इंडिया की नंगी बीएफ

छवि स्रोत,सनी लियोन के वॉलपेपर सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

தெலுங்கானா செக்ஸ்: इंडिया की नंगी बीएफ, चूत सामने लपलप कर रही थी … मैंने लंड चूत पर लगाया और एक झटका दे मारा.

चीत बुला घालायचा

थोड़ी ही देर में फकीर का वीर्य मेरी चूत में समा गया और फकीर ढीला पड़ गया. லேடிஸ் லேடிஸ் செக்ஸ்दोस्तो सोफे पर उस वक्त मेरा देवर नहीं बल्कि मेरे ससुर जी लेटे हुए थे और वो एकटक मुझे घूरे जा रहे थे.

लगभग 5 मिनट के बाद मैंने तेज तेज शॉट्स मारना शुरू कर दिया और अपने लंड का माल उसके मुँह में ही झाड़ दिया. हिंदी सेक्सी इंडियन सेक्सीतो मैं समझ गई कि मुझे ही कुछ करना पड़ेगा, अपने बाप से चुदने के लिए मुझे अपना रंडीपना दिखाना ही पड़ेगा.

मेरा प्यार सच्चा है … मुझ पर डोरे न डाल!इस पर मैंने कमरे में सामने वासना से ऐंठती चेतना को दिखा कर शैली मामी से कहा- आप जाओ और अपना पत्नी धर्म निभाओ लेकिन आज चेतना की आग मुझे शांत करने सहयोग कर दो.इंडिया की नंगी बीएफ: इस बार मैं उसे झड़ने नहीं देना चाहता था इसलिए उसकी चूत से अपनी जीभ हटा ली.

मैंने उन्हें पलट कर अपनी गोद में भर लिया, तो हवस की देवी के उठे हुए चूचों पर टंके हुए गुलाबी निपल्स के दाने किसी पहाड़ी की चोटी की तरह खड़े हो गए.सरिता हंसती हुई मुझसे मेरे कान में बोली- हर्षद … मेरी दीदी से बचके रहना.

लडकी चुदाई सेक्सी - इंडिया की नंगी बीएफ

चाची चिल्लाई जा रही थीं- उह्ह्ह् साले निकाल इसको … आहह मर गई मैं … लंड निकाल भोसड़ी के बाहर आंह निकाल आह के कमीने.क्या मैं आपके बारे में कुछ जान सकता हूँ?उन्होंने अपने बारे में बताया कि वह प्रयागराज की हैं और आजकल लखनऊ में रहती हैं.

टी-शर्ट में उसके तने हुए दूध मस्त लग रहे थे जिनका साइज मेरे हिसाब से 34 का लग रहा था. इंडिया की नंगी बीएफ अब मैंने अपने एक दोस्त के मेडिकल स्टोर से ड्यूरेक्स का स्ट्राबेरी वाला स्प्रे और सेक्स की गोलियां ले लीं.

अब उसने संतोष को पास आने का इशारा किया तो वो भी पास आ गया और मेरा गाउन निकालने लगा.

इंडिया की नंगी बीएफ?

तभी उर्वशी बोली- वाह, क्या बात है, अंजलि आ गई!फिर उर्वशी ने मुझसे पूछा- आमोद, अगर हम दोनों की चंडीगढ़ ट्रिप थ्री सम बन जाए तो? क्या तुमको कोई प्रॉब्लम है?मैंने उर्वशी से कहा- मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है, लेकिन तुम्हारी सहेली अभी फ्लैट में है. जब मैंने उसे मेरे लंड को चूसने को कहा, तो वो बोली- तुम जो भी कहोगे, मैं वो सब कुछ करूंगी. तब तक दूसरा वाला बाबा मेरी छाती पर चढ़ गया और एक ही बार में उसने अपने पूरे लंबे और मोटे लौड़े को मेरे मुँह में पेल दिया.

उसकी गांड का तो मैं अब दीवाना हो चुका था और जैसे ही वो मुड़ कर जाने लगी, मैं फिर से उसकी गांड देखने लगा. उसका अंडरवियर नीचे खिसकाया, तो उसने खुद ही उतार कर दूर फैंक दिया व टांगें चौड़ी कर औंधा लेट गया. मेरे गले में हाथ डाल कर बात करना तो उन सबके लिए एक सामान्य सी बात थी.

