एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,सेक्सी दवाई

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू फिल्म पाकिस्तान: एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी, फ्लॉरा- आप लाख मना करो मगर सच यही है कि आपने मुझे ऐसा बनाया है और जब तक आप मेरी इच्छा पूरी नहीं करते.

भारतीय एक्स व्हिडीओ

हमने कुछ देर रेस्ट किया, फिर चिंटू उसके किसी काम से चला गया, अब मैं और परीक्षित ही थे तो हम उसके आने तक ऐसे ही टाइम पास करने लगे. मोनालिसा xxx videoशाम को वो चले गए तो मैं ऐसे ही देखने लगी और अचानक देखा कि एक लेबर का मोबाइल रह गया था.

मैंने जीभ को चूत में काफी अन्दर घुसा दिया वो गांड उठाते हुए बुरी तरह से कंप गईं. vidmate 2017 ऐप डाउनलोडतभी भाभी ने उठते हुए मेरे लंड को बाहर निकाल कर अपने मुँह में भर लिया.

इसी स्थिति में मैंने बहूरानी की चूत में लंड पेल दिया और दस बारह धक्के लगा कर बहूरानी को तैयार किया.एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी: शुरू में तो उंगली भी डालो तो दर्द होता है, मगर एक बार ये लौड़ा खा ले ना.

मेरी हालत अभी एक रण्डी की तरह हो गयी थी मेरे शरीर का एक भी ऐसा अंग नहीं था जो उन लोगों से अनछुआ हो.मैं- तू अपनी चुत तो देख!उसने अपनी चुत को टच की और बोली- ये तो पूरी तरह से भीग गई है और तुम्हारा लंड भी गीला हो गया है.

बच्चे लोग का सेक्स - एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी

एक दो बार ऐसा करके मैंने नोटिस किया कि भाई अब मेरे में ज्यादा इंटरेस्ट ले रहा है, वो हमेशा मेरे मम्मों को और मेरी बॉडी को घूरने लगा था.लेकिन ऐसा होता है क्या?जाह्नवी और मैं अब भी मौक़ा मिलते ही चुदाई करते हैं, उसे पता है कि मैं उसकी माँ चोद चुका हूँ और अब भी चोदता हूँ.

जिन्दगी में कहीं कभी ऐसा भी होता है… यह घटना मेरी जिंदगी की अकल्पित घटनाओं का आइना है. एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी ” जो होता है तो उसमें सब औरतें और लड़कियां रतजगे में पूरियां और कुछ खाने का सामान बनाती हैं.

और वो दोनों इस तरह खड़े थे की उनका शार्ट में बंद लंड हमारे मुँह के सामने था.

एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी?

हम दोनों गर्म होने लगे, अब आहिस्ता आहिस्ता मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसने मेरा भी हाथ पकड़ लिया. उस वक्त मैं उनकी चुचियां चूसने लगा और वो मेरे बालों में हाथ फेरने लगीं और दूसरे हाथ से मेरे लंड को सहलाने लगीं. हिन्दुस्तानी लड़कियों से हिन्दी या अन्य स्थानीय भाषाओं में सेक्स चैट करने के लिएदेलही सेक्स चैटपर आयें और मजेदार गर्मागर्म बातों का मजा लें! यहाँ पर आप विडियो सेक्स चैट यानि कैमरे पे भी लड़कियों को अपने इशारे पर नचा सकते हैं.

तुझे इस खेल के बारे में क्या-क्या पता है?नीतू- नहीं दीदी मुझे कुछ नहीं पता. कल शाम तक तो याद था कि आज दुकान का माल आने वाला है, अभी पता नहीं कैसे भूल गया. शायद मौसी को मेरा लंड देखने का नशा हो गया था तो जब भी मौका मिलता, मौसी मुझे मेरा पेंट उतरवा कर लंड दिखाने को कहती थीं.

अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, लेकिन फिर भी मैंने अपनी आँखें नहीं खोलीं. किसी कपड़े से मत पोंछना, डॉक्टर ने टिशू पेपर्स बताए हैं उन्हीं का यूज करना है. मैंने शर्ट पहन ली और हम दोनों कमरे में जाकर सामान ला ला कर देने लगे.

