बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ

छवि स्रोत,अंजलि अरोड़ा की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सोनाक्षी सिन्हा सेक्सी: बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ, पर ये सब मुझे अच्छा लग रहा था और मैं हेमा की गरम चूत में अपना कड़क लंड जोर-जोर से पेल रहा था, मेरे हाथ उसके मम्मों को दबा रहे थे। इस दौरान वो दो बार झड़ चुकी थी।मैं हेमा को उठा कर बाथरूम में लेकर गया.

ब्लू सेक्सी वीडियो 2020

मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। मैं अन्तर्वासना को तकरीबन आठ साल से पढ़ रहा हूँ।अब तक मैं कितनों के साथ सोया हूँ. बंगाली सेक्सी नेपालीऔर मम्मों के बीच की दरार भी साथ में दिख रही थी।मैंने अपना काम और धीरे कर दिया जिससे कि ज्यादा देर तक मजे ले सकूँ।कुछ देर बाद मैंने उनसे पेंचकस माँगा.

जो मुझे कामातुर करते हुए चुदाई के लिए प्रेरित और आकर्षित कर रही थी।फिर हमने अपने बचे हुए कपड़े उतार दिये।अब हम दोनों पूरे नंगे थे।मैं लगातार चूमे जा रहा था, कभी एक उरोज को मुँह में भर लेता और दूसरे को हौले से मसलता और फिर दूसरे को मुँह में लेकर चूसने लग जाता।फिर हौले-हौले मैं नीचे सरकने लगा।पहले उसकी नाभि को चूमा और फिर पेड़ू को. सस्ती वाली सेक्सीवो सिहर कर मुझसे और चिपक जाती थी।अब नीता पूरी तरह से गरम हो चुकी थी और वो मेरे लंड को पकड़ कर उससे खेलने लगी थी। मेरे लौड़े से खेलते-खेलते उसने अपने मुँह में लंड को डाल कर चूसना शुरू किया.

वो चिहुंक उठी।मैं ऊँगली को धीरे-धीरे उसकी चूत में आगे-पीछे करने लगा।उसका मज़ा आ रहा था।थोड़ी देर बाद वो बोली- मोनू.बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ: मुझे मुठ्ठ मारने में बहुत मजा आ रहा था और कुछ देर बाद मेरा रस निकल गया। मुझे बड़ा अच्छा महसूस होने लगा। मैंने सोचा जब मुट्ठ मारने में इतना मजा आया है.

और लपक कर मेरे लंड पर चढ़ गई।वो मेरी गोद में थी और हम एक-दूसरे की गर्दन को चूस रहे थे।वो मेरी गोद में उछल रही थी।मैंने उसको कस कर पकड़ा और पीछे गिरा दिया।मैं फिर से मिशनरी अवस्था में उसके ऊपर आ गया.पर अब भाभी जबाव देने लगी थीं।एक और ख़ास बात जो मैंने नोट की वो ये कि भाभी हर दूसरे दिन काम बतातीं और मैं उन्हें ताड़ने.

हाथ वाली सेक्सी वीडियो - बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ

मैंने उससे बोला- मेरा निकलने वाला है।यह सुनकर उसने तुरंत घबरा कर मेरा लंड अपनी चूत से निकाल दिया।मैंने कहा- क्या हुआ?तो उसने कहा- मुठ मार कर बाहर गिरा लो।मैंने कहा- नहीं.फिर मैंने पहले दोनों हाथों से भाभी की पैन्टी नीचे निकाल दी और जब भाभी की चूत के दर्शन हुए तो मैं पागलों की तरह चूत देखने लगा कि इतनी गोरी चूत बिल्कुल नंगी.

लेकिन मुझे बहुत डर लग रहा था।तब उसने रफ़्तार से शॉट लगाने शुरू किए। मैं समझ गई कि वो झड़ने वाला है।मैं पहले ही झड़ गई थी।उसने अपना पानी चूत में ही निकाल दिया। उसने मुझे पूरे 30 मिनट तक चोदा।फिर 10 मिनट रुकने के बाद उसने मुझे लंड चूसने को बोला. बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ आह्ह… आ जाओ मेरी जानेमन अब बर्दास्त नहीं होता। मेरा लौड़ा कब से पैन्ट फड़कर बाहर आने को बेताब हो रहा है।दीपाली- मेरे राजा यहाँ नहीं.

अह्ह्हाआआआ…मैंने थोड़ा और जोर लगा के धक्का लगाया तो मेरा पूरा लौड़ा कविता की चूत में समा गया। अब कविता चिल्लाने लगी.

बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ?

दरवाज़ा बंद करके बाथरूम में होकर आई और कमरे का दरवाज़ा बंद करके मेरे पास आई और अचानक मेरे चेहरे पर ढेर सारा रंग मलने लगी।मैंने भी उन्हें जकड़ लिया और उठाकर बिस्तर पर पटक दिया।अगले ही पल मैंने उनके ऊपर चढ़कर उनके दोनों हाथ पकड़े. सिर्फ ब्लू-फिल्मों में ही देखा है।वो मेरे लण्ड को अपने गोरे-गोरे हाथों से निकाल कर सहलाने लगी और मेरा लण्ड अपनी दीदी के बुर में जाने के लिए एकदम से तैयार हो चुका था।मैं अपनी दीदी की चिकनी की हुई बुर को अपने जीभ से चाटने लगा और अपने दोनों हाथों से उसकी चूचियों को भी मसलने लगा।वो अब बिल्कुल बदहवाश होने को थी।उसके मुँह से ‘सी… सी. अगर आपको ऐतराज़ ना हो तो क्या आप कैम पर अपना बड़ा लंड दिखा सकते हो?आनन्द- क्यों नहीं?अब आनन्द ने कैम की स्थिति ठीक की और पैन्ट में से उसका लंड बाहर निकाला। उसका हलब्बी लौड़ा देख कर मेरी आँखें फटी की फटी रह गईं।कम से कम 8 या 9 इंच का मोटा लंड था और पूरा काला नाग था। मेरी धड़कनें तेज हो गईं.

उस सेंसेशन को कंट्रोल करना इम्पॉसिबल हो गया था। मैं ब्लैंकेट में अपना फेस ढक कर अपनी मोंस को कंट्रोल कर रही थी। और मेरे टी शर्ट के अंदर मोहित अपने हाथों से मुझे ज़ोर से स्क्वीज़ कर रहा था। मोहित ने धीरे से अपना हाथ मेरे शॉर्ट्स में डाला मैंने उसे बहुत रोकने की कोशिश की पर ज्यादा ज़ोर लगाने से सब जग जाते और मैं इस कंडीशन में नहीं थी कि ब्लैंकेट से बाहर भी निकल सकूँ. तो मैंने रिचा को मिस काल कर दी।वो समझ गई और रात के 12 बजे के बाद वो मेरे पास आ गई और कहने लगी- चलो जल्दी करो. ”मुझे जब भी मौका मिलता है मैं उसको चुम्बन करता हूँ, क्योंकि अब इस हालत में उसको चोद तो नहीं सकता।वो भी मुझे शान्त करने के लिए मेरा लौड़ा लॉलीपॉप की तरह चूस कर पानी पी लेती है।यह मेरी सच्ची कहानी है। आप अपनी राय भेजने के लिए मुझे लिख सकते हैं मेरी ईमेल आईडी है।.

