हिंदी वाली बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,ब्लू सेक्सी वीडियो भेज दो

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी बीएफ भाभी वाला: हिंदी वाली बीएफ फिल्म, वो मेरे लिए खाना निकाल कर रख देती थी और मैं खाकर चुपचप लेट जाता था.

एचडी फिल्म ब्लू सेक्सी

फिर मैंने कार से वो पार्सल निकाले और आंटी के साथ अन्दर उनके घर में आ गया. काम करने वाली बाई की सेक्सी पिक्चरमेरे ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे अपनी बाइक पर बिठाया और मुझसे बोला- आह जान आज तो मस्त माल लग रही हो.

पहले तो वो बस यूं ही खड़ी रहीं, पर थोड़ी देर बाद वो भी मेरे किस का रेस्पोंस देने लगीं. मिर्ची status.comअपने पैर मैंने उसके पैरों पर रख दिये तथा अपने हाथ से उसके स्तनों के साथ खेल करने लगा।मिनी और मैं इसी तरह लेटे बहुत देर तक बातें करते रहे।उसने मुझे अपने परिवार के बारे में बताया.

मैं सुबह कॉलेज के लिए कह कर घर से निकल गया और 11 बजे नजमा आंटी के घर में आ गया.हिंदी वाली बीएफ फिल्म: कुछ देर यूं ही चोदने के बाद मैंने दीदी को घोड़ी बना दिया और दीदी की मस्त गांड पर चपत लगाकर पीछे से उनकी गांड में लंड घुसा कर जोरों से कमर पकड़कर धक्के मारने लगा.

मैंने बड़े प्यार से उससे पूछा- आपको अगर ठंड लग रही हो तो आप कम्बल ओढ़ सकती हैं.फिर मेरी शादी हो गई और सुहागरात को मीतेश कमरे में आया, दरवाजा बंद किया और अपने सारे कपड़े उतारकर बेड पर आ गया.

नाबालिक की सेक्सी पिक्चर - हिंदी वाली बीएफ फिल्म

मैंने पूछा- मौसी क्या हुआ?तो मौसी एकदम से नॉर्मल हो गईं और अपने पैर कुछ और ज्यादा खोल दिए.मोहित अंकल- दीपक बेटा, चुपचाप मेरे लंड को चूसते रहो और ज्यादा आवाज़ मत करो … वरना मुझे तुम जैसे लौंडों को कंट्रोल करने के और भी कई तरीके आते हैं.

मैंने कहा- क्या खाली करने की कह रही हो आप?वो हंस दीं और गांड मटका कर चली गईं. हिंदी वाली बीएफ फिल्म मैं भी जोरदार शॉट लगाने लगा और वह भी अपनी गांड उठा उठा कर मेरा लंड निगल रही थीं.

रसगुल्ले जैसी मुलायम और मीठी सी उनकी चूत … आह गुड़िया बुआ का कहना ही क्या था.

हिंदी वाली बीएफ फिल्म?

चूंकि ये मेरा पहली बार था तो मुझे ज्यादा पता नहीं था कि कैसे करते हैं. ताकि जब हम तीनों छुट्टियां बिताने जाएं तब मैं उन दोनों के साथ पूरे उत्साह और उमंग से अपनी चुदाई करवा सकूं।मानव ने भी मेरी बात मान ली।शायद उसे भी मेरे नीरव के प्रति भावनात्मक जुड़ाव का अनुमान लग गया था।आगामी दो दिन मेरे बहुत बेचैनी से गुजरे।मैंने बाजार जा कर आवश्यक खरीदारी कर ली. दोस्तो, मेरी यह पहली कहानी है और ये मेरी हॉट गर्लफ्रेंड की असली चुदाई की एक सच्ची घटना है, जो मैं आपको बताने जा रहा हूं.

मैं भी आवाज करके उसकी चूत चाटने लगा और उसके पैरों को अपनी पीठ पर करके उसे हवा में उठा कर उसकी चूत चूसने लगा. मैं भाभी के पास गया और पूछा- हैलो… क्या हुआ मेम … आपको कोई दिक्कत है?तभी वो बोलीं- नहीं… कोई दिक्कत नहीं है … मैं बस मेरे पति को ढूंढ रही हूं. इसके लिए हम तीनों ने मिल कर एक प्लान बनाया जिसके मुताबिक मैं और मेरी बीवी मेरी मां के सामने चुदाई करने वाले थे.

