हिंदी में सुहागरात बीएफ

छवि स्रोत,घरेलू सेक्सी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

कपल वीडियो: हिंदी में सुहागरात बीएफ, मैंने उसको अपनी गोद में उठा कर ले जा कर बिस्तर पर लिटा दिया।मैं निधि के पैरों के पास आकर उसकी बायें पैर की उंगलियों को चूमने लगा.

सेक्सी आंटी की चुदाई की कहानी

उसने पूछा- आपको कैसे पता?मैंने कहा- मैं तेरी सब खबर रखता हूं बस मम्मी को कभी नहीं बताया. हिंदी डॉट कॉम सेक्सी वीडियोपापा बोले- बेटी, तुम ठीक हो न … कहीं चोट तो नहीं आई?मुझे उस टाइम कमर में दर्द हो रहा था … तो मैंने कहा कि पापा मेरी कमर में बहुत दर्द हो रहा है, मुझसे हिला भी नहीं जा रहा है … ये मेरी डिलीवरी का टाइम भी नजदीक है, मैं क्या करूं?पापा बोले- तुम घबराओ मत … मैं हूं ना … मेरे पास एक तेल है, जो बहुत ही असरदार है.

दोस्तो, बस इसी के साथ मैं प्रियल राज आप लोगों को धन्यवाद देते हुए आपसे विदा लेती हूं. सेक्सी सेक्सी पिक्चर एचडी वीडियोउसके बाद फिर उसी तरह चिन्ना की जोरदार आवाज सुनाई दी जो करोना की समझ से परे थी।कुछ देर के बाद चिन्ना के बैडरूम का दरवाजा खुलने की आवाज आई.

उनके होंठ मुझे ऐसा इशारा कर रहे थे कि जैसे कह रहे हों कि आकर मेरे रस को पी लो.हिंदी में सुहागरात बीएफ: मैंने उसकी बालों वाली चूत में जीभ अंदर दे दी और उसकी चूत के रस को अपने मुंह में लेने लगा.

मगर मैं उसे प्यार से चोदना चाहता था, मैंने कहा- जितना भी होता है, कर लूंगा.अगले 30 सेकेंड में ही मेरा पूरा का पूरा लावा उसके मुँह में निकल गया.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी वीडियो कॉम एचडी - हिंदी में सुहागरात बीएफ

उसे देख कर मैं बेड से खड़ा हुआ और सीमा के पास आकर उसके हाथों को चूमा.मुझे किसी लड़की को पटा कर उसे चोदने का बड़ा मन था, लेकिन साली कोई हाथ ही नहीं रखने देती थी.

मैंने उससे कहा- यार ये बात मैंने भी सोची थी, लेकिन मुझे ऐसे किसी रंडी के बारे में नहीं पता जिससे मैं चुदाई की बात कर सकूं. हिंदी में सुहागरात बीएफ उससे बातें हुईं, तो पता चला कि वो एक स्कूल टीचर है और बरनाला पंजाब में अकेली रहती है.

तो इस प्रयास को भी पूरा एक महीना लग गया, तब वो चुदाई की लाइन पर आई!फिर वो दिन आ गया था जब हम एक होने वाले थे.

हिंदी में सुहागरात बीएफ?

ऊपर से मैंने भी अपने चूतड़ों को झटका दिया तो मेरा लंड उसकी चूत में पूरा एक बार में ही घुस गया. इसीलिए मैंने जानबूझ कर दूसरे कमरे में तुम्हारी मौजूदगी में उन्हें सारी-सारी रात जोर-जोर से चोदा ताकि तुम्हारी जवानी के अरमानों को पंख लग जाएँ. थोड़ी देर में उसने ढेर सारा सफेद गाढ़ा माल छोड़ दिया, जो मेरे बॉल्स और उसकी जांघों से होते हुए बेड शीट को गीला कर रहा था … पर मैं तो जोर जोर से चोदे जा रहा था.

भाभी ने बाथरूम में ले जाकर मुझे अपने हाथों से नहलाया और मेरी अच्छी तरह से खातिर की. मेरी सिसकारी सुन कर उन्होंने एक धक्का लगा कर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया. लेकिन इस वेलेंटाइन-डे ने मजा देने के साथ साथ मेरी हालात खराब कर दी थी.