वो मुझे पागलों की तरह चूमने लगी।मैं भी जोश में आ गया और ज़ोर से होंठों को काट लिया।वो मुझे धक्का देकर बोली- अह. मैं उसे हिलाने लगा। चाची ने अपनी ब्रा उतारी हुई थी और बदन पर सिर्फ एक नीले रंग की पैंटी डाली हुई थी।मैं तो उसे देखता ही रह गया. चारू फोन उठा कर बात करने लगी।थोड़ी देर बाद पायल ने पूछा- हिरेन क्या कर रहा है?तब चारू ने कहा- वो मेरी चूत चाट रहा है।यह सुनते ही मैं दंग रह गया।बाद में हम दोनों ने सब बताया और पायल मुझसे कहने लगी- मैं भी अब कुछ दिनों में आ रही हूँ फ़िर हम तीनों साथ में चुदाई करेंगे।हमने कहा- ठीक है.

मैंने बस मैग्गी बनाई अंकल ने और कुछ बनाने का मुझ मौका ही नहीं दिया।करीब 2 बजे हमने फिर खाना खाना शुरू किया, अब उन्होंने मुझे टेबल पर लिटाया और फिर मेरे मम्मों पर मैग्गी डाल दी और बड़े प्यार से चाट-चाट कर नूडल्स खाने लगे।मुझ भी मज़ा आ रहा था. सोनम मादरजात नंगी अपनी चूचियों को छुपा रही थी और सुनील अपनी पैंट चढ़ा रहा था।सोनम- मैंने आपछे कहा भी था.

वैसे रात को दोनों ने कपड़े पहन लिए थे ताकि सुबह किसी के दरवाजे खटकाने पर तुरन्त दरवाजा खोल दिया जाए।और हुआ भी वैसा ही दीपक जल्दी से उठा.

पर किसी तरह हमने मामले को पढ़ाई से जोड़ कर सुलटा लिया था।अमन आगे की पढ़ाई के लिए राउरकेला चला गया। वो अब वहाँ बी.

दिखने में अच्छा-खासा गबरू नौजवान हूँ।मैं औरों की तरह झूठ नहीं बोलूँगा, मेरा जननांग जिसे कि लंड भी कहा जाता है 6 इंच का है।हाँ. लो आपके लौड़े के लिए तो गधी भी बन जाती हूँ लो अपनी गधी की गाण्ड में लौड़ा डाल दो।प्रिया घुटनों के बल हो गई। कमर को सीधा कर लिया पैर फैला लिए. हैलो दोस्तो, अब कई सारे राज खुल गए हैं, हाँ कुछ दोस्तो को गोपाल का सुमन से कनेक्शन जानना है, तो आपको वो भी बहुत जल्दी पता चल जाएगा, फिलहाल जहाँ रुके थे वहीं से आप आगे देखो.

उसके चेहरे पर सवाल आ गया कि दीपक मेन गेट से बाहर आया है यानि वो दीपाली से मिलकर आ रहा है।दीपक- अबे साले. मैंने नीचे हाथ ले जाकर टटोल कर मामा के लिंग को हाथ लगाया और देखा तो खून सा था।मैं चीखने लगी- हाय मामा. एक तो पहले ही उसकी चूचियाँ चिकनी थीं, ऊपर से मेरे मुँह से निकले रस से सराबोर होकर और भी चिकनी हो गई थीं… मेरी हथेली में भरते ही उसकी चूचियों की चिकनाहट ने वो आनन्द दिया कि मैंने एक बार अपनी हथेली को जोर से भींच कर चूचियों को लगभग कुचल सा दिया।‘आआह्हह….

उसने मुझे पकड़ कर उल्टा कर के मेरी चूत को दुबारा अपने मुँह में भर लिया और मेरी सिसकारी निकल गई। उस पर मेरे होंठ आशीष के लौड़े पर कस गए।रूचि की जुबानी उसकी चुदाई सुनने में मजा तो बहुत आ रहा था लेकिन तभी कॉलेज पास में आने की वजह से उसकी बात पूरी नहीं हो पाई लेकिन तभी मैंने सोचा आज पूरी कहानी सुन ही लेते हैं और मेरे खुराफाती दिमाग में एक आईडिया आया।कॉलेज के पास ही चौहान ढाबा था.

मिल ही लेना।मैं उसे लेने पहुँच गया और देखा कि एक 35-36 साल का आदमी उसके पास खड़ा था।वो मेरे पास आई और कहा- ये हैं मेरे सर प्रवीण जी. मानो वो कितने जन्मों से चुदवाने के लिए तरस रही हो।आप सबको तो पता ही होगा कि लड़का का एक बार झड़ने के बाद दूसरी बार देर से झड़ता है. मैंने कहा- आंटी भूख लगी है।आंटी ने खाना लगाया और हम दोनों ने जल्दी-जल्दी खाना खाया।फिर डीवीडी पर फ़िल्म देखने लगे।कुछ देर बाद हम मेरा मन चुदाई करने को होने लगा, मैंने आंटी की कमीज़ में हाथ डाला और मम्मों को दबाने लगा। मैं उनके मम्मों को दबाता रहा.

उसने ऐसी कसम खाई।अब सब ठीक हो गया था। दीपाली वहाँ से चली गई।दूसरे दिन इम्तिहान शुरू हो गए तो सब अपनी-अपनी पढ़ाई में व्यस्त हो गए. उसकी चूत पूरी तरह गीली हो चुकी थी। मैं उसकी चूत को सहलाने लगा। कभी चूत में ऊँगली डाल देता और अन्दर-बाहर करता।वो मेरे लण्ड को खींच कर अपनी चूत के छेद पर लगाने की कोशिश कर थी, यह देख कर मैंने उसे मेरा लण्ड चूसने को कहा. पर ये सब मुझे अच्छा लग रहा था और मैं हेमा की गरम चूत में अपना कड़क लंड जोर-जोर से पेल रहा था, मेरे हाथ उसके मम्मों को दबा रहे थे। इस दौरान वो दो बार झड़ चुकी थी।मैं हेमा को उठा कर बाथरूम में लेकर गया.

बस इसीलिए।फिर माया मेरी ओर थोड़ा खिसक आई और मेरे लौड़े को जींस के ऊपर से ही रगड़ने मसलने लगी। उसकी इस हरकत से मेरे कल्लू नवाब को एक पल बीतते ही होश आ गया और वो अन्दर ही अन्दर अकड़ने लगा.

इस ड्रेस में वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी…हम दोनों सोफे पर बैठे थे… और वो मुझको समझा रही थी … अचानक से मेरा पेन नीचे गिर गया और मैं नीचे से पेन उठा ही रहा था कि मेरे नज़र उसकी स्कर्ट के अन्दर चली गई. मैंने अपने तने हुए लौड़े को उसकी चूत की दरार पर रखा और चोट मारी, पर अनुभवहीनता के कारण लंड सही निशाने पर नहीं जा रहा था।तो वो हँसी, उसने मेरे लौड़े को पकड़ा और अपनी चूत के छेद पर टिकाया और बोली- अब डालो।उसकी चूत आज भी बहुत कसी हुई थी।मैंने जोर से झटका दिया तो मेरा आधा लौड़े अन्दर घुस गया।भाभी कराह कर बोली- धीरे करो.

बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ क्योंकि मैं लंड अच्छी तरह से चूस रही थी।वो बोला- मुझे तेरी गाण्ड फाड़नी है।मैंने कहा- बहुत दर्द होगा।वो बोला- आराम से डालूँगा…मेरे मन में भी कहीं न कहीं गांड मरवाने की चाह तो थी. जब मैं 20 साल का था और मेडिकल कॉलेज में पढ़ता था।शायद आप जानते होंगे कि हर डॉक्टर अपने बच्चे को डॉक्टर ही बनाना चाहता है.

बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ चूमेंगे और निकल जाएँगे…पहले तो उन सब से मैंने ही वादा लिया था कि वो ऊपर-ऊपर मुझे चूस कर और सहला कर चले जाएँगे. ’ करके झड़ गई।मैंने उसकी चूत का सारा पानी पी लिया और चूत को चाटता रहा।मेरे चाटने से थोड़ी ही देर में वो फिर से गरम होने लगी थी।अब मैं उठा और अपना लण्ड उसके मुँह पर रख दिया।उसने मेरा लण्ड मुँह में ले लिया और चूसने लगी। वो एक हाथ से अपनी चूत को सहलाने लगी।अब मेरे मुँह से मादक आवाजें निकलने लगी- आअहह…अह.

अब मुझे लौड़ा चूसना अच्छा लगने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वो सिसकारी भरने लगा.

সানি লিওনের সেক্সি ফিল্ম

Meri Suhagrat ki Chudasi Cheekhenनमस्ते दोस्तो, यह मेरी सुहागरात की कहानी है।मेरी लव-मैरिज हुई है और हम शादी से पहले ही चुदाई यानि सुहागरात और सुहागदिन भी यानि सेक्स कर चुके हैं. मैंने अपनी हाथ वाली तौलिए से अपने जिस्म को ढकने की बहुत कोशिश की और उसको बहुत ही गुस्से से कहा- तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मेरे कमरे में आने की. मेरा लन्ड फ़िर से खड़ा हो गया। मैंने भाभी के मुँह में फ़िर से लौड़ा डाला और उनके मुँह को चोदने लगा…लगभग 10 मिनट के बाद मैंने उनको उलटा किया.

उसने गेट बंद कर दिया।मेरे अन्दर आते ही उसने मेरे होंठों से अपने होंठ मिला दिए।इस चुम्बन में मुझे रूपा की चुम्बन से ज्यादा मज़ा आया. तो मैंने रिचा को मिस काल कर दी।वो समझ गई और रात के 12 बजे के बाद वो मेरे पास आ गई और कहने लगी- चलो जल्दी करो. वरना वो आपके लौड़े लगा देगी।मैंने पायल को अपनी ओर खींच कर चूमते हुए उसके रसगुल्ले दबाने लगा।फिर उसे बिस्तर नीचे पर गिरा दिया और उसे चूमते हुए उसकी कुर्ती के अन्दर हाथ डाल दिया।उसकी ड्रेस चुस्त होने के वजह से मेरा हाथ अटक रहा था.

प्लीज़ आप चूत ही मार लो, लौड़े का अन्दर जाना मुश्किल है।दीपक- अरे साली रंडी बनने का शौक तुझे ही चढ़ा था.

इस तरह से पूरे बिस्तर में कपड़े फ़ैलाने की क्या जरुरत थी? चल जल्दी से निपटा ले।तभी मैं अन्दर से निकला और मैंने शो करने के लिए शावर से थोड़ा नहा भी लिया था।मैंने निकलते ही पूछा- अरे रूचि तुम्हारा एग्जाम कैसा रहा?तो बोली- अच्छा रहा. जो कुछ ज्यादा ही फूली हुई थी। तब अमन और उसकी गैंग नीचे खड़ी थी। राज ने शायद नीचे से मेरी टाँगों और पैन्टी के दर्शन कर लिए थे।मेरी टाँगों पर कुछ ज्यादा बाल हैं. Stranger: chaat liyaStranger: mmmmmYou: maine… tumhe… chod chhod keeYou: apana nikal raha hoooStranger: mmmmmmmYou: tumhri chut main…jaanuuYou: kitni pyaasi chut thi tumhri jaanStranger: mmmmStranger: ahh ahaYou: hont main hont fir se.

गूँ’ की आवाजें आ रही थीं।मैंने अपनी जीभ हटा ली और पीछे होकर सोनम को भी पीछे खुद से चिपका लिया और उसके कानों को काटते हुए बोला।देखो सोना. तो मैं सब कुछ भूल कर सीमा के जिस्म में खोता चला गया।वैसे भी दोस्तों जब एक जवान खूबसूरत और जवान लड़की चुदने के लिए सामने हो और वो भी खुद की मरजी से हो तो बाकी भी कुछ कहाँ ध्यान रहता है।अपने दोनों हाथों से उसकी गर्दन को पकड़ कर मैंने उसे इतनी जोर से और इतनी देर तक चूसा कि वो छूटने के लिए झटपटाने लगी. वो बोले- और मजा लेना है तो सलवार भी उतार दो।मैंने अपने कपड़े उतार दिए।मामा भी पूरे नग्न होकर बोले- मेरे लिंग को होंठों में दबाकर चूसो।मैंने अभी तक इतने नजदीक से लिंग नहीं देखा था, उनका बड़ा और खड़ा लिंग हाथ में लेकर चूसने लगी।मामा मेरा सर दबाते हुए बोले- पूरा अन्दर लेकर बाहर निकालो।मैंने उनके अनुसार किया तो मामा मेरे मुँह में ही धक्के लगाने लगे। एक बार उनका लिंग मेरे गले में लग गया.

!क्या आप जानना नहीं चाहते कि आगे क्या हुआ?तो पढ़ते रहिए और आनन्द लेते रहिए…मुझे आप अपने विचार मेल करें।[emailprotected]. मन लग जाएगा।मैंने पढ़ाई पूरी करने के बाद रात में इस साइट को खोला और एक कहानी पढ़ने के बाद मेरे मन की वासना जाग गई मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया और मुझे बेचैनी होने लगी।फिर मैंने अपना लंड जो 6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है.

पर उसकी हरकत ने मुझे पूरी तरह उत्तेजित कर दिया।मेरे मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगीं।वो मुँह हटाकर बोला- दर्द हो रहा है क्या मैडम?मैंने कहा- नहीं. !मैं बोला- मुझे आपके सामने शर्म आती है।मैं पेशाब कर रहा था, तो भाभी दूसरी तरफ मुँह करके खड़ी थीं और उसके बाद उन्होंने मुझे बिस्तर पर लाकर छोड़ा और कहा- जब भी जाना हो, मुझे कहना… मैं लेकर चलूँगी और ‘हँस’ कर चली गईं।अब मैं अपनी भाभी के बारे में बता रहा हूँ। उनका रंग साँवला, बड़े आकार की चूची हैं, पर मैंने कभी नापी नहीं इसलिए मैं साइज़ नहीं बता सकता। पर हाँ. मैंने सुनते ही जोरदार एक झटका लगाया ही था कि लंड चूत की गहराइयों में जा कर बच्चेदानी से जा टकराया होगा।भाभी के मुँह से चीख निकली- मारेगा क्या मुझे.

जी हाँ उनकी चूत का नाम मैंने मलाई वाली चूत रखा हुआ था जो उन्हें भी पसंद आया…भाभी ने कहा- जानू अब तड़पाओ मत.

