लेडीज और घोड़े की बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ बुरचोदी

तस्वीर का शीर्षक ,

కేరళ సెక్స్ వీడియోస్: लेडीज और घोड़े की बीएफ, मुझे आज तक कभी किसी से इतना मजा नहीं आया था लंड चुसवा कर… फिर वो मेरा लंड मुंह में लेकर चूसने लगी.

बीएफ पाहिजे बीएफ

मेरी मॉम उनके लिए ही साड़ी ब्लाउज सिलवाती थीं, सो मुझे उनका साइज़ पता चल गया था. चाची की चुदाई हिंदी में बीएफफिर उसने मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा.

वो मेरे सामने ही पेंटी टाइप शॉर्ट्स में नहाने अन्दर गयी और मैं वहीं बाहर लंड निकाल के हिलाने लगा. इंडियन भाभी सेक्सी वीडियो बीएफपद्मिनी के पाँव उत्तेजना से काँपने लगे और वह बोली- छी: बापू, क्या गंदी जगह को चाट रहे हो.

फिर लगभग 1 महीने बाद एक औरत का मैसेज आया, जिसका नाम प्रेरणा (बदला हुआ) था, मैंने तुरंत उसे रिक्वेस्ट सेंड की, परंतु बहुत देर तक उसने एक्सेप्ट नहीं की.लेडीज और घोड़े की बीएफ: करीब 15 मिनट बाद अंजलि का पानी झड़ गया और वो वही बेहोशी जैसे होकर वहीं नंगी ही सो गयी.

जब मैंने कोई जवाब नहीं दिया तो उसने मेरे करीब आकर मेरे मम्मों को बहुत जोर से खींचा और गुर्रा कर बोला- सुन रही है ना.फटाफट मैंने भी अपना लोअर व टी शर्ट उतार दी और फिर ज़रा सा पीछे हट के अलका रानी को निहारने लगा.

बीएफ सेक्सी पिक्चर सेक्सी पिक्चर बीएफ - लेडीज और घोड़े की बीएफ

कुछ देर बाद वो पूरी बेताब होकर फिर से मेरा लंड चूसने लगी, फिर से मेरा लंड लोहा जैसा हो गया.शादी इंदौर में थी। उस शादी में संयोग ऐसे बने कि वर पक्ष से चाची और वधू पक्ष से मैडम दोनों एक जगह टपक पड़ीं और ऐसा हो नहीं सकता कि इनमें से कोई मेरे साथ बिना कुछ किए रह सके!मैंने तो जाते ही साफ़ साफ़ बोल दिया- ना! मतलब कुछ नहीं होगा.

एक अच्छे सेक्स के बाद एक दूसरे की बांहों में सोने का मज़ा ही अलग होता है. लेडीज और घोड़े की बीएफ वो बीच बीच में मुझसे चुदते समय कहा करती थी कि बॉस आपने जो एड्वान्स दिया है, उसके बदले मेरी चुत चोद लो.

सससस…मैंने नेहा की टांगों को फैलाया और घुटनों पर बैठकर लंड उसकी चूत पर रखा, वह चुदने बेताब थी.

लेडीज और घोड़े की बीएफ?

फिर इस तरह से मैंने उसको 2 बार और नॉन स्टॉप चोदा और उसकी चूत फाड़ डाली. फिर मुझसे इतराते हुये बोलीं- कुछ पियोगे जनाब?मैंने कहा- मुझे तो आज बस तुमको पीना है. और फिर वे दोनों लवर आपस में लिपट गये और एक दूसरे के बदन को सहलाने लगे.

इस बार उन्होंने अपना मंगलसूत्र अपने दांतों के बीच दबा लिया और बेड की चादर अपनी मुट्ठियों में कस के पकड़ ली और दांत भींच लिए. मुझे इसकी आशा बिल्कुल भी नहीं थी कि सुकन्या जैसी लेडी को भी इतना डर्टी होना अच्छा लग रहा था. बस फिर क्या था… मैंने उन्हें कुतिया बनाया और उनकी गांड में तेल लगाया.

असल में खेलना तो एक बहाना था, मुझे तो पीछे वाली चाची को गाउन में पोंछा लगाते हुए देखना था. वो खड़ी नहीं हो पा रही थीं, तो मैंने उन्हें उठाया और रूम में ले गया. हमारा घर बहुत बड़ा है, जिसकी वजह से हम अपने मकान का एक हिस्सा किराये पर दे देते हैं.

मेरे दिमाग में वही पुरानी बात हथौड़े की तरह बज रही थी कि शाहिद भाई और शाजिया अप्पी इसी जगह नंगे पकड़े गये थे।और आज मैंने राशिद और अहाना को पकड़ा था. पद्मिनी में वह सब था, जो किसी भी मर्द, जवान से अधेड़ उम्र के चाचाओं तक को रिझा सके.

