हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,देसी हिंदी सेक्सी वीडियो देसी

तस्वीर का शीर्षक ,

मारवाड़ी के बीएफ: हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ, इससे वो और ज़्यादा मचल गईं और मेरे सर को पकड़ कर अपनी नाभि में दबाने लगीं.

सेक्सी फिल्म नगीना

मैंने अपना लंड गीत के मुंह से निकाला और घूम कर गीत के पीछे आ गया और उसके चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से सहलाने लगा जिससे गीत भी और उतेजित होकर मुंह से सिसकारियां निकालने लगी. ब्ल्यू फिल्म सेक्सी फिल्मउसके बाद मेरा मोबाइल खोने की वजह से मुझे पैसों की जरूरत ने और उसके सीनियर से उसकी जॉब बचाने के लिए रंडी की तरह चुदना पड़ा.

उनके कहने पर मैं अपनी चड्डी पहनने लगी मगर उन्होंने कहा- ऐसे ही चलो … क्या परेशानी है?मैंने सबसे पहले पीछे तरफ की सभी लाइट बंद कर दी और आगे आगे चल पड़ी. शिवन्या की सेक्सीनेहा को मैंने बैठने के लिए कहा तो नेहा मेरे सामने ही बैठ गई जिससे मुझे उस लड़की को देखने में दिक्कत होने लगी।मैंने नेहा को साइड होने का इशारा किया, नेहा साइड तो हो गई पर उसने भी पलट के देख लिया कि आखिर मैं देख क्या रहा हूँ।नेहा समझ गई कि मैं क्या देख रहा हूँ, नेहा ने मुस्कुराते हुए कहा- सर खाना हो गया, या कुछ लाऊं?मैंने कहा- ला सकोगी??नेहा जानती थी कि मैं क्या कह रहा हूँ.

उन्हें गर्म लगने के कारण वो घबरा गईं और उन्होंने वहीं पर अपनी साड़ी निकाल दी.हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ: थॉमस मुझे इस हालत में देख कर बहुत खुश हो रहा था और मैं भी अपने पति के सामने एक गैर मर्द के लिए अधनंगी खड़ी थी.

मेरी बीवी और साली का कमरा अलग-अलग था, पर अन्दर से एक-दूसरे के कमरे में जाने के लिए एक दरवाजा भी लगा था और रोशनदान का तो आप जानते ही हैं.उसके बाद उसने उसने वो कमर पेटी पहन ली और डिल्डो को उसमें फंसा लिया.

कुत्तों के साथ सेक्सी फिल्म - हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ

तो मैंने चुदाई की स्पीड और तेज़ कर दी और वो सिसकारियां भरते हुए झड़ने लगी.अब ब्रा के अपने बदन से अलग होने का अहसास से शायरा के बदन में एक लहर सी दौड़ गयी और उसने अपनी आंखें बंद कर लीं.

भाभी वैसे ही नंगी उठकर किचन में चली गईं और डिनर को टेबल पर लगाने लगीं. हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ मेरा अंडरवियर गंदा हो गया था इसलिए ममता जी‌ ने अब अंडरवियर को तो नीचे फैंक दिया और मेरी बनियान को‌ उठाकर उससे अपनी चुत को पौंछने लगीं.

मेरे प्यारे दोस्तो, आप सभी को मेरा नमस्कार।मैं अंतर्वासना पर बहुत समय से कहानियां पढ़ रही हूं। इस सेक्स कहानी साइट के बारे में मैंने अपनी एक फीमेल फ्रेंड से जाना था।वह अंतर्वासना पर अपनी कहानियां लिखती है। यहां उसे कुछ बहुत अच्छे नेचर वाले मेल फ्रेंड्स भी मिले जिनके साथ वो कुछ नया कर सकती थी।उसने ही मुझे अंतर्वासना पर अपनी कहानियां लिखने के लिए प्रेरित किया.

हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ?

आज के चुम्बन के बाद से अब अभिषेक मुझसे भी बहुत खुल गया था … और मैं भी उससे काफी खुल गई थी. अर्चना की चुत पर उंगलियां फेरने से उसकी चूत की बनावट मुझे अपनी उंगलियों पर महसूस होने लगी थी. यह भाभी बूब्स सकिंग स्टोरी मेरे और एक विवाहित महिला के बीच के संबंधों की है.

और फिर वह उल्लू का पठ्ठा मुझे बीच में छोड़ कर एक साइड में हो कर सो गया. मैंने भाभी का तौलिया हटा दिया और खुद पैंट और टी-शर्ट उतार कर अपने साथ लाया हुआ शॉर्ट्स पहन कर सलोनी भाभी की टांगों की तरफ बैठ गया. मुझे राजमा और लेना था मगर और राजमा नहीं थे, तो मैं शायरा की झूठी प्लेट को अपनी तरफ खींच कर उसी की चम्मच से राजमा खाने लगा.

