सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी

छवि स्रोत,सेक्सी भेजो भोजपुरी में

तस्वीर का शीर्षक ,

ऑंटी सेक्सी व्हिडिओ बीएफ: सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी, तकरीबन हर जगह चूमा…सिर्फ़ योनि को जान बूझ के छोड़ दिया…!!!नेहा की उतेजना का कोई ठिकाना नहीं था… आहें…कराहें… और सिसकारियों का समां था… मैं नेहा को उसकी सहनशीलता की हद तक पहुँचा चुका था… ज्वालामुखी बस फटने ही वाला था…अचानक नेहा ने मेरे सर के बाल पकड़े… मुझे झुकाया और अपने जांघों के बीच पहुँचा दिया… और जैसे ही मेरी नाक उस उभरी हुई योनि से टकराई… नेहा ऐंठने लगी.

ब्लू सेक्सी वीडियो हद

मैंने तान्या से इसका कारण जानना चाहा तो पता चला कि उसके बॉयफ़्रेंड ने उसको छोड़ दिया है. हिंदी बीएफ वीडियो सुहागरातमैंने उसके गाण्ड से अपना लंड निकाला और उसे अच्छे से पौंछा…थोड़ा सा तेल लगाया और रानी की चूत में फिर से डाल दिया.

कपड़े उतारते ही मेरा तो हाल-बेहाल हो गया… चोट कहीं दिख नहीं रही थी और खून था कि बहे जा रहा था, बहे जा रहा था… टोयलेट पेपर से जहाँ तक हो सका साफ़ करती रही…पर टोयलेट पेपर भी ख़त्म हो गया… इतने में कुछ बड़ी क्लास की लड़कियाँ वहाँ आईं. सुहागरात की वीडियो सेक्सी बीएफफिर हम लोग बिस्तर पर लेटे, मैंने उसे बातो-बातो में छुआ तो उसने कोई विरोध नहीं किया.

मैंने एक झटके में अपनी मैक्सी ऊपर उठाकर नीचे कर कहा- देख क्या रहे हो? गांड में दम है तो आओ.सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी: मैंने उससे पूछा- कैसा लगा?वो कहने लगी- तुम बहुत गंदे हो! मैंने मना किया फिर भी पीछे डाल दिया.

”मैं गुस्से से पागल हो गई और वहीं दरवाजे के सामने खड़े हो कर बोली- तू कौन सा शरीफों वाला काम कर रही है…….आयशा का आकार 32 के करीब था, कुंवारी चूत का क्या मजा होता है यह तो हम सभी जानते हैं जिस कारण से मैं भी काफी रोमांचित था.

शादी की पहली रात क्या होता है - सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी

उसकी बात सुन कर मुझे भी हंसी आ गई और फिर उसका विचार भी सही था इसलिए मैंने तुरंत हाँ कर दी।मैं भी इस फिराक में था कि लड़कियों के साथ रात में शायद कोई नज़ारा देखने को मिल जाए या फिर कोई जुगाड़ ही हो जाये.यहाँ बाहर मेरी हालत ऐसी हो रही थी जैसे मैं तेज़ धूप में खडा हूँ, मैं पसीने पसीने हो गया था और मेरे लंड की तो बात ही मत करो एक दम खड़ा होकर सलामी दे रहा था.

और उससे अपने प्यार का इजहार किया…” वेदांत, एक बात कहूँ…?”फिर से करने का इरादा है क्या…?”नहीं वो… मतलब हाँ. सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी तो वो बोली- निकालो-निकालो! मैं मर जाऊँगी…तो मैंने कहा- चाँदनी, जब सब हो गया तो अब निकालने का क्या मतलब, अब तो तुम वो फिल्म वाली जैसे मज़े लो!और मैंने उठ कर उसको उसकी चूत में घुसा मेरा लौड़ा दिखाया तो उसको विश्वास नहीं हुआ कि मेरा पूरा का पूरा लौड़ा घुस चुका है.

कुछ देर बाद जब ज्योति वापिस आई तो उसने पूछा- क्या हुआ था?तो आयशा ने कहा कि वो कॉकरोच देख कर डर गई थी.

सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी?

अच्छा चल ठीक है मैं सिर्फ तेरा दोस्त सही… उसके कमीने की हिम्मत कैसे हुई मेरी जान से भी प्यारी दोस्त को बाल मारने की. उसकी चूत ने भी पानी छोड़ दिया।हम दोनों संतुष्ट हो चुके थे… अब रात के करीब साढ़े नौ बज रहे थे… मैंने उसे चुम्मी देकर फोन पर बात करने का वादा किया और उसके घर से निकल आया…आज मेरी और उसकी सिर्फ बातें होती है…आपका अपना विक्की. क्या मस्त कूल्हे थे…फिर मैंने उसको बिस्तर पर लेटा दिया… उसके सारे कपड़े उतारे और मैं भी नंगा हो गया… मैं उसके चूचे चाटने लगा… उसके चुचूक एकदम कड़क हो चुके थे.

शाम को जब मैं अपनी गाड़ी से घर वापस जा रहा था तो मैंने देखा कि नहर किनारे एक लड़की पेशाब कर रही थी और गाड़ी की रोशनी उसके चूत पर पड़ गई थी जिससे मुझे मूत निकलती चूत के दर्शन हो गए।यह देख अचानक ही मेरा लौड़ा पैंट में खड़ा हो गया और मुझे लगा कि अगर मैंने आज चूत नहीं मारी तो शायद मेरा लंड फूल कर फट जायेगा।बस मैंने योजना बनाई और गाड़ी रोक कर लड़की के पास चला गया।मुझे वहाँ खड़ा देखकर वो शर्मा गई. मैंने हिम्मत कर के बात छेड़ दी- चाची ! चाचा की बर्थ-डे पार्टी में खूब मजा आया !!चाची ने कहा- बहुत दिन बाद घर में पार्टी का माहौल बना था … सभी ने खूब मज़ा किया !मैंने बात छेड़ी- चाची, आपने तो पार्टी के बाद भी खूब एन्जोय किया !चाची चौंक गई- क्या मतलब?मैंने सब देखा था ! चाचा के दोस्तों के साथ खूब मजे किए थे. बस मज़ा आ जाए !क्या चुसवाती भी हो ?अब तो यही करना पड़ता है वो साला तो २ मिनिट में ही टीं हो जाता है।कमर कितनी होगी ?कमर है ३२ इंच !और स्तन ?वो तो बड़े मस्त हैं ३६ साइज़ के गोल मटोल बिलकुल ठां लगती हूँ !ठां बोले तो ?ओह ….