रीनू बोली- भैया लंड का रस मेरी चूत में मत छोड़ना, जब निकलने वाला हो तो अपना लौड़ा मेरे मुँह में दे देना.

अपनी जिंदगी को अपनी मर्ज़ी से जीना है और मज़े लेकर जीना है और साथ में पैसे भी कमाने है.

आरुषि भी अब गांड चुदाई का मज़ा लेने लगी थी, क्यूंकि अब उसके मुख से दर्द से कराहने की बजाए मस्ती और चुदाई के मज़े की ‘आह ओह… आह… ओह…’ निकल रही थी और कोई फिर 10 मिनट के बाद मैं भी उसकी गांड में ही झड़ गया. जब उसमें एक सेक्सी सीन आया तो आपा बोलीं- मुझे नींद आ रही है, मैं सोने जा रही हूँ. आख… आआआ…” कुछ समय के लिए जब वो मेरा लंड अपने मुंह से बाहर निकालती तो उसकी मदहोश कर देने वाली कराहटें सुनाई देने लगती थीं.

फिर शाम होते ही दीदी ने मुझे कहा कि फ्रेश हो आओ, मैं भी फ्रेश होकर आती हूँ. मैंने पहले तो उन पर ध्यान नहीं दिया क्योंकि मैं अपने काम में ही बहुत व्यस्त रहता था. उसके कमरे में जाकर जब मैंने उसके लंड की तरफ देखा, तो पाया कि उसका लंड एकदम उसके पेंट में खड़ा था.

उसने कोई जवाब नहीं दिया तो मैंने लंड बाहर खींचा वैसा ही दुबारा करते हुए मैंने जैली लगा दी.

कुछ देर बाद उसने आँखें खोलीं और मुझसे बोली- तुम खिड़की वाली साइड आ जाओ. उम्मीद है आप सबको मेरी पहली रिअल सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी। आगे की सच्ची वाली कहानी लिखने के लिए मुझे ईमेल लिख कर प्रेरित करें।[emailprotected]. जब मेरा लंड जागृति आंटी की चूत में घुसा तो मुझे इतना आनंद आया जितना आनंद मुझे अपने जीवन में कभी नहीं आया था.

दोस्तो, मेरी इस पोर्न कहानी पर आपकी मेल का इंतजार रहेगा आपकी हॉट हॉट सेक्सी कोमल भाबी को!आपके खड़े और तने हुए लंडों और गीली हुई चूतों को मेरी चूत का बाइ बाइ![emailprotected]. !तब उस आदमी ने अपनी पकड़ को थोड़ा ढीली कर दी और आराम आराम से मॉम के चुचों को मसलने लगा. फूफा जी बोले- तो कोमल… तुमने मेरी इज़्ज़त बचाने के लिए अपनी इज़्ज़त लुटा दी.

हम दोनों के अलावा बाकी लोग कहने लगे हम नीचे लेटेंगे क्योंकि ऊपर छत पर मच्छर बहुत काटते हैं और हो सकता लाइट भी आ जाए.

मैंने मना किया तो वो बोलीं- सुरक्षा समझ के ले ले और हमारी गोपनीयता को बनाए रखने में सहयोग कर!मैंने पैसे लिए और वापिस आ गया।फिर मैंने चाची से थोड़ी देर बात की और अपने काम में व्यस्त हो गया. बर्दाश्त नहीं हो रहा।वह उठ खड़ा हुआ और फिर एक तेज़ मस्ती भरी करह को मैं अपने होंठों से आज़ाद होने से न रोक सकी जब एक गर्म गोश्त की मीनार मेरी योनि में जगह बनाती अंदर तक धंस गयी।योनि पहले से पानी-पानी हो रही थी, वो भचाभच अपनी मुनिया भोंकने लगा और मैं जोर-जोर से सिसकारने लगी।वैसे ही तेज़ धक्के लगते रहे और मैं कराहती सिसकारती रही.

लेडीज और घोड़े की बीएफ एक दिन मेरी वाइफ मेरे फ्रेंड से चुदवा रही थी तो वो मेरे फ्रेंड से बोली- मुझे 2 लंड एक साथ अपनी चुत में लेने हैं. मैंने उसका एक पैर पकड़ा हुआ था और दूसरा पैर उसने थोड़ा ऊपर कर रखा था.

लेडीज और घोड़े की बीएफ मैंने उससे लंड के पास में किस करने को कहा तो उस ने जोरदार किस किया. मैंने जब लंड उनके मुँह से बाहर निकाला, तो आंटी ने बेड पर ही उल्टी कर दी.

सब लोग ग्रुप फोटो के लिए फोटोग्राफर की सुझाई हुई जगह पर इकट्ठे होने लगे.

