बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी

छवि स्रोत,हिंदी एक्स एक्स व्हिडीओ

तस्वीर का शीर्षक ,

डॉट कॉम सेक्सी ओपन: बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी, बस क्या था, दोनों ओर से ‘डन’ होने के बाद सब्जियां समेटते हुए नीना अपने नए-नवेले चोदूशेर प्रशांत को लेकर बेडरूम में चली गई.

हिंदी ब्लू पिक्चर एचडी वीडियो

मैंने सही मौका देखकर तुरंत उनको अपनी बांहों में लेकर खूब जोर से अपने से चिपका लिया, उनके बड़े बड़े मम्में मेरी छाती से टकरा रहे थे. سیکسی لڑکیوں کی پھدیमाँ की सब विधि होने के बाद दीदी ने मुझसे कहा- देख प्रकाश, ये घर तो कहीं जाने वाला है नहीं, ये घर तो अपना ही है, तू यहां अकेला रह के क्या करेगा? हमारे पिताजी ने एक जगह मुंबई में भी बनायी है, तू वहीं हमारे साथ आ जा.

पल्लवी के मुंह से सिसकारी निकलने लगी थी, लेकिन वो सिसकारी इतनी धीमी थी कि केवल मेरे कान को ही सुनाई दे रही थी।इधर पल्लवी ने भी मेरी कैपरी के अन्दर जांघों की जगह से हाथ को डालकर अंडे को पकड़ कर दबा दिया, जितना तेज मैं उसके मम्मे को दबाता, उतना ही तेज वो मेरे अंडकोष को दबा देती। अंडकोष दबने से दर्द तो होता लेकिन मजा भी आ रहा था. एक्स एक्स एक्स देसी मारवाड़ीउसके बाद नीरू और मेरी पत्नी ने उसकी दोनों टांगें फैला दी और मैंने अपना पूरा लंड पायल की चूत में डाल कर धक्के लगाने शुरू कर दिए.

मैं अपनी गर्म चूत में कभी खीरा तो कभी मोमबत्ती डाल कर उसकी प्यास बुझाती थी.बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी: मैं उसके रस भरे मम्मों को मसलता और ऊपर से उसके जिस्म का मजा लेने लगा था.

जैसे ही मेरे लंड का सुपारा उनकी चूत में गया … तो वो ज़ोर से चिल्लाने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बहुत मोटा है … नहीं मुझे छोड़ दो … नहीं मैं मर जाऊँगी … आह … अपना लंड बाहर निकाल लो.वैसे मैं उसके बारे में पहले सब कुछ जानता था लेकिन वह अपनी कहानी बताते हुए रोने लगी और कहने लगी कि उसके पति 24 घंटे बस दारू के पीछे ही पागल रहते हैं.

హిందీ స్క్స్ - बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी

उस दिन के बाद से जब तक मेरे पति ऑफिस के काम की वजह से घर वापस नहीं आ गए थे.इस समय हम दोनों में सिर्फ एक बिना रिश्तों का प्यार था और सलोनी भी इन पलों को भरपूर जी लेना चाहती थी.

भाभी मस्ती में लहरा उठी और उसने अपनी चूत कस ली और बड़बड़ाने लगी- हां. बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी वो बोली- राजू तुझे मालूम है कि आज टूर पर जाने से पहले विजय ने मुझे चैक दिया.

अब मालिनी खुद को मेरी पत्नी मान चुकी थी, तो वो मेरा पूरा साथ दे रही थी.

बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी?

थोड़ी देर में रूम की घंटी बजी, मैंने दरवाज़ा खोला तो बाहर सोनाली खड़ी थी. कितनी मस्त गांड है इसकी, हम लोग तो सिर्फ गांड मारने के ही दीवाने हैं. यह 2 बार होने के बाद में उसने मुझसे कहा कि अब मुझसे नहीं होगा क्योंकि उसका हाथ दुखने लगा है.

इसके बाद तो अब मेरी जब भी चुदाई की इच्छा होती, तो मैं चाची को चोद लेता हूँ. मैं उसके मुँह से ये बात सुनकर हैरान रह गया क्योंकि मैंने कभी ऐसी बातों पे ध्यान ही नहीं दिया था- मतलब?मनीषा- सूर्या, आई लव यू!मैं- क्या? पागल हो तुम … मैं तुम्हारा भाई हूँ. वो सेक्स के जज़्बात से लाल हो गई और मादक सिसकारियां भरने लगी- धीरे धीरे से करो … प्लीज!मैं अब उसकी चूत पर अपना लंड रगड़ने लगा.

तभी मैंने भी लंड को बाहर निकाल कर उसके मम्मों पर लंड का सारा पानी निकाल दिया. बैठते ही लता बोली- हेमा के साथ कहाँ तक पहुंचे हो?मैंने कहा- जहाँ तक आपने देखा था. फिर पूरे लंड को उसकी चूत पे ऊपर से नीचे तक रगड़ा और फिर अपना सुपारा उसकी चूत पे टिकाकर एक जोर का शॉट लगाया.