उसने डिल्डो को वेबकैम के सामने कर लिया और उसको मस्ती से चूसने लगी जैसे वो लंड की बहुत भूखी हो. मुझे इस तरह देखकर वो जरा भी नहीं घबराई, बल्कि मुझे देखते हुए चुत रगड़ कर बोली- मैं जानती हूं … तू बड़ा चोदू किस्म का है. नमस्ते दोस्तो, मैं अपना गर्म सेक्स अनुभव आपको बताने आया हूं जो मुझे (23 साल की उम्र में) अभी हाल ही में हुआ था.

डिल्डो घुसा होने की वजह से जब गीत हिलती तो वो चूत के अंदर हिल डुल कर हलचल कर रहा था जिससे गीत को मजा भी आ रहा था. नीरा की चूत में जीभ डालते ही उसने सिसकारियाँ लेनी शुरू कर दी- ओह्ह अमन!शर्मीली नीरा जो शर्माती ज्यादा थी, आज नशे में बोल्ड हो रही थी.

पूजा- उठ जाने दो साली को, ये भी चुद लेगी … तड़प तो उसकी चुत में भी बहुत है.

चूंकि मेरे हाथों पर भाभी ने अपने हाथ रख लिए थे और पूरे सर के साथ वो मेरे हाथ को कुछ अजीब से ढंग से दबाते हुए अपने सर की सेवा करवा रही थीं.

तभी गीत फिर बोली- अरे नहीं यार, ये बात तो आप अपने पास से ही मुझे बार बार कह रहे हो. मेरे गोल मटोल मोटे मोटे और कसे हुए मम्मे (बूब्स) दबाने के लिए हर जवान और बूढ़े के हाथ मचलते हैं. कुछ देर तो मैं शांत रहा और जब मैं मूड में आया, तो मैंने उसे उठा कर अपने नीचे खींच दिया और उसके ऊपर आकर जबरदस्त धक्के लगाने लगा.

मैंने देखा तभी भैंसा भैंस के पीछे आया, भैंस की चूत को सूंघा, भैंस ने थोड़ा पिशाब बाहर मारा और उसी वक्त भैंसा ने अपने लण्ड को दो तीन फटाफट झटके दिए और कूद कर भैंस के पीछे से चढ़ गया. साथ ही मेरी आंटी भी पास में ही सो रही है और उसकी मोटी गांड मेरी तरफ उठी हुई है. भाभी बोली- अरे तुमने कल क्यों नहीं बताया? और फिर सुबह तुम नेहा के रूम में चले जाते, यह तो जल्दी उठ जाती है, आज ऐसे करना, मैं अपना रूम अंदर से लॉक नहीं करूंगी, तुम जब चाहो मेरा बाथरूम यूज़ कर लेना, अब तुम इस घर के सदस्य हो, तुम में और इन बच्चों में क्या अंतर है.

अपने आपको शांत करने के लिए मैं वहां से उठ कर स्नानघर में चला गया और अपना मुँह धोकर बाहर आया.

इतने में छोटी चाची ने मेरे लंड के सुपारे को अपनी जुबान से चाटना शुरू कर दिया. अब अगली बार मैं लिखूंगी कि मेरे यार का लंड खड़ा नहीं हुआ तो मैंने क्या किया. मालिश करते हुए मेरे नौकर श्यामू ने कहा- मालकिन, तेल से आपकी ब्रा खराब हो जाएगी, अगर आप बुरा न मानो तो इसको खोल दूं?मैंने भी अपने पालतू कुत्ते नौकर से कहा- तुझे जो भी खोलना है … खोल दे लेकिन मालिश बढ़िया से करना.

मौसी ने पीले रंग की कुर्ती और सफ़ेद रंग की लैगी पहन रखी थी … जो उनके चूतड़ों पर तंग थी. प्लीज़ आप लोग उदास ना हों और मेरे नाम की मुठ मार लें … और जहां आपका दिल करे, वहीं अपने लंड का स्पर्म डाल दें. उनकी इस छुअन से मेरे पूरे जिस्म में करंट सा दौड़ गया और मैंने ज़ोर की ‘उन्हह.

अनीता बोली- अभी पहले मैं दो घंटे नींद लूंगी, तुम बच्चों को तैयार करके स्कूल भेज देना … और हां स्कूल छोड़ कर आते समय, फूफाजी के लिए व्हिस्की की चार पांच बोतलें अलग अलग ब्रांड की लेते आना.