उस दिन पूरा समय ऑफिस के काम के बाद मैं घर के लिए निकला, तो पंकज का कॉल आया- आर्यन तू उसे अभी कॉल करके कल का फिक्स कर ले. थोड़ी देर बाद जब भाभी नॉर्मल हुईं … तो मैंने लंड थोड़ा सा बाहर निकाल कर एक और झटका मारा. उनको देख कर मुझे और ज्यादा जोश चढ़ रहा था और मैं उसकी चूत को जोर जोर से ठोक रहा था.

आप लोगों को ये सेक्स स्टोरी पसंद आयी या नहीं, मुझे मेल कीजिएगा, तभी मैं अपनी मामी की चुदाई की कहानी का अगला भाग लिखूँगा. मैंने उसकी चूत में दो-चार धक्के तेजी के साथ लगाये और जब माल एकदम आने लगा तो मैंने जल्दी से लंड को निकाल कर उसके मुंह में दे दिया.

मैं अपनी चूत ऊपर नीचे करके अच्छे से मजे लेने लगी और अपनी आवाज तेज करके ‘आहह उम्मम….

मेरा लण्ड मम्मी की चूत के अन्दर था और मम्मी की चूची मेरे मुंह के अन्दर.

मीनू ने मेरे को कहा- भाई, मैंने शायद गलती से ये वाला पैकट उठा लिया. मेरे पूछने पर उसने बताया कि वो लोग अब घर जा रहे हैं और मुझको बोलकर गए हैं कि तुम आराम से एंजाय करके आना. अगले दिन सुबह मेरी ट्रेन पहुंच गई और मैं वहां से सीधे अपनी सहेली शालिनी के घर चली गयी.

उसके बाद मैंने भाभी से जाकर बोल दिया कि आज रात को अपने ससुर का लंड लेने के लिए तैयार रहना. मैंने लंड की ओर इशारा करते हुए कहा- इसको अपनी बुर में लेना चाहोगी?वो बोली- ये तो बहुत बड़ा है. जाते समय मां ने कामवाली भाभी से कहा- तुम देर तक रुक जाना … क्योंकि राज अकेला है.

अब जैसा मैंने पहले भी बताया था कि मुझे सेक्स से बहुत डर लगता है, तो मेरी सिसकारियां डर में बदल गई.

टीचर की चूत में झड़ते ही मैं उनके ऊपर ही ढेर हो गया और करीब 10 मिनट तक मैं उनके ऊपर लेटा रहा. वह बहुत गर्म हो चुकी थी और जोर जोर से सिसकारियां ले रही थी। वह मेरे बालों पर हाथ भी फेर रही थी और साथ में मेरे होंठों को चूस रही थी. मैंने उसे कहा- तुम यहीं रुको, मैं बाहर देख कर आता हूँ।उसके बाद मैं खेत की तरफ बाहर आया तो किनारे पर ज्योति थी, उसने मुझसे कहा- आप तो दीदी से मिल लिए, पर मुझे क्या मिला?मैंने ज्योति से कहा- जो मांगो.

मैंने उससे कहा- अब रहा नहीं जाता प्लीज!वह कहने लगी- अरे रुको, अभी इतनी भी क्या जल्दी है? जब 5 साल और इंतजार किया है तो और 5 मिनट इंतजार नहीं कर सकते क्या?मैंने कमरे की लाइट बंद कर दी और सिर्फ मोबाइल के टॉर्च को जलाकर टेबल पर उल्टा रख दिया जिससे कि हल्की हल्की रोशनी रहे. उन्होंने अपने बूब्स को पकड़ते हुए बोला- देखो अब तो ये भी नीचे को लटकने लगे हैं … पहले तो एकदम टाइट थे. बहू बोली- डैडी जी, आप अपने रूम में चलो, मैं आपका सरप्राइज लेकर आती हूँ.

उसकी बात सुन कर करोना शर्मा कर मुस्कुरा दी और डाइनिंग टेबल पर बैठ कर खाना सर्व करने लगी.

दोस्तो, आपको तो पता है कि जब कोई 20 साल की कुमारी लड़की किसी जवान कुवारे लड़के को गले लगाती है तो कैसा लगता है?वैसा ही बिल्कुल मेरे साथ हुआ. करोना सफाई पसंद होने की वजह से अपने झांट साफ़ करके रखती है, उसने टूर से एक दिन पहले ही अपनी चूत के बाल साफ़ किये थे.

हिंदी में सुहागरात बीएफ श्वेता बोली- अब क्या हुआ भैया!मैंने कहा- गोटियां बहुत नाजुक होती हैं … तू हल्के हाथ से लगा … और अब रहने दे. पर वो रट हुए बोल रही थी कि जय प्लीज लंड बाहर निकालो … बहुत दर्द हो रहा है.

