देहाती हिंदी में बीएफ

छवि स्रोत,एक्स एक्स एक्स देहाती वीडियो सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ फिल्म सेक्सी ओपन: देहाती हिंदी में बीएफ, मैंने मोनिषा आंटी से कहा- आज अंकल नहीं हैं, तो मैं संजय को लेकर आ रहा हूं.

18 वर्ष की लड़की की सेक्सी

मैंने उसकी बात को अनसुना कर दिया क्योंकि मुझे अभी उसको और गर्म करना था. सेक्सी आदमी आदमी कीमैंने जल्दी से पीछे से उनका मुँह दबा दिया ताकि ज्यादा चीखें न निकलें.

फिर मैम ने पीछे मुड़ कर अपने चूतड़ों को हाथों से हिलाकर कर कहा कि ये सब मिला कर बनता है माल, जिस लड़की के चुचे, कमर और गांड को देख कर चोदने का मन करे … तो समझ जाओ कि वो लड़की माल है. सेक्सी सुदामा कीमैंने लंड उसकी पावरोटी जैसे बुर पर रखकर अन्दर कर रहा था, तो उसको दर्द हो रहा था.

मुझे बार बार उसका कठोर लिंग दिखता, कभी ये दृश्य मन में बनता कि उसका लिंग मेरी बच्चेदानी पर बार बार चोट कर रहा था.देहाती हिंदी में बीएफ: उन्होंने मुँह से लंड निकाला और मुझसे अपनी 40 इंच की चूचियां चूसने को कहा.

फिर वो अपने पैरों से मेरे सर को अपनी बुर पर जोर से दबाने लगी और झड़ गई.ज़रीना अपनी आंख बन्द कर होंठों को दबा कर अपनी प्यासी जवानी को काबू में रखने की कोशिश कर रही थी.

भोजपुरी में चुदाई सेक्सी - देहाती हिंदी में बीएफ

मेरे स्कूल में एक लड़की थी, जो मुझसे एक साल बड़ी थी, मतलब वो 12 वीं क्लास में थी.मैं बोला- क्या प्राब्लम है सब ठीक है ना!वो बोली- हैलो माई सेल्फ़ दस्तूर (बदला हुआ नाम) यार … मेरी कार में कुछ प्राब्लम हो गई है, स्टार्ट ही नहीं हो रही है.

रोनिता ने कहा- तुम तो बड़े भुल्लकड़ निकले … मुझसे रोज बात करते हो और आज पहचान भी नहीं पा रहे थे. देहाती हिंदी में बीएफ पर मेरी इस पीड़ा से उसे कोई फर्क नहीं पड़ा बल्कि अगले ही पल उसने हौले हौले लिंग मेरी योनि में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

जब बस किसी गड्डे में उछलती थी, तो मैं अपना हाथ मॉम के चुत की ओर ले जाता.

देहाती हिंदी में बीएफ?

मम्मी के चेहरे पर हल्की सी परेशानी का भाव आया … लेकिन थोड़ी देर बाद वह खुद नीचे से अपने चूतड़ों को उठाने लगीं. मैंने पूछा- फिर?पूजा- फिर एक दिन वो अपना मकसद पूरा करने के लिए मुझे अपने घर ले गया. मैं रात को मुठ मार कर सोने लगा, लेकिन 5 मिनट बाद मेरा लंड फिर से तन कर रॉड जैसा हो गया.

उस दिन मैंने घर कमरा अच्छे से साफ किया, खुद भी खूब अच्छे से शेव आदि करके जल्दी ही नहा लिया. मैंने आंटी की जांघ सहलाते हुए कहा- आंटी यह तो बहुत अच्छी बात है … हम लोग मिल गए हैं और आप भी मेरे पास ही रहती हो. दो मिनट बाद मैंने कूलर और पंखा दोनों लोग एक साथ में फुल पर कर दिए, जिससे हम दोनों की गर्मी शांत हो जाए.