शिखा अब मेरे साथ चुदाई का मजा लेने लगी और उछल-उछल कर मेरे धक्कों का जवाब देने लगी. तभी गोमती वहाँ आ गई- बस करो भैया जी, भाभी मना कर रही है ना, ये लो चादर ओढ़ लो!’गोमती को देखते ही उसका नशा उतरने लगा. वो मेरे पड़ोस में रहने वाली 18 साल की लड़की है जो कक्षा 11 या 12 में पढ़ती है और शाम में कॉलोनी के बाकी बच्चों के साथ छुपा छुपी खेलते समय अक्सर मेरे घर में या आस-पास आकर छुप जाती है.

तभी ज्योति मुझसे बोली- तुम मेरे साथ सेक्स करने की फीस नहीं दोगे?तो मैंने भी कह दिया- जो चाहे मांग लो मेरी जान!ज्योति ने एक सिगरेट मेरी तरफ बढ़ा दी, वो पहली बार था जब मैंने सिगरेट पी थी. प्रेषक : सुशील कुमार शर्माऔर भी है कोई यहाँ तुम्हारे सिवा? दुल्हन का मत्था ठनका।”हाँ, मेरा छोटा भाई है, सबसे पहले तो उसी ने तुम्हारी बजाई है….

मैं : ओ के ! अब विस्तार से बताओ कि क्या हुआ तुम्हारे साथ ?सुमन : मैं स्नातक की पढ़ाई कर रही थी और प्रताप आया हुआ था गाँव ….

अपनी मोटर-बाईक वो एक रेस्तरां के सामने खड़ी कर देते थे, फिर वो लगभग दो किलोमीटर पैदल घूमते थे.

लेकिन उस सख्ती में एक मुलामियत का अहसास था… मैंने उन्हें दबाते हुए मेरी जीभ उसकी नाभि पर गोलाई में घुमाना शुरू किया. पापा मम्मी भी गए हैं ! तुम चिंता मत करो ! तुम बस मेरी चूत को चीर दो !मैंने कहा- नहीं दीदी ! यह तो गलत है, तुम तो मेरी बहन जैसी हो !उसने कहा- क्या भाई क्या बहिन ? यह ज़िन्दगी का असली आनन्द ……. मैंने कहा- अमित अब मेरे अन्दर समा जाओ!अमित उठे, मेरी टांगों के बीच आकर अपने लंड का सुपारा मेरी चूत के होठों पर रखा, हल्के से दबाया और सुपारा चूत के अन्दर!एक झटके में आधा लंड और दूसरे झटके में हल्के दर्द के साथ पूरा लंड मेरी मेरी मुनिया रानी के अन्दर जा चुका था.

‘चाची, बस एक बार चुदा लो!’‘राजू, ऐसी बात ना कर!ऊँह, भला यह कैसी चाची है, मर्दों का तो कबाड़ा कर देती है पर खुद को हाथ ही नहीं लगाने देती है. और दीदी ने फिर कहा- चल आज इसमें डाल ! क्योंकि मैं भी देखना चाहती हूँ कि इसमें क्या मजा है।मैंने अपनी मौसी को भी गांड मरवाते हुए देखा है…. यह नेहा थी जो अपने बदन पर चादर डाल कर मेरे कमरे की तरफ ये देखने आई थी कि मैं क्या कर रहा हूँ और वो सिसकारी किसकी थी.

मैं पूरी गर्म हो चुकी थी, मैंने उसे कहा- भोला, मेरी चूत को फाड दो…उसने मुझे नीचे पटक दिया, मेरी टांगें फैला कर बीच में आकर अपना लन्ड मेरी चूत पर लगाया….

मेरी नज़र उसकी चूचियों से हट ही नहीं रही थी, उसके गोरे गालों को चूमने का मन कर रहा था. मैंने फ़िर अपना लंड बाहर निकाल लिया और शिखा को फ़िर मिशनरी स्टाइल में चोदना शुरु कर दिया. ‘नहीं देवर जी, मैं नहीं पीती हूँ, आप शौक फ़रमायें!’‘अरे कौन देखता है, घर में तो अपन दोनों ही है… ले लो भाभी… और मस्त हो जाओ!’उसकी बातें मुझे घायल करने लगी, बार-बार के मनुहार से मैं अपने आप को रोक नहीं पाई.

पिस्स्स्स ! करती लगभग डेढ़ या दो फ़ुट तो जरूर लम्बी होगी।कम से कम दो मिनट तक वो बैठी सू-सू करती रही। पिस्स्स्स…. हमारे स्कूल में तीन मुख्य हाल हैं… एक है प्रार्थना हाल, दूसरा साक्षात्कार हाल और तीसरा क्रियाकलाप हाल. करके चिल्लाने लगी। 10-12 धक्कों के बाद वो भी अपनी गांड ऊपर कर कर के चुदवाने लगी। मैंने भी अपने धक्कों की रफ़्तार बढ़ा दी।वो तो बस चिल्लाये ही जा रही थी उफ़….

मैंने उसके लाख मना करने पर अपने लंड उसके गरम होंठों के अन्दर ठूंस दिया- अहह मेम और चूसो न.

नेहा पीछे चिपक के बैठी थी, उसके उरोज मेरी पीठ में दब रहे थे… उसके बदन की गर्मी मेरे अंदर सिहरन पैदा कर रही थी…. मैं समझ गई कि आज फिर से मेरी चूत का बाजा बजने वाला है लेकिन बाजा यह मुकेश बजाएगा, यह बात मेरे गले नहीं उतर रही थी.

सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी एक शाम जब मैं तान्या को पढ़ा रहा था तो तान्या बेहोश हो गई, मैंने जल्दी से नौकरों को बुलाया तो उन्होंने बताया कि तान्या ने सुबह से कुछ नहीं खाया है, शायद उसी के कारण ऐसा हुआ. वो कई बार झड़ चुकी थी, मैं अपने पूरे जोश से उसे चोद रहा था।मुझे तो लग रहा था कि मैं जन्नत का सफ़र कर रहा हूँ ……… कुछ देर मे वो मेरी कुतिया बन चुकी थी…… अब पूरे कमरे में पट पट स ऽऽ सी ई की आवाज़ें आने लगी! मुझे उससे भी बहुत मदद मिल रही थी….

सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी राजू अब भी बुरी तरह से रीटा के होंटों के चबाये और चूसे जा रहा था और रीटा की चीखें गले में ही घुट कर रह गई थी और वो घूं घूं की आवाजें निकालने लगी. ”देखो रानी, तुम्हें हमारी कसम, आज हमें अपने चिकने गोरे-गोरे बदन का जायजा लेने दो न, आज हम लोग रौशनी में ही सब काम करेंगे और देखेंगे भी तुम्हारे नंगे, गोरे बदन को। अगर तुम्हें पसंद नहीं है तो हम जाते हैं.

