राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट

छवि स्रोत,जेंट्स सेक्स मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

लड़कियों की सेक्सी बीएफ: राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट, वे ये कह कर सोने चली गईं … क्योंकि कल रात की उनकी नींद बाकी थी और आज रात भी उन्हें मजे करने थे.

सेक्स करता वीडियो दिखाओ

पूजा सब समझ चुकी थी, उसने मुझे हाथ पकड़ कर रोका और मेरे बिल्कुल पास आकर खड़ी हो गई. g से मुस्लिम लड़कियों के नामउनके हाथों में इतनी ताकत थी कि मैं बिल्कुल खिलौने जैसे उनके दबाव में आ गई.

मेरे पति अपना आधा लंड ही मेरी गांड में अन्दर बाहर करके मेरी गांड चोदने लगे. योगी सेक्सफिर मुझे नीचे की तरफ करके, मेरे ऊपर आ गयी और मेरे मुँह के ऊपर अपनी चुत रख दी.

तो मैंने उसको बोला- आपको बस से परेशानी है और आप इसी में आराम कर रही हो? थोड़ा नीचे उतरो, फ्रेश हो जाओ, आपको अच्छा लगेगा.राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट: मुझे तो मालूम ही नहीं था कि लंड चूसना, चुत चाटना, या गांड मारना भी सेक्स होता है.

ऐसा कहते हुए मैंने जोर से पुनीत का लंड पकड़ कर अपने मुँह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगी.मैंने उसका पता ले लिया और फिर व्हाट्सएप पर मैंने उसकी फोटो भी मांग ली.

सनी लियोन की सेक्सी फिल्में - राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट

मैंने इधर उधर देखा, दादाजी के रूम का दरवाजा खुला हुआ था और अन्दर से टेबल लैंप की लाइट बाहर आ रही थी.मैं अपना लंड उनकी चूत में पूरा बाहर निकालकर झटके से अन्दर डालता और दोबारा बाहर निकालकर फिर झटका दे मारता, जिससे वो गाली पर गाली बके जा रही थीं.

वो बोली- हां बात तो आपकी सही है लेकिन राज अभी थोड़ा कंट्रोल करो, घर आने ही वाला है. राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट साथ ही चुदाई के समय चूत को लगातार सिकोड़ती और छोड़ती रहती है, जिससे लंड पर चूत का तगड़ा ग्रिप बना रहता है.

थोड़ी देर बाद मैंने महसूस किया कि वो धीरे धीरे मादक सिसकारियां ले रही है.

राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट?

मैंने देखा कि गुड़िया तो चुदने की तैयारी के साथ अपनी बुर को क्लीन शेव करके आई थी. उसमें से एक काला आदमी उठा और मेरी बहन के मम्मों पर जोर से झापड़ मारते हुए उसकी चूचियों को दबा दिया. अनवर का सीना भी मेरे सीने से मिल गया और मैं अनवर के बाजुओं में पूरी समा गई.

मेरे साथ के इतने साल के रिश्ते को वो एकदम से भूल कर अभिषेक से ऐसे चिपका हुआ था. उसने कहा- इधर आओ!लेकिन मुझे किसी का ऐसे मुझ पर हुकुम चलाना पसंद नहीं था, मैंने पलटकर जवाब दिया- अगर तुम्हें काम है तो तुम आ जाओ।वो चलकर मेरे पास आई और मुझसे कहने लगी- इतना एटीट्यूड किसलिए दिखा रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं।हालांकि मैं दोपहर की बात को लेकर डरा हुआ था. उससे बातें करते हुए मुझे लगने लगा कि वह अपने लंड के साथ छेड़खानी भी कर रहा है.

मेरे हाथ अपने पैरों के नीचे दबा लिए और अपनी चुचियों को मेरे लंड पर रगड़ने लगी. उसकी चूत को देखकर लग भी नहीं रहा था कि इसमें से तीन बच्चे निकाले हुए हैं साली ने. मैंने तभी उसका हाथ पकड़ कर अपने तने हुए तड़पते लौड़े पर रख दिया और मस्ती में दबा दिया.

