ससुर बहू की बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,इंग्लिश bf पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी गाने पुराने: ससुर बहू की बीएफ पिक्चर, रात को बंगालन आंटी का मैसेज आया कि कल मेरे पति ऑफिस के काम से एक हफ्ते के लिए बाहर जा रहे हैं.

सबसे बड़ा लैंड

ये सुनकर मैंने अपने लोअर को भी घुटनों तक नीचे किया और लंड को बाहर निकाला. सुहागरात कैसे किया जाता हैदीदी बोलीं- हां … वो तो बोल रहा था कि क्या मस्त चूत है … उसे चुदाई में बहुत मजा आ रहा था.

मैं उन्हें देख कर रुका और उनसे पूछा- आपको क्या चाहिए … आप मुझको पिछले कुछ दिनों से देख रहे हो. सनी देओल की हिंदी फिल्मवो सभी जाते हुए शरद को बधाई और मुझे ये पार्टी रखने के लिए शुक्रिया कहने लगे.

फिर जल्दी ही उसकी एक उंगली सेक्सी स्टूडेंट की चुत के छेद में अन्दर बाहर होने लगी थी.ससुर बहू की बीएफ पिक्चर: वो मुझे अचानक से रूम में आया देख कर चौंक गईं और बोलीं- अरे योगी तू कब आया … बैठ.

फिर मेरी तरफ देखते हुए बोला- दीदी तुम भी चेंज कर लो।मैं दो मिनट तक उसे देखती रही कि वो अब बाहर जाये लेकिन बेशर्म बोला – अरे दीदी, तुमने अभी तक चेंज नहीं किया?भो … गाली तो लगभग निकल ही गयी थी लेकिन अपने को काबू में करते हुए बोली – अरे तू पहले तो बाहर जा!ओह हाँ!” सकपका गया और बाहर जाने के लिये कमरे से निकला ही था कि पलट कर वापिस आ गया।क्या हुआ?” मैंने पूछा.दोस्तो, आपने मेरी पिछली सेक्स कहानीदोस्त की शादी में मेरी पत्नी का रंडीपनाको पढ़ा था उस सेक्स कहानी का लिंक दे रहा हूँ.

बड़े काले लंड से चुदाई - ससुर बहू की बीएफ पिक्चर

मैंने लंड का सुपारा चूत की फांकों में सैट किया और एक धक्का उसकी चूत में दे मारा.मुझे दिल्ली में 10 दिन रुकना पड़ा, तो मैंने सोचा कि मैं थोड़ा घूम भी लेता हूं.

अब सुमोना सातवें आसमान का मजा ले रही थी और वो भी अपने आपको स्वर्ग में महसूस कर रही थी. ससुर बहू की बीएफ पिक्चर फिर मैंने उसे अपने लंड से नीचे उतारा और उसके मुँह में लंड देकर रस झाड़ दिया.

मैंने पूछा- मैडम, क्या आप नहीं जानती हैं कि मैं भी यहीं हूं … फिर भी आप ऐसा कर रही हैं.

ससुर बहू की बीएफ पिक्चर?

मैंने तो बल्कि इनसे कई बार कहा भी कि ऐसा कैसा प्यारा दोस्त … जी एक बार भी अपनी भाभी से मिलने नहीं आया. शाम को सात बजे मेरी नींद खुली, तो मैंने होटल से खाना आर्डर कर दिया. दोनों चूचियां चूसने के बाद मैंने उसके घाघरे का नाड़ा ढीला किया तो घाघरा नीचे गिर गया.

1st सेक्स की कहानी में पढ़ें कि मैं पड़ोस की एक लड़की को दिल से चाहता था पर उसने मेरे प्यार को ठुकरा दिया. अगले दिन जब मैं स्कूल से घर आया तो रास्ते मैं उन्हीं ने मेरा पीछा किया. ब्यूटीफुल गर्ल्स सेक्स कहानी दो सहेलियों की चूत चुदाई की कहानी है जो मुझे नशे की हालत में सड़क पर मिली थी.