मुझे पैन्टी की वजह से थोड़ी परेशानी हो रही थी सो मैंने पहले दोनों हाथ से उनके ब्लाउज के सारे बटनों को खोल दिए और पागल होकर मैं भाभी के मम्मे देखने लगा।इसके बाद मैं साड़ी को ऊपर करने लगा. प्रिया को दर्द हो रहा था मगर कुछ देर बाद दर्द के साथ उसको एक अलग ही मज़ा भी आने लगा। वो उत्तेजित होने लगी. लेकिन सौम्य तरीके से कान के चारों ओर जीभ घुमाना भी उनमें उत्तेजना का संचार करता है।किसी महिला के लिए एक बड़ा ही टर्निंग प्वांइट होता है.

इसके लिए आप चाहें तो अपने साथी से पूछ सकते हैं। फिर उसकी पीठ के मध्य में रीढ़ की हड्डी के ऊपर बने नालीदार हिस्से पर हल्के हाथ से ऊँगलियाँ फिराते हुए नीचे की ओर नितंबों तक आना चाहिए।यह क्रिया चाहें तो कई बार दोहरा सकते हैं. कुछ बूँदें तो टपक कर उनकी चूचियों पर भी जा गिरीं।पूरा झड़ने के बाद मैंने अपना लंड निकाल कर भाभी के गालों पर रगड़ दिया।हय…क्या खूबसूरत नज़ारा था.

इस दौरान 2 घंटे तक हमने चुदाई के खूब मजे किए।उसके बाद मैंने पूछा- मज़ा आया?तो बोली- हाँ बहुत ज़्यादा. बाद में!मैं उसके लंड को बुरी तरह चूसने लगी लेकिन क्षण भर में ही उसने ऐंठते हुए लंड से पिचकारी छोड़ दी।मैंने उसके वीर्य को अपने गले के अन्दर उतार लिया।उसने कहा- यह क्या हुआ. मैंने पैर उठा कर पूरी पैन्ट निकाल दी। अब मैं सिर्फ़ अंडरवियर में था। वो मेरे लण्ड को अंडरवियर के ऊपर से ही दबा रही थी.

सेक्स सेक्स सेक्स सेक्स ब्लू

जैसा कि मैं बता चुका हूँ कि उसकी एक साल पहले ही शादी हुई है और वो भी लव-मैरिज हुई थी।तो उस दिन सामान शिफ्ट करने में.

शनिवार नाइट अच्छा रहेगा।आनन्द- उस रात तेरे बीवी क्या पहनेगी?सलीम- कोई अच्छी से सेक्सी ड्रेस में लेकर आता हूँ।आनन्द- नहीं. chut kooStranger: ahha ahahYou: maine moo poora gadh diya…You: chut mainYou: aur uska pani chatne lagaStranger: ahha ahStranger: ahh ahaStranger: bas karoahhaYou: meri ungli gaand main gayiYou: aur…fasss gayiStranger: ahh aahStranger: ayiiiiiiiStranger: ahhhhStranger: mar gaiStranger: ahhha hahaaStranger: jaanuStranger: nikalo ahhStranger: tna math karoYou: maine…. पूरी रात बस मुझे ऐसे ही चोदते रहो।”मैं ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारे जा रहा था और मुझे लगा कि मेरा होने वाला है, तो मैंने उससे कहा- बच्चा आ रहा है स्वागत करो।तो वो हँसी और बोली- मेरे बच्चे को अन्दर ही आने दो.

मेरे अन्दर जैसे बिजली सी दौड़ जाती।फिर उसने मेरी पैन्टी भी निकाल दी। अब मैं उनके सामने पूरी नंगी हो गई थी, मुझे बहुत शर्म आ रही थी।फिर वो अपने कपड़े निकालने लगे। जैसे ही उन्होंने अपनी चड्डी निकाली तो उसका लंड देख कर मैं डर गई. मैं थोड़ी देर में ही झड़ गई और वो सारा रस पी गया।फिर हम चूमा-चाटी करने लगे… वो मेरे मम्मों को चूसने और काटने लगा।वो मेरे पूरे जिस्म को चूमने और काटने लगा।फिर उसने लंड को चूत पर रख कर शॉट मारा. सेक्सी व्हिडिओ उघडाजैसे वो मेरा देह शोषण कर रही हो। इस चुदाई के सबसे हसीन पल यही लगे थे मुझे।इसके बाद वो मेरा लंड पकड़ कर मुझे चोदने लगी। फिर पोज़ बदल कर मैंने उसे लिटा कर उसकी गीली चूत चूसने लगा और उसके पति ने अपना नामर्द लंड उसके मुँह में डाल दिया।फिर मैंने अपना लंड पकड़ कर उसकी गरम चूत में डाल दिया और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा।बोलती है- और ज़ोर से चोद.

इसलिए वो अपना दाहिना हाथ पीछे लाईं और मेरे लण्ड को पज़ामे के ऊपर से ही पकड़ कर सहलाने लगीं, बोलीं- ऊओह. ये मेरे ज़िंदगी की पहली और यादगार चुदाई बन गई थी।फिर 5-7 मिनट बाद ही हम दोनों का जिस्म एक साथ अकड़ गया और एक तेज आवाज के साथ हम दोनों ही झड़ गए और मैं उसके ऊपर ही लेट गया।फिर हम दोनों बातें करते हुए कब सो गए.

जो मैं भी सोच नहीं सकती थी।उनके सवाल के उत्तर में मेरे मुँह से निकल गया- अंकल दोनों करो…उनके फिर से पूछने पर- ज़ोर से. जिसके अन्दर काले रंग का उसकी पैंटी-ब्रा साफ़ दिख रही थी।मेरा मन तो नहीं कर रहा था कि राहुल को चोदने दूँ. उसने गेट बंद कर दिया।मेरे अन्दर आते ही उसने मेरे होंठों से अपने होंठ मिला दिए।इस चुम्बन में मुझे रूपा की चुम्बन से ज्यादा मज़ा आया.

वही रात की ‘आहें’ आज सुबह चीखों में बदल गई थीं।करीब 15 मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद हम दोनों बिस्तर पर पड़े एक-दूसरे की आँखों में आँखें डाले वक़्त बिता रहे थे।फिर अगले 3 महीने तक नीता और मैं एक गहरी और जिस्मानी रिश्ते में रहे।आगे की कहानी चलती रहेगी। अपने विचार मेल पर भेजिएगा।. इसलिए जब भी मैं लण्ड आगे की ओर करके आधा जाने देता तब वो भी अपनी गाण्ड को पीछे करके बाकी का आधा लण्ड को चूत में घुसेड़वा लेती थीं।करीब 5 मिनट तक उस स्टाइल में चोदने के बाद मुझे लगा कि शायद हम दोनों झड़ जाएंगे. मानो कह रहा हो कि अब तुम लोगों का हो गया हो तो अब मेरी बारी आ गई है।तभी मुझे भी होश आया कि वो लोग कभी भी घर पहुँच सकते हैं.

फिर मैं वहाँ से चली गई।अब मेरी निगाहें चाचा को ढूँढ रही थीं लेकिन वो कहीं नज़र नहीं आ रहे थे। फिर मैं वापिस मॉम के पास चली गई और काम करने लगी।घर के काम करवाते-करवाते पता ही नहीं चला कि कब शाम हो गई।उन दिनों बहुत गर्मियाँ थीं.