वो अब पूरी मस्ती में आ गए थे उनका लौड़ा तो गांड में था साथ ही उनके हाथ मेरी गांड को ऊपर से नोचा-खसौटी में लगे थे, वो कहने लगे- रंडी की बहन, आज तेरी ऐसी हालत करूँगा कि जिंदगी में हमेशा अपने जीजा को याद रखेगी!जीजू 15 मिनट तक मेरी गांड मारते रहे लेकिन उनके धक्के नहीं रुके.

सेक्सी देने वाली

जैसे ही चूत और लण्ड की गरमी एक हुई और बेहाल हुई रीटा ने निढाल सी होकर चूत ढीली छोड़ी तो कसाई राजू ने अधमुइ रीटा को रूई पिजंने वाली मशीन की तरह पिजंना शुरू कर दिया. मम्मी ने अंकल से कहा- डार्लिंग, जल्दी से इसे मेरे हवाले कर दो!और अंकल मम्मी की टांगों को फैला कर उनके ऊपर चढ़ गए. मैं चूमते हुए उसकी चूचियाँ दबा रहा था और धीरे से उसकी चूत को सहलाने लगा, उसके मुँह से सेक्सी-सेक्सी आवाजें निकलने लगी… धीरे से मैंने उसको बिस्तर पे लिटाया और कपड़े उतारने लगा, लेकिन उसने कहा कि वो शादी के पहले सेक्स नहीं करना चाहती.

आअह्ह! भाभी का बदन अकड़ने लगा था, उनका पानी निकलने वाला है यह मैं समझ गया… मैंने अपनी एक उंगली उनके मुँह में डाली, उन्होंने काट ली, फ़िर उसे धीरे धीरे चूसना शुरू किया. उस दिन पापा ने मुझसे कहा कि वो दिन में मम्मी के साथ शोपिंग पर जायेंगे और अभिषेक भी देर से आएगा इसलिए घर पर 2-3 घंटे मुझे अकेले रहना पड़ेगा. रीटा की बन्द चूत अब नये नये फूल की तरह थोड़ा सा खिल कर छोटी भौंसड़ी बन गई, चूत की बाहरी फाकें खुल सी गई थीं और बीच में से गुलाबी पंखुड़ियाँ अब दिखाई देने लगी थी.

अनीता दीदी को उदास देख कर नेहा ने उनके गालों पर एक चुम्मा लिया और कहा- उदास न हो दीदी, अगर मैं कुछ मदद कर सकूँ तो बोलो.

प्रेषक : रिन्कू गुप्ताप्रिय पाठको,मेरा नाम रिंकू है जैसा कि आप लोग पहले से ही जानते हैं. मैं 21 साल का हूँ और अभी तक मेरा लण्ड जो बहुत दमदार है अपनी पहली चूत का इंतजार कर रहा है।. मैंने कहा- तनवी, मुझे तुम्हारे कोमल-कोमल गाल, कोमल-कोमल होंठ, बड़ी-बड़ी आँखें जो हल्का सा काज़ल लगने के बाद इतनी कातिलाना हो जाती है कि किसी का भी खून हो जाए.

मैंने घर पर फोन करके बता दिया कि मैं एक और महीने तक जयपुर रुकूँगा और भाभी उसके बाद नौकरी छोड़ देंगी और हमेशा घर पर ही रहेंगी. प्रेम गुरु और नीरू बेन को प्राप्त संदेशों पर आधारितप्रेषिका : स्लिम सीमामैंने उसे पास पड़े सोफे पर धकेल दिया और उसकी पैंट की जीप खोल दी, फिर कच्छे के अंदर हाथ डाल कर उसका लण्ड बाहर निकाल लिया।मेरे अंदाज़े के मुताबिक उसका काले रंग का लण्ड 8 इंच लंबा और 2 इंच मोटा था. लहरें आती और जाती हैं…फ़ेनिल उठता है और शांत हो जाता है…किनारे की रेत बह जाती है और वापिस आ जाती है….

और तिरछी आँख से उसे देखा!वो भी एक दम मस्त हो गई थी।मैंने कहा- फिर शुरू करें?उसने भी हाँ में हाँ मिला दी और मैं उसका हाथ पकड़ के उसे रेडरूम में ले गया।रेडरूम में घुसते ही मैंने रूम लाक कर दिया और अपनी जींस उतार दी. ? यहाँ…? ये…?निशा : हाँ, दिखाओ न सर…सर : ओके … पीयू जरा जांघें फैलाओ…सर उंगली डाल के उसे गरम कर रहे थे… चुदने का मन तो निशा को भी था… सो वो सर का लण्ड मसल रही थी… उसने भी नीचे सिर्फ पैंटी पहनी हुई थी !सर : लम्बी लम्बी सांसें लो … और घुसने दो मेरे पेनिस को ….

हाआआआ देवर र र र र र जी ईईईईई ईईईई!” मज़े में मेरे चूतड़ भी हिलने लगे और फ़क फ़का कर मैं दुबारा झड़ गई. ”इसमें कौन सी बुराइ है दीदी, आखिर वो भी मर्द है, उसका भी मन करता होगा!”हाँ यह तो सही बात है!” दीदी ने मुस्कुराते हुए कहा- लेकिन एक बात बता, ये किताब पढ़कर तो सारे बदन में हलचल मच जाती है, फिर तुम लोग क्या करते हो? कहीं तुम दोनों आपस में ही तो…??”अनीता दीदी की आवाज़ में एक अजीब सा उतावलापन था. मेरा दिल जीजू के प्यार में रंगने लगा था, मुझे लगने लगा था कि जीजू के बिना अब मैं नहीं रह पाऊँगी.

वो तो पागलों की तरह हाथों से मेरे शरीर पर नाखून मारने लगी और मेरे अंडरवीयर में हाथ डाल के मेरे लंड को दबाने लगी.

जोर से… मजा आ गया…” निकल रहा था।वो चुदाई का पूरा मज़ा ले रही थी। वो बहक चुकी थी और अब और बहकना चाहती थी। वो दोनों हाथों से मेरी कमर को पकड़ पकड़ कर खिंच रही थी और मेरे हर धक्के को अंदर तक महसूस करना चाहती थी,”चोद मेरे राजा. ‘भाभी, देखो तो आपकी टांगें चुदने के लिये कैसी उठी हुई हैं… अब तो चुदा ही लो भाभी…!’‘देवर जी ना करो! भाभी को चोदेगा… हाय नहीं, मुझे तो बहुत शरम आयेगी…!’‘पर भाभी, आपकी टांगें तो चुदने के लिये उठी जा रही है’ उसने लण्ड को मेरी चूत की तरफ़ झुकाते हुये कहा. https://thumb-v7.xhcdn.com/a/FWIV3QO5vpI4toSQWpYiBA/010/070/827/526x298.t.webm.