फिर उसकी मम्मी ने बोला- एग्जाम खत्म हो गए, तो तुम बैग लेकर कहां घूम रहे हो निलेश!मैंने बोला- पूजा की बुक्स वापस करनी थी आंटी, इसलिए बैग में ले आया हूँ. हए … और चोद साले … और चोद मुझे … लौड़ा मेरी गांड में अअंदर तक … जाना चाहिए … आह्ह … उफ्फ … फट गयी … आह्ह.

हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ रोहन एक नारंगी रंग काले बॉर्डर की साड़ी निकाली, साथ ही मैच करता हुआ ब्लाउज और पेटीकोट भी निकाल लिया. नेहा की कुछ ही देर की चुदाई ने हमें थका दिया था क्योंकि हम गीत को चोदने के बाद झड़ने की कगार से वापिस आये थे.

हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ मैंने आंटी से पूछा- कैसी हरकतें?आंटी ने बताया- एक रोज, रात को करीब 11:00 बजे के आसपास इसके कमरे से कुछ अजीब अजीब सी आवाजें आ रही थीं. अनु बोले- वहीं खिड़की के पास खड़ी हो जाओ … और बाहर का नजारा एंजाय करो.

उसने एक टाइट जीन्स पहनी हुई थी जिसमें उसकी गांड पूरी कसी हुई थी और दोनों चूतड़ों के उभार जैसे बाहर निकलने को हो रहे थे.

अश्लील वीडियो दिखाए

प्रमिला फुल जोश में मेरी गांड में कभी जुबान तो कभी उंगली डाल रही थी. स्तन में जो भी परेशानी होगी अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट में पता चल जायेगा. उन्होंने ऐतराज जताया तो बड़ी चाची ने अम्मी को धमकाते हुए कहा कि आपने हमारे बारे में किसी से कुछ कहा, तो हम भी आपके बारे में बता देंगे.

अब मैंने उसके मम्मों को ब्लाउज़ के ऊपर से ही दबाया … तो वो ‘हम्म्म्म हहहहह. मेरी पिछली दो कहानियोंमेरी सुहागरात की तमन्नाऔरक्रॉस ड्रेसर से रंडी बनने का सफरमें आपने पढ़ा कि कैसे मैंने अपने यार से अपनी नथ उतरवाई. ” मैं फ़ोन के सामने देख देख कर जोर जोर से बड़बड़ाये जा रही थी और विजय अपने पूरे दमखम से मेरी चुदाई कर रहा था।10 मिनट इस पोज में चोदने के बाद विजय ने अपना लोड़ा में चूत में से निकाल दिया और पलंग पर बैठ गया और मुझे इशारे में अपनी गोद में आने को बोला.

दोस्तो, जैसा कि आपने मेरी पिछली कहानीदीदी की अन्तर्वासनामें पढ़ा था कि दीदी की जॉब लग गयी थी और वो दूसरे शहर में रहने लगी थीं.

और जब लण्ड बाहर निकाला तो पूरा एक फुट लंबा लण्ड सपल सपल करके बाहर निकला और उसके साथ ही निकला ढेर सारा वीर्य और चूत का पानी. फिर मैंने उसके चेहरे को एक हाथ पकड़ लिया और उसके होंठों को चूम लिया. क्या रंडी का बच्चा साला मादरचोद!यह सुन कर धीरू अंकल बोले- मेरी जान, जब भी तू मेरे सामने ऐसे नंगी होकर आती है तो मुझसे बर्दाश्त नहीं होता.

कुछ ही देर बाद मुझे लंड चूसना अच्छा लगने लगा और मैं अन्दर गले तक लंड लेकर चूसने लगी. दोस्तो, मैं अपनी अगली कहानी में बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी मां को भी चोदा. मैंने भाभी की रजामंदी देखी तो झट से अपना एक हाथ भाभी के सूट के गले में से अन्दर डालकर उनका एक निप्पल पकड़ लिया.

भाभी- हां यार, उसमें ताक़त तो है पर कभी मेरी मुनिया को चूसता ही नहीं है, बस सीधा पेल कर सेक्स करने लगता है. संजय बोला- आये भी क्यों न, ये साली आजकल अंग्रेजों के लौड़े चूसती है.

आखिर ये उम्र होती ही ऐसी है, जब हमें कोई अच्छा लगता है, इसी उम्र में दिल दिमाग पर हावी हो जाता है और प्यार हो जाता है. मैं ज़ोर ज़ोर से आंटी के मम्मों को दबाते हुए उन्हें गर्म करने की सोच रहा था. जब पानी से उनकी कुर्ती भीग कर जिस्म से चिपकी, तो ऐसा लगने लगा था कि उन्होंने कुछ पहना ही न हो.