पर आराम से चोदना।मैं उसके निचले हिस्से को वस्त्र रहित करने लगा और सुदर्शन ऊपरी हिस्से को नंगा करने में जुट गया।उसने पैंटी नहीं पहनी थी. बस मैं खिसिया कर हँस दिया।फिर हम अन्दर आए, उसका घर भी बहुत अच्छे से सजा था। उसने मुझे बैठने को कहा और वह मेरे लिए पानी लाने चली गई.

तो वो बोली- इतना भी क्या बेसबर हो रहे हो?तो मैंने कहा- तेरी जवानी को चखने में मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा बेबी. पर मैंने अंधेरे में ही उस लंड को छू कर महसूस कर लिया था और सोच रही थी कि जब वो लंड मेरी चूत में जाएगा तो कितना मज़ा आएगा।शौकत मुझे फिर मेरा हाथ पकड़ कर कमरे में ले आए और अब शौकत ने कमरे की बत्ती भी जला दी।मेरी नज़र सैम के लंड पर पड़ी. जिसके कारण दीपाली को दर्द होता और चोट के साथ ही वो सिहर जाती।दस मिनट तक वो बिना कुछ बोले बस चूत की चुदाई करता रहा।अब दीपाली को भी मज़ा आने लगा था वो गाण्ड को पीछे धकेलने लगी थी।दीपाली- आहह.

उससे चिपके हुए ही मैंने उसे चुम्बन करना शुरू कर दिया। मैं उसे उसके होंठों पर चुम्बन कर रहा था। वो भी चुम्बन करने में मेरा पूरा-पूरा साथ दे रही थी।फिर मैंने उसकी गर्दन पर चुम्बन करना शुरू किया. वे मुझे साड़ी पहनाने लगे।मुझे साड़ी पहना कर उन्होंने मुझसे कहा- आज हमारी सुहागरात है।हमने सुहागरात मनाई।आज भी हम दोनों सब के सामने भाई-बहन हैं और अकेले में पति-पत्नी की तरह रहते हैं।अब मेरे भैया मेरी जान बन गए हैं।मैंने उनका नाम प्यार में ‘जानू’ रखा है। हमें जब भी मौका मिलता है चुदाई जरूर करते हैं।तो दोस्तो, यह थी मेरी पहली चुदाई की कहानी। कैसी लगी आपको. तब ऐसा ही लगा था कि यह बहुत चालू माल होगी… खूब चुदाई करवाती होगी।परन्तु जरा सी ही देर में ही वो ऐसी हो गई…फ़ुद्दी में घुसा लौड़ा भी निकाल दिया और अब कितना शर्मा रही है जैसे पहली बार मर्द का लिंग देखा हो।किशोरी- भैया, मुझे तो बहुत शरम आ रही है।मैं- ऐसा क्यों पागल.

बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ मैं हँस दिया और नहा कर तैयार हो कर निकलने लगा तो प्रीति बोली- मैं पहले भी दूसरे लड़कों से ले चुकीं हूँ. इसलिए मैं आपसे नहीं कह पाऊँगा।इतने में दरवाजे की घन्टी बजी और मैंने चाची से कहा- मैं शॉर्ट्स पहन कर आता हूँ.

सेक्सी चुदाई दिखाइए

’ करके मेरे लण्ड का रस निकल गया। मेरा पूरा माल उसके मुँह में ही झड़ गया और वो भी मेरे लण्ड का सारा रस पी गई।अब मैंने उसे खड़ा किया और पलंग के किनारे पर लिटा दिया। मैं एक बार उसके पूरे जिस्म को चूमने लगा. इसलिए वो मेरा साथ देती थी।लेकिन इसमें से कोई भी बात हम पूनम को पता नहीं चलने देते थे।एक दिन मैंने उसका दूध पास की डेरी में जाकर डाल दिया. मैं वहीं पर लेट गया। थकान के कारण हम दोनों कुछ सो से गए।एक घंटे के बाद मैंने जाग कर उसको जगाया।वो बोली- आलोक.

’ निकलने लगी और मैं उसके चेहरे की ओर देखने लगा।जब कुछ देर उसने मेरी जुबान का एहसास अपनी चूत पर नहीं पाया तो उसने आँखें खोलीं और मेरी ओर देखते हुए लज़्ज़ा भरे स्वर में बोली- अब क्या हुआ. उन्होंने मेरी टी-शर्ट उतार कर मेरी छाती पर हाथ फिराने लगीं।मैंने उनकी ढीली सी ब्रा भी उतार दी और उनके चूचे चूसने लगा. विदेशी सेक्सी वीडियो पिक्चरमैंने उठ कर खाना डाइनिंग टेबल पर लगा दिया और वहीं से कनखियों से देखा कि फिल्म अभी भी चल रही थी। सैम की लुँगी टेंट की तरह ऊपर उठी हुई थी और शौकत कह रहे थे।‘यार सैम.

उसकी आँखें बंद थीं। अब वो भी अपनी गाण्ड को थोड़ी-थोड़ी उठा कर झटके सी ले रही थी।मैंने उसके गालों को चुम्मी करते हुए पूछा- जान.

तो प्लीज उन्हें आप अपनी समझ के अनुसार सही कर लीजिएगा और मुझे अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव जरूर दीजिएगा जिससे कि मैं आगे भी आपको अपनी और चुदाई के किस्से बता सकूँ।. तू सीधी होकर अपनी टाँगें फैला कर लेट जा… अब मैं तुम्हारी चूत में लण्ड घुसा कर तुम्हें चोदना चाहता हूँ.

मैं बस चुप रही।कहानी जारी है।मेरी इस सच्ची घटना पर आप सभी के सभ्य भाषा में विचारों का स्वागत है।[emailprotected]yahoo. आज तो मैं तुम्हारे लिए वो करने वाली हूँ जो आज तक मैंने कभी न किसी के साथ किया और न ही इस बारे में कभी सोचा था. उसके निपल्स तो ऐसे मुलायम और बड़े कि जुबान को वहाँ से हटाने का ही मन ही नहीं कर रहा था।मेरे लण्ड में से तो बस ‘प्री-कम’ का पानी निकल रहा था। मैं तो बस हवा में था.

मुझे तो कुछ अलग ही महसूस हो रहा था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !लड़कियों का नाजुक हाथ जैसा होता है ना.

मेरी जीभ की नर्माहट से चाची की उत्तेजना बढ़ती ही जा रही थी। लेकिन वो खुल कर मुझसे चोदने के लिए नहीं बोल रही थीं। मैं यह सोच रहा था कि इतने बहाने कैसे बनाऊँगा?लेकिन मैंने एक आइडिया निकाला और चाची के मुँह को ही चोदने लगा. फिर खड़े होकर अपनी चोली और लहंगा भी उतार दिया और पूरी तरह से नंगी हो गईं।फिर मुझे कुर्सी से उठा कर पलंग पर बैठने को कहा… मैं खड़ा हुआ तो मेरा पायजामा अपने आप उतर गया।जब मैं पलंग पर बैठ कर भाभी की मस्त उठी हुईं चूचियों को देख रहा था. Padosi Ke Sath Santushti Bhari Ek Raatअन्तर्वासना के प्रिय पाठकों का आशिक राहुल एक बार फिर स्वागत करता है। आज फिर आशिक राहुल आपके सामने प्रस्तुत है एक नई कहानी के साथ, जो 44 वर्षीया एक महिला ने मुझे ईमेल की थी।कहानी अब उन्हीं के शब्दों में.

