि भाभी तुम्हारे लंड की पूरी दीवानी हो जाए.

लड़की हो आंटी हो या दोस्त, मुझसे सब लोग खुश रहते हैं और मुझे भी उनकी तारीफ करने से बहुत फायदा मिलता है. मैंने उसको उठने के लिए कहा और खुद बेड के आखिरी छोर पर आकर मैंने पैर नीचे की तरफ लटका दिया. उन्होंने फिर से मेरी फुद्दी चाटते हुए मेरी गांड पर उंगली फेरी और बोले- पम्मी अबकी बार तेरी पजाबी गांड मारूँगा.

सेक्स बीएफ एडल्ट फिर वह भी कहने लगी- राज! बिल्कुल धीरे-धीरे डालना, मैंने कभी इतना मोटा लंड न देखा है और न ही चूत में लिया है. वो पहले से ही चुदाई के लिए चुदासी थी, मेरे दूध चूसने और मसलने से वो हीट पर आ गई और मादक सिसकारी भरने लगी.

तकरीबन दस मिनट तक अपने लंड को मुख मैथुन का सुख दिलाने के बाद उसने मेरी पेंटी उतार कर मुझे पूरी नंगी कर दिया और मेरी टांगें खींच कर मेरी चूत को अपने मुँह के नजदीक कर लिया. कुछ सहकर्मी अच्छे दोस्त भी बन गए, उनके दूसरे देश के होने के कारण हर रोज़ कुछ ना कुछ नया जानने को मिलता. मैंने पूछा- अब दुबारा निकाह के बाद कैसे होगा … तुम कैसे मान गईं?वह बोली- अब वह इलाज कराने को मान गया है.

ब्लू फिल्में हिंदी में ब्लू

और पीछे से तो कुंवारी थी, उसकी गांड का तो उद्घाटन भी मैंने ही किया. कुछ देर लंड को चूत के दाने पर रगड़ने के बाद भाभी कहने लगी- राज, अब ज्यादा मत तड़पाओ और इसको अंदर डाल दो. मेरा नाम सैफ है, मैं एक मिडल क्लास की फैमिली से बिलोंग करता हूँ और मेरी उम्र 21 साल है.

मैंने उसको सहारा देते हुए अपने कंधे के साथ लगाया और उसको अपने साथ लेकर चलने लगा. उत्तेजना तो मेरे बदन में भी भारी हुई थी लेकिन वो अंकल की उम्र से मुझे थोड़ी हिचक हो रही थी.

फिर आपने उस औरत को उनकी मैडम क्यों कहा?इस बात पर मैंने उससे कहा- देख भाई राजू, हमारी बातें तेरे पल्ले ना आएंगी और अधिक जानकारी चाहिये तो अन्तर्वासना की साईट में जाकर मेरी एक रचना हैमेरी मस्त पड़ोसन की चाय और गर्म चूतउसे पढ़ ले, तुझे सब पता चल जाएगा.

वह भी मेरी तरह से दो कपड़ों में ही थी और पहले से ही अपना मन चुदवाने के लिए बना चुकी थी. फिर वन्द्या की चूत से ख़ून क्यों निकल रहा है?तब अब्दुल बोला- अगर मेरे लंड से लड़की की चूत से खून नहीं निकले, तो क्या मतलब हुआ मेरे पठान होने का?मुझे बहुत असहनीय दर्द हुआ, पर अब्दुल को कोई फर्क नहीं पड़ा. जब भी मैं किसी पार्टी में जाती हूँ तो वेस्टर्न ड्रेस ही पहन कर ही जाती हूँ.

बॉस मेरी बीवी के ऊपर झुककर मेरी बीवी के होंठ चूसने लगा और उसके दोनों संतरे दबाने लगा. धीरे धीरे मैं इंदु के पेटीकोट का नाड़ा खोलने लगा, तो उसने मना कर दिया. आखिरकार मैंने दोनों चूतों में आधा आधा पानी छोड़ा और हम तीनों थककर ऐसे ही सो गए.

बड़ी ही मुश्किल से शाम का वक्त आया और मैं जल्दी से नहा-धोकर तैयार होने लगा.

सेक्सी वाली बीएफ फिल्म: इस बार भाभी मेरे ऊपर आ गईं और उनकी झूलती चूचियों को पीते हुए मैंने उनकी चूत में नीचे से ठोकरें लगानी शुरू कर दीं. मैं आप सबको अपनी चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ और ये कहानी मेरे और मेरे पड़ोसी की है.

आज तेरी वजह से सुहागरात हो जाएगी, तेरा नाम हमेशा लूंगा कि मेरे भाई के कारण मेरी सुहागरात हुई थी. सुखबीर, मेरेपड़ोसी से सम्भोग का सुखपाने के बाद हम दोनों कभी दोबारा नहीं मिले और न उसने कभी जोर दिया. हम वहां खड़े होंगे, फिर आपको चेंजिंग रूम में नहीं बगल से आराम करने कि लिए छोटा सा रेस्ट रूम है, वहां ले चलेंगे.

मैंने एक बात नोट की है कि एक बार जब औरत अपना पानी छोड़ देती है, उसके बाद उसे सेक्स का असली मज़ा आता है.

अब मेरे कोई रिएक्शन या आपत्ति ना होने पर उसका विश्वास और हो गया और वह और मुझसे चिपक कर लोगों से नजर बचाकर मेरे पीछे गांड में चुपके से अपना हाथ भी लगाने लगा. मुँह से निकलती सलोनी की मादक सीत्कारों की आवाज़ ट्रेन की आवाज़ में खो सी जाती थी. उन्होंने ये भी बताया कि पीरियड से ये पता चलता है कि अब लड़की बच्चे पैदा करने के लिए तैयार है.