मेरा हाथ मॉम की चुत पर गया, तो मैंने पाया कि मॉम की चुत गीली हो चुकी थी. उसने पूछा- कैसे?मैंने कहा कि जब तुम उसे अपने मुँह में लोगी … तो तुम्हें खुद पता चल जाएगा. उस दिन तो वो एकदम माल लग रही थी और उस दिन ही मैंने अपनी कजिन को पहली बार सेक्स भरी गंदी नजर से भी देखा था।बाइक पर बैठे हुए वो बिल्कुल मेरे पास चिपक कर बैठी थी जिससे उसके चूचे मेरी पीठ से टकरा रहे थे.

मुझे उनकी चुदास देख कर लग रहा था जैसे उन पर जैसे चुदाई का नशा सा चढ़ गया था. अब वो गांड हिलाते हुए कह रही थी- आह … मुझे इतना चोदो कि मेरी चुत की सारी खुजली मिट जाए.

तब मैंने कहा- पहले तुम आंटी से बात करो और मैं असगर से बात करता हूँ कि वो कितनी देर में आ रहे हैं.

लंड को मैंने चूत पर रगड़ा, तो ये अदा रागिनी को बहुत पसंद आई- हां … अपने लंड से मेरे वहां सहलाओ … आह बहुत अच्छा लग रहा है.

मैंने उसकी गर्दन को पकड़ा और उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर उसको बुरी तरह से चूसने लगा. फिर मैं साहब के कमरे में गई तो साहब ने कहा कि पहले आलोक के लिए खाना बना दो. उस दिन जब मैं अंग्रेजी साहित्य का पेपर देकर अपने घर जा रहा था तो रास्ते में ही सानु का कॉल आ गया.

मैंने अपनी टांगों को उसकी पीठ पर रख लिया और वो तेजी के साथ पूरे लंड को मेरी चूत में पेलने लगा. सच कह रहा था सुरेश के संभोग किसी के भी साथ करने से नहीं होता, अपने ही तरह के साथी के होने से आनन्द और उत्साह बढ़ता है. हम दोनों एक दूसरे को देख देख बार बार मुस्कुरा रहे थे और कुछ कह नहीं पा रहे थे.

वो सुबह शाम दोनों समय मेरे लंड से अपनी चुत और गांड की कामुकता शांत करवाने लगी थीं.

तुम्हारा लंड मेरी चूत को फाड़ देगा और तुम्हारे भाई को भी पता लग जायेगा कि मैं किसी मोटे लंड से चूत चुदवा रही हूं. मैं बोला- भौजाईयों को भाईयों की याद ज्यादा सता रही हो … तो अपने इस देवर को याद कर लो … देवर भी काम का होता है. मैंने माँ को हिला कर आवाज दी और बोला- माँ क्या आपको बाथरूम जाना है?लेकिन वो नहीं उठीं.

जब वो पूरे कपड़े पहन कर तैयार हो गई, तो मैंने भाभी को अपनी बांहों में भर लिया और कहा- रेनू भाभी आप ही पहली हो, जिसके साथ मैंने पहली बार चुदाई की है. चैट में मैंने पढ़ा कि वो दोनों मेरे कॉलेज जाने के बाद चुदाई करने वाले थे. मेरा निशाना तो दीदी ही थी, मगर वो बोली- अपनी गर्लफ्रेंड बना ले … उसी से करना.

उसके बाद मैंने उसे अपनी बांहों में लिया तो वो भी मेरी बांहों में लता सी लिपट गई.

मैंने भी हल्की सी मुस्कान बिखेर दी और कुर्सी पर चाय पीते हुए बैठ गया. कोई 5-7 मिनट तक लगातार एक ही रफ्तार से धक्के मारने के बाद वो अपनी मर्दानी आवाज में कराह उठा और पूरी ताकत से एक जोर का धक्का दे मारा.