नगरी नगरा चोदी चोदा

क्या कर दूं मेरी गुड़िया रानी … बोलो?” मैंने उसका चेहरा अपने हाथों में लेते हुए कहा और अपना लंड फिर से उसके मुंह में दे दिया और दो तीन धक्के लगा दिए. भाभी- डाल भी दो अब अपना लंड… मेरी रंडी चुत में… फाड़ दे इसे… अपनी रंडी की तरह चोद मुझे… बुझा दे मेरी प्यास को…मैंने देर ना करते हुए अपना लंड एक जोरदार धक्के के साथ उनकी चूत में पेल दिया. मैं अक्सर मेरी ससुराल की फॅमिली की औरतों के बारे में सोचकर मुठ मारा करता हूँ क्योंकि सभी औरतें मोटी मेच्यूर और टाइट फिगर की हैं और उन सभी औरतों को मैंने किसी ना किसी बहाने नंगी देखा हुआ है और देखते देखते मुठ मारी हुई है लेकिन कभी किसी को भी चोद नहीं पाया.

भाभी ने तुरंत पूजा को बुलाया और पूजा से कहा कि अगर तुम चाहती हो कि में किसी से कुछ न कहूँ तो मैं भी अमित से सेक्स करूँगी. मम-मैं नहीं!” मैंने चेहरा पीछे खींचा।उसने वहीं पड़ा अपना दुपट्टा उठाया, और उससे रगड़ कर राशिद के अपने थूक से गीले लिंग को साफ कर दिया।ले अब चूस. दोस्तो! मुझे हमेशा कुंवारी लड़की की बजाये 35-40 साल की चुदी हुई लेडीज़ को चोदना ज्यादा पसंद है, क्योंकि वे मजा लेती भी हैं, और देती भी हैं.

मैंने अपने हाथ से उसकी सलवार का नाड़ा खोला और अपना हाथ उसकी चुत पे ले गया.

उनकी चूचियों की मनमोहक खुशबू मेरे नाक से होते हुए मेरे पूरे जिस्म में फैल गई. मैं तो कई महीनों से परेशान हूँ कि काश कोई मुझे चोद कर कली से फूल बना दे, पर मैंने बदनामी के डर से कभी किसी लड़के को लिफ्ट नहीं दी. एकता भी मेरी तरह निरीह भाव से देखने लगी तो डॉली ने कहा- अरे मैं हूँ ना हेल्प के लिए.

मैं अपनी चरमसीमा पर पहुँच चुकी थी और मैं ज़ोर ज़ोर से फूफा जी का लंड अपनी चूत में घुसाने के लिए अपनी गांड को उछालने लगी, फूफा जी भी अपना लंड बड़ी बेदर्दी से मेरी चूत के आर पार करने में लगे थे. इसी बीच मैं एक बार दाढ़ी बनवाने के लिए सैलून गया, वहां पर एक पोस्टर लगा था, जिसमें लिखा था कि बॉडी मसाज के लिए 19+ युवकों की आवश्यकता है. अब तक मेरा लंड इतना ज्यादा तन गया था कि लग रहा था कि मेरी टावेल गिर ही जाएगी.

तभी मेरी छोटी मामी और बुआ मेरे पास आईं और बोलीं- अबे यहाँ क्यों बैठा है? भाई की शादी है, थोड़ा डांस-वान्स कर!तो मैं बोला- मुझे डांस नहीं आता!वो बोलीं- तो फिर सबको चाय पानी पिला… कुछ मदद कर!तो मैंने एक बड़ी ट्रे में पानी के गिलास रखे और सबको पिलाने लगा. और तभी आरुषि ने कराहते हुए कहा- उम्म्ह… अहह… हय… याह… प्लीज़ संचित, निकाल लो, बहुत दर्द हो रहा है.

बापू खड़े खड़े उसको बहुत ज़ोर से सीने से लगाते हुए उसके सर को चूम कर आहिस्ते आहिस्ते उसके गालों को चूमने लगा. मैं बड़े आराम से उसके होंठों को चूमता रहा, वो नीचे दर्द की अधिकता से मचलती और तड़फती रही. इस तरह से मनोरमा गीता को एक घंटे तक ट्रेनिंग देकर बोली कि अब यह सब याद रखना.

मैंने रोटी पीटती किस्मत को गालियां देती हुई किसी तरह तैयार हुई और होटल में पहुँच गई.

मैं थोड़ी देर तक कुछ और धक्के मारता रहा फिर इसके बाद मैंने अपने लंड का पूरा वीर्य उसकी गांड में ही छोड़ दिया. हम दोनों चुदाई की वासना में इतने मस्त थे कि हमें पता भी नहीं चला कि कोई हमें चुदाई करते देख रहा है और हमारी चुदाई की वीडियो भी बना रहा है. वो एक प्यारी सी स्माइल दे कर जाने लगी, तो मैंने पकड़ कर बेड पर खींच लिया.