मडगांव कदंबा स्टॉप से मैंने रात 8 बजे की बस पकड़ी जो 2 बाय 1 स्लीपर थी. एक दिन वो दोनों बेशरम हमारे सामने ही एक दूसरे को चूमने लगे तो पता नहीं मुझे क्या हुआ, मैंने भी सपना के लाल-लाल होटों पर अपने होंट रख दिए और वो भी मेरा साथ देने लगी.

अब राहुल अपने सर के साथ अपनी उंगलियों का भी प्रयोग करने लगा, वो अपना एक हाथ अनामिका की टांगों पर ले आया और आस पास के लोगों से आँख बचाकर चूत तक पहुंचने की कोशिश करने लगा.

मेरी स्वीकृति मिलते ही तरुण ख़ुशी से झूम उठा और मुझे अपनी गोदी में उठा कर मेरे समक्ष शरीर पर चुम्बनों की बौछार कर दी.

जॉन- मोटी है मगर मजेदार भी है, चल अबकी बार तू बस इसे मुँह में लेकर होंठ से दबा लेना. मेरी चाची ने मुझे कई मैडमों के साथ सेक्स करवाया और उनको सन्तुष्टि दिलवाई. तेरी माँ अब इतनी रंडी बनने वाली थी… यह अगर तब पता होता तो मैं साली को शादी के पहले ही चोद डालता.

हाय आह… क्या गांड फ़ाड़ने का इरादा है क्या रे भड़वे…”ऐसा कहते हुए उसने मेरा लौड़ा अपने गांड के अन्दर तक घुसवा लिया. शोभा- तुम मुझसे क्या चाहते हो?वरुण- मैं ये चाहता हूँ कि तुम जो कर रही थीं वही करती रहो. मैंने चूत चाटकर ही चाची को ठंडा कर दिया और चाची रिलेक्स होकर बेड पे लेट गईं.

मैंने अपने दिमाग़ में सोच लिया कि अगर भाभी मिल जाएं तो उनके चूतड़ों को फाड़ कर दम से चोद दूंगा.

मैं भी घर से कोई न कोई बहाना बना कर जैसे किसी का बर्थडे है या किसी सहेली की निकाह है कह कर निकल जाती. मैं हैरान रह गया कि वो अभी तक चुदी नहीं थी, मेरी बहन की चूत कुंवारी थी. फिर मैंने रागिनी की बुर से लंड निकाल कर अपना मुँह रागिनी की चुत पर रख दिया.

मौसी बोलीं- सूँघो, है ना वही सुगंध?मैं भी सूँघते ही झट से पहचान गया- हाँ वही है. मैंने कहा- मैं तो बिल्कुल ही खाली हूँ चलिये आपके साथ मूवी ही देख लूँ. मैं इस हग में चाची को कसता ही जा रहा था और अपना मुँह ऊपर करके चाची के हाव भाव नोट कर रहा था.

फिर चाची ने पूछा- एक बात पूछूँ?मैंने कहा- हां पूछिये?चाची ने बोला- तुझे मेरा हग क्यों चाहिए?मैं- सही बताऊं तो ये मेरी तमन्ना है चाची कि मैं आपको हग करूँ, वो भी एक टाइट सा हग करूँ.

क्योंकि साले इतने हेन्डसम और सेक्सी जवान लड़कों को मैं हाल ही में देख चुका था… इन जवान जिस्मों ने तो मानो मुझे पागल कर दिया था. कुछ देर बाद जब मैं झड़ने को हुआ तो मैंने अपना अपना सारा वीर्य उनके मुँह में छोड़ दिया और वो मेरा सारा वीर्य अपनी जीभ से चाट कर पी गईं.

एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी मैंने नेहा को कहा- संभाल कर रहना साली, आज अपनी जवानी का केक अपने जीजू से कटवा ले. आँखें मानो उस पर टिक ही गयी थी, मैं उसके नज़दीक पहुंचा… करीबन 5’8″ हाईट, उम्र लगभग 22 साल, रंग गोरा, आकर्षक चेहरा जिस पर हल्की दाढ़ी और मूंछें थी.

एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी रितु दीदी ने पूछा कि गांड मारने में ज्यादा मज़ा आता है कि गांड मराने में?मैंने कहा कि दोनों में. अब नेहा फिर से उत्तेजित हो गई थी और मेरे पास ही मनोज सोनिया को नंगी भी कर रहा था और उत्तेजित भी कर रहा था.

यश पहले मेरी बुर चोदेगा, बाद में तुम्हें!मॉम ने कहा- अरे बेटी तू ये क्या कह रही है? यह सब अभी से? नहीं बेटी अभी नहीं!मैंने कहा- मुझे कुछ नहीं पता, बस मुझे भी चुदना है.