वहीं दूसरी तरफ दीदी का पंकज से चुदना और हम दोनों के बीच में ये भाई-बहन का रिश्ता। दिमाग की दही हो रही थी. मैं उसे देखने लगा तो वो हंसते हुए बोली- आज तो इतनी ज्यादा रबड़ी पिला दी कि मेरा तो पेट भर गया. मैंने पड़ोसन की बेटी को चोदा उसी के घर में! कैसे?दोस्तो, मैं इस साइट का बड़ा प्रशसंक हूँ.

दीदी का फिगर इतना मस्त था कि कोई भी उनको देखकर अपनी नीयत खराब कर ले. थोड़ी देर यूँ ही अलग बैठने के बाद भाभी ने मुझसे पानी की बोतल मांगी.

प्रीति ने पूछा- अब तबियत कैसी है?मैंने कहा- तुम आ गयी हो, तो अब ठीक लग रहा है.

शाम को जब मैं घर आया तो उसने मुझे पूछा- ये कैसी किताब पढ़ते हो?मैंने अनजान बनकर उससे पूछा- कौन सी किताब?उसने वही किताब मेरे सामने ला दी.

मैंने कहा- आगे फिर क्या किया?वो जैसा बता रही थी वैसा कर भी रही थी।उसने कहा- और ऐसे लिया और चूसने लगी।उसके मुँह का स्पर्श पाकर मेरा लंड धन्य हो गया. इस कहानी के माध्यम से मैंने आपको यही बताना चाहा है कि जिन्दगी का असली मजा सेक्स में ही है. उसकी जांघ का दबाव पड़ने से मेरे लंड का टोपा बार बार खिंचाव में आ रहा था और अब वो पूरा बाहर आने के लिए मचल सा गया था.

मौसी के कहने पर मैं आहिस्ता से वहां से उठा और अपनी वाली जगह पर आकर लेट गया. मैं दिल्ली में रहता हूं और सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहा हूं. मेरी अन्तर्वासना टीचर सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं बहुत खूबसूरत विधवा हूँ.

मैंने उनकी चूत के पास किस कर दिया तो उन्होंने अपनी जांघों को भींच लिया.

पापा बोले- पहले चुदाई का मजा तो ले लो हमारे साथ में! बाजार में बाद में चले जाना. दूसरे दिन फिर मां लवली से कहने लगी- तुम लोग अपने कमरे में ही किया करो जो करना है. भाभी का रंग गोरा था और उनके मस्त फिगर का नाप यही कोई 32-28-34 का था.

लग रहा था कि जैसे किसी बरसों के भूखे कुत्ते के सामने हड्डी डाल दी गयी हो. और जलील होने पर औरत कितना उत्तेजित होती है और फिर खुल कर सेक्स करती है. थोड़ी देर बाद मैं उठा और अपने लन्ड को निकाल कर सीमा के छेद को देखने लगा। अभी भी खुला हुआ था उसकी चूत का छेद। मगर फिर उसने अपने हाथ से चूत को ढक लिया और शरमाने लगी.

वो बोल रही थी- आई लव यू मेरी जान!उसके जिस्म की गर्मी से मेरा लंड फिर से बेकाबू होने लगा और मैं उसके बदन को चूम रहा था.

फिर उसका पूरा बदन एकदम से तेजी से कांपने लगा और उसकी चूत ने मेरे हाथ पर ढेर सारा पानी छोड़ दिया. फिर उसने लंड को अपने चूचों के बीच ले लिया और मेरे लंड को रगड़ने लगी.

हिंदी वाली बीएफ फिल्म मामी की चूत चुदाई के बाद ये मेरी दूसरी सच्ची अन्तर्वासना स्टोरी है. आंटी के पति किसी प्राइवेट बैंक में जॉब करते थे और उनके कोई औलाद नहीं थी.

हिंदी वाली बीएफ फिल्म मैं- लवली कहती थी कि अगर मुझे अपने पापा के पास तुम नहीं भेजना चाहते हो तो मुझे अभी संतु्ष्ट करो. दीदी बोलीं- शिव, मुझे सबसे ज्यादा मजा इसी पोजिशन में आता है, जब तुम्हारी पूरी बॉडी मेरे ऊपर होती है.

