बीएफ एक घंटा की

छवि स्रोत,देशी लडकी की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन सेक्सी बप: बीएफ एक घंटा की, नमस्कार दोस्तो, आप लोगों ने मेरी पिछली कहानीमौसेरी बहन की कुंवारी चूत की सील तोड़ चुदाईमें पढ़ा था कि किस प्रकार मैंने अपनी मौसी कि लड़की की चुदाई करके उसकी कुंवारी चूत की सील तोड़ी थी.

सेक्स सेक्सी सेक्सी सेक्सी

मां बोली- तो तुमने उसको अब क्यों नहीं बताया कि पूजा तुम्हारी बहन है बीवी नहीं?मैं बोला- मुझे ध्यान नहीं रहा. मराठीxxxxxउससे मेरी दोस्ती मेरे ही गांव के एक लड़के ने कराई थी। वो बहुत सुंदर थी और एक सेक्सी बॉडी की मालकिन थी। उसके पापा नहीं थे। उसके परिवार में उसकी मम्मी और उसका भाई था। उसका भाई कहीं रिश्तेदारी में रह कर पढ़ाई कर रहा था.

जांघें वैसे पूरी नहीं खुलती थी क्योंकि जांघों के पास पेटीकोट फंस जाता था और एक दो बार तो ऐसा हुआ कि वो औंधे मुंह पड़ी रहती थी और एक जांघ पीछे और दूसरी आगे होती थी. দিদিকে চোদাमैंने उसको निकाल कर फेंक दिया और दोबारा से लंड को हिला हिला कर खड़ा करने लगा.

मेरी कॉलोनी में क्रिकेट का ग्राउंड है, जहां बहुत से बच्चे क्रिकेट खेलते हैं.बीएफ एक घंटा की: मेरी नजर माँ की गोरी चिकनी मक्खन जैसी जांघों पर पड़ी तो दिमाग के तोते उड़ गए.

वो मस्त माल मेरे बाजू में लेट गई थी और उसने साड़ी को ही चादर बना कर ओढ़ लिया था.कुछ देर बाद जब उसे दर्द में आराम हुआ, तब मैंने फिर से अपने चेतक को उसके अस्तबल में घुसाने की शुरुआत कर दी.

ஆந்திரா செக்ஸ் வீடியோக்கள் - बीएफ एक घंटा की

मुझे भी उत्तेजना होने लगी और देखते ही देखते मेरे लंड का आकार बढ़ने लगा.निगार आंटी बेहोश जैसी पड़ी हुई थीं और मैं धकापेल अपना काम किए जा रहा था.

सुमित मेरे होंठों को चूसने लगा और अब मैं भी उसकी बेचैनी को समझते हुए उसका साथ देने लगी. बीएफ एक घंटा की मेरे शरीर पर अब मेरा अंडरवियर ही बचा था जिसको मेरे देसी लंड ने तोप की तरह ऊपर उठा रखा था और लंड के झटके देने से अंडरवियर में जैसे एक सांप सा फन उठा कर बार बार उछल रहा था.

दीदी की ऐसी मर्जी जानकर मैं कुछ सोचने पर मजबूर हो गया और दीदी के बारे में सोचने लगा.

बीएफ एक घंटा की?

मैंने पूछा- भाई-बहन वाला प्यार करती हो या दूसरे वाला?मेरी बात पर उसने कोई जवाब नहीं दिया और अपनी गर्दन झुका ली. मकान मालिक ने पूछा कि कौन रहेगा तो मैंने उसको बता दिया कि मैं और मेरी वाइफ रहेंगे. मुझे शादी तो करनी ही है, मगर मुझे अब तक आपके जैसी कोई परी मिली ही नहीं.

उसके बाद दीदी ने मेरी चड्डी में हाथ दिया और मेरे लंड को सहलाने लगी। अब दीदी मेरे सामने घुटनों के बल बैठ गयी और मेरी लोवर के ऊपर से मेरे तने हुए लंड पर हाथ फिराने लगी. उनकी गांड से गू बाहर निकलने के लिए जैसे ही गांड खुली … मैंने अपना पूरा लंड उनकी गांड में घुसा दिया. उसके बाद मैंने नीचे से पेटीकोट को निकालना शुरू किया और धीरे धीरे पूरा पेटीकोट उतार दिया.

