भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म

छवि स्रोत,தெலுங்கு செக்ஸ் மூவிஸ்

तस्वीर का शीर्षक ,

जूही चावला बीएफ वीडियो: भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म, मैंने कहा- आंटी, आपकी चूत बहुत मस्त है … कब से नहीं चुदवाई?वो बोलीं- अब मेरे बुड्डे से कुछ नहीं होता, बहुत दिनों बाद तेरा जवान लंड मिला है.

हिजड़ा का सेक्स वीडियो

काला सात इंच का चमड़ी चढ़ा लंड देख कर दोनों भाई-बहन आंखें बड़ी करके मेरे लंड को घूरने लगे. बुर चाटने वालाये हॉट सेक्सी भाभी की चुदाई कहानी है व मेरे सच्चे अनुभव पर आधारित सेक्स कहानी है.

वो बोली- मैं अकेले गर्मी क्यों सहन करूंगी, जबकि बॉयल अंडे सभी को खाने हैं. सेक्सच्या व्हिडिओसमैंने दोनों हाथों से उसके चूतड़ों को फैलाया, जिससे उसके गांड का छेद मुझे दिखने लगा.

शेखर को लगा था कि अब शायद धारा उसके लंड को अपने मुँह में पूरा डाल लेगी और उसे जन्नत का मज़ा देगी.भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म: दोस्तो, वो भाभी एक जाने माने स्कूल की प्रिन्सिपल थीं जो उन्होंने बाद में मुझे बताया था और उनके पति जयपुर में ही एक इंजीनियर की जॉब करते थे.

जब मैं नहा कर अन्दर आया तो नेहा अन्दर से एक बड़ा से डब्बा लेकर आई और मुझे बैठने को कहा.उसमें एक कहानी मुझको बहुत पसंद आई थी, जिसमें भाभी अपने 12वीं में पढ़ रहे देवर को ध्यान लगा कर पढ़ने का बोल कर उससे वायदा करती हैं कि यदि तुम एग्जाम में पास हो जाओगे, तो तुम्हारे लिए एक गिफ्ट है.

हिंदी बीपी सेक्सी मूवी - भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म

उसी शाम को मेरे पास फ़ोन आया, जहां से मैंने अपना 12 वीं का प्राइवेट फॉर्म डाला था.वो और मैं एक डेट पर गए, एक आम डेट एक रेस्तरां में।जहां हमने खाना खाया, एक दूसरे का हाथ पकड़ के आंखों मे आंखें डालकर बातें की।खुद को लोड़े के लिए इस्तेमाल कर करके मैं भूल चुकी थी कि मैं एक लड़की भी हूं।रात के खाने के बाद वो मुझे अपने फ्लैट पर ले गया, जहां उसने मुझे बड़े प्यार से चोदा.

जैसे ही उसने ऐसा किया, मेरी चीख निकल गई क्योंकि उसका लंड बहुत बड़ा था. भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म वो बोला- जी हां, मतलब तुम जानो कि अपना भाई घर से बाहर क्या कर रहा है.

वहां लड़कियों के लिए तीन तरह के ड्रेस थे, जैसे शादीशुदा अगर साड़ी पहने या सूट और लड़कियों के लिए पैंट-शर्ट जो लड़कों का भी ड्रैस था.

भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म?

इस वजह से मेरा लौड़ा और रेशमा की नूरानी गांड का छेद दोनों को चिकना व्यंजन मिलता रहा. नीचे से हीरा बाबू बहुत तेज़ तेज़ धक्के देने लगा, जिससे मेरे मुँह से दबी हुई कामुक सिसकारियां निकलने लगीं. मैंने अपने घर की लाइट जला रखी थी इसलिए मैं उसे अच्छे से दिख रहा था.

मैंने भी देर न करते हुए जल्दी से अपनी शर्ट खोल कर एक तरफ फैंकी और उसके ऊपर चढ़ गया. दोस्तो, गर्ल एनल फक़ स्टोरी के अगले भाग में मैं आपको आगे की कहानी सुनाऊंगा. नीता बोली- ऐसे कैसे सोने दूँ हर्षद, मेरी चूत में तभी से बहुत खुजली हो रही है, जब से तुम्हारा मोटा लंड गीता की चूत फाड़ कर खून से और वीर्य से लबालब होकर चूत से बाहर आया था.