अब उसे और मुझे पहले से भी ज्यादा मजा आ रहा था क्योंकि अब वो मेरे लंड का पूरा सुपारा अन्दर लेकर चूस पा रही थी. दो महीने से भाई का लंड ले रही थी लेकिन भाई अब मुझे कम, मां को ज़्यादा चोद रहा था. आनन्द और दर्द मिश्रित दस बारह झटके के बाद दो धधकते जिस्मों के बीच वासना और उत्तेजना के जंग की शुरूआत हो चुकी थी.

मैंने कहा- बताओ चाची आपके मन में क्या है?चाची बोलीं- मुझे अपनी चूत में तेरा लंड चाहिए. नत्थूलाल के दर्शन कर के उसने ‘ईस्स्स्स् …’ करते हुए दोनों जांघों के बीच में अपनी चूत दबा ली.

क्योंकि माँ अक्सर रात में भी खेत पर काम करने जाती थी तो दादा जी और दादी जी ने माँ से कुछ नहीं पूछा.

नशा गहरा होने के कारण वो बोलने की चेष्टा कर रही थी, पर उससे बोला नहीं जा रहा था.

फिर चाची चली गईं और मैंने भाभी की फिर से लेनी शुरू कर दी कि भाभी आपकी शादी से पहले कितने ब्वॉयफ्रेंड थे और भैया से शादी होने के बाद क्या क्या किया … वगैरह वगैरह. भाभी की सेक्सी फिगर 34-30-36 की और एकदम गोरी … कड़क चूचियां और बाहर निकली हुई गोल मटोल गांड, यही सब याद आ रहा था. मैंने उसकी नाभि चाटी, फिर उसके दोनों अंडरआर्म्स पर शहद डाला क्योंकि उसके हाथ मैंने ऊपर की ओर बांध दिए थे, तो उसके अंडरआर्म्स खुले हुए थे.

आज तक मैंने अपने पति के अलावा किसी और मर्द के साथ कुछ नहीं किया है. आप मुझे इस वर्जिन गर्ल देसी Xxx कहानी पर अपने विचार प्रकट करना न भूलें. मैंने उसे अपने सीने से चिपका लिया और सविता ने भी मुझे कस कर जकड़ लिया.

ये कह कर मैंने विलास की गांड को दोनों हाथों तानकर गांड का छेद खुला कर दिया और ढेर सारा थूक अपने मुँह से छेद पर थूक दिया.

मैं समझ गया कि ये पक्का गांडू बनेगा और सिर्फ गांड मराने के काम का है. दोस्त लौंडिया दिलवाने की बात करते हैं, पर मैं उनका लंड लेना चाहता हूं. और वो आहें भर रही थी- आह हम्म ओह यस … और करो चूसो इन्हें … खा जाओ इन्हें!मैं धीरे से अपना एक हाथ उसकी टांगों के बीच ले गया और उसकी टांगों को खोल दिया.

मैंने जब दीदी से पूछा तो बोली- तुम रात में मुझे छोड़कर मम्मी को क्यों चोद रहे थे?मैंने कहा- तुमने अपनी जगह पर मम्मी को क्यों सोने दिया?दीदी बोली- मम्मी पहले से ही वहाँ सो रही थी. मैंने नीता के होंठों पर चूमकर कहा- नीता, मुझे तुम्हें नंगी देखना है. मैंने जीभ उनकी चूत पर चलाना शुरू कर दी और गांड के दोनों फलकों को हाथों से दबाने लगा.

मेरे साथ साथ मेरे मोहल्ले का एक लड़का, जिसका नाम शिराज था, वो भी मेरे ही कॉलेज में पढ़ रहा था.

फिर जैसे ही वो नॉर्मल सी हुई, मैंने धीरे धीरे धक्के लगाना शुरू कर दिया. मोनिका भी अपने बेडरूम में चली गयी और उसने मुझे फोन करके पूछा- क्या हुआ भाभी?मैं बोली- तुम सोने का नाटक करो, वो ज़रूर आएगा और नहीं आया तो मैं उसके पास चली जाऊंगी.

