बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ फिल्म सेक्सी एचडी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सक्से स्टोरी: बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ, तो भाबी बोलीं- मैं तो ये चाहती हूँ कि तुझे वीरू से अभी मेरे सामने चुदवाना होगा.

सुहागरात वाला बीएफ एचडी

भाभी के बारे में अभी तक कुछ समझ नहीं आ रहा था क्योंकि उनकी हरक़तों को समझना बहुत मुश्किल था. बीएफ जानवर सेक्सज़ाहिर था कि तीन तीन चुदाई की कहानियां पढ़ पढ़ के उस पर भयंकर कामवासना छा गई थी.

जज्जी क्या हुआ क्या हेल्प चाहिए आपको?मैडम जी ने कहा कि मेरे रूम का पंखा बहुत स्लो चल रहा है और गर्मी भी बहुत हो रही है. सेक्सी बीएफ सेक्सी बीएफ चुदाई वालीउसने भी मेरा लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगी, पर थोड़ी देर में ही उसने लंड बाहर निकाल दिया और बोली- मुझे लंड चूसना अच्छा नहीं लग रहा है.

उसने पीछे से मेरी गांड में अपना लंड डाल दिया और फिर से पूरी ताकत से मुझे चोदने लगा.बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ: रोशनी अपनी पतली पतली नंगी टांगों से चलकर मेरे पास आई और बोली- अब मुझे क्या करना है?मैंने पिंकी को पलंग पे सीधा लेटा लिया और रोशनी के दबे हुए पुट्ठों को हाथ से फैला कर पिंकी के सॉफ्ट टमाटर जैसे मम्मों पे बिठा दिया.

मैं भी बोल देती- हाँ हूँ तेरी कुतिया… साले चोद मुझे आआआहह ओह मुऊऊउउ… मम्मीममम मर गई… कितना मोटा लंड है… आअहह…’तभी मैं एकदम से अकड़ कर फ्री हो गई थी.मैंने प्रिया की बगल में मुंह दे कर एक जोर से सांस ली; एक नशीली सी सुगंध मुझे बेसुध करने लगी; इस सुगंध में प्रिया के जिस्म की ख़ुश्बू, प्रिया के डिओ की ख़ुश्बू, काम-तरंग में डूबे नारी-शरीर में उठती वो अलग एक ख़ास मादक सी खुशबू… सब मिली-जुली थीं.

इंडियन सेक्सी बीएफ सुहागरात - बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ

लेकिन जिस परिवार का सदस्य भरी जवानी में गुजर जाए तो वो पैसों से लौट कर नहीं आता.मैंने दीदी से कहा- जानू, सभी लड़के अपनी गर्लफ्रेंड को छोड़ कर तुम्हारे बदन का मज़ा ले रहे हैं.

उस भाभी रूपाली की उम्र करीब 32 थी, उनका फिगर एकदम मस्त था, उनके फिगर का साइज़ 34-32-36 का था. बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ मैं चिल्लाती रही कि अब छोड़ दे इसको…मगर वो बोल रहा था कि हरामजादी मुझे चैलेन्ज कर रही थी ना… अभी तो कुछ नहीं हुआ… देखना सुबह तक तुम्हें चलने लायक भी नहीं छोड़ूंगा.

फिर मैं सोचने लगी कि इसने ये वीडियो कब बनाई होगी, मेरे घर तो कोई आया नहीं… और जब में स्कूल जाती हूँ तो मेरा घर लॉक रहता है.

बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ?

मकान मालिक मेरी चूत को बहुत देर तक चाटता रहा और उसी दौरान मैं झड़ गई. वो मस्ता के बार बार राजे राजे राजे पुकारने लगी, बोली- अब कितनी देर और इंतज़ार करवाओगे तुम? नीचे सारा जूस निकल गया… आहहह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… राजे राजे राजे… कमीने… हाय हाय हाय… किस ज़ालिम से फंसी मैं… ओ… ओ… ओ… ओ… हो. ऐसे ही उसे चूमते और चूसते हुए मैं नीचे की तरफ आगे बढ़ा और अब मेरा फोकस साली की नाभि पर था.

भाभी ने मुझे किस किया और आई लव यू बोल कर कहा- राज आज तुमने मुझे खुश कर दिया. जब उसने मुझसे मेरे बारे में पूछा तो मैंने भी उसको अपने बारे में सब कुछ सच सच बता दिया. लेकिन जिस परिवार का सदस्य भरी जवानी में गुजर जाए तो वो पैसों से लौट कर नहीं आता.