मैं एक गठीले शरीर का मालिक हूं और लंड का साइज मैंने कभी नापा नहीं, पर यह बता सकता हूं कि आज तक जिससे भी मैंने सेक्स किया है, वह मेरे लंड से पूरी संतुष्ट हुई है. उसने शॉर्टकट में थोड़ा बहुत बता दिया।मैं अब भी उसे अपनाने के लिए तैयार था। इसके लिए मैंने उससे वादा लिया मैंने उसको बोला- मैं तुम्हारे होठों को चूमना चाहता हूँ।पहले तो वो न नुकर करने लगी, बाद में उसने बोला- अपनी आंखें बंद करो।जैसे ही मैंने आंखें बंद की, मैं किसी और ही दुनिया में था. मैं जोर जोर से आंटी की गांड में लंड को देकर उनकी गांड को फाड़ने लगा.

दीदी- शिव, सारी लड़कियां बैठ कर ही तो पेशाब करती हैं, इसमें नया क्या है?मैंने कहा- दीदी, आज से पहले मैंने इस बारे में कभी सोचा ही नहीं और ध्यान नहीं दिया. लैगी में उनकी जांघें देख कर मेरा लंड और भी सख्त हो गया, जो शायद चाची ने देख लिया था.

मैं स्कूल में बायलॉजी की स्टूडेंट थी तो किसी भी चीज के बारे में पूरा रिसर्च कर डालती थी.

कुछ देर हम लेटे रहे और उसके बाद हमने फिर से एक राउंड चुदाई का और खेला.

मेरे रहते हुए भी किसी और से अपनी चूत मरवाती थी?लवली ने कोई जवाब नहीं दिया. ये बात आज से 3 साल पहले की है, जब मैं अपने मामा के घर रहकर अपनी पढ़ाई कर रहा था. मुझे बहुत ही मादक क्षण लगा ये जब मेरी उंगलियां उसकी चूत के पानी में भीग रही थीं.

वो मुस्कुरायी, उसने कहा- मेरा जवाब दो।मैं नीचे बैठा उसके पैर के अंगूठे से चूसना शुरू किया. मैंने ललिता की चूत पर जीभ फेरी तो ललिता मेरे लण्ड का सुपारा चाटने लगी. ये समझते ही अलीज़ा रोशन लाल से बोली- रोशन लाल, अपना पानी चूत में नहीं, बाहर छोड़ना.

आंटी ने मेरे लंड पर तेल लगाया और बोलीं- तुम्हारा लंड मोटा है … अब जल्द से इसे मेरी चुत के अन्दर करो और चोदो … फ़ाड़ दो मेरी चूत को … आह बहुत आग लगी है.

दो दिन बाद मुझे कुछ शक हुआ तो मैंने बुआ के बेटे रघु को खेत में ले जाकर पूरी बात पूछी. मैं मथुरा के पास एक गाँव का रहने वाला हूँ, पेशे से एक व्यापारी हूँ।अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है और सच्ची घटना पर आधारित है।सबसे पहले अपने बारे में बता दूं, मेरी उम्र 24 साल है मेरा कद 5’ 8″ है. भाभी अपने एक हाथ को अपने सर के नीचे दबा कर सो रही थीं और दूसरे हाथ से मेरे लंड का मुआयना कर रही थीं.

मैंने तभी अँधेरे में अपना कच्छा उतार दिया और उसका हाथ पकड़ कर अपना सात इंच लम्बा लौड़ा उसकी हथेली में थमा दिया. अब आगे आंटी की सहेली की चुदाई की कहानी:निगार आंटी भी चाहती थीं कि उनकी कोख़ भी हरी भरी हो जाए, उसके लिए इज्जत भी गंवानी पड़ी, तो भी वो तैयार थीं. मैंने कहा- ठीक है, मैं जा रहा हूं लेकिन जब तुम पापा से बात करो तो मुझे कॉल कर लेना ताकि मैं भी बात सुन सकूं.