हिंदी में सुहागरात बीएफ मैं वहां से जाने लगा, तो उसने मुझसे कहा- सॉरी यार … रुक मैं उससे बात करता हूँ. मैंने इस बार उसे अपने लंड पर बिठाया और उसकी उछलती चूचियों को अपने हथेलियों में भर कर खूब मींजा.

तभी वो मेरे और पास आया और मेरे खुले हुए मम्मों को पकड़ कर दबाने लगा.

बीएफ की तस्वीर

चाची बोली- ये सब कहां से करना सीखा है तूने?मैंने कहा- चाची, मैं तो बहुतों को अपना माल पिला चुका हूं. उसने मेरे शर्ट के बटन को खोला और धीरे-धीरे मेरी छाती चूमने लगी पूरा शर्ट खोलने के बाद उसने भी बिल्कुल वैसा ही किया जैसे मैंने किया।मुझे अच्छे से पूरे शरीर को चूमने लगी और मेरे लंड पर धीरे-धीरे हाथ फेरने लगी, मेरा लंड जो कि पहले ही बहुत कड़क हो चुका था, वह उसे हल्के हाथों से सहलाने लगी. अगर तुझे मालिश ही करवानी है तो मैं कर देती हूं चल।मैंने कहा- नहीं अम्मी, आप क्यों तकलीफ करती हो.

धीरे-धीरे मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई।अब मेरा लंड उसकी चूत में तेजी से अंदर बाहर हो रहा था. तभी मैंने अपनी बहू को नीचे कर दिया और उसकी पेंटी निकाल के फेंक दी और अपना मुँह उसकी गीली चूत पर लगा दिया. भाभी गर्म तो पहले से ही थी तो उसने भी अपनी टांगें चौड़ी के थोड़ी और फैला दी।थूक से लथपथ लंड को उसकी गांड पर घिसने लगा और उसे उसका छेद दिखाते हुए हल्के के लंड को एक झटका दिया जिससे लंड की सुपारी उसके छेद में आराम से घुस गई। उसने एक हल्की सी सिसकारी ली।मैंने एक बार फिर हल्का सा जोर लगाया और अपना मेरा लंड रगड़ खाता हुआ उसकी गांड की गहराई मापने को उतरने लगा.

उसने पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- मैं अभी घर पर हूँ। मैं भाभी के घर आता हूँ, वहीं आके बात करूंगा।तो उसने बोला- ठीक है, आ जाओ.

फिर वो बोली- अब चोद भी दे हरामी! मेरी जान निकालने का इरादा है क्या? अब और कितना तड़पायेगा मुझे?मैंने भी उसको और ज्यादा तड़पाना सही न जाना. बाद में निशान भी पड़ जायेंगे, इसका ख्याल किये बिना मैं उसकी गर्दन को चूस रहा था. उन्होंने अपनी टांगों से मुझे जकड़ लिया था और अपने हाथों से मेरी कमर को और बस चाह रही थी कि मैं उन्हें छोड़ूँ ना।बस मैं उन्हें ऐसे ही चोदता जा रहा था.

अतः मैंने सपने में भी बुर को नहीं देखा था।मैं और मेरी दादी वहां 1 दिन के लिए गए थे लेकिन बुआ जी ने जिद की कि हम आज रात वहीं रुक जायें तो इसलिए मैं और मेरी दादी वहीं रुक गए थे। वहां पर मेरी बुआ की बेटी और उसका भाई भी थे. मैंने फटाफट अपने कपड़े उठाये और रूम से बाहर आने लगा।अच्छा … इतने में ही डर गए? अब नहीं नहाना साथ में?” भाभी ने हंसते हुए कहा।भाभी जी, नहाना तो नहीं … कुछ और हो जाएगा अंदर. अजय ने देखा कि उसकी बीवी गैर मर्द के लंड की चुसाई इतनी मस्ती में कर रही है तो वो भी मेरे करीब आकर खड़ा हो गया.

यही सोच कर मैंने नसरीन की दोनों टांगों को पकड़ कर उसके पेट से सटा दिया. मैंने कहा- अरे बेटू इसे सुसु नहीं बुर कहते हैं … सुसु तो छोटे बच्चों की होती है … अब तो ये बड़ी हो गयी है.