उसने मुझसे कई बार बातों-बातों में बोला भी कि वह कितने दिन से लंड के लिए तड़प रही है. वो नीचे से अपनी कमर उठा-उठाकर चिल्ला रही थीं और बड़बड़ा रही थीं- आहहह और चोदो मेरी चूत को … आज मत छोड़ना … इसे भोसड़ा बना देना.

फिर सोचा कि आज इसको पटा ही लूं …मैंने बोला- एक बात बोलूं?तो बोली- हां बोलो.

तब उसने कहा कि तुम मुझे एक घंटे का समय दो, मैं तुम्हें कुछ दिखाना चाहती हूं.

मैंने एक कालेज में एडमीशन लिया और वहीं किराए का कमरा लेकर रहने लगा. जब उसका लंड पूरा खड़ा हो गया, तो उसने भी मेरी बहन की चूत में अपना लंड पूरे दम से पेल दिया और अन्दर बाहर करने लगा. वो अपने घुटनों को मोड़ के नीचे बैठ गई और मेरे आठ इंच के लंड को अपनी जुबान से आइसक्रीम की तरह ऊपर से नीचे चाटने लगी.

सच में मेरे देवर ने आज मेरी चूत को चोद कर मेरी प्यास को शांत कर दिया था. साली कुतिया आंटी ने अपना मुँह खोल दिया और बोलीं- मुझे प्यास लगी है. बातों बातों में मैंने रात की बात का ज़िक्र किया, तो वो रोने लगीं और बोलीं- मेरे तो भाग्य ही फूट गए हैं.

हमेशा की तरह मैं अपनी साड़ी और पेटीकोट कमर तक उठा कर, कमर का ऊपर वाला हिस्सा मतलब मेरा पेट मम्मे और सर बेड पर रख कर लेट गई.

मेरी मदमस्त चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी, प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बता दें. उसने मुझे अपनी एक ढीली सी जीन्स लाकर पहनने को दी, क्योंकि मेरी जीन्स चाय गिरने से गंदी हो गई थी … जो उसके बाथरूम में गीली पड़ी थी. अब मेरी पत्नी और नीरू ने पायल को बेड के कोने पर कर लिया और दोनों ने उसकी टांगें ऊपर उठाकर एक एक टांग फैलाकर पकड़ ली और मुझसे उसकी बुर पर अपना लंड लगाकर अंदर डालने को बोला.

मगर अब मैं कहां रूकने वाला था, अबकी बार मैंने अपनी जीभ को बाहर निकालकर सीधे उसकी चूत की‌ दरार पर रख दिया. चाची मेरा लंड लेने के बाद पागल हुई जा रही थी, मेरे होठों को चूस रही थी, मेरी कमर को नोच रही थी. जैसे ही मेरी जीभ रूपा की चूत की दोनों फांकों के बीच में से रगड़ खाती हुई उसकी चूत के छेद पर लगी, तो रूपा के मुँह से मस्ती से भरी हुई सिस्कारियां निकलने लगीं- अहह बहुत मज़ा आ रहा है मालिक … उम्म्ह… अहह… हय… याह… ह्ह्ह…रूपा की कामुक सिसकारियां सुन कर मैं और भी जोश में आ गया और रूपा की चूत के फांकों को फैला फैला कर उसकी चूत के छेद को अपनी जीभ से चाटने लगा.

उसकी इस मस्त चुदाई से मैं जल्दी ही आनंद में मस्त हो गई और अपने चरम पर पहुंच गई.

जितनी तेजी से मैं धक्के लगा रहा था, उतनी ही तेजी से अब नेहा भी नीचे से अपने कूल्हों को उचका कर मेरे धक्के का जवाब दे रही थी. अब उसने अपनी छाती खोल के बच्चे को दूध पिलाना शुरू किया, बच्चे के दूध चूसने की आवाज मेरे कानों में आ रही थी.

राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट उन पांचों बंदों ने मुझे देख कर अपनी लुंगी आदि खोल दिए और लंड सहलाते हुए मुठ मारने लगे. फिर शाम 4 बजे तक और दो बार जमकर चुदाई की और शाम की फ्लाईट से मैं वापस आ गया.

राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट तो जगत अंकल बोले- सेक्सी वन्द्या अब थोड़ा ऊपर नीचे बैठो … धीरे धीरे अन्दर बाहर होगा, तो दो-तीन मिनट में तुम्हें जन्नत लगने लगेगी. बैठते ही लता बोली- हेमा के साथ कहाँ तक पहुंचे हो?मैंने कहा- जहाँ तक आपने देखा था.

उनकी रखैल बनने के बाद सारी उम्र राज करेगी और जैसे जीना चाहेगी जियेगी.

नवरात्रि का गरबा

उसने कहा- ठीक है, मैं मम्मी को बोलूंगी कि आप मुझे पढ़ाने के लिए तैयार हैं. अंकल बोले- पहले तो तुम जब कान में बोलो तो अंकल मत बोलो, मुझे सिर्फ जगत बोलो. ये सभी दृश्य मेरे दिमाग में खलबली मचाते हुए मुझे उकसा रहे थे और मुझे झकजोर रहे थे कि ये वही मर्द है, जिसके लंड और जिस्म की कल्पना भी तुझे पागल कर देती थी और जिसकी अंडरवियर भी तुझमे कामुकता पैदा कर देती थी.

ललिता से मुलाकात मेरी एक शादी में हुई थी, शादी मेरे एक दोस्त की बहन की थी, वहां पर मैं भी काम में हाथ बंटाने गया था. मैं भी उसकी चूत मारने के लिए मरा जा रहा था लेकिन अभी कुछ देर और उसकी चूत को चाटने का मज़ा लेने लगा था।अब वो बोलने लगी- अब नहीं रहा जा रहा … मुझे चोदो!और उसने मेरी पैंट खोल कर मेरे लण्ड को अपने हाथ में ले लिया और उससे खेलने लगी. अब तो मैं पूरी जान लगाकर उसका दूध पी रहा था और साथ साथ मेरा एक हाथ उसकी जाँघों पर और दूसरा पेट पर था.

यह सोचते हुए कॉलेज और कोचिंग से आते हुए मुझे शाम हो गई, लेकिन मेरा मन डरा हुआ था.

जब से तू मुझे सामने से दिखी और कार में बैठी, तब से तुझे और तेरी चूत पाने के लिए मेरा लंड पैन्ट को फाड़े डाल रहा है. फिर उसकी सलवार को खोल दिया और पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को किस करने लगा. अब उन्होंने अपनी पोजिशन को और भी मज़बूत बनाने के लिए अपना एक पैर खटिया पर रख दिया और अपनी स्पीड बढ़ा दी.

दूसरी बोली- अरे वाह … तुम्हारे तो मज़े हैं फिर सारी रात अन्दर डलवा कर पड़ी रहती हो. जब उसके फोन में जांच-तलाश करने में लगा हुआ था तो वो एकदम दुकान में वापस आ धमकी. भाभी- ओके कल मैं आपके भैया के साथ अपनी माँ के घर जा रही हूँ, मैं वहां से आके आपसे बात करूँगी.

मानसी- चलो।सुशीला- नहीं … हम कमरे में चलते हैं।मैं- चिंता मत करो भाभी, मेरे होते हुए कोई तकलीफ नहीं … यहाँ एक मेला लगा है, वहाँ घूम कर आते हैं।सुशीला कुछ नहीं बोल पाई।हम सब वहाँ गए। मैंने दोनों को दो आइसक्रीम खरीद कर दी. मैंने अपने कपड़े निकाल कर अपने लंड को आजाद किया और गुड़िया की चिकनी बुर पर किस किया.

मुझे तो मालूम ही नहीं था कि लंड चूसना, चुत चाटना, या गांड मारना भी सेक्स होता है. मैंने उनके हाथ को ठीक से पकड़ा तो मैम ने अपनी उंगलियां मेरी उंगलियों में फंसा दीं. शायद सुलेखा‌ भाभी फिर से उत्तेजित होने लगी थीं इसलिए उनकी सांसें भी अब गहरी हो गयी थीं.

तब जगत अंकल ने बोला- तू चिंता ना कर … ये दोनों वही ठेकेदार हैं, जो तेरे लिए आए हैं.