पोस्टर सेक्सी वीडियो

मॉंटी तो चुदाई से एकदम अनजान था उसको समझ ही नहीं आ रहा था कि इसमें लंड घुसेड़ने से क्या मजा मिलेगा. करके चिल्लाया और अपना लण्ड मेरे मुँह से निकाल कर अलग किया जिसमें से एक लंबी पिचकारी निकली… शायद वह अपना वीर्य मेरे मुँह में गिराना नहीं चाहता था लेकिन यह तो मेरे लिए अमृत था, मैंने तुरंत उसका लण्ड अपने मुँह में गले तक भर लिया जिससे बाकी कि 4 पिचकारियों से निकला ढेर सारा काम रस मेरे मुँह में भर गया और वह निढाल हो गया. कुछ चाहिए तुम्हें?फ्लॉरा- पापा ऐसे नंगी लेटने से नींद ही नहीं आई, आप प्लीज़ डॉक्टर से बात करो ना कि सोने के टाइम चादर तो डाल लूँ ताकि ठंड ना लगे.

भाई मुझे उस मेल पर रिप्लाई भी करने लगा और हमारी अच्छी फ्रेंडशिप भी हो गई. तभी मुझे शहज़ाद ने बोला की मेनडोर बंद करके आऊँ इसकी गलती की सज़ा तो इसको देनी है. उधर फ़ारुख मेरी चुत चाट-चाट कर मुझे पागल करने लगा और मेरे मम्मों को बुरी तरह दबाने लगा.

मैं भी उसकी चुत से बाहर पानी में ही झड़ गया और मैं संगीता के ऊपर ही गिर गया.

चाची ने खुद मेरा लौड़ा हाथ में लिया और अपनी चूत के अन्दर घुसाने लगीं. उस दिन मेरे लिए खास होने वाला था, हमारे मोहल्ले की एक लड़की नीता (निजता भंग ना हो इस लिए लड़की का नाम बदल दिया है मैंने!) जो कि काफी खूबसूरत थी. हाँ रेशमी चादर को भी जब बहुत ज़्यादा जरूरी हो, तभी इस्तेमाल करना था.

आपको मेरी पड़ोसन भाभी की चुत चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे जरूर मेल करके बताएं. मैंने कांपते हाथों से वाइब्रेटर निकाला और इधर उधर देखते हुए अपनी गीली चुत में घुसा दिया. मैंने उसे अपनी ओर खींचा और टब की रिम पर बैठे-बैठे ही उसके पैरों को फैला दिया.

फिलहाल इतना ही दोस्तों, मेरी चुदाई की कहानी अभी खत्म नहीं हुई है अभी तो शुरू हुई है. साथ में ये भी कहा कि अगर शुरू के दस मिनट में उन लोगों को उसका काम अच्छा नहीं लगे तो वो केवल टैक्सी का बिल यानी 500/- लेगा.

हमारे हाथ एक-दूसरे के हाथों में जकड़े थे और बाँहें एक-दूसरे से लिपटी थीं. करीब 6 महीने बाद कॉलेज की छुट्टियाँ हुईं तो मैंने उसके साथ 2 दिन के लिए घूमने का प्लान बनाया. मैंने चूत पर हाथ फिरा कर अपनी बीच की उंगली उसमें डाली तो वह सीत्कारें लेने लगी.

मणि बिस्तर पर मेरे पास आकर बैठ गया और उसने मेरे हाथ पकड़ कर कहा कि हम दोनों दोस्त की तरह रहेंगे.

मैंने कहा- ये सड़ी हुई फिल्में देखने में क्या मज़ा आता है तुम्हें?वो बोला- तू क्या देखेगा… ये रिश्ता क्या कहलाता है?कह कर वो हंसने लगा जैसे मुझे चिढ़ा रहा हो…मैंने मुंह बनाते हुए कहा- नहीं, मुझे इतना शौक नहीं है टीवी देखने का. फिर उसने बोला कि वो सुबह ज्यादा बिजी हो जाती है अगर वो शाम को आ जाए तो?हमें भला क्या ऐतराज़ हो सकता था, हमें तो काम से मतलब था, वो सुबह करे या शाम को. मैं- तो आप कैसे मेरी सारी विश पूरी कर सकती हैं?चाची- सबसे पहले तो तू मुझे चाची नहीं बल्कि मेरा नाम लेकर बोला कर.