हमने एक धर्मशाला में कमरे ले लिए क्योंकि हम कमरों के ऊपर ज्यादा पैसे खर्च नहीं करना चाहते थे. मुझे महसूस होने लगा कि मेरा जादू उस पर सही असर कर रहा है। फिर मैंने भी उससे गाने की जिद की तो दोस्तों पता है उसने क्या गाया?ज़रा ज़रा बहकता है, दहकता है आज तो मेरा तन बदन…मैं प्यासी हूँ… मुझको भर लो अपनी बाँहों में.

साथ ही मैंने नीना से कहा- तुम प्रशांत को मेरी जानकारी में इस खुलासे की कहानी मत बताना. राजू का लण्ड जब जब रीटा की चूत में अंदर जाता तो राजू के लण्ड की गरारी पर चूत की मुलायम दीवारों की रगड़ से लण्ड मजे से गदगदा उठता और राजू बकरी सा मिनमिना उठता. पिंकी- हाय मनुजी! मैं क्या करती? साली ने बाथरूम में मेरी चूचियाँ दबा दी तो मैं गर्म हो गई, आप तो समझदार हो!मैंने कहा- पिंकी जी, आपका ज्यादा समय नहीं लूँगा!और मैंने उसके हाथ पकड़ कर हथेली चूम ली, उसके होठों से सिसकारी निकल गई.

वीडियो औरतों की सेक्सी

उसकी कुँवारी चूत चोदने में मुझे स्वर्ग का मजा मिल रहा था क्यूंकि चोदा तो 10-11 चूतों को था पर इतनी जवान, इतनी कमसिन, इतनी कम उम्र और इतनी फ्रेश कोई नहीं थी.

मैंने समलिंगी लड़कियों की भी तस्वीरें देखीं लेकिन मुझको उनमें वो बात नज़र ना आई। भला एक लड़की दूसरी लड़की को क्या सुकून दे सकती है. फिर मैंने उसे बाहों में ले लिया और हम दोनों ज़मीन पर लेट गए और ऐसे ही पड़े रहे बहुत देर तक !उसके बाद उसने कहा- अब मुझे जाना है. से मेरे घर फ़ोन किया। एक-डेढ़ घंटे बाद मुझे मेरे भाई और छोटे वाले जीजाजी लेने आ गए और मैं अपनी सूजी हुई चूत लेकर अपने मायके रवाना हो गई वापिस कभी न आने की सोच लेकर!पर क्या ऐसा संभव है! तो यह अनुभव रहा मेरी सुहागरात का!आपको कैसा लगा? यह सौ फीसदी सच है।मेरी आपबीती जारी रहेगी।[emailprotected].

5-6 धक्कों में लंड पूरा अन्दर चला गया और वो जोर-जोर से चिल्लाने लगी- हाय मैं मर गई! मुझे और तेज चोदो!मुझे भी मजा आने लगा और मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी. मैंने लण्ड को बाहर निकाले बिना चाची को अपनी बाँहों में लिया और मैं सीधा लेट गया और चाची को मेरे ऊपर लिटा लिया।चाची पूरी तरह से थक चुकी थी और वो लगभग सो गई थी लेकिन मैं नहीं सोया था…. खाटी भोजपुरी बीएफहमारा रास्ता तो अब खुल चुका था… बस अब तो मात्र मौके की तलाश थी, मौका मिला और चुदवा लिया…मेरे और जीजू का प्यार बहुत दिनो तक चलता रहा.

इस बात से तुम्हें कुछ फर्क नहीं पड़ता… तुम मेरे पहले और आखिरी दोस्त हो ! – वृंदा ”उसके जवाब के इंतज़ार में मैं कब रोते रोते सो गई मुझे पता ही नहीं चला…रात के बारह बजे, तकिये के नीचे पड़े फोन से घू घू घू घू की आवाज़ आई. ‘भाभी, पहले गुड-मॉर्निंग तो कर लें!’ वो मेरे चूतड़ों के नीचे मेरी टांगों पर बैठ गया.

अन्तर्वासना पर अपनी चुदाई के एक एक किस्से को बताने जा रही हूँ जिस का आगाज़ मैं अपनी सब से पहली डेट पर हुई चुदाई के साथ करने लगी हूँ. कतरा…कतरा… एक मादा के आगोश में… एक ऐसे खुमार में जो उम्र और रिश्तों की हदों से परे था… सिर्फ उनके एक मदमस्त मादा होने का…आप अपनी राय मुझे भेज सकते हैं।[emailprotected]. पर रुक गया जहाँ गर्म फिल्म आ रही थी।अब तो मेरी नींद भी जाती रही, एक तो बीवी से डेढ़ साल में पहली बार रात में अलग सोना, उस पर से रैन टी.

यह दूसरी रात की बात है, जब सब सो रहे थे कि अचानक मुझे अपने पैर पर किसी का हाथ महसूस हुआ. राहुल अंकल ने कहा- तेरी चूत से बहुत पानी निकला!हाँ मेरे राजा! बहुत दिनों से पानी नहीं निकला था! इसलिए आज बहुत पानी निकला! तू भी चाट ना मेरी बुर का पानी!इतना सुनते ही राहुल अंकल भी अपनी जुबान से बाजी की बुर का पानी चाटने लगे. मम्मी उनका लंड देख कर चौंक गई और बोली- बाप रे! इतना मोटा लौड़ा मेरे लिए?अंकल का लंड आठ इंच लम्बा और चार इंच मोटा था.

सबको लगता था कि हम दोनों प्रेमी हैं… मुझे भी मेरी क्लास की लड़कियाँ उसके नाम से चिढ़ाती थी.

राजू ने रजामंद रीटा को जैसे ही ढीला छोड़ा तो रीटा ने झट से राजू का लण्ड पकड कर अपने चूत के मुँह पर सटा के नीचे से खींच के धक्का जमा दिया. अचानक उसका हाथ मेरी पेंटी में घुसता चला गया… मेरी सिरहन सर से पैर तक दौड़ गई लेकिन अब तक मैं बेबस हो चुकी थी…उसकी ऊँगली मेरी चूत की खांप में चलने लगी, मेरे शरीर में चींटियाँ ही चींटियाँ चलने लगी, मेरे हाथ उसके खोपड़ी के पीछे से मेरे बोबों पे दबाने लगे… मेरे मुँह से अनर्गल शब्द निकल रहे थे… आं… ऊँ हाँ… और जाने क्या क्या…मैं मिंमियाई सी कुनमुनाने लगी, मेरी चूत से पानी निकलने लगा.

नहीं तो आदमी को लोल समझ लेती है !ठीक है मास्टरनीजी !मैं तो चाहती हूँ इसी तरह कोई मेरी कमर पकड़ कर एक ही झटके में अपना पूरा लंड मेरी गांड में भी ठोक दे और आधे घंटे पेलने के बाद 8-१० पिचकारी अन्दर ही छोड़ दे…. काफ़ी देर की उठा पटकी के बाद आखिरकार मैं थक गई थी, मुझ में बचाव करने की हिम्मत नहीं रही और मुझे चित्त कर वो मेरे ऊपर मेरी टांगों के बीच में आ गया. वो भी क्या करता? बड़े दिनों से सेक्स का भूखा था और इस प्रसंग का पूरी तरह से रस लेना चाहता था… और बेचारी मोना अब्बास क नीचे दबी हुई अभी भी हिम्मत कर रही थी निकलने की… इस बार मोना ने महसूस किया कि अब्बास ने अपनी टांगों की मदद से मोना की दोनों टांगें खोल दी थी….