अपनी कहानी के अगले अंक में मैं बताऊंगा कि कैसे मुझे इसी के चलते कई और भी मस्त मस्त चूत चोदने के लिए मिली.

कुछ ही पलों में मैंने भाभी को बिस्तर पर गिरा दिया और अपने कपड़े निकालने लगा. मैंने तेज तेज झटके मारे और दोस्त की मम्मी की चूत में ही सारा वीर्य निकाल दिया.

बीएफ एक घंटा की इस हिंदी चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने दोस्त की माँ को चोदा. मेरी अम्मी की उम्र लगभग 41 साल है लेकिन दिखने में भी 30 साल की लगती है.

बीएफ एक घंटा की मुझे उसके सामने जाने में बहुत शर्म आ रही थी, लेकिन उसके सामने तो जाना ही था. तो उस दिन सासू मां के साथ चुदाई होने के बाद अब मैं अपनी पत्नी को कम ही चोदता था.

प्रिय पाठको, क्या कभी आपने आपकी खूबसूरत बहन और जीजा जी की चुदाई देखी है? क्या कभी आपने अपने बहन के मम्मों को छुआ है? क्या कभी आपने अपनी बहन को ब्रा में देखा है? क्या कभी आपने अपनी बहन को कपड़े बदलते देखा है?मुझे आप कमेन्ट या मेल करके जरूर बताना.

செக்ஸ் வீடியோ மராட்டி

अगले दिन मैंने पिंकी को बोला- चलो पिंकी, आज तुम्हारे बाल डाई करते हैं. फिर मैंने पूछा- तो फिर क्या होता है?वो बोला- फिर बदन में एक अजीब सनसनाहट होती है और मैं थक जाता हूँ. पिंकी प्यास शांत करने वाले मर्द की बात सुनकर वासना में गर्म होने लगी.

मैंने अपना हाथ आगे ले जाकर मामी की चूचियों पर रख दिया, तो मामी ने हाथ को हटा दिया. मेरी सलहज की चुत को काफी देर तक अलग अलग तरह से बजाने के बाद जब मैंने उससे पूछा- मेरा होने वाला है, रस कहां निकालूं?तो भाभी ने कहा कि सब माल अन्दर ही आने दो … मेरी इस प्यासी धरती पर बहुत दिनों से वीर्य की बारिश नहीं हुई है. उसने भी लंड पकड़ लिया और बोली- इतना बड़ा और इतना मोटा … मैं अन्दर कैसे ले पाऊंगी.

मेरे मन में अलग उलझन थी कि अवकाश के समय जो खेल प्रतियोगिताएं व आवारागर्दी के मेरे प्रायोजित कार्यक्रम थे वो सब बेकार हो जाएंगे.

मामी जी भी पूरी ताकत से अपनी गांड उठा कर मौसा जी का लंड चूत में ले रही थीं. रोशन लाल ने अपने खड़े लंड सहला कर गांड मारने के लिए रेडी किया और अलीज़ा की गांड में लंड डालने लगा. वो धीरे से कान में कराहते हुए बोली- आह्ह, दर्द हो रहा है, धीरे करो.

मौसा ने मैडम को अपने घुटनों में नीचे बैठा लिया और उसके मुंह के सामने अपना अंडरवियर उतार दिया. धीरे धीरे अब मैंने उनकी चूचियों को मसलते हुए लंड के धक्कों की स्पीड तेज कर दी. भाई बहन की चुदाई की इस कहानी में पढ़ें कि कैसे मैं और दीदी स्विमिंग पूल में रोमांस और मस्ती कर रहे थे कि जीजा जी ऊपर से आ गये.

लंड पर सफेद सफेद सा कुछ लगा था, शायद कुछ देर पहले जब वो बाथरूम में मुठ मार कर आया था, वो रस जमा था. मेरे पिता इस बात से चिंतित थे कि प्रतिभावान होते हुए भी मैं परीक्षा में सर्वश्रेष्ठता की दौड़ में भाग नहीं लेता था.

उन्होंने कहा- क्यों?मैंने हंस कर कहा- मुझे आप जैसी कोई मिली ही नहीं. वहां से मैंने पूजा के लिए एक नेट की ब्रा पैंटी और स्टॉकिंग और एक बहुत छोटा कट वाला शॉर्ट और ब्रा को ढ़कने लायक टॉप लिया. उसके बाद मैं अपने दोस्त को बाहर ले गया और उसे कहा कि वो एक घंटे के बाद आये.