बहुत देर तक उन्होंने मेरे बोबों को दबाया, फिर मुझको जोर से पलट दिया. फिर मौसी ने पहले इधर-उधर देखा कोई नहीं था, तो मौसी ने मुझे मेरे सर से पकड़ा और किस करने लगीं. मैंने पहले टॉयलेट में जाकर अपने लंड को मनाया कि कुछ देर रुक जा भोसड़ी के.

मैं जल्दी से बाथरूम से गीला कपड़ा लेकर आया और उसकी चूत और मेरे लंड से खून साफ़ किया. वो बार बार अपनी गांड उठाकर मेरे मुँह में देने का कोशिश करती और अपने हाथों और सिर को उठाती हुई पटकने लगती.

बॉय बॉय सेक्स कहानी के पहले भागचिकना लड़का लौंडा बनना चाहता थामें मैंने अब तक आपको बताया था कि नील नाम का नमकीन लौंडा मेरे लिए दारू की बोतल लाया था.

मैंने कपड़े निकालते समय देखा कि उसके ब्रा की साइज बहुत बड़ी थी और चूचे तो मानो ऐसे थिरक रहे थे कि बस चूसने से ही कामुकता शांत हो सकती थी.

दोनों मम्मों के रस को पीने के बाद मैंने अपना हाथ उसकी बुर की तरफ बढ़ा दिया. फिर हम दोनों ने तय किया कि जब तक कमरे का इंतजाम नहीं हो जाता, तब तक यूं ही रगड़ सुख से हम काम चला लेंगे. मेरी ढलती जवानी की अधेड़ उम्र में जांघों के ऊपर और उरोज के नीचे मोटी गदरायी हुई फैली सी मेरी कमर अपनी सीट से निकल कर उसकी सीट के छोर तक तक जा रही थी.

मैंने कहा- हां रहने दो … आज ही सेक्सी लग रही हूँ, इससे पहले तो मैं सेक्सी थी ही नहीं, इसी लिए आज तक आपने मेरे लिए एक शब्द तक नहीं बोला. मैंने पूछा- क्या हुआ?तो वो बोला- यार मेकअप वाला नहीं आ पाया, उसका एक्सीडेंट हो गया है. मैं उसके मम्मों को दबा रहा था और पीछे से इतनी जोर से पकड़ा हुआ था कि उसका छूटना नामुनकिन था.

Xxx भाभी हिंदी कहानी के पहले भागदोस्त की फ्रेंड भाभी को पटाने की कोशिशअब तक आपने जाना था कि कल्पना भाभी मेरी बातों में आ तो गई थीं मगर वो अभी मुझसे बेबाकी से खुल नहीं रही थीं.

कई लोगों ने बहुत सारे प्रश्न किए कि इतनी जंगली तरीके से क्यों चोदते हो और उसकी चुदाई के बाद क्या और किया. मैं भी थोड़ी देर बाद अन्दर घुसा और वो मुझसे लिपट कर मुझे किस करने लगीं. मैंने उसे अपने सीने में भर लिया और एक बार फिर से चुदाई का दौर शुरू हो गया.

तब मैंने कहा- मौसी मैंने आपको 3 बार चोदा, अभी मन नहीं भरा क्या?मौसी हंस कर बोलीं- बेटा, तेरी जवानी के साथ ही मुझे भी जवानी आ गई है. योनि से बह रहा लसलसा रस उसकी उंगली पर मेरे पेटीकोट और साड़ी से छनकर पहुंच चुका था. जबकि श्रेया के कॉलेज में एक लड़का था, जो उससे एक तरफा प्यार करता था.

फिर कुछ देर बाद 5 औरतें बस में चढ़ीं, जिनमें से 2 लगभग 30-32 साल की रही होंगी.

आपको मेरी सिस्टर हॉट सेक्स स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके बताएं. मुंतजिर- आह … फाड़ोगे क्या?’मैंने उनकी बात को अनसुना करते हुए फिर से झटका मारा, तो आधा लंड चुत को चीरता हुआ अन्दर धंस गया था.

ससुर बहू की बीएफ पिक्चर आखिर वो उस रास्ते को पार करते हुए उस जगह पहुंच गयी, जहां उसकी बड़ी बहन अपनी चूत चुदवाती थी. अब मेरा हाथ मुंतजिर की चूत पर आ गया था … उनकी चूत से कामरस निकल रहा था.