देहाती हिंदी में बीएफ अब मेरे 12 वीं के एग्जाम भी हो गए हैं और मैंने रोनिता के कॉलेज में ही एड्मिशन ले लिया है. कैसे?दोस्तो, मेरा नाम सुमित है। मैं बिहार के एक छोटे से शहर अररिया का रहने वाला हूं। मेरे लंड का साइज 6 इंच है और शरीर से भी मैं ठीक हूं.

देहाती हिंदी में बीएफ मैंने देखा कि एक सुकून था निशा जी के मुखड़े पे!उन्हें देर हो रही थी तो निशा जी चली गयीं. सुरेश- तुम अपनी ये झांटें साफ नहीं करतीं क्या?मैं- मैं इतना ध्यान नहीं देती, कभी मन होता है तो कर लेती हूं.

मैंने उसकी मन की बात को सुनकर कहा- हां यार वो बचपन से ही ऐसा ही है.

हिंदी बीएफ वीडियो जबर्दस्त

उसकी नजरें सिर्फ मेरे 6 इंच के खड़े लंड पर ही टिकी थीं और वो उसे बड़े ध्यान से देख रही थी. उन्होंने संजय के लंड को पकड़ा और बोलने लगीं- अब देर न करो मेरे राजा … जल्दी से लंड पेल दो … मेरी चूत की प्यास बुझा दो. उसके बाद हम हर सेकंड सैटरडे को मेरे रूम पर मिलते और ज़ी भरके चुदाई के मज़े करते.

जैसा कि हर मर्द जानता है कि उसे अधिक से अधिक आनन्द एक कामुक महिला ही दे सकती है, पर चरमसुख की तीव्रता अधिक महिलाएं नहीं दे पाती हैं. अब हुआ यूं कि मेरा छोटा साला जो है, उसकी बीवी फ़रजाना, पर मेरी शुरू से ही नज़र थी. मेरी इतनी हिम्मत नहीं थी कि अच्छे से सफाई करूं … इसलिए 2 मग पानी मार कर वहीं लटके तौलिए से योनि को पौंछ लिया और वापस आ गयी.

मुझे चुत में उंगली की आवाज भी सुनाई दे रही थी … और उसके मुँह से निकलती हल्की हल्की सिसकारियां भी मुझे मस्त कर रही थीं.

मैंने फिर भी उससे कहा- क्यों … मजा नहीं आया क्या?वो बोला- पानी भर तो निकला है, ऐसा तो मैं मुठ मार कर भी निकाल लेता हूँ. दीदी बोली- सर एग्जाम में मार्क्स तो पूरे दोगे ना?वो बोला- हां मेरी रंडी, अगर तू चुदाई के इम्तिहान में इतना अच्छा कर रही है तो फिर पढ़ाई में भी तुझे पूरे नम्बर दूंगा. मैंने कहा- तुम मेरे पास मेरे सीने से लगकर सो जाओ, तुम्हें नींद आ जाएगी.

वह करीब तीन मिनट बाद बोला- झड़े नहीं?मैंने कहा- अब तू थक गया, अब मैं चालू होता हूं।मैंने धक्के शुरू किए अंदर बाहर अंदर बाहर … वह उनको अनुभव करता रहा. एक शाम को माँ ने बोला- बेटा बगल की आंटी आयी थीं, वो तुमको पूछ रही थीं. मेरा लंड भी उसके चूचों के बारे में सोच कर और उसके चूचों के टच होने के कारण तना हुआ था.

उनका लंड अभी ज्यादा तनाव में नहीं दिखाई दे रहा था मगर हल्का सा तनाव आने के कारण पता लग पा रहा था कि लंड उत्तेजना में आ रहा है. मेरी एक गर्लफ्रेंड थी लेकिन दूसरे शहर की … हम फोन पर खूब बातें करते.

मम्मी और मैं नाना के घर गए हुए थे तो मैंने अपने मामा के दोस्त को मेरी मॉम की चुदाई करते हुए देखा था. अब बोलो, किसकी मारूं?हालांकि अभी भी मुझे शक था कि इनमें से कोई भी मुझसे चुदने के लिए राजी हो सकेगी. कुछ देर तक ऐसे ही मामी के साथ सेक्स की बातें करते रहने के कारण मेरा वीर्य निकलने वाला था.