तभी मैंने देर न करते हुए अचानक हाथ उनके पेटीकोट के अन्दर डाल कर उनकी चुत पेंटी के ऊपर से छेड़ने लगा, तो भाबी समझ गईं और उन्होंने झट से उठते हुए अपनी साड़ी और पेटीकोट दोनों अपने आप उतारना शुरू कर दिया. वो किसी काम से अपनी बहन यानि मेरी सहेली के कमरे में आया था और उसने मुझे एक गीले तौलिये में देख लिया.

अब मैंने रोज़ भाभी के घर जाना शुरू कर दिया और भाभी भी मुझसे खूब हंस हंसकर बातें करने लगी थीं. अभी थोड़ा वक्त गुजरने दो, फिर तुम्हें महसूस होने लगेगी और तब देखना कैसे किसी चीज की रगड़ तुम्हारी खुजली को शांत करती है।”मेरे होंठ और गला सूखने लगे और अहाना ने मेरा दुपट्टा गले से निकाल कर किनारे डाल दिया। फिर चाक से पकड़ कर कुर्ता ऊपर खींचा. मेरी सील इस बैंगन जैसी मुनिया से टूटी थी लेकिन फिर भी मैंने बर्दाश्त किया था न… हम लड़कियों को यह बर्दाश करना ही होता है।”ऐसा लग रहा है जैसे चाकू घुसा दिया हो।”भक.

राजस्थानी सेक्सी खुला

उसने दस बीस शॉट मारे तो मेरी चुत को सुकून मिल गया और मैं उससे चुदवाने लगी.

और मैं बाथरूम से नहाकर बाहर निकली तो देखी कि मेरी सहेली का भाई मुझे तौलिये में देख रहा है. इस पर उन्होंने गीता के मुँह पर टेप चिपका दिया और उसकी चुत का बुरा हाल कर दिया. मैंने कहा- अरे क्या हुआ?उन्हें मैंने अपने से अलग किया और गोद में उठा कर बिस्तर के शुरुआती वाले सिरे पे बिठा दिया.

मुझे नहीं पता कि तबस्सुम ने उससे क्या कहा, मगर उसका उत्तर था- हां हां बिल्कुल जितना हो सकेगा, पक्का करूँगा. भाभी सीधे बोलीं- तुम यह मुझे सुना कर क्या चाहते हो?मैं भी सीधे मूड में आ कर बोल उठा- मैं कुछ नहीं चाहता. सेक्सी बीएफ वीडियो देखफिर लौड़ा पकड़कर उसकी चुत के छेद पर तेजी से धकेला तो लगभग 3 इंच लंड घुस गया.

तो मैंने कहा- एक दिन में एक ही कहा था मैंने!तो वो बोलीं- कम से कम कप्तान को तो इतनी रियायत होनी चाहिए!तो मैं बोला- ठीक है… लेकिन ये पहली और आखिरी बार होना चाहिए!और मैंने सुकून के साथ उसके और अपने कपड़े उतारे और हमने एक दूसरे को चूमना चाटना शुरू किया. मैंने अपनी जेब से रुमाल निकाला और शबाना के मुँह में भर दिया, जिससे वो हल्ला ना कर सके.

उसने मेरा नाम पूछा और फिर अपना नाम बताते हुए कहा- आपका नम्बर मुझे एक लेडी ने दिया है. मेरे नीचे वाले फ्लोर मतलब ग्राउंड फ्लोर पे भी परिवार ही रहते थे लेकिन फर्स्ट फ्लोर पे जाने का रास्ता एक ही था, जो नीचे वाले वॉशरूम के बगल से होकर जाता था. मेरा मन उसके लंड को पकड़कर दबाने सहलाने का कर तो रहा था लेकिन पता नहीं क्या सोचकर मैंने हाथ वापस हटा लिया… मैं सोचने लगा कि ये सब तो मैं गगन के मेरी जिंदगी में आने से पहले भी कर रहा था.

ऐसा कहते हुए जैसे ही उसने मेरी पैन्टी के ऊपर से चूत को छुआ, मैं बिल्कुल और कसके उससे लिपट गई, मैं बोली- क्या तुम मुझे मार ही डालोगे. वे बार बार कह रहे थे, कच्छा नीचे कर औंधे लेटे थे, मेरा लंड पकड़ कर मसल रहे थे और उनकी मार दी, वे केवल लंड पिलवाते रहे, चुपचाप लेटे रहे. लेकिन पूजा तो बिंदास मेरे ऊपर लेटी ही रही, वो अंकुश से बोली- देख गांडू, मुझे चोदने वाला मिल गया.

लेकिन तभी सोचा कि राज के घरवाले होंगे घर में… मैं बोली- तुम्हारे घर वाले?वो बोला- चल तो सही… वो क्या है ना कि आज मैं अकेला ही हूँ, घर वाले बाहर गये हैं, 2 दिन बाद आयेंगे.