इंडिया की नंगी बीएफ मैंने पूछा- रुचि एक बात बताओ, आज दोपहर में कैसा लगा यानि तुम्हारे साथ सम्भोग करना?तब वो बोली- सच में यार, ऐसा तो मैंने सोचा भी नहीं था. मैंने कहा- बोलकर तो देखो सोनाली … मैं तुम्हारी खुशी के लिए कुछ भी कर सकता हूँ.

इंडिया की नंगी बीएफ तभी ललिता भाभी मेरे पास आकर बोलीं- राज, तुम ये सब क्यों करते हो?मैं चुप था. कुछ ही पलों में मेरा समूचा लंड चाची की चूत में खो गया और चाची अपनी चूचियां मेरे सीने पर झुलाने लगीं.

अब आगे की सेक्स कहानी में पढ़ते हैं कि क्या नैना और उसके ससुर के बीच कुछ हो पाया था या नहीं.

हिंदी ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर

किसी ना किसी बहाने वह मेरी बीवी से बात करता, तो उसे शायद यह सब अच्छा लगता था. नहाने के बाद मैं कपड़े बदल कर लेटा हुआ था कि किसी ने दरवाजा खटखटाया. लेकिन चूत बहुत ज्यादा टाईट थी जिस वजह से लंड अन्दर जा ही नहीं था और उसे बहुत दर्द होना शुरू हो गया था.

हम दोनों ने मिलकर एक दूसरे से हाय हैलो की और वो मुझको अपने पीछे वाली सीट पर बिठाकर चल दिया. मैंने ईमेल पढ़ा और न जाने क्यों कुछ सालों पहले के ख्यालों में खो गया. इतना बोल कर मैंने उनको पकड़ कर किस कर दिया और उनके खरबूजे के आकार के चूचे दबाने लगा.

नंदा बोली- ड्रिंक बना दूँ?‘हां अगर रुचिका साथ में बैठ कर एन्जॉय करे.

लौड़ा चूसते चूसते शिराज कह रहा था- आह हम्म्म शुक्रिया मेरे मालिक, क्या खूब चोदी अपने मेरी गांड … बड़ा मस्त स्वाद है आपके लौड़े का मेरे मालिक. हॉट आंट सेक्स स्टोरी मेरी पड़ोसन आंटी की है। आंटी अपने घर में खुले में बैठकर मूतती थी और मैं उनके नंगे चूतड़ देखता था। एक दिन उन्होंने मुझे देख लिया. किसी ने आधा लेटा कर मेरे ऊपर चढ़कर मेरी में पेला, किसी ने घोड़ी बना कर चोदा.

लड़की ने मुझे बाइक के बारे में सब जानकारी दी कि लोन कैसे हो सकता है … और लोन चुकाने की ईएमआई क्या होगी. मेरी आंखों में हद से ज्यादा खुशी थी कि सुनीता मेरी इच्छानुसार चुदाई का मजा दे रही थी. कुछ देर बाद चाची की सांसें तेज तेज चलने लगीं और उनकी कमर कुछ ज्यादा ही तेजी से मेरे लंड को रगड़ने लगी.

एक हाथ से उसके दोनों चूतड़ों को अच्छी तरह मसलने के बाद गांड की दरार खोली और उसकी गांड की दरार को काफी देर तक स्क्रबर से रगड़ते हुए लाल कर दी. फिर खाना खाने के बाद जब हम दोनों बेड पर आए तो दोनों से ही रहा नहीं जा रहा था.

ऐसे ही एक बार मैं और मेरा बिजनेस पार्टनर अमित बिजनेस के काम से मुंबई गए. मैंने भी उनके मम्मे देख कर कहा- हां चाची, मुझे भी इसी तरह के खेल खेलना पसंद हैं. वो भी मुझसे बात करने को मरी जा रही थी तो जल्दी ही मेरी उससे बात होने लगी.

लेकिन मैं अब कुछ नहीं सुनना चाहता था और लैंड लेडी सेक्स करने में लगा रहा.

फिर वो बोली- चलो, अब मुझे चोदो जल्दी से!हम लोग बेड पर आ गए और 69 में हो गए. शाम को हम सभी जब खाना खाने के लिए बैठे, तो मेरा ध्यान तो मौसी के मम्मों पर ही था. कुछ देर बाद हम दोनों की चुदाई पूरी हो गई और हम दोनों नंगे ही चिपक कर सो गए.