मैंने दांतों से उसकी चूत की फांकों को हल्का सा काट लिया और फिर से उसकी चूत का मुख चोदन करने लगा. मैंने कहा- मेरा निकलने वाला है, कहां निकालूं?वो बोली- अंदर नहीं, अंदर नहीं जाना चाहिए पानी. कोई दस पंद्रह मिनट के बाद मेरे को अजीब सा फील होने लग गया और मेरा लंड भी खड़ा हो गया.

भाभी ने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?मैंने कहा- हां मगर यहां नहीं है.

यही सोच सोच कर लंड में ऐसा तनाव आ जाता था कि लंड पानी फेंक देता था. फिर मैंने अपना थोड़ा भार अपनी बहन पर डालते हुए अपने लंड को उसके चुत में पेल दिया. मेरी जांघें उनके चूतड़ों से टकरा रही थी, बहुत मजा आ रहा था।मैं बस धक्के पर धक्के लगाए जा रहा था.

मम्मी दो बार पेशाब करने के लिए बाथरूम गईं और मैं बाथरूम में उनको पेशाब करने की कल्पना करके, उनकी चूत के बारे में सोचकर अपना लण्ड सहलाता रहा. मेरे होंठ पूरे गीले हो गये उनकी चूत के रस से … और मेरी लार भी उनकी चूत को गीला करने लगी.

[emailprotected]डर्टी सेक्स कहानी का अगला भाग:बड़ी बहन के साथ डर्टी सेक्स-2. इसके बाद मैंने धीरे धीरे उसके पूरे चुचों को और उसके सपाट पेट के ऊपर खूब सारा चॉकलेट गिराया और फिर धीरे धीरे उसके चुचों की मसाज करने लगा. वो बस तड़प रही थी, कभी मजे में और कभी दर्द में।उसके बाद नीचे की ओर जाते हुए मैंने उसकी नंगी कमर को सहलाया.

कुत्ते घोड़े की बीएफ

बुआ ने अनिल को मेरे बारे में बताया और कहा- यह मेरी भतीजी पल्लवी है, और यहाँ पढ़ने के लिए आई है.

इसके बाद उसने मुझे करवट दिला कर लेटा दिया और फिर मेरा एक पैर ऊंचा कर दिया. फिर मैंने माया को सोफे पर बिठाया और उसके उरोजों को मसलकर चूसने लगा, वापस दबाने लगा. सारिका की कमर पकड़ कर लण्ड को अन्दर धक्का मारा तो लण्ड का सुपारा सारिका की चूत में चला गया, दूसरा धक्का मारा तो सारिका की चूत की झिल्ली फाड़ते हुए मेरा लण्ड उसकी नाभि तक जा पहुंचा.

उसे भी मेरे लंड के खड़े होने का आभास हुआ तो उसने अपना हाथ नीचे करके मेरा लंड पकड़ लिया और उसे अपनी चूत की दरार में रगड़ने लगी. जैसा कि उसने ये फैसला किया है कि शादी होने तक वो मेरे अलावा किसी से नहीं चुदेगी … इसलिए वो मेरे लंड के नीचे ही रहती है. सेक्सी वीडियो हटामैं रंडी हूँ … देख कर पता लगा लेती हूँ कि कौन कुंवारा है और कौन नहीं.

मैं अभी कुछ समझ पाता कि दीदी मेरे ऊपर चढ़ गईं और मुझे किस करने लगीं. लंड का सुपारा घुसवाते ही उसे हल्का दर्द हुआ, मैंने घी टपकाते हुए गांड की चिकनाई बढ़ा दी.

यह बात तब की है, जब एक साल पहले मेरी सहेली शालिनी की लखनऊ में शादी थी. मेरी दो बहनें हैं, एक नन्दिनी दीदी, जिसे मैं चोद चुका हूँ, उसकी उम्र 32 साल है. उनके मम्मों को दबाकर और चुत में उंगली करके उनसे गांड मरवाने को कहा.

लेकिन क्या दिया … यह बताने से पहले मैं चाहता हूं कि अन्तर्वासना के पाठक या पाठिकाओं की इस बारे में क्या राय है. नितिन ने मेरे दोनों मम्मों को जोरों से मसला और दोनों निप्पलों पकड़ कर खींचने लगा. साथ साथ चिन्ना दाएं हाथ को करोना की भिंची हुई टांगों के जोड़ पर हल्के-हल्के फिराता रहा.

फिर मुझे दीवार से टिका कर मेरा एक पैर अपने साथ से पकड़ कर ऊपर कर दिया, जिससे मेरी चूत का मुँह खुल गया.