वह नीचे से एक तरफ से ब्लाउज उठाती है और फूले फूले भूरे काले चुचूक को बच्चे के मुँह में देकर ऑंचल से ढक देती है…. खाना शुरू करते हुए मैंने सोचा कि खाने के बीच मैं टीटी टिकेट चेक करने आ गया तो बीच में उठ कर टिकेट निकालना पड़ेगा ये सोच कर मैंने अपने पर्स में रखा टिकेट निकाल लिया. अमित को नंगा होते देख नीना मुझे प्यार से डांट पिलाने लगी और बोली- और तुम अपने लौड़े का अचार डालोगे क्या?बस सिग्नल मिलने की ही तो देरी थी.

सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी ‘हाय, म्हारी बाई रे… यो तो मन्ने मस्त मारी देगो रे… ‘ उसे मसल कर उसने मेरे लण्ड की खूबसूरती को निहारा और अपनी चूत की दरार पर घिसने लगी. धीरे से मैंने अपनी उंगली उसकी चूत के छेद में डाली मगर वो अन्दर नहीं गई क्योंकि चूत एकदम कसी हुई थी और सीलबंद थी।मैंने उसके चूत के रस को उंगली पर लिया और फिर से डालने लगा, इस बार उंगली अन्दर चली गई बुर में …रीना कराह उठी- ऊई माँ … थोड़ा धीरे करो!!अब मैं उंगली अन्दर-बाहर करने लगा.

सेक्सी वीडियो गंदे वाले

मेरे मुँह से आवाज निकल गई- आह! मैं मर गई! अरे मनोज, धीरे! बहुत दर्द हो रहा है!ये बोले- तब ही तो मजा आएगा!थोड़ी देर में मजा आने लगा. उसका गोरा बदन गुलाबी तौलिये से ढका हुआ था… उस तौलिये से उसकी चूची की गोलाइयाँ साफ़ नज़र आ रही थी…. नहीं तो आदमी को लोल समझ लेती है !ठीक है मास्टरनीजी !मैं तो चाहती हूँ इसी तरह कोई मेरी कमर पकड़ कर एक ही झटके में अपना पूरा लंड मेरी गांड में भी ठोक दे और आधे घंटे पेलने के बाद 8-१० पिचकारी अन्दर ही छोड़ दे….

हम दोनों ने ज्योति को पकड़ा और ले जाकर सोफे पर बिठा दिया, हम दोनों ने एक-एक चूचा पकड़ लिया और मसलने लगे. मैंने देखा कि उसकी जांघ पर कुछ गीला-गीला सा लगा था … मैं समझ गया था कि रीना अब पूरी तरह से गर्म हो गई हैं और यह अब मोटे से मोटा लंड भी खा लेगी. तमिल बीएफ तमिल बीएफमैं सारे कपड़े उतार कर नंगी रहूंगी, भाई का जांघिया लूंगी, उसे अपनी चूत पर मसलूँगी और जमकर मस्ती करुँगी.

कोमल को देख कर मुझे लगता था कि काश यह मुझे मिल जाती और मैं उसे खूब चोदता… पर फिर मुझे लगता कि यह पाप है… पर क्या करता… पुरुष मन था… और स्त्री के नाम पर कोमल ही थी जो कि मेरे पास थी.

पिंकी- हाय मनुजी! मैं क्या करती? साली ने बाथरूम में मेरी चूचियाँ दबा दी तो मैं गर्म हो गई, आप तो समझदार हो!मैंने कहा- पिंकी जी, आपका ज्यादा समय नहीं लूँगा!और मैंने उसके हाथ पकड़ कर हथेली चूम ली, उसके होठों से सिसकारी निकल गई. इसी तरह उन्होंने एक बार नहाते हुये मेरा सख्त लण्ड पकड़ लिया और बोली- राजू, अब तो तेरे लिए दुल्हनिया लानी ही पड़ेगी, वरना यह तो कुंवारा ही रह जायेगा.

तभी मेरी नज़र उसकी छोटी स्कर्ट के अंदर उसकी दोनों टांगों के बीच में उसकी काले रंग की पेंटी पर पड़ी जो उसकी दोनों टांगो के बीच से दिख रही थी पर शायद उसको पता नहीं था. फिर उसने मेरी जींस उतारी और बोली- अब यह मस्त लंड आज़ाद होगा…और उसने मेरा अन्डरवीयर उतारा और मेरे फड़फड़ाते साढ़े सात इंच के लंड को निकाला और मुँह में ले लिया और उसे मजे से चूसने लगी।मुझे बड़ा मजा आ रहा था…15 मिनट बाद मेरा पानी निकला और वो चूसने लगी… मुझे काफी मजा आया. इधर जीजू ने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और उन्हें चूसने लगे, उनका एक हाथ मेरे बोबों को मसल ही रहा था और दूसरा हाथ मेरी गांड को सहला रहा था.

फिर मम्मी ने कहा- जब तक यह मर्दों के ड्रेस में है, ऐसा नहीं हो सकता… साली को साड़ी में चोद सकता हूँ मैं.

क्योंकि मैं डर रहा था इसलिये पहले मैंने पूरे घर का एक चक्कर लगाया यह कह कर कि पहले तुम्हारा घर तो देख लूँ. मुझे दर्द हुआ मगर मैंने फिर भी उसका पूरा लौड़ा अपनी चूत में घुसा लिया।मैं ऊपर-नीचे होकर उसके लौड़े से चुदाई करवा रही थी, सुनील मेरे मम्मों को अपने हाथों से मसल रहा था।अनिल भी नीचे से जोर जोर से मेरी चूत में अपना लौड़ा घुसेड़ रहा था। इसी दौरान मैं फ़िर झड़ गई और अनिल के ऊपर से उठ गई मगर अनिल अभी नहीं झड़ा था तो उसने मुझे घोड़ी बना लिया और अपना लौड़ा मेरी गाण्ड में ठूंस दिया. वो बोली- प्लीज संजय, आज मुझको खुश कर दो!मैंने कहा- जान, आज मैं तुमको इतना मजा दूगा कि तुम मुझको हमेशा याद रखोगी!वो बोली- अब मेरा जिस्म तुम्हारा है! यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉं पर पढ़ रहे हैं.