मैं कभी कभी अपनी सहेली को बुलाने जाती हूँ, तो मैं उसके मकान मालिक से बातें कर लेती हूँ क्योंकि वो मुझसे हमेशा अच्छी बातें करता था. मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसे अपने ऊपर गिरा लिया और उसके चेहरे से बालों को हटाते हुए उसकी आँखों में देखते हुए कहा- आरुषि वाक़यी में तुम बहुत खूबसूरत हो!और फिर कब हमारे होंठ आपस में जुड़ गये कोई पता नहीं चला. वो भी बीच बीच में मेरा लंड बाहर निकालकर हल्की हल्की सिसकारियां ले रही थी.

फिर उसने मुझसे बोला- मैं तुम्हें इस समस्या से निकाल सकता हूँ, पर मेरी एक शर्त है. फिर उसने अपनी स्पीड थोड़ी धीमी की और मेरा मुँह को अपने वीर्य से भरता चला गया.

मैं भी गांड उठा कर उसके लम्बे और मोटे लंड से चुत चुदाई का मजा लेने लगी.

मैं दीदी को भी खूब गरम करने के लिए उसका दूध पीने लगा और जल्द ही दीदी की चुत भी लंड लंड चिल्लाने लगी.

शादी अगले ही महीने हो गई और शादी के बाद विक्रम मुझे कई जगह घुमाने के लिए ले गया. ”वो मेरे होंठ चूसने लगा और बड़े प्यार से लंड अन्दर करने लगा मगर मेरे नीचे तो आग लगी हुई थी- अब नहीं रहा जाता… पूरा डालो. ये सब नजारा देख कर मुझे अजीब भी लग रहा था और मेरा लंड भी खड़ा हो रहा था.

नीतू के घर में एक किरायेदार जोड़ा किराये पर रहने लगा और किरायेदार की कामुक नजर नीतू के सेक्सी जिस्म पर थी. मैंने उन्हें अपनी गोद में उठाया और बेडरूम में ले जाकर बेड पर लिटा दिया. तभी प्रिया अपने बाल व्यवस्थित करने के उपरान्त मेरी ओर झुकी, उसकी कज़रारी आँखों में शरारत की गहन झलक थी.

भाभी ने गुस्से से अपने बेटे को गाल पर ज़ोर से चांटा लगा दिया, तो बेटा ज़ोर से रोने लगा.

फिर थोड़ी देर में मैंने ही उससे कहा- तुम अब चली जाओ, काफी शाम हो गयी है, और मेरे घर के लोग आते ही होंगे!और वो मुस्करा कर आँखों में खुशी के आंसू लिए अपने घर चली गयी!तो दोस्तो, ये था मेरे जीवन का एक महत्वपूर्ण किस्सा! बहुत दिनों से मेरी चाहत थी कि मैं इसे आप के साथ शेयर करूँ! और अन्तर्वासना से अच्छी जगह इस तरह की बातों के लिए कोई और हो ही नहीं सकती. चुदाई के बाद चंदर बोला- बिंदु जी, जिस दिन आपका पति कहीं आउट स्टेशन हो, तो आपको मुझसे चुदाई के लिए पूरी रात के लिए आना होगा. अब वो एक दिन उन लड़कियों से पूछने लगी कि चुदाई में कितनी तकलीफ़ होगी और फिर कितने पैसे मिलेंगे?इस पर उनमें से एक ने कहा- तेरी चुत तो अभी चुदी भी नहीं है, इसलिए अगर तू कहे तो तेरे लिए में कोई ऐसे लंड खोज देती हूँ, जो तुमको 20000 दे देगा मगर उसके साथ तुमको पूरी रात भर चुदाना पड़ेगा.

क्योंकि उसने चार लड़कों को बुला रखा था और पता नहीं उन सबसे क्या बोला था कि सबके सब नंगे अपना लंड खड़ा किए हुए बैठे थे. मैंने आगे कहा- किरण कह रही थी कि काफी दिन से साथ में डिनर नहीं हुआ. मैंने ड्रेस को उनके घुटनों के थोड़ा ऊपर तक काटने के बाद छोड़ दिया और उनके दोनों घुटनों को चूसने लगा.

पर दूसरे दिन राघव ने मुझे अपने प्यार से समझा ही लिया और बिना मेरी मर्जी सम्भोग करने ना करने का उसने वादा किया.

तो इन पन्द्रह दिनों मेंइंडियन सेक्सी वाइफका क्या हाल होता होगा?उस समय भाभी के कपड़े देखकर मुझे कुछ कुछ हॉट सा फील हुआ था कि भाभी ने बहुत ही ज्यादा एक्सपोज करने वाले कपड़े पहन रखे थे. मैंने उनके घर के बाहर से उनको कॉल किया और बताया कि मैं आपके घर के बाहर हूँ.

बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ मुझे लगा कि भैया को पता नहीं है कि उनके नीचे में थी, शायद वो मुझे भाबी समझ कर चोदने के मूड में थे कि इतने में भाबी जाग गई थीं. रानी भी उसी क्षण राजे राजे राजे की पुकार लगाती लगाती स्खलित हो गयी.

बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ भाबी मुझसे काफ़ी मज़ाक करने लगीं और फिर हम दोनों एक दूसरे के क्लोज फ्रेंड हो गए. चूत, झांटों वाला स्थान और काफी गहराई तक जांघें उसके चूत रस व मेरी मलाई के मिले जुले माल से सनी हुई थीं.

मैंने कहा- अब ये तुम्हारी चूत में जाने के तड़प रहा है इसलिए कुछ ज्यादा ही बड़ा हो गया!उसने कहा- फिर रोका किसने है?मैंने भी ज्यादा देर करना ठीक नहीं समझा, हम दोनों ही गरम हो रहे थे, सोचा कि लोहा गरम है, मार दे हथौड़ा!मैं उसके नंगे बदन के ऊपर आ गया और उसकी टांगों को चौड़ी करवा दिया और अपना लोडा उसकी चूत पर रख के रगड़ने लग गया.

वाली सेक्सी बीएफ

फिर मैंने शांत होते हुए उससे फिर से पूछा कि ये वीडियो तुमने कब बनाया और क्यों बनाया?उसने कहा कि वो मुझे पिछले 1 साल से फॉलो कर रहा है और उसने मेरी तस्वीरें भी मुझे दिखाईं, जो उसने चुपके से खींची थीं. फिर मोबाइल उठा कर मैसेज खोला, चाट कुछ इस प्रकार है :समीर- सो के उठ गए?मैं- हाँ, अभी थोड़ी देर पहले ही उठा. मैंने हाथ को नीचे करके भाभी की साड़ी उठानी चाही, लेकिन साड़ी भाभी के पैरों में फंसी हुई थी.

अब तक मेरी सेक्स स्टोरी ले पिछले भाग में पढ़ा था कि मेरी सौतेली माँ बिंदु ने मेरी चुत की सील तोड़ने के लिए अपनी मेरे सौतेले भाई को कह दिया था. आह्ह्ह की बजाए मेरी सीत्कारें राघव के नाम की चिल्लाहट में बदल रही थीं. आपके मन में ये सवाल आया होगा न कि मेरे पति आने के बाद क्या हुआ?तो मैंने मेरे पति आने के बाद कभी मुझे स्कूल ट्रिप के बाहर जाना है, तो कभी मुझे मायके जाना है, तो कभी हम सहेलियां 2-3 दिन के लिए बाहर घूमने जा रहे हैं… कह कर और ऐसे ही बहुत से बहाने बना कर मनीष से मिलती रही और उसके साथ सेक्स करती रही.

दोस्तो, मेरा आपसे वादा है कि आप सब मेरी कहानी को पढ़कर एकदम गर्म हो उठेंगे.

खैर अब ये बातें छोड़ो अब तुम्हारे मेहनत के फल की बारी मिलने वाली है. जिन्हें पढ़कर वाकयी बहुत निराशा हुई, परन्तु कुछ इमेल्स के चलते अपने प्रिय पाठकों को छोड़ना मुमकिन नहीं है. मैं समझ गया था कि चाची अपनी सहेलियों के संग चूची और चुत में रंग लगा कर होली खेलने की बात कर रही थीं.

साथ ही मैं बहुत टाइट सलवार सूट पहनती थी, जिससे मेरे मम्मे उभरे हुए दिखते थे. तभी भाभी मुझसे बोली- वीशु जी, कल मैं और ये राजकोट शादी में जायेंगे तो दिशा घर में अकेली रह जायेगी, इसलिये कल आप सुबह और शाम को समय से खाना खा जाना! ओ के?मैंने हाँ में अपना सिर हिला दिया. उनका लंड मेरी चूत के पास में टकरा रहा था, मैं तड़प रही थी उसे अपनी चूत के अंदर लेने के लिए!मैंने जीजा जी को कहा कि अब और देर ना करें और मेरी कुंवारी चूत का बरसों पुराना ख्वाब पूरा कर दें!उन्होंने फिर से मुझे सोफे पर लिटाया और मेरी टांगों के बीच में आकर अपना लंड मेरी चूत से सटा दिया। उन्होंने आगे झुक कर अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और साथ ही साथ अपने लंड को एक झटके में मेरी चूत के अंदर डाल दिया.

मैंने कहा- तो पहले कितनी देर तक होता था?वो बोली- क्या जीजू आप भी!मैंने कहा- बताओ तो सही. भाभी अपने हाथों में लंड ले मेरे मुँह के पास फेरने लगीं और मैंने जैसे ही मुँह खोला, राजू ने गप से अपना लंड अन्दर पेल दिया.

वो मेरे दूध दबाता हुआ बोला- जब तक इस लंड का पानी ना निकले, इसको चूसती रहो. मैं गांड मारने का ज्यादा शौक़ीन हूँ इसलिए उसकी गांड पर पहली नजर डालते ही मेरे होश उड़ गए. अब भैया की बारी थी, भैया ने भाबी को पकड़ा और भाबी का भी टॉप फाड़ कर भैया उनके मम्मों को दबाने लगे.