मैंने पहले हल्के से कुछ ऐसे किये सामान लेने के बहाने से आगे किये थे, ताकि उसे गलत न लगे. उन्होंने मेरे होंठों को तो अब छोड़ दिया और दोनों हाथों से मेरी पीठ को पकड़कर जल्दी जल्दी अपनी कमर को उचकाते हुए मुँह से ‘इईईई … इश्श्शश … आआ … अह्ह्ह्हह …’ की आवाजें निकालने लगीं.

उसकी कमर मेरी जीभ के साथ चलने लगी, उह आह … की आवाजें कमरे में गूंजने लगीं.

उसके घुटनों के पीछे से उसकी टांग और पट की चौड़ाई बता रही थी कि वह पूरी तरह से पक चुकी थी अर्थात पूरा लण्ड लेने के लिए उपयुक्त थी.

मैंने पानी पिया फिर बात की- जी कहिये … क्या हुआ?अभी तक मेरे और रेखा के बीच में कोई ऐसी बात नहीं हुई थी कि मुझे या उसे कुछ गलत लगे. उधर सुखबीर व्याकुल हुआ जा रहा था और उसके संदेशों में ये साफ झलकता था. उसके मम्मे उसके ब्लाउज से बाहर निकलने के लिए उतावले दिखाई दे रहे थे मुझे.

मैंने जाने का कहा तो उसने मुझे रोक लिया और बोली- आज इधर मेरे पास ही रह जा. मैं उठने को तैयार थी और जैसे ही उठने लगी कि अब मुझसे बिल्कुल दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहा था. बच्चे की फीस का पैसा भी अब तक नहीं दिया है … स्कूल से भी रोज कॉल आ रही है.

साथ ही मेरे इस करतब को देखकर वो आश्चर्य में थे और शायद नाराज़ भी क्योंकि हम लोग गिर सकते थे.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… जब वह तुम्हारे इतने बड़े लंड से चुदेगी तो उनको जो मजा आने वाला है मैं उसकी अपनी चूत में अभी से फील करने लगी हूँ।सोनू के मुंह से ऐसी सेक्सी बातें सुन-सुनकर मेरा जोश हर पल और ज्यादा बढ़ता जा रहा था. तभी वो जोर से हँसी और मुझसे बोली- एक बार मुझे भी अपना दम दिखा दे, नहीं तो बुलाती हूँ सबको. आवाज लगाते ही मेरी पत्नी तुरंत बेडरूम में आ गई, उसने हम तीनों को कहा- अरे बेशर्मों, तुम तीनों अंदर मजे कर रहे हो और मैं तुमको गेट के छेद से मजे करते हुए देख रही हूं.

नेहा का साथ पाकर मैंने भी अब अपने धक्कों के माप के साथ साथ गति को भी बढ़ा दिया, जिससे नेहा की वासना से युक्त सिसकारियां तेज हो गईं और उसकी कमर भी हरकत में आ गयी. कुछ देर बाद मैंने उसे रोका और उसे घोड़ी बनने को कहा तो वो डर गई कि कहीं मैं उसकी गांड तो नहीं मारना चाह रहा हूँ. मनीषा ने कपड़े पहनने शुरू कर दिए और मुझे भी मजबूरी में पहनने ही थे तो हम दोनों कपड़े पहनकर तैयार हो गए.

न केवल रस चूस लिया बल्कि झड़ने के बाद भी चाची ने मेरे लंड को चाट चाट कर दुबारा खड़ा कर दिया.

उफ्फ … आह्ह … अह्ह … आअह्ह … ओह्ह्ह … उफ्फ … नो-नो-नो … प्लीज… डोंट टच (छूओ मत) … अह्ह्ह आआह …” सलोनी की सिसकारी निकल गई. बाहर निकाल कर सर ने एक दो बार लंड से मेरे होंठों पर थपकी सी लगाई और मेरे होंठ खोलते ही फिर से वैसा ही किया.

बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी तब उन्होंने पूछा- वन्द्या, इन दोनों में से किसी ने पूरी चुदाई की है क्या … तुम्हारे अन्दर किसी के लंड का माल गया अभी?तब मैं बोली- नहीं नहीं राजा जी … सबने प्यास जगाई बस … मेरे अन्दर आग लगा कर छोड़ दिया. करीब एक घंटे तक उसने उस दिन बात की और मुझे सुबह दुकान पर दूध लेने आने का पूछा.

बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी परंतु उस दिन में सोने के लिए वहाँ कुछ नहीं होने की वजह से मैं शाम की बस से घर वापस निकल गया. मुझे देखते ही वो बिस्तर से उतरकर खड़ी हो गईं और धीरे से बोलीं- दरवाजा बन्द करके कुन्डी लगा दो.