मैंने रूम का गेट खोला ही था कि मानवी जाकर बेड पर कूद पड़ी और लेट गयी … क्योंकि वो कुछ ज्यादा ही थी हालांकि मैं भी काफी थका हुआ था. मैं अपने लंड महाराज को उसकी चुत के द्वार तक ले जाने के लिए उसके दोनों पैरों के बीच में बैठ गया और उसके दोनों पैरों को अपनी कमर पर टिका दिया.

कुछ देर बाद वो मुझसे कपड़े पहनने का कह कर, अपने कपड़े लेकर बाथरूम में चली गई. सीमा मुझको एक्टिवा से लेने आ गई और मैं उसके साथ एक्टिवा पर बैठ कर उसके घर चला गया. मैंने 2-3 मिनट रीना की चूत में झटके मारे और मैं भी अब अपने भाई की बीवी की चूत में बह गया.

थोड़ी ही देर में वह भी नीचे से अपनी कमर उठा कर मेरे धक्कों का जवाब देने लगी।वो भी अब मजे में बोली- बहुत मजा आ रहा है. ब्लाउज खोल कर चाची ने ब्रा भी निकाल दी और मेरे सामने ही अपने दूधों को आजाद कर दिया. उसने अपनी बीवी को नीचे लिटा लिया और मुझे उसके ऊपर आने के लिए इशारा किया.

हिंदी में सुहागरात बीएफ जब मेरे पति की मृत्यु हुई, उसके बाद मैं एक फैक्ट्री में काम करने लग गई. उसने देखा और बोला- हां भैया ये तो बहुत अच्छी दिखने लगी … सुन्दर भी दिखने लगी है.

बीएफ सेक्सी फिल्म अंग्रेजी में

कोई 20 मिनट में ही हम एक बड़े से बंगले के बाहर पहुंचे, जिसे देखकर मुझे लगा कि यह तो बहुत बड़े घर से लगती है. मैं 23 साल की हूँ, मेरे पति मुकेश 25 साल के हैं, मेरी सास नीता 44 साल और मेरे ससुर हरीश 46 साल के हैं. मैंने उससे ऐसे ही पूछ लिया- क्या हुआ … कुछ परेशान लग रही हो?वो बोली- तेरे जीजा चार पांच दिन घर नहीं आएंगे … और मुझे अकेले रहने में थोड़ा डर लगता है.

मैंने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाला और रेलगाड़ी की तरह उसको ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. उसके मुंह से अपने लंड की तारीफ में ये शब्द सुन कर मुझे गर्व सा महसूस हुआ. सेक्सी पिक्चर पाठवा व्हिडिओमैंने कहा- बहू, आज 10 बज गए हैं मगर रानी नहीं आयी?बहू बोली- मैंने उसे 2 दिन की छुट्टी दे दी है.

मैं चाची की कमर को थामे हुए एक हाथ से उनके बूब्स को छेड़ रहा था और नीचे से मेरा लंड चाची की गांड पर लग रहा था.

मैंने उससे ऐसे ही पूछ लिया- क्या हुआ … कुछ परेशान लग रही हो?वो बोली- तेरे जीजा चार पांच दिन घर नहीं आएंगे … और मुझे अकेले रहने में थोड़ा डर लगता है. तभी मेरे बगल की ही दूसरी लड़की छत पर आई और मुझसे बात करने लगी।मैं मन ही मन सोच रहा था कि ये मुसीबत कहा से आ गयी.

मैं उनकी सेक्स में बढ़ती सनक को कैसे काबू में करूं?यहां मैं उनके और मेरे साथ हुए कुछ वाकये लिख रही हूं. दोस्तो आपको मेरी सेक्स स्टोरी पसंद आई हो तो मुझे अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें. उसने मेरी तरफ देख और पूछा- क्या सहलाऊं?मैंने अपने लंड पर उसका हाथ रखा और कहा- इसे लंड कहते हैं.

धीरे धीरे उसकी मैक्सी के अंदर से ही उसकी चूचियों को दबाने में बहुत मजा आ रहा था.

फिर मैंने लंड बाहर निकाल कर बहुत सारा थूक उसकी गांड में डाला और अपने लंड पर भी लगाया. जैसे ही मेरा लावा उसकी बुर में गिरा, वो भी कंपकंपाते हुए अपना यौवन रस निकालने लगी. उसने बोला- भैया ये कैसे करूं?मैंने कहा- जैसे लॉलीपॉप चूसती हो न … वैसे ही लंड चूसो.