घर में मैं बोर हो रही थी और कॉलेज के लड़कों के साथ की हुई मस्ती की यादें मुझे परेशान करने लगीं.

सेक्सी पिक्चर वीडियो फुल मूवी

उसके लंड से चुद चुद कर मेरी गांड और ज्यादा मोटी और रसीली हो गयी है. मैं उनके पास आया, तो उन्होंने मुझसे कहा- अब से ये मैडम तुम्हारी नई पड़ोसन हैं. इतनी सुन्दर पंजाबन को देख लंड जोश खा गया और मैं उसे पकड़ कर चूमने लगा.

हम दोनों ने काफी देर तक मजे किये लेकिन चुदाई नहीं हो पाई क्योंकि मम्मी के आने का डर था. अचानक से उन्होंने मेरे मुँह को अपने हाथों से दबाते हुए खोला और उन्होंने मेरे मुँह में कपड़ा घुसेड़ दिया. ”अपना लण्ड हाथ में लेकर सहला रहा हूँ कि ये कब तुम्हारी चूत में जायेगा.

तो मेरी सलहज ने रोते हुए अपनी सारी कहानी सुनाई और कहा कि अब उसका पति अर्थात आपका साला मुझ पर कोई ध्यान नहीं देता और बच्चा होने के बाद से पिछले एक साल से उसने मेरी चुदाई भी नहीं की है … मैं तड़पती रह जाती हूँ.

उसने मुझे अपने से दूर नहीं होने दिया और उस टाइम उसकी आंखों में फिर से आंसू थे. उनको रंग लगाते समय मेरे हाथ उनके गालों की मुलायमियत का अहसास कर रहे थे. मगर पिंकी ने मेरा लंड अपने मुँह से नहीं निकाला … उसने लंड का सारा पानी पी लिया था.

फिर हमने मिलने का दिन, समय और जगह एक होटल के रेस्तरां में पक्का किया और फ़ोन रख दिया. अब मुझसे रहा नहीं गया और मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और मामी की मामी की टांगों को अलग करके अपना मुँह मामी की चुत पर रख दिया. मगर मुझे उसकी इन्सानियत का पता तब लगा जब उसने मुझे अपने हाथ से खाना बना कर खिलाया.

कुछ देर बाद मैंने ऊपर से हट कर बगल में खुद को किया और मामी के मुँह के पास लंड कर दिया. मगर मैं समझ गया कि वो कहना चाह रही थी कि अब मुझे और मत तड़पाओ और मेरी चूत में अपना मूसल पेलकर मेरी चुदाई करो.

रुकने के बाद मैंने उसी पोजीशन में अपने ऊपर और आंटी के ऊपर पानी डाला और फिर मैं धक्कापेल चुदाई करने लगा. मुझे चोद डाल मेरे राजा … जोर जोर से चोद कर मेरी चूत की प्यास बुझा दे. मैंने कहा- तो रघु से क्यों मरवा रही थी?मां- वो तो जल्दी झड़ जाता है.

काफी देर तक वो मेरा लंड ऐसे ही चूसती रही एक पोर्न स्टार की तरह से मेरे लंड को न केवल चूस रही थी … बल्कि मेरी गोटियों को भी चूस रही थी.

वहां पर एक लड़के ने मुझसे पूछा- ये रंडी है क्या आपके साथ में?मैं बोला- हां. इस बार मैं भी उनका साथ देने लगा और किस करते हुए हम कब बिस्तर पर पहुंच गए और कब हमारे कपड़ों ने हमारे जिस्म का साथ छोड़ दिया, पता ही नहीं चला. मैं उसके पास ही खड़ा हो गया ताकि जब मेट्रो आये तो कम से कम एक बार इसकी गांड पर लौड़ा टच ही हो जाये.

इसके बाद मैंने छिपी निगाहों से आंटी को देखा, आंटी मुझे ही देख रही थीं. जब मां की चीखें ज्यादा बढ़ती दिखीं तो निखिल ने अपना लंड मेरी मां के मुंह में दे दिया और बोला- चूस बहन की लौड़ी।माँ मजे से निखिल का लंड मुंह में भर भर कर चूसने लगी.