सोच रहा था कि अभी मुट्ठ मार लूं लेकिन फिर सोचा कि ये लोग नीचे इंतजार कर रहे होंगे.

इधर मेरी वासना की चिंगारी भी अपने शिखर पर आ गई थी और शर्म करने का कोई लाभ नहीं था, तो उससे कहने का मन बना लिया. उसने पतला सा टीशर्ट पहन रखा था और ब्रा भी नहीं पहनी थी, नीचे मिनी स्कर्ट।उसकी जाँघ और टाँगें एकदम गोरी और चिकनी थी जैसे वेक्स की हुई हो!पर वेक्स की हुई नहीं थी … वे प्राकृतिक रूप से ही चिकनी थी. मुझे नहीं पता था कि शहरों की तरह गांव की औरतें भी इतनी खुले विचारों की होती हैं.

जब मैं बहू के पीछे-पीछे चढ़ा तो मेरे पीछे बीस-पच्चीस सवारियां और चढ़ गईं. फव्वारे से टपकता पानी उसके सर से होते हुए उसके होंठों से उतर रहा था.

मैं सब जानती थी कि आगे क्या होने वाला है, इसलिए साड़ी पेटीकोट ब्लाउज निकाल कर लेट गयी. मुझे उसको लेकर ये अंदाज़ होने लगा था कि जैसी ये दिखती है, वैसी है नहीं. मैं एक पल के लिए भौचक्की रह गई, पर अगले ही पल उससे दूर होने के लिए संघर्ष करने लगी.

बीएफ फुक्किंग वीडियो

उस रात को भी जब मैं घर आया, तो देखा कि उन लड़कों ने दीदी को वियाग्रा दे दी थी.

फिर मैंने जल्दी से मैडम को हां कर दी और मैं रात को उनके घर पर ही रुक गया. वो भी मेरी बहन की शादी से एक दिन पहले!हरियाणा में आम तौर पर इसी तरह से दो शादियाँ एक दिन के आगे पीछे कर लेते हैं. मैं उसकी हर टाप पर उसे पूरी ताकत से पकड़ लेती और जोरों से हर टाप पर आह … आह.

चाची के पलटते ही उसकी भारी सी गांड मुझे साड़ी के अंदर ही उठी हुई दिखाई देने लगी. अब आगे:सुरेश समझ गया कि मैं झड़ गयी हूँ इसलिए उसने मुझसे कहा- पानी निकल गया तुम्हारा?मैंने भी जवाब में सिर हिला दिया. मराठी सेक्सी क्लिपा व्हिडिओरूम में सिर्फ मैं और माँ ही थे, तो मैंने अपना लंड अपने लोअर से निकाल लिया और माँ की साड़ी को ऊपर करने लगा.

मैंने एक दिन अपने लंड को नापने की कोशिश की तो पता लगा कि मेरा लंड पूरी उत्तेजना में 3 इंच से भी ज्यादा चौड़ा हो जाता है. मेरी दीदी की चुदाई सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरी सेक्सी दीदी को छोटे टाइट हॉट कपड़े पसंद थे.

मुझे नीचे गिराकर खुद चढ़ गई और मेरी बनियान फाड़कर मेरे मुँह पे धीरे धीरे अपना थूक गिराने लगी. मगर मैंने उसके हाथों को हटा दिया और अपनी गांड का पूरा भार उसकी चूत पर डालते हुए उसकी चूत में लंड को उतारने लगा. उस कहानी में मैंने अपनी संख्या न जोड़कर परिवार में सिर्फ 6 लोगों का ही लिखा था.