थोड़ी देर बाद जब मैंने अपने को सँभाल कर आँखें खोली तब तरुण ने मेरे होंठों को चूमते हुए कहा- सरिता, क्या हो गया तुम्हें? क्या मेरी कही बात तुम्हें अच्छी नहीं लगी?”मैंने उठ कर बैठते हुए कहा- मुझे कुछ नहीं हुआ और ना ही ऐसी कोई बात नहीं है. विनय हंस कर बोला- भला तुम्हारे यहाँ रहने से हम क्यों डिस्टर्ब होने लगे.

रीना बोली- मैं इसको अकेला नहीं छोडूंगी, अगर ये यहाँ नहीं रुकेगी तो जब तक इसकी शादी नहीं होगी मैं भी इसके पास रहूँगी. तभी मैंने देखा कि मेरी साली किचन में कुछ काम कर रही है तो मैं पास जाकर उसके कान में बोला- आज बड़े नखरे कर रही हो, कुछ देर तक आ जाना मेरे रूम में!तो उसने मेरी तरफ देखा और कंधे हिलाती हुई न में सर हिलाया और बोली- अपनी बीवी को ले जाओ अपने रूम में, कहो तो मैं भेज देती हूँ?मैंने कहा- साली, अब नखरेबाज हो गयी, कोई बात नहीं बच्चू!कह कर मैं अपने रूम में चला गया और लाइट बंद करके सोने की कोशिश करने लगा. मैंने उसे बाथरूम दिखाया और मैं खुद भी कपड़े उतार कर केवल लोअर में ही बैठ गया.

मराठी आदिवासी सेक्सी

मेरी इस हरकत से वो भी गर्म होने लगी और उसके मुँह से अजीब-अजीब सी आवाजें निकलने लगीं, जिससे मुझे और जोश आ गया.

अब वक़्त आ गया कि इसको चोदने का प्लान बना लिया जाए… मगर किस्मत को कुछ और मंजूर था. दूसरी तरफ चिंटू और परीक्षित बहुत ही बेरहमी से सिंडी की चूत और गांड का भुर्ता बना रहे थे. अब इनकी ये वासना इन्हें कहाँ लेकर जाएगी ये तो आने वाला वक़्त बताएगा.

शनिवार का दिन था, जब मुझे मेरे एक दोस्त ने मेरा परिचय रुस्लान नाम के एक लड़के से कराया. वैसे मैंने कई बार नोटिस भी किया था कि भाभी भी मुझे लाइक करती थीं क्योंकि वे जब भी मेरी तरफ देखती तो उनके चेहरे पर बहुत हल्की सी मुस्कान आ जाती थी. इंग्लिश व्हिडिओ सेक्सी ओपनमैं सॉरी करते-करते उठाने लगी, जैसे ही मैं झुकी, तभी नीचे की जगह से मेरी नज़र पड़ी तो हिल गई.

सुमन का खुला हुआ मुँह देख कर गुलशन जी से रहा नहीं गया, वो उसके पास खड़े हो गए और धीरे से अपना सुपारा उसके होंठों पर टिका दिया. अंकल ने उसको सीधा लेटाया और उसके पैरों को मोड़ कर लंड को बुर पर सैट करके रगड़ने लगे.

चुत चूसते हुए उनको एक ख्याल आया कि ये जो हो रहा है, सुमन जानबूझ कर तो नहीं करा रही ना. इसके बाद मैंने बड़ी बेताबी से फिर से उसके पेट को चूमा और उसकी टांगों तक जीभ फिराता हुआ नीचे तक उसको जीभ से सहलाता चला गया, जिससे वो तड़प उठी. फिर मैंने उन को घुटने पर बिठा कर लंड चुसवाता हुआ उन के मुँह पर थूका और फिर उनके मुँह पर चांटे मार के उन को बेड पर लिटा दिया, उन की टाँग उठा कर अपना मूसल लंड उनकी चुत पे धीरे धीरे से रगड़ा.

मैं तैयार हो गई और सज धज कर अमित से चुदने के लिए शाम को घर से सज धज कर निकल गई. जो आप नहीं करना चाहती हो?मोना- तुझे ये कैसे पता? देख नीतू मैं जानती हूँ तुझे चुत और लंड के इस खेल की जानकारी है, मगर तू भोली बन रही है. कुछ ही पलों में वो धीरे धीरे उनके होंठों को अपने होंठों से चूस रहा था.