और हां भैया, अगर ये बात अगर मम्मी पापा को पता लगी, तो मैं कसम खा कर कह रही हूँ कि मैं सुसाइड कर लूँगी.

ब्रा उतरते ही उसके चूचे ऐसे बाहर आए, जैसे किसी कबूतर को पिंजरे से आज़ाद कर दिया हो. यह खेल प्रशांत का ट्रांसफर होने के बाद ही रूका।प्रशांत और नीना चुदाई के बाद की कहानी मैं कभी शेयर करूँगा।इसी तरह जब मैंने नीना के साथ मिलकर थ्रीसम में अपने बचपन के दोस्त अमित का 8” का मस्त लंड शेयर किया तो नीना की बल्ले-बल्ले हो गई. इससे पहले मैं कुछ और डायलॉग मारता, जूसी रानी लौट आयी और आकर मेरी बग़ल में अपनी जगह पर बैठ गयी.

कोई लेडी अपने ब्वॉयफ्रेंड की बांहों में बाँहें डाल कर डांस कर रही थी, तो कोई बार में बैठ कर ड्रिंक ले रही थी. मैं हंस कर उनको कहा- ऐसे नहीं… जरा ठीक से समझाओ न भाभी… आपका नसीब कैसा है.

बस बादलों की गर्जना और ठंडी हवा ने पूरे माहौल को रोमांटिक बना दिया था. उस दिन मुझे गालियां क्यों बक रहा था?नवीन- हम आपको गालियां नहीं देना चाहते थे. मैं भी उसकी चुत की गर्मी को सहन नहीं कर पाया और उसकी चुत में ही झड़ गया.

रंडी की बुर चुदाई

फिर मैंने अपनी पैंट का हुक बंद किया और हम उनके फ्लैट पर पहुंच गए, जहां वह रहते थे.

कहते है जितना गहरा मेहँदी का रंग उतना गहरा प्यार!मैं- पर हमारा प्यार तो सिर्फ कुछ इंच गहराई तक पहुँच सकता है!इतना बोल कर उसके चूत में उंगली डाल दी और वो उचक कर मेरे गले लग गयी. फिर मैं पढ़ने में लग गया लेकिन मेरा ध्यान तो उसकी खूबसूरती को देखने के बाद लग ही नहीं रहा था पढ़ाई में… और मेरी अंदर की वासना भी जाग रही थी. कमरे से निकल कर सामने चाय की दुकान पर बैठ के चाय ऑर्डर की और मोबाइल में गेम खेलने लगा.

मेरे हाथ में कामिनी का हाथ दो और बोलो कि मेरी कामिनी को खुश कर दीजिए. इस फोन के बाद मैं निश्चिन्त होकर चंदर के रूम में जाने की तैयारी करने लग गई. बीएफ एचडी वीडियो फुल एचडी वीडियोबाद में उठ कर देखा तो इस चुदाई के दौरान उसकी मुनिया लाल आंसू से भी भर भर के रोई थी.

फिर एक दिन उस से फेसबुक पे बात हुई तो वो बोल रही थी- अगर मुझे रात में आपकी याद आये तो मैं क्या करुँगी?मैंने उसको अपना मोबाइल नंबर भेज दिया और कहा- अगर रात में मेरी याद आये तो मुझे कॉल कर लेना!इतना बोल कर मैं सो गया. लेकिन उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं की, मैं समझ गया कि ये एड़ा बन के पेड़ा खाना चाहती है.

बल्कि इसलिए हैं कि आपको अपनी इकलौती खूबसूरत जवान कुँवारी बहन के साथ प्यार करने का मौका मिला. खैर अब पिंकी मेरे लंड को अपनी तरफ खींच रही थी, मैं उसका इशारा समझ गया. चूंकि मैं कहीं भी नहीं जाती हूँ तो मम्मी ने कहा कि तुम अपनी मौसी के घर घूम आओ.

उसने मेरा एक जोरदार चुम्बन लिया और एकदम से मेरे होंठ चूसने लगा… और जोश में आ गया. इस कहानी के पिछले भागसरकारी अस्पताल में मिला देसी लंड-1अभी तक आपने पढ़ा कि मैं सरकारी अस्पताल में किसी देसी लंड की तलाश में था, एक लंड मुझे पसंद भी आया था लेकिन उसने मुझे पहले तो दुत्कार दिया था लेकिन फिर वो मेरे पास आया. पहले तो ये सुनकर थोड़ा अचम्भित हो गई, फिर कहने लगी- प्लीज़ आप यकीन कीजिए, हमने कुछ नहीं किया.