रश्मि मेरी इस हरकत को देखकर मुस्कुरा दी और बदले में उसने भी अभी उन उंगलियों को जो अभी तक मेरे सुपारे को खोद रही थीं … या उसके ऊपर चल रही थीं, को अपने मुँह में भर कर चूसने लगी.

और फिर नीचे बैठकर अपने दोनों हाथों से मेरी गांड को फैलाया और अपनी जीभ को मेरे गांड के छेद पर लगा दिया. मैं बाथरूम गया, हाथ धोये, पेशाब किया और बाथरूम में रखे नारियल के तेल से अपने लण्ड की मसाज की और तेल की शीशी लेकर बेड पर आ गया और दादी की टांगें दबाने लगा. उन झुनझुनाती, छमछमाती, रुमझुमाती हुई आवाज़ों से वातावरण बहुत अधिक काममय हो चला था.

मैंने उनसे रुकने का पूछा … तो उन्होंने कहा कि आप मेरे घर में ही रुक जाना, आपको कोई दिक्कत नहीं होगी. पर मैं बैठा रहा तो आंटी कहने लगी- अच्छा राज, एक बात बताओ, क्या तुमने कभी किसी औरत को चोदा है?मैं चुप रहा.

कुछ देर के बाद जब डेज़ी ने अपनी आंखों को खोला, तब मैं समझ गया कि अब उसे मज़ा आने लगा है. कुछ देर बाद वो जब मुझसे अकेले में मिलने आईं, तो बोलीं कि एक नम्बर से कॉल आएगा, उससे बात कर लेना. कविता की ये बेबी डॉल झीनी इतनी अधिक थी कि उसके स्तनों के चूचुक साफ़ दिख रहे थे.

ठाकुर की चुदाई

पर कविता ने झट से अपनी स्थिति बदली और अपनी एक टांग से मेरी एक टांग को फंसा लिया.

उसने अपनी प्लेट को पकड़ने की कोशिश तो की मगर फिर भी मैंने उसकी प्लेट को उठाकर अपने आगे रख लिया. मेरी कामुक ज्वालामुखी जैसी चुत पर अपना मुँह रख कर चाटे और ज्वालामुखी से निकलते लावा को पी कर मेरी जवानी के इक इक कतरे को गड़प कर जाए. फिर उन्होंने मुझे बेड पर सीधा लेटा लिया और अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया.

गीतिका की केले के तने जैसी गौरी मोटी और चिकनी टांगें प्लाजो में से निकल आई. गीतिका के होंठों को मैंने चूस चूस कर नीला कर दिया।हमें चुदाई करते हुए आधा घंटे से ज्यादा हो गया था और गीतिका हर पांच सात मिनट के बाद चरमोत्कर्ष पर पहुंच जाती थी. ओपन सेक्सी खुलेआमआप सब लोग मेरे बारे में जानते ही हैं मेरा नाम मोहिनी क्रॉसी (मोहित) है.

बिन्नी ने उसकी तरफ बुरा सा मुँह बनाया और अपनी गर्दन दूसरी तरफ कर ली. जबकि रोहन था तो 19 साल का लेकिन कमज़ोर से होने के कारण कम उम्र का ही लगता था.

इससे सलोनी भाभी बहुत गर्म हो गईं और पागलों की तरह मेरे बालों में हाथ डाल कर मेरे सर को अपने मम्मों पर दबाने लगीं. इसलिए मैं अपने दोस्तों से चैट करके अपना ध्यान वहां से हटाने की कोशिश करता था. मैंने अपना दुपट्टा लिया और अपनी चुत को साफ करके अपने आधे उतरे हुए कपड़ों को पहना.

वो एकदम धीरे से मेरे कानों के पास आकर कामुक सिसकारियां निकाल रही थी- आह … कितना मस्त मजा दे रहे हो … ओहह … आह इसी तरह करते रहो … ईईईस्स. नैना बोली- ओह शिट … मैंने दरवाज़ा खुला ही छोड़ दिया था और अपने फ्लैट को भी लॉक नहीं करके आयी. इधर जमीन पर बैठी मैं अपने हाथों से अपने स्तनों और योनि को छिपाने का असफल प्रयास करने लगी.

इंजेक्शन लगवाने के बाद मैं बाथरूम में गया और अपना पानी ले जाकर मुँह धोकर आया.