उर्वशी बाहर से तो खूबसूरत थी ही मगर अंदर से भी उसका बदन संगमरमर की तराशी मूरत से कम नहीं था. आंटी का स्वभाव बहुत ही अच्छा था और आंटी भी बहुत मस्त व हॉट माल थीं. इससे उसकी चीख निकलने को हुई तो मैंने उसके मुंह पर अपना हाथ रख दिया और कुछ देर लेटा रहा.

उसने कहा- मैं 18 साल से ऊपर की की हो गई हूँ कोई नासमझ लड़की नहीं हूँ.

आपको मेरी यह आपबीती सेक्सी स्टोरी पसंद आई या नहीं … मेरी इस कहानी पर प्रतिक्रिया दें और मुझे मैसेज करने के लिए नीचे दी गई मेल पर अपने संदेश भेजें। मैं अपनी अगली सेक्सी स्टोरी जल्दी ही लेकर आऊंगी. उसकी बेताबी इतनी अधिक लग रही थी, मानो वो मुझे पूरा ही अन्दर ले लेगी.

मैंने एक तरकीब लगाई और उसको बोला- मैं जा रहा हूँ … आप दरवाजा बंद कर लो. जब हम घर से निकले थे तभी से मुझे मेरी कजिन का मिजाज कुछ बदला हुआ सा लग रहा था. देवर भाभी की चुदाई की इस हिंदी सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी भाभी ने मुझे उत्तेजित करके अपनी वासना शांत की.

मैंने अपना इनाम मांगा, तो भाभी ने हंसते हुए शाम को इनाम देने का वादा कर दिया. मैडम ने मुझे घूरते हुए देखा तो उन्होंने खांस कर ताना मार कर कहा- अगर देख लिया हो तो जरा कार भी चला लो!घबराहट के मारे कार स्टार्ट तो हो गई लेकिन एक दो झटके खाकर ही फिर से रुक गई. मैं उसके ऊपर ऐसे ही लेटा रहा और उसे किस करने लगा, ताकि वो नीचे का दर्द भूल जाए.

देहाती हिंदी में बीएफ मॉम ने भी मेरा हाथ अपनी चूची से नहीं हटाया, तो मैं समझ गया कि चुदाई का रास्ता क्लियर है. अब मैं उसके लिंग को अपने मुँह में भरने वाली थी कि सुरेश का फ़ोन बजने लगा.

अंतर्वासना मूवी

यह तब से हमारे परिवार के साथ हैं और अब यह मेरा निजी साथी नौकर ड्राइवर अंगरक्षक सब कुछ है और इसका नाम मंगल है. कुछ देर बाद मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया लगा दिया, जिससे वो सही पोजीशन में आ गयी. वंदना मैम ने अपने चुचे दोनों हाथों से उठाए और दबा कर बोलीं- ये मौसंबियां हैं … इनको चूसने से माल निकलता है.

भाभी की चुदाई की यह हिंदी सेक्स कहानी दो साल पहले की है, उस वक्त मैं बी. उसने कहा- हां जब तुमने मुझे चोद कर कली से फूल बनाया था, तो मेरे बूब्स क्यों नहीं बढ़ते. अक्षरा सिंग के सेक्सी व्हिडीओजैसे ही मैं पहुंचा, तो उसने मुझे हैलो बोला और अपनी गर्लफ्रेंड से परिचय करवाने लगा.

मुझे सर्विस देने में कोई परेशानी नहीं है, पर मैं आपको बस एक राय दे रहा था.

अब पूरा लंड गीला हो चुका था और चुदाई में पच-पच की आवाज होने लगी थी. पर वो चुपचाप मेरी ओर बढ़ता चला आया और फिर मेरे बदन से मेरी साड़ी अलग करने में लग गया.

”अब मैं हूँ … तुम चिंता मत करो … ये मजा मैं तुम्हें पूरी जिंदगी भर दूंगा. आपको मेरी पिछली कहानीमैंने हॉस्टल गर्ल की सील तोड़ीमें ज़रूर मजा आया होगा … उसके लिए आपके अनेकों मेल भी मिले. मैं धक्के देने लगा, वे सहयोग कर रहे थे … बार बार चूतड़ उचका रहे थे.