मैंने भुनभुना कर कहा- ओके… तुम भी पहले मेरी तरह उससे यह 10% की मुहर लगवा लो.

तो आप रशियन लैंग्वेज के किसी कोर्स में दाखिला ले लीजिए, सबसे आसान उपाय है!” मेरी पत्नी ने उन्हें कहा. यदि आपने किसी ट्रेवल एजेंसी से ट्रेन की कनफर्म्ड टिकट खरीदी और आपका नाम आरक्षित लिस्ट में नहीं है तो तो क्या आप उस एजेंसी वाले को छोड़ देंगे? उसे फ़ोन करेंगे, पैसे वापस मांगेगे और अगर उसने फ़ोन नहीं उठाया तो पुलिस में कंप्लेंट करेंगे.

झड़ने के एक पल बाद वो उस लड़की के ऊपर से हटा और अपने कपड़े पहनने लगा. उस टाइम मुझे बहुत बुरा लगा, मैंने भाभी को बोला- आपको ऐसा नहीं करना चाहिए. मुझे बड़ा अजीब लग रहा था, लेकिन मैंने पूरी हिम्मत करके उन्हें पूरी तरह से चूम कर, चाट कर और चूस कर चरम सीमा तक पहुंचा दिया.

उसने भी अपनी टाँगें खोल कर मेरे लंड का स्वागत किया और मैंने अपने लंड का सुपारा उसकी चूत के मुंह पर रख दिया और झटका मारा. यारो, मेरी पिछली कहानीसड़क पर नये यार का लंड चूसने का मजामें आपने पढ़ा कि मैं अपने बॉयफ्रेंड के दोस्त का लंड खुली सड़क पर चूस कर अपने घर आई. फिर उसके एक बोबे पे हाथ रखके उससे पूछा- इन्हें चूसा है उसने?उसका जवाब हाँ था.

बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ अब वो ऊपर से और उसकी माँ नीचे से गांड उछाल उछाल कर धक्के मार रही थी. उस मोहक, मादक दृश्य को निहारते हुए मैंने जल्दी जल्दी अपने कपडे उतार दिए.

ब्लू फिल्म मस्ती

वो मेरे मुँह में अपनी जीभ पूरी ही डाल देता था, मैं उसे चूसने लगता था, जैसे भूखा बच्चा अपनी माँ की छाती को चूसता है. फिर अनुज बोला- यार ये तो साली चूत नहीं दे रही और मेरा लन्ड खड़ा हो रहा है. ओरल सेक्स हर शारीरिक प्रेम का आधार होता है, ना कुछ ज्यादा और ना ही कम, इस प्रेम के बिना तो हर सहवास अधूरा है.

ऐसा मेरा मानना है और हर उस आदमी का यही मानना होगा जो मेरी तरह फीलिंग रखते हैं. जब लंड उसके मुंह में था तो ऐसा लग रहा था जैसे मेरा लंड किसी लड़की की चूत में जा रहा है. सेक्सी बांग्ला वीडियो बीएफमेरे शर्मीले स्वभाव के कारण मुझसे तो भाभी जी को साधारण बात बोलना ही बहुत बड़ी बात थी.

जिन्हें पढ़कर वाकयी बहुत निराशा हुई, परन्तु कुछ इमेल्स के चलते अपने प्रिय पाठकों को छोड़ना मुमकिन नहीं है.

इधर योंग मेरे होंठ चूस रहा था और बूब्स के रगड़ रगड़ का दबा रहा था।कुछ ही देर में योंग ने सबके सामने मेरी शर्ट खोल दी और मेरी ब्रा भी फाड़ दी और वो मुझे उठा कर बिस्तर पर ले गया. वैसे हाँ, लेकिन वो बहुत बिजी है अपने काम में, सिर्फ सन्डे और छुट्टियों में ही खाली रहता है.

उसने मेरा लंड छोड़ कर अपना हाथ मेरी कमर पर लपेट लिया, मुझे और करीब चपेटा. वो बूंदें जब मुझमें ही आग लगा रही थीं तो कोई मर्द देख लेता तो उसका लंड बुर में जाने तो तड़प उठता. वो थोड़ी मचलने लगी, दर्द से कराहने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…पर मैंने कहा कि थोड़ा दर्द झेल ले.

मैं जब उनके कमरे में गयी तो वहाँ उसकी सेक्टरी एक कोने में बैठकर रो रही थी और अनुज उसे मनाने की कोशिश कर रहा था.

फिर मैं एक सुनसान पहाड़ पर बाइक ले कर चला गया, ये पहाड़ ज्यादा ऊँचा नहीं था, मैंने मोटर साईकिल भी पहाड़ पर चढ़ा दी. ”मैंने सलवार को ऊपर खींचा और बिना नाड़े को बांधे, नीचे की बर्थ पर ही लेट गई और कुछ देर बाद मैंने आँखें बंद कर लीं. फिर थोड़ी देर बाद मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसके चूचों को पकड़ के ताबड़तोड़ ठोकरें मारने लगा.