मैंने 8-10 बार उंगली अन्दर बाहर की ही थी कि वो लेटे लेटे ही जोर से अकड़ गईं और हल्का सा ऊपर कमर उठा कर फिर लेट गईं.

मैंने उससे कहा- यदि कोई प्रॉब्लम बन गई तो?उसने कहा- कुछ नहीं होगा … मैं हूं न … दवा ले लूंगी. 15 मिनट तक निशा बहू की चूत की चुदाई चली और फिर अचानक से थरथराती हुई झड़ गयी. थोड़ी देर बाद जब अमन मेरे ऊपर से हट कर साइड में हुआ तो उसके लंड का गाढ़ा पानी मेरी चूत से बहने लगा जिसको मैंने अपनी पैंटी से साफ कर दियाउस रात अमन ने सुबह 4 बजे तक मुझे 3 बार चोदा.

बलविंदर मेरी गर्दन को चूमता हुआ मेरे नितम्बों को दबाने लगा था जिससे विपिन भैया के साथ हुई वह घटना फिर से ताजा हो गयी थी. मनोहर मेरी चूचियों को दबाने लगा और धीरे धीरे मेरी गांड में लंड चलाने लगा.

दोस्तो, मेरी बेटी और मेरी चूत चुदाई की स्टोरी आपको अच्छी लगी हो तो मुझे बताना. इस वक्त मैं बड़े मजे से अपने बॉस और उसकी बीवी की लाइव चुदाई देख रहा था. फिर अपने रहने और खाने का खर्च निकालने के लिए मैंने ट्यूशन पढ़ाना भी शुरू कर दिया.

গোসল করার ভিডিও

मैं मौके की तलाश में हूं कि उनकी जवान बेटी की कुंवारी चूत चोदने चान्स कैसे मिलेगा.

और कैंट में रहती है।यह आईडी उसने टाइमपास के लिए बनाई थी।हमारी बात इतनी बढ़ गई थी कि जब भी हम दोनों को टाइम मिलता तो बात करते. लवली कहने लगी कि अगर पापा इस तरह के कैरेक्टर के नहीं निकले तो उसके बाद क्या होगा? मैं बोला कि पहले तो तुम ट्राई करके तो देखो, उसके बाद देखेंगे कि क्या होता है. सीमा भी अपनी जांघों की बीच में चूत के ऊपर मेरे लंड का स्पर्श पाकर अपना होश गंवाने लगी थी.

मंजू हमेशा साड़ी पहनती थी, लेकिन उसने अब तक मुझे अपने मम्मों से ज्यादा कुछ भी शो नहीं किया. हम दोनों ने उस रात तीन बार चुदाई का मजा लिया और सुबह अपने अपने रास्ते चले गए. खुली चुड़ैमुझे उस दिन उसकी चूचियां देखते हुए बड़ा मजा आया था … और जब तो सबसे ज्यादा मजा आया था, जब करिश्मा ने मुझे ऐसा करते हुए देख कर कुछ भी नहीं कहा था.

और तभी मेरे नितम्बों पर एक जोरदार चटाक के साथ गुरु का थप्पड़ पड़ा व एक चेतावनी भी- नंदन, गुरूजी नहीं … बलविंदर, समझे?गुरूजी ने किवाड़ पर सांकल लगाई और मुझे लेकर अंदर आ गए. शादी के पहले साल में मेरी बड़ी बहन और दूसरे साल में मैं पैदा हो गयी थी.

बातों बातों में मैं भूल ही गया कि मैं गुरूजी के आवास में हूँ व यहाँ गणित का अभ्यास करने आया हूँ. मैंने कहा- कहां निकालूं?वो बोली- चूत में … निकालो।मैंने कहा- बच्चा ठहर गया तो?वो बोली- गोली खा लूंगी, मगर माल अंदर ही लूंगी. दो मिनट के अंदर ही मुझे मजा आने लगा और फिर जैसे ही उसने स्पीड पकड़ी तो उसके लंड से निकल रहे कामरस से मेरी गांड भी चिकनी हो गयी और क्रीम की चिकनाहट के साथ मिलने से गांड पच-पच की आवाज करने लगी.