उसके लण्ड का स्पर्श मुझे बहुत उत्तेजित कर रहा था।अमित- नेहा, आज रात मेरे फ्लैट पर चलो न … तुम्हें जन्नत की फीलिंग दिलवाऊंगा।मैं- रजनी भी न है साथ में!अमित- उसे राहुल अपने फ्लैट पर ले जाएगा।मैं उससे अलग हो गई और अपने कपड़े ठीक करने लगी.

वीडियो सेक्स ब्लू फिल्म

मूवी को आधा घंटा हो गया था, मुझे सिर्फ़ मूवी और मेरे दोस्त पर ध्यान था. मैंने कहा- सोनू, मुझसे कुछ भी मत छुपाओ क्योंकि जिस दिन मैं और मालती भाभी पिक्चर देखने गए थे तो वहां तुम किसके साथ पिक्चर देखने गई थी?सोनू ने कुछ झिझकते हुए यह बात स्वीकार कर ली और कहा कि वह मेरा बॉयफ्रेंड नहीं है, ऐसे ही मेरी क्लास में पढ़ता था और मुझे मिल गया था. फिर उसने कहा- मैंने एक कहानी पढ़ी थी, उसमें एक आदमी अपनी बीवी को दूसरे मर्द से चुदवाता है.

कुछ देर बाद मैंने भी खाना खा लिया और मेरी दीदी के सास ससुर के पास बने आगे वाले कमरे में चला गया. मेरा लंड 7 इंच का है, आज से एक साल पहले सर्दी के मौसम में दिल्ली किसी काम से गया था।जब मैं वहाँ से वापस आ रहा था तो बस में ज्यादा लोग नहीं थे. कुछ देर तो भाभी अब ऐसे ही कराहती रहीं, मगर फिर धीरे धीरे उनकी‌ कराहें सिसकारियों में बदल गईं और उनकी चुत में अब फिर से संकुचन सा होना शुरू हो गया.

तुमने शायद पॉर्न मूवी में बड़ा देखा होगा?उसने कहा- हां यार, वो मोटे लम्बे लंड की मूवी देखकर मेरा तो आज कई बार पानी निकल गया.

रजनी आगे बढ़कर राहुल की बाइक पर बैठ गयी तो मैं भी अमित की बाइक पर बैठ गयी और हम सब चल दिए. उसके मम्मों को मैंने घूर कर देखा, तो वो भी शर्माई और साड़ी ठीक करके चली गयी. तो क्या हुआ, मैंने भी तो बताया था कि तुम भी उसकी बहन ही हो, नेहा‌ नहीं तो तुम ही सही.

अब इधर उधर की बात करते करते मैंने बोला- आप भी बहुत सेक्सी दिख रही थीं. मैं आपको आज बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी बुआ की लड़की वंदना की सील तोड़ी और गांड मारी. मैं चुप रहा, वो फिर हंसी और बोली- बस हो गया … इतना ही दम था?इतना सुनते ही मेरा डर गायब हो गया.

फ़िर मैंने उस तरफ़ ध्यान न देते हुए उसकी चुत पर ध्यान लगाया और मैं भी और जोर से चूसने और उसके दाने को काटने लगा. मैंने अपनी बीवी और साली को बुर की दरार और फैलाने के लिए बोला और अपने लंड का सुपारा कुछ आगे दबाया.

जब उसके फोन में जांच-तलाश करने में लगा हुआ था तो वो एकदम दुकान में वापस आ धमकी. उसको चोदने की फिराक में तो हम सारे ही दोस्त रहते थे लेकिन मैंने अपनी तरफ से प्लानिंग शुरू कर दी थी. मैंने साड़ी पहनी थी, तो एक तरफ होकर उसकी मोटर साईकल पर बैठ गयी और उसे एक हाथ से पकड़ लिया.

तब मैंने जानबूझकर आंख बंद कर दी, जिसे देख कर वंदना को लगा कि शायद नींद में रख दिया है और उसने मेरे हाथ को पकड़ कर अपने चूचों के एकदम पास कर लिया.

नेहा के होंठों और गालों पर अब भी मेरा वीर्य लगा हुआ था और उसके मुँह से भी मेरे वीर्य की महक आ रही थी. कुन्डी लगाकर जैसे ही मुड़ा, छोटी चाची मुझे अपनी बांहों भर कर बोलीं- अब तुमको मुझे चोदना होगा. इस दिमागी उथल पुथल के कारण मैं अपने आपको रोक नहीं पाया और दुनिया को बेशर्मी दिखाते हुए अगले 2 मिनट में ही अपना हाथ गाड़ी चलते हुए मामा के लंड के उभार पर रख दिया.

चूत के रस की मादक खुशबू मुझे कुछ ज्यादा अन्दर तक चाटने पर आमादा और दीवाना कर रही थी. इस उल्टा पल्टी में मेरा लंड सुलेखा भाभी की चुत से बाहर निकल गया था मगर मुझे अपने‌ ऊपर खींचकर भाभी ने अब पहले तो अपनी दोनों‌ जांघों के‌ बीच दबा लिया और फिर खुद ही अपने एक‌ हाथ से मेरे लंड को पकड़कर अपनी चुत के मुँह पर लगा लिया.