चाइना चाइना बीएफएक तो मैं डर रही थी कि कहीं यह सब पापा को कुछ बता ना दे और दूसरा मुझे भी लंड चाहिए था, जो आज मिल रहा था इसलिए मैं बिंदु माँ की बातों के अनुसार सब कुछ करती रही. मेरा लंड भाबी की चुत को चीरता हुआ उनकी चुत की गहराइयों में समा गया.

ग्रुप मे चुदाई

मैंने झटके से फ़िर से सर बिस्तर पर पटक दिया और सर लेफ्ट राइट घुमाने लगी. तभी रोशनी ने अपनी आँखें खोल के अपना चेहरा नीचे किया, पर मैंने झट से उसके होंठों को अपने होंठों में ले लिया. मैं- अरे रामसुख साले तेरे दादा ने मेरी गांड फाड़ कर रख दी… तू इसे नखरा कह रहा है.

फिर उसने नीचे की ड्रेस को उतारने को बोला, ऋतु ने स्कर्ट भी निकाल दी. मैं बोला- प्लीज छोड़ दो यार!वो बोली- मैं तेरी यार नहीं हूँ… समझा! जल्दी आ… नहीं आया ना तो याद करेगा… ऐसी गांड मारूंगी तेरी कि जिन्दगी भर याद रखेगा… चल जल्दी आ. फिर उसने मुझको नंगी किया और खुद भी नंगा होकर मुझे चोदने में लग गया.

इसके बाद हम दोनों उसके स्टडी बेड पर ही एक दूसरे से मजाक में झगड़ने लगे. बात आज से एक वर्ष पहले की है जब मैं केवल 21 वर्ष का था पर अच्छी हाइट और वजन के कारण मैं बहुत अच्छा दिखता हूँ. मैंने आज तक चार आदमियों के लंड अपनी गांड में लिए हैं और कम से कम 10 आदमियों का लंड चूस भी चुका हूं.

आआ स्सस्सस्स उम्म… अब तुम भी नंगे हो जाओ… और अन्दर तक चूसो इसे आआह…”उसने चुत चाटना शुरू कर दी. यहाँ कोई आने का साधन मुझे नहीं मिल पा रहा है, इसी बहाने तुम्हारे साथ वक़्त भी बिता लूंगा.

रश्मि ने सिमरन से बड़े रूठे अंदाज में कहा- चंडीगढ़ से 7 बजे की निकली हुई तुम अब पहुंची हो?फिर मेरी तरफ देख कर बोली- गाड़ी पंचर हो गई थी क्या?सिमरन कहने लगी- तू अन्दर तो आने दे, सारा हिसाब दे दूंगी.

दीदी ने मुस्कान दी और मेरी तरफ पीठ करके पूछा- अब?दीदी की पीठ बिल्कुल नंगी थी, टॉप एक बारीक धागे से बंधा हुआ था. हिंदी में चुदाई बीएफ दिखाओमैंने पानी में एक डुबकी मारी और सीधा उसकी स्कर्ट में से पेंटी तक पहुँच गया और पानी के अन्दर ही उसकी पेंटी के ऊपर से चूत पर एक किस कर दिया. हिंदी बीएफ भेज दे बीएफमैंने भी अपने मन में सोच लिया था कि आज भाभी की गांड भी ज़रूर मारूँगा. उस दिन हमने डेढ़ दो घंटे सेक्स लिया जिसमें अनामिका ने तीन बार पानी छोड़ा था और मैं दो बार झड़ चुका था, एक बार मैंने अपना माल उनकी चूत में छोड़ दिया था और दूसरी बार उनकी गांड में।और फिर थोड़ी देर बाद हम किस करने लगे और मैं अपने बदन को साफ कर के मेरे कपड़े पहन कर मेरे घर वापस आ गया.

अब उसकी चूत पर ध्यान देने के इरादे से मैंने उसकी पैंटी से नाक लगा कर गहरी सांस लेते हुए सूंघा.

दूसरी कहानी थीमेरी फुद्दी को लंड की आदत पड़ गईजिसमें मैंने आपको बताया था कि मैंने पहली बार अपनी चूत कैसे चुदवाई थी. वन्द्या की नाक बहुत सेक्सी है, उसको भी मुंह में भर लेना चूसना, बहुत परफेक्ट है इसका एक एक अंग, अंकल आप वन्द्या को आज सटिस्फाई कर दो, अंकल ऐसे ही आप दोनों को देखकर मुझे बहुत मजा आ रहा है. जीन्स में खड़ा लंड तंबू बना हुआ था और मैंने चुपचाप उससे छुपाते हुए चाय पी रहा था.