जिधर से शादी होनी थी, वो जगह हमारे घर से करीब एक घंटे की दूरी पर थी. मैंने उसकी गांड को जोर से भींच कर उसे अपने से सटाया और फिर उसकी ब्रा में मुंह दे दिया. आरज़ू तो अभी गर्म ही थी … कहने लगी- अब्बू मेरी प्यास कब बुझाओगे?मैंने कहा- अभी लो बेटी.

फिर कुछ देर मेरे लंड को हाथ में लेने का मजा लेने के बाद उसने मेरे अंडरवियर को खींच दिया और मैं अब बिल्कुल नंगा हो गया.

पड़ोस की एक खूबसूरत हसीं जवां लड़की की चुदाई की तमन्ना लिए मैं रोज मुठ मार लेता था. वो डर गयी और बोलीं- नहीं राजा … तुम्हारा लंड इतना बड़ा है, मैं गांड में नहीं ले सकूँगी … मेरी गांड फट जाएगी आज तक मैंने तुम्हारे मामा से भी कभी गांड नहीं मरवाई है … नहीं नहीं … मैं गांड में लंड नहीं लूंगी.

लंड को घुसा कर मेरी चूचियों को दबाते हुए वो मेरी पीठ पर बेतहाशा चूमने लगा. आज तुम पूरी की पूरी मेरी होने जा रही हो, मैं तुम्हें कुछ नहीं होने दूंगा. वो तीन नयी चूत मुझे कैसे मिली और मैंने उनकी चुदाई कैसे की, वो सब बातें मैं आपको अपनी आने वाली कहानियों में बताऊंगा.

उसके बाद हमने उनके कई दोस्तों से पैसे मांगे लेकिन किसी ने पैसे नहीं दिये. इस सेक्स कहानी के अगले भाग पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी पड़ोसन की बेटी को चोदा. दोस्तो, मेरे लिये दुआ करना कि मुझे उस जवान लड़की की चूत चोदने का मौका मिल जाये.

बीएफ एक घंटा की चलिये अब कहानी को वहीं से आगे बढ़ाता हूं जहां मैंने इसे पिछले भागमेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-7में छोड़ा था. मुझे लगा आज जरूर कुछ कहेंगी, मगर कमाल की बात हुई … मामी आज भी कुछ नहीं बोलीं.

देसी सेक्स वीडियो देहाती

जब भी वो सामने से गुजरती थी तो मेरी नजर उनके चूचों पर ही जा रुकती थी. वो तो मुझे बस देखता ही रह गया।मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?तो वो मेरी तारीफ़ करने लगा।फिर उसने मुझे फूल दिये, मैंने फूल ले लिये। फिर वो मुझे अपने साथ टैरेस पर ले कर गया. उसकी चिकनी चूत पर लंड को रगड़ते हुए मैं उसकी चूचियों को पीने लगा और दांतों से काटने लगा.

दूसरे दिन फिर मां लवली से कहने लगी- तुम लोग अपने कमरे में ही किया करो जो करना है. मेरी अम्मी की उम्र लगभग 41 साल है लेकिन दिखने में भी 30 साल की लगती है. ब्लू फिल्म बताइए वीडियो मेंफिर दीदी ने बाहर आकर दरवाजे को धीरे से चिपका दिया।उसके बाद वो घर के पिछवाड़े की तरफ की गली में जाने लगी.

मैं बोला कि अभी तो तुम लेकर आयी थी, वो वाले सही नहीं हैं क्या?वो बोली- नहीं, वो बात नहीं है.

मैंने उसे अपनी तरफ खींच कर उसे पलट दिया और दीवार से सटाकर खड़ा कर दिया। मेरे हाथ उसकी गर्दन को पकड़े हुए थे और मैं उसकी गर्दन के पीछे किस कर रहा था. घर आकर मैंने पति से पूछा कि अंदर क्या बात हुई तो उन्होंने कुछ नहीं बताया.