‘ऊऊ … क्या है? कुछ देर और लेटी रहो ना …’ सुलेखा भाभी पर पड़े पड़े ही मैंने कुनमुनाते हुए कहा. मैं अपने देवर का मोटा लंड अपनी चूत में लेकर उछल रही थी और वो बिस्तर पर चित्त लेट कर अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मजे ले रहा था. उसने मेरी गांड पे क्रीम लगाई, उंगली घुसाई फिर लंड को निशाने पे रखा और पेल दिया.

वह बुड्ढा मियां मेरे कूल्हों में थप्पड़ मारने लगा और बोला- क्या लाल लाल तेरे कूल्हे हैं रानी. जब मैं उसका लंड अपने चूतड़ से रगड़ रही थी मैंने ऐसा किया कि मेरी चूत का पानी भी निकल गया.

वो हर एक दिन छोड़ कर आता और मेरी बीवी को रगड़ रगड़ के चोद कर चला जाता. मैं उसके रस भरे मम्मों को मसलता और ऊपर से उसके जिस्म का मजा लेने लगा था. फिर शिवा कहने लगा- सर वो मैडम हैं ही हुस्न की परी, देखते ही जी करता है उनको बांहों में भर लूँ.

राजस्थानी सेक्स गर्ल वीडियो

मैं- मैडम, मज़ा आ रहा है ना, आप तो इतने में ही रोने लगी हैं, मानो पहली बार किसी मेहमान ने आपकी चूत का दरवाजा खटखटाया हो.

उस दिन सिंगल रूम खाली नहीं था तो मजबूरी में मैंने डबल्स वाला रूम लिया था. जबकि सुखबीर ने मुझे ऐसे सुझाव देने शुरू कर दिए थे, जैसे मैं कोई अबला नारी हूँ. टीवी पर एक काले लंड वाली शानदार ब्लू फिल्म चल रही थी, जो अरुणा को पसंद थी.

बहरहाल मनीषा की सलाह पर नीना ने अपनी चूत में अन्दर-बाहर चारों ओर दिन में चार-पांच बार बोराप्लस क्रीम को रब किया और साथ ही ब्ल्यू इंक भी लगाई. जो मेरे बारे में नहीं जानते हैं, उनके लिए बता दूँ कि मेरी फिगर बहुत अच्छी है. फिल्मी स्टेटस डाउनलोडमैं यह देखने के लिए कि भाभी नाराज तो नहीं है, नीचे गया और मैंने फिर कहा- सॉरी भाभी जी.

तभी वह मन भरण अंकल मेरे पीछे से लिपट कर मेरे कूल्हों को फैला कर अपनी नाक मेरी गांड के छेद में रगड़ने लगे और बोले- वन्द्या सच में तेरी गांड से अच्छा दुनिया में कुछ भी नहीं है. थोड़ी देर बाद जब मैं उसे ऐसे ही चोद रहा था, तो वंदना को भी मजा आने लगा और वह अपनी गांड उठाकर चुदवाने लगी.

उसकी दर्द भरी आवाज सुनकर मुझे मेरे लंड पे बहुत गौरव हुआ, सच में बड़ा मर्दाना एहसास हुआ था. मैंने जब किसिंग करते-करते उसके मम्मों पर हाथ फेरा तो वो और भी मस्त हो गई और मेरे कपड़े उतारने लगी. घर आते आते कुछ देर हो गयी थी और वो भी नशे में था, सो मैंने मदन से कहा कि आज रात तुम यहीं सो जाओ और अपने घर पर फोन करके बोल दो कि तुम आज अपने किसी दोस्त के घर में सो रहे हो.

अचानक मुझे अपनी योनि की फांकों के बीच उनका लंड गड़ता हुआ महसूस हुआ, समझ में आते ही मैं हड़बड़ा गयी और इसी हड़बड़ाहट में टेबल पर गिर गयी. फिर वो अचानक से चिल्ला भी नहीं सकीं, क्योंकि उनका मुँह मेरे मुँह से दबा था और मैं उनको ज़ोर-ज़ोर से किस करता गया और धक्के लगाते गया. उसकी चूचियों के निप्पल गुलाबी थे … मगर जिस निप्पल को मैंने अभी तक चूसा था, वो एकदम लाल और तन कर कठोर हो गया था.

वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुराई और मुझसे बोली- तुम भी मुझे बहुत अच्छे लगने लगे हो जानू.