मैंने पूछा तो बोली कि उसको मुझसे ज्यादा जल्दी थी दूध पिलाने की इसलिए उसने पहले से ही ब्रा और पैंटी दोनों ही निकाल कर रखी हुई थी. भाभी ने लिखा था- थैंक्स फोर योर टी। (चाय के लिए धन्यवाद)मैंने लिखा- एनिथिंग फॉर यू. कोई दो मिनट के दर्द के बाद अब उन्हें भी गांड मराने में मजा आने लगा.

होममेड राखी

मैं इस बात को सुनकर बहुत खुश हो गया कि मुझे मामी के साथ अकेले रहने का मौका मिल गया है.

सच में दोस्तो, मेहंदी लगवा कर मैं अपने आप को किसी परी से कम नहीं समझ रही थी।मेहंदी के थोड़ा सूख जाने पर लड़कों ने एक घोल मेरे हाथ और पैरों की मेहंदी पर ब्रश से लगाया. फिर मैंने मौसी की चूचियों को पीना शुरू कर दिया और मौसी के मुंह से आह्ह करके सिसकारी निकल गयी. मगर मैं तेरे लिये चिंतित भी हो रहा हूं कि अगर कल को तेरी शादी होगी तो फिर इज्जत भी खराब होगी.

मैंने धीरे से उसके कान के पास अपना मुंह ले जाकर कहा- ये अमृत मुझे अब दोबारा कब मिलेगा?वो बोली- जब आपका मन करे ले लेना. दोस्तो, मैं आशीष एक बार फिर से आपके समक्ष हूं अपनी कहानी का पांचवा भाग लेकर!कहते हैं कि अगर घर में औरत ठीक मिल जाए तो घर सोना बन जाता है. सेक्सी फिल्म वीडियो चालू करोमेरी गर्लफ्रेंड अंजना की मॉम गर्ल्स स्कूल में टीचर थीं … और उसके डैड मोहित सिंह बाय्स स्कूल में थे.

’मैंने आंटी के सीने पर अपने होंठों को सीने रखकर किस करना शुरू कर दिया. मां की नंगी चूची और मोटी गांड के बारे में सोच सोच कर मेरा लंड फटा जा रहा था और मैं मां की चूत के बारे में सोच कर मुठ मारने लगा.

मेरी मामी बहुत खूबसूरत है, बिल्कुल एक अप्सरा जैसी। उनकी उम्र मामाजी से थोड़ी कम है। उनके बदन का एक एक हिस्सा मानो आग में ताप पाकर सोने सा निखरा हो। उनके होंठ जैसे प्यास बुझाने वाली शीतल जल की धारा हों। मामी के वक्ष ऐसे जिनकी गहराई से बाहर निकलना संभव ही न हो. पापा हंस कर बोले- लगता है तू भी काफी बड़ा हो गया है अब।पापा ने बताया कि उनकी चेस्ट की वैक्सिंग भी की गयी थी. उनके मुँह से लंड के लिए आंटी की तड़फ जानी, तो मैं और भी ज्यादा कामुक हो गया.

उसके बाद वो मेरे ऊपर से उतर कर बिस्तर पर लेट गयी और मुझे अपने ऊपर आने को कहा. मगर ये बताओ कि अंकल तुम्हें रंडी क्यों बोल रहे थे? तुम अपने बॉयफ्रेंड से भी चुदवाती हो. मंजू ने मुझे सीधा कर दिया और घुटनों के बल होते हुए बोली- जल्दी से मेरे मुँह में लंड दो बाबा.

नमस्कार दोस्तो, मैं विशू मेरे जीवन की ससुर बहू सेक्स की सत्य घटना बताने जा रहा हूं.

एक दिन अचानक फोन करके वो बोली- कहां हो? न फोन, न मैसेज?मैंने बता दिया कि काम में बिजी था, ध्यान नहीं रहा कि कॉल कर लूं. अगली सुबह जब मैं उठा तो जिया और आकाश सर साथ में बैठ कर नाश्ता कर रहे थे.

प्रीति को देखकर मैंने उसे गले लगा लिया ताकि उसे किसी बात का कोई शक न हो. जैसे ही मैंने कपड़े उतारना शुरू किया तो तभी मेरी गर्लफ्रेंड का कॉल आ गया. उनकी चुत से रस निकलना शुरू हो गया था तो मुझे समझ आ गया कि मामी भी आंखें मूंदे मजा ले रही हैं.