हमने प्लान बना लिया था कि जैसे ही मौका मिलेगा वैसे ही मौका मिलते ही पहले मुझे चोदेंगे. तो हमने उसका क्या इलाज किया?अब तक इस चुदाई की कहानी के पिछले भागफाइव स्टार होटल की स्टाफ लड़कियों की चुदाई-1में आपने पढ़ा था कि मुझ पर मेरी सीनियर प्रिया नामक की लड़की फ़िदा हो गई थी और उसने मुझसे चुदकर मेरा प्रमोशन भी कर दिया था. तभी अमन ने मेरे पैर अपने कंधे पर रख दिये और धीरे से मेरी चूत पर नीचे से अपनी जुबान डाल कर ऊपर की तरफ चलाने लगा.

तभी चारपाई की तरफ हाथ बढ़ा कर मामा ने तकिया उठा लिया और मेरे चूतड़ों के नीचे रखकर मुझे लिटा दिया.

मैंने उसकी गांड को पकड़ लिया और तेजी से उसकी चूत में लंड की पिलाई करने लगा. मेरी इस बहन को चोदा सेक्स कहानी के अगले भाग में फिर से दीदी की चुत में मेरा लंड होगा. उन्होंने गाउन पहना था, तो मैं गाउन के ऊपर से ही उनके चुचों को दबाने लगा.

हिजरा सेक्सी पिक्चरकुछ देर लंड चुत में फंसाए रखा और उसके बाद बाहर निकाला, तो आरज़ू ने मेरा लंड चूस कर साफ़ कर दिया. अब मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और उसकी जींस को बटन खोल कर उतार दिया.

हिंदी बफ सेक्सी फिल्म

स्मृति का कद पांच फीट पांच इंच, तीखे नैन नक्श, गोरा रंग व भरा बदन मुहल्ले के सभी लड़कों के दिल में हलचल मचाये हुए था. मैंने धक्के देने शुरू किए, तो उसके मुँह से मस्त आवाज़ निकलना शुरू हो गयी ‘अह… और अन्दर डालो. फिर जीजा जी इस रहस्य से पर्दा हटाते हुए बताया कि डिल्डो से इसने अपनी गांड खोली है.

दूसरे दिन फिर मां लवली से कहने लगी- तुम लोग अपने कमरे में ही किया करो जो करना है. उनका हाथ मेरी ओअर में घुसा हुआ ऊपर नीचे चलता हुआ साफ दिखाई दे रहा था. मैंने उसकी ब्रा और पैंटी को उतार दिया और हम दोनों पूरे नंगे हो गये.

फिर मैंने सेक्सी नंगी चूत की चुदाई की स्पीड बढ़ा दी और मैं पूरे जोश में भाभी चूत चुदाई करने लगा. वो भी नशीली आवाज में बोलीं- हां … बना दो … जो करना है कर दो … आज से मैं तुम्हारी रंडी बन कर रहूंगी. दोस्तो, आपको मेरी यह अन्तर्वासना मामी की चुदाई की कहानी पसंद आई हो तो मुझे अपने कमेंट्स में कहानी पर अपने विचार जरूर बतायें.

क्या बताऊं दोस्तो, मामी की चूत में लंड देकर चोदने में जो आनंद मुझे मिल रहा था उसकी तुलना में दुनिया का हर आनंद फीका था. फिर वो बारी बारी से बहुत देर तक मेरे बूब्स को खींच खींच कर चूसने लगा जैसे कि मेरी चूचियों का दूध निकाल रहा हो.

और फिर उनकी चूची पकड़ कर तेज तेज उसकी चूत में धक्के लगाने लगा क्योंकि मैं ज्यादा देर नहीं टिक सकता था.

उसने मेरी चूत को धोया और फिर कपड़े से पौंछ कर मेरी चूत में मुंह दे दिया और मेरी चूत को जोर जोर से जीभ देकर चाटने लगा. सेक्सी और सेक्समैंने पूछा- अब मैं आपको नाम लेकर चोदूं या फिर मां कहते हुए चोदूं?वो बोली- मां बोल कर. बीपी फिल्म भेजिएमगर मैंने अपनी गांड को जोर से भींच लिया ताकि उसका लंड अंदर न जा सके. पर अब तक शायद आंटी की निगाह मेरी खिड़की पर कभी गई ही नहीं थी, इसलिए वो इस बात पर बिल्कुल ध्यान नहीं देती थीं कि कोई उनको ताक रहा है.