उसने मेरी तरह देखा और स्माइल करती हुई बोली- कैसा फ़ायदा?मैंने कहा- ये तो तुम भी समझ रही हो … बाक़ी जैसा फ़ायदा तुम चाहो, मैं दे सकता हूँ. अब मैंने उससे पूछा- मेरा साथ कैसा लगा?उसने सर झुका कर कहा- तुम बहुत स्वीट हो.

लैंड लेडी सेक्स कहानी मेरे नए रूम की तलाकशुदा मकानमालकिन के साथ सेक्स की है. अब मैंने खुल कर बोलना सही समझा- आपके कहने का मतलब है कि बहुत दिनों से आप चुदी नहीं हो, सही है ना!भाभी कुछ नहीं बोली और अपना सर नीचे कर लिया. वो बोला कि तो फिर किसी और को भी साथ लेकर आऊं क्या?मैंने भी सकुचाते हुए कहा कि देख लेना.

𝐱𝐱𝐱 𝐡𝐝

एक दिन मैंने उनसे भईया के बारे में पूछा, तो वो मुझे बताने लगीं कि वो अक्सर अपने काम में व्यस्त रहते हैं और महीने में दो तीन बार ही घर आ पाते हैं.

राज की पहली बार एक साथ दो की चुदाई थी शायद, इसलिए वो थोड़ा ज्यादा थक सा गया था. हम दोनों बाथरूम में कैसे सेक्स का मजा लेने लगे?दोस्तो, मैं आमोद एक बार फिर से अपने कड़क लंड के साथ आपके सामने हाजिर हूँ. मैं इधर उधर देख रहा था लेकिन कोई और नजर नहीं आ रहा था, वहां केवल हम दोनों ही थे.

मैं अदिति की चूचियां जोर जोर से पकड़कर मसल रहा था तो अदिति तिलमिलाने लगी थी. हम दोनों ही बेहद उतावले हो गए थे और एक दूसरे को तेजी से चूम रहे थे. सेक्सी इंडियन गांव कीउसी बीच मैंने राकेश से कहा- जरा जोर से करो, तो लड़कों की समझ में आए.

मुझे टनटनाते हुए उसके लंड के दर्शन हुए तो मेरी खुशी का ठिकाना न रहा. मैं अपनी नंगी बीवी का पूरा जिस्म ऐसे चाटने लगा जैसे कुल्फी चाटते हैं.

तो मैंने उसे अपनी गोद में उठाया, उसने एक हाथ से मेरी गर्दन को पकड़ लिया और अपने दोनों पैरों से मेरी कमर के आसपास कुंडली मार ली. फिर उसने मुझे इशारा किया कि मेरे राजा अब अपने मन चाहे छेद में लंड डालो. तीसरे वाला भी अपना लंड खड़ा करके पजामे के अन्दर से ही पकड़ कर बैठा था.

अब मैं भाभी पर लाइन मारने लगा, कभी उनकी खूबसूरती की तारीफ करता, कोई न कोई बहाने से उनको छूने की कोशिश करता. उसके मुँह से अजीब सी आवाजें आना शुरू हो गईं ‘इसस्स … अहह …’ये सब सुनकर मेरा भी जोश चढ़ने लगा था. क्या मैं आपके बारे में कुछ जान सकता हूँ?उन्होंने अपने बारे में बताया कि वह प्रयागराज की हैं और आजकल लखनऊ में रहती हैं.

उसकी चूचियों और निप्पल को मरोड़ते, मसलते हुए मैंने सारा झाग साफ कर दिया.

उसको पूरी तरह से नंगी करने के बाद मैंने भी अपना अंडरवियर उतारकर फैंक दिया और हम दोनों पूरी तरह नंगे एक दूसरे से लिपट गए. ये सुनते ही मैंने सबसे पहले उनको अपने ऊपर खींचा और उन्हें किस करने लगा.