खेसारी लाल के सेक्सी व्हिडीओलेकिन हम दोनों में से कोई भी झड़ने का नाम नहीं ले रहा था।दोस्तो, आप सोच रहे होंगे कि मैं क्या बकवास कर रहा हूँ. तभी राधिका ने मेरे लौड़े को मुँह से बाहर निकाला और मुझसे कहा- पंकज अब तुम अपने लंड को नीचे मेरी चूत में पेल दो.

सेक्स वीडियो ब्लू एचडी

वो आज रंग लगाने में शर्मा रहा है…मैं- भाभी कहाँ खेल ली आपने रात को होली?भाभी मेरे लंड पर हाथ रखती हुई बोली- मुझे इतनी अनाड़ी और खुद को इतने बड़े खिलाड़ी ना समझो अनूप जी. को देख कर वो जैसे पागल हो गया।उसने मेरी टी-शर्ट एक तरफ फेंक दी और मेरी छाती पर अपने होंठ रगड़ने लगा।मैं- आआआअहह. प्रीति ने भी अपने हाथ मेरे हाथों पर रख कर अपनी चूचियाँ जोर से दवबाईं और उसके बाद मैं प्रीति पर टूट पड़ा।‘आआह्ह्ह.

अन्दर-बाहर करने लगे…जब उनका लण्ड हिला तो फिर दर्द हुआ तो मैंने कहा- प्लीज़ अंकल अब मत करिए…अंकल नहीं माने और अपना मूसल मेरी चूत में अन्दर-बाहर करने लगे, बस मैं भी अन्दर-बाहर होते हुए लण्ड को झेलती रही. मर्दों और चूहों में एक समानता तो है किदोनों ही पूरी जिन्दगी नए नए छेद ढूंढते रहते हैं!और जब भी कोई नया छेद उन्हें मिल जाता है तोदोनों ही उसे बड़ा कर देते हैं,चूहे खोद खोद करऔरमर्द चोद चोद कर…***एक काले अफ्रीकी ने एक गोरी से शादी कर ली. तभी मुझे हस्तमैथुन की आदत एक अनजानी सी घटना से लग गई।दरअसल मुझे बहुत आराम से और स्वच्छता से नहाने की आदत थी।एक दिन मैं साबुन लगा कर अपने लवड़े को साफ कर रहा था.

तुम आराम से हमारे साथ फ्रेंड की तरह रहो।परिचय होने के बाद केक काट कर हम केक खाने लगे।तभी बियर से भरा कार्टून बीच में आ गया।मैं तो डर गई. असल में मैं अपने दोस्त के घर गया हुआ था होली खेलने तो जब मैं लौटा तो मैंने अंकल को मम्मी के पीछे खड़े होकर उनके ब्लाउज के अंदर रंग लगाते देखा. क्योंकि वो तो रिश्ते में मेरी मौसी लगती थी और रात में जब सब सो जाते तो मैं धीरे से उठ कर उसकी खटिया में घुस जाता था। क्योंकि उसके मम्मी-पापा दूसरे कमरे में सोते थे।सबसे बाहर के कमरे में उसकी दादी तथा गेस्ट-रूम में 2 बिस्तर लगे थे जिसमें एक पर मैं और उसका छोटा भाई व दूसरे पर रानी और उसकी 2 छोटी बहनें सोती थीं।वो किनारे ही सोया करती थी।मैं पहले उसकी बगल में खड़ा होकर ही उसे धीरे से चुम्बन करता.

और इस तरह मैं उसे टाल देता था।वो मेरी देख कर शरमा कर चली जाती थी।जब मैंने कनिका से संध्या के बारे में पूछा तो उसने बताया कि वो मेरे और उसकी चुदाई की सारी बातें संध्या को बता देती थी।मैं अब सब कुछ समझ गया था।एक दिन जब मैं अपने घर में काम कर रहा था. जो नहा कर उतारी थी। मैं झट से उठी और बाथरूम में अपनी पैन्टी लेने गई। मैंने जैसे ही अपनी पैन्टी को हाथ में लिया तो मैं शॉक्ड हो गई.

जो कि बाद में सारे जीवन तुमको याद रहने वाला है।मैं ये सब कहते हुए उसके मम्मों को सहलाता जा रहा था और उसकी चूत के दाने पर अपने अंगूठे से छेड़खानी भी कर रहा था।उसका दर्द अब कम हो चला था क्योंकि अब लण्ड ने ठोकर मारना बंद कर दी थी.

तो मेरी हालत ख़राब हो गई।उन्होंने बिलकुल सुर्ख लाल रंग की जाँघों तक की पारदर्शी नाईटी पहनी हुई थी और वो बिलकुल डीप गले की थी. 12 वर्ष की सेक्सीउसके उठे हुए आमों को देख कर मेरा केला भी तनतना रहा था।उसे देख कर मुझसे रुका ही नहीं जा रहा था।हम एक-दूसरे पर टूट पड़े. मराठी सेक्सी व्हिडिओ पंजाबीगरदन पर जमकर काटा।जब कुरता को फटा देखा तो मैंने पूछा- भाभी ये फटा कैसे?तो उन्होंने बोला- मेरे ‘वो’ दारू में धुत थे रंग लगाते टाइम फाड़ दिया…मैंने भी उन्हें आँख मारी और चूचियों के बीच में हाथ डालकर ब्रा से लेकर कुरता पूरा नीचे तक फाड़ दिया।भाभी के मुँह से निकला- हाय जानू. हम 69 की दशा में आ गए।फिर वो बोला- प्लीज़ मेरा लंड अच्छी तरह से चूसो…मैंने लंड मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

उन्होंने मेरी टी-शर्ट उतार कर मेरी छाती पर हाथ फिराने लगीं।मैंने उनकी ढीली सी ब्रा भी उतार दी और उनके चूचे चूसने लगा.

उसके जिस्म की गर्मी महसूस कर रहा था।मेरे हाथ धीरे-धीरे प्रीति की गाण्ड तक पहुँच गए और मैंने उन उभारों को दबा दिया।अब तक प्रीति भी सामान्य हो चुकी थी. इसलिए मैं सीमा का कुछ ज्यादा नहीं कर पाता था।लेकिन उसको पेलने के बारे में मैं और मेरे दोस्त काफ़ी बार प्लानिंग बना चुके थे और मैं भी अपनी गर्लफ्रेंड से भी कई मजाक में सीमा को चोदने की बात कर चुका था. Bhabhi Ki Vo Badi Si Chootमेरा नाम साजन कुमार है, मैं लखनऊ में रहता हूँ।मैं अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूँ। आप सब की कहानियाँ पढ़ने के बाद मेरा मन किया कि मैं भी अपनी सच्ची कहानी लिखूँ।दोस्तो, मेरे बगल में एक परिवार रहता है, जिसमें 5 सदस्य हैं, अंकल-आंटी, उनका बेटा-बहू और एक पोता है।अंकल और उनका बेटा डॉक्टर हैं, आंटी टीचर हैं.

पहली बार कोई मर्द मेरे दोनों मम्मों को एक-एक हाथ में पकड़ कर सहला रहा था।वे मेरी आँखों में एकटक देखते हुए बोले- ये क्या है निकी?मैंने बहकी सी आवाज़ में कहा- मेरे मम्मे हैं यार…उन्होंने कहा- किसके?मेरे मुँह से अपने आप निकल गया- आप लोगों के…अब मेरी ज़ुबान से काबू हट गया था…‘इतने बड़े कैसे हुए. और कोल्ड ड्रिंक में और आइस्क्रीम में कौन सा फ्लेवर पसंद है।मैंने शरमाते हुए थोड़ा मुस्करा के कहा-कोई नहीं अंकल. ना ये सब होता। अब तो आगे बस क़यामत ही आने वाली है।तभी मुझे जॉन्सन अंकल ने हाथ के पंजे की अपनी ऊँगलियों में मेरी ऊँगलियों को फिर से फँसा लिया और उसको सहलाने लगे.