सेक्स विडीयोज” दुल्हन यह सुन कर हक्का-भक्का रह गई।उसने चीखना-चिल्लाना शुरू कर दिया। इस बीच ठंडा राम बाथरूम से बाहर आ गया। उसने पूछा,”क्या हुआ भाभी जी? आप इस तरह क्यों चिल्ला रहीं हैं?”सचमुच एक नंग-धड़ंग व्यक्ति सामने आ खड़ा हुआ।कौन हो तुम…? तुम अन्दर कैसे आये ? ” दुल्हन के प्रश्न पर दोनों भाई जोरों से हंस पड़े।कहानी आगे जारी रहेगी।. कहानी के पिछले भाग:मैं फिर से चुदी-1मैं फिर से चुदी-2उसने अपने लंड की मलाई मेरी गांड में छोड़ दी.

एक्स एक्स बीपी सेक्सी एचडी

भाई! यह मत पूछना कि आगे क्या हुआ? वैसे समझ लो कि जो हर चुदाई में होता है, वही नीना की चुदाई में भी हुआ- चूमा चाटी, कपड़े उतारना फिर चूची चूसना, चूत चाट कर मस्त कर देना और फिर लंड-चूत का खेल. उसके बाद हमने बाथरूम में जाकर एक दूसरे को साफ़ किया, लगभग 11 बजे अनिल चला गया और उसके बाद मैंने और ज्योति बातें करने लगे. बहादुर के दाँत रीटा की चूच्चे में धंसे तो मदहोश रीटा को लगा जैसे वह बिना चुदे ही झड़ जायेगी.

मैंने उसके दोनों झूलते हुए स्तनों को दबाना शुरू किया और रानी मेरे ऊपर अपनी कमर हिला-हिला कर अपनी चूत से मेरे लंड को चोदती रही… मगर इस आसन में रानी को ज्यादा तकलीफ़ हो रही थी. प्रेषक : राज शर्माआज मैं आपको अपनी सच्ची कहानी सुनाने जा रहा हूँ कि मैंने कैसे पहली बार चुदाई की ! उम्मीद है आप सबको यह कहानी पसंद आएगी !तो दोस्तो, बात आज से पांच साल पहले की हैं जब मैं बी. यानि चूत पूजा ! मैं एकदम से बोल पड़ा।ठीक है ! यह कह कर आंटी सामने वाले सोफ़े पर टांगें फैला कर बैठ गई।अब उनकी बुर के अंदर का गुलाबी और गीला हिस्सा भी दिख रहा था।मैं पूजा की थाली लेकर आया, सबसे पहले सिन्दूर से आंटी की बुर का तिलक किया, फिर फूल चढ़ाए उनकी चूत पर, उसके बाद मैंने एक लोटा जल चढ़ाया।अंत में दो अगरबत्ती जला कर बुर में खोंस दी और फिर हाथ जोड़ करबुर देवी की जय ! चूत देवी की जय !कहने लगा.

उनकी चूत से पानी निकल रहा था, मैंने अपनी जीभ से चूत को साफ़ किया और जीभ से चोदने लगा. प्रथम भाग :राधा और गौरी-1से आगे-‘कुछ नहीं अंकल, चोद डालो, मम्मी तो बस यूं ही शोर मचाती है. मैंने आव देखा न ताव, अपना लंड दीदी के मुँह में रख दिया और फिर दीदी उसे लोलीपॉप की तरह चूसने लगी और हम 69 की अवस्था में आ गए.

आखिर उसने मुझसे वो पूछा जिसके बारे में मैंने नहीं सोचा था, उसने कहा- तुम मुझसे और बाकी मुसलमानों से नफरत क्यों करते हो?मैंने कहा- मैं नफरत नहीं करता. आह स्स्स्स गुलुप गुलुप म्मम्मम्म म्मम्मम्मम म्म्म्मम्मअब तक मेरी चूत भी एक दम गीली हो गई थी और एजेंट पीछे से मुँह घुसा के मेरी चूत का रस चाट रहा था। फिर वो उठा और उसने अपने लंड का सुपारा मेरी गांड के छेद पर टिका दिया। मैं एक दम से चीख उठी- नहीं नहीं ! मेरी गांड मत मारना, बहुत दर्द होगा ! नहीं ….

फ़िर मेरे पीछे खड़ा होकर उसने मेरी चूत में आधा लण्ड घुसेड़ कर मेरी दोनों चूचियों को पकड़ते हुये बाकी का आधा लण्ड अन्दर किया और इसी तरह पांच सात मिनट तक चोदने के बाद वो मुझे और झुका कर मेरी कमर पकड़ कर सटासट सटासट चोदने लगा.

तू हट गया तो मैंने भी मार लिया अपना मुँह! अब कुआँ चाहे किसी का भी हो, कुआँ पानी तो हर किसी को पिलाता है ना…?दोनों व्यापारियों की भी पिचकारी छूटने लगी थी, दोनों ने मेरे चेहरे पर पिचकारी दे मारी. एक्स एक्स एक्स नई मूवी!”मैं दर्द के मारे कसमसाने लगी थी पर वो मेरी कमर पकड़े रहा और 2-3 धक्के और लगा दिए।मैं तो बिलबिलाती ही रह गई !आधा लण्ड अंदर चला गया था। उसने मुझे कस कर पकड़े रखा।ओह… जस्सी बहुत दर्द हो रहा है. सेक्सी बीएफ चूत और लंडमैंने देखा कि भाभी पारदर्शी नाईटी में बैठी हुई हैं, यह देख कर मेरा लण्ड खड़ा हो गया और मैंने किताबें एक तरफ फेंकी और बिना कुछ सोचे भाभी के पास जाकर उन्हें चूम लिया. मामी पूरा लो! खा जाओ! मैं तो झड़ने वाला हूँ ऽऽ!!और एक जोरदार धक्का लगाकर मैं उनके मुँह में झड़ गया.

किसमिस का दाना तो मोटा और सुरमई है ?क्या चुसवाती हो ?अब तो यही करना पड़ता है !तुम कौन से आसन में चुदवाना पसंद करती हो ?ओह.

मैं कुछ नहीं बोला और कुछ देर बाद बोला- भाभी, आखिर क्या चाहिए?तो वो बोली- रंजन, मुझे वो ख़ुशी चाहिए जो तुम्हारे भैया से बहुत कम मिलती है. पूरा लंड अन्दर करने के बाद मैं उसकी चूची चूसने लगा और कुछ देर बिना लंड में कोई हरक़त किये पड़ा रहा. अंकल- चिंता मत करो डार्लिंग! आज मैं तुम्हें खूब चोदूंगा!यह कह कर अंकल ने मम्मी को अपनी बाहों में भर लिया और उन्हें निरंतर किस करने लगे.