श्रुति ने अपना हाथ रख दिया तो मैंने भी उसका हाथ हल्के से पकड़ लिया.

मैंने तुमसे कितनी बार कहा कि कॉलेज में दोस्त होंगे, उनसे ये बातें करो. मेरे लिए वक़्त मानो रुक गया हो, मैं उसके मुंह में ही झड़ गया और लंड को तब तक नहीं निकाला जब तक उसने मेरा रस पी नहीं लिया.

हाय दोस्तो मेरा नाम राजीव है, मैं आपको अपने जीवन की एक गहरी सच्चाई, रियल सेक्स स्टोरी बताने वाला हूँ. मैं चाहता हूँ कि मेरी होने वाली बीवी भी आप जैसी ही सुंदर दिखने वाली महिला हो. फिर अचानक मेरे बगल वाली लेडी ने धीरे से पूछा- आपका नाम क्या है?मैंने नाम बताया.

अब तक की इस नोन वेज कहानी में आपने पढ़ा था कि गुलशन जी अपनी बेटी सुमन से अपना लंड चुसवाने की जुगत भिड़ाने में लगे थे, उधर सुमन भी अपने बाप का लंड चूसने के चक्कर में थी. क्या मस्त लग रहा है तुम से चुदा कर, ऐसे ही मारते रहो मेरी गांड…”साली वाकई दमदार माल थी. और मैं आई भी तो अपनी मर्जी से थी, मेरे मन की मुराद भी पूरी हो रही थी.

एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी फिर मैंने अपने हाथ धीरे से उसे टॉप में डाल दिए और उसकी ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को दबाने लगा, जिससे वो और भी गर्म हो गई. वो मांग भरे हुए थी जिससे ऐसा लगता था कि उसकी अभी नई-नई शादी हुई थी.

राधा की चुदाई सेक्सी

उसने मेरा लंड ज़िप में से बाहर निकाल लिया और मेरे कान में कहा- मुझे कंडोम दो और तुम दूसरी तरफ जाओ. सेक्स पार्टनर्स में भी अदला बदली होती थी, जैसा कि लोगों के मुँह से मैंने सुना था. वो तो अच्छा था कि मेरा घर एक इंडिपेंडेन्ट विला था नहीं तो मेरी चीखों से पब्लिक क्या पुलिस भी घर पे आ जाती.

मैंने थोड़ा ज़ोर लगाकर पूरा लंड अंदर घुसेड़ दिया, रूबी की चीख निकल गई और उसके आंसू निकल गए. उसने मुझे अपने ऊपर से हटा दिया और मैंने भी चुदाई कुछ देर के लिए रोक दी. छूत कैसी होती है दिखाओउसके बाद मैंने मेरे ही एक फ्रेंड रोस्टन (जो कि विदेश का है और मेरी उससे अच्छी दोस्ती है) को मेल किया और उसको हमारे गोआ आने का सन्देश दिया.

जैसे ही मैंने उसको मस्त होते हुए पाया, तभी एक और जोरदार झटका देकर अपना पूरा लंड उसकी बुर में उतार दिया.

मैंने भी खुल कर उनके स्वागत में अपनी बाँहों को फैला दिया, कुछ ही पलों में उनका जिस्म मेरे जिस्म के ऊपर बिखर सा गया; मैं उनके बोझ तले दबी थी जो हर लड़की और स्त्री की नियति है कि वो अपने प्रियतम के भार को महसूस करे!आशीष बेसब्र हो गए, उन्होंने मुझे हर जगह चूमना शुरू कर दिया, आंख, गाल, गर्दन, क्लीवेज हर जगह… तो हाथों से मेरी चूचियों को मसलने लगे. हम दोनों कमरे में पहुंचे, मैं जैसे ही अन्दर आई, अनु ने डोर लॉक कर दिया और लाइट ऑन की.

एक दिन मैं अपने दोस्त की मम्मी के बारे में सोच कर मुठ मार रहा था, जिनका नाम आरती है. मैंने अभी आठ महीने पहले ही बंगलौर शिफ्ट किया है, इसके पहले मैं हैदराबाद की एक बड़ी कंपनी में काम करता था. सब उसे पाना चाहते थे, उसके गोरे बदन पर बड़े बड़े खरबूजे के साइज के चूचे किसी को पागल कर देने में सक्षम थे.