मेरे दिमाग में एक शैतानी तरीका आया और मैंने बाहर से उसे आवाज लगाई- काम्या, जरा दरवाजा खोलो, मेरा हाथ जल गया है, टूथपेस्ट दे दो. हमारे यहाँ नई दोस्ती की शुरुआत जाम उठा कर की जाती है!” आर्थर मुस्कुराया. उसी समय उसने जल्दी से नीचे बैठ कर मेरा पैंट खोला और देखा कि 7″ का लंड एकदम कड़क और झटके मार रहा है.

ब्लू पिक्चर हिंदी इंडियन

कामिनी जोर से बोली- राहुल!मैंने कहा- हां…वो बोली- जल्दी से इधर आ… और साफ़ कर. मैंने एक और चुम्बन ब्रा में कसे हुये दोनों उरोजों के मध्य में लिया और दोनों उरोजों में बनी दरार में अपनी जीभ घुसा दी. दोस्तो जैसा कि मैंने पिछली चोदन कहानी में आप से वादा किया था कि मैं अगली कहानी में बताऊंगा कि मैं कॉल बॉय कैसे बना।अब ज्यादा देर ना करते हुए सीधा कहानी पर आता हूँ.

वॉव, उसका 7 इंच का लंबा लंड मेरे सामने ऐसे आया जैसे कोई साँप वर्षों से पिजरे में कैद रहा हो और अभी आज़ादी मिली हो.

मेरा लंड 7 इंच का है, तो वो उसे देख कर बोली कि ये इतना बड़ा मेरे अन्दर कैसे जाएगा.

[emailprotected][emailprotected]कहानी का अगला भाग:इत्तेफाक से जेठ बहू के तन का मिलन-2. मैंने तुरंत रानी को उठा कर पलटाया जिससे उसके मुंह मेरी तरफ हो गया, और फिर धड़ाम से लंड चूत में दिए दिए दीवान पर लेट गया. बीएफ गर्ल्स बीएफलंड को घुसाने के बाद चंदर मेरे निप्पल मींजते हुए बोला- बिंदु जी, लंड पर अब आपको ही धक्के मारने हैं.

मैंने विवेक के हाथ में कामिनी का हाथ दिया और बोला- मेरी कामिनी को खुश कर दीजिए. सुर्ख गुलाब के बुके प्राप्त कर खुश हुई नताशा ने भी शेम्पेन का एक पैग लेने की सहमति दे दी. फिर लड़का पूछता है गांड के बारे में तो रेशमा बताती है कि वो गांड मरवाती है, उसे गांड मरवाना पसंद है.

उसने उस चादर से मेरे को कमर से नीचे ढक दिया और सीट पर बैठे हुए ही चादर के अन्दर से ही मेरा लंड मुँह में लेने लगी. मैंने भी हामी भरते हुए उसका हाथ पकड़ लिया, वो तो बस मुस्कुराए जा रही थी.

वहीं मेरे ऑफिस में एक लड़की भी थी! चंचल, बड़ी बड़ी आंखें, हमेशा फुर्तीली और तेज! अपना काम बखूबी करती और फिर किसी की एक ना सुनती!उसके साथ मेरा काफी अच्छा दोस्ताना हो गया! हम दोनों मन लगा कर अच्छा काम करते और फिर कभी कुछ बातें कर लेते!ऐसे ही कुछ दिन बीते, फिर महीने बीत गए.

इसके बाद दो दिन बस एक दूसरे को देखना, मुस्कराना, नजरों के तीर झेलना, छूकर चले जाना, इसी में समय जाता रहा!तीसरे दिन किसी काम के चलते वो मेरे घर शाम को आई! उस समय पर मेरे घर पे कोई नहीं होता तो उस दिन भी कोई नहीं था! सब आठ बजे के बाद लौटते थे, हमने काम की बातें की और काम ख़त्म कर दिया. मैंने चुपके से बायीं तरफ देखा नगमा तो सो रही थी, फिर देखा कि नगमा की माँ का हाथ मेरी जांघ के ऊपर था और वो गहरी नींद में थी. अंत में मेरे लंड से भी वीर्य की पिचकारियाँ निकलने लगी और रश्मि की चूत में गर्म गर्म लावा छूटने लगा.

मराठी बीएफ सेक्स बीएफ अब मेरी हालत बहुत खराब हो गई थी, मुझे भी चूत में डालने के लिए एक लंड चाहिए था, जो नहीं मिल पा रहा था. उसने मेरे अंडर आर्म को चूसना शुरू किया, जो बिना बालों के साफ़ किए हुए थे.