बातों ही बातों में उसने बताया कि उसका नाम रिया शर्मा है जो मैं पहले ही उसके कंपनी आईडी कार्ड में देख चुका था. फिर रीटा अपना स्कूल बैच को बहादुर के हाथ थमा कर चूच्चे को आगे बढ़ाती हुई बोली- जरा यह भी लगा दो. तुम हो ना मेरे बॉय फ्रेंड… क्यों क्या नहीं हो?अँधेरा हो चुका था। मैंने अँधेरे में ही सोनिया का हाथ पकड़ा और अपनी तरफ खींचा तो सोनिया एकदम से मेरी बाहों में आ गई। मैंने सोनिया का चेहरा अपने हाथों में पकड़ कर अपनी तरफ किया और चूमने की कोशिश की तो सोनिया एकदम से मुझ से छुट कर भाग गई.

राजस्थानी सेक्सी वीडियो देसी गांव का

मेरी फुद्दी में उसके वीर्य के अलावा खून के दाग भी थे जो जांघों के नीचे लकीर की तरह बह के जम चुके थे …मैंने गार्डन के वाटर पाइप से साफ़ कर लिया उसे. पहली बार आयशा को देख कर मेरे दिल में कुछ अजीब सा हुआ क्योंकि जिस आयशा को मैं अब तक बच्ची समझता था उसका शरीर भी अपनी उम्र के हिसाब से बड़ा था. मुझे बड़ी झांटें पसंद नहीं तो मैंने निशा से कहा- तुम अपनी झांटें साफ़ क्यों नहीं करती हो?वो बोली- तुम कर दो अगर तुमको पसंद नहीं तो।मैंने कहा- ठीक है.

मेरी मम्मी मेरी दादी का चूस रही थी।तभी मेरी साड़ी में हलचल हुई और मैंने देखा मेरी साड़ी, साया उठा कर मेरी पैंटी नीचे करने वाली मेरी मामी है। मामी मेरा लिंग चूसने लगी और दादी मामी का.

भैया के जाते ही मैं रक्षिता से लिपट गया…और उसे बहुत लम्बा किस दिया… और गांड पकड़ कर उसे अपने हाथों से उठा लिया…थोड़ी देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया.

और उसे चूमते हुए उसके वक्ष को ब्रा से आजाद कर दिया। फिर मैंने उसके चुचूकों को मुँह में लेकर चूसना शुरू किया।वो मुँह से आह निकलने लगी. लेकिन हर बार ना-उम्मीद होकर खुद ही ठंडी पड़ जाती, किसी को ना पाकर खुद ही सर्द हो जाती। चुचूक गुलाबी थे, छाती पर दो तिल थे, मेरे गले में एक सोने की जंजीर पड़ी रहती थी जिसका एक सिरा मेरी दोनों छातियों के बीच में रहता और कपड़े उतार कर ऐसा लगता जैसे सोने की वो चैन मेरी दोनों छातियों के बीच एक गहरी और पतली सी दरार में फँस कर बहुत खुश हो. जीजा साली का बीएफ दिखाइए”देवर ने मेरी चूची छोड़ दी और मेरे ऊपर से उतर कर बगल में लेटकर बोला- ठीक है भाभी! तुम मेरे ऊपर आओ और अपने हिसाब से जैसे चाहो वैसे करो…मैं पलट कर उसके ऊपर आ गई.

भगवन से दुआ करती- हे भगवन! इसका लंड जल्दी से बड़ा कर दे ताकि मैं अपनी चूत की ज्वाला शांत कर सकूँ!थोड़े दिनों में तो यह हाल हो गया कि मैं जब भी किसी मर्द को देखती तो काफी देर तक उसके लंड की जगह तकती रहती, मुझे लगने लगता कि मेरे देखने से इसका लौड़ा तन रहा है. मेरी बड़ी बुआ के लड़के की शादी थी, मेरी सबसे छोटी बुआ की लड़की चित्रा भी आई थी, उम्र 18 साल, गोरा बदन, सेक्सी, लंबाई 5 फीट 6 इंच और उसके मम्में करीब 34 और गांड 36 की होगी. पर रुक गया जहाँ गर्म फिल्म आ रही थी।अब तो मेरी नींद भी जाती रही, एक तो बीवी से डेढ़ साल में पहली बार रात में अलग सोना, उस पर से रैन टी.

मेरी मार अब…तभी दीदी ने मुझसे वादा लिया- वादा कर कि मेरी शादी के बाद भी मुझे चोदा करेगा !मैंने मान लिया ! तब से तीन साल तक मैं दीदी को चोदता रहा, दीदी गोलियाँ खाने लगी थी।एक दिन घर में कोई नहीं था तो हम दोनों साथ नहाये। तभी दीदी ने कहा- मेरी गांड पर साबुन लगा दे…. ‘ करते हुए उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया।मैंने अपनी जीभ उसी चूत पर फेरते हुए गांड से ऊँगली निकाल ली और फ़िर उसकी चूत का पानी उसकी गांड पर लगाने लगा.

फिर सुनील मेरी सर की तरफ आ गया और मेरी गोरी गोरी गालों और मेरे बालों में हाथ घुमाने लगा.

और बेरहम चुदाई में हालांकि उसको दर्द हुआ पर जैसे ही वो पहली बार झड़ी, उसको मजा आने लगा और अब तो जब मैं झरने को था तो वो 3 बार झर चुकी थी. ?अभी देता हूँ मेम… कहकर मैं गरम पानी बाल्टी में ले जाने लगा… शुक्र है वो क्या कहत है गीजर ख़राब था…मैंने देखा कि मेम काली ब्रा और पैंटी में बाथरूम में इन्तज़ार कर रही थी…उनकी पतली पेट में वोह नाभि के पास जो तिल था मानो काला हीरा. और चोदो सर ! बस थक गए क्या ?हम दोनों स्खलित हो गए …अहह ! मेरी सिसकियों से सारा जहाँ गूंज उठा.

हिंदी सेक्सी बीएफ देहाती के पास बैठा था। अरे ? वो बारिश ? … बंगला ? वो मोनिशा… वो गाड़ी ? … वो नेम प्लेट ? वहाँ तो कोई नहीं था। तो क्या मैं सपना देख रहा था। ये कैसे हो सकता है। मेरे अंगूठे पर तो अब भी खून जमा था। वो नेम प्लेट ओह। मो-निशा पी. मैं भी उन्हें पूरा मौका देता था कि वो मेरे अंगों को छू लें और मेरे साथ मस्ती करें.