फिर वो खड़ी हो गई और उसने अपनी टांगों को दबा कर बिस्तर पे खड़ी हो गई.

मैंने उसे जल्दी से घर से बाहर भेज दिया और बोली कि 15-20 मिनट बाद डोरबैल बजा के आये तब मैं उसे पैसे देती हूँ. दस मिनट की मेहनत के बाद उन्होंने पूरा लंड बुर की गहराई में घुसा दिया और टीना को पता भी नहीं लगा कि उसकी बुर 7″ का लंड निगल चुकी है. अब मैं डर गया, मुझे लगा अब ये जरूर मेरी बात कर रहा होगा और उस रात की सारी बात बता देगा कि कैसे मैं इसके और इसके दो दोस्तों के साथ उस कोठरी में चुदा था।मैं घबरा गया और मैंने मुंह फेर लिया और यहां वहां देखने लगा, मुझे अब वहां खड़े रहना पल पल भारी हो रहा था। मेरे दिल की धड़कन धम्म धम्म करने लगी थी और दिल बैठा जा रहा था।कुछ देर उन दोनों में बातचीत होती रही और उसके बाद वो लोग उठ खड़े हुए.

सील पैक सेक्स वीडियोमैं और अंकित हम दोनों एक अच्छे दोस्त बन गए, दोनों एक दूसरे से काफी बातें करने लगे और हम एक दूसरे के करीब आ गए, अंकित मुझसे अपनी सारी बातें बताता था, मैं भी अंकित से अपनी सारी बातें बताती थी. थोड़ी देर में ही विनय ने उसके मम्मे दबाने और चूसने शुरू किये, नीचे से रीना ने उसकी चूत में अपनी जीभ कर दी.

व्हिडिओ सेक्सी फिल्म हिंदी

और मैं आई भी तो अपनी मर्जी से थी, मेरे मन की मुराद भी पूरी हो रही थी. हुआ यूं कि हमें कॉलेज की तरफ से गाँव गाँव जाकर गाँव की कुछ डिटेल जानना था, तो हम सब को एक-एक गाँव में जाना था. नीता कुछ बोलने की हालत में नहीं थी, वो सिर्फ़ अपना हाथ चूत के पास घुमाते हुए दर्द से भरी चूत को आराम देने की कोशिश कर रही थी.

अनु समझ गया और बोला- हिमानी तेरे को डर लग रहा है तो मैं नहीं करता यार. दस मिनट तक गुड़िया बेटीमेरा लंड चूसती रही। फिर मैंने लंड को उसके मुंह से निकाल दिया और उसकी ब्रा और पैंटी भी निकाल दी. अब नेहा फिर से उत्तेजित हो गई थी और मेरे पास ही मनोज सोनिया को नंगी भी कर रहा था और उत्तेजित भी कर रहा था.

आंटी ने मुझे रूम दिखाया, मैंने आंटी को देखकर उनके बेडरूम के बगल वाला रूम ले लिया. गुजराती भाभी सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा कि रूपा भाभी को भीड़ भरी बस में एक लड़का पप्पू मिला और भाभी उससे चुत चुदाई करवाने को तैयार हो गई. मैंने उससे फोन पर कहा- मैं तुमको लेकर ही जाऊंगा, नहीं तो यहीं खड़ा रहूँगा.

मैं रोज उनसे एक ही बात कहता कि मुझे जिससे प्यार है, वो शायद मुझे पसंद भी करती हो, पर वो मेरी हो नहीं सकती. छत पर मैंने पिंकी को पूरी नंगी किया और उसकी निम्बू जैसी चूची को खूब चूसा, उसकी बुर चाट चाट कर दो बार उसे झाड़ा.

मुझे लगा कि मैंने रवि को जैसे खो ही दिया हो, बेचैनी और घबराहट में मुझे सांस लेना मुश्किल हो रहा था.

फिर मैंने उसके रस भरे होंठों को अपने होंठों से लगाया और 10 मिनट तक खूब चूसा. wikibio24 कॉमशायद आंटी ने मेरी पैंट में बने तम्बू को देख लिया था, वो मुझे एक वासना भरी स्माइल देकर अंदर जाने लगी. भाभी की चूत में बड़ा लंडइस वक्त पूरे कमरे में सिर्फ़ हमारी चुदाई की आवाजें ही गूँज रही थीं. नीतू ने बताया कि वो ठीक है, बस उसका सर चकरा रहा है और चुत में भी बहुत दर्द हो रहा है.