क्या बढ़िया इनाम था!यकायक रेखा रानी ने लंड पूरा का पूरा मुंह में घुसा लिया. कुछ लोग फुसफुसा रहे थे कि ‘यही उस लड़की का पिता है, क्या माल है इसके घर में यार, मेरी वैसी बेटी होती तो मैं ही उसको चोद देता.

ये कुर्ता ठीक उसके घुटनों पर तक ही आता था, मगर ये कुर्ता स्लीवलैस था और पद्मिनी पर काफी बड़ा लग रहा था. मेरी उम्र 19 साल की है, पर मेरे दुबले शरीर के कारण कोई भी लड़की मुझे घास नहीं डालती थी. पर जबसे मुझे इसकी जानकारी हुई है, मैंने हमेशा से सिर्फ तुम्हारे बारे में ही सोचा है.

कुछ ही देर में उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया, जिससे उसकी पैंटी गीली हो गयी. तो किसी-किसी टाईम उसकी मुनिया में अंदर की तरफ बड़े जोर की खुजली मचती है, इतनी तेज कि लड़की परेशान हो जाती है।”भक्क. मैंने तुरंत उसको 69 की पोजीशन में लिटाया और उसकी चिकनी चूत को चाटने लगा.

लेडीज और घोड़े की बीएफ जाहिरी तौर पर तो वह एकदम मेरे जैसी ही थी। बहनें होने की वजह से यह समानता तो होनी ही थी। क्या वह अंदर से भी मेरे जैसी ही थी?अब तुम देखो. उसने मेरी चुत को चाट चाट कर पूरा साफ कर दिया और फिर मेरी चुची को पीने लगा.

घड़ी की नंगी फोटो

बाहर से ही जब दरवाजा बंद करने लगा तो हॉल में शबनम भाभी खड़ी मुझे ही देख रही थीं. पीले कलर के सलवार में ऐसी लग रही थी, जैसे मानो जन्नत की अप्सरा धरती पे आ गयी हो. तुमने दो तीन बार नंगी होकर अपनी बुर फैलाकर उसे अपनी उंगली से साफ कर रही थी, क्या मस्त बुर थी तुम्हारी वन्द्या, उस समय तो कैसे सम्हाला अपने आप को मैंने… मैं ही जानता हूं.

लेकिन राशिद ने उसे हाथ से सहलाया तो वह एकदम टाईट हो गया। डेढ़ इंच की मोटाई रही होगी और छः से सात इंच के करीब लंबाई थी।देखो. मधु बोली- चल ना यार मजा ले ले!यह कह कर उसने मेरा हाथ में राज का लंड पकड़ा दिया जो अब सोया हुआ था, गर्म तो था ही!पहली बार किसी का लंड मेरे हाथ में था, मैंने घबराते हुए उसे छोड़ दिया- चल घर जल्दी!किसी तरह से मैंने मधु का हाथ पकड़ा और मैं बाहर निकल आई. गांव की सेक्सी बीएफ गांव कीमुझे लगा कि वो लड़की मानसिक रूप से अस्वस्थ है तो मैंने अपनी पहचान के एक डॉक्टर को अपने घर बुलाया.

ऐसा मैं बहुत चिल्ला रही थी, पर दोनों तब तक अपना लंड अन्दर डाल चुके थे.

मेरी सील इस बैंगन जैसी मुनिया से टूटी थी लेकिन फिर भी मैंने बर्दाश्त किया था न… हम लड़कियों को यह बर्दाश करना ही होता है।”ऐसा लग रहा है जैसे चाकू घुसा दिया हो।”भक. मुझे नवीन की किस्मत से जलन होने लगी थी कि इतनी मस्त परी जैसी जवानी को एक देहाती नौकर चूस रहा है.

उसकी नाभि गहरी थी जैसे किसी नदी में कोई भंवर हो… पूजा के होंठ थोड़े से खुले हुए थे. हमारे घर में खेती और भैंसों का काम करने के लिए एक बिहारी नौकर रखा हुआ है, उसका नाम राजेश है, वो देखने में बहुत सुन्दर लगता है और बॉडी वी बहुत अच्छी बनाई हुई है. मेरे पुरुष मित्रों को मेरे किसी आग्रह की जरुरत नहीं पड़ेगी क्योंकि हम अपने लण्ड के साथ हमेशा तैयार रहते हैं … मित्रों, वाकया है ही कुछ ऐसा|मेरी पहली कहानी प्रकाशित होने के बाद मुझे कई मेल्स आये जिनमे एक मेल मेरे ही शहर यानि इलाहाबाद से एक 32 वर्षीया महिला सुकन्या जायसवाल जी का था.

उन पर उनके निप्पल, जो एकदम खड़े हो गए थे, वो और भी सुंदर लग रहे थे.