सेक्सी वीडियो बड़े लंड

मैं उनके सामने घुटनों पर बैठा और उनके चेहरे पर लेप लगाने लगा।पहले मैंने लेप को उनके माथे पर लगाया और फिर गले पर. वहाँ एक इस्तेमाल किया हुआ कण्डोम पड़ा हुआ था।मैंने कुछ नहीं कहा जबकि मैं समझ चुका था कि भाई ने आज इसकी चूत बजाई है।फिर एक दिन जब वो दूसरी बार मेरे घर आई. कि उसके सामने लोहे की रॉड भी फेल लगे।दीपाली के होश उड़ गए।वो नजारा देख कर उसका हाथ अपने आप चूत पर चला गया.

ज्यादा मजा उसे आ रहा था।मसाज के बाद उसके नितम्ब और भी ज्यादा चिकने और कोमल हो गए थे। फिर मैंने माहौल को थोड़ा और अच्छा बनाने के लिए उससे कुछ बातें करने को कहा.

आप जल्दी से आप अपने घर होकर आओ।मैंने बोला- अब घर पर क्या बोलूँगा कि आज क्यों रुक रहा हूँ?तो कोई कुछ बोलता.

उसे मेरी इस हरकत के बारे में पता लग गया है और वो हमेशा मुझे ये करते हुआ देखने लगी थी।मेरी बहन की फिगर भी 32-26-34 की ही है. मैं उनके घर चला गया। जब मैंने उनका मोबाइल देखा तो मुझे मालूम हो गया कि इन्होंने मोबाइल में ज़्यादा फाइल्स डाल दी हैं।मैंने आंटी से कहा- आंटी मोबाइल में से कुछ फाइल्स डिलीट करनी होगीं।तो उन्होंने मुझे कंप्यूटर ऑन करके दिया और मोबाइल की डेटा केबल दे दी. बिहार का सेक्सी वीडियो कॉमवो मेरी चूत की लकीर को पैन्टी के ऊपर से ही महसूस करके वहाँ अपनी हथेली और कभी ऊँगली से सहलाने लगे।मुझसे अब कुछ भी बर्दाश्त नहीं हो रहा था कि तभी दादाजी ने एक ऊँगली से मेरी पैन्टी के किनारे के बगल से पैन्टी को हटा कर मेरी चूत में जैसे ही छुआ.

अभी चूत मिलेगी तुझे।फिर मैंने चंदन का लेप हाथ में लिया और सासूजी का ब्लाउज थोड़ा ऊपर कर दिया।ढीला होने की वजह से वो आराम से ऊपर हो गया. वो खुद चल कर मेरे पास आ गई थी।बातों-बातों में उसने मुझे अपने घर का पता दिया और बताया- शनिवार और रविवार को मैं घर पर अकेली हूँ. रात में खाना खाते वक़्त आनन्द का फोन आया कि नेट पर आ जाओ।हम खाना ख़ाकर वापिस नेट पर आ गए।आनन्द- हाय!सलीम- हाय आनन्द.

तो कैसे समझता कि उसने पहनी ही थी।फिर वो मेरे पास आकर खड़ी हुई और मेरी चड्डी देते हुए बोली- लो और अब कभी भी ऐसी खुश्बू की जरुरत हो. अंकिता और रूचि का क्या होगा। अगले भागों में सब तरतीब से लिखूँगा।अपने अमूल्य विचार मेरी ईमेल आईडी पर भेज कर मेरा हौसला बढ़ाइएगा।दोस्ती में फुद्दी चुदाई-13.

उधर से लौट कर आने के बाद शौकत बहुत उत्तेजित थे।उस दिन उनका लंड भी चुदाई की उत्तेजना से फनफना रहा था।मेरे पूछने पर शौकत ने बताया- मुंबई में अचानक मेरी मुलाकात सैम से हो गई है। करीब 20 साल बाद हम दोनों दोस्त मिले थे.

मॉंटी- अरे, ये आप क्या बोल रही हो दीदी, मैं भला आपको क्यों मारूँगा?टीना बहुत उदास थी उसको बस सुमन याद आ रही थी. अब तो आज से आप ही मेरे सब कुछ हो।कुछ देर बाद मैंने अपने कपड़े पहने और वहाँ से आ गया।यह मेरी पहली कहानी है, आपको कैसी लगी कुछ गलती हो तो सॉरी…आज बस इतना ही आपको अगली कहानी में बताऊँगा कि कैसे मैंने उसकी छोटी बहन, उसकी मामा की लड़की और उसकी सहेली को चोदा। इस कहानी का रिप्लाई जरूर करें. कैसा लगा मेरा लंड?आनन्द की बात सुन कर हम दोनों चौंक गए… आनन्द ने सलीम को साला बोला था।अब उसकी बात करने का टोन ही बदल गया था।सलीम- हाँ आनन्द.

अंग्रेजी हॉट सेक्सी पिक्चर मैं तुम्हें 2000 खर्च के लिए दूँगा।मैंने कहा- अंकल अब टाईम तो कम है अतः 8 घंटे रोज पढ़ाई करवा कर ही कोर्स पूरा होगा. मोहित फोरप्ले में भी इतना अमेजिंग होगा मैंने सोचा नहीं था… उसके हाथ मुझे ऊपर से नीचे तक धीरे धीरे सहलाते रहे और बिना किसी की नज़र में आए उसने मुझे प्लेजर दिया।आधी रात को जब सब गहरी नींद में थे.

मालिश करने लगा।उधर उसने मेरे सोए लण्ड को चूस-चूस कर खड़ा कर दिया था।फिर मैं उसके ऊपर से उतरा और फिर उसकी चूत पर गया. वरना एक बार में ही पेट से हो जाएगी और आगे ठुकवाने का मौका गायब हो जाएगा।उनकी बातों से आपको मालूम हो गया होगा कि हमारे परिवार में सब खुली विचारधारा के हैं।सास भी बोली- भाई, मैं तो चली अपने कमरे में. पर मैंने जल्दबाज़ी नहीं की।मैंने धीरे से अपना हाथ उसके टॉप में डाल दिया और उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मे दबाने लगा.

सेक्सी दे दो वीडियो में

हम बाहर जाकर कुछ खा लेते हैं और मैं वहीं से अपने काम पर चला जाऊँगा।उसे भी मेरा सुझाव अच्छा लगा और वो तौलिया लेकर बाथरूम चली गई।जैसे ही दरवाज़ा बंद हुआ मैं दरवाज़े के पास घुटने के बल बैठ गया और दरवाज़े के छेद पर अपनी आँख लगा दी।अन्दर का नज़ारा साफ़ दिख रहा था।दीपिका अपने कपड़े उतार रही थी, पहले उसने अपनी टी-शर्ट उतार दिया उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी।मुझे उसके मम्मे साफ़ दिख रहे थे, शायद 34 साइज़ के होंगे. अचानक आंटी फिर मेरा लंड पकड़ कर चूसने लगीं।मैंने कहा- आंटी अब नहीं हो पाएगा।तो आंटी ने कहा- ऐसे कैसे नहीं होगा. ये सेफ जगह नहीं है, मैं इस घर की बहू हूँ और पापा जी की नज़र में आप गिर जाओगे।”बस दो मिनट !”मैंने सलवार खोली, उसने चूम लिया और सुपाड़े को रगड़ने लगा, मुझे घास पर लिटाया।अंकल यहाँ नहीं.