उनकी इस छुअन से मेरे पूरे जिस्म में करंट सा दौड़ गया और मैंने ज़ोर की ‘उन्हह. आपने सख्त मना किया है हमारे लिये।मैंने धीरे से कहा- दीपिका जी, आपके लिए कोई भी मनाही नहीं है, आप जहां चाहें वहाँ बैठ सकती हैं, घूम सकती हैं, बालकॉनी तो क्या आप मेरे कमरे को भी अपना ही समझें, लेकिन घोष बाबू?इतने में ही वो हंसने लगी और बोली- थैंक्स, मुझे आप बहुत अच्छे लगे.

अगर मुझे मालूम होता तो मैं जल्दी आ जाती।लगभग दस मिनट के बाद डाक्टर ने मुझे आवाज़ लगाकर अन्दर बुलाया. ये सेक्स स्टोरी मेरी और मेरी आंटी की है … जो उम्र में मुझसे 7 साल बड़ी हैं. बेटा गुड्डू अब इसे छोड़ना नहीं है … आज इसकी चुत तो गीली कर ही दे, इसको अपनी याद में चुत में उंगली करने पर मजबूर कर दे.

रात को सोने का समय हुआ तो दादी ने मेरे लिए अमीश का लोअर टीशर्ट निकाल दिया. वो मेरी कमर पर अपने नाखून गड़ाए जा रही थी।मैंने उसकी पैंट का बटन खोल कर उसको निकाल दिया. उसने वैसे ही मेरी गांड में लंड डाले मुझे अपनी गोद में उठा लिया और बाथरूम में ले गया.

हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ इधर मैंने पंजाब से तीन साल बाद आने के कारण उनकी पत्नी यानि शशिकला भाभी को अब तक नहीं देखा था. उसकी लम्बी सुराहीदार सेक्सी गर्दन, बहुत ही सुन्दर नयन नक्श, बड़े बड़े मम्मे, गदराया शरीर, नशीली आंखें यानि कि हर लिहाज से सुंदरता में लाजवाब थी.

देहाती लड़कियों के वॉलपेपर

विजय की चुदाई की स्पीड लगातार बढ़ रही थी और अब उसका पानी आने वाला था. मैंने सोचा था कि तुम शायद कभी नहीं मानोगी … लेकिन कोशिश करने में क्या हर्ज है, यही सोचकर मैंने तुमसे बात की थी. मैरुन कलर की पैन्टी में दादी के गोरे गोरे चूतड़ देखकर मेरा दिमाग खराब हो गया.

मेरी आप सब पाठकों से, खासकर नए पाठकों से या … ज़ो मेरी कहानी पहली बार पढ़ रहे हैं, उनसे एक प्रार्थना है कि वे मुझसे जो भी सवाल करना चाहें, कर सकते हैं. कुछ देर तो उसके घर से कोई आवाज नहीं आई … मगर मेरे दोबारा दरवाजा बजाते ही शायरा ने दरवाजा खोल दिया. एचडी सेक्सी चुदाई वाली वीडियोभाभी वैसे ही नंगी उठकर किचन में चली गईं और डिनर को टेबल पर लगाने लगीं.

उसके बाद बूढ़े ने मेरा फोन नंबर लिया और हम दोनों एक स्माइल के साथ अलग हो गये.

भगवान ने हमें इतना सुंदर शरीर दिया है तो हम पूरी जिंदगी तो एक लण्ड खाने के लिए नहीं बनी हैं. तो भाभी बोलीं- थैंक्यू मेरे जादूगर, तुमने वास्तव में आज का दिन मेरी ज़िंदगी का स्पेशल दिन बना दिया.

मेरा मन तो कर रहा था कि पूरी नंगी ही बाहर जाकर अभिषेक के लंड से चुद जाऊं … पर लाजवश मैं ऐसा नहीं कर पा रही थी. वो बी मजा लेकर अपनी चूचियां मसली जाने का मजा ले रही थी और हल्की हल्की सिसकारियां भर रही थी. भाभी ने कहा- दादी भूल जाओ इस बात को और जो मैं कह रही हूँ उसको ध्यान से सुनो और इसकी शादी जल्दी से जल्दी कर दो.

तो उसी के हिसाब से दवाई ज्यादा ठीक रहेगी।जब मैंने सलवार नहीं छोड़ी तो दीदी ने जीजू को आवाज़ लगा दी- अजी सुनते हो! नीलम तो दिखा ही नहीं रही है.

हम दोनों ही कामुक सिसकारियां निकल कर पूरे कमरे में गूंज रही थीं ‘आहह ओह … आहह … हम्म … उफ …’कुछ देर तक इसी तरह धक्कम पेल चुदाई के बाद मैंने उसे डॉगी स्टाइल में आने को कहा. शायद इसी वजह से मैं दर्द बर्दाश्त करती हुई आधे लिंग को अपनी योनि के भीतर ले चुकी थी. मैंने अपना मुंह ऊपर उठाया और गीत ने झुक कर मेरे होंठों को अपने होंठों में ले लिया.