मैंने मार्किट से मैनफोर्स का पान फ्लेवर का बड़ा पैकेट ख़रीदा क्योंकि वह एक्स्ट्रा डॉटेड और एक्स्ट्रा रिब्ड कंडोम है. अब दीवाली भी आ गयी थी, मैंने सोचा कि आज भी मैं जुआ खेलता हूँ और जो भी पैसे मैंने अभी तक जीते हैं वो सब मैं माँ को दीवाली के तोहफे के रूप में दे दूँगा. सोनाली मुझे चूमती हुई बोली- हर्षद खुशखबरी तो सबसे पहले तुम्हें ही सुनाऊंगी.

पर अब समझ आया कि सबकी अपनी जरूरत होती है, अपनी लाइफ के मजे लेने ही चाहिए. मैंने आंखें बंद करके चार पांच करारे घस्से मारे और फिर एकदम से लंड बाहर खींच लिया. मैंने जाकर देखा और कुछ सोच कर उसके बगल में लेट कर रुचिका से चिपक गया.

इंडिया की नंगी बीएफ ’‘हां देखते ही तो नंगी कर लेते हो और क्या चाहिए आहह …’‘आह हां ये तो है. मैंने कहा- जानते तो सब हो, चूतिया होने का दिखावा करके मुझे चूतिया बना रहे थे, कभी किसी का हथियार ऐसे पकड़ा है?उसके दांत निकल आए.

की की चुदाई

मैंने कहा- मेरी बात का भी जवाब दे देती?उर्वशी बोली- मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं, भले तुम और अञ्जलि एक साथ नहा लो. मतलब वो अधनंगी हो गई थी और पापा के सीने के बालों पर अपने हाथ घुमाने लगी. अब मेरी चूत भी हल्की गीली हो चली थी और पहले जैसा कुछ भी दर्द नहीं हो रहा था.

आज तक मैंने अपने तन और मन की प्यास और सारी इच्छाएं मन में ही दबा कर रखी थीं लेकिन आज तुम्हें देखकर सारी इच्छाएं फिर से जागने लगी हैं. उनके 36 के भरे हुए उरोज, बलखाती और मटकती हुई 30 की कमर … और 38 इंच की भरी हुई गांड देखकर इधर मेरे लंड महाराज ने पैंट के अन्दर से ही सलामी देनी शुरू कर दी. प्यार करने की सेक्सीमेरी नींद रात के तीन बजे खुली, तब तक मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था.

लेकिन लंड गांड में घुस चुका था और मैंने सुनीता की चिल्लपौं को रोकने के लिए कहा- साली कुतिया, हल्ला मत मचा … भैन की लौड़ी तेरी गांड में लंड घुस चुका है, अब झड़ कर ही निकलेगा.

वो मेरे सामने एकदम नंगा हो चुका था और मैं भी अपना गाउन खोल कर उसके आगे नंगी हो गयी. वह खुद हम दोनों को बिस्तर पर ले गयी और मेरा हाथ पकड़ कर अपने पति के लंड पर रख कर बोली- लो रूपा, अब तुम खुद मेरे पति का लंड खोल कर पकड़ लो.

वह बोला- सुम्मी, तुम चिंता मत करो … आज तुम्हें ज़बरदस्त मजा आने वाला है. उसकी एक चूची छोड़ कर दूसरी चूची को मुट्ठी में लिया और उसके निप्पल को जीभ से चाटते हुए सहलाया. मेरी जिंदगी भी पहले की तरह चलती रही और अभी भी मुझे अपनी उंगलियों का ही सहारा लेना पड़ता था.

नई जगह होने के कारण मुझे नींद नहीं आ रही थी और अपनी चाची और भाभी की बड़ी चूचियों को देख कर मैं बहुत उत्तेजित हो गया था.

मेरा एक दोस्त मुझे देख कर बोला- बधाई हो रवि, अब तुम रोज अपनी आंखें अच्छे से सेंक पाओगे. मैंने कहा- हां लाओ, आज उस एनर्जी ड्रिंक को तुम्हारी चूत में भर कर पियूंगा. मेरे लंड को हाथ से सहलाती हुई वो नंगी लड़की अपनी चूत की दरार पर रगड़ने लगी.

সিএনএক্সক্সइसके कारण, मेरे लंड का घर्षण तुम्हारी चूत में इतना ज्यादा होता है कि तुम कामवासना में डूबकर जल्दी झड़ जाती हो. वो बोली- क्या मतलब?मैंने कहा- बेबी, जब पापा को ये बात पता चल जाएगी कि मुझे सब पता है और मेरा ही प्लान है, तो उसके बाद में पापा से तुम्हारी निछावर लेकर तुम दोनों को रूम में भेजूँगा.