तब मम्मी ने बोला कि मैं भी उसी में चली जाऊं?तो राज अंकल बोले- दोनों गाड़ियां साथ ही चलेंगी, कोई दिक्कत नहीं है. कुछ देर के बाद जैसे ही वो शांत हुईं तो मैं उनके मम्मों को चूसने लगा. अब ये सब देखकर मुझसे रहा न गया और मैंने मीनाक्षी के मुँह के पास जाकर अपना कच्छा नीचे कर दिया.

बफ हिंदी देहाती

उसी समय मैंने सोच लिया कि इसका मतलब ये हुआ कि मेरी पत्नी भी उसकी ओर धीरे धीरे आकर्षित हो रही है.

जब मैं उसके सीने पे किस कर रहा था तो नैंना मेरे बालों में हाथ फिराने लगी. अपनी चूत से दबा दबा कर लंड का पानी चूत में निकालने के थोड़ी देर बाद नेहा मेरी तरफ मुस्करा के देख कर बोली- क्यों राजू मज़ा आया कि नहीं. मैंने धीरे से लता भाभी के हाथ पर हाथ रख दिया, उन्होंने बच्ची की तरफ देखा और कुछ नहीं कहा.

उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरी पैंटी की इलास्टिक खींचकर पेंटी के अन्दर अपना हाथ घुसा दिया. मेरे दोस्तों ने कहा था कि बुर की सील तोड़ते समय एक बार जब लंड बुर में घुस जाए तो सील टूटने का दर्द खत्म होने तक लंड बाहर नहीं निकालना चाहिए, वरना लड़की दुबारा लंड नहीं डालने देगी. कामवाली बाई की सेक्सी वीडियोमैंने रेखा की डिटेल जाननी चाही, तो उसने ये भी बताया कि फेसबुक भी चलाती है, क्योंकि घर में अकेले ही रहती है.

ऐसे ही मुझे भी सेक्स का नशा चढ़ रहा था तो मैं गुड़िया को चोदने की तैयारी में लग गया. मगर डिल्डो तो पूरे 5 मिनट तक अन्दर घुसा रहा, जिससे उसने मेरी चूत की सारी नसों को पूरी तरह से दबा कर रखा था.

अपना मुँह नीचे करके मैंने उसकी चुत को चूम लिया और जैसे ही मैंने उसे चूमा ‘ओयह्ह्ह …’ कराहते हुए प्रिया ने एक जोर की सांस ली और अपनी कमर को ऊपर हवा में उठा लिया. शर्त के मुताबिक, आज पहले राउंड में प्रशांत की जीभ को मेरी नीना की चूत का ग्रैंड मसाज करना था. ”हां क्यों नहीं रानी … मैं जरूर आ जाऊंगा, कितने बजे छुट्टी होगी तुम्हारी?”यही कोई 5 बजे, आप आओगे ना?”मैं थोड़े रोमांटिक मूड में बोला- अरे तुमने बुलाया और हम चले आए.

मेरे पति की खासियत है कि जब तक वो नहीं चाहते, तब तक उनका वीर्य लंड से बाहर नहीं आता. मैं इतना जोर से चिल्लाने लगी कि कमरा गूँजने लगा था- बचाओ बचाओ बचाओ … ये साले मुझे मार डालेंगे. तुझे चुदना ही पड़ेगा आज …” सर ने कहा और मेरी जांघों को फैलाकर फिर से मुझ पर झुकने लगे.

ऊंघती देखकर जीजाजी ने मुझसे कहा- तुम मेरा कम्बल ओढ़ लो और आराम से सो जाओ.

इस पर अरुणा को इतना गुस्सा आया कि उसने मेरा फोन दीवार में फेंक के मारा. इससे भाबी और ज्यादा उत्तेजित हो कर मुझे गालियां देने लगी- मुदित भोसड़ी के … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मादरचोद चोद डाल मुझे … बुझा इस कुतिया की प्यास आह कुत्ते बहनचोद … आ न आह!उसकी गालियों ने मुझे और उत्तेजित कर दिया.

लेकिन लंड के टच से मैं मदहोश भी हो रही थी,मैं बोली- ठीक है पुनीत, मुझे कोई दिक्कत नहीं है. वो बेड पर सीधी लेटी हुई थीं, उनकी एक टांग मेरे हाथ में और दूसरी टांग बेड पर रखी हुई थी. लेकिन चिंता इस बात की थी कि यदि हम लोग मोटरसाइकिल को स्टार्ट करते हैं तो उसकी आवाज से नानाजी जाग जाने वाले थे.