रोनिता के चूचे पूरी तरह तन चुके थे, जो दिखने में बहुत मस्त लग रहे थे.

लेकिन जब उसने यह बताया और साबित भी किया के ये बोल नहीं सकता, और सब कुछ गोपनीय रहेगा तो सब रिलेक्स हुयी. बिस्तर के पास पहुंचते ही उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और मेरी गर्दन पर चुम्बनों की बरसात करने लगा. हम बस विद्यालय के गेट के बाहर जा रहे थे कि देखा संध्या और पूजा बाहर खड़ी होकर किसी का इंतज़ार कर रही थीं.

चोदने वाली सेक्सी देसीउस दिन उन्होंने एक आसमानी रंग का चिकन सूट पहना था और आप सबको तो पता ही है कि वो कितना अच्छा लगता है जब कोई भी 32 साल की महिला पूरे विकसित दूधों पर उसको पहनती है. मैंने वर्षा के सारे प्रॉब्लम्स को हल करने का तरीका बताने में लग गया.

ब्लू पिक्चर का चित्र

अब से पहले उसने मेरे लंड को हाथ में तो लिया था लेकिन इतनी पास से और गौर से नहीं देखा था. तभी मैंने देखा माँ की गांड से खून निकल रहा था और तभी माँ भी जग गई थीं. कल्लू मम्मी के पास आ गया था और उसने अपने होंठ माँ के होंठों से जोड़ दिए थे.

मेरे प्यारे दोस्तो, आप सभी को मेरा नमस्ते, मेरा नाम दीपू वर्मा है। मेरी उम्र 28 वर्ष है और मेरी लंबाई 5 फीट 10 इंच है. अब मैंने अपनी छवि को कलंकित होने से बचाने के लिए एक भावनात्मक चाल चली. मैं संजय को अपनी बांहों में लेकर बिस्तर पर गिर गई और हम दोनों सो गए.

एक दिन उन दोनों की चैट पढ़ कर मुझे पता चला कि वो दोनों चुदाई की प्लानिंग कर रहे हैं. उसे इतना मज़ा आ रहा था कि मैंने पोजीशन बदलना भी ठीक नहीं समझा और चूत की सेवा में लगा रहा. मैंने कहा- क्यों नहीं 3 साल साथ बिताये हैं … तीन महीने में क्या चेंज हो गया होगा.

मुझे सेक्स के टाइम लड़की का ऐसे मेरा नाम ले कर चिल्लाना, सिसकारियां लेना बहुत मज़े दे रहा था. थोड़ी देर में उसको मज़ा आने लगा और वो भी गांड उठा उठा कर मेरा साथ देने लगी.

कुछ देर तक ऐसे ही उसके चूचों को दबाने के बाद उसने दीदी की ब्रा को भी खोल दिया और उसके चूचे अब नंगे हो गये थे.

उसका लंड जब भी मेरी बच्चेदानी को छू जाता … तो मेरी किलकारी निकल जाती थी. क्सक्सक्स सेक्सी वीडियो चुड़ैये कामुक सीन देख कर मेरा लंड मेरी पैंट में पूरा टाइट खड़ा हो गया था. हिंदी देसी सेक्सी वीडियो दिखाइएअभी तो मुश्किल से 4 से 5 मिनट ही हुए थे कि मैं फिर से पानी छोड़ने को लालायित होने लगी. मैं गांड से धक्के लगा रहा था तो वे बोले- थोड़ा ठहर जाओ!जबकि मेरे दोस्त मारते समय उत्साह दिलाते थे- हां और जोर से बहुत अच्छे।वे बोले- यार लेट जाओ!उन्होंने लंड निकाल लिया और अलग हो गए.