लगता है आपको कुछ ज्यादा ही प्यार करते हैं।तो माया मुस्कुरा कर मेरे पास आई और मेरे हाथ पकड़ कर बोली- तुम इतनी जल्दी क्यों परेशान हो जाते हो? तो मैंने बोला- तुम बिना बताए अचानक यहाँ आ गईं और मुझे नहीं दिखीं. तो सुबह 10 बजे आँख खुली।मेरा उससे हटने का मन नहीं कर रहा था।मैंने उसके लिए चाय बनाई और उसे जगाया।इतने में दरवाजे पर घन्टी बजी और देखा कि पूजा वापस आ गई थी।उसने हँस कर पूछा- कैसी रही तुम्हारी रात?योगिता ने पूजा से कहा- राज़ अब मेरा है.

उसे मेरी इस हरकत के बारे में पता लग गया है और वो हमेशा मुझे ये करते हुआ देखने लगी थी।मेरी बहन की फिगर भी 32-26-34 की ही है.

ऐसा बोल कर नीता मेरे पास आई और उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मुझे चुम्बन करने लगी।मैंने भी उसी की तरह चुम्बन करना शुरू किया. जो इस बेदर्द से प्यार कर बैठी।बस दोस्तों आज के लिए इतना काफ़ी है। अब आप जल्दी से मेल करके बताओ कि मज़ा आ रहा है या नहीं. फिर आगे उनकी चैट देखने लगी।सलीम- मेरी तो फैंटेसी है आनन्द कि अपने सामने अपनी खूबसूरत पत्नी को तुम्हारे जैसे वाइल्ड इंसान से चुदवाऊँ।आनन्द- फिर देर किस बात की है?सलीम- आनन्द भाई… आप कैम पर आओ ना.

Chacha Se Fees Ke Liye Chudiदोस्तो, मेरा नाम निशा है, मैं 19 साल की हूँ, गुजरात की रहने वाली हूँ।आज मैं आपको मेरी पहली चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ।मेरे एक चाचा हैं उनका नाम वीर है, वो हमारे दूर के रिश्तेदार हैं, उनकी उम्र करीब 38 के आसपास है और वो अकेले ही रहते हैं। वो अकसर हमारे घर पर आते-जाते रहते हैं।मेरे पापा की तो कई साल पहले मृत्यु हो चुकी थी. तो उसने एक झटके में बगैर कुछ ज़्यादा सोचे ही ‘हाँ’ कर दी।हम कुछ दिन बाहर मिलते रहे, हमारी कोचिंग क्लासिज भी एक ही थीं।हम दोनों इतने बिंदास हो चुके थे कि फ़ोन पर हमारी बातें सुन कर तो राखी सावंत भी शर्मा जाए और फिर धीरे-धीरे हम दोनों मेरे घर पर ही मिलने लग गए।वो जब पहली मर्तबा हमारे घर अपनी गोल-गोल तशरीफ़ (उर्दू में गांड को तशरीफ़ भी कहते हैं) ले कर आई थी. इसी तरह ऐश्वर्या राय, माधुरी, मनीषा, प्रियंका, दीपिका पादुकोणे, रिया सेन, करीना कपूर, करिश्मा कपूर, कटरीना कैफ़, रानी मुखर्जी और मेरी फेवरिट आयशा टकिया की नंगी और कामुक तस्वीरें थीं।मैंने ये सब देखा तो मुझे हैरानी हुई और मैं गरम भी होने लगी।फिर मैं उठी.

मेरा पूरा लंड उनकी चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया।वो दर्द के मारे कराहने लगी।फिर थोड़ी देर रुक कर मैं फिर से धक्के लगाने लगा।लगभग 10 मिनट बाद मैं उनके ऊपर लेट गया और मेरा माल उनकी चूत में ही निकल गया।फिर हमने एक-दूसरे को पकड़ लिया और सो गए।फिर मैंने भाभी की गाण्ड कैसे मारी.

बीएफ पिक्चर इंडियन बीएफ: इसलिए मैं बेडरूम और हॉल का नजारा भी देख सकता था।अन्दर रोमा पूरी नंगी होकर भाग रही थी और उसको चोदने के लिए उसका सगा भाई रोहन पूरा नंगा होकर उसका पीछा कर रहा था।रोहन का लंड मेरे लंड से बड़ा और सख्त था. चाहे वो मेरी बीवी ही है।’विमल ने शशि का नंगा जिस्म बाँहों में उठा लिया और उसको बिस्तर पर ले गया। अवी ने मुझे उठा लिया और मैं और शशि साथ-साथ नंगी ही बिस्तर पर चित्त लेट गईं।दोनों मर्द लोगों के लंड रॉड की तरह खड़े थे।‘साली साहिबा.

फास्ट।भिखारी अपनी पूरी ताक़त से चोदने लगा, उसका लौड़ा भी फूलने लगा था, अब उसका किसी भी पल ज्वालामुखी फूटने वाला था।भिखारी- उह उह उह मेरा भी उहह आने वाला है. आह।’अवी ने मेरे बाल पकड़ लिए और घोड़े की लगाम की तरह खींच कर मुझे धकापेल चोदने लगा।अब उसका लंड मेरी कोख से टकराने लगा। बाज़ू में अपनी सहेली और अपने पति को देख कर मेरी उत्तेजना की कोई सीमा ना रही और मैं झड़ने लगी।‘ओह्ह. उसके बाल पकड़े और उसके मुँह में अपना लण्ड डाल दिया।सोनम भी जल्दी छुटकारा पाने के लिए मेरा लण्ड पकड़ कर रगड़ते हुए चूसने लगी। सोनम की चुसाई से यह तो पता लग गया कि सुनील सर ने इसे चूसने की ट्रेनिंग अच्छी दी है.

अब मैं चाचा से चुदने की सोचने लगी थी। आप मेरी कहानी के अगले भाग में पढ़िएगा कि क्या चाचा जी मुझे चोदा या वे रिश्तों की डोर में मुझे नहीं चोद पाए।आप ईमेल जरूर कीजिएगा।कहानी जारी है।.

थोड़ा सा अंधेरा होने लगा।तभी हमने महसूस किया कि सब लोग पार्क से जा चुके थे। हालांकि साधारणतयः ऐसा होता नहीं था…अकेलेपन का फ़ायदा उठा कर वो मुझसे बोला- निकी. अब मुझे भी लगा कि मेरा होने वाला है।मैंने अपनी गति और बढ़ा दी, वो भी चुदते-चुदते वापस मस्त हो गई और गालियाँ बकने लगी।‘मादरचोद. पर इतनी आसानी से वो कहाँ निकलने वाला था।इस वक़्त वो अपने पूरे होश ओ हवाश में खड़ा हो चुका था। वो उस वक़्त इतना सख्त हो चुका था कि मेरी वी-शेप की चड्डी में नहीं मुड़ पा रहा था।माया ने कई बार उसे दबा कर एक बगल से निकालने का प्रयास किया.