लेकिन ऐसे रिलेशन्स में लोगों को दूसरे की फीलिंग्स से कोई फर्क नहीं पड़ता. एक शाम, मैं अपने दोस्त के साथ एक सुनसान रोड पर बाइक पर बैठ कर सिगरेट पी रहा था. मैं गांड के मांस को मुठ्ठी भर पकड़ पकड़ कर समूची गांड को मसलने लगा- चाची, क्या गांड बनाई है भगवान ने.

बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी हमें देखते ही एकदम एकता की तरफ बढ़ कर उसे गले लगाया और बोली- ओ माय स्वीट भाभी … कितने दिन लगा दिए इंदौर में, यहाँ मैं अकेले बोर हो रही थी. चाची आज भी मुझे दिल से उतना ही चाहती हैं, जितना मैं उन्हें चाहता हूँ.

ट्रिपल एक्स एचडी बीपी

लगभग 20 मिनट की चुदाई में स्वीटी 3 बार झड़ी और मैं एक झड़ कर उसके ऊपर ही निढाल होकर गिर गया. जैसे ही दादाजी ने उंगली सोनल की चूत पर रखी, तो सोनल ने अपनी कमर को नीचे से उठा दी. मेरा रूम, मकान की चौथी मंजिल पर था और मेरे घर के सामने वाले घर में एक आंटी रहती थीं, जो इस कहानी की नायिका हैं.

अब काम खत्म हुआ, तेज़ गर्मी के चलते मामा ने पंखे का बटन दबा दिया और पास ही रखी खटिया के अस्त व्यस्त से बिस्तर पर जाकर धड़ाम से लेट गए और अपने बम्बू से तने लंड को पकड़कर हिलाते हुए बोले- सुकून नहीं था ना लंड लिए बिना तुझे, ले. अंकल बोले- पहले तो तुम जब कान में बोलो तो अंकल मत बोलो, मुझे सिर्फ जगत बोलो. क्सनक्सक्स नईवो बोली- हां बात तो आपकी सही है लेकिन राज अभी थोड़ा कंट्रोल करो, घर आने ही वाला है.

हम दोनों कुर्सी पर बैठकर चाय तो पीने लगे, लेकिन मेरी निगाहें बार बार उसकी नाइटी में से अन्दर झाँकने की कोशिश कर रही थीं, जिसकी सूचना पूजा को मेरे खड़े लंड ने दे दी थी … जो तौलिया में उठा हुआ साफ देखा जा सकता था.

मेरे दोस्त ने मेरी बहन की चूत चुदाई करके अपने लंड का माल उसके मम्मों पर गिरा दिया. वो मेरे सर को अपनी चुची पर दबाने लगी और बोली- हां बिल्कुल ऐसे ही और जोर से!मैंने भी उसकी बात रखते हुए जोर जोर से चूची चूसना शुरू कर दिया और पूरे जोर से दूसरी चुची को दबा रहा था जैसे उसे उखाड़ ही लूँगा.

दरअसल उन्होंने मुझे मेल किया कि उन्हें मेरी कहानी बहुत अच्छी लगी है और वो मुझसे फ़ोन पर बात करना चाहते हैं. मगर मालती तो उस को उसी हालत में भी मेरी चूत पर धक्के पर धक्का मारती रही. मैं गुस्से से देखता हुआ बोला- अब क्या हुआ?रमेश ने मेरी तरफ आते हुए कहा- मालिक ये कंडोम लगा लीजिए गांव से आते वक्त लेकर आया था.

मेरी कोशिशों को देखकर मामा से भी रहा नहीं गया और उन्होंने चलती बाइक पर ही खड़े होकर अपना पैन्ट खोल दिया और अपनी सीट पर वापस बैठकर अपना खीरे सा मोटा लंड मेरे हाथ में पकड़ाते हुए कहा- ले घुसा ले बम्बू अपनी गांड में अब.

उसके बाद मैंने अपने दोस्त को कॉल किया तो उसने मुझे अपने घर पर बुला लिया. यूं तो कभी सोचा न था कि सबकी गर्म गर्म कहानी पढ़ते पढ़ते एक दिन अपनी खुद की कहानी लिखूंगा. वो मेरी टांगों की तरफ आ गया और मेरी टांगें फैला कर मेरी चूत को चाटने लगा.

ब्लू सेक्स भेजो सेक्सफिर उसने मुझे उसकी गर्म चूत के अन्दर ही झड़ने को कहा और मैं तीन चार धक्के मारते हुए झड़ गया. मैं घबरा कर बोला- मैंने कब?वो बोली- उसी दिन … तू मेरी पूरी बॉडी को देख रहा था … तू आंखों से ही मेरा ब*त्कार कर रहा था.