4g सेक्सी पिक्चरहर जगह किसी के चिकोटी काटने के तो किसी के दांत से काटने के निशान पड़े थे. मैंने भी खुद को उनके लंड की दिशा में एडजस्ट किया और फिर उनका मोटा टोपा मेरी चूत में घुस गया.

सीना बढ़ाने वाली दवा

उसके बाद अभिषेक मेरी फ्रेंड के सामने ही मेरे पास आकर बोला- क्या बात है आजकल बहुत सज-संवर कर आती हो, कोई मिल गया है क्या!मैंने हंस कर बोला- नहीं यार … मैं तो पहले से ही स्मार्ट हूँ. कभी मैं उनके ऊपर और नीचे के होंठ को चूसती, तो कभी वो मेरे ऊपर नीचे के होंठों को बारी बारी चूस रहे थे. मैं उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठों को चूसते हुए तेज-तेज उसकी चूत में लंड को पेलने लगा.

जैक ने मुझे लंड चूसने का इशारा किया, तो मैंने जैक का लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगी. यूं ही बातों ही बातों में उसने कहा- क्या मुझे आपका व्हाट्सएप नंबर मिल पाएगा?मैंने भी कहा- हां क्यों नहीं, अब हम दोस्त हैं. दूसरे दिन दादी के पास गया और जिद करके फिर मूव लगाई और बहाने से चूतड़ सहला लिए.

अब आगे की पब्लिक सेक्स:करीब दस मिनट की लंड चुसाई के बाद अनीता सर को पीछे ले गयी और अपनी दोनों टांगों के बीच मेरे पैर ले लिए. फिर वो खुद ही मेरे ऊपर आ गयी और मेरे लंड पर अपनी चूत को रखकर मेरा लंड पूरा का पूरा अंदर समा लिया. उन दोनों को सफर की थकान हो गई थी, तो बिना किसी हील हुज्जत के वो कमरा ले लिया गया.

कुछ देर बाद जब मैं नहा चुकी, तो मुझे याद आया कि टॉवल तो बाहर ही रह गई है. कुंवारी लड़की की देह को मसलने का, उसके जिस्म का नमक चखने का निराला मज़ा होता है जिसका आनंद में जी भर कर लूट लेना चाह रहा था.

इसके लिए तुझे दुनिया की सबसे बड़ी रंडी भी बनना पड़ सकता है। तुझे ऐसे ऐसे काम भी करने पड़ेंगे जो रंडी भी नहीं कर सकती है। मैं तुझे बताऊंगा कि रंडी की औकात क्या होती है, तुझे रंडी बनने का बहुत शौक है ना? मैं तुझे ऐसी रंडी बनाऊंगा जैसी आज तक किसी ने नहीं बनाई होगी।रिया- मुझे मंजूर है। मैं आपकी सभी फैंटेसी पूरा करूँगी लेकिन मुझे टाइम चाहिए।रमेश- ठीक है। अब से तेरा काम शुरू हो जाता है.

मेरे चूतड़ों के नीचे बिस्तर गीला हो चुका था और सीने पर मेरे स्तनों का दूध फ़ैल गया था. जीजा साली का प्यार सेक्सीवो धीरे धीरे नीचे होती गयी और उसने अपनी चुत में पूरा लंड अन्दर तक ले लिया. सेक्सी भोजपुरी रिकॉर्डिंग1 घंटे बाद सुमन भाभी ने बाहर से दरवाजा बजाया और बोली- अब जल्दी करो तुम दोनों … वापस घर भी जाना है. अब उसने मेरे दोनों हाथों को पकड़ लिया और मेरे होठों पर किस करने लगा, मेरी जीभ चूसने लगा.

मैंने भी सोच लिया कि आज आंटी को चोद ही देता हूँ, जो होगा सो देखा जाएगा.

मैं अपने लंड को सहलाते हुए उनके गहरे गले से झांकती चूचियों का मजा लेने लगा. [emailprotected]भाभी का सेक्स कहानी का अगला भाग:भाभी का सेक्स करने का मन था-2. इससे पहले मैं कुछ और सोच पाती, राहुल ने करीब आकर अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और बोला- चल छिनाल चूस मेरा लौड़ा.