गांड पहले से ही चिकनी थी, वह भी बड़ी धीरे धीरे डाल रहा था जैसे मैं कोई कम उम्र का नया लौंडा होऊं जिसकी पहली बार मारी जा रही हो… कहीं गांड फट न जाए, कोई तकलीफ न हो!जबकि मैं पुराना गांडू कम उमर से गांड मरवाने लगा था, तभी से बड़े बड़े लंडों की टक्कर गांड पर झेली. आपको देखकर मैं तो दीवाना हो गया हूँ!मैंने हल्की सी आवाज में बोला- आई लव यू खाला! आपको मालूम नहीं है मेरी क्या हालत है. मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसमें से एक कंडोम निकाल कर कंडोम में मुठ मारी.

भोजपुरी सेक्सी बीएफ गाना वालाकाफी लंबी रेलमपेल के बाद अंततः उन्होंने हार मानी और ढेर सारे पानी के साथ पेशाब भी छोड़ दी लेकिन मैं लगा रहा. मैंने भाभी के निप्पलों को जीभ से टुनयाया तो भाभी हंसने लगीं और कहने लगीं मत करो.

रेडीमेड साड़ी

मेरा पूरा नंगा पेट, खुली नाभि और ब्लाउज में उभरे हुए चूचे देख कर कोई भी पागल हो जाता. जब मैंने उनकी पेंटी पर हाथ लगाया, तो मैंने महसूस किया कि वो अब तक पूरी तरह गीली हो चुकी थी. इसके बाद चुहलबाजी शुरू हो गई तो मैं फिर से चूत चुदाई के लिए तैयार था.

वो कामुक सिसकारियां ले रही थी, आह… प्लीज़… ऊं… आह ऊंउनह… कर रही थी. उन दोनों के हाथ मेरे सीने पर थे और ऊपर एक दूसरे के बूब्स दबाना और किस करे जा रही थीं. मैं धीरे से रूम में गया, और उसकी जाँघ पर हाथ रखा कर हिला कर देखा, वो पूरी नींद में थी.

मैं भी कई दिन से सोच रहा था कि अब तो मेरी बहन जवान हो गई है और अब चोदने में मज़ा देगी, इसलिए घर का माल घर पर ही रहना चाहिए. मैं तो उसके चुचे देखकर पागल हो गया और उनको मुँह में लेकर चूसने लगा. जिस पर अंजलि भी सिसकारी भरने लगी!तभी शीतल ने शिवानी की स्कर्ट उठा कर बियर उड़ेल दी जिससे शिवानी की पैंटी गीली हो गयी और मुझे बोली- भैया, अब आगे बढ़ो और पूरी पैंटी चाटो!मैंने शिवानी की स्कर्ट उठा कर उसकी चूत पैंटी के ऊपर से चाटनी शुरू कर दी.

तो बापू ने हौले से अपने एक हाथ को पद्मिनी की जाँघ पर फेरते हुए सहलाया और पद्मिनी ने एक छोटी सी सिसकारी छोड़ी. आंटी कुछ कहने ही वाली थी, इससे पहले मैंने उनके होंठ पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें कसकर पकड़ लिया, उनके होंठ चूसने लगा.

वह भी उसकी पीठ की तरफ से आ कर सटा तो रज़िया ने मुझे छोड़ दिया और उसी अंदाज़ में नितिन से चिपक कर उसे रगड़ने लगी।कुछ देर बाद हाँफते हुए रुक कर मुझे देखने लगी- उस दिन की तरह कुछ मलाई वगैरह भी रखे हो क्या?हाँ-हाँ!” जवाब मेरी जगह नितिन ने दिया.

इस पर आंटी ने बिस्तर के नीचे से डेरी मिल्क की टॉफी निकाली और मेरे लंड पर और अपनी चुत पर रगड़ ली. बीएफ फुल मूवी सेक्सीभाभी लंड रस पीने के बाद चटखारा लेते हुए मेरी तरफ देख कर कहने लगीं- सच में तुम्हारे साथ तो बहुत मज़ा आ गया. कैटरीना हीरोइन की बीएफमैंने मना किया तो वो बोलीं- सुरक्षा समझ के ले ले और हमारी गोपनीयता को बनाए रखने में सहयोग कर!मैंने पैसे लिए और वापिस आ गया।फिर मैंने चाची से थोड़ी देर बात की और अपने काम में व्यस्त हो गया. उसे पूजा के बारे में पूछा तो मैंने बताया कि वो साथ वाले कमरे में सो रही है.

वो सीत्कारने के साथ ही पैंट के ऊपर से ही नवीन के लंड को मसल रही थीं.