देसी हिंदी बफ

पिंकी अपने हाथ को वापस खींचने की कोशिश करते हुए बगैर उनकी तरफ देखे बोली- जाने दो ना सर … प्लीज़ … !”सर ने मेरा हाथ अपने दूसरे हाथ में पकड़ा और मुझे अपने लंड के नीचे लटक रहे ‘गोले’ पकड़ा दिए … मैंने हल्का सा विरोध भी नहीं किया और उनके गोले अपनी उंगलियों से सहलाने लगी. जब मैं पानी लेकर गई तो मामी उस मामा के पास चिपक कर बैठी हुई थी और कह रही थी- अजी, सुनो ना, क्या कर रहे हो. आह्ह्ह्ह्ह् …मैंने अपने मम्मों को दबाने शुरू कर दिए और मेरी नेहा … मेरी जान मेरी चुत चाटे जा रही थी.

दोस्तो, किसी शादीशुदा औरत को देखकर मुठ मारने में भी बहुत आनन्द आता है. वो मुझसे बोला- वन्द्या तुम बस आज जमके मेरा लंड चूसो और मैं जी भर के तुम्हारी चूत चाटूंगा. करण बोला- साली कुतिया रंडी … तू इतनी खूबसूरत है … इतना जबरदस्त तेरा शरीर है … इतने दिन से इसी कामुक बदन के पीछे ही तो मैं लगा था.

मेरी दीदी को चोद कर उसे बीवी बनाने की कहानी अभी बाकी है, जिसे मैं अगले भाग में लिखूंगा. उस रात में सुमन चार बार झड़ी और मैं तीन बार झड़ी।और उसके बाद से सुमन और मैं रोज समलैंगिक मैथुन करके अपनी-अपनी चूत का पानी 1-1 बार निकलवा लेती हैं।आपको मेरी समलिंगी सेक्स स्टोरी कैसी लगी? मुझे मेल करके जरूर बतायें।फिर किसी से कोई सेक्सी शरारत करूँगी तो आपको जरूर बताऊँगी अंतरवासना पर सेक्स कहानी के माध्यम से![emailprotected]. में आपको कॉल करूँगी, तो आप आ जाना, फिर रात में हम लोग सुहागरात मनाएंगे.

केबिन में आने के बाद एक सेफ फीलिंग आने लगी जिसके कारण मेरा जोश हर पल बढ़ता जा रहा था। मैं उसके होठों को चूसने-काटने लगा, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।भाभी ने कई बार कहा कि मुझे होठों पर दर्द हो रहा है लेकिन मैं उसके होठों को जैसे खा ही जाना चाहता था। मेरा लण्ड मेरी पैंट में धमाल मचाने लगा था। वो बाहर आकर उसकी चूत में घुसने के लिए तड़प रहा था। लेकिन अभी मैं उसके होठों के रस का आनंद लेने में लगा हुआ था. भाबी अभी भी मुझे देख रही थी, लेकिन उसके चेहरे के भावों को मैं पढ़ नहीं पा रहा था.

मैं तो इंतज़ार ही कर रहा था उनके काम खत्म होने का, इसलिए मैं तुरन्त उनके बगल में खटिया पर बैठ गया और उनके खीरे से मस्त लंड की चमड़ी को पीछे की ओर खींचते हुए गहरे लाल सुपारे को बेपर्दा कर दिया और अपने दूसरे हाथ से उनकी मज़बूत बालों वाली छाती को सहलाने लगा.

इससे मेरी सिसकारियां भी निकलने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मुझे रहा नहीं जा रहा था. वीडियो लड़की की चुदाईमैं चिल्लाई- वहीं रुक जाइये जेठ जी … मैं भी यह बात मैं आपके सामने कबूल करना चाहती हूं कि आपके इस जबरदस्त सेक्स में मुझे अलग ही मजा मिला. சன்னி லியோன் பிஎப்कुछ बाद मैंने पाली बदल ली और इस बार एकता को लंड और प्रमिला की तरफ गांड कर दी. फिर क्या था … पति ने वैसलीन की डिब्बी उठाई और थोड़ी सी वैसलीन लेकर उंगली के जरिये मेरी गांड में डालकर उंगली अन्दर बाहर करने लगे, जिससे मेरी गांड खुल गई और मेरे पति की उंगली मेरी गांड में आसानी से अन्दर बाहर होने लगी.

उनका खड़ा हुआ लंड देखकर वह बहुत ही उत्तेजित हो गई थी, उसकी नजरें अभी भी दादाजी के किसी बड़े आंवले के जैसे सुपारे पर ही टिकी हुई थीं.

वहां का माहौल बिल्कुल किसी पोर्न फ़िल्म के दृश्य जैसा था, जिसमें चुदाई के चक्कर में दो जिस्मों ने किसी सुनसान रात में कोई अस्त व्यस्त सा फार्म हाउस ढूंढ लिया हो और हल्की रोशनी में मानो भारी चुदाई होने की तैयारी हो. मेरी इस हरकत से वो बहुत गर्म हो गयी और मुझे कहने लगी- साले मादरचोद … अगर प्यासी छोड़ दिया तो घर जाते ही तेरी गांड टूटेगी. अगर कोई आपसे काम के लिए कहता है या मजबूरी में आपको करना पड़ता है, तो बात अलग होती है.