उनका शरीर पूरी तरह से हिल रहा था, जैसे उनको मिर्गी का दौरा पड़ा हो. धारा को शायद शेखर की इस हालत पे तरस आ गया … उसने एक बार उसकी आँखों में देखा और फिर धीरे-धीरे अपना सर नीचे झुकाती चली गयी. मॉम फिर डरने लगीं और बोलीं- घर पर क्या दिक्कत है?मैंने कहा- मैं अच्छे से एंजाय करूंगा.

मैंने मम्मी की लस्सी में नींद गोली मिला दी और वो कुछ देर बाद अपने रूम में जाकर सो गईं. अगर आप चाहो तो!मधु- क्या … वो कैसे?मैं- हां मेरे फ्लैट में बालकनी है और नजारा भी बहुत ही अच्छा है.

उसकी ऑटो बहुत उछल रही थी, जिससे मेरे दोनों बड़े बड़े बूब्स खूब उछल रहे थे.

जैसे ही भाभी की चूत से लंड बाहर निकाला, तो मैंने देखा कि भाभी की चूत से लावा बाहर निकलकर बिस्तर पर टपकने लगा था.

मैं भी कहीं न कहीं सारे रास्ते उससे चुदने की सोच सोच कर गर्म हुई पड़ी थी; मेरी चूत पानी टपका रही थी. सुमन स्कूल की पढ़ाई के बाद पुनः अपने गांव चली गई और अन्नू अब भी यहीं रहती है. वो हमारे सामने ही नंगे हो गए और मॉम को अपना लंड चुसाना शुरू कर दिया.

खुश इस वजह से था कि मेरी बीवी मेघना के लिए एक ऐसे लंड की जुगाड़ हो गई थी, जिससे मुझे कोई नुकसान नहीं होने वाला था और दुखी इस वजह से था कि मुझे बनाने वाले ने मर्द नहीं बनाया था. जबकि भाभी की बड़ी बहन अपनी बहन की चूचियों को दबा दबा कर मजा ऐसे लेने लगीं मानो वो भाभी का दूध निकालने में लगी हों. ऐसे ही सारा दिन निकल गया … मैं अपनी फटी हुई गांड लिए मॉम से बचता रहा.

कभी उसके बड़े बड़े चूचों को हाथ लगाया, कभी उसको बड़ी सी गांड पर हाथ फेर दिया, कभी चूतड़ दबा दिए.

जब हमने एक दूसरे को देखा तो मैं तो हैरान हो गया क्योंकि पूनम साड़ी पहनी हुई थी. इस बार रेशमा के चेहरे पर सिर्फ दर्द की हल्की सी झलक दिखाई दी, पर उसकी चीख नहीं निकली. अब आगे पढ़ें लंड गांड की कहानी:मेरी ललिता भाभी से अच्छी दोस्ती हो चुकी थी.

भाभी ने कहा- अब रुक ही गए हैं, तो क्यों ना हम दोनों कहीं घूम कर आएं. दूसरे हाथ से उसकी चूत को फैलाकर दो उंगली चूत की दरार में बीच में लाकर उधर उसके कड़क हो चुके दाने को रगड़ रहा था. वो आह आह करके अपनी गांड आगे पीछे करके मस्ती से आह आह करके चुदाई में भरपूर साथ देने लगीं.

मुझे मजा आने गा और मैं चुपचाप अपने भाई के साथ सेक्स का मजा लेने लगी.

तब मैंने उनको बिस्तर में किनारे पर लिटा दिया और मैं नीचे खड़ा हो गया. इस दौरान हम दोनों सिर्फ सेक्स का आनन्द ले रहे थे, कुछ बोल नहीं रहे थे.

भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म किरण तो जैसे चुदने के लिए तड़प रही थी, तो उसने झट से मेरी गोदी में आकर अपनी फूली हुई गांड रख दी. [emailprotected]न्यू रण्डी सेक्स कहानी का अगला भाग:कुंवारी रंडी की चुत गांड चुदाई का मजा- 3.

भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म क्योंकि उसका पति शराबी था, तो घर के खर्च के लिए सोनम चुदाई का धंधा भी करती थी. हम दोनों ने एक दूसरे को अपनी बांहों में कस लिया और थककर निढाल होकर एक दूसरे की बांहों में समा गए.