ससुर बहू की बीएफ पिक्चर मैं उनका लम्बा और मोटा खड़ा लंड देख कर सहम गई लेकिन चूत में चुनचुनी हो रही थी कि बस किसी तरह से इस लम्बे लौड़े से चुद लूं. उनका 7 इंच का लंबा लंड देखकर मेरे मुंह में पानी आ गया लेकिन मैंने जाहिर नहीं होने दिया।डॉक्टर ने मेरे हाथ में कंडोम दिया और लंड पर चढ़ाने को कहा.

उसके इतना करने के बाद भी जब दीदी ने विरोध नहीं किया तो उसका साहस और भी बढ़ गया.

सेक्सी गाने वाली पिक्चर

दोस्तो, मैं आशा करता हूँ कि आपको आंटी की बेंगाली सेक्स कहानी अच्छी लगी होगी. रास्ते में मुझे कुछ डर भी लग रहा थालेकिन मैं हिम्मत करके उनके घर की तरफ चला गया. ”मैंने मुमताज को बेड पर लिटा दिया और उसके बगल में लेटकर उसकी चूची चूसने लगा, दूसरी चूची के निप्पल्स से खेलते हुए मैंने उसकी चूचियां और निप्पल्स कड़क कर दिये.

अब अंकल मां के ऊपर चढ़ गए और मां के दोनों पैरों को चौड़ा करके अपना लंड मां की चूत पर सैट कर दिया. ”मैं समझी नहीं कि मुझ जैसी नाचीज़ आपके किस काम आ सकती है?”तुम नाचीज़ नहीं हो, शबाना. इतनी बात होने के बाद मम्मी ने सभी का खाना लगा दिया और हम सभी ने खाना खाया और अपने अपने रूम में जाकर सो गए.

मैंने ध्यान दिया तो देखा कि नीचे उसने लाल रंग की पैंटी पहनी हुई थी.

उन्होंने अपने हाथ से एक स्तन मेरे मुँह में देने की कोशिश की तो मैंने उनकी एक चूची को अपने मुँह में भर लिया और निप्पल खींचते हुए चूची को अपने होंठों से मींज दिया. चूंकि वो मेरे लिए एक अपरिचित था, तो पहले मैंने उसकी तरफ सवालिया निगाहों से देखा. अमित में मेरी मांग में सिंदूर भर दिया और मैंने अमित को एक गिलास में दूध पिला कर सुहागरात का कार्यक्रम शुरू कर दिया.

हम तीनों बहनों की चुचियां और गांड इतनी ज़्यादा भर गई थीं कि क्या बताऊं. जब भी मैं उनके साथ जाती थी तो वो औरतें मेरे जेठ जी के बारे में बहुत बातें करती थी. उन्होंने बड़बड़ाते हुए कहा- ओह युवराज … यू आर सो गुड, कम ऑन मुझे और गीला कर दो.

मैंने उनकी फूली हुई गांड देखी और पैर से जांघों तक हाथ फेरने के लिए दीदी से पूछा. ये मेरी पहली यंग सिस्टर सेक्स कहानी है, इसलिए कोई गलती हो तो माफ कीजिएगा.

मित्रो, भाभी की सेक्स चुदाई आपको कैसी लगी? आपको यह कार सेक्स कहानी पढ़कर मजा आया होगा, ऐसी मेरी आशा है. लिंग को ढीला छोड़कर मैंने अपनी तर्जनी उंगली उसके लिंग के छिद्रित भाग पर ले आई. आंटी बोलीं- हट जा … मुझे नहीं करवाना कुछ भी … तुमने गांड में लंड क्यों डाला!मेरा लंड उनकी गांड से निकल गया.

मैंने भी उनके ऊपर के कपड़े उतार कर उन्हें सिर्फ ब्रा और पैंटी में कर दिया.

आंटी की चुत बहुत हॉट लग रही थी … ख़ास बात ये थी कि आंटी की चुत एकदम गोरी और मांसल चुत थी. वे दोनों थक गए थे और अभी भी रोशन बिना कपड़े पहने सोढ़ी के लंड पर ही बैठी थी. करीब 10 मिनट ऐसी चुदाई के बाद मैंने उसको डॉगी स्टाइल में किया और लण्ड को पीछे से एक ही झटके में अंदर कर दिया.

मैं अनन्या को अपनी आगे की साइड न दिखाकर उससे बोला- अनन्या अन्दर आओ … तुम बैठो और मुझे पांच मिनट दो, मैं बाथरूम से आता हूँ. फिर मैंने उससे पूछा कि अगर तुम भी ऑटो से ही कॉलेज जाते हो, तो हम सुबह साथ चलें!वो इस पर राजी था.

शादी के समय से ही मेरे जेठ जी मुझ पर फिदा हो गए थे, क्योंकि शादी की रिसेप्शन पार्टी के समय से वो मेरे आगे पीछे कुछ ज्यादा ही मंडरा रहे थे. उन्होंने बोला- अगर तुम्हें कोई प्रॉब्लम हो, तो तुम मुझसे पूछ लिया करो. इससे पहले कि मैं उनसे कुछ पूछता, उससे पहले उन्होंने कमरे की लाइट्स ऑफ कर कर दीं.

मिया खलीफा बफ वीडियो

चूंकि मैं दिल्ली अपने एक एग्जाम के सिलसिले में आया था … तो मेरा दोस्त या अन्य कोई भी मुझे बाहर ले जाने के फोर्स नहीं करता था.

लंड क्या घुसा … मेरी सारी जवानी निचुड़ गई और मेरी चुत में इतनी जोर से दर्द हुआ कि मैं छटपटा कर कार्तिकेय के होंठों से अपने होंठ छुड़वाने की जद्दोजहद करने लगी. सुमोना तो एक कोने में पड़कर सो चुकी थी और अंजुमन मेरे शरीर से चिपककर मुझे चूम रही थी. मेरा तो पहले से ही मन कर रहा था उनके चुचों और चूतड़ों को दबाने के लिए, पर अभी भी मैं ऐसा खुल कर नहीं कर सकता था.

हम दोनों बाहर आ गए और साथ में हॉल में सोफे पर नंगे बैठ कर खाने लगे. ये सब बताते हुये मैंने उनके टी-शर्ट के ऊपर से अंदर देखा तो भाभी ने ब्रा नहीं पहनी थी. डबल एक्स व्हिडीओशरद के दोस्तों के साथ उनकी बीवियां भी उपस्थित थीं और शुक्र था कि वो कुछ काम में मेरा हाथ भी बंटा रही थीं.

मैंने भाभी की चूचियों को मसलते हुए उनसे लंड चुसवाने का मजा लेना शुरू कर दिया. उसने मेरी बात को शायद समझ लिया था और जवाब में उसने अपने मोटे लम्बे लंड को हाथ से मुठिया कर मुझे आश्वस्त किया किचूत का भोसड़ाबना कर ही रहूँगा.

अब अपनी मौसी को कभी अकेला मत छोड़ना … दो तीन दिन के बीच में मेरी प्यास बुझाने आते रहना. अब मैं फंस गया … पक्के दोस्त की शादी का मामला था, तो इस कारण से मैं भी उसे मना नहीं कर पाया. अब मुझे आशीष के लंड पर रश्क होने लगा था कि ये हम तीनों बहनों की चुत चुदाई का मजा ले रहा है.

मैंने उसको उल्टा लिटा दिया, उसकी गांड में थूक लगा कर लंड घुसा दिया और चोदने लगा. उस वक़्त में शर्म की सारी हदें भूल कर बस राजीव तगड़े और मोटे लौड़े पर नंगी उछल रही थी. क्योंकि एक तो उम्र में मुझसे बहुत छोटी थी और दूसरी बात यह कि क्या इसके साथ हमबिस्तर होना सही होगा या नहीं.

उसने दरवाजा ओपन करके मुझे कॉल किया कि बिना दस्तक दिए सीधे अन्दर आ जाना.

घंटी सुनकर कामवाली बाई घबरा गई, उसने अपने कपड़े जल्दी उठाए और भागकर हॉल के बाथरूम में चली गई. मैंने सोचा था कि शरद के जाने से पहले साथ समय बिताने का ये हमारा आखिरी मौका हो सकता है.

लेकिन हमें मौका ही नहीं मिला और मेरी छुट्टी खत्म होने के नजदीक हो गई. उसके निप्पल काटने से मुझे चुत से ज्यादा दर्द निप्पल में हुआ और मैं उसे गाली देते हुए मना करने लगी- मादरचोद कार्तिकेय रुक जा कमीने … साले मेरा निप्पल उखाड़ेगा क्या!उसने निप्पल छोड़ दिया और मुझे चूमने लगा. अचानक से रेखा आंटी ने उनको देखा और बोलीं- रूक जा मेरी जान योगी … तेरे लिए एक और चूत मिल गई है … उधर देख, वो नंगी खड़ी है.

एक रात 10 बजे हम दोनों बात कर रहे थे कि तभी अचानक से उसने बाय बोल दिया. साथ में यह ठंडा मौसम भी मजा दे रहा था जो अच्छे से अच्छे दिग्गज को भी पिघला दे. रात को बंगालन आंटी का मैसेज आया कि कल मेरे पति ऑफिस के काम से एक हफ्ते के लिए बाहर जा रहे हैं.

ससुर बहू की बीएफ पिक्चर तो मैंने उनको नीचे लिटाया और फिर से लंड चुत में पेलकर चुदाई का प्रोग्राम चालू कर दिया. ’‘क्या चाहिए ही है अभी?’‘तुम …’मैंने मन में सोचा कि तुम्हारा प्यार अनन्या.

सनी लियोन सेक्सी बीपी पिक्चर

मैं भी मुस्कुरा दिया और हम दोनों बिस्तर पर गिर कर सांसें नियंत्रित करने लगे. फिर उनके दोस्त ने धीरे धीरे अपना लंड बाहर निकाला और मेरी चूत पर सटा कर लंड का सुपारा मेरी चुत की फांकों में घिसने लगा. तभी मैं झड़ने लगा और मैंने सारा माल अपने हाथ में लेकर पीछे से उसकी साड़ी के अन्दर डाल दिया.

सब ठीक हो जाएगा, ये दिन ऐसे चले जायेंगे कि तुम्हें पता भी नहीं चलेगा. अर्शिया मेरे सामने फिर से चड्डी में थी और उसकी बड़ी सी गांड मेरे सामने थी. औरतों के मोबाइल नंबरमुझे प्रियंका ने यह भी बताया कि:अशी गमन के काफी करीब आ गयी थी लेकिन जब उसको अशी और गमन के बारे में पता चला तो गमन ने अशी को छोड़ दिया.

मुझे मेल करके जरूर बताएं, जिससे मैं अगली सेक्स कहानी और अच्छे से लिख सकूं.

कुछ देर बाद मेरे लंड ने वीर्य की धार छोड़ दी और मैं उसके ऊपर लेट गया. बाप बीवी और दोनों बेटियों को छोड़कर अपना घर कहीं और बसा चुका है, मां अंधी है, बेचारी को कुछ दिखाई नहीं देता.

पोर्न फॅमिली सेक्स कहानी के पिछले भागदीदी के बेडरूम में दीदी को चोदामें अब तक आपने पढ़ा था कि दीदी की सास को मैंने अपनी बांहों में खींच लिया था. वो मुझसे लगाव सा रखने लगी क्योंकि वो मुझसे वह सुख चाहती थी जो उसे उसके पति से नहीं मिल पा रहा था. तब तक मैंने जल्दी से कमरे में आकर बेडशीट को हटाया और धोने में डाल दिया.

अभी तक मैंने सिर्फ उसकी चूचियों को ऊपर से चूमा और दबाया था लेकिन निप्पलों को अभी तक मुँह में नहीं लिया था.

मैं कोमल को सहारा देकर अपने कमरे में लेकर आ गया और उसको सोफे पर लिटा दिया. मैंने फिर टुनयाया- हां फिर भाभी …भाभी ने सामने रखा हुआ मेरा पैग उठाया और एक सांस में हलक के नीचे उतार कर बोलीं- मैं अब पूरा किस्सा बता रही हूँ … अंश अब तुम सिर्फ सुनो. उसी दिन मैंने ज़ीनिया के फेसबुक को खोल कर देखा कि वो एक लड़के से सेक्स चैट कर रही थी.

सपने में मिट्टी का दिया देखनाउस दिन से मैंने पूरी फिल्म देखी थी और मैं तुम्हारे दमदार शॉट्स की दीवानी हो गई थी. कभी वो मुझे अपने घर में बुला लेती है … कभी वो खुद मेरे रूम में आ जाती है.

तिरंगा फिल्म फुल मूवी

वो दोनों यूनिवर्सिटी में एम कॉम की पढ़ाई कर रहे थे और साथ ही में अपना खर्चा चलाने के लिए पार्ट टाइम जॉब भी करते थे. ये देसी अंकल सेक्स स्टोरी 2 साल पहले की है, जब मेरी उम्र 19 साल की थी. तभी उन्होंने अलमारी खोली, उसमें से एक शीशी में तेल लेकर अपनी हथेली पर मला और अपने लण्ड की मालिश करने लगे.

मैं सोफे पर बैठ गया और आंटी को अपनी गोद में बिठाकर उनके कबूतरों से खेलने लगा. फिर हम दोनों ने साथ में एक पैग भी लगा लिया और खाना खाने साथ में बैठ गए. दीदी के जाने के बाद अब हम दोनों को ज़्यादा चुदने को मिलता है, लेकिन दीदी जब भी अपने मायके से आती हैं, तो आशीष के साथ सारा दिन होटल में जा कर चुत चुदवाती हैं.

जब अपने रूम से बाहर आई, तो देखा कि ये आवाज़ तो अंकल जी के रूम से आ रही है. भाभी की चुत दो महीनों से चुदी नहीं है तो इनकी चुत भी एकदम टाइट छेद वाली होगी. साथ में मां और अंकल की सांसों की आवाज और मां की आह आह की मादक आवाज गूंज रही थी.

बहुत दिन हो गए थे, तो मैंने सोचा कि एक सेक्स स्टोरी लिख कर आप लोगों से जुड़ा रहूँ. जैसे ही वो मेरे आंख से उस कण को निकालने के लिए मेरे पास आईं तो मेरी कोहनी उनके मम्मों को छूने लगी.

डॉक्टर ने साड़ी उठाकर ऊपर कर दी और बोले- पैंटी उतारनी पड़ेगी।मैं कुछ बोल पाती … उससे पहले उन्होंने मेरी पैन्टी उतार दी.

डॉक्टर Xxx कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी मम्मी की अन्तर्वासना अस्पताल में एक डॉक्टर ने बढ़ायी. कुत्ता और लड़की का सेक्सी वीडियोचाची ने पूछा- गेट क्यों बंद किया था?मैंने कहा दिया- मुझे कोई हल्दी न लगा दे … इसलिए!उन्होंने हंस कर कहा- ठीक है … चल अब हल्दी का कार्यक्रम खत्म हो गया है. एक्स डांसवो बोलने लगीं- प्लीज अब और देर मत करो … जल्दी से चुत में लंड पेल दो. पहले तो मैंने छूटने की कोशिश की लेकिन फिर मुझे अच्छा लगने लगा, मेरी बुर में चींटियां रेंगने लगी थीं.

चुदाई देख कर ऐसा लग रहा था … जैसे आज मां की चूत का भोसड़ा बन जाएगा.

वो मुझसे बोले- क्या हुआ?मैंने कहा- आप थक गए हो, मैं आपकी मालिश कर देती हूँ. उन्होंने हंस कर कहा- सिर्फ सेवा से ही एसी ठीक कर देते हो या कुछ चार्ज भी लेते हो?जब वो हंस कर बोलीं, तो मैंने भी हंस कर कह दिया- जी … घोड़ा घास से यारी करेगा तो खाएगा क्या!वो बोलीं- चलिए मैं आपको अपने घर का पता भेज रही हूँ … घोड़े को घास पक्की मिलेगी. मैंने भी उनसे पूछा- तो फिर मैं आपको चाची नहीं तो क्या कहूं?तब उन्होंने कहा कि वह चाहती है कि मैं उसे मोटो कह कर बुलाऊं.