मैं बाथरूम जाने के लिए उठा और नीचे उतरा तो देखो वो औरत बेबी को लेकर बैठी थी. मैं जिस वक्त अपने रूम में ब्लाउज और पेटीकोट में थी, उसी समय मेरा देवर मेरे कमरे में आ गया और उसने मेरे करीब आकर मुझे पकड़ लिया.

जो अभी नए आए थे, वो बोले कि साली जितना ज्यादा चिल्लाएगी, उतना ज्यादा मजा आएगा. लाल टॉप और काली लाल छींट की लॉन्ग स्कर्ट चेहरे पर काला चश्मा देखकर गाना याद आ गया ‘गोरे गोरे मुखड़े पे काला काला चश्मा …’मैंने उसे अपने पीछे आने का इशारा किया और वो स्कूटी लेकर मेरे पीछे पीछे आ गई. फिर भी उसे कोई अफसोस नहीं था, क्योंकि चूत के रास्ते उसके पूरे शरीर में मस्ती समाई हुई थी जिसे वह भूल नहीं पा रही थी.

नूपुर भी इठला कर बोली- अच्छा बेटा … ठीक है … आप अभी मेरे मजे ले लो … असली मजे तो मैं आपके लूँगी, यहां आने के बाद फिर मैं भी बताती हूँ आपको. मेरे मन की तो मानो मुराद पूरी हो गई और मैं बाइक पर सवार हुआ और उड़ते हुए सोहन के घर पहुंचा. मैंने भी चाची को जोर से दबोच लिया और उनके बदन को अपने बदन से रगड़ने लगा.

राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट इस बात को लेकर मालिनी ने मुझे फ़ोन किया और मुझसे सुझाव लेने लगी कि उसे क्या करना चाहिए. जेठ जी बड़े ही उतावले हो गए थे, मुझसे फोरप्ले करने की बजाए, वह मुझे जल्द से जल्द नंगी करने पर तुले थे.

गांव की लड़कियों का सेक्सी फिल्म

मैं सोच रहा था कि मैं उसको फोन कर लेता हूँ लेकिन वो एक लड़की थी, मैंने सोचा कि कहीं उसको बुरा न लग जाए. क्या होंठ थे, इतने दिनों बाद किसी स्त्री के बांहों में होना मुझे तरन्नुम दे रहा था. हाँ … ऐसे ही चूसते रहो, तुम आज इनका पूरा रस पी जाओ और निचोड़ दो इनको!फिर उन्होंने अपने बूब्स पर मेरे सर को दबाते हुए मुझे अपने बूब्स का बहुत मज़ा दिया.

मैंने जाके पीछे से उसे अपनी बांहों में ले लिया और उसकी गर्दन के पीछे किस करने लगा. बस्स … अब … एक बार में तो ऐसी हालत कर दी कि अभी तक बदन दुख रहा है … मेरी हिम्मत नहीं है अब … बाकी की दवाई अब तुम‌ उन दोनों से ही ले लेना …”सुलेखा भाभी ने‌ ताना सा मारते हुए कहा और मेरे पास से उठकर फिर से अपने कपड़े ठीक करने लगीं. सेक्स साड़ी वाली सेक्सीअब मेरी आंखों के सामने बड़े बड़े सेब के आकार की उसकी दोनों चूचियां आ गयीं, जिनके काले लम्बे निप्पल बिल्कुल तने हुए थे.

करण पाल यह सुनकर गुस्से से लाल पीला हो गया और उसने जोर से आवाज़ लगाते हुए मेरी बीवी को बुलाया- अनु भाभी … अनु जी … सुनिए.

मैं उस पर एकदम से सवार हो गया और उसकी चूचियों को मसलते हुए जोर शोर से चोदने लगा. स्कर्ट इतनी छोटी थी कि जब वह चेयर पर बैठी तो उसकी स्कर्ट और थोड़ी पीछे हो गई और उसके पट और ज्यादा दिखाई देने लग गए.

मैंने मुस्कुराते हुए उससे कहा- अरे रूपा डार्लिंग जरा यहां खड़ी हो जाओ. नेहा को इस बात का अहसास तब हुआ, जब उसका सार मुँह मेरे वीर्य से भर गया और उसको सांस लेने में दिक्कत होने लगी. हमारे कॉलज में कुछ स्ट्राइक चल रही है, तो मैं यहाँ कुछ समय के लिए आया हूँ.