वो बोली- राज क्या कर रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं, अभी फोन की आवाज सुनकर उठा हूं.

हिंदी में सेक्सी पिक्चर बढ़िया

मैं उनके रूम में खिड़की से ही उन्हें देख रहा था लेकिन वो मुझे नहीं देख सकते थे. कुछ देर तक मैं वन्दना के मम्मों को सहलाता रहा, बीच बीच में निप्पल को चूसता रहा. कुछ देर तक मेघना को अपनी गोद में उचकाने के बाद बॉस ने उसे नीचे उतारा और अब मेघना बिस्तर पर घोड़ी बन गई थी.

मधु- अबे चूतिए … अपने लंड को मेरी चूत में पेल दे और बुझा दे मेरी प्यास … आह … अब मैं और नहीं सह सकती. लेकिन तेरे लंड की सख्ती की वजह से आज मैं चुदाई का पूरा मजा ले रही हूं. अब मैंने लच्छो को फिर से लिटा दिया और उनके दोनों पैरों को फैलाकर उसके ऊपर चढ़ गया.

फिर तुरन्त उसने मेरे कंधे से हाथ ले जाकर मेरी चूची दबानी शुरू कर दी.

मैंने भाभी का साड़ी का पल्लू नीचे गिराया और उसकी पहाड़ जैसे चूचियों पर टूट पड़ा. अब आगे वर्जिन देसी चूत सेक्स कहानी:साबिरा के बदन की गर्मी का मज़ा ले ले कर मेरा लौड़ा भी खड़ा हो चुका था और कच्छे से बाहर आते ही हवा में लहराने लगा. यह कहानी उनके लिए है जो शादीशुदा, या तलाकशुदा हैं या उनके लिए जिन्होंने पिछले कई सालों सेलंड का स्वादनहीं चखा.

दरअसल जो सर मुझे पढ़ाते थे, वो बाक़ी की ब्रांचों में भी पढ़ाने जाते थे. मैंने भी साबिरा की अपने आपसे थोड़ा दूर करके उसको थोड़ा पीछे किया और झट से शिराज के बाल पकड़ कर उसका मुँह ऊपर कर दिया. उधर सोनम अआह हअह अआ हहअह कर रही थी।मैंने सोनम को अपनी तरफ खीचा तो सोनम और श्वेता की चूत आपस में मिलने लगी.

फिर प्यार से जोलंड की पिचकारीछुटती है जो मेरे गले को तर बतर करती है, उसका मजा आप क्या समझोगे. देविका उठकर बैठ गयी तो उसकी गांड के नीचे लगा पूरा तकिया दोनों के कामरस से गंदा हो गया था.

मैं बोला- साली कुतिया … लगता है बहुत दिनों से तेरी नदी का नक्का नहीं खुला. ट्रेन Xxx कहानी में पढ़ें कि जयपुर से अमदाबाद की रेल गाड़ी में मुझे एक महिला मिली. मैंने कहा- आप तो ऐसे चिल्ला रही थीं जैसे भैया ने आपको चोदा ही नहीं हो कभी.

दोस्तो, आपको अगली चुदाई कहानी में लिखूँगा कि घर वापस आने के बाद मॉम ने मुझे किस किस तरह से चूत और गांड चुदाई का मजा दिया और उनकी एक ख़ास सहेली को भी बिना अपनी चुदाई की जानकारी दिए मुझसे चुदवा दिया.

बाद में जब हम दोनों बाईक से खेतों में घूम रहे थे तो जोरदार बारिश हुई. उनकी रफ़्तार बढ़ती जा रही थी और वो ‘आह आह …’ करके मदमस्त लौंडिया के जैसे अपनी चूत से मेरे लंड को चोदने लगी थीं. ऐसा काफी दिन तक चलता रहा पर मैंने एक दो बार ऐसा होने पर भाभी का मुँह देख लिया.

थोड़ी देर बाद भैया ने फिर से झटके लगाना शुरू कर दिए और भाभी की बुर से खून की धार बहने लगी. मॉम मेरा लंड चूसती थीं, मैं बहन की गांड, बहन डैड का लंड चूसती थी और डैड मॉम की गांड चाटते थे.