मैंने भाभी की गांड को कस कर पकड़ लिया और पूरा जोर लगा कर लंड को अंदर घुसा ही दिया.

शायद उन दो लड़कियों में से ही कोई न कोई नीचे आयी थी ऐसा विश्वास था मुझे. पापा- ओके।वो बोले- एक बार मुझे हग कर ले यार।मैंने कहा- नहीं, आपके बदन पर बाल बहुत हैं. लंड चुसाई और गांड में उंगली की इरोटिक ब्लोजॉब सेक्स स्टोरी कैसी लगी आपको? आप मेल करना न भूलें.

भाभी मेरे लंड को गले के अन्दर तक लेकर ऐसे चूस रही थीं, जैसे कोई बच्चा लॉलीपॉप चूसता है. मामी बोलीं- वही कौन! जिसने तुम्हें मेरे ऊपर धक्का दिया था?मैं समझ गया कि मामी मस्त हैं. वो एकदम भूखी शेरनी हो चुकी थी और अपनी सुधबुध खो कर सिर्फ लंड लेने के लिए मचल रही थी.

देसी औरत की सेक्सी वीडियो

इस कारण मेरी मां अपनी बहन पर पूरा विश्वास करती थी कि मेरी बेटी बहन के पास सुरक्षित रहेगी. खैर ये कहानी मैं आपको अगली बार सुनाऊंगा।मेरी ये सेक्स कहानी अच्छी लगी होगी. फिर रोशन लाल ने एकदम से एक करारा झटका दिया और लंड का पूरा पानी अलीज़ा की चूत में फेंकने लगा.

मगर जब मैं उस रात को याद करती हूं तो पूरे बदन में चीटियां सी रेंगने लगती हैं उस पल को याद करके जब रोहित का लंड मेरी चूत को चोद रहा था.

लेकिन जाने के समय भाभी की तबियत खराब हो गई, तो वे जाने से मना करने लगीं.

मगर मेरे साथ सेक्स करने से पहले निगार आंटी ने भी कुछ शर्तें रखी थीं. तीनों के लंड सोये हुए थे इसलिए तीनों ने एक साथ मेरे मुंह में लंड डाल दिये. ब्लू वीडियो देसीअब आगे:हम दोनों बस से उतरे, तो सामने एक जीप खड़ी थी और सुभाष उसमें बैठ गया.

उसने मुझे नीचे पटक लिया और मेरी बुर में मुंह लगा कर किसी चट्टे की तरह पूरा रस लेकर मेरी चुदासी चूत को चूसने और चाटने लगा. कोमल की मां अंदर बैठी हुई हीटर के सामने गर्मी ले रही थी क्योंकि वो सर्दियों के दिन थे. मैंने कुछ धक्के ओर लगाए और भाभी की सूखी धरती पर 10-12 पिचकारी मारते हुए वीर्य की बारिश कर दी और उनके ऊपर ही गिर गया.

मेरा लंड जो पहले खड़ा था, अब वो दर्द के कारण फिर से ढीला हो गया था. पहले तो मैं जीशान की वजह से सोच रहा था कि आज भी तुम्हारी चूत नहीं मिलेगी.

जिसमें कि एक चार बच्चों की मां चूत मरवा रही थी या एक कर्नल की बीवी नौकर से मरवा रही थी.

मुझे भी मज़ा आ रहा था, तो मैंने कहा- दीदी, अब खेल शुरू करें!दीदी ने हां में गर्दन हिला दी. कुछ दो तीन मिनट बाद मैंने उनसे उठने के लिए कहा और उन्हें सहारा देकर उठा दिया. और तुम्हारा जो पीछे वाला हिस्सा है उसका तो कोई भी दीवाना हो सकता है.

हिंदी में ब्लू पिक्चर हिंदी में मैंने भाभी के दूध सहलाने शुरू कर दिए थे और वो भी मेरे साथ मस्ती करने लगी थीं. वर्मा ने मेरी बेटी की गांड भी मारी और उसने उसकी गांड में ही वीर्य छोड़ दिया.