मैंने निशा से लड़की बन कर बोला- मैं कुछ लड़कों को जानती हूँ, जो मस्त सेक्स जॉब करते हैं. अब स्नेहा रोने लगी थी और कह रही थी- मुझे दर्द हो रहा है सोनू, आज छोड़ दो, फिर कभी कर लेना!मगर मुझे पता था कि आज अगर छोड़ दिया तो दोबारा कभी मौका नहीं मिलने वाला मुझे… तो मैंने फिर उसे ज़मीन पे लेटने के लिए कहा और उसके ऊपर आ कर फिर अच्छे से अपना लन्ड सेट किया और जोर लगाया. मेरी इस बात से उसे हँसी आ गयी और वो चुप हो गयी लेकिन हम दोनों एक दूसरे से चिपके ही थे.

एक में एक दर्शक ने हमें सौ रूपए बतौर इनाम दिए और ओम प्रकाश से मुखातिब होकर कहा- तुम दोनों तो बिल्कुल टी वी सिनेमा के कलाकार सा नाचते हो! ओम प्रकाश, इन्हें तैयार कर इनका शहर में प्रोग्राम करवा।हमारा शो चार पांच दिन इसी तरह शाम को चला, हम मस्ती करते, टाइम पास होता. सच कहूं ये सब सुनकर पहले तो मुझे बड़ा दुःख हुआ कि क्या कमी है इनमें, जो ऐसा हुआ. अब मैंने चूत पर अपनी पकड़ ढीली कर दी और बिना समय गवाएं सुकन्या की नाज़ुक सी चूत पर एक साथ थप्पड़ पर थप्पड़ लगाने लगा.

पेला पेली पेला पेली

मेरी मॉम उनके लिए ही साड़ी ब्लाउज सिलवाती थीं, सो मुझे उनका साइज़ पता चल गया था. शायद उन पलों में मैं भी अहाना की तरह कुछ न कुछ बोल ही रही थी लेकिन वह खुद मेरे ही समझ में नहीं आ रहा था और न ही मैं उस तरफ ध्यान दे पाने की हालत में थी।और फिर वो मरहला भी आया जब दिमाग में एकदम से सनसनाहट भर गयी. तभी अंकल मेरे पीछे गांड पर अपना लन्ड रगड़ने लगे और जैसे ही मेरे पीछे उनका लन्ड छुआ, जाने कैसे मैं मदहोश सी होने लगी.

उसके गालों पर चूमने लगा धीरे धीरे बढ़ते हुए मैं होंठों से होंठ मिला कर किस करने लगा.

मैं अपना हाथ धीरे धीरे उसके सर पर घुमाने लगा, उसके चेहरे पर हाथ घुमाने लगा.

बस अब मुझे पागल कर दो और जो भी मेरे अन्दर हो रहा है, उसे शांत कर दो. मैं समझ गयी कि बेटी के कहने का क्या मतलब है।बेटी की यह बात सुन कर मुझे भी जमाई जी से मजे लेने का मन करने लगा। मैं जब भी जमाई के सामने जाती अपनी गांड मटकाती अपनी चूचियों के दर्शन कराती थी. मराठी बीएफ व्हिडिओ ओपनअन्तर्वासना के प्रबुद्ध पाठको, आप मेरी मदद करें, आप ही मुझे बतायें कि मैं क्या करूँ?मैं अब 19 का होने वाला हूँ और वो 21 की हो गई है पर वो आज भी पहले जैसी ही है और मैं थोड़ा बड़ा हो गया हूं.

उसी वक्त उसने अपनी हिप उठा दी, जिससे मैंने उसकी पैंटी को थोड़ा नीचे तक खींच दिया. दीदी की शादी हो चुकी थी लेकिन तीन साल पहले उनका डाइवोर्स हो गया था, तब से वो भी यहीं कानपुर में ही हमारे साथ रहती हैं. मैं आपको बताना तो भूल ही गया कि भाबी के पति महीने में 15 दिन बाहर रहते हैं और घर पर उनके बूढ़े ससुर और वो ही रहते हैं.

फिर 2-3 महीने तक में केवल सैलून में ही आने वाले लोगों को बॉडी मसाज देने लगा. फिर मैंने कहा- डरो मत, पहली बार में थोड़ा दर्द होगा और फिर उसके बाद नहीं होगा.

तब वो मुझसे बोला- मैं तो मजाक कर रहा था कि तुम मुझसे प्यार करती हो या नहीं!और वो बोल रहा था- तुम मेरी हो… मैं तुमको किसी की नहीं होने दूंगा और मैं ही तुमको चोदूँगा.

अभी आधा लंड ही गया था कि भाभी की चीख निकल गई और बाहर निकालने को कहने लगीं. मैं ये सोच ही रहा था कि उसने फ़ोन नंबर लिया या नहीं कि तभी मेरे व्हाट्सएप पर मैसेज आया. इस तरह के बातें सुन सुन कर मुझे चुदाई का पता लग गया और फिर एक दिन असली चुदाई भी हो गई.

हिंदी बीएफ सेक्सी नई वीडियो उस दिन मम्मी मेरे मामा के यहां गई हुई थी, तो मैंने लैपटॉप निकालना औरएडल्ट मूवीदेखने लगा. मेरे एक चाचा वहीं सिटी में रहते थे, इसलिए मैं उनके घर पर जाकर रहने लग गई.

वो अंकुश से बोली- अब से मैं पापा के साथ उनके रूम में ही सोया करुँगी. ये सब सेक्स की प्यासी हैं, मतलब हम सब समलैंगिक हैं, जरूरत पड़ने पर कोई भी किसी के साथ चला जाता है. पता नहीं मुझे भी क्या हो गया था, मैंने लालजी के पैंट की ज़िप खोली और अन्दर हाथ डाल कर अंडरवियर में पहुंचा दिया.

पोर्न ब्लू

मैं भाग के अपने बेडरूम में गया तो देखा लैपटॉप वहीं टेबल पर पड़ा है, जूते भी बेड के नीचे रखे हुए थे, डस्टबिन में दारू की बोतल पड़ी हुई थी. मुझे अभी भी अपनी आँखों पे यकीन नहीं हो रहा था कि ये सब वास्तव में मेरी आँखों के सामने हो रहा है. मेरी कोशिश हालाँकि कामयाब नहीं हो सकी क्योंकि चूत के अन्दर पहले से ही आर्थर का ताकतवर लंड उछल-कूद मचाए हुए था.

मेरे जीजा ने मेरी दीदी को अपनी बांहों में भर कर पकड़ा हुआ था और वो उनके होंठ चूसे जा रहा था. रात 11 बजे मैंने फिर फ़ेसबुक खोली, तो देखा कि उसने मेरी रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली थी और वह ऑनलाइन भी थी.

जब दरवाजा खुला तब मैंने देखा कि एक साधारण से कपड़ों में एक महिला खड़ी थी.

पीछे से वो साली भी घुस आयी और घुटनों के बल बैठते हुए मेरे लण्ड को पकड़ लिया. जब मैं वापिस आई तो उसने दरवाजा बंद किया हुआ था और उसे दरवाजा खोलने में कुछ देर लग गई. मैं तुमको अपना लंड दिखाऊंगा लेकिन तुम्हें भी अपनी चुत दिखानी होगी और हां मैं चूची भी पियूँगा.

हम दोनों ने शाम तक आपस में बातें की और रात को एक दूसरे के पास बैठ कर टीवी देखते रहे।रात को जीजा जी के शॉप से घर आने के बाद हमने अलग अलग खाना खाया और सोने चले गये. अंडरवियर नीचे होते ही उनका मोटा, लंबा तना तना सा लंड मेरी आँखों के सामने झटके लेने लगा, जिसे देख मेरी चुत की धड़कन बढ़ गई. ”भाईजान मेरी बात सुन मेरे ऊपर झुक मुझे चूमकर मेरे गालों पर जीभ फेरते बोले- ऐसा क्यों सोचा जूही?वो इसलिए भाईजान क्योंकि मुझे आप बहुत अच्छे लगते हैं.

पूजा अपने चूतड़ उठा उठा कर धक्के दे रही थी, मैं भी नीचे से अपनी गांड उठा के धक्के देने लगा.

लेडीज और घोड़े की बीएफ: फिर मैंने बाथरूम में जाकर उसको याद कर के मुठ मारी और अपने कमरे में आ गया. उधर मनोरमा ने मुझसे पूछा कि अब गीता को और चुदवाना है या नौकरी से निकालना है?मैंने कहा- नहीं नौकरी से नहीं निकालना.

सोचा कि अगर इसकी बहन रेखा भी रस निकालने की ऐसी ही चैंपियन हुई तो बहनचोद मज़ा आ जायगा. मैंने उससे कहा कि आज कल पापा बहुत टेन्शन में रहते हैं, क्या कोई ऑफिस की प्राब्लम है या कुछ और बात है?पहले तो झिझक कर कुछ भी बोलने से ना करने लगा. अब मैंने अपना लंड को टोपा ज्योति आंटी की चुत पर रखा और अन्दर की ओर ठेल दिया.

इस कहानी से पहले भी मेरी एक कहानी प्रकाशित हो चुकी हैसलमा ने बनाया बलमायह बात कुछ समय पहले की है.

दोस्त ने अपनी गर्लफ्रेंड की चुत पर हाथ लगाया, उसकी चुत का पानी उसके हाथ में लग गया. इतनी सेक्सी नाक और अच्छी बनावट की मैंने किसी हीरोइन की भी आज तक नहीं देखी. मैंने उसका हाथ सहलाते हुए पूछा- क्या नाम है आपका?तो उसने अपना नाम काजल बताया.