मनीष भी अब हाथ जोड़कर माफी मांगने लगा- जीजी माफ कर दो, पता नहीं मुझे क्या हो गया था. मैंने अपनी उंगली का सिरा चूत की दरार के ऊपरी हिस्से पर स्थित चने के दाने के साइज़ के भगनासे पर लाकर रोक दिया. उसके बाद निधि मेरे लन्ड को अपने मुंह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

बीपी सेक्सी नया

मैं जोर जोर से धक्का लगाने लगा और लंड तेज़ी से आंटी की गांड में अन्दर बाहर अन्दर बाहर करने लगा.

उसके जाने के बाद मेरा मन पढ़ाई में लग ही नहीं रहा था, बस दिमाग में एक ही सवाल चल रहा था कि कल कैसे इस लड़की से बात की जाए?मैं अपने घर पर भी आया, तो भी उसी के बारे में सोचता रहा और उससे बात करने का, पता नहीं क्या क्या प्लान बनाता रहा. आंटी हिजाब सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपनी छत पर कसरत करता था, सामने वाली आंटी मुझे देखती थी. उन्होंने शायद ब्रा उतार दी थी क्योंकि उनके मम्मों का आकार अब कुछ अलग दिखने लगा था और उनके चूचे मस्ती से हिलने लगे थे, जो कि साड़ी ब्लाउज में ब्रा पहने होने के कारण उनकी ब्रा में कैद थे और हिल-डुल नहीं पा रहे थे.

ऐसा लग रहा था जैसे भाभी के स्तन रोज बड़े होते जा रहे हों!मैंने भाभी को कहा- भाभी, भैया कब आयेंगे?भाभी बोली- अभी तो दो महीने ही हुए हैं. फिर वो धीरे से बोले- कैसा लग रहा है?मैं भी कुछ बोलना चाहती थी किन्तु सांसें तेज चल रही थीं, धड़कन तेज थी. द ग्रेट मराठाअञ्जलि एक झटके में लंड जाते ही चीख पड़ी- आआ आहह … मेरी माँ मर गई मैं!ये बोल कर अञ्जलि चीखी.

अब मैंने उसके होंठों से अपने होंठ हटाए तो वो गालियां देने लगी- कुत्ते साले … धीरे करने का बोला था ना … हरामी साले तूने मेरी चूत फाड़ दी. उन्होंने मुझे बिस्तर पर बिठाया और बोलीं- तूने क्या सोचा?मैंने कहा- वही … जो आप बोलोगी मैं करूंगा, बस आप किसी को मत बताना.

चूत के गीली होने से एक बार में ही लंड सीधा मेरी बच्चेदानी से जाकर टकरा गया. रेशमा दर्द और सुख दोनों एक साथ अनुभव करके ऐसे ही नंगी बिस्तर पर लेटकर अपनी उखड़ी हुई सांसों को काबू करने की कोशिश कर रही थी. साथ ही मेरी गांड भी फट रही थी और भाभी को देखकर मेरा लौड़ा भी मेरे पैंट के अन्दर लकड़ी की तरह टाईट होकर मेरी पैंट फाड़कर बाहर निकल कर आना चाहता था.

मैंने उसकी टांगों को पोजीशन में लिया और अपनी जीभ लगा कर चूत चाटने लगा. वो खुश हो गयी और ऊपर आकर चूत पर अपना लंड सैट करके धीरे धीरे अन्दर तक लेने लगी. फिर अभी उसकी इस अदा ने शेखर को एक बार फिर से असमंजस में डाल दिया था.

मैंने एक चुचे में होंठ लगा दिए और मेरी बहन मुझे अपना दूध चुसाने लगी.

आगे का रास्ता भी कुछ दिखायी नहीं दे रहा था इसलिए मैंने बाईक को साईड में एक जगह रोक दिया. मेरी बहन बोली- फिर क्या हुआ … तेरी गर्लफ्रेंड ने तेरे लंड से नाता क्यों तोड़ लिया?मैंने कहा- अरे वो बात कुछ दूसरी थी यार!मेरी बहन बोली- बता न भोसड़ी के … मेर चूत में लौड़ा भी पेले हुए है और मुझसे छिपा भी रहा है.

बहन ने कहा- अरे भैया, अभी हम लोगों को शिमला पहुंचने में पूरे दो दिन लगेंगे. भाभी की बहन ने उनको समझाया कि थोड़ी देर दर्द होगा लेकिन बाद में बहुत मज़ा आएगा. कुछ देर तक तो मैं उसके दूधों को नाइटी के ऊपर से दबाता रहा, फिर उसके निप्पल कठोर होना शुरू हो गए तो मैंने उसकी नाइटी को ऊपर कर दिया.

मैंने उससे कहा- तुम रूपा को मेरे कमरे में भेज दो और दरवाजा लॉक करके चले जाओ. मेरी पिछली सेक्स कहानीननदोई ने सलहज की चुत चोदकर गर्भवती कियाको भाभियों ने बहुत प्यार दिया, जिसमें से दो भाभी तो मेरे साथ सेक्स करने के लिए भी तैयार हो गई थीं. ऊपर से दो कातिल चूचियाँ … जो धारा के आगे पीछे होने की वजह से थिरक-थिरक कर माहौल को और भी हवस से भरपूर बना रहे थे.

भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म पता नहीं क्यूँ लेकिन मुझे तुम पर यक़ीन था इसीलिए अपने पति की जानकारी के बिना ही मैं तुमसे मिली और ये सब किया. बीच बीच में मैं उसके निप्पल को दांत से काट देता, तब वो ‘उइ माँ …’ बोल कर मेरे सर को सहला देती.

हरियाणवी सपना चौधरी सेक्सी वीडियो

मैं भी उठकर दारू का जाम भरने लगा और रेशमा का ये नया रूप देख कर मजे लेने लगा. कहानी के पिछले भागमुखमैथुन में आनन्द की पराकाष्ठामें आपने पढ़ा किअब आगे हॉट गर्ल ऐस फक कहानी:खैर … शेखर इसी उधेरबुन में धारा के अगले कदम का इंतज़ार कर रहा था लेकिन धारा अब भी वैसे ही अपनी चूत और गांड की झलक शेखर को दिखती हुई आगे की तरफ़ मुँह करके उसके लंड पे अपने मुँह का लार गिरा रही थी. मैंने भी साबिरा के नीचे की तरफ सरकते हुए अपने हाथों से उसकी चड्डी और उसकी सलवार नीचे कर दी.

मैंने कहा- मेरे मम्मे कितना गजब माल हैं, जरा बताना तो?इस पर वो बोला- अगर ये मुझे मिल जाएं तो बस …इतना बोल कर वो शांत हो गया. ऊपर उसने टाइट फिटिंग का टॉप डाल रखा था जिसमें से उसकी 34 की चूचियां बाहर आने को बेताब कसी हुई थीं. सेक्स टीचरएक दिन मैं उसके घर गया तो उसकी जवान बेटी को देख मेरा लंड उछलने लगा.

शेखर को लगा जैसे अब उसके आज़ाद होने का वक्त आ गया है, धारा अब उसे आज़ाद करेगी और फिर वो बेदर्दी से धारा को चोद चोद कर उसकी चूत की धज्जियाँ उड़ा देगा!लेकिन धारा के दिमाग़ में कुछ और ही चल रहा था.

शिराज ने किसी गुलाम की तरह मेरी बात मान ली और अपनी बड़ी बहन की फ़ैली हुई चूत को अपनी उंगलियों से मसलने लगा. गीता की बातें सुनकर मैंने कहा- हां गीता, तो हम क्यों अपना समय बर्बाद कर रहे हैं.

उस समय मैं अर्धनग्न हो गई थी यानि मैं पूरी नंगी होने की जगह ब्रा पैंटी पहन ली थी और कमर के ऊपर तौलिया लपेट ली थी. मैं उससे बोला- मुझे सब पता है, बस मैं जानने की कोशिश कर रहा था कि तुम्हें भी इन सब के बारे में पता है या नहीं, लेकिन लगता है तुम तो इस खेल को खिलाड़ी हो गई हो. वो सीट तो 4 के बैठने के लिए सही थी लेकिन वो दो आदमी कुछ ज़्यादा हैवी थे जिससे जगह कुछ बची ही नहीं.

थोड़ी सा अपने लंड पर लगाया और ऊपर आकर गांड में लंड का सुपारा रख दिया.

’ससुर जी उंगली को अन्दर बाहर करने लगे जिससे कि पोच्च पोच्च की आवाज निकल रही थी. मैंने कहा- हां आयशा … वैसे तुम्हारे शौहर का क्या नाम है?वो बोली- अभी उस बकचोद का नाम मत लो. मुझे चाची की इस पतले कपड़े की नाइटी में उनके निप्पल की नोकें साफ़ दिख रही थीं.

एक्स एक्स वीडियो में दिखाइएतब वो बोली- कोई बात नहीं, ऐसे ही बने रहो, अच्छे लग रहे हो।मुझे उम्मीद नहीं थी कि वह ऐसा कुछ बोलेगी. उसके बाद मैंने फिर से अपनी मौसी के सामने मॉम को चोदा और मॉम ने मौसी की चूत को अपनी जुबान से चोदा.

सेक्सी हिंदी वीडियो एचडी सेक्सी

धीरे से धारा ने अपनी गर्दन पीछे की तरफ़ घुमायी और शेखर की ओर देखकर एक कातिल मुस्कान दी. इसके बाद वो बोले- जल्दी ही मेरे बेटे का जन्म दिन है, उसमें तुमको आना है. मैं ये बिल्कुल नहीं चाहता था कि मेघना को ये पता चले कि मुझे उस पर शक हो गया है.

चाय खत्म करने के बाद देविका मौसी ने सब चाय के कप बटोरे और किचन में चली गयी. आंटी ने बताया कि उन्होंने ललिता जी को मेरे रूम में आता देख लिया था और उनको पता चल गया था कि मैं ललिता जी को चोदता हूं. कमरे में एक लम्बी ख़ामोशी छाई रही, ना मैं कुछ बोल पा रहा था और ना ही रेशमा ने कुछ कहा.

वह बहुत ही ज्यादा गर्म हो चुकी थी और गालियां दे रही थी ‘चाट साले मेरी चूत … चाट मेरी चूत … साले पानी पानी कर दे मेरी चूत को … जब से तेरा लौड़ा देखा है, हर रोज चूत में उंगली कर करके सो रही हूं. पर अब शायद पाटिल जी अपने आपको रोक नहीं पा रहे थे, उन्होंने वैसे ही नीचे लेटी रेशमा के भोसड़े से किरण का मुँह ऊपर उठाया और एक ही झटके में उन्होंने अपना पूरा लौड़ा रेशमा की चूत में आर-पार कर दिया. आप लोगों ने मेरी कहानीक्यूट भाभी को चोदकर प्यार हो गयाको इतना पसंद किया, उसके लिए दिल से धन्यवाद देती हूं.

मैंने उसको अपना सर मेरी जांघ पर रखने का इशारा किया और वो सर रखकर लेट गयी. मैंने सबसे बचते बचाते हुए उसे अपने घर में ले लिया और दरवाजा बंद कर लिया.

इधर मैं भी अपनी चरम सीमा पर आ गया और बीस पच्चीस ताबड़तोड़ धक्कों से चुदाई युद्ध करते हुए अपने लंड को अञ्जलि की चूत के अन्दर तक के अंतिम छोर में ठोक दिया.

मैंने रफ्तार बढ़ा दी और अपने लंड का पूरा पानी भाभी की चूत के अन्दर ही निकाल दिया. બીએફ સેક્સી પિક્ચરये कह कर भाभी ने मेरा हाथ अपने हाथ में ले लिया और बोलीं- मैं वादा करती हूँ कि आज से मैं तुम्हारी जीएफ हूँ. काले लंड से चूत की चुदाईमैं हैलो बोला, तो उन्होंने कहा- अरे आज बारिश बहुत हो रही है, तो क्लास रद्द कर दी है. फिर मौसी बोलीं- क्या हुआ … आ जा मेरे ऊपर!मैंने धीरे से कहा- मॉम खड़ी हैं, वो हमें देख रही हैं.

अब पूनम ने भी मेरी पैंट की ज़िप खोली और लंड को बाहर निकाल कर अच्छे से हिलाना शुरू कर दिया.

दोस्तो, देविका मौसी की कौन सी तमन्ना बाकी थी, उसकी चर्चा मैं मौसी की गरम चूत की कहानी के अगले भाग में करूंगा. उस दिन मेरा शक बिल्कुल यकीन में बदल गया कि निश्चित ही मेघना रात में किसी से चुदी है. बाद में सुनीता ने बताया कि मेरा लंड उसके पति से काफी बड़ा था, जिस वजह से उसकी आवाज निकली थी.

मैंने अपने पुराने वाले कपड़े पहने और ध्यान से देखा कि कहीं कोई सबूत न बचा हो कि मैंने कल यहां पर क्या किया. मेरे मन में ऐसा कोई ख्याल नहीं था कि कोई लड़की या औरत आकर मेरे समीप बैठे क्योंकि मन में जॉब की टेंशन ज्यादा थी, सोच रहा था कि नौकरी मिल जाए तो सेटल हो जाऊं. करीब 20 मिनट तक रीना की चूत चोदने के बाद मैंने लंड बाहर निकाला और उसके मुँह में दे दिया.

सेक्सी फिल्म चूत लंड की

उसके गले में लटका हुआ बेल्ट अब भी वहीं था, जिसे मैं अपने हाथ में लेकर फिर से उसको किसी कुतिया की तरह खींच कर अपने लौड़े पर दबाने लगा. मैंने इसी तरह से मोहन बाबू के साथ कुछ देर खेल खेला और उनसे कहा- अरे मैं आपकी पड़ोसन बोल रही हूँ. वो अपने दोनों हाथों से मेरे लंड को सहलाती हुई बोली- हर्षद एक बात कहूँ?मैंने कहा- हां बोलो देविका.

मैंने आगे बढ़ना शुरू किया और उसकी गर्दन पर किस करते हुए उसकी चूचियों को मसलता रहा.

मैंने बाईक स्टार्ट की और उसे मेट्रो स्टेशन तक बातें करते हुए छोड़ दिया.

उनकी आवाज नीचे नाना नानी के कमरे तक जा सकती थी इसलिए मैंने थोड़ा सा उठ कर मौसी को अपनी तरफ खींच लोया. मैंने एकदम से झटके तेज किये तो वो चिल्ला दी- आह मर गई साब … इतनी तेज नहीं धीरे धीरे चोदो न!मैंने अब उसे धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया. भोजपुरी ब्लू फिल्मवो बोला- जी हां, मतलब तुम जानो कि अपना भाई घर से बाहर क्या कर रहा है.

फिर मैंने उसकी चूत में ढेर सारी क्रीम भरी और उंगली से चूत का छेद ढीला किया. मुझे किसी व्यक्ति पर शक भी नहीं था क्योंकि मेरे सभी दोस्त ऐसे नहीं थे और मेरे घर पर ज्यादा कोई आता जाता भी नहीं था. सबसे पहले उन्होंने मेरी साड़ी निकालनी शुरू की और जल्द ही मेरी साड़ी निकल गई।इसके बाद जैसे ही उन्होंने मेरे ब्लाउज का बटन खोलना शुरू किया.

मोनी- क्या हुआ, शोर किसने मचाया?मैं- सपना फिसल कर गिर गई थी, तो वो चीख पड़ी थी. दोस्तो, आप सभी को मेरी नंगी भाभी सेक्स कहानी कैसी लगी, मेल से जरूर बताएं.

करीब दस मिनट तक हम दोनों के बीच चुम्बन चला, फिर हम दोनों अलग हुए और एक दूसरे को देखने लगे.

उस दिन मैंने भी जॉब से छुट्टी ली और घर पर ऑफिस का कह कर सुबह ही निकल गया. मैंने उसका सर जोर से अपनी चूत में दबा लिया और वो और जोर चूत चाटने लगा. दूसरे दिन सुची और उसका भाई सौरभ अपने पापा के साथ घर चले गए क्योंकि उनकी छुट्टी खत्म होने वाली थी.

एक्स वीडियो आंटी जैसा कि मैंने आप सबको पहले ही बताया कि ये घटना मेरे दोस्त के साथ घटी थी, उसका नाम राजीव (काल्पनिक) है. मैंने कहा- डैड को भी भेज दूँ क्या?वो रोने लगीं और बोलीं- नहीं, प्लीज़ ऐसा मत करना.