मेरी पिछली कहानी थी:पड़ोसी का लंड देख खुद को रोक ना पाईलेकिन कहानी शुरू करने से पहले एक प्रार्थना है कि कम से कम घर से बाहर निकलें और घर से बाहर से आएं, तो साबुन से हाथ जरूर धोएं और आस पास के लोगों को भी जागरुक करें. फिर धीरे धीरे चाचा जी अपने होंठ मेरे लाल होंठों की तरफ लाने लगे और धीरे धीरे हमारे होंठ मिल गए. मगर अब मैं जवान हो गया थी तो मेरा मन भी विपरीत लिंग की ओर आकर्षित होने लगा था.

यौतुंबे कॉम

नैना टांगें हवा में उठाते हुए बोली- आह रमित बहुत मज़ा आ रहा यार … आह रगड़ रगड़ कर मजा दो मेरी जान. कुछ दिन बाद साहिल से बात हुई कि उसकी अम्मी को भी पता चल गया कि दोनों चाचियां उसके बेटे से ही चुदवाती हैं. मन तो बहुत कर रहा था विजय के पास जाने का लेकिन यह खतरा मैं यहां मोल लेना नहीं चाह रही थी.

तो उसने सिसकारी भरी और सांसें तेज़ हुई उसकी।मैंने धीरे धीरे उसको चोदना चालू शुरू किया और थोड़ी देर तक आराम आराम से उसकी आँखों में देख कर ही चोदा।उसका चेहरा मेरे सामने था.

उसकी सांसें तेज़ तेज़ चल रही थीं और इसके फलस्वरूप चूचियां भी उतनी ही तेज़ी से ऊपर नीचे हो रही थीं.

उसने आव देखा न ताव, झट से अन्दर अंधेरी गुफा रूपी चूत के अन्दर घुस गया. अब सामने क्या? बिजली तो कब की जा चुकी थी और कमरे में तो घुप्प अंधेरा था … काश वो नजारा मैं अपनी आंखों से देख पाता. इंडियन सेक्सी ब्लू फिल्म हिंदी आवाज मेंअब आँटी मुझसे बोली- मुझे सरोज का पता लग गया था इसलिए कुछ दिन इसको मैंने अपनी बहन के लड़के से ही चुदवाने की छूट दे दी थी और इसको यह बता भी दिया था कि यह भी अपनी लड़कियों का ध्यान रखे.

मैं एक कंपनी में जॉब करता हूं और एक सामान्य जीवन व्यतीत करता हूं जैसा कि अक्सर एक मध्यम वर्गीय परिवार का पुरूष करता है. अब्बू और चाचा को ऑफिस के काम से फ़ुर्सत ही नहीं मिलती है, इसलिए अम्मी और चाचियां अपने काम या खरीदी के लिए खुद ही अपनी कार लेकर बाज़ार चली जाती हैं. मैं नहीं रुका और मैंने उसी तरह से उसकी चुत की दूसरी फांक को भी खींचते हुए चूसा.

मूव लेकर दादी बेड पर आ गईं, अपनी सलवार का नाड़ा खोलकर पेट के बल लेट गईं. [emailprotected]ठरकी डॉक्टर की कहानी का अगला भाग:मेरी कुंवारी बुर की सील डाक्टर ने तोड़ी- 2.

मगर मैं झड़ना नहीं चाहता था इसलिए पांच मिनट के बाद ही मैंने उसको रोक दिया.

आप लोगों से एक निवेदन भी है कि कृपया मुझसे उन लड़कियों या महिलाओं के फोन नम्बर न मांगा करें, जो मेरे लंड से चुद चुकी होती हैं. फिर मैं उठा, तो विनीता मेरे पास आई और बोली- हाथ मुँह धो लो, मैं तुम्हारे लिए चाय बनाकर लाती हूँ. मैं अपने घुटनों पर होकर अपना अंडरवियर उतारने लगा, तो उसने झट से नीचे कर दिया और मेरा लंड हाथों में पकड़ कर मसलने लगी और चूमने लगी.

जींस पैंट सेक्सी इससे पहले मैं कुछ और सोच पाती, राहुल ने करीब आकर अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और बोला- चल छिनाल चूस मेरा लौड़ा. लाइनर यानि काजल, लाल लिपस्टिक, नेलपॉलिश, फ़ेस पाउडर वगैरह सब लगा कर अच्छे से सेक्सी मेकअप करके तैयार हो गयी.

मैं उस दिन पक्के में दो तीन बार मुठ मार कर खुद को शांत कर पाता हूँ. वह मुझे अपने लौड़े की जड़ तक बैठा रहा था और अपना पूरा लौड़ा मेरी चूत में उतार रहा था. उसने मेरा परिचय करवाया और बोला- ये अपना सेठ है, इनका कोई नहीं किसी भी प्रकार का काम हो … तो बेहिचक कर देना.