देसी भाभी ब्लू फिल्म

वो भी खाना खाकर अलसाए हुए थे तो एसी की ठंडक में आराम करने के मूड में आ गए थे. अब आगे देसी हॉट गर्ल सेक्स कहानी:रात को मैंने खाना के बाद घर में कहा- मैं रात को खेत में सोऊंगा. लगभग 10 मिनट ऐसे ही चुदाई करने के बाद मुखिया जी ने अपने लन्ड को माँ की चूत से बाहर निकाला.

फ्रेंड्स, मैं आपका आजाद गांडू एक बार फिर से यादों के झरोखों से अपनी गांड चुदाई की कहानी का अगला भाग लेकर हाजिर हूँ. मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं अपनी मौसी के साथ में ही रहने लगूँ और जब मेरा मन करे, तब उनकी चूत में अपना लंड डालकर अपने मन को तृप्त करता रहूँ. इस बात पर मैं खुशी खुशी कमरे से बाहर आई और कुछ देर रुक कर उनकी बातों को सुनने के लिए अपने कान लगा दिए.

वो मेरा सर अपनी चूत की तरफ दबा रही थीं और आह आह कर रही थीं- अहह उफ्फ मेरे राजा … चाट लो मेरी बालों वाली चूत को … आह मेरी जान उफ्फ रुकना मत!मैंने भाभी की चूत को एकदम से साफ़ कर दिया था. थोड़ी देर बाद वो मुझसे बोली- तुमने मर्डर मूवी देखी?मैंने बोला- हां देखी है. आप देवर भाभी GF BF कहानी पढ़ कर मुझे मेल करके मेरी ग़लती बताओगे, तो मुझे बहुत खुशी होगी.

कुछ ही देर में लंड बिना किसी दिक्कत के रेशमा की तंग चूत में अन्दर बाहर होने लगा और मेरे हर धक्के की गति अब तेज होने लगी. किसी तरह से मैं बाथरूम में गयी और कमोड पर बैठ कर मैंने बड़ी मुश्किल से मूता.

मैंने देखा कि उसकी आंखें भी मुझ पर जम सी गयी थीं, बहुत ही गहरी नजर भर कर उसने मुझे देखा, तो मैं भी बस खो सा गया.

मैंने उसे विदा कहा और मैं भी दरवाज़ा बंद करके बाथरूम में खुद को साफ करने चली गयी. भोजपुरी सेक्सी राजस्थानीहमारे परिवारों में बहुत गहरा रिश्ता था जिसके चलते हमारे परिवार वाले आयशा को मेरी बहन मानते थे. ப்ளூ ஃபிலிம் பிட்டு படம்थोड़ी देर बाद उसने अपने पर्स से एक तेल की शीशी निकाली और मेरे लंड को मसाज देना शुरू कर दिया. मैंने कहा- हां भाभी, बात तो आपकी सही है मगर आपका देवर भी तो आपको छेड़ सकता है न!भाभी बोलीं- हां हां क्यों नहीं … बताओ कैसे छेड़ना है!मैंने कहा- वो आप क्या कह रही थीं कि अन्दर मैंने क्या क्या देखा था?भाभी- हां बताओ क्या क्या देखा था?मैं- मैंने तो बहुत बड़े बड़े वो देखे थे … जो उसमें अन्दर दबे से थे.

वो अपनी जीभ बाहर निकालने लगी और मैं उसकी जीभ को अपने मुँह में भर कर चूसने लगा.

मैंने उनके मम्मों की तरफ इशारा करते हुए कहा- भाभी वो कुछ ऐसे ही थे. मैं- जान ये किस बस फ़ोन पर ही दोगी?वो- बाबू जल्द ही मिल कर भी दूँगी. फिर भी एक नई जगह नई चूत की सम्भावना लिए अपनी खटारा यामाहा लिए, पता ढूँढता पहुंच गया.