उसने कविता से कहा कि अगर वो कहे तो वो उसकी ब्रा खोल दे, तो कविता ने मना कर दिया.

उनके पास ही रहने की कोशिश करता रहता, उनसे बातें करता रहता आदि इत्यादि. शायद मौसी को मेरा लंड देखने का नशा हो गया था तो जब भी मौका मिलता, मौसी मुझे मेरा पेंट उतरवा कर लंड दिखाने को कहती थीं. अब ये सब कविता को गर्म करने के लिए काफी था, वो अब कसमसाने लगी और विनय से और चिपटने लगी.

अपनी साली गीत को सीधा बैड पे लिटा दिया, उसका दूधिया जिस्म कमरे को और दूधिया कर रहा था और लंड की चुदास बढ़ा रहा था. अबकी चुदाई पहले से भी ताबड़ तोड़ थी, घमसान चुदाई से साली की चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था, मेरा लंड उसके पानी से तर हो गया. क्योंकि मुझे किसी स्त्री से कैसे बात करते हैं नहीं आती इसलिए मैंने तो तुम्हारी सहायता हेतु सीधी बात करी है.

12 साल लड़की की चुदाई सेक्सी

मैंने आग जलाई, जब वो सेंकने के लिए मेरे सामने बैठी, तो उसके कटाव जैसे उघड़ कर सामने आने लगे. मैं जैसे ही मुड़ा तो पास होने की वजह से मेरे होंठ पूनम भाभी के मुलायम-मुलायम गालों से लग गए. रितु दीदी बोलीं- अच्छा क्या इसमें मज़ा आता है?मैंने बताया कि बहुत मज़ा आता है.

फिर मैंने एक और धक्का मारा तो पूरा का पूरा लंड उसकी चुत के अन्दर चला गया.

अंदर रूम के बीचों बीच एक बड़ी सी गोल टेबल थी, राहुल और मॉन्टी ने हमें आराम से उसके ऊपर बिठाया.

तो दोस्तो, यह थी मेरी एक चाय वाले से हिन्दी चुदाई कहानी रेलवे लाइन के किनारे… इसके बाद एक मस्त हिंदी चुदाई स्टोरी अगली बार लिखूंगी तब तक लंड हिलाते रहिए. जब तेरे से फर्स्ट टाइम सेक्स किया था तब मुझे सिर्फ तेरी चुत ही चाहिए थी, लेकिन जब तेरे बारे में तेरी फ्रेंड से पता लगा कि तूने ये सब फर्स्ट टाइम मेरे साथ किया है और हमेशा मेरे साथ ही करना चाहती है… तो मैं भी बदल गया. टकला फोटोमेरे स्टाफ में एक यादव था, जो 24 घण्टे मेरे साथ ही रहता था, वो केवल नहाने और खाने के लिए ही जाता था.

इस लम्बे सेक्स के बाद हम दोनों बस ऐसे ही लेटे रहे और कब नींद लग गई, पता ही नहीं चला. मेरे होंठों को अपने होंठों में बड़े ही बुरी तरीके से दबा कर मेरा नीचे का होंठ अपने दांत से काट दिया. लेकिन उसे विश्वास नहीं हुआ, उसने मुझे 10000 रूपए दिए और कार में जहाँ से मुझे बिठाया था, वहां तक छोड़ने आई.

बगल में ही लैपटॉप में उन्होंने एक सेक्सी ट्यून लगा रखी थी, जो माहौल को और भी मज़ेदार सेक्सी बना रही थी. आप सभी ने एंजाय किया… आगे लिखूंगी कि हम दोनों ने वहां और क्या क्या किया.

मैंने पूछा- रामू को कब बुलाऊं?वो बोलीं कि कल दिन में तीन बजे बुलाओ.

वो एक भारी भरकम लौड़ा था, फिर उसने जब अन्दर हाथ डाल कर उसको पकड़ना चाहा तो जॉय की नींद खुल गई और वो जल्दी से पीछे सरक गई. इसलिए उसे मैं वहीं घोड़ी बनाता और पीछे से लंड उसकी चुत में फंसा देता. पहले तो मैंने एकदम मना कर दिया, फिर सोचा चलो इस बिजनेस को भी ट्राई करते हैं.

भोसड़ा सेक्स शहर से मैं खेत खलिहानों के कामों से एक महीना रुकने के लिए गाँव आया था. अब तो रास्ता खुल गया… जितनी मर्जी मौज करो!मैंने उससे पूछा कि कोमल को क्या बोलेंगे.