इसके साथ ही मैंने अपने हाथ को नीचे ले जाकर उसकी सलवार को नाड़ा खोलना चाहा. जब तक वो कुछ सोच पातीं, उसने माँ को पलंग पर चित लिटा दिया और बिना समय गंवाए अपना खड़ा हुआ लंड अपनी माँ की चूत में घुसेड़ दिया. मेरे ऐसा पूछने के बाद वो मेरे पास आया और मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने बेडरूम में ले गया, वहाँ उसने मेरी बड़ी बड़ी फोटोज फ्रेम करके दीवार पर लगाई थीं.

गांव की देसी बीएफ

मगर हर चुदाई के सिर्फ 10000 ही मिलेंगे और मैं बस एक बार ही चोदूंगा. इसके बाद दो बार और मुझे कमला को चोदने का मौका मिला फिर उसके 6 महीने बाद ही उसकी भी शादी हो गई. मुझे देखते ही नीना ने डॉक्टर साहब से बड़ी गर्मजोशी के साथ मेरा परिचय कराया। डॉ.

मैंने कहा- चलो… आखिर आपने मुझसे नजरें तो मिलाई!औऱ हम सब खिलखिलाकर हंस पड़े।उसने शरमाते हुए फिर से नजरे झुका ली।तब लग रहा था जैसे वह भी मुझे पसंद करती है।यह हमारी पहली मुलाकात थी और पहली मुलाकात में ही हमारा प्यार परवान चढ़ने लगा था।इसके बाद मैंने रोज क्लास अटेण्ड करना शुरू कर दिया, हम साथ बैठने लगे, ढेरों बातें होने लगी. मैंने वासना भरी आवाज में उससे लिपट कर कहा- अभी तो मैं ही काफ़ी हूँ तुम्हारा ईमान बिगाड़ने को, उसके बाद में कुछ और सोचना.

”रोज़ नहीं लगती थी क्या?”ऐसी बात नहीं पर तुम सच बहुत खूबसूरत लग रही हो.

मॉम अपना मुँह लंड के करीब ले गईं और उसी अवस्था में नवीन के मुरझाये हुए लंड को जीभ निकाल निकल कर चाटने लगीं. अगर तुम्हारा भाई भी काम करना चाहिये तो मैं उसे भी यहाँ पर लगवा दूँगी. हम दोनों प्रेमी-प्रेमिका बन कर जाएंगे और वहां मुझे दीदी नहीं जानूं बुलाना और मैं तुझे जानेमन कहूंगी.

कभी कभी जब जोर से उसका निप्पल चूस लेती या दूसरे हाथ से दबा देती तो, उसके मुँह से निकलने वाली मीठी सी सीत्कार मेरे लिए मधुर संगीत का काम कर रही थी. फ़िर मैं उनके जिस्म को सहलाता हुआ उनके पीछे गया और उनकी गांड के छेद पर अपना लंड टिका दिया. एकदम पर्फेक्ट शेप में मेरे मम्मों को देखकर वो मदमस्त हो गया, मेरे मम्मे एकदम टाईट और तने हुए थे.

अपने भैया से बोलना कि वो मेरे माता पिता से सबके सामने बोले कि उससे बड़ी भारी ग़लती हुई है और वो सबसे माफी माँगता है जबकि वो माफी माँगने के लायक नहीं है.

बीएफ सेक्सी चुदाई का बीएफ: एकाध बार पुरानी जुगाड़ के साथ लंड चुसाई करवा कर खुद को शांत भी कर लिया था. मैं उनको देख रही थी, उनका पेंट का जिप जहां होता है, वह बहुत उठा हुआ था, मैं समझ गई कि जीजा भी अब एक्साइटेड हो गए लगता है.

फिर थोड़ी देर में आंटी झड़ गईं और उनका पूरा रस मेरे मुँह में चला गया, जो नमकीन और टेस्टी था. तभी मैं उसकी गांड में ही झड़ गया, हम लोगों ने जल्दी से कपड़े पहने और बस में चढ़ गए. तब उसको स्क्रीन पर उसके पहले दिन का लिया हुआ सेक्स क्लिप दिखा कर बोला कि यहाँ से चलते बनो वरना यह क्लिप तुम्हें जेल की हवा तो खिलवा ही देगी और जो भी सुनेगा और देखेगा तुमको चप्पलें मारेगा.

मैंने पूछा- क्या हुआ?सोनिया बोली कि वो प्रेग्नेंट है और माँ बनने वाली है.

मेरा गाउन उतार कर पूरी नंगी करके मुझसे बोला- बोलो, पहले किससे चुदना चाहोगी. एक बार उसकी चूत में लंड को डाल देता और अगली बार उसकी गांड में धकेल देता. उसने तेजी से स्वयं तकिए पर सिर रखकर लेटते हुए, एक दिन की पार्टनर को अपने पेट पर बिठाते हुए अपने फनफनाते लंड को उसकी चूत में घुसेड़ दिया और अपने कूल्हे उठा उठा कर गहरे धक्कों के साथ मेरी जीवनसंगिनी की चूत मारने लगा.