वो समझ गया कि दिस हॉट गर्ल वांट थ्रीसम सेक्स!उसने मेरा फ़ोन नम्बर लिया और वो चला गया. इससे मेरे लंड का मुलायम सुपारा उसकी बच्चेदानी के मुँह पर रगड़ जाता था. मेरे पास जुआ खेलने के लिए पैसे नहीं थे तो मुझे किसी ने बताया कि गांव का मुखिया उधार पर पैसे देता है.

एक्स एक्स एक्स पिक्चर हिंदी में

उस हिजड़े की लुल्ली चूसते चूसते तुझे पता ही नहीं है कि लौड़े को चूसना किसे कहते हैं. क्या मैं आपके बारे में कुछ जान सकता हूँ?उन्होंने अपने बारे में बताया कि वह प्रयागराज की हैं और आजकल लखनऊ में रहती हैं. मैं किचन में दूध रख आयी और बाहर आकर उसका हाथ पकड़ कर सीधे उसे अपने कमरे में ले गयी.

गांड मारने के मारने के बाद मैंने उठ कर अपने कपड़े पहने और उसको भी पहनाए.

अब मैं मैडम की चूत के अन्दर उंगली डाल कर चूत के दाने को अपनी दो उंगलियों से रगड़ने और मींजने लगा.

दीदी नंगी होकर मुझे भी नंगा करने लगी और बोली- तुम मुझसे छोटे हो फिर भी मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती हूँ क्योंकि तुम मुझे चोदना चाहते हो. एक बार रायपुर के ही पास एक छोटे मजार पर फकीर आया हुआ था और उसी के कहने पर मेरी बीवी उस जलसे में शामिल होने गई थी. माधुरी दीक्षित का सेक्सी सीनकविता बोली:देखो यार, कोलकाता में दारू और सिगरट पीना लड़कियां कॉलेज में ही सीख जातीं हैं, तो मैं भी सीख गयी.

उसे देख कर ऐसा लगता था मानो उसके कपड़े उसको छुपा कम और दिखा ज्यादा रहे हों. ट्रेन पास कर दी थी, स्टेशन सूना हो जाता है, बारह बजे तक कोई गाड़ी नहीं है … ये भी संयोग था कि आप आ गए. मेरे लौड़े पर थूकते हुए उसने फिर से सुपारा अपने मुँह में भर लिया और अपनी खुरदरी जीभ से सुपारे को चूसने लगी.

इस बार मैं जुए में जीत गया और जीते हुए पैसों से मैंने मुखिया जी का कर्जा चुका दिया. छोटी कमर और गदरायी हुई बाहर को निकली हुई गोल मटोल छत्तीस इंच की गांड देखकर मेरा लंड तनाव में आने लगा था.

मैंने भी अपना एक हाथ उसके कंधे से ले जाकर उसकी चूची पर रख दिया और दूसरा हाथ उसकी मुलायम, अनछुई चूत पर रख दिया.

फिर उसने कपड़े पहन लिये और अरुणिमा करने के लिये मंदिर वाले कमरे में चली गयी. ये सुन कर मम्मी ने कहा- अरे यार आकाश … विक्की मेरा बेटा है, मैं उससे कैसे चुद सकती हूँ?चाची ने भी कहा- हां यार, वो अभी 23 साल का ही तो हुआ है. मैंने कहा- भाभी मैं समझा नहीं, आप क्या कह रही हो?भाभी बोली- अच्छा तो अब अनजान बनने का नाटक कर रहे हो देवरजी.

हिंदी सेक्सी सोंग मैंने उसे आश्वस्त किया- रीतिका तुम्हें किसी बात की चिंता नहीं करनी चाहिए. वह मुझको चूमने के साथ साथ मेरी फूली हुई चूचियों को कपड़ों के ऊपर से ही मसल रहा था.

इस तरह से मेरी और सीमा की चुदाई का पता उसके पति को चला और यह हमारे लिए बड़ी अच्छी बात हो गई. वो बोली- तो मुँह दिखाई नहीं दोगे?मैंने अपनी जेब से एक अंगूठी निकाल कर उसकी उंगली में पहना दी. थरथराता बदन शांत होने का नाम नहीं ले रहा था, पर मेरे सर पर जैसे खून सवार था.