थोड़ी पीने के बाद…‘अब मैं नए कपड़े पहन के तैयार हो जाऊं?’उसने मुझे बांहों में भरा एक चुम्मी ली मेरे होठों पर और बोला- आज से पहले किसी का लौड़ा चूसा था?‘नहीं. और आके सामने वाले सोफे पर बैठ गई।मैंने उसके पति के बारे में पूछा … तो उसने कहा- वो तो बाहर गए हैं तीन महीनों के लिए!क्योंकि लोन उसके पति के नाम पर था. लाइट स्काई ब्लू कलर की जीन्स की कैप्री, जो बिल्कुल उसकी टांगों के साथ चिपकी हुई थी, जिसमें से उसके उठे हुए चूतड़ बड़े मस्त लग रहे थे.

सेक्सी चूत की चुदाई वीडियो

इस तरह 2 बार मामी की चूत चोदने के बाद मामी बोली- बस मेरे राजा … आज तो मज़ा आ गया. दोस्तो अगर आपको भी सेक्स का मजा लेना है तो पहले औरत की शर्म को खत्म कर दो. वह नींद से भरी बोलीं- आमिर, मेरी आदत मत बिगाड़ो, तुम तो कुछ दिनों में चले जाओगे और मैं तड़पती रह जाऊंगी.

मुझे ये सब साफ दिखाई दे रहा था क्योंकि वे दोनों हॉल में सोफे पे ही चुदाई में लगे हुए थे.

तो दोस्तो, ये थी मेरी सच्ची दास्तान, आशा करती हूं कि आपको मेरी ये चुदाई की कहानी पसंद आई होगी.

जैसे ही दादाजी ने उंगली सोनल की चूत पर रखी, तो सोनल ने अपनी कमर को नीचे से उठा दी. लेकिन नीरू अभी भी जब मायके आती है तो मुझसे खूब चुदवाती है, हम तीनों साथ एक साथ ही मजे करते हैं. एक्स एक्स ट्रिपल वीडियोपहले मैं बेड पर चित लेट गया, उसके बाद वो मेरे ऊपर आकर नीचे की तरफ मुँह करके लेट गई.

मेरे लंड की सवारी की उसकी बात उचित लगी, मैंने लंड को बाहर किया और पल्लवी से अलग होकर मैं लेट गया। पल्लवी मेरे ऊपर आ गयी और लंड को अन्दर लेकर मेरे ऊपर लेटकर मेरी छाती को अपने दांतों से काटने लगी और अपनी जीभ से मेरे निप्पल गीला करने लगी और साथ ही साथ अपने कमर को चलाने लगी. ये सोचकर मेरा जोश और भी अब बढ़ गया, मैंने अपना एक हाथ उसके घाघरे में घुसा दिया और उसकी चिकनी जांघों को सहलाते हुए धीरे धीरे ऊपर उसकी‌ चुत की‌ तरफ बढ़ने लगा. तब उसने कहा- उनकी क्या जरूरत? वैसे भी मैं तुम्हारी पत्नी बन ही चुकी हूं.

उनके मर्दाना हाथों से हो रही मेरे स्तनों की मालिश की वजह से मेरी चुत पूरी गीली हो गई थी. मैंने जल्दबाजी करना ठीक नहीं समझा और ब्लाउज के ऊपर से ही उसके चूचे दबाने लगा.

मैं खाट पर लेटी रही और सब ने मेरे मुँह में अपना लंड देकर अपना रस मुझे पिला दिया.

फिर मैंने अपना अंडरवियर उतारा और अपना लंड उसके हाथों में सौंप दिया. ना ही मैंने उनकी कभी गांड मारी थी, ना कभी उन्होंने ये सब करने को कहा था. मैं जब कॉफ़ी ले कर वापस आया तो मैं भी देख कर दंग रह गया कि भाभी पॉर्न देख कर एंजाय कर रही थी और अपने बदन को सहला रही थी.

એક્સ એક્સ એક્સ દેશી ગુજરાતી अब मेरे बूब्स अजय की छाती पर चुभ रहे थे और अजय अपने हाथ से मेरी कमर सहला रहे थे. चूत पर मेरा सेक्सी टच होते ही उन्हें जैसे करंट सा लगा, उन्होंने मुझे कस कर पकड़ लिया और मुझसे लिपट गईं.

मैंने आगे बढ़ते हुए उसकी जीन्स को उतार दिया, लेकिन ये ध्यान रखा कि पेंटी न खुले. मानसी- चलो।सुशीला- नहीं … हम कमरे में चलते हैं।मैं- चिंता मत करो भाभी, मेरे होते हुए कोई तकलीफ नहीं … यहाँ एक मेला लगा है, वहाँ घूम कर आते हैं।सुशीला कुछ नहीं बोल पाई।हम सब वहाँ गए। मैंने दोनों को दो आइसक्रीम खरीद कर दी. किस करते समय मैं वंदना की गांड को दबा रहा था और कमर को सहला रहा था.