फिर मैंने उससे कहा कि अगर तुम्हें कोई दिक्कत है तो बता दो, यहां पर केवल हम दोनों ही हैं. मैं दर्द के मारे तड़फ गई- आह … नहीं धीरे कर ले … अब नहीं बोलूंगी … आहह … आहहहह … मर गई … आहहह. मैं अपनी ब्रा और पैंटी को मुट्ठी में दबा कर अंदर वार्ड में रखे अपने बैग में डाल कर आ गयी.

हिंदी वाली बीएफ फिल्म फिर मैंने अपने चेहरे पर लगे उसके पानी को हाथ से साफ़ करके चाटने लगी. मैंने उनकी चूत के पास किस कर दिया तो उन्होंने अपनी जांघों को भींच लिया.

पेनडर्म क्रीम के फायदे

लेकिन न जाने किस काम की वजह से वो मेरे रूम में घुसी और मेरी बॉडी को पीछे से देखने लगी. भाई बहन सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरे दोस्तों ने मुझे सेक्स कहानी की किताबें पढ़वाई. हमारे इस रूम में पूरा अंधेरा था, पर बाथरूम की लाइट जली हुई थी और दरवाज़ा भी हल्का सा खुला हुआ था.

उसकी आंखों बंद थीं … उसके मासूम चेहरे पर वासना की प्यास साफ़ झलक रही थी. मुझे आप लोगों के ईमेल मिले, लेकिन मैं सभी को जवाब नहीं कर सकी … सॉरी!आज की ये सेक्स कहानी एक पुलिस वाली पर है कि कैसे उसने चुत चुदवाई और मेरी सैटिंग बन गई. हरियाणवी सेक्सी वीडियो न्यूकाम की वजह से उनकी तबीयत ठीक नहीं रहती जिसकी वजह से अम्मी को शारीरिक सुख नहीं मिल पाता.

मैंने निढाल स्वर में कहा- आह तुमने अपने मुँह में ही ले लिया!मेरा सारा वीर्य पीने के बाद पिंकी बोली- आप जैसे अमीरों का अमृत कहां रोज-रोज नसीब होता है.

बात आगे बढ़ाने से पहले अपने बारे में आपको मैं सामान्य जानकारी दे देता हूं. उसकी गीली हो चुकी चूत को मैंने ठोक ठोक कर चोदना शुरू कर दिया और वो भी पूरी रंडी बन कर मेरे लंड से चुदने लगी.

शिबू मेरे मम्मों को दबा रहा था और मेरे मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगी थीं. उनका निवास हमारे गांव से लगभग 15 किलोमीटर दूर एक छोटे से नगर में था. चूंकि मामी भी मामा के चले जाने के बाद अकेली रहती थीं … तो दोनों का समय निकल जाता था.

मैंने ताई को नहला दिया और फिर उनको बिना कपड़े पहनाए ही बाहर ले आया और बेड पर बिठा दिया.

वो मुझे मेरी गर्दन और गालों पर चूमते हुए बोली- सच में हिमांशु, तेरा लौड़ा इतना दमदार है कि मैं इसकी दीवानी हो गयी हूं. मैं बोला कि अभी तो तुम लेकर आयी थी, वो वाले सही नहीं हैं क्या?वो बोली- नहीं, वो बात नहीं है. फिर मेरे कंधे पर मेरे गाल पार, मेरे मम्मों पर कई बार ज़ोर ज़ोर से काटा।मैंने कहा- अरे काटो मत, निशान पड़ जाएंगे।वो हंस कर बोला- तो क्या हुआ, तेरे उस चूतिया पति ने कौनसा देखने हैं? अभी तो तेरे जिस्म और और रंगीन करूंगा।फिर राजेश ने मुझे घोड़ी बनाया और फिर चुदाई कम करी, मार मार के मेरे दोनों चूतड़ लाल कर दिये.

मोम सेक्सी विडियोमगर मुझे अभी भी हल्का हल्का दर्द हो रहा था … लेकिन मुझे पता चल चुका था कि आज पूरी रात मेरी गांड चुदाई होगी, तो अब ये ही सोच रहा था कि न जाने क्या होगा. तो उसके बाद …हैलो मेरे प्यारे दोस्तो! मैं दीपू अपनी कहानी आप लोगों को बताना चाहता हूं.