क्सक्सक्स बफ

कुछ सेकंड रुकने के बाद फिर से जोर से झटका मारा और लंड को अन्दर पेल दिया. चूंकि यह एक छोटा सा स्टेशन था और हम सभी के ड्यूटी आवर्स अलग अलग रहते थे … कभी कभी ही साथ साथ रहते थे. मुझसे रहा नहीं गया, मेरी चीख निकल गयी- आउच ओह्ह मोहक इतना ज़ोर से क्यों मारा?मेरा बूब तो टमाटर की तरह लाल हो गया।मोहक बोला- डेज़ी, वो ब्लू फ़िल्म में करते हैं न ऐसा … तो मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने मार दिया।मैंने कहा- बेबी प्यार से मारो न … देखो कैसे लाल हो गया।फिर मोहक ने मुझे लेटने को कहा और मेरे ऊपर आकर उसने मेरी चूत में लंड डाल दिया.

मैं- कुछ बोलोगी, या मुझे ऐसे ही देखते रहोगी?साबिरा- जाओ, भाईजान ऊपर अपने कमरे में हैं. मैं बोला- भरोसा करो … अगर भरोसा ना कर सकती, तो मैं अब कुछ नहीं बोलूंगा.

यह सुनकर मेरी मौसी बोलीं- जो लंड मेरी चूचियों को देखकर खड़ा हो जाता है, उसे मुझे खड़ा करने में ज़्यादा दिक्कत नहीं होगी.

मैंने अपना लंड उसके मुँह से निकाल लिया और उससे कहा कि मैं अब तुम्हारी चूत चाटना चाहता हूँ. शबाना जान बूझकर अब वीरू को गर्म करने लगी।घर में उसके और वीरू के अलावा कोई नहीं था।वीरू के जवान बदन से अपने जिस्म की भूख मिटाने को वो मरी जा रही थी. हमने कभी किसी की शादी में जाकर, कभी काम के नाम पर भारत के हर नगर में चुदाई की है.

मैंने पूछा कि तुम आज अकेली आई हो?उसने बताया कि हां मेरा भाई थोड़ी देर के बाद आएगा. मेरी कहानी के तीसरे भागबाप बेटी ने लिया ओरल सेक्स का मजामें आपने पढ़ा कि पहले पापा ने अपनी जवान बेटी की गुलाबी चूत को चाट कर उसे परमानन्द दिलाया. धीरे धीरे मेरा पूरा लौड़ा उसके गले तक दस्तक देने लगा था और रेशमा की सांस फूलने लगी थी.

उन्होंने फ्लैट का ग्रिल वाला दरवाजा खोलाकर, मुझे अन्दर आने के लिए कहा और अन्दर जाते हुए वो महिला उर्वशी से फोन पर बोली- सुनो, आज रात का खाना मैं बना रही हूँ, अब तुम आकर मत बनाना.

इंडिया की नंगी बीएफ: कुछ पल तक अञ्जलि वैसे ही खड़ी रही और उसके पीछे खड़े हुए मैं अपनी आंखों से उसके नग्न बदन छूने लगा. इस बार मैंने उसे घोड़ी बना कर उसकी चूत में लंड डाल दिया और उसकी चूत चोदने लगा.

मैं अपना लंड उनकी चूत में डालकर पेलने लगा और उनके होंठों पर किस करते हुए मैंने उन्हें रात भर में 4 बार चोदा. वह तो कब से चुदवाने के लिए मरी जा रही थी।उसकी फुद्दी से पानी रिस रिस कर चड्डी भीग चुकी थी और वीरू के हमले से उसने अपने आप को वीरू को समर्पित कर दिया. जिस तरह भाई की शादी में बहन रूम में जाने से पहले गेट पर गिफ्ट लेती है.

बड़ी सहजता से मैंने कहा- मामी की बहन मामी ही हुई न!तभी अमरचंद ने अपने कमरे से आवाज़ लगाई- भांजे साब इधर आओ.

मैंने सॉरी कहा, तो उसने मेरे होंठों पर अपनी एक उंगली रख कर मुझे चुप करा दिया. साथ ही मैं एक हाथ से भाभी के चूचों को मसलने लगा और अपना दूसरा हाथ मैंने भाभी की पैंटी में डाल दिया. वो मेरा मूसल लंड देख कर डर गई और बोली- हाय … इतना बड़ा … मैं नहीं ले पाऊंगी … मेरी तो चूत फट ही जाएगी.