मैंने सोचा कि उन्हें अपने हाथों और टांगों के बाल शेव करवाने होंगे … पर मामला कुछ और ही था. अपनी बहन की हॉट फिगर को सेक्स के नजरिए से देखा है या कभी उसके साथ सेक्स किया है? प्लीज़ मुझे बताना जरूर ताकि मुझे किसी तरह से तो लगे कि मैं ही पहला बहनचोद नहीं बनने जा रहा हूँ. कुछ देर बाद रोशन लाल बोला- चल अब उल्टी लेट जा रांड … अब तेरी गांड का नम्बर है.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी एचडी में

फिर दीदी ने मेरे लंड को अपने मुंह से निकाला और बोली- अब तुम्हारी बारी है. लेकिन मैंने आंटी को वापस आकर उनके एक एक अंग को चूस चूस कर मज़ा देने का वायदा किया. उसने अपनी चूत को पापा के मुंह पर सटा दिया और अपनी चूत को पापा के मुंह पर रगड़ने लगी और चटवाने लगी.

लंड को दीदी की बुर पर सेट करने के बाद मैंने हल्का सा धक्का दिया और मेरा लंड दीदी की चिकनी चूत में आराम से चला गया. मैंने उनकी चूचियों को ब्रा से आजाद कर दिया और दोनों हाथों से दूध दबाने लगा.

मंजू का पूरा चेहरा मेरे पेट से चिपक गया था और उसकी ठोड़ी मेरे अंडकोषों को टच कर रही थी.

धीरे धीरे उनकी बातें अब कम होना शुरू हो गयीं क्योंकि रात गहरी होती जा रही थी और ठंड बढ़ती जा रही थी. मैं नशीली आँखों से दीदी की चुसी हुई चुत को देखता हुआ सीधा खड़ा हुआ और अपना लंड अन्दर डालने की कोशिश करने लगा. रात में फिर खाना खाने के बाद भी हम तीनों ने एक साथ ही मिल कर चुदाई का मजा लिया और फिर सो गये.

उसके मम्मों को देख कर मुझे बाहर से ही लग रहा था कि मानो सनी लियोनी के बूब्स हैं. वो आदमी बोला- तो पीस है कैसा?रस्तोगी बोला- कमाल की चुत है यार, रंडी कम और नई नवेली दुल्हन ज्यादा लगती है. फिर जब कुछ देर के बाद वॉशरूम से किसी भी तरह की आवाज आना बंद हो गयी.

अलीज़ा थी तो एक कांस्टेबल, लेकिन वो रौब इतना दिखाती थी, जैसे पुलिस इंस्पेक्टर हो.

बीएफ एक घंटा की: मैंने कहा- आप इधर ही रुकना भाभी मैं अभी आपकी पसंद की आइसक्रीम लाया. फिर रात में तीन बजे बीच पर खुले आसमान के नीचे चोदा और फिर वहां से बीच हाउस तक नंगे ही आ गये.

फिर मेरा क्या होगा? इसलिए बेहतर है कि तुम मेरा साथ दो और मेरी गोद में सारी खुशियां डाल दो. 14 फरवरी का दिन था और मैं सुमित से मिलने के लिए काफी उत्सुक हो रही थी. भाभी ‘सी … ई … आह …’ की आवाजें निकाल रही थीं और बोल रही थीं कि प्लीज़ मुझे गर्भवती कर दो.

फिर वो बोले- एक दूसरे का लंड लेकर देखें क्या?मैंने कहा- ओके।फिर कौन पहले किसकी गांड में डालेगा इस बात को लेकर झगड़ा होने लगा.

उसने देखा कि उनका बेटा और बेटी एक दूसरे से एकदम नंगे होकर लिपटे हुए हैं. मैंने कहा- तुझे आदत नहीं है क्या किसी मर्द के साथ सोने की?मां बोली- तेरे पापा किसी औरत को संतुष्ट करने के इतने लायक कभी थे ही नहीं. आंटी साइन करने के लिए थोड़ी झुकीं, तो उनकी साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया.