वर्जन बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी हिंदी जंगल वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

आगरा की चुदाई: वर्जन बीएफ, लंड चूसना की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने पड़ोस के अंकल से चुदाई की सेटिंग की.

अंग्रेजी सेक्सी फोटो दिखाएं

दिखा दी ना अपनी औकात … आज साबित कर ही दिया कि सब मर्द एक जैसे ही होते हैं. पंजाबी सेक्सी गांडकॉलेज आकर मैंने अपना ध्यान पढ़ाई करने में लगाया मगर आज कहीं भी मेरा दिल नहीं लग रहा था.

थकान की वजह से शायद वो सो चुकी थी तो मैंने भी उसे जगाना उचित नहीं समझा और मैं भी दूसरे कमरे में आराम करने लगा. जंगल की शेरनी सेक्सी पिक्चरइससे पहले मेरी कहानी 2017 में प्रकाशित हुई थी जिसका शीर्षक हैभाभी की चुदाई की तड़प की हिंदी सेक्सी स्टोरीअगर आपने यह कहानी नहीं पढ़ी है तो एक बार इस कहानी को अवश्य पढ़ें क्योंकि आज की कहानी भी उससे ही आगे की कहानी ही है.

मैं राकेश से नज़र नहीं मिला पा रही थी क्योंकि मुझे पता था कि मैं भी मदहोश होकर एक गैर मर्द से चुदवा रही रही.वर्जन बीएफ: क्या उस दौरान मेरी गांड की प्यास बुझ पाई?कैसे हो प्यारे दोस्तो, मैं अपनी कहानी का दूसरा भाग प्रस्तुत कर रहा हूं.

मैं किचन में गई तो रूपा ने मुझसे पूछा कि कुछ हुआ या नहीं?मैंने कहा- यह पूछो कि क्या नहीं हुआ! कुछ बाकी नहीं बचा.वो तड़पने लगी और मेरे होंठों की पकड़ उसके लिप्स पर और ज्यादा कस गयी.

एक्स एक्स एक्स चुदाई वाली सेक्सी - वर्जन बीएफ

मैंने बिना देर किए अपने होंठों को उसके प्यारी सी चूत के होंठों पर रख दिया.पर विक्रम को कोई फर्क नहीं पड़ा और वो संजू को डॉगी पोज में चोदने लगा.

मैं तुरंत चारपाई पर सीधी होकर लेट गयी और बोला- अब जल्दी से शुरू करो विपिन. वर्जन बीएफ अगस्त का महीना चल रहा था, एक दिन सोनी का मैसेज आया कि उसने जिस कंपनी में आखिरी बार इंटरव्यू दिया था, उसमें उसका सिलेक्शन हो गया.

आप लोग हिंदी में मां बेटे और बाप बेटी सेक्स कहानी पढ़कर कैसा महसूस कर रहे हैं, प्लीज़ मुझे मेल करें.

वर्जन बीएफ?

इससे मुझे अब तकलीफ होने लगी तो मैं उन्हें रोककर बोली- अंकल मुझे तकलीफ हो रही है. चाचा के बारे में पूछने पर चाची बोलीं- आज चाचा जी बच्चों के साथ गांव चले गए हैं, कल तक आएंगे. छटी मंजिल पर एक होटल था जिसके दो कमरे हमारी कंपनी ने अपने गेस्ट हाउस यूज़ के लिए ले रखे थे, मैं वहीं रह रहा था.

तभी उसकी चूत ने अपना फव्वारा छोड़ दिया और मेरे लन्ड को पूरा भिगाते हुए अंदर चूत में और चिकनाई बना दी, जिससे मेरा लौड़ा और तेजी से अंदर बाहर होने लगा।अब मेरा भी माल निकलने वाला था. उसने मेरी ब्रा को अलग कर दिया और मेरी चूचियां नंगी होकर उसकी छाती पर चिपक गयीं. उसने काफी देर तक मेरा लंड चूसा, फिर मैंने उसके सिर को पकड़ कर उसके मुँह को चोदना शुरू कर दिया.

वो अपने जीजू से बोली- आज भी कहीं जाना है क्या?मनीष- नहीं साली साहिबा, आज इम्पोर्टेन्ट मीटिंग है मेरी, शायद लेट भी हो सकता हूँ. फिर हम दोनों ही सीट पर लेट गए और चादर ओढ़ कर एक दूसरे को किस करने लगे. तो निर्मला जी फिर से लिखा- वेलकम अमित … और अभी क्या कर रहे हो?भैंस की आंख, अब निर्मला जी ये क्यों पूछ रही थीं कि मैं क्या कर रहा हूँ!मैंने- कुछ नहीं आंटी जी, कल एक प्रपोजल देना है, उसी को बना रहा हूँ.

मैंने उनसे पूछा- क्या हुआ आज बहुत खुश हो!तो वो बोले- हां, आज मैंने एक बड़ी डील की है. कोई बीस मिनट तक बहन के दोनों दूध चूसने के बाद मैं सबीना के पेट को चूमने लगा.

आसिफ डार्लिंग जब तक अम्मी नहीं आतीं, तब तक हम घर में नंगे ही रहेंगे.

क्योंकि मेरा लंड जाएगा तो‌ ममता की चूत में, मगर पानी तो शायद शायरा की चूत से भी निकाल ही देगा.

आपके 34 इंच के बूब्स और 36 की इंच गांड को देख कर मैं आपसे प्यार करने लगा हूँ. मैं हर समय इधर नहीं रह सकता हूँ क्योंकि मुझे बाहर के काम भी निपटाने होंगे तो पीहू को इधर ही रह कर काम काज देखने होंगे. दूसरा लौंडा मेरी बीवी की चूचियों पर लग गया और उसने ज़ोर ज़ोर से चूसते हुआ काटना शुरू कर दिया.

क्या पता चाची की जगह आज भाभी की चूत मिल जाये!इस वक़्त तो मुझे सिर्फ चूत और गांड चाहिए थी. मैं सनी के लंड पर बैठकर धीरे धीरे फिर से उसको अपनी गांड में लेने लगा. अभी तक मैं अपने लिंग को अश्लील फिल्मों और कहानियों के माध्यम से ही बहलाता आ रहा था.

आज वह कहीं चला गया है। उसका भाई बुलाने आया था।ये सब बातें होने के बाद कल्लू ने मुझसे इजाजत मांगी और वो दोनों वहां से साथ साथ बाहर निकल गये.

जब तक भाभी बाथरूम से बाहर आयी तो मेरा खड़ा लंड देख कर बोली- लंड है या क्या है ये यार? अभी चूत से झड़ कर बाहर निकले इसको 10 मिनट भी नहीं हुए हैं. फिर उसने मेरे बदन को खूब चूमा, चूचियों को खूब मसल मसल कर चूसा, मेरी जबरदस्त तरीके से चूत चाटी और बहुत जल्दी मेरा पानी निकाल दिया. मैंने टी-शर्ट नहीं पहनी थी, तो मुझे ठंड लग रही थी लेकिन अच्छा लग रहा था.

मैंने चॉकलेट बोतल मेज पर रखी और दरवाजा बंद करके उस छोटे से बॉक्स को खोला, तो उसमें काले रंग की जालीदार ब्रा पैंटी थी. काफी देर तक इसी तरह से चुसाई करने के बाद एक दूसरे की बांहों में समा गए. मैं आहिस्ता आहिस्ता लंड अन्दर बाहर करने लगा और अदिति से बोला- अदिति दिल करता है कि मेरा लंड हमेशा तुम्हारी चूत में ही पड़ा रहे.

मैंने मुँह अभी भी नहीं हटाया, मैं उसके रस को मस्ती में पी रहा था और मुझे तनिक भी जल्दी न थी.

उसकी भारी भरकम जांघों पर मेरी जांघों के टकराने से थप-थप की आवाज हो रही थी. तभी उसने मेरे लिंग का अपने मुँह में और दबाव बढ़ा दिया, वो सच में सारा वीर्य निचोड़ लेना चाहती थी.

वर्जन बीएफ मैंने जल्दी से नहाया और एक छोटी नाईट लाल रंग फ्रॉकनुमा बेबीडॉल पहन ली; उस बेबीडॉल के अन्दर मैंने कुछ नहीं पहना. राज ने मेरी एक टांग उठाकर अपनी कमर पर रख ली और मेरी चूत में लंड को धकेल दिया.

वर्जन बीएफ उनका एक 23 साल का लड़का था। जब मैंने उस लड़के को पहली बार देखा तभी से वह मुझे आकर्षक लगने लगा था. फिर भाभी ने मुझे नीचे लिटाया और मेरे लन्ड पर बैठ गयी और उछलने लगी।मैं भाभी की चूचियों को मसलता हुआ नीचे से धक्के लगाने लगा.

अब यह बात लेने वाले पर निर्भर करती है कि वह अच्छी और सुंदर चूत लेने में कितना माहिर है.

सेक्सी बप फिल्म

मेरा पूरा लंड छिल गया था मगर मैंने बिना परवाह किए लगातार चुदाई चालू कर दी. मैं- क्या तुम्हारी उम्र इतनी है कि तुम्हारी लड़की ने प्लस टू पास कर रखा है?यामिना- सर, छोटी उम्र में शादी हो गई और 9 महीने में ही बेटी हो गई. मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला, नाइटी नीचे खिसकाई और सोनल के पास आ गया.

उधर बाजू में एक बीस कमरों वाला घर भी बना था, जिसमें थोड़ी साफ़ सफाई की जरूरत थी. उसका लंड खड़ा हो गया था और फिर उसने मुझे नीचे बिठाकर मेरे मुंह में लंड दे दिया और मेरे मुंह को चोदने लगा. उसने थोड़ी बेइज्जती महसूस की और फिर मेरे पैरों को मसलना शुरू कर दिया.

फिर पेट को सहलाते हुए मैंने उसकी नाभि को किस किया और नीचे सरक कर चड्डी के ऊपर से ही चूत को किस किया.

मैं उसे एक बंद पड़े पार्क में लाई और मैंने अपनी हुडी उतारकर उसके साथ छेड़खानी करके भागने लगी. जैसे ही मैंने उनकी चूत पर अपना मुँह रखा, भाभी ने मेरा मुँह हटा दिया और बोलीं- ये क्या कर रहे हो, अब इसे भी चाटोगे क्या?मैंने बोला- हां, आप आराम से लेटो और चूत चटाई के मज़े लो. उस पर भी अगर कोई लड़की खुद आमंत्रण दे रही हो, तो फिर किसी भी लड़के को कैसे फील गुड नहीं हो सकता था.

मेरे मम्मे देखते ही रोहण से रहा न गया और वो मेरे बड़े बड़े मम्मों पर टूट पड़ा. वो मेरे लंड से खेल रही थी और मुँह में लेने के लिए उतावली हो रही थी लेकिन मैं जल्दबाज़ी में नहीं था. मैंने उसकी चूत की फांकों में और क्लिट में काफी ज्यादा चॉकलेट लगा दी.

आँटी ने दुबारा चूत को धोया और खड़ी होकर हैण्ड टॉवल से चूत और जांघों को नीचे हाथ डालकर साफ़ किया. लेकिन मैं बार-बार फोन करके और व्हाट्सएप पर मैसेज करके उससे पूछता कि आपको खाने के लिए कुछ चाहिए तो नहीं … या पीने के लिए.

थोड़ी देर बाद उसने एक हाथ मेरी गांड पर रखा और तेजी से अपनी गांड आगे पीछे करके अपनी चूत मेरे लंड पर जोर जोर से रगड़ने लगी. कुछ देर बाद रोहन ने उसकी चुत को चाटना शुरू कर दिया और मेरे मम्मों को दबाना शुरू कर दिया. वो भी मेरा साथ देने लगी और उसने अपने होंठ खोल दिये जिससे मेरी जीभ उसके मुंह के अंदर जा घुसी.

अब आगे Xxx हिन्दी फॅमिली सेक्स कहानी:मुझे चुदाई करते देख कर अदिति भी नीचे से अपनी गांड उठाकर मेरा साथ देने लगी.

महीने का आखिरी हफ्ता होने के कारण भैया दूसरी सिटी में थे और अपना टारगेट पूरा करने में लगे थे. सेक्सी गर्ल ओरल सेक्स कहानी मेरे दोस्त की छोटी बहन के साथ सेक्स की है. उस वक़्त सोनी ने ये बोलकर मुझे शांत कर दिया कि अभी बस देख रहे हैं, रिश्ता तो मेरी मर्जी से ही पक्का होगा ना … और जब ये लोग लड़का खोज खोज कर थक जाएंगे, तब मैं इन्हें तुम्हारे बारे में बता दूंगी.

मकान‌ मालकिन से बात करके जब मैं वापस जाने लगा, तो एक‌ नजर मैंने शायरा की तरफ भी देखा … मगर मेरे देखते ही उसने अपना चेहरा छुपा लिया. फिर मैंने उनकी चूत में लंड डालकर बिना रुके कम से कम 20 धक्के और मारे.

मैंने सोचा कि ये बात भी ठीक है; मैंने उनका लंड उनकी पैंट के ऊपर से ही टटोला तो काफी बड़ा हथियार समझ आ रहा था. उनका लंड मेरे मुँह के पास आ गया और मेरी बुर उनके मुंह के पास में थी।वो मेरी बुर को चाटने लगे और अपनी कमर हिला कर लंड मेरे मुंह में डालने की कोशिश करने लगे।मैं सोच में पड़ गई कि क्या करूँ अब?किसी तरह अपने हाथों से उस मोटे लंड को मैंने पकड़ लिया. मैंने घर वालों से कहा- मुझे बहुत जोर से नींद आ रही है, मुझे घर जाना है.

सेक्सी वीडियो प्ले करें

‌ उसके पास जरूरत का हर एक सामान था और वो भी‌ मंहगा मंहगा वाला सामान था.

हम दोनों ने बहुत सारी प्यार भरी बातें की और एक दूसरे के साथ जीने मरने की कसमें खाई. वो मुझसे रानी के लिए पूछने लगी कि तुझे रानी में ऐसा क्या पसंद आ गया जो उस पर मर मिटा. कुछ देर बाद मैंने आँटी को नीचे उतारा और पूछा- कुछ ठीक लगा?आँटी कहने लगी- राज! ऐसा दो तीन बार कर दो.

मैंने कहा- अब तक आपने जो भी किया, उसका मुझे कुछ भी लेना देना नहीं है, मगर आजके बाद आप पूरी तरह से मेरे प्रति सिन्सियर रहेंगे और वैसे ही मैं भी आपके साथ करूंगी. अब सरिता नाटक कर रही थी या उसके मन में यह था कि यह लड़का मेरी बहन ने भेजा है तो बसन्त मुझे ताना न दें. सेक्स बीपी पिक्चर सेक्सीमैंने तब तक पोज बदल कर संजू के होंठों को चूमने लगा और बोला- मान जाओ ना बेबी … बेचारा बहुत प्यासा है.

प्रियंका इस अचानक हमले से एक बार हल्के से चीखी और उसने अपनी गांड थोड़ी और उठा दी. रोहण को हमारे बारे में पता था और सोनी ने रोहण से बात करके मेरे आने के बारे में बता दिया था.

मैंने भैया से कहा- यह तो बहुत बड़ी है और मेरे मुँह में नहीं जा रही है. परीक्षित जी उनके घर के पास सुनार का काम करते थे, उनके घरवालों ने उनसे ब्याह करवा दिया और वो दिल्ली शिफ्ट हो गए जहां अब परीक्षित जी किराया लेते हैं और निर्मला जी दुकान करती हैं. रचना सातवें आसमान पर थी- बेबी रुको न … मेरा बदन इतनी कामुकता सहन नहीं कर पा रहा है.

वर्जिन वाइफ हनीमून सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी गर्लफ्रेंड ने शादी से पहले सेक्स ना करने का वचन लिया था. मेरे दोनों दूध उनके सीने में दब गए।अपने दोनों पैरों से मेरे पैरों को अनिल जी ने फैला दिया और मेरे दोनों हाथों को जकड़ कर बोले- पहली बार है तेरा, थोड़ा दुखेगा पर तू चिंता मत करना, मैं तुझे जन्नत का मजा दूँगा।ऐसा कहते हुए उन्होंने मेरे होंठों को अपने होंठों से बंद कर दिया।उनका लंड बिल्कुल मेरी बुर के छेद पर ही लगा हुआ था। शुरू में उन्होंने हल्का सा दबाव दिया मगर लंड मेरी बुर के छेद में नहीं गया. रूबी- तू बावला है … मैं क्यों बताऊँगी और ऐसी क्या बात है?मैं- चल छोड़ मुझे डर लग रहा है.

कुछ वक्त बाद उसके बॉयफ्रेंड का फोन आया तो तेनजिंग ने उससे बोला- बस खराब हो गई है, थोड़ा ज्यादा टाइम लगेगा.

ज़ारा- जान एक बात कहूं?मैं- हां जान!ज़ारा- सेक्स तो सिर्फ एक बहाना है!मैं- पता है मुझे! तुम सिर्फ मेरे आगोश में रहना चाहती हो. मुझे आज शादी में जाना है।इतने में वो बोला- ठीक है मेम, आप फेस एंड हैंड पे आज करवा लो.

मैं किचन में चाय बनाने के लिए गयी तो अंकल मेरे पीछे पीछे किचन में आ गए और एकदम मेरे पीछे खड़े होकर मुझसे बात करने लगे. मूतते हुए वो सोचने लगी कि दीदू की चूचियां तो एक साल में 34 से 36 हो गई हैं. इस बार पंखुड़ी भाभी भी कुछ नहीं बोलीं, बस मेरी आंखों में प्यार से देखने लगीं.

हंसी मजाक करते हुए दोनों बहनें नीचे आ गईं, जिसे देख कर मनीष बोला- कौन ज्यादा ब्यूटीफुल लग रही है, कह नहीं सकता. मैं एक दोस्त के साथ एक दिन के लिये रुक गया था क्योंकि वह मुझे स्टेशन पर लेने आया था. अब तो कमरे में ताई की मादक सिसकारियां गूँजने लगीं- आह चोद दे मेरे अमन आह … न जाने कितने दिनों से मेरी चूत की मालिश नहीं हुई.

वर्जन बीएफ मैंने उनकी टांगें थोड़ी सी ऊपर की और फिर से एक जोर का धक्का दे दिया. मैं- अब क्या बताऊं भाभी … किया तो सब कुछ था और हम अलग भी उसी ‘सब कुछ.

मैया की सेक्सी

मगर मुझे यहां आए दो हफ्ते से ज्यादा हो गए थे, पर अभी तक भी ममता जी के साथ मेरा काम‌ नहीं बन पा रहा था. सनी मेरी गर्दन को चूसने लगा और रवि भी पीछे से मेरी पीठ को चूमने लगा. उसने किस पाकर मेरे होंठों पर अपने होंठ लगा दिए और हम दोनों बड़ी बेताबी से एक दूसरे को किस करने लगे थे.

पहले मैं आप सब को इस कहानी की हीरोइन अपनी पंखुड़ी भाभी से मिलवा देता हूं. इस बार वो मेरी स्कूटी पर मुझसे बिल्कुल सट कर बैठी थी और अपनी चूचियां मेरी पीठ से बार बार रगड़ रही थी. बॉलीवुड की सेक्सी पिक्चर दिखाओभाभी को खाना खिलाते वक्त उनका मस्त लाल होंठ जब भी छू जाता था, तो मेरे अन्दर करेंट सा दौड़ जाता था.

तुम बताओ की क्या वो रह पाएगा?अनन्या- तो क्या आप उससे पूछती नहीं हैं?मैं- हां, जब पूछो तो यही कहेगा कि तुम्हारी कसम मैंने आज तक किसी और की तरफ नजर ही नहीं डाली, चुत की तो बात ही छोड़ो.

उन्होंने पापा से कहा- मैंने भी खाना खा लिया है और मैं भी सोने के लिए घर जा रहा हूं. बीस झटकों के बाद जब मेरा रस आने वाला हुआ तो मैंने लंड बाहर निकाल लिया.

ये करते करते मैंने पैंटी में हाथ डाल दिया और भाभी की चुत को उंगली से रगड़ने लगा. मैंने अनजान बनने का नाटक करते हुए कहा- कौन रेशमा?उधर से वो बोली- वही रेशमा, जिसको आप कुछ देर पहले फोन कर रहे थे. उसके पीछे पीछे दो लड़कियां, जिनके हाथों में ढेर सारे हेंगर थे, जिन्होंने स्पोर्ट ब्रा और शॉर्ट स्कर्ट पहना था.

उसके बारे में कभी बहुत अच्छे से आप सबको बताऊंगा, अभी बस इतना समझ लीजिए कि वो एक माल लौंडिया थी.

मैं हंसी- तो उसमें क्या है, जब तुम किसी दूसरी चुत में अपना लंड डाल सकते हो, तो उसे भी पूरा हक़ है अपनी चुत को जैसे चाहे इस्तेमाल करे. उसने सोनी को इतना गर्म कर दिया था कि वो बेचैन हो उठी और उसके लण्ड को देखने के चक्कर में वो सारी शर्म भूल गयी. उफ्फ़ … उसकी गोरी जांघों के बीच फंसी इस छोटी सी पैंटी में उसकी चुत एकदम फूली हुई सी थी और रो रही थी.

हिंदी सेक्सी गर्ल मूवीमैं समझ गया था कि सास की चूत में अब लंड लेने की खुजली पूरे जोर पर है. उसके गुप्तांग के नीचे गहरी चोट लगी थी जिसकी वजह से वैवाहिक सुख को लेकर अड़चन खड़ी हो गई थी.

भाई बहन की सेक्सी ब्लू फिल्म वीडियो

तब से मामी और अर्चना दोनों ने ही मुझे चुदाई के लिए कभी भी मना नहीं किया. तो मैंने क्या किया?मेरे सभी पाठकों के लिए लगभग दो वर्ष बाद मैं यह कहानी लेकर आया हूं. बाजार से आकर मैं अपने कमरे में चला गया और रात को डिनर के बाद हम दोनों सोने चले गए.

दूसरे दिन मैंने उन्हें उनके घर छोड़ा तो उन्होंने चाय के लिए बुला लिया. उसके बाद उसने मेरी गांड में से लंड को निकाला और मेरे मुँह में पिचकारी मार दी. भाभी बोलीं- मैंने आज तक किसी का लंड मुँह में नहीं लिया, लेकिन तूने मुझे अपना इतना दीवाना बना दिया है कि आज से मैं तेरी गुलाम हूँ.

उधर मेरा मन है कि वो किसी नीग्रो के लम्बे लंड से अपनी चूत का भोसड़ा बनवाए. एक मिनट बाद वो बोला- सोना रानी, तुम बहुत अच्छी हो, ऐसा मज़ा आज पहली बार आया है. ये देख कर मैंने उसे पलटाया और उसकी पीठ दीवार से सटा कर उसकी पैंटी के बाहर से ही उसकी बुर को कसके मसल दिया.

उन्होंने मुझसे कहा- बड़ा अच्छा लग रहा है … तू थोड़ा और ऊपर तक मालिश कर. मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला, नाइटी नीचे खिसकाई और सोनल के पास आ गया.

आराम आराम से करेंगे!यह कहकर मैं बेडरूम में चली गयी और धीरू अंकल मेरे पीछे पीछे बेडरूम में आ गये।प्रिय पाठको, मेल और कमेंट्स करके मुझे बताना कि आपको कहानी अच्छी लग रही है या नहीं?[emailprotected]लंड चूसना की कहानी का अगला भाग:कोरोना काल में मिला अंकल के लंड का सहारा- 3.

रचना भी अपने कोमल हाथों से मेरे पीठ की मसाज कर रही थी और पागलों की तरह गर्दन को चूम रही थी. भोजपुरी हिंदी वीडियो सेक्सीमेरा लिंग उसके माँसल नितंबों की दरारों के बीच में फंस कर कसमसा रहा था।चाय तो बना लेने दो?”. सेक्सी वीडियो पैरउसकी हरकतों से साफ़ समझ आने लगा कि बंदी मेरे लौड़े के नीचे आने को मचल रही है. मैंने अर्चना के सुर्ख गुलाबी होंठों को चूसने लगा और उसकी चौंतीस इंच की चूचियों को मसलने लगा.

मैंने उसकी चूत के पानी को उसकी गांड के छेद पर लगा कर घिसी और अगले ही पल अपनी एक उंगली उसकी गांड में डाल दी.

उनका रंग गोरा है और देखने में ताई का फिगर 36-30-38 का तो पक्का होगा. फिर मैंने सोच लिया कि अब जब विजय से चुदना ही है तो फिर शर्म करने से क्या फायदा?मैंने अपनी चूत को आधा ढका और आधे से कम बूब्स को तौलिये से ढक कर तौलिया बांध लिया. मैंने उसको कपड़े पहनाए और सहारा देकर ख़ामोशी से उसके कमरे तक छोड़कर आया.

मैंने डांटते हुए कहा- तुम्हें जॉब चाहिए तो चुपचाप वैसा करो जैसा मैं बोल रही हूं. दोस्तो, चाहे आपके उत्तर अच्छे हों या बुरे … मुझे जरूर बताना क्योंकि आपके रिप्लाई से ही पता चलता है कि मेरी स्टोरी कैसी लिखी गयी है. चाची जी की नाइटी में हिलते हैवी चुचे देख कर और उनके मम्मे मेरे सीने पर टच होते ही मेरे लंड में आग लग गई.

सेक्सी बप विडियो हिंदी

इसलिए हमारी नींद न खुलने पर सुबह सासुजी ने दरवाजा खटखटाकर हमें उठाया. उनके घर में भी मैं जब चाहे जाने लगा था, इससे मेरी उनसे काफी घनिष्ठता हो गई थी. इस बीच उनके साथ वाली कहीं चली गई थी, शायद वो अपनी वाक करने निकल गई थी.

बस इसी के साथ अंकल ने पूरे हैवानियत के साथ बड़े जोरदार और बहुत ही भयंकर शॉट मारने शुरू कर दिए.

ममता की चुदाई‌ करते करते मैं बीच बीच में हल्की सी एक नजर खिड़की की‌ ओर भी देख ले रहा था.

मगर प्रियंका ने अपनी चुत उसके मुँह पर दबा रखी थी तो उसकी आवाज घुट कर रह गई. जैसे ही मैंने दरवाजा खोला तो संजीव ने मेरी ओर देखा और फिर दोबारा से नजर नीचे कर ली. कैटरीना कैफ सेक्सी डांसजब मैं मकान मालकिन से बात कर रहा था … उस समय शायरा भी वहीं पर थी और उसने भी हमारी बातें सुन ली थीं.

नमस्कार प्रिय पाठकगण, मैं भगवान दास उर्फ़ भोगु, अपने कॉलेज प्रथम वर्ष के दौरान की एक और ब्रो सिस सेक्स कहानी को लेकर हाजिर हूँ. मगर हमारे इस चुम्बन का बाहर खिड़की पर खड़ी शायरा पर शायद कुछ और ही असर हो रहा था. आगे से मैं संजू की चूत को चूम चाट रहा था और पीछे से विक्रम गांड को चूम और चाट रहा था.

मगर मैंने संजू से कहा- मान जाओ ना यार … बेचारा आज शाम को चला जाएगा. वीर्य की कुछ बूंदें प्रियंका के चूचों पर गिरते हुए उसकी नाभि तक गिरती चली गईं.

मुझे आज भी वो दिन याद है, जब साले साहब की शादी में डांडिया लाने के ऊपर चाची ने मज़ाक में कह दिया था कि दीपक के पास तो ऑलरेडी लंबा मोटा डंडा होगा, इनको नकली डंडे की क्या जरूरत होगी.

मैंने एक चमकीली काले रंग की ड्रेस पहनी थी जो मेरी गर्दन से लेकर घुटनों तक आ रही थी. अंदर हाथ डाल कर मैंने लंड को बाहर निकाल लिया- अरे! तेरा तो खड़ा हो गया।निलेश बोले- भूरा भाई! खड़ा है तो डाल दे।मुझे भूरा का लंड पकड़ कर काफी उत्तेजना हो गयी थी और मैं इतने में ही निलेश की गांड में झड़ गया. मैंने डांटते हुए कहा- तुम्हें जॉब चाहिए तो चुपचाप वैसा करो जैसा मैं बोल रही हूं.

आशिक़ी सेक्सी हम दोनों ने एक दूसरे को जोर से हग किया और फिर एक दूसरे से लिपट गये. दिखा दी ना अपनी औकात … आज साबित कर ही दिया कि सब मर्द एक जैसे ही होते हैं.

वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी थी पर मैंने उसे ज़ोर से पकड़े रखा था. फिर मैंने पैंटी निकलवा दी और दोबारा से उसको अपनी ओर खींच कर अपनी चूत पर उसके होंठों को टिका दिया. लंड को सहलाते हुए जैसे मैं भूल ही गया था कि मैं भाभी के रूम में हूं.

एबीसीडी सेक्सी वीडियो

शादी के 12-15 दिन बाद वो मुझे भी शादी करने के लिए समझाने लगी मतलब उसने अपना इरादा बदल दिया था, पर वो अभी भी मेरे साथ यौन संबंध रखना चाहती थी. मैंने मीना की गांड चुदाई भी की।फिर एक दिन मेरे दोस्त मोहित को मेरे और मीना के बारे में पता चल गया तो उसने मुझसे बातचीत ही बंद कर दी. मगर उससे उनका मन नहीं भरा और उन्होंने अपने हाथ से लंड को मेरे मुंह में डाल दिया.

रेल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि बैंक ट्रेनिंग में मेरी दोस्ती एक नवविवाहिता सहकर्मी से हुई. मैंने फिर से पूछा- लग तो नहीं रहा है?वो बोले- यार कितनी बार पूछोगे? तुम पेलते रहो, मजा आ रहा है.

तब मैं बिस्तर पर लेट गया और उन्हें ऊपर बैठकर अपनी चूत में मेरा लंड घुसाने को कहा.

मुझे लगा कि वो अब जा चुकी है तो मैंने भी अपना लंड साफ़ किया और नहा कर अलग कमरे में चला गया. हम दोनों में इस बात को लेकर बहुत बहस हुई और फिर आखिरकार हमने अपनी बेटी सोनी को उसके साथ सुलाने का फैसला कर लिया क्योंकि मेरे ससुर के ओपरेशन के लिए बहुत ही कम समय बचा था और ससुराल वालों की उम्मीद पूरी की पूरी मेरे ऊपर ही टिकी हुई थी. फिर मैंने सोचा कि चल बेटा सुहानी फटाफट चुदवा ले, ये बिना चोदे तो मानेगा नहीं.

पता नहीं उसे कितने पैसों की जरूरत थी और क्यों!मगर मैंने फिर भी पूछा- तुमको पैसों की आवश्यकता क्यों है? कोई परेशानी है क्या?मगर उसने बस ‘नहीं’ शब्द ही कहा।उसकी आँखों से आँसू लगातार बहे जा रहे थे।अब मुझसे उसके आँसू देखे नहीं गए और मैंने कार सड़क के बगल में खड़ी कर दी. और ममता जब तक‌ कुछ समझती, तब तक मैंने एक‌‌ जोर का धक्का मारकर अपना आधे से ज्यादा लंड चुत में घुसा दिया. अभी मेरे पास टाइम था तो मैंने एक बार फिर से रोहण का लौड़ा चूस कर उसका मूड बना दिया.

लंड को क्या चाहिए बस छेद … मैंने गीला सा लंड उसकी चूत पर पेल दिया और झटके देने लगा.

वर्जन बीएफ: हम दोनों ने चुदाई की मैंने इधर खुले आसमान के नीचे उसे पेड़ से लगा कर कुतिया बना कर चोदा. स्नेहा चहकते हुए- जीजू, दीदू को ऐसा क्या खिला रहे हो कि हमारी दीदू मोटी हो गईं!मनीष हंसते हुए- ज्यादा कुछ नहीं … बस गन्ने का जूस ही ज्यादा पीती है.

इस घटना से उसके अहम् को काफी धक्का लगा और वो क्लास के बाद वो मेरे पास आकर माफी मांगने लगा और फिर से एक चान्स देने की बात कहने लगा. शायरा तो अपना दर्द हल्का करने के लिए मकान मालकिन के पास चली जाती थी … मगर मैं सारा दिन अपने कमरे में ही पड़ा रहता था. उसने थोड़ा सा हिम्मत करके सुपारे पर जीभ फेरी, लेकिन फिर बोली- भैया प्लीज नहीं.

तुम्हारा भाई मुझे रोज 2 या 3 बार चोदता है, तब जाकर मेरी चुत की आग ठंडी होती है.

उन्होंने ये कहा, तो मैंने उनसे हामी भरते हुए कह दिया- ठीक है बुआ, मैं आपके पैर दबा देता हूँ. अब मैंने उसकी बुर के अन्दर लंड डाला, तो वो ‘सस्स्शह … आआअहह’ करने लगी. कुछ देर तक हम दोनों मजे लेते रहे और फिर वो बोली- मेरा हाथ दुखने लगा है अब.