राजस्थानी सेक्सी गीत

कोमल दीदी उसकी बात सुनकर हंसने लगीं और बोलीं- ओके … मोनिका दरवाजा लॉक कर दो, फिर मजे करते हैं. अब मैं बड़ी बेसब्री से निगार आंटी को पाने का इंतज़ार करने लगा था कि कब वो मुझसे मिलने बुलाएं और कब लंड का काम बने. ऐसा मजा तो मुझे कभी किसी चीज में नहीं मिला था जितना पापा मेरा लंड चूसते हुए दे रहे थे.

इसके साथ ही 2 मिडी फुल सॉल्डर और एक लो लेंथ दिला दिया जो उसकी गांड के थोड़ा नीचे तक आ रहा था. मैं गांड में लंड पेलता रहा और दो मिनट के बाद उनको भी चुदाई में मजा आने लगा. दीदी का फिगर इतना मस्त था कि कोई भी उनको देखकर अपनी नीयत खराब कर ले.

वो उठीं और मेरी अंडरवियर उतार दी और लंड हाथ में लेकर चूसना शुरू कर दिया. साथ ही एक हाथ आगे ले जा कर उसकी चूत की क्लिट को रगड़ने लगा।इस तरह 4-5 पोजिशन बदल बदल कर मैंने उसे 25 मिनट तक चोदा। इतने में 2 बार और झड़ चुकी थी. मैंने गुस्से में उनकी गांड पर जोर का चमाट मार दी… जिससे वो उछल गईं और मुझे छाती पर मुक्का मारने लगीं.

मादक अवस्था, अंतर्वस्त्र सूंघना व मूत्र चाटना और वीर्य चाटना सब एक साथ मस्तिष्क में घूमने लगे और वो धुंधली सी स्मृति, जब मैंने शिशु अवस्था में अपनी बुआ के सामने धरातल पर गिरा हुआ वो सफ़ेद द्रव्य चाटा था, मेरे मस्तिष्क पटल पर फिर से उभर आई थी. मैं कपड़े व गद्दी घर से लेकर आयी थी क्योंकि आज चूत का उद्घाटन होना था.

मैंने सरिता दीदी को अपनी बांहों में लेते हुए कहा- कहीं जाने के लिए तैयार हो क्या?वो बोली- नहीं, कहीं नहीं जाना.

एक दिन मैं अपनी छत पर गया तो मैंने देखा कि वो लड़की पहले से छत पर ही थी. खानदेशी सेक्सी बीपीमन तो कर रहा है कि अभी बिस्तर पर ले जाकर निचोड़ दूं और आपकी खिली हुई जवानी का पूरा रस पी जाऊं।दीदी ने हँसते हुए दरवाजा बंद करते हुए कहा- अब मैं किसी और की अमानत हूँ. लोकांची सेक्सी व्हिडिओतुझे तो मैं अपनी रानी बना लूंगा मेरी जान … आह … ले मेरे लंड को, पूरा ले ले. मगर ये चूत चटाई का आनंद इतना विस्मयकारी था कि बड़ी मुश्किल से मैं अपना विरोध सिर्फ 30 सेकंड तक ही रख पाई।बस उसके बाद तो मैं उनके साथ काम समुंदर में डूब गई।जिस सर के बाल मैं खींच रही थी, उस सर को सहलाने लगी। जिसको मैं परे धकेल रही थी, उसको अपनी जांघों में कस लिया।मेरी नर्मी देख कर राजेश ने मेरे ब्लाउज़ के हुक खोलने की कोशिश करी.

कुछ देर के बाद ताई मेरे रूम में आई और बोली- शादी के बाद पति पत्नी एक ही रूम में और एक ही बिस्तर पर सोते हैं.

जब मैं झड़ने वाला हुआ तो मैंने निगार आंटी को फर्श पर चित लिटा दिया और उनकी चुत में लंड पेल कर घपाघप चुदाई करने लगा. बुआ ने मेरे लंड को हाथ से सहलाया और उसकी चमड़ी को पीछे करते हुए सुपारे को निकाला. मां रोज रात को मेरे लंड से चुद कर सोती थी और मैं भी मां की चूत का पूरा मजा लेने लगा.