आज भी हम दोनों बातें करते रहते हैं लेकिन अभी तक दोबारा वहां जाकर उसकी चूत की चुदाई का मौका नहीं मिल पाया है.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसके कान में धीरे से कहा- भरोसा रखो … आज सब अच्छा होगा. सरस्वती- ही … ही … ही … हम दोनों को एक साथ … तेरी हालत पतली हो जाएगी राजा. पायल को मैंने बेड पर गिरा लिया और उसकी टांगों को उठा लिया उसकी चूत में लंड को लगा दिया और उसके ऊपर दबाव बनाने लगा.

उसने भी शर्मिंदगी सी महसूस करते हुए नजरें झुका लीं और मैं भी शर्माती हुई उससे अलग होकर बैठ गयी. अब आगे:तभी मेरी एक तेज ‘आआइई … उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ आवाज निकली और बस मेरी योनि से रस की फुहार छूट पड़ी. उसके बैठने के बाद मैंने देखा कि उसके चूचे एकदम से टाइट होकर नुकीले हो चुके थे.

सेक्सी वीडियो एक्स एक्स बीएफ

मैं घर वापस आया और घर मैंने अपनी बीवी को बताया कि मुझे सिंगापुर जाना पड़ रहा है तो मेरी बीवी को बहुत बुरा लगा. उसने हल्के से हाथों से मुझे जोर दिया और मैं उसके ऊपर से उतर कर बगल में घोड़ी की तरह झुक गयी. मैंने छोटी बहन को चोदा … कैसे? पढ़ें इस कहानी में! हम भाई बहन अकेले थे घर में … हम मजाक में एक दूसरे के सामने नंगे हो चुके थे.

सोमेश ने काफी देर तक दीदी की चूचियों को रगड़ने के बाद अपने लंड को दीदी के मुँह में डाल दिया.

मैंने अपना लंड पीछे से उनकी चुत में डाला और तेज तेज धक्के मारने लगा.

पहले मैं अक्सर दीदी के मम्मों से खेला करता था, मगर अब तो वो हाथ भी नहीं लगवाती थी. फिर बात करते हए वो मेरे लंड सहला रही थीं, मैं उनके मम्मों से खेल रहा था. सेक्सी वीडियोस सेक्स वीडियोसघर आये हुए मुझे एक सप्ताह ही हुआ था कि मेरे लंड ने मुझे फिर से परेशान करना शुरू कर दिया.

फिर भाई को उनके रूम में सुला कर भाभी को उनका ध्यान रखने का बोल कर मैं बाहर आ गया. विद्या- इस्स … लगती है यार … ये क्या कर रहे हो … ऐसे न करो … आह मैं मर जाऊंगी. मैंने तय कर लिया और दीदी को भी बता दिया कि मैं इस घर की प्रॉपर्टी बेचकर बिना किसी को बताए दीदी को लेकर कहीं दूसरे राज्य में चला जाऊंगा.

एक दिन मैंने उसको कॉल की तो वह कहने लगी- मैं स्कूल में हूँ, और बच्चों के एग्जाम चल रहे हैं, जल्दी छुट्टी हो जाएगी. उनके गदराए हुए शरीर को अपने हाथों से रगड़ने में मुझे बड़ा मजा आता था.

उसने मुझसे पूछा कि मैं बचपन के दिनों में उसके बारे में क्या सोचती थी.

मैं फौजिया दीदी के रिकॉर्ड वीडियो को किसी को भी अपने मोबाइल से ट्रांसफर नहीं करने देता था. जब कुछ भी समझ में नहीं आता, तो हार्ड डिस्क को फोरमेट करना ही अन्तिम उपाय लगने लगता है. शायद वो भी ये बात समझ गई थीं कि मुझे उनके चूचों की नाली देख कर मजा आता है, इसीलिए वो मुझसे और भी चिपक कर बैठ जातीं और मुझे पढ़ाने लगतीं.

भाभी देवर के हिंदी सेक्सी वीडियो मेरी शादी से पहले भी मेरे कई ब्वॉयफ्रेंड थे इसलिए मैं रोज किसी ना किसी के साथ सेक्स कर लेती थी. अब तक आंटी इतनी अधिक गर्म हो गयी थीं कि वो भी मुझे हर तरफ चूम रही थीं.