মা ও ছেলে xxx

कुछ देर बाद मेरा भी पानी निकलने वाला था और मैं उसकी चूत में ही झड़ गया. कुछ देर तो नेहा ये सहन करती रही, फिर जब उसकी बर्दाश्त से ये बाहर हो गया … और अबकी बार जैसे ही मैं अपनी उंगली को उसकी चूत के प्रवेशद्वार पर लाया, उसने खुद ही मेरे हाथ को अपनी मुनिया पर जोरों से दबा लिया. मैं- अमित निकालो … बहुत दर्द हो रहा है!अमित कुछ देर के लिए रुका और मेरा दर्द कम होने लगा.

उसके मुँह में मेरा लंड बड़ी मुश्किल से जा रहा था फिर भी वो चूस रही थी. वो जब मुझे अपने किस्से सुनाती तो बदन में सिरहन सी होने लगती। उसके पास सब कुछ था फ़ोन, अच्छे कपड़े, आशिक़ … वह सब कुछ जो एक जवान लड़की के पास होता है। उसके ज़रिये कई लड़कों ने मुझे परपोज़ किया पर मैं अपने परिवार से डरती थी, अपनी जवानी पर कंट्रोल करती थी। बीतते हुए समय के साथ मैं और भी मस्त हो चुकी थी। तराशे हुए जिस्म, उभरी हुई गांड की मालकिन हो चुकी थी।एक दिन पिंकी के घर हम अकेले थे.

मैंने कहा- भाई यह क्या कर रहा है तू? यह क्या तरीका है तुम्हारा? यह मैं बर्दाश्त नहीं करूंगा.

मन तो मेरा भी बहुत करता था कि किसी दिन उसको पकड़ कर चोद दूँ लेकिन अभी जल्दबाज़ी ठीक नहीं थी. मगर उसने मना कर‌ दिया और बोली- रहने दे … मुझे कोई परवाह नहीं है … जिसे देखना है देखने दो!शायद प्रिया को भी पता चल गया था कि नेहा ने हमें देख लिया है, इसलिए ही उसने ये बात थोड़ा जोर से कही. मेरी इस मस्तराम सेक्स स्टोरी के पहले भागगांव वाली साली की सहेली को चोदा-1अब मैंने उसके निप्पल को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया.

मैं भाभी के मुँह को ज़ोर-ज़ोर से चूम रहा था और भाभी बहुत हॉट होती जा रही थीं. मैं समझ गई वो क्या चाहता है और मैं उसके लण्ड को चूसने लगी जो 7 इंच लम्बा था। मैं उसको पूरा मुँह में ले कर चूस रही थी. उनकी‌ दोनों जांघें जोरों से मुझ पर कस गईं और ‘आह्ह् … ईश्श आह्ह् … ईश्श … आआह्ह् … ईश्श … आआआह्ह …’ की आवाजें निकालते हुए वो अपनी चुत से गाढ़े गाढ़े सफेद रस को मेरे लंड पर उगलने लगीं, जोकि मेरे लंड के‌ सहारे बहते मेरे‌ कूल्हों तक‌ पहुंचने लगा.

मेरे दोनों स्तनों को अच्छे से चूसने दबाने के बाद उनका हाथ फिर से मेरे पेट पर बंधी साड़ी पर गया.

बीएफ फिल्म चाहिए सेक्सी: उस जगह पर चारों तरफ से बाउंड्री बनी थी और अगर कोई ऊपर आ भी जाता, तो वो हमें पहले ही दिख जाता. मस्त चुदाई के साथ वो अपने मुँह से चिल्लाए जा रही थी- आह … और ज़ोर से करो …उसकी चुदास से भरी आवाज़ मुझे और अधिक उत्तेजित करने का काम कर रही थी.

पर तेरी चूत बहुत टाइट है तूने कैसे इतनी बड़ी रंडी हो कर भी चूत को टाइट बनाए रखी है. मैंने सोनू से उसके इंस्टिट्यूट और उसकी सहेलियों के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसकी दो सहेलियां हैं. मैंने हंस कर कहा- सच भाभी तेरी यह मस्त खड़ी चूची, चूतड़ बहुत सेक्सी और सुन्दर लग रहे हैं.

मगर जैसे मैंने उनके होंठों को चूमा, भाभी ने झट से अपनी आंखें खोल लीं और दोनों हाथों से मेरी गर्दन को पकड़कर मेरे होंठों को अपने मुँह में भर लिया.

आज दोनों बच्चे साथ ही यहाँ सोने वाले हैं भाभी जी, आप चिंता ना करना. अगले दिन जब मैं ऑफिस से घर आया तो मैंने देखा कि अनु और करण पाल एक कमरे में पास पास बैठे थे और बातें कर रहे थे. उधर पीछे नजर घुमाई तो जगत अंकल तो पूरा पेंट उतारे हुए हाथ से लंड रगड़े जा रहे थे.