बीच बीच में उसको उंगली भी कर रहा था और उसकी क्लिट भी रगड़ देता।अब वो जोश में चिल्ला रही थी और अपनी जांघों से मेरे कंधे पर जोर जोर से दबा रही थी।मेरे दिमाग में एक आइडिया आया. मगर चूंकि मैं एक औरत हूं और मेरी वजह से तुम्हें जमीन पर सोना पड़े, ये मुझे अच्छा नहीं लगता. सोच रहा था कि साला ऊपर वाले ने हमको ऐसे टेलेंट क्यों नहीं दिया कि बातों ही बातों में लड़की को चूत देने के लिए उकसाया जाये.

मुझे पीने का शौक नहीं पीता हूं गम भुला

वो मस्त माल मेरे बाजू में लेट गई थी और उसने साड़ी को ही चादर बना कर ओढ़ लिया था. कई बार मैंने ट्राई कर लिया तो वो हंसते हुए पूछने लगी- पहले नहीं किया है क्या तूने?मैंने कहा- नहीं ताई, मैंने इससे पहले कभी नहीं किया है. वो मेरी तरफ मुड़ी और मेरे होंठों को अपने होंठों में भर कर चूसने लगी.

फिर तो मुझसे भी रहा न गया और मैं अपने लौड़े को अंदर पूरी ताकत लगा कर धकेलने लगा.

उन दोनों के बात करने के अंदाज से देख कर पता लग रहा था कि दोनों बस में एक साथ सफर करने वाली हैं.

मैंने उसका सारा पानी पी लिया।दीदी ने मदहोश होकर कहा- अनुज, आज यहां सिर्फ मैं और तुम हैं. फिर मकान मालिक करिश्मा को बोला- अगर तुमको कभी कोई मदद चाहिए होगी, तो गौरव को बता देना. मारवाड़ी एचडी वीडियो सेक्सीमैं रोज सुबह अपनी कोचिंग जाता था और दोपहर तक वापस कमरे पर आ जाता था.

मैंने पूछा- वो कैसे?तो उन्होंने बताया कि सास ने मुझसे फोन पर बात करते हुए देख लिया था लेकिन वो तब कुछ नहीं बोली थीं. कुछ नहीं!रेशमा मुझे छेड़ते हुए कहने लगीं- अरे शर्माओ मत, बोलो ना प्लीज!मैं- आप बुरा मान जाओगी. मैंने अपने मुँह से उसको गाल से गर्दन चूमना शुरू किया तो उसका एक हाथ मेरे सर था।मैंने अपने एक हाथ से उसके चूत के अंदर वाले हाथ को पकड़ कर अपने लंड पर रखवा दिया और उसकी चूत में मैं उंगली करने लगा.

सुनीता हल्की सी मुस्कुराई, अपने आप गाड़ी में पीछे बैठ गई और अम्मी की कमर पर हाथ फेर कर कहा- आप आगे बैठ जाओ. फिर भाभी उधर से आगे को बढ़ गईं, मैं भी गिलास हाथ में लिए उनके पीछे जाने लगा.

मेरी अम्मी की उम्र लगभग 41 साल है लेकिन दिखने में भी 30 साल की लगती है.

तभी एक दिन सुबह करीब 11 बजे मैं अपने घर के बाहर खड़ा था कि ललिता की मम्मी प्रभा अपने घर से बाहर आईं. बीच बीच में उसको उंगली भी कर रहा था और उसकी क्लिट भी रगड़ देता।अब वो जोश में चिल्ला रही थी और अपनी जांघों से मेरे कंधे पर जोर जोर से दबा रही थी।मेरे दिमाग में एक आइडिया आया. आपको अच्छी लगी तो कहिये ‘यह है असली चुदाई’ मुझे मेल करके जरूर बताएं.

एक्स एक्स वीडियो में सेक्सी वीडियो उसने मुझे भी किस करना शुरु कर दिया और लंड हल्के से अंदर-बाहर करने लगा।कुछ दस-पंद्रह मिनट के बाद वो मुझे अपनी बांहों में उठा कर कमरे में ले गया।रात भर की चुदाई के बाद मेरा जिस्म दर्द से टूट रहा था।फिर हम साथ में नहाए और कुछ खा पीकर के कुछ देर सो गये।मैं वहाँ पाँच दिन रही और इस बिना शादी के हनीमून के दौरान हमने खूब सेक्स किया. सुहागरात को ही मुझे शक हो गया कि मेरी पत्नी शादी से पहले अपनी चूत में कई लंड ले चुकी है.