साबिरा के जाते ही मैं शिराज को फिर से ताकीद देने लगा कि वो आज चुपचाप अपनी बहन और मेरा कुत्ता बन के हमारी सेवा करेगा … और अगर उसने ऐसा नहीं किया, तो इसका नतीजा बहुत बुरा होगा. धारा को अच्छी तरह से पता था कि शेखर की नज़र उसकी गांड के छेद पे टिकी हुई है और इसी वजह से उसके मुँह से सिसकारियाँ निकल रही हैं. यह उन दिनों की बात है, जब मैं 2 साल पहले पुणे में जॉब के लिए गया था.

सेक्सी एचडी पॉर्न वीडियो

मैंने उसके दोनों आमों को हाथों में जकड़ लिए और ज़ोर ज़ोर से लंड अन्दर बाहर करने लगा. मैंने उसके बगल में ही लेटे लेटे फिर से उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया और अपने एक हाथ से उसके सलवार के नाड़े को खोल दिया. हम दोनों ने फिर से बाथरूम में जाकर मूता और बिस्तर में आकर एक साथ सो गए.

देविका ने शर्माकर पूछा- तुम कब आयी सरिता?सरिता ने मुस्कुराकर कहा- बहुत देर से आयी हूँ और मैंने सब कुछ देख भी लिया है. हमारे पहुंचते ही उन्होंने नीरज को भी शराब का ग्लास पकड़ाया, मुझसे पूछा कि मैं क्या पियूंगी.

अञ्जलि भी चुदाई के मीठे मीठे दर्द से मजे लेती हुई अपनी कमर चला रही थी.

अञ्जलि ने तकिये में अपना मुँह देकर अपनी चीखों को दबाया, मैंने भी आखिरी तेज धक्का मारा और उसकी कमर छोड़ दी. मिहिरा को मैं गोदी में उठा के अपने रूम में ले गया, बेड के साइड पे बिठा के मैं उसके सामने खड़ा हो गया. मैंने अपने हाथों से आसिफ का सिर पकड़ रखा था और हमारा चुम्बन आगे बढ़ता जा रहा था.

उसने कल की तरह मोबाइल सामने रखा हुआ था और उसी में देखते हुए तिरछी नज़रों से मुझे देखने लगी. उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी, जिस वजह से उसके दोनों मम्मे एकदम से उछल कर बाहर आ गए. वो, ‘उईई उईई बचाओ बचाओ बचाओ मर गई मम्मी बचाओ मर गई मम्मी बचाओ …’ चिल्लाने लगीं.

किरण ने भी अपना हाथ उसके ड्रेस से निकालते हुए मुझे अपनी उन्नत और भरी चूचियों के दीदार करवा दिया.

भोजपुरी बीएफ सेक्स फिल्म: मैंने जैसे ही धक्का लगाया मेरा पूरा लंड अन्दर चला गया और मौसी ‘ऊईई ईई ऊई ईईई आहह आहहह …’ चिल्लाने लगीं. ससुर जी ने भी अपनी लुंगी निकाल दी और पूरी तरह से नंगे होकर सोफे पर बैठ गए.

लेकिन भाभी ने मुझे ताकत के साथ नीचे सरका दिया और खुद ऊपर आ गई, मेरा लंड हाथ में लिया और चूत में खुद ही घुसाने लगी. मुझे ऐसा लगता था कि मेघना मेरे पीछे किसी और मर्द के साथ चुदाई करवाने लगी है. उन्होंने चाची की टांगें उनके चूचों पर कर दीं और नीचे से चाची की खुली चूत में लंड का सुपारा घुसाने लगे.

इस तरह से मैंने उसका घर भी देख लिया और रास्ते में हमने एक दूसरे के नंबर भी एक्सचेंज कर लिए.

मेरे पति मुझे चोदते जरूर थे किंतु उन्होंने कभी भी मेरी चूत को जीभ नहीं लगाई थी. दोस्तो, मेरी ये लेडीबॉय सेक्स कहानी आपको कैसी लगी, आप सब मुझे कमेंट और मेल करके जरूर बताइएगा. लेकिन आज का मेरे प्लान में आंटी से मिलना नहीं था, समीर भैया ही मेरे दिमाग में चल रहे थे.