उसने भी मुझसे हेल्प मांगी कि वो एक वर्जिन है और उसे उसका भाई बहुत पसंद है, वो उसके साथ सेक्स करना चाहती है. पहले तो वो दरवाज़ा नहीं खोल रही थी, फिर उसने खोल दिया और हम साथ में नहाए. कई बार तो शहज़ाद मेरी टांगों के बीच में बैठ जाता और अपना लंड चूत में डाल लेता लेकिन आगे पीछे नहीं करता और बैठे-बैठे मेरे बूब्स की खूब मालिश करता.

सेक्सी देहरादून

इसके बाद मैंने टीचर की फुद्दी को लिक करना चालू कर दिया, वो जोर-जोर से चिल्लाने लगीं. सुमन- मेरी ऐसी कोई कहानी नहीं है दीदी, बस कुछ दिनों से पापा के लिए परेशान हूँ. तभी अचानक दरवाजे की घंटी बजी, मैं हड़बड़ाहट मैंने सब ठीक किया और दरवाजा खोलने चला गया.

मैंने धीरे धीरे पहले उसकी गांड में अपनी एक उंगली डाली जो आराम से चली गई. उधर कुछ देर तक शोभा की चुत और वरुण के लंड को देख कर सविता भाभी भी गरम हो गई थीं.

रितु दीदी बोलीं- तब तो थोड़ी देर और बैठो, मैं भी खाली ही हूँ और अकेली बोरे हो रही हूँ.

अब चुदाई भी होने लगी मगर वो लड़का ढीला था, फ्लॉरा जैसीसेक्सी लड़कीको संतुष्ट नहीं कर सकता था, इसलिए उनका ब्रेकअप हो गया. दरवाजा खोलते ही वो अन्दर आ गई, मैं इससे पहले में कुछ कहता वो अन्दर आते आते सपना-सपना. सच बता तूने कभी अपनी चुत का पानी निकाला है क्या?नीतू- नहीं दीदी कसम से मैंने कभी नहीं निकाला.

अगर तुम्हें मेरी बात बुरी लगी है तो मैं क्षमा मांगता हूँ और अपने शब्द वापिस लेता हूँ. नीता के बालों पर हाथ फेरते हुए और उसका मुँह हल्के से चोदते हुए पप्पू बोला- हाँ नीता, यह सच है कि मैंने तेरी माँ को चोदा है. अंकल ने उसको सीधा लेटाया और उसके पैरों को मोड़ कर लंड को बुर पर सैट करके रगड़ने लगे.

फिर कुछ देर बाद उन्होंने हमें पलटाया, अब हमारी चुत उनके सामने थी, दोनों लड़के हमारी सर की तरफ आ गए.

एचडी सेक्सी बीएफ सेक्सी: वो नीता को बेड पर बिठा कर अपना लंड उसके होंठों पे रख कर बोला- ठीक है बेटी… मैं तुझे पूरी बात बताता हूँ पर तब तक तू मेरा लंड चूसती रह!मेरी सेक्स स्टोरी पर कमेन्ट भेजिए. वो लड़के लोग तो यह भी कहते हैं कि इस नवरात्रि में हम माँ-बेटी उनके मोहल्ले में जा कर उनके डाँडिया लेकर डाँडिया खेलें.

इस बीच एक बार और उसने अपना कामरस निकाल दिया और बेड पर लम्बी लेट कर ‘हम्मम्म अअअह. इससे मेरी जांघें और चूत के दर्शन उसे मिल रहे थे, वो टीवी के बजाए मेरी चुत की तरफ देख रहा था. शाम के सात बजे मैं रितु दीदी के यहाँ गया और उन्हें बता दिया कि रामू उसी शर्त पर तैयार है कि आपको उससे चुदवाना पड़ेगा.

उसने फिर स्माइल की और कहा- क्या आप सेक्स करना चाहते हो?मैंने कहा- सुमन शायद तुम्हें बहुत चढ़ गई है.

सुमन- रात को अकेली कहाँ से आती और कॉल के लिए मोबाइल भी होना चाहिए ना. विवेक ने मेरी दोनों टाँगें फैलाईं और अपना लंड मेरी चुत पर रखकर एक हल्का सा धक्का मारा. रेखा बोली- अमित का अगले वीक एग्जाम है वो घर से नहीं निकलने वाला है.