कल्लू मम्मी के पास आ गया था और उसने अपने होंठ माँ के होंठों से जोड़ दिए थे. मैंने भाभी की चूचियों को ब्रा पर से ही रगड़ना और चूसना शुरू कर दिया. अब तक आंटी इतनी अधिक गर्म हो गयी थीं कि वो भी मुझे हर तरफ चूम रही थीं.

jiostore बीएफ

मैंने पूछा- घर में बाकी लोग भी होंगे ही ना?तो वो बोली- आप आ तो जाओ … बाकी सब समझ जाओगे. वो एकदम से गनगना उठी और उसने मेरा सिर अपने हाथों से पकड़ कर अपनी चुत पर सटा दिया. मैंने उसकी चड्डी के ऊपर से ही उसकी बुर पर हाथ रखा, तो उसकी चड्डी गीली हो गई थी.

दो घंटे के बाद उसका फोन आया कि वो अपना कॉलेज का काम खत्म करके आ गई है. मैंने उसे बाथरूम के फर्श पर ही लिटा दिया और उसके गालों को चूसने लगा.

मेरे पड़ोस में रहने वाली एक सेक्सी भाभी की चुदाई मैंने कैसे की … यह बात मैंने अपनी इस हिंदी सेक्स कहानी में बताया है.

तभी उसने मेरी आंखों में झांकते हुए अपने हाथ पीछे ले जाकर अपनी ब्रा को भी उतार दिया. उसने कार को घर के अन्दर किया, खुद पहले उतर कर घर का मेन गेट खोला और अन्दर जाने लग गई. मैंने बिना समय बर्बाद किए उसे बेड पर लेटा दिया और उसके गालों को चूमने लगा.

मैं ऐसे ही कल्पना करते हुए मामी को नंगी करने लगा और तेजी के साथ लंड पर हाथ चलाते हुए मुट्ठ मारने लगा. तब पूजा ने कहा- चिन्ता न करो, वो माँ बाबा के साथ आज कहीं जाने वाली हैं. मैं उसे किस करने लगा, किस करते हुए मैंने एक जोरदार झटका मारा, तो मेरा लण्ड उसकी चूत को चीरता हुआ आधा अंदर चला गया.

मैंने कहा- ये सब हुआ कहां?वो बोला- नहर के पास ये अकेले मिल गया … तो मैंने अपने दोस्तों को फोन से बुलाकर उसका काम कर दिया.

देहाती हिंदी में बीएफ: रागिनी- देखो … ये मत समझना कि मैं बहुत ग़लत लड़की हूँ … पर सेक्स की ज़रूरत हर इंसान को होती है. वो बोली- हां, आज इसकी सारी खुजली मिटा दो यार… आह्ह … चोदो, और जोर से चोदो … अपने चाचा की जवान बेटी की चुदाई करो!मैं तेजी से उसकी बुर को चोदने लगा.

वो एकदम से मेरे सर को अपनी बुर पर दबाने लगी और खुद गांड हिला हिला कर धक्के देने लगी. मैं उसके मम्मों को मसलता जा रहा था और वो मेरे होंठों से लगकर मेरे होंठ चूस रही थी. बस एक बार ऐसा जुगाड़ लगाओ कि तुम मैं और सारिका साथ रात भर मजे से चुदाई कर सकें.

तभी दीदी ने आगे कहा- मैं चाहती हूँ कि अपने परिवार में सब लोग एक दूसरे को चोदें, तो कितना अच्छा होगा.

साथ ही मैं उसकी चुत में अपनी दो उंगलियां डाल कर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगा. दोस्तो … जब उसने अपने सारे कपड़े उतारे तो बस मैं उसको ही देखता रहा. उसने मुझसे कभी इस बात के बारे में जिक्र नहीं किया कि वो मेरी बहन के साथ बातें कर रहा है और उसको पटा चुका है.