मौसी ने एक दिन मौसा से कहा- कल्पना को भी कंप्यूटर सिखा दीजिये, एक ही तो बेटी है, ये भी सीख लेगी. मैंने एक हाथ चाची की कमर में डाला और दूसरे हाथ से उनके बड़े मम्मों को दबाने लगा. पापा ने मुझे बेड के साथ में अपने घुटनों में बिठा लिया और मेरे मुंह में अपना लंड दे दिया.

कोई सेक्सी पिक्चर

मैं उसके लंड पर बैठ कर चूत में लंड को लेने लगी और उछल उछल कर चुदने लगी. उन्होंने मुझे आवाज दी, पर मैंने कुछ नहीं बोला, सोने का नाटक करके लेटा रहा. उसके बाद उसने क्या प्लान किया और मैं अपनी मॉम की चुदाई कैसे कर पाया? ये सब बातें मैं आपको अपनी अगली कहानी में बताऊंगा.

उसने कहा- प्लीज़ एक बार और चूसो न!मैं झट से उठी और उसके मुर्दा लंड को चूसने लगी. मेरी हाईट छह फीट है और सबसे मस्त बात ये कि मेरा लंड पूरा 7 इंच लम्बा और ख़ासा मोटा है.

उसके बाद मैं उनको बेड पर ले गया और एक एक करके उनके सारे कपड़े उतार दिये.

मैं उस हिसाब से तैयार होकर बस स्टैंड पहुंच गया और वहीं पास के एक मेडिकल स्टोर से कंडोम का एक पैकेट लिया और बस काउंटर पर पहुंच गया।वो भी सीधा बस स्टैंड पर आ गयी। उसने पटियाला सूट पहना था. लेकिन मोसी का मुंह दूसरी साइड में था तो वो मेरे को देख नहीं पाई। मोसी की चूत चुदाई मांग रही थी. नीचे घुटनों के बल बैठकर मैंने आंटी की सफाचट चुत पर अपना मुँह रख दिया.

मैंने उनको अपनी बांहों में कस लिया और दोनों एक दूसरे से लिपटते हुए मुंह की लार का आदान प्रदान करने लगे. एक रात को मेरी बेटी भूखी ही सो गयी और उस दिन मेरे सब्र का बांध टूट गया. इसके दो दिन बाद भाभी का मेरे पास फ़ोन भी आया और हमारी नॉर्मल सी बातें हुईं.

पहली बार चूत का स्वाद लंड ने चखा था इसलिए लौड़ा भी ज्यादा देर नहीं टिक सका.

हिंदी वाली बीएफ फिल्म: कुछ ही देर में आंटी ने अपनी चूत का पूरा रस मेरे मुँह में गिरा दिया और मैं उनकी चुत का सब पानी पी गया. फिर मैंने उनके होंठों को चूसते चूसते कहा- आंटी मैं आपका पूरा बदन चूसना चाहता हूँ.

वो मस्ती से चुदते हुए कह रही थी- आह आज न जाने कितने दिनों बाद मुझे चैन मिला है … आह मज़ा आ रहा है. सड़क पर आस-पास कोई होटल भी नहीं था इस वजह से मनोज ने उन्हें सलाह दी कि गाड़ी को कहीं सुनसान जगह पर लेजा कर आराम से लगा देंगे. मुझे बहन की चूत का ख्याल कैसे आया और मैंने क्या किया?दोस्तो, मेरा नाम रंगीला है.

अब जब ऐसी आवाजें कानों में पड़ रही थीं तो मेरा भी उत्तेजित होना स्वाभाविक था.

थोड़ी देर बाद दीदी ने मेरे बालों को सहलाते हुए कहा- मजा आया दीदी की चूत चोदने में?मैं बोला- हां, बहुत!दीदी- तो फिर डील पक्की?मैं- हां, मेरी ओर से बिल्कुल पक्की, पंकज की बात किसी के कान तक नहीं पहुंचेगी. सारे टीचर अपना अपना बैग आदि समेट करके अपने घरों को जाने के लिए तैयार हो रहे थे. मेरी चूत और गांड से दोनों का माल बूंद बूंद करके बाहर आने लगा और मेरे दोनों छेद पूरे चिकने हो गये.