रमा- आह मर गई … धीरे!मैंने उनकी आह को दरकिनार करते हुए फिर से एक ज़ोरदार धक्का लगा दिया और हम दोनों की जांघें आपस में मिल गईं. मैं ऑटो से कॉलेज आयी तो आज रास्ते में मुझे जो भी लड़का मिला, तो मैंने पाया कि सब मुझे बहुत ताड़ रहे थे. लेकिन उसके लिए ये पहला अनुभव था … तो वो डर गई कि उसे क्या हो रहा है … कहीं पीरियड्स तो नहीं होने लगे हैं.

राजस्थान की नंगी लड़की

अब आगे तेरी मर्ज़ी है कि तू अपनी मौसी का साथ देता है या उसको ऐसे ही तड़पते हुए छोड़ देगा. लगभग दो मिनट बाद मेरे लंड ने भी उसकी चूत में अपना ढेर सारे पानी के फ़व्वारे छोड़ने शुरू कर दिए. पहली बार किसी रियल लाइफ की घटना गरम चुत की देसी चुदाई को बता रहा हूं इसलिए थोड़ा घबरा रहा हूं.

एक दिन मैं अपने रूम में लेटा कहानी पढ़ रहा था और अपने लौड़े को सहला रहा था.

मैंने उसको कहा- कल तुम विवेक के साथ सेक्स कर लेना तो उसको शक नहीं होगा.

मैंने उसकी ब्रा को उतारा और उसके एक मम्मे को अपने मुँह में भर लिया. इस बार मुझे अपने उसी बिजनेस के सिलसिले में किसी काम के लिए दिल्ली जाना पड़ा. माता वैष्णो देवी फोटो hdमगर मैंने बिना समय गंवाए एक बार उसे लंड पर फिर से गिरा लिया और मेरा 4 इंच लंड गांड में जा कर अटक गया.

मेरे हाथ नाज की चूचियां सहला रहे थे और लण्ड नाज की बुर की मसाज कर रहा था. तभी उन्होंने अलमारी खोली, उसमें से एक शीशी में तेल लेकर अपनी हथेली पर मला और अपने लण्ड की मालिश करने लगे. [emailprotected]सुहागरात की देहाती चुदाई कहानी का अगला भाग:मेरी बहन को मेरे रूममेट ने पटाकर चोदा.

होटल से पिकअप एंड ड्राप की सुविधा मौजूद थी तो मैंने होटल के मैनेजर को बता दिया कि 9 बजे तक मैं निकल जाऊंगा. मैंने कहा- ठीक है लेकिन वो कब आएगी?सरोज बोली- रात को भाई और अम्मा के सोने के बाद मैं खुद मालती को रूम में छोड़ने आऊंगी.

वो भी पूरे जोश में अपनी चूचियां मुझे पिला रही थी और मेरे सिर को सहला रही थी.

आप लोग भी बताइएगा कि अपना लंड तो नहीं चुसवाना है अपनी जया रानी से अपनी लंड की रानी से. उसने अपने मम्मों पर ब्रा नहीं पहनी थी, जिसकी वजह से उसकी कुर्ती उतरते ही मुझे उसके बड़े बड़े चुचे दिखने लगे थे. अपना पूरा जोर लगा कर मैंने उसको बांहों में भर लिया और वह भी मेरी पीठ को खूब सहला रही थी.

इंडिया पाकिस्तान का मैच दिखाइए आज की ये Xxx ट्रेन मे चुदाई कहानी मेरे जीवन में सच्ची घटना पर आधारित है. हां ब्लू फिल्मों में विदेशी पोर्न ऐक्ट्रेसेज की चुत गोरी होती है, ये तो मैंने बहुत बार देखा था.

मेरी चूत से पानी निकल रहा था और मोटे लम्बे लंड का इंतजार कर रही थी. कभी उसके स्तन पर साबुन लगा कर दूध मसलता और दबाता, तो कभी उसकी चूत के ऊपर साबुन लगाता और अन्दर तक उंगली डाल कर चुत को मसलता. मैंने पूछा कि तुमने और सुमन ने पहले किसी किराएदार से चुदवाया था?वो बोली- नहीं, अम्मा ने हम दोनों को इस बिल्डिंग में कभी आने नहीं दिया.