पति पत्नी सुहागरात कैसे बनाते हैं

जोश में मुट्ठ मारते हुए मैंने कहा- आह्ह … मेघा … मैं आने वाला हूं … अपनी गांड के छेद को खोल लो. ”मेमसाब मेरे बाल खींच कर चिल्लाई- बहनचोद, सब रंडियों को रानी कहता है. उन्होंने हंसते हुए कहा- हां … मगर अभी बीच में मैं थोड़ी हेल्थी हो गई थी.

कुछ देर बाद जब मैं नहा चुकी, तो मुझे याद आया कि टॉवल तो बाहर ही रह गई है. मेघा भी धीरे धीरे डिल्डो पर बैठने लगी और उसने अपनी बालों वाली चूत में उस लंड को पूरा अंदर ले लिया.

कोई 5 मिनट के तेज़ झटकों के बाद मेरा पानी निकालने वाला हुआ … तो मैंने अपना लंड चुत से बाहर खींच लिया और सलोनी भाभी के ऊपर झुक कर उनके होंठों को चूमने लगा.

मैं आप लोगों को विश्वास दिलाना चाहती हूँ कि मेरी सेक्स कहानी को पूरी पढ़ने के बाद आप लोग अपने लंड को हिलाए बिना नहीं रह पाएंगे और मेरे नाम की मुठ मारे बिना भी नहीं रह पाएंगे. अपनी गांड चुत को साफ़ किया और बीस मिनट के बाद बाथरूम से बाहर निकलने लगी. फिर वो दोनों अपना पूरा टाइम बच्चे और परिवार की देख रेख में गुजार देते हैं.

मेरे बाहर आते वक्त दोनों चाचियों ने जोर का ठहाका लगाया और हंसने लगीं. रमेश ने अब रेहाना की गांड पर अपना मुंह लगा दिया और उसकी गांड के छेद पर अपनी जीभ को गोल-गोल घुमा कर चाटता हुआ उसकी Xxx बूर को भी चाटने लगा. मैं अब लेफ्ट बूब को हथेली में भरकर भींचने लगा और राइट बूब को मुँह में लेकर चूसने लगा.

मेरे जाने के कुछ ही देर बाद मेरी फ्रेंड ने बाथरूम का दरवाज़ा खटखटाया और वो बोली- मैं दुल्हन को तैयार करने जा रही हूँ.

हीरोइन वाला सेक्सी बीएफ: यारों जहां पर दिल मिले हों, वहां पर शब्दों का क्या काम … शाम को वो सामान लेकर मेरे रूम में ही आ गईं. शायद इतनी देर से चल रही इस चूमाचाटी की वजह से शायरा की चुत ने इतना पानी उगल दिया था कि पैंटी के साथ साथ उसके पेटीकोट पर भी नमी आ गयी थी.

उसने फिर कहा कि कल आओगे क्या?मैंने कहा- हां … जरूर कल फिर से मिलेंगे. आपने सख्त मना किया है हमारे लिये।मैंने धीरे से कहा- दीपिका जी, आपके लिए कोई भी मनाही नहीं है, आप जहां चाहें वहाँ बैठ सकती हैं, घूम सकती हैं, बालकॉनी तो क्या आप मेरे कमरे को भी अपना ही समझें, लेकिन घोष बाबू?इतने में ही वो हंसने लगी और बोली- थैंक्स, मुझे आप बहुत अच्छे लगे. कोई 5 मिनट उनके बदन को निहारने मात्र से ही मेरा लंड तम्बू बन चुका था.

मैंने भी बेड के किनारे पर खड़े होकर आंटी की टांगों को ऊपर उठाया और खड़े खड़े आंटी के घुटनों को थोड़ा मोड़ा और लंड का सुपारा चूत के ऊपर रख दिया.

मेरे प्यारे दोस्तो, आप सभी को मेरा नमस्कार।मैं अंतर्वासना पर बहुत समय से कहानियां पढ़ रही हूं। इस सेक्स कहानी साइट के बारे में मैंने अपनी एक फीमेल फ्रेंड से जाना था।वह अंतर्वासना पर अपनी कहानियां लिखती है। यहां उसे कुछ बहुत अच्छे नेचर वाले मेल फ्रेंड्स भी मिले जिनके साथ वो कुछ नया कर सकती थी।उसने ही मुझे अंतर्वासना पर अपनी कहानियां लिखने के लिए प्रेरित किया. उसने आव देखा न ताव, झट से अन्दर अंधेरी गुफा रूपी चूत के अन्दर घुस गया. तुम्हारा बदन भी बड़ा जोरदार है यार … मजबूत बांहें हैं, मस्त छाती है.