गांव की लड़की की चुदाई वीडियो सेक्सीलंड बेताब होने लगा था और कुछ देर पहले उसकी पसीने से भीगी चूचियां मेरे लंड को खड़ा करने लगी थीं. उसने ऊंघते हुए हामी भर दी और मैं बाहर से दूसरी चाभी से रूम लॉक करके एग्जाम देने के लिए निकल गया.

बीएफ बीएफ फुल वीडियो

फिर भी मैं कल्पना की चूत में लगातार अपना लंड आगे पीछे कर रहा था और उसके चूचे दबा रहा था. मेरे हाथ की एक उंगली उसकी चुत में घुस कर उसकी चुत का जायजा ले रही थी. अब तक मेरे फोन पर नितिन के 10 मिस कॉल आ चुके थे, जिससे मैं एक फ्रेंडशिप साईट पर एक महीने पहले मिली थी.

मैंने आंटी से बात की और निशा के बारे में पूछा, तो उन्होंने बताया कि वो रूम में है … पढ़ाई कर रही है. जैसे ही जाने को हुई मैंने उसे पकड़ दिया और उसे अपने गले से लगा दिया. उसे मालूम था कि मैंने योग और मसाज थेरेपी का कोर्स ऋषिकेश से किया हुआ है … इसलिए उसने शायद मेरे लिए अपना भरोसा सा जताया.

तो मैंने देखा कि बहू के बैड पर एक औरत कुतिया बनी हुई है और एक जवान लड़का उसे पीछे से चोद रहा है. ये बताओ मुझे तुम्हारा जिम ज्वाइन करना है चार्जेज क्या हैं?अनिल बोला- अरे तुम्हें भी जिम ज्वाइन करना है क्या?मैंने कहा- हां क्यूँ …. यहां पर गौर करने वाली बात ये भी है कि एक पुरूष का स्पर्श आपके जिस्म को ऑर्गाज्म का अनुभव करने के लिए ज्यादा संवेदनशील बनाने में सहायक होता है, खासकर कि जब आप योनि मसाज का विकल्प चुनती हैं.

मैंने कहा- नताशा डार्लिंग … जब तक दर्द न हो, तब तक चुदाई का मजा नहीं आता. बोलो हनी, कब से देख रही हो?”इस बार हनी ने नजरें नीचे किये हुए धीरे से कहा- 15-20 दिन से.

रात को सोते समय मैं बहुत बैचैन था कि परसों मैं पहली बार किसी रंडी को नंगी देखूंगा और उसके साथ चुदाई भी करूंगा.

बहू बोली- कैसी लग रही हूँ डैडी जी?मैंने कहा- बहुत खूबसूरत लग रही हो बहू. उर्फी जावेद सेक्सी वीडियोजब मैं चाची के रूम में पहुंचा तो वो पहले से ही बेड पर पेट के बल लेटी हुई थी. मोनालिसा सेक्सी गानामैंने नितिन को किस करने ले लिए उसकी शर्ट पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और हम एक दूसरे के होंठों को चूमने लगे. अब मैं बस मौके की तलाश में था कि कब काम वाली भाभी के साथ सेक्स का मजा ले सकूँ.

मैं इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि मैंने कुछ ही मिनट में उनके पेटीकोट के ऊपर मुठ गिरा दिया.

जैसे कि आप जानते है कि कैसे मैंने अपनी क्लासमेट आकांक्षा को अपने एक फ्रेंड के कमरे पर ले जाकर चोदा था. मुझे एकदम से कौतूहल हुआ और मैंने उस वीडियो को शुरु से प्ले करना चालू किया. मैंने उससे पूछा- स्नेहा तुम तो एकदम बदल गई हो?उसने कहा- मामा, आप भी बदल गये हो.

मैंने कहा- कोई बात नहीं, ये भी काम आएगी।मीनू ने मुझे दो गोली दूध के साथ खाने को दी। फिर मैं और मीनू डबल बैड पर अपनी अपनी साइड पर सो गए. मानी तो ठीक नहीं तो उसके स्तनों को देख कर ही हिला लूंगा।मैंने उसको रिक्वेस्ट की- प्लीज़ मुझे चूत दिखा दो, नहीं तो मेरा लंड बैठेगा नहीं।वो मान गयी, उसने कॉल किया और बोली-जल्दी से देख लो, मैं बाथरूम में हूँ।ओह हो … क्या चूत थी उसकी! बस देखते ही चाटने का मन कर रहा था. मैंने नसरीन की चुत पर अपने 9 इंच लंबे लंड को सैट करके हल्के से दबाया, तो वो दर्द के मारे कंप गई.

एक्स एक्स बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर

यह सत्य घटना मेरी खुद की है जिसमें मेरी सगी बहन, मौसेरी बहन और मेरी भांजी के साथ सेक्स किया और आज तक कर रहा हूँ. मैं भी दीपिका की चूत को चोद कर मजा लेने लगा और दीपिका भी अपनी चूत में मेरे लंड का आनंद लेने लगी. मेरे पापा ने मेरी मां की गांड पर हाथ रख कर उनकी गांड के छेद के नीचे मेरी मां की गदराई हुई सी काली चूत को हाथ से फैला दिया.

उसके बड़े बड़े चूचे, पतली सी कमर … व दिखने में भी मनीषा बहुत सुंदर थी।मैं ऐसे ही लेटा हुआ था और रात के करीब 9:00 बज चुके थे.

उसने कस्टमर हेल्प लाइन वाले नम्बर पर ही फोन किया था।फोन पर उसने मुझे अपनी प्रॉब्लम बता दी.

चुत को लंड की जरूरत होती है और लंड को चुत और गांड दोनों की जरूरत होती है. तभी वो तेजी से उस लंड को अपनी चूत में लेने लगी और दो मिनट के बाद वो झड़ने लगी. हिंदी पिक्चर में सेक्सी वीडियोकल्पना जोर जोर से मेरे लंड पर कूदने लगी और मुझे जोर से कसके अपनी बांहों में लेकर किस करने लगी, मेरी पीठ पर हाथ फेरने लगी.

मेरी इस बात से वो थोड़ा नाराज हो गई और मेरी तरफ आंखें तरेर कर देखने लगी. मैंने सिसकारते हुए पूछा- आह्ह … जानेमन … होने वाला है, कहां निकालूं अपने माल को?उस औरत ने उसके मुंह की लार से सने मेरे लंड से मुंह ऊपर करके हांफते हुए कहा- आह्ह मुंह में ही।उसके बाद फिर से उसने मेरे लंड पर मुंह दे दिया और चूसने लगी. मेरा तो हो गया, तुम्हें अपना करना है तो कर लो।मैं बोला- भाभी, मेरा भी थोड़ा सा बचा है बस अब आप लेट जाओ।मैंने उसे अपने नीचे लिटाया और लंड को उसकी चूत पर सेट किया और ठोकर मारते हुए अंदर डाल दिया और दनादन चोदने लगा। जो मजा मुझे आ रहा था, वह बयान नहीं कर सकता.

मैंने चुपके से अपना लंड निकाला और उसकी दाल की कटोरी में मुठ मार दी. इसके लिए मैंने आंटी को चेक करने के लिए आंटी को अपना लण्ड खड़ा करके दिखा कर गर्म करने का प्लान बनाया.

अतः मैंने सपने में भी बुर को नहीं देखा था।मैं और मेरी दादी वहां 1 दिन के लिए गए थे लेकिन बुआ जी ने जिद की कि हम आज रात वहीं रुक जायें तो इसलिए मैं और मेरी दादी वहीं रुक गए थे। वहां पर मेरी बुआ की बेटी और उसका भाई भी थे.

मैंने अपनी लेफ्ट वाली रोड पर देखा, तो वहां से काले रंग की साड़ी में एक मदमस्त रंडी मेरी तरफ देखते हुए मेरे पास आ रही थी. वो नकली लंड देखकर और रानी की ये सारी बातें सुन के मुझे यकीन हो गया मेरी बहू बहुत बड़ी चुदक्कड़ है. कभी उनको किस करता और उनके चूचों को सहलाता जा रहा था।काफी वक़्त हो गया था तो मैंने मैम से कहा- मैं अभी चलता हूँ.

मारवाड़ी देसी सेक्सी बीपी उसके बाद हम दोनों ने कैसे चुदाई का मजा लिया?मेरी सेक्स कहानी के पहले भागक्लब में मिली प्यासी भाभी की चुत चुदाई-1में अब तक आपने जाना कि जो भाभी मुझे क्लब में मिली थी, वो मुझसे चुदवाने के लिए मुझे अपने बंगले पर ले आई थी. चड्डी के अंदर हाथ जाते ही वो पहली बार अपनी गीली सफाचट चूत पर हाथ फिराने लगी.