मारवाड़ी नंगा डांस

तो अर्शिया ने ही मम्मी को सजेस्ट किया कि मुझे आप अपना पेटीकोट दे दो, वो हल्का भी रहेगा और मुझे नींद भी आ जाएगी. मैंने बुआ को उनके कपड़ों के साथ बाथरूम में भेज दिया और अपने आपको … और बिस्तर को साफ कर दिया. ऐसे सड़ू से व्यवहार पर गुस्सा तो मुझे भी आया और मैं वहां से जाने ही लगा था … तभी मेरे घर से फ़ोन आ गया और मैं रुक कर फोन से बात करने लगा.

उनका 7 इंच का लंबा लंड देखकर मेरे मुंह में पानी आ गया लेकिन मैंने जाहिर नहीं होने दिया।डॉक्टर ने मेरे हाथ में कंडोम दिया और लंड पर चढ़ाने को कहा. देहाती लड़की की चुदाई कैसे हुई एक आलीशान घर के शानदार बेडरूम में! वो गाँव की लड़की जरूर थी पर थी पूरी खाई खेली … खूब मजा लेकर और देकर चूत मरवायी उसने.

अंकल जी का लंड अभी थोड़ा सा ही चुत के अन्दर गया था कि मेरी आंखों से आंसू निकल आए और मैं रोने लगी.

ऐसे ही कुछ दिन बीत गए, मैंने सलमा से अलीज़ा के लिए कुछ भी नहीं कहा था. खुद अपने हाथ से अपना चुचा मेरे मुँह में देते हुए मुझे रस पिला रही थीं. उसने मेरे कान में बोला- मालती को चोदना है क्या?मैंने कहा- मालती कौन है!वो बोली- मेरे चोदू राजा मालती, मेरी बड़ी बहन का नाम है … और मैंने उसे तेरे लौड़े का मज़ा बता दिया है.

उधर पीहू ने आंखें बंद कर लीं और इधर मैंने जोरदार झटके के साथ पीहू की चूत में आधा लंड पेल दिया. अब मैंने लंड निकाल लिया और सरोज को लंड चूसने को बोला, वो भी लंड को लॉलीपॉप समझकर चूसने लगी. जैसे ही आंटी का मेरे घर में आना जाना चालू हुआ तो मेरे लंड ने सपने देखने शुरू कर दिए थे.

नाश्ता करते समय भी अंकल मेरे जोबन को ही निहारते रहे, मैं भी अंकल को अपनी जवानी के दीदार कराती रही.

ससुर बहू की बीएफ पिक्चर: रानी के मुँह से एक दर्द भरी कराह निकली- आहा आईई मर गई में … आई ईईईई!मैं उसकी चीख से बेखबर दनादन उसकी चूत को चोदने में लग गया. मैंने उसकी कोमल काया को अपनी बांहों में उठाया और बाथरूम में ले गया.

लेकिन इस समय तो लण्ड का मजा लो, अब तो अच्छा लग रहा है ना?हाँ विजय, तुम जो कुछ भी कर रहे हो, अच्छा लग रहा है. कुछ देर तक अंकल ने मम्मी की चूची को दबाया तो मेरी मां के मुँह से अजीब अजीब सी आवाजें आने लगीं- आह आह ऊ उह ऊ क्या कर रहे हो राजेश … अमित आ जाएगा. मैंने जवाब अपने फोन के मैसेज बॉक्स में लिख कर हाथ थैले पर टिकाकर उसको दिखाया.

उसने भी अपनी गांड मेरे लंड पर सटा दी और धीरे धीरे लंड पर रगड़ने लगी.

वैसे और दिन तो वह सामने की तरफ बैठ कर पढ़ाई करती थी, मगर आज उसकी पोजीशन दूसरी थी. मैं तो तुझे पहले दिन से ही चोदना चाहता था लेकिन सक्सेना की वजह से नहीं कर सकता था. इस डर्टी सेक्स विद वर्जिन गर्ल स्टोरी के अगले भाग में आपको निशा की फुल चुदाई की कहानी का मजा लिखूंगा.