आईई करना शुरू कर दिया।मैंने पूछा- आपको क्या हुआ है?तो उन्होंने कहा,” बेटा, मैं भीग गई थी न इसलिए कमर में दर्द है। तू ऐसा कर मेरे बैग से मूव निकाल कर मेरी पीठ पर लगा दे…. मैंने कहा- ठीक है! और उसके पैसे वापिस दे कर बोला- मैं तुम्हारी फ्रेंड से पैसे ले लूंगा पर तुमसे नहीं!वो मना करने लगी तो मैंने कहा- अगर तुम ये पैसे वापिस नहीं लोगी तो मैं फिर नहीं आंऊगा!तब उसने पैसे वापस ले लिए और मैं उसके होंठों पर किस कर के चला आया. अनिरुद्ध : वृंदा आओ, तुम भी खेलो हमारे साथ… !!मैं : नहीं ! मुझे रीवा मैडम ने बुलाया है… बाद में आती हूँ…!!!अनिरुद्ध ने बास्केट बाल मेरे पीछे मारते हुए कहा : क्यों हिम्मत नहीं है क्या….

सेक्सी वीडियो भेजो गणेश

तो ये चाची ही थी जो धीरे धीरे मेरे लण्ड को मेरी दोनों टांगों के बीच में से खींच कर बाहर निकाल कर सहला रही थी. फिर रीटा अपना स्कूल बैच को बहादुर के हाथ थमा कर चूच्चे को आगे बढ़ाती हुई बोली- जरा यह भी लगा दो. मैंने जब भाभी से पूछा कि उस रात कौन था तो भाभी और उनके बॉस ने बताया कि उस रात भी भाभी और उनका बॉस ही थे.

दुकान वाला खड़ा हुआ और बोला- जो आप कहें सरकार!मैंने बोला- मेरे को तेरी दुकान का अन्दर वाला कमरा चाहिए, जब मैं चाहूँगा तब!दुकान वाला बोला- ठीक है मालिक! आप जब चाहो कमरा आपको दूँगा पर मुझे छुप कर देखने को तो मिलेगा ना?मैं बोला- भोसड़ी के! अगर तूने देखने की हिम्मत की तो तेरी गांड की फोटो निकाल कर तेरी बीवी को गिफ्ट करूँगा. मैं अगले दिन सुबह 8 बजे छत पर जाने वाला था पर कोहरा होने के कारण मैं 9-30 पर छत पर गया…अपनी नहीं रक्षिता की.

कांईं जात हो…?”मैंने उसे बताया तो वो हंस पड़ी, मुझे ऊपर से नीचे तक देखा, फिर वो बिना कुछ कहे भीतर चली गई.

‘सोनू, अच्छा राजेश रात को कितनी बार करता है… एक बार या अधिक…?’‘वो जब मूड में आता है तो दो बार, नहीं तो एक बार!’ बड़े भोलेपन से उसने कहा. अच्छा तुम्हारी गांड कैसी है ?क्या मतलब ?मेरा मतलब है उसकी साइज़ और रंग कैसा है ?बड़े शैतान हो गए हो पहले तो बड़ा शरमा रहे थे ?सब आपकी सोहबत का असर है।मेरी गांड का छेद एक चवन्नी के सिक्के जितना बड़ा है और कमाल की बात तो ये है की वो अभी काला नहीं पड़ा है !वो कैसे ?अरे बुद्धू मैं ज्यादा गांड नहीं मरवाती ना ?क्यों ?ओह. बेडरूम में पहली बार लड़के के साथ थी, मुझ से रुका नहीं गया और मैं नीचे बैठ उसका लौड़ा चूसने लगी.

!! इतनी मादक, तीखी, खट्टी, कोरी पुस्सी की महक मेरे तन मन को अन्दर तक भिगो गई। मैंने उस पर अपनी जीभ लगा दी।आईला…. एक दिन किस्मत ने साथ दिया, मैं घर पर अकेला था, घर के लोग शादी में गए हुए थे जो कि रात में करीब 11 बजे से पहले वापस आने वाले नहीं थे. मैं तुम को अच्छी नहीं लगती क्या…?तो वो बोला- नहीं भाभी, आप तो बहुत अच्छी हैं…मैंने कहा- तो फिर तुम मुझसे हमेशा भागते क्यों रहते हो…?वो बोला- भाभी, मैं कहाँ आपसे भागता हूँ?मैंने कहा- फिर अभी क्यों मेरे कमरे से भाग आये थे, शायद मैं तुम को अच्छी नहीं लगती, तभी तो तुम मुझसे ठीक तरह से बात भी नहीं करते।‘नहीं भाभी, अभी तो मैं बस यूँ ही अपने कमरे में आ गया था.

सिनेमा हाल में घुसते हुए निशा ने मेरा हाथ पकड़ लिया क्योंकि वहाँ काफी अँधेरा था। हम मूवी देखने लगे।मूवी रोमांटिक थी.

सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन हिंदी: आज भी शाम को मम्मी के होस्पिटल जाते ही जीजू झील के किनारे घूमने के लिये निकल पड़े थे, मुझे भी उन्होंने साथ ले लिया था. आंटी बोली- रुको मुझे मूतना है !तो मूतिये आंटी जी ! यह तो मेरे लिए प्रसाद है, चूतामृत यानि बुर का अमृत !”आंटी खड़ी हो कर मूतने लगी, मैं झुक कर उनका मूत पीने लगा। मूत से मेरा चेहरा भीग गया था। उसके बाद आंटी की आज्ञा से मैंने उनकी योनि का स्वाद चखा। उनकी चिकनी चूत को पहले चाटने लगा और फिर जीभ से अंदर का नमकीन पानी पीने लगा.

वाकई उसका लंड गज़ब का मोटा था मुझे बहुत दर्द हो रहा था लेकिन उसने मेरी एक भी नहीं सुनी और धक्का लगाना चालू रखा. शालू- 32″मैं- कभी दबवाई हैं या नहीं?वो ही जबाब जो हर रण्डी भी देती है- नहीं!फिर मैं अपना हाथ धीरे धीरे उसकी नाइटी में डालने लगा तो उसने मना कर दिया. फिर मैंने उसकी साड़ी ऊपर करके उसकी चूत में उंगली डाल दी और जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा और वो मस्ती में मेरे लंड को रगड़ने लगी.

और अलग हो गई… हम दोनों एक दूसरे की आँखों से एक दूसरे का मन पढ़ रहे थे…!!!पढ़ते रहिए ![emailprotected].

जिन्दा तो तू उसको कभी नहीं लेकर जा सकेगा और अगर मेरे पुलिस स्टेशन में आएगा तो तेरा तो मैं वो हाल करूँगी कि कभी चल नहीं पाएगा !!इतना बोल कर मोना फ़ोन काट देती है और उधर आरती को होश आता है और वो मोना को बुलाने को कहती है।आगे जानने के लिए अन्तर्वासना डॉट कॉंम पर आते रहिए…. यहाँ कोई देख लेगा तो लोग बातें बनाएँगे,उसने कहा- फिर आप बताओ कि कहाँ जाना है, मुझे तो कुछ पता ही नहीं है ऐसी जगह के बारे में. मेरे पति एक प्रसिद्ध दवा कम्पनी में विक्रय-प्रबन्धक हैं।पति के साथ सुहागरात का किस्सा अगले भाग में !.