बहू बोली- डैडी जी, रानी को कब पटा लिया आपने?मैंने कहा- जब यहाँ आया था उसके अगले दिन बाद मैंने उसे 1000 रुपये दिए और वो मान गयी. फिर उसकी चूत में धीरे धीरे लंड को नीचे से ही रगड़ता रहा ताकि वो खुद ही चुदने के लिए पूरी गर्म हो जाये. टी टी ने कहा- क्यों, तू क्या करेगी इसका?मैंने मुस्कुराते हुए कहा- मैंने आप जैसा मर्द नहीं देखा है, मुझे भी याद रहेगा.

फिल्म सेक्सी एचडी बीएफ

अब जब भी मौका मिलता था आंटी मेरे लंड को मसल कर तुरंत खड़ा कर देती थी और हमारी चुदाई शुरू हो जाती थी. अपनी चुत में उंगली करने या लंड की मुठ मारने से पहले मुझे मेल करना न भूलें. फिर भाभी अंगड़ाई लेकर बोलीं- अच्छा जी … और क्या क्या अच्छा लगता है मुझमें.

उसके गोरे मुलायम हाथों से लंड की मुठ मरवाने का मजा ही कुछ और आ रहा था. मैं आधे घंटे तक औरतों की गांड चाट लेता हूं … और फिर उसके बाद मैं काफी देर तक चुत भी चाटता हूंउसने कहा- बस इतना ही!मैंने कहा- नहीं भाभी … फिर मैं औरतों की पूरी शरीर पर मलाई लगाकर अपनी जीभ से चाटता हूं और मैं औरतों की बगलें भी चाटता हूं, सूंघता हूं.

निशा आंटी की उम्र करीब 45 साल थी, कद पांच फीट चार इंच, रंग गोरा, छाती 42 इंच, कमर 36 इंच व चूतड़ 44 इंच के थे.

वो मुझसे ज्यादा बात भी नहीं किया करती थी, सिर्फ काम की बात किया करती थी. मैंने उसके उसके ड्रेस के पीछे की चैन खोल दी और उसका ड्रेस उसके जिस्म से अलग कर दिया. व्यवसाय चल निकला घर वालों ने मेरे लिए रिश्ते खोजने शुरू कर दिये थे। परन्तु मैं अभी शादी के चक्कर में नहीं पड़ना चाहता था क्यूंकि मेरे साथ प्यार में पहले भी धोखा हो चुका था.

पर आज मैं पूरी तैयारी करके आई थी ऐसे बिना चुदवाये उसे कैसे जाने देती. उपर्युक्त सभी बिन्दुओं पर ध्यान देने के अलावा मेंहदी या हिना के दुष्प्रभावों से बचने के लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखने की आवश्यकता है. उसने मुझे कस के पकड़ लिया और मेरे लंड पर जोर जोर से उछलने लगी।मैंने भी अपने हाथ उसकी चूची पर रख दिए और उन्हें जोर जोर से मसलना शुरू कर दिया.

यही सब सोच कर मैंने एक उपाय सोचा कि क्यों ना अपनी मामी को अपने लंड के दर्शन करवा दिए जाएं.

हिंदी में सुहागरात बीएफ: आगे की पढ़ाई करने के लिये मुझे भी मेरे घरवालों ने लखनऊ जाने के लिये कहा. मैंने सर हिलाया और बीच वाले का लण्ड मुंह में लेकर चूसने लगी और अगल बगल वालों का लण्ड हाथ में लेकर सहलाने लगी.

उसकी बात सुन कर करोना शर्मा कर मुस्कुरा दी और डाइनिंग टेबल पर बैठ कर खाना सर्व करने लगी. मेरे दोस्त ने मेरी नंगी मम्मी को बेड पर लिटाया और उनके पैरों से चूमना चालू किया. पर वो रट हुए बोल रही थी कि जय प्लीज लंड बाहर निकालो … बहुत दर्द हो रहा है.

आह्ह … उसके गर्म गर्म मुंह में लंड जैसे ही अंदर गया, मैं तो जन्नत की सैर पर निकल गया.

यहां पर यह जरूरी हो जाता है कि आपका जीवन साथी भी आपकी तरह ही खुले विचारों वाला हो. बाकी लोग सुहागरात पर मेवे वाला दूध पीते हैं लेकिन हम दोनों ने शराब सेवन के साथ शुरुआत की. अब इस सेक्स का अगला पार्ट मैं आप लोगों के साथ साझा करने जा रहा हूं.