दोस्तो, किसी शादीशुदा औरत को देखकर मुठ मारने में भी बहुत आनन्द आता है.

अचानक मैंने महसूस किया कि कोई औरत जो मेरे बगल में टाइट जीन्स और पूरा बांह वाली टी-शर्ट पहनी थी और साथ में उसने एक शॉल भी लिया हुआ था. तो वो घोड़ी बन गई और मैंने लगातार धक्के मारते हुए और 10 मिनट तक उसको चोदा. लेकिन तभी मुझे नानाजी के जाग जाने का ध्यान आया और हम लोगों ने कल की तरह गलती न करने की नसीहत लेते हुए रवि मामा के फार्म हाउस जाने का फैसला लिया क्योंकि आज हम लोग किसी भी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहते थे.

सेक्स करते वीडियो देखना हैमैं भूल गया था कि टीवी में डीवीडी ऑन होने की वजह से पॉर्न चल जाएगी. फिर वो नीचे की तरफ झुक कर मेरे लंड को मुंह में लेने के लिए राज़ी हो गई और मेरे लंड को अपने गर्म मुंह के अंदर लेकर चूसने लगी.

मेरे खेत में गोभी गोभी

पूजा भी शादीशुदा है, मेरा उसके साथ मेरे शादी से पहले से ही चक्कर है और मैं उसे तभी से चोदता आया हूँ. मैंने नुपूर को घोड़ी स्टाइल में किया और उसके पीछे से लंड लगा कर उसे चोदने लगा. मैं अपने दोस्त के कमरे में सोया था और हिना भाभी का कमरा बगल में ही था.

अब वो परेशान हो गयी क्योंकि करीब 10-15 मिनट के बाद उसकी ट्रेन मिस हो जाती। उसकी परेशानी को देखते हुए मैंने आगे बढ़ते हुए उसे स्टेशन तक ड्रॉप कर दिया। बस इस घटना के बाद वो मुझसे हँस कर हाय-हैलो करने लगी और इसी बात का मजाक बनाकर मेरे कलीग उसका नाम लेकर मुझे टॉन्ट मारने लगे। जबकि हकीकत यह थी कि मैंने उस एक मात्र घटना के बाद पल्ल्वी से दूरी भी बना ली थी. मैं उनकी मुस्कराहट का अर्थ तो नहीं समझ पाया लेकिन इतना जरूर समझ गया था कि सरोज चाची को मेरे लंड का स्पर्श या तो अच्छा लगा या फिर मैं अब भी कुछ गलत ही समझ रहा हूँ. अभी और एक ज़ोर का झटका मारा उनकी ज़ोर की चीख निकल गयी- बाहर निकालो इसे … अया आहह मैं मर गयी आहह!मेरा लंड आधा अंदर जा चुका था, मैं उनके होंटों पर अपने होंट रख कर चूमने लगा उनके मम्मों को दबाने लगा.

फिर मेरे पास बैठकर मेरा पेटीकोट और मेरी पैंटी दोनों को काट कर मेरी शरीर से अलग कर दिए. मेरी यह बात सुनकर एक बार तो वह थोड़ी गुस्सा हो गई लेकिन फिर जल्दी ही मान भी गई. लेकिन फिर भी मैं उससे बात न कह पाया, न ही उसने मुझसे कोई ऐसे बात कही, जिससे मुझे लगता कि वो मुझमें रुचि ले रही है.

वह अभी भी मेरी बातें सुनकर हैरान थी मगर कुछ देर सोचने के बाद बोली- मुझे बदनामी से डर लगता है. मेरा लंड फिर से उसकी चुत फाड़ने को तैयार था और दुबारा चुदाई का वो दौर चला.

मेरे शहर में मुझे बहुत मौके आए परंतु शहर में ज्यादा पहचान के वजह से और पत्नी के अलावा दूसरी लड़की या औरत की तरफ ध्यान देने का साहस नहीं हुआ और अपने शहर में मैं दूसरी का मजा ले नहीं सका.

उन्होंने मुझसे बोला- ले … मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ और थोड़ा पहले