सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला

छवि स्रोत,सनी लियोनी सेक्सी मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी फिल्म बड़ा लंड की: सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला, थोड़ा और नीचे जाने पर उसका गीलापन मेरी उंगली में लग चुका था। मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत के अन्दर डालना चाही तो वो अन्दर नहीं गई क्योंकि सुहाना ने पैर सिकोड़ कर रखे थे.

घोड़ा वाला सेक्सी देना

मैं लाती हूँ।फिर मामी अपनी और मेरी खीर लेकर आईं।मामी खीर खाते-खाते बोलीं- आज खीर कितनी मस्त बनी है, एकदम चाट-चाट कर खाने का मन कर रहा है।इसी तरह उसने मेरा सारा माल ख़ाकर उठीं और जाते-जाते बोलीं।‘कई दिनों के बाद ऐसी खीर खाई और बहुत खाने का मन कर रहा है. रानी सेक्सी रानीमैं बस ये कहती रही पर बापू धक्के पे धक्का मारे जा रहे थे और हर धक्के के साथ मेरी साँसें हलक में अटक जाती.

उसे देखते ही सबसे पहले मेरी नज़र उसके बूब्स पर गई जो बहुत ही आकर्षक थे. सेक्सी फिल्म फोटो मेंमैं अपनी पूरी जीभ को पूस्सी में डाल कर चूसने लगा और अंदर ही अंदर अपनी जीभ गोल गोल घुमाने लगा.

कुछ दिन बाद हमने मिलने का प्लान बनाया, हमने एक जगह फिक्स की जो मेरे कॉलेज से 150 किलोमीटर दूर थी, जहां हम दोनों को कोई भी नहीं पहचानता था.सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला: उन्होंने ब्लू रंग की नाभि दर्शना साड़ी पहनी हुई थी।मैं आंटी को देखता ही रह गया.

नाइटी पहन कर किचन में गई, मैं पूरी तरह थकी हुई थी, किचन में जाकर कुछ फल थे, वो खाए औऱ अपने लिए हल्का सा डिनर बनाया और खाकर सोने चली गई.तो हमारी भी करवा दे।मैंने उसकी बात को टालते हुए कहा- नहीं यार, कॉलेज में वैसे भी कोई खूबसूरत लड़की नहीं आती।लेकिन वो मेरे कॉलेज में गया हुआ था.

इंडियन सेक्सी मूवी सेक्सी - सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला

उसकी चुत सूजकर डबलरोटी सी लग रही थी।मैंने गांड पर हाथ फेरा तो वो समझ गई और कहती- गांड नहीं!मैंने मान लिया और उसको कहा- बर्थडे है तेरा कल.तभी मेरा ध्यान उसके चेहरे पर गया, काफी चिकना था और जो उसकी हल्की-हल्की मूँछें थी, वो भी बिल्कुल साफ थी और सबसे बड़ी उसके जिस्म से बहुत ही सेक्सी सुंगध आ रही थी तो मैं उसके और करीब गया और एक कुत्ते जैसे सूंघने लगा.

मैं उसके एक चूचे को चूसता और दूसरी चूची को दबाता, फिर चूचियों को बदल कर ऐसे ही करता। इस तरह देर तक मैं उसके चूचों को बारी-बारी से दबाता और चूसता रहा।वो ‘आह्ह. सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला ‘आह… आह…आह… क्या मस्त चूस्ती है तू साली मादरचोद!’भाभी भैया के लंड को तीन मिनट से चूस रही थी.

मेरे जाने के कुछ देर बाद भाभी भी अपने घर चली गईं।शादी की दावत वाले अगले दिन सोनू भाभी अकेली ही आईं। उस दिन भाभी ने लाल रंग का लहंगा-चुनरी पहना हुआ था, जिसमें वो बहुत सुंदर लग रही थीं।मैंने उनका वेलकम किया और उनसे उनके शौहर के बारे में पूछा, तो उन्होंने कहा- वो बीमार हैं इसलिए मैं अकेली ही आई हूँ।दावत हमारे घर के बाहर ही पंडाल में होनी थी। मैंने सोनू भाभी से खाने के लिए कहा.

सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला?

उस वक्त वो पढ़ती थी।मैंने उसका नाम पता वगैरह कहीं से हासिल किया। पर उसके पास मोबाइल नहीं था. चोद ना!उसके बाद मैंने उनके शरीर पर कई जगह काटा जिससे उनको और सेक्स चढ़ने लगा, वो और जोर जोर से अपनी कमर चला कर सेक्स करने लगी, बोली- चोद दो… बुझा दो आज मेरी चूत को चोद कर इसकी प्यास… बहुत सालों से यह प्यासी है. झूट मत बोल।दीपा बोली- तुम दोनों ऐसे सिसकारियाँ लोगे तो मैं कैसे सो पाऊँगी?लानी बोली- तो तू मजा क्यों नहीं लेती.

मैंने उसे सोफे पर लिटा दिया और उनकी कमर तक आ गया। फिर दीदी ने अपनी चुची को दोनों हाथों से दबाकर दोनों को भींच दिया। मैंने उनके बीच में से अपने लंड के लिए जगह बनाई और मम्मों के बीच में लंड डाल कर अन्दर-बाहर किया।पहले तो दीदी को मजा नहीं आया, पर बाद में जब उनके निप्पल धीरे-धीरे कड़क हो गए और मैं भी ज़ोर-ज़ोर से मम्मों को चोदने लगा तो उन्हें मजा आने लगा।मैं भी उनकी चुची को और जोर से दबाने लगा. मौसी- आआ ऊऊओ… और ज़ोर से दबा… फाड़ डाल इसको!मैंने अपनी उंगली चूत में डाल दी तो मौसी के मुख से सिसकारियाँ निकलने लगी. कुछ देर ऐसा चलता रहा।फिर मैं उसकी गोद में सिर रख कर लेट गया। वो मेरे बालों में हाथ फेरने लगी। मैंने उसके टॉप को थोड़ा ऊपर किया और अब मेरे सामने उसका नंगा पेट था.

मुझे तेरे खुले मुँह ने ही सब बता दिया है।आंटी हंसने लगीं और फिर मैं भी हंसने लगा।कुछ देर बाद मैं वहाँ से निकलने लगा।मैंने आंटी से कहा- मुझे शाम को अंजलि के साथ जाना है तो अभी जाता हूँ. मैं भाभी के होंठों को चूस रहा था, उनकी चुची को मसल रहा था, फिर मैंने भाभी की चुची को पीना शुरु किया, मैं जोर जोर से चुची पर काट काट कर चूस रहा था. लेकिन अभी तो दीदी की चुदाई की तमन्ना पूरी हो रही थी, दीदी ने जोर से मेरे होंठों को काटा और बोली- चुप कर बदमाश, सब तो हो गया अब, पहली बार थोड़ा दर्द होता है न इसके वजह से आंसू आ रहे हैं, अब थोड़ी तेजी और बढ़ा… फिर देख कैसा मजा आता है.

जीवन में प्यार कई बार होता है और सेक्स भी कई बार होता है दोस्तो… बस हमेशा अपने साथी के प्रति वफादार बने और उसे कभी धोखा ना दें और सच बोल कर रिश्ता बनायें और सेक्स का आनन्द लें. फिर मैं उसकी गांड पर हाथ फिराने लगा, वो मेरे लण्ड को मुँह में लेकर खड़ा करने लगी.

ये सही बात है।फिर अगले दिन ही ऑफिस में ही लिफ्ट के पास मैंने उसे चूम लिया। हम दोनों फिर से हँस कर बातें करने लगे।फिर कुछ दिन सिर्फ़ चुम्मा-चाटी या बोबे दबाना चलता रहा। अचानक एक दिन लगा कि चुदाई न हो पाने के कारण वो कुछ उखड़ी सी है। एक-दो बार ऐसा लगा कि अभी वो जानबूझ कर मुझे चिढ़ा रही है।जैसे एक दिन क्या हुआ कि सुबह मैं उसको ऑफिस लेने के लिए पहुँचा और हॉर्न मारा.

कोई नहीं देखेगा।संगीता- फिर भी तुम निकलो यहाँ से।मैं- मुझे एक किस करनी है.

में था। मेरी एक मौसी हैं, जो मेरी हम उम्र ही हैं और मुझसे पूरी तरह खुली हुई हैं, मुझसे हर तरह की बात कर लेती थीं। मौसी हाइट में 5. तो मैंने मोबाइल को साइड में रखकर उसे स्टेफ्री दे दी।उस दिन तो वो चली गई. दोस्तो, आज मैं कोई कहानी लेकर नहीं आया बल्कि आज मैं अपनी एक ऐसी इच्छा ज़ाहिर करने आया हूँ और चाहता हूँ कि कोई मेरी इसमें मदद करे.

’फिर शाम को मैंने अंजलि को ये सब बताया और उस वक्त संदीप भी वहीं था।उसने कहा- मैं देख लेता हूँ. मैं उसके नीचे पड़ी थी, उसकी इन सभी हरकतों से मेरा सेक्स जाग गया था, मैं एकदम मस्त हो गई थी और आवाज़ निकल रही थी उम्म्ह… अहह… हय… याह…मेरी चूत भी गीली होने लगी थी. मैं उसे मना करने लगी पर वो अब सुनने के मूड में नहीं था- एक बार लेकर तो देखो, बार बार मांगोगी! वो बोला.

फिर मैंने उनके सारे कपड़े सलवार और कमीज उतार दिये, वो अब सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी, फिर मैंने वो भी उतार दी और उनके नंगे शरीर को धीरे धीरे किस करने लगा.

रमा ने एक बाबा जी को दिखाया तो उन्होंने कहा- इस बच्चे पर कामदेव की कृपा है, डरने की कोई बात नहीं।एक साल वो राहुल को किसी राजकुमार की तरह पालते रहे पर जब उनकी पहली संतान गरिमा हुई तो उनका व्यवहार राहुल के प्रति बदल गया और दूसरी बेटी तनु के जन्म के बाद तो राहुल घर का नौकर बन कर रह गया. कई बार उन्होंने कोशिश की कि रात में उनकी लड़कियों के सो जाने के बाद हम सेक्स भी कर लें लेकिन ऐसा मुझे मुनासिब नहीं लगा. जो मुझे मदहोश कर रही थी।मैंने आंटी को बिस्तर पर लिटाया और उनकी चुत को चाटने लगा। आंटी की चुत में मैं अपनी जीभ डाल कर घुमाने लगा और उनकी चुत के दाने को अपने होंठों और दाँतों में लेकर खींचते हुए काटने लगा। आंटी की चुत ने आन्दोलन शुरू कर दिया और आंटी सेक्स से पागल हो कर मेरे सिर को अपनी चुत में दबाने लगीं।वो बोलने लगीं- अह.

’‘ओह दीदी तो कल जब दिन में रवि आया था तो तब भी तुमने… अब समझी तभी कल तुम मेरे पास नहीं आई… पर अगर पिंकी के पापा को पता चल गया तो? तुम्हें डर नहीं लगता?’ रमा ने हैरान होते हुए पूछा. मेरे पहले के क्रेडिट ख़त्म हो चुके थे, मैंने और क्रेडिट लिए और स्वाति ने कैम सेक्स शुरू किया. सिर्फ आपकी बॉडी!मैं- ठीक है, मैं रेडी हूँ फोटो शूट के लिए!मनजीत- तो कल दिन में ठीक 11 बजे आ जाइएगा.

मैंने उसके पूरे बदन को इतना किस किया कि वो जोर जोर की आहें भरने लगी- आआह्ह्ह ऊह्ह्ह्ह पलीज़्ज़ चोदो मुझे… अब मत तड़पाओ!फ़िर मैंने उसे बोला- डार्लिंग वेट करो, तुम्हारी सारी इच्छा पूरी करूँगा.

मैं ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स दबाने लगा, वह सिसकारियाँ लेती रही. अब मामी की बहन ने अपना एक हाथ मेरे कंधे पर रखा, खुद मेरी तरफ मुँह करके सोई, उनका एक पैर मेरे पैर उपर था.

सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला ’ मेरा तो उनकी आवाजें सुन कर ही बुरा हाल हो गया था।फिर भाभी अपने पेट के बल लेट गई और पूरी कमीज़ उतार दी. हमने भी उसे रोकने की कोशिश नहीं की, और कुछ देर बाद मैंने चोर रास्ते से राजू को उसके कमरे में भेज कर खुद भी नताशा की बगल में लेट कर सो गया.

सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला दीदी की चुदाई में दीदी की गांड मारी-1अब तक आपने मेरी दीदी की चुदाई की कहानी में पढ़ा था कि मैंने उसे अपना खड़ा लंड दिखाया तो वो मुझे धमकी देते हुए चली गई और मेरी गांड फट गई।अब आगे. दोस्तो, आपको ये मेरी जिंदगी की पहले सेक्स की कहानी मेरी भाभी की चुदाई कैसी लगी, आपको कैसी लगी, जरूर बतायें!आपकी ईमेल का इंतज़ार रहेगा.

धीरे धीरे मैंने उसके कपड़े उतरने शुरू किये तो वो ‘मम्मी है…’ बोलने लगी.

18 साल की हिंदी बीएफ

आदमी जो चाहता है, उसे कभी कभी ही मिल पाता है वरना वक्त और हालात उसे समझौता करने के लिए बाध्य कर देते हैं।ऐसा ही एक आदमी के साथ हुआ उसके पत्नी की मौत के बाद खुद की शादी कर ली. मैंने पहले तो अपने लंड को उसकी चूत पर थोड़ा घिसा जिससे लंड गीला हो जाए फिर उसकी चूत की पंखुड़ियों को थोड़ा फैलाया और धीरे से उसकी चूत में अपने लंड को अंदर घुसा दिया. उफ़… मैं यह देख कर चौंक गई कि उसका लंड जैसे किसी आदमी का नहीं किसी घोड़े का लंड था, इतना बड़ा और मोटा… मेरे एक हाथ के कलाई के जितना मोटा और 10 से 12 इंच तक लंबा होगा.

दीदी की चुदाई में दीदी की गांड मारी-1अब तक आपने मेरी दीदी की चुदाई की कहानी में पढ़ा था कि मैंने उसे अपना खड़ा लंड दिखाया तो वो मुझे धमकी देते हुए चली गई और मेरी गांड फट गई।अब आगे. ममता की धड़कनें इतनी तेज थीं कि उसकी चूचियों का उठना और गिरना साफ नजर आ रहा था।प्रशांत ने हल्के से ममती की चुन्नी खींच ली. थोरी देर के बाद दुबारा चुची से खेलने और होंठों को चूसने के बाद मैंने परी की चूत में लंड धीरे से डाला.

या भाभी को सम्भालूँ!मैंने पहले नंगी भाभी को उठाया और उसे अपनी गोद में लेकर उसके बेडरूम ले जाकर लेटा दिया। भाभी मेरे सामने एकदम नंगी लेटी थी और मेरा हथियार एकदम टाइट हो गया था.

मैं वहाँ पर पहले भी रह चुका था इसलिए मुझे वहाँ रहने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई, मैं आराम से रह रहा था. मुझसे रहा नहीं गया और जबदस्ती अपना लंड उसकी गांड में पेल दिया।उसकी चीख निकल गई और मैं जोर-जोर से धक्के देने लगा।कुछ देर बाद शायद उसे भी मजा आने लगा था। उसकी ‘आह. उसकी गांड भी फड़फड़ाने लगी, जब-जब मैं उसकी गांड के पास लंड टच करता तो उसकी गांड की छेद खुल जाती और जैसे ही लंड वहाँ से हटता तो छेद बन्द हो जाता, मैंने अपनी उंगलियों में थूक लिया और उसकी गांड क अन्दर उंगली को डालने लगा.

इससे पहले मैंने किसी को नहीं चोदा था। आपको मेरी दीदी की चुदाई की सेक्सी कहानी कैसी लगी. मैं अपने चाचा के घर गया, घर में चाची थी, उनके दो बच्चे स्कूल गए थे. वॉट कैन आई डू फॉर यू?इस पर उसने बहुत ही प्यारे तरीके से मुस्कुराते हुए कहा- हम लोग दिल्ली से पहली बार आए हैं, रिवर राफ्टिंग और कैम्पिंग के लिए.

भाभी फिर से झड़ने वाली थीं, जबकि वो दो बार पहले ही झड़ चुकी थीं।इस बार हम दोनों साथ में झड़े. फिर उनके उपर मैं घोड़ा स्टाईल में हो गया और अपना लंड उनके होठों पर रगड़ने लगा.

अभी तेरी चिकनी टाइट गांड ही मारने में जो मजा है वो किसी में नहीं है. पर उन्हें प्यार से सोनू भी कहते हैं।सोनू भाभी जान का रंग हल्का सांवला सा है और उनकी देह दुबली-पतली है। भाभी का फिगर 32-28-34 का होगा। लेकिन वो सांवले रंग में भी क़यामत दिखती हैं। भाभी का शरीर एकदम कसा हुआ है। उनकी बड़ी सी सुडौल गोल गांड और तने हुए मम्मे हैं।जब मैं नए घर में आया. कभी निप्पल दो उंगली से मसल देता तो अंजलि चीख पड़ती- किशोर अंकल… धीरे से प्यार से करिये!‘अह्ह्ह… ह्ह… उईई… ईईई माआआ… माआआ…’ मैं तो पागल सा हो उठा था क्योंकि बहुत अरसे के बाद इतनी कमसिन से लड़की मेरे लंड के नीचे आई थी.

देखने में वो एकदम कयामत सी सुंदर लग रही थी किन्तु दुकान पर बैठी थोड़ी शरमाई, थोड़ी घबराई हुई सी लग रही थी.

पिछले साल मैं दिल्ली में जॉब कर रहा था तो वहाँ मेरी मुलाकात एक ऐसी हसीन परी से हुई, जिसका नाम कोमल था। वो पंजाबन थी और आपको तो पता ही है कि पंजाबी लड़कियां कैसी कड़क और एकदम माल जैसी दिखती हैं। कोमल भी एक ऐसी ही हसीना थी, जो उसे एक बार देख लेता. एक साल पहले गाँव में मेरे मामा की बड़ी बेटी की शादी थी, सब लोग आ रहे थे, मेरे अभी अभी एग्जाम खत्म हुए थे तो मैंने भी जाने का प्रोग्राम बना लिया. ‘रमा तू किस जमाने में रह रही है, आज के जमाने में कोई रिश्ता नहीं होता, बस चूत और लंड होते हैं… वैसे लंड तो अपने राहुल का भी बड़ा मस्त है.

किसी होटल में जाकर खाना भी खाना है।उन्होंने कहा- ऐसे खाने के लिए हमें भी कभी बुलाया करो।फिर क्या. रेड कलर का सलवार सूट पहना हुआ था।मैंने स्टोर रूम में जाते ही उसकी कुर्ती को उतार दिया। वो ब्रा नहीं पहने हुई थी.

‘मत करो न… प्लीज!’ मैंने उसे फिर से रिक्वेस्ट की और थोड़ी देर और उसके लिंग को मसला. की आवाजें गूंजने लगी।काफी देर की हाहाकारी चुदाई के बाद पसीने से तरबतर हम भाई बहन झड़ गए और ढेर हो गए।फिर अगले दिन बुआ के आने तक पूरा दिन और रात मैंने 6 बार अपनी बहन की चुदाई की।यह मेरी पहली सेक्सी कहानी थी कि कैसे एक भाई ने अपनी बहन की चुदाई की… आप मुझे मेल भी कर सकते हैं[emailprotected]पर।. उसके बाद मेरी गर्लफ्रेंड और उसकी रूममेट के बीच पता नहीं क्या बात हुई… वो दोनों मेरे पास आई और मुझे खाना शुरू कर दिया, मेरी गर्लफ्रेंड ने तो सीधा मेरा लंड पकड़ लिया और नीचे बैठ कर, मैं उस वक़्त शॉर्ट्स में था, उसने मेरे शॉर्ट्स नीचे करे और लंड चूसना शुरू कर दिया और उसकी रूममेट मेरे होंठों को चूसने लगी.

भोजपुरी देवर भाभी का सेक्सी वीडियो

दो-चार धक्के लगाने के बाद ही उसे अपने लंड के सूखेपन का अहसास हुआ, उसने लंड बाहर निकाल लिया, और तेल उठाने चल दिया.

उसने मुझे अपने पास बुलाया!मैंने पहले कभी भी सेक्स नहीं किया था इसलिए मैं थोड़ा डर रहा था!लेकिन ब्लू फिल्म देखने के कारण मुझे सब पता था. वो लड़की दिखने में बिल्कुल किसी पिक्चर की हीरोइन जैसे लगती थी, उसके मम्मे काफ़ी बड़े और सुडौल थे, उसकी फिगर बिल्कुल 34 30 34 थी. उसे झड़ते देख कर मेरा लंड अपने आप ही झड़ गया क्योंकि मैं भी ये सब करके काफी गर्म हो गया था.

वो कहती- क्यों इतने गर्म हो?मैंने कहा- नहा कर तुम और हॉटनेस बिखेर रही हो. मुझे नीचे उतार दे।पर मैंने एक भी नहीं सुनी और बेडरूम में आकर उनको बेड पर लिटा कर उनके मम्मों को हल्के से काट लिया। तो उन्होंने मेरा सर जोर से दबाते हुए कहा- अह. फ्री पिक्चर सेक्सीऔर मैंने वो खोलकर देखा तो उसके फोन में 6 ब्लू-फिल्म पड़ी हुई थीं।मैंने फोन रख दिया।जब हम दोनों खाना खा लिया और सोने गए.

मुझे तुम्हारा हनी पीना है।वो मेरे लंड को तब तक चूसती रहीं, जब तक मैं झड़ ना गया।झड़ने के बाद भी वो मेरा लंड लगातार चूसती रहीं. रोहित ने यह बात जब सुनीता को बताई तो वो तो खुश हो गई और उसकी चूत फड़कने लगी.

वो लोग चले गए।उसका फ़ोन आते ही मैं उसके घर पहुँच गया। उसने मुस्कुराते हुए गेट खोला. चाहे जो हो, देखा जाएगा।इन्तजार करते-करते रात भी हो गई, हम लोगों ने खाना भी खा लिया। सब लोग कुछ देर टीवी देखने के बाद सोने चले गए। मैं भी अपने रूम में चला गया और दीदी भी चली गई। कुछ समय बाद पहले मैं निकल कर छत पर गया, तो देखा की उधर कोई नहीं है. सुनील ने पहले तो न नुकर किया और फिर सुनीता के ज्यादा जोर देने पर वाशरूम में घुस गया.

रूबी करीब 21 साल की तो होगी ही?’अमिता ने मुदस्सर को चूमते हुए कहा- रूबी मेरी ननद… वह तो अभी सिर्फ 21 साल की है।‘हमने अपना प्यार और चुदाई का सफर जब शुरू किया था. 30 से पहले नहीं आ पायेगा।नेहा बाइक पर बैठती हुई बोली- कहाँ चल रहे हो?रवि मुस्कुरा कर बोला- तुम्हारे घर!रास्ते से नेहा के कहने पर रवि ने समोसे लिए और दोनों घर पहुँच गए।घर के अन्दर आते ही रवि ने नेहा को कस के भींच लिया।नेहा हंसती हुई बोली- जल्दी क्या है, अभी तो दो घंटे तुम्हारी हूँ. उस वक़्त मेरे मन में हवस भरी थी।आंटी बोलीं- अब तो तेरा कुछ करना ही पड़ेगा।उन्होंने मुझे एक कस कर चांटा मार दिया और बोलीं- अब मैं तेरे पापा से बात करूँगी।अब मेरी गांड फटी और मैंने सोचा अबे मादरचोद यह क्या कर दिया तूने.

मैं कुछ करता, इसके पहले ही उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने पेट पर चलाना शुरू कर दिया.

लेकिन मुझे मालूम नहीं था कि बड़े होकर हम बहुत बड़े गेम्स भी खेलेंगे। वो बहुत आकर्षक है. ‘आहा ह्ह्ह्ह… आ… आह्ह्ह… आह्ह्हह… हाँ मेरे ररर्राऽऽजा… और तेज़… और तेज़… और तेज़… उम्म्म्म…’ वंदु अब अपने चरम पे पहुँच चुकी थी और शायद कुछ देर में भी स्खलित होने वाली थी.

बाद में बात करता हूँ।मैंने फिर शाम को निशा को अकेले में ऊपर बुलाया और पूछा- हाँ तो बहना निशा. लेकिन वो हवस में पागल हो चुका था और मैं उसके इस मजे को खराब नहीं करना चाहता था तो मैं उसका साथ देता रहा… मेरे हाथ उसकी पसीने से गीली हो चुकी गांड पर कसे हुए थे जिस पर हल्के हल्के बाल भी थे. लेकिन खुलेपन से नहीं।जब वह ऊपर के कमरे में अकेले लेट कर कुछ पढ़ रही होतीं.

उधर तोली ने अपनी हरामी जीभ से चाट-2 कर नताशा की गांड और चूत को बिल्कुल नर्म कर दिया था और अब उसने सीधे होकर नताशा के चूतड़ों को अपनी हथेलियों से फैला कर चौड़ा करते हुए, अपना लंड थूक लगा कर थोड़ा गीला कर लड़की की चूत से भिड़ाया और अन्दर घुसेड़ दिया. सुनीता बस मुंह से मदमस्त सिसकारियां निकाल रही थी और इन पलों का भरपूर आनंद उठा रही थी. मैंने जीन्स का बटन खोलने में उसकी मदद की, उसने मेरी जीन्स निकाली और मेरे अंडरवीयर के ऊपर से ही मेरे लंड को अपने हाथों से दबाने लगी और सहलाने लगी।मेरा लंड तो अंदर ही अंदर फुंफ़कार मार रहा था।मैं उसकी चूची चूसते हुए उसके पेट से होते हुए उसकी जीन्स को खोलने लगा.

सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला अभी पिछले दिनों मैंने एक नया अनुभव प्राप्त किया तो सोचा कि आप सभी पाठकों को सुनाऊँ!मैं यमुनानगर का रहने वाला हूँ, मैं अपने बिजनेस के सिलसिले में कुछ दिन के लिए भटिंडा गया, मुझे वहां 4-5 दिन रहना था. टेक कर रहा था तो हममें काफी कुछ कॉमन था।उसने अपने कॉलेज के बारे में बताया जो मेरे कॉलेज के पास था। अब तो मैं बस प्लानिंग कर रहा था कैसे इसे समझ लें.

बहन ने चोदना सिखाया

मुझे नीचे उतार दे।पर मैंने एक भी नहीं सुनी और बेडरूम में आकर उनको बेड पर लिटा कर उनके मम्मों को हल्के से काट लिया। तो उन्होंने मेरा सर जोर से दबाते हुए कहा- अह. इतना अमृत तो आज बहुत दिन बाद निकला था!मैं थोड़ सा उठा था कि लंड सिकुड़ कर बाहर आ गया बेचारा लंड बेजान सा, जो एक जीत के बाद भी हारा हुआ सा लग रहा था. मेरे जाने के कुछ देर बाद भाभी भी अपने घर चली गईं।शादी की दावत वाले अगले दिन सोनू भाभी अकेली ही आईं। उस दिन भाभी ने लाल रंग का लहंगा-चुनरी पहना हुआ था, जिसमें वो बहुत सुंदर लग रही थीं।मैंने उनका वेलकम किया और उनसे उनके शौहर के बारे में पूछा, तो उन्होंने कहा- वो बीमार हैं इसलिए मैं अकेली ही आई हूँ।दावत हमारे घर के बाहर ही पंडाल में होनी थी। मैंने सोनू भाभी से खाने के लिए कहा.

अः अह’गुरु जी का हाथ कुछ गहराई में उतरा पर तभी बाहर आ गया, रमा का सारा बदन गर्म हो रहा था वो समझ नहीं पा रही थी कि वो इतनी कामोत्तेजना क्यों महसूस कर रही है, अब बस वो यही चाहती थी की गुरूजी मालिश करते रहें और उसके हर एक अंग की करें।‘उसके साथ तुमने कभी सम्भोग नहीं किया?’ गुरु जी ने उसकी गांड को ज़ोर से दबाते हुए पूछा. ’ की कामुक आवाज़ बढ़ने लगी थी।मैंने उसे आवाज़ करने से मना किया तो बोला- आप तो चोदो बस. गांव की लड़कियों की हिंदी सेक्सी फिल्मजब मेरे छोड़ने का वक्त आया तो वो बोली- चुत में ही छोड़ो… आज अपने लंड के पानी से नहला दो मेरी चुत को…मैं भी उसकी चुत में झड़ गया.

मैंने इसमें उसकी मदद की और उसकी लचीली कमर को पकड़ कर उसे मेरे लंड को उसकी चूत में डाल दिया.

ह्हहाँ… अआआह…’ कहते हुए अपना पूरा जोर लगाकर अपनी चूत को तीन चार बार मेरे लंड पर घिसा और फिर उनके हाथ मेरे कँधों‌ पर कसते चले गये‌. मैं बना देती हूँ?मैंने बोला- नहीं अब तो बस तुझे खाना है।वो शर्मा गई.

बहुत मस्ती में थी। अपने पहले पति से उसे ऐसी मजेदार चुदाई नहीं मिली थी. वो कुछ नहीं बोला। बस पूरी तरह से भर चुकी थी। मैंने उसका बैग अपनी गोद में रख लिया और उसका हाथ अपनी सलवार के अन्दर ले लिया। उसने हंसते हुए मुझे देखा और मेरी चुत में उंगली करना शुरू कर दिया। फिर जैसे ही कॉलेज आने वाला हुआ, उसने हाथ निकाल लिया। उस वक्त मैं चूत चुदाई के लिए तडप रही थी. ऐसा लग रहा था जैसे आज दो साल बाद मेरी हर एक ख्वाइश पूरी हो रही हो।सुदीप ने बिना देर किए मेरी साड़ी निकाल दी.

आते टाइम मार्केट से भी हो आते हैं।आंटी हंसने लगीं और उन्होंने कहा- ओके ठीक है.

इस मर्द की कैसी हालत हो रही है ज़रा मैं भी सुनूँ?मैंने भी मौके का फायदा उठाते हुए उसकी चुत में उंगली डाल दी और चुत का दाना मसल दिया।भाभी फिर से चिहुंक उठी. आंटी की इस अदा पर मैं फिदा था।फिर मैंने उनको पकड़ा और लेटा दिया और उनके ऊपर आकर पैर को थोड़ा हिलाकर उनके चूत की जगह थोड़ा जगह करके अपना लंड घुसड़ने की कोशिश करने लगा, पर समझ में ही नहीं आ रहा था कि क्या करूँ।फिर आंटी ने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत पर सैट किया और बोलीं- फ़क मी. कई दिनों तक बात करने के बाद जब उसको लगा कि मुझसे उसको कोई डर नहीं है, उसने एक पार्क में मिलने का प्लान बनाया.

मूवी दिखाओ सेक्सी मूवीसुमन देख कर चौंक कर बोली- तुझे दर्द क्यों नहीं हो रहा? तू तो मजा ले रही है?नेहा ने कहा- दी, मैं केला मूली लेती थी, जब तुम अमित से किस और अपनी चूत सहलवा कर जाती थी. फिर वो बोलीं- मुझे छीछी आई है।मैं उन्हें टॉयलेट में ले गया उन्होंने छीछी की.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ एचडी

तो कभी चुची में मुँह मारता तो कभी उनकी मदमस्त कर देने वाली नाभि को चाटता।अब मुझको धीरे-धीरे यह लग रहा था कि चाची भी मेरी तरफ आकर्षित हो रही थीं। क्योंकि जब भी मैं उनके सामने जाता. यह हिंदी चुदाई स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!तोली ने नताशा की गांड चाटना जारी रखा और जीभ द्वारा उसकी चुदाई करना भी… इस बीच नताशा से अपना लंड चुसवाते राजू ने अपना दायाँ हाथ नीचे डालकर नताशा की चूत की क्लिट कुरेदने लगा. फिर वापस खरीद कर रख देंगे।वो गईं और अलमारी से कंडोम ले कर आईं और मुझे पकड़ा दिए।मैंने बोला- मुझे लगाना नहीं आता है।उन्होंने हंसते हुए मेरा लंड पकड़ा और कंडोम चढ़ा दिया। मैंने उन्हें फिर से बेड पर चित्त लेटा दिया और उनकी जांघें खोल दीं।भाभी ने सहमते हुए कहा- मुझे काफ़ी दर्द होगा.

यह कहानी मेरे दोस्त की मां की चुदाई की है जो उसने खुद अपनी आँखों से देखी थी। मेरे दोस्त के मुख से ही उस की मां की चुदाई की कहानी सुनिये।मैं आज आप सभी को अपनी माँ की चुदाई की कहानी सुना रहा हूँ। मेरी मॉम जॉब करती हैं. वो दर्द से तड़प रही थी और लंड को बाहर निकलने को कह रही थी।मैं कुछ देर ऐसे ही उसके होंठों को चूसता रहा। फिर कुछ देर में उसका दर्द कम हो गया तो मैंने एक और झटके में अपना पूरा लंड अंदर कर दिया. और बहुत इत्मिनान के साथ आंखें बंद करके लेटी रही।पर इधर तो अभी दो जिस्म और भी सुलग रहे थे।आभा के निढाल होकर गिरते ही कल्पना ने कमान संभाल ली, मैंने कल्पना को लेटाया और उसके पीठ की ओर उससे सट कर लेट गया और उसकी टांगें उठा कर चूत में लंड डालने की नाकाम चेष्टा की।मैंने ऐसा करने की कोशिश पोर्न फिल्मो से प्रेरित होकर किया, पर मुझसे ये नहीं जम रहा था.

हम दोनों अन्दर जाकर रेस्तरां में बैठ गए और आर्डर दे दिया।मैं उससे बातें करने लगा और उससे घर के बारे में चर्चा होने लगी, तो उसने बताया कि उसके पति बैंक में हैं, घर पर सास-ससुर रहते हैं।इसी के साथ वो बोली- कभी घर पर मिलो. मौसी के मुंह से चिल्लाने की आवाज़ आई- आआईई ईई म उम्म्ह… अहह… हय… याह… ईईओ!मैंने मौसी के चुचे मसलना शुरू किया और कुछ देर बाद मौसी नॉर्मल हो गई. आज जाकर मौका मिला है।उसके मुँह से ये सब सुनकर मैंने उसके चूतड़ों पर एक चपत मारी और कहा- साली रंडी।उसने बड़ी ही सेक्सी सी आवाज़ निकाली और कहा- हाँ, मैं तुमको पसंद करती हूँ।फिर मैंने उसे किस करना चालू किया…ये मेरा फर्स्ट किस था.

हम दोनों बहनों को कम ही बनती है, अक्सर वो मुझे मेरे रंग रूप और मेरी हालत के कारण नीचा दिखाती है, जबकी मैं उसको बहुत प्यार करती हूँ और उसकी हर बात का ख्याल रखती हूँ।स्कूल में आँचल मुझसे 2 साल पीछे थी, मगर शैतानियों में मुझसे 2 साल आगे, जब मैं 10 में थी, तभी मेरी क्लास की लड़कियों ने मुझे बता दिया था कि आँचल गलत रास्ते पर जा रही है, उसने बहुत से लड़कों से दोस्ती कर रखी है. इस पर वो बोली- कोई आ गया तो सारा मजा रखा रह जाएगा और लेने के देने पड़ जाएँगे, बदनामी होगी अलग से!यह हिंदी सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!फिर मैंने उनकी सलवार खोलकर नीचे सरकाई तो वो बोलीं- पूरा मत उतारो, ऐसे ही नीचे करके काम चला लो…उनकी इस बात पर हम दोनों को हँसी आ गई.

चूसता ही चला गया। मैंने फिर अपना हाथ उसके लव ट्रैंगल की ओर बढ़ाया, इस बार भी कोमल ने मेरा हाथ पकड़ लिया पर अबकी बार मैंने उसकी चूची में जोर से दांत गड़ा दिए, वो दर्द से मेरा हाथ छोड़ कर मेरे बाल खींचने लगी.

दोस्तो, मैं आपको आगे की सेक्स स्टोरी बताने जा रहा हूँ।वैसे भाभियों की चूत के क्या हाल हैं. बीपी एचडी सेक्सी व्हिडिओउसने पानी की ट्रे उन तीनों के सामने रखी मुस्कुराते हुए… भूमि जैसे ही झुकी उसे डीप नैक वाले टॉप से उसके बूब्स झलकने लगे. कान की सेक्सीमेरी जान आज मैं तुझे एक बात बताना चाहता हूँ।‘बता न?’‘तुझे मालूम है कि शादी से पहले मैं कई बार तेरे पति की गांड मार चुका हूँ. एक रविवार के दिन मैं जब बाहर अपने काम से गया था और घर से सब लोग मौसी के यहाँ एक छोटे से फंक्शन में गए हुए थे, उनका रात नौ बजे तक आने का प्रोग्राम था, मेरा भी इसी समय के आस पास आने का था पर मेरा काम जल्दी खत्म हो गया और मैं सात बजे अपने घर पहुँच गया.

बस 5 इंच का है।बहन की चुत चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं नीचे को होकर अपनी बहन की बुर को चाटने लगा तो वो बहुत पानी छोड़ने लगी।मैं समझ गया कि उसका पानी निकल गया है। अब मैं अपना लंड उसकी बुर में डालने लगा तो वो बोली- भैया, क्या तुम्हारे पास कंडोम है?तो मैं बोला- नहीं.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… रोईं लेकिन मैंने नहीं छोड़ा। उनकी गांड में ही मेरी जान बसी थी, ऐसे कैसे छोड़ देता। मैं पूरे जोश से धमाधम लंड पेलता गया और आख़िर उनकी गांड में मेरे लंड से पानी छोड़ दिया।वो दर्द से कराहने लगीं। मैंने उन्हें प्यार किया. मैं अपनी चाची के बारे में बताता हूँ, मेरी चाची का रंग दूध जैसा गोरा है। उनकी हाइट पांच फुट एक इंच है और उनका फिगर 36-28-32 का है। उनके चूचे ज्यादा मोटे तो नहीं हैं. और फिर मम्मी पापा के सोने के बाद हम अपने कमरे में आ गए तो मैंने दीदी से पूछा- मम्मी पापा क्या कर रहे थे?दीदी ने बताया- वो आपस में सेक्स कर रहे थे!तो मैंने पूछा- उससे क्या होता है?दीदी बोली- इसे करने में बहुत मजा आता है.

फिर वापस खरीद कर रख देंगे।वो गईं और अलमारी से कंडोम ले कर आईं और मुझे पकड़ा दिए।मैंने बोला- मुझे लगाना नहीं आता है।उन्होंने हंसते हुए मेरा लंड पकड़ा और कंडोम चढ़ा दिया। मैंने उन्हें फिर से बेड पर चित्त लेटा दिया और उनकी जांघें खोल दीं।भाभी ने सहमते हुए कहा- मुझे काफ़ी दर्द होगा. राजू के शरीर में अचानक जैसे बिजली भर गई हो, वो ताबड़तोड़ धक्के लगाने लगा. कब तक मारता…मुझे भी बहुत दिनों बाद किसी का टाइट मस्त लंड नसीब हुआ था, इच्छा थी कि पेलता ही रहे! मैं भी, जब वह लंड पेल रहा था, अपनी गांड उचका उचका कर गांड बार बार ढीली टाइट करके उसका लंड मस्ती से अपनी गांड में झेल रहा था, मजा ले रहा था.

एक्स हिंदी सेक्सी वीडियो

तो उसको भी मज़ा आने लगा और कामुक सिसकारियों की आवाज़ आने लगी ‘आ उउउ आह उउउ. बाद में तो तुम जन्नत की सैर करोगी।ये कहते हुए मैंने अपना लंड उसकी बुर में लगा दिया और धीरे-धीरे डालने लगा। वो सहमी सी होकर लंड का मजा लेने लगी. उसने मुझे उठाया और अपनी बांहों में ले लिया, एकदम कस के पकड़ लिया, मेरी पीठ पर हाथ घुमाने लगा.

अभी कुछ दिन पहले मेरे कार खराब हो गई थी, बाइक मेरा भाई काम पर ले गया था तो मैंने सर्विस सेंटर पर फोन कर कहा कि मेरी कार घर पर आकर ठीक कर दें.

इस वक्त हॉस्टल में सब घोड़े बेच के सो रहे थे। मैं नहा के तैयार हो गई और जल्दी-जल्दी हॉस्टल से मेरी नई नौकरी के जगह के लिए निकल आई।मेरी नौकरी की जगह एक स्कूल था, नर्सरी स्कूल।मैं वहाँ पहुँच कर हेड मिस्ट्रस से मिली, तो बहुत खुश हुईं, उन्होंने मेरा स्वागत किया। फिर मेरे इन्टरव्यू वाले काग़ज़ात निकाल के पढ़ते हुए बोलीं- तुम्हें कंप्यूटर आता है?मैंने अपना सिर हिला के ‘हाँ’ बोला.

’उसकी मादक आवाजों से मेरा जोश बढ़ने लगा और मैं तेज-तेज स्ट्रोक मारने लगा। वो भी चुत को लंड पर ठेल कर मुझे उकसाने लगी- अहा. और ट्रेन थोड़ी देर में आ गई, मैं ट्रेन में बैठ गया और फ़िर ट्रेन चल पड़ी. मुस्लिमों की सेक्सी वीडियोमैंने भी धीरे धीरे उसके कपड़े निकालने शुरू किए यह सोच कर कि नौकरी रहे चाहे भाड़ में जाए… जब होश में आएगी तो देखा जायेगा, अभी चोद के मजे लो!सीमा मेरा पूरा साथ दे रही थी.

’‘पर वर छोड़ रमा, कसम खाकर कहती हूँ कि कुंवारे लौड़े का मज़ा अलग ही होता है. करीब 20 मिनट बाद आंटी अब अकड़ चली थीं। मैंने समझ लिया था कि आंटी की फुद्दी रोने वाली है। सो मैंने 2-3 ज़ोर-ज़ोर के धक्के मारे और उनको बोला- मैं जाने वाला हूँ।वो बोलीं- अपनी क्रीम मेरी चूत के अन्दर ही छोड़ना।मैंने वैसे ही किया. ‘बहुत बड़े मम्मे हैं तुम्हारे!’ मेरे स्तनों को अपनी पीठ पे फील करते हुए उसने कहा.

मैंने इस लम्हे को सेल्फी स्टिक से फ़ोटो खींचकर कैद कर लिया।क्या सुकून मिल रहा था आज अपनी बहन की फंतासी पूरी करने का. नताशा ने राजू की तरफ मुस्कुरा कर अपनी तर्जनी उंगली से पास आने का इशारा किया, तो राजू दौड़ कर हमारे नजदीक आया, और अपना अंडरवियर उतार दिया.

तुम भी अपने ब्वॉयफ्रेंड को कुछ मत बताना।फिर काफ़ी आना-कानी करने के बाद उसने खुद ही कहा- ठीक है हम सेक्स करेंगे लेकिन ज़्यादा नहीं थोड़ा सा करेंगे।मैं आपको सब बताऊँगा कि वो कैसे मानी सेक्स के लिए थोड़ा आगे ओके।मैंने उससे पूछा- थोड़ा सा कैसे.

दर्द हो रहा है।हालांकि उसको मजा भी आ रहा था।अब मैं पागलों की तरह उसके चूचों को दबाए जा रहा था और उसे भी सेक्स चढ़ चुका था। वो अपना एक हाथ मेरे लंड पे ले गई और पैंट के ऊपर से ही लंड को दबाने लगी।मैंने कहा- जानेमन, अगर मेरे लंड से खेलना है. ’‘और किसी को पता चला तो?’‘वो कह रहा है ना किसी को पता नहीं चलेगा!’‘कितना बड़ा लिंग है… बस हाथ में लूँगी, बाकी कुछ नहीं!’‘चलो मेमसाब जल्दी करो, अब तो ये लौड़ा भी रुकने को तैयार नहीं, देखो कैसे फूल गया है. मैंने भी लंड को आधे से ज्यादा निकालना और जोर से धक्का देना शुरू कर दिया, हर आह आह आवाज में लंड अन्दर जाता और फिर बाहर आता!अचानक उन्होंने अपनी टांगें टाइट कर ली और मैंने भे लंड को जल्दी जल्दी आधे से ज्यादा बाहर निकालना और जोर से धक्का देना शुरू कर दिया.

बहु बता सेक्सी यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!कहती- साला वो और तू पीछे पड़े हो बेचारी मेरी चुची के!इतना कहते ही मैं बोला- नींबू हैं!उसने मुझे मुक्का मारा, कहती- साले बड़े हैं. इससे वो गरमाने लगी और मेरा साथ देने लगी।कुछ देर में वो मना करने लगी कि इससे आगे और कुछ नहीं।मैंने कहा- ठीक है.

मज़ा आएगा, आजकल तो ऐसा चलता है।फिर मैंने उनके मुँह में जबरदस्ती अपना लंड पेल दिया और मुँह चोदने लगा। मेरा लंड ज़्यादा मोटा होने के वजह से उनके मुँह में दर्द होने लगा। फिर मैंने उन्हें खड़ा किया और कहा- आंटी सेक्स करने मतलब चुदने का इरादा है या नहीं?तो वो बोली- राहुल इरादा तो है. अब घुटनों के बल लेटी नताली सोफे पर अधलेटे राजू का लंड पकड़ कर चूसने लगी, तोली नीचे खड़ा होकर पसंदीदा गांड मारने लगा. रोहित ने धीरे धीरे सुनीता के जिस्म से उसके कपड़े अलग करने शुरू कर दिए, सबसे पहले उसने सुनीता का टॉप उतारा और उसकी ब्रा के अंदर हाथ डाल कर उसके दोनों मम्मों को दबा दिया, और साथ ही दोनों उभारों के बीच अपने होंठों से किस कर दी.

आम्हाला सेक्स व्हिडीओ

तो मैंने उससे उसका नम्बर जाना और उसके मोबाइल पर मिस कॉल कर दी।इसके बाद हम दोनों काफ़ी खुश थे. बस चुपचाप खड़ी रही। मैं उसके होंठों को चूसता रहा।फिर उसे चूसते-चूसते मैंने अपना हाथ उसकी चुची पर रखा. मैं मौसी के पास ग्या तो मौसी और मैं इधर उधर यहाँ वहाँ की बात करने लगे.

उससे पहले ही फ्री हो जाता हूँ।अंजलि ने खुश हो कर थैंक्स कहा और चली गई। यहाँ मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करूँ।मैं जल्दी से तैयार होकर आंटी के घर पे गया और उनसे कहा- आंटी, आज हम जल्दी खाना बनाते हैं. प्रिया कुछ डरी लग रही थी। शायद डर के मारे उसकी बोलती बंद थी।अब मैंने अपना पहला वार किया और मेरा आधा लंड उसकी चूत में था। उम्म्ह… अहह… हय… याह… वो रो रही थी.

फिर वो मुझे अपने हाथ से पिलाने लगी, मैंने हल्के से उसकी जाँघ पर हाथ लगाया तो उसका जिस्म काँप उठा.

शादी का टाइम करीब आने लगा और मैं अपनी फैमिली के साथ वहां पहुंच गया. जब मैंने उसकी चूत पर बर्फ लगाई तो मानो वो पागल हो गई और ‘अहहा अहहा…’ की आवाज़ उसके मुख से निकलने लगी. रात को मैं और मेरी दीदी… फिर मौसेरी बहन के आ जाने से वो भी साथ में सोने लगी.

मैं इसकी भूख शांत कर दूँगी।मैंने भी उन्हें किस करते हुए अपने सीने से लगा लिया। फिर वो कपड़े पहन कर कमरे से चली गईं।होली की 3 दिन की छुट्टी में मैंने उनकी गांड भी मारी। उन्हें किचन में, बाथरूम और बालकनी में. पहले मेरे मन में उसके बारे में एसा कोई विचार नहीं था लेकिन जब मैं इस बार घर गया तो अब वो बड़ी हो चुकी थी, बहुत ही सेक्सी लगने लगी थी. अरे आपसे यही खड़े होकर बात करने से अच्छा है कि आप अन्दर आ जाइए।यह कहते हुए भाभी ने मेरे हाथ से बोतल ली और मुझे हॉल में सोफे पर बैठने को कहकर वो किचन में जाने लगीं।उनके घूमते ही मैं उनकी गांड को हिलते हुए देखने लगा और इतनी खतरनाक गांड देख कर मेरे होश ही उड़ गए।क्या मस्त लग रही थी उनकी गांड.

तो बस अपना लंड उसकी चूत की गहराइयों में उतार दिया। फिर तो बस उसकी चूत का ऐसा बाजा बजा कि शीनम निहाल हो गई।मेरा लंड उसकी गांड देख कर इतना ठरकी हो गया था कि अब बस मेरा होने वाला था। अब मैंने उसकी गांड पर थपकियाँ मार-मार कर अपना पानी उसकी चूत के अन्दर तक उतार दिया।पानी छूटते ही शीनम की गांड फट गई लेकिन मैंने उसकी और देख कर दिलासा दी- चिंता ना करो.

सेक्सी वीडियो बीएफ चोदा वाला: ऐसा सोच कर इसे चूसो।भाभी ये देख कर मुस्कुराने लगीं उन्हें डेरी मिल्क बहुत पसंद थी इस बात को उन्होंने मुझे बाद में बताया था।वे झट से लंड को मुँह में लेकर चूसने लगीं. अंजलि की सांसें तेज़ हो चुकी थी, उसके हाथ मेरे चूतड़ को जोर से दबा का अपनी तरफ खींच रहे थे… जैसे वो मेरे में समां जाना चाहती थी.

सुधीर ने अपने होंठों से ‘मैं भी…’ शब्द निकाले और मेरे वाटर कलर लिपस्टिक लगे गुलाबी होंठों से सटा दिया. मेरी जान मैं रोज जमकर चोदूँगा।धीरे धीरे मैंने अपने लंड की स्पीड को बढ़ा दिया। अब मैं भाभी को कसके चोद रहा था, उनकी ‘ऊह आह. मैंने धीरे धीरे कोशीश की और तीसरे झटके में लगभग पूरा लंड उसकी चूत में उतार दिया।वो चिल्ला उठी- अहह मार दिया… आह यह हम्मः मैं मर गई इईईईई धीरे धीरे! रुको एक मिनट रुक जाओ… प्लीज एक मिनट!मैं समझ गया कि लंड मोटा लम्बा होने के कारण प्रॉब्लम हुई हिया, मैं कुछ टाइम रुक गया, उसके बूब्स चूसने लगा.

अब वो भी धीरे धीरे मस्त होने लगी और जब उस का पानी निकलने का टाइम आया तो आ आ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह आह करते हुये नीचे से धक्का मारने लगी और मैं भी जोर जोर से उसको चोदे जा रहा था.

तो बस अपना लंड उसकी चूत की गहराइयों में उतार दिया। फिर तो बस उसकी चूत का ऐसा बाजा बजा कि शीनम निहाल हो गई।मेरा लंड उसकी गांड देख कर इतना ठरकी हो गया था कि अब बस मेरा होने वाला था। अब मैंने उसकी गांड पर थपकियाँ मार-मार कर अपना पानी उसकी चूत के अन्दर तक उतार दिया।पानी छूटते ही शीनम की गांड फट गई लेकिन मैंने उसकी और देख कर दिलासा दी- चिंता ना करो. जिससे उसके जवानी के उभरते समोसों का दर्शन हो रहा था।कोमल बोली- बैठो राहुल. कैसी लगी दोस्ती मेरी पहली सेक्स स्टोरी रंडी की चूत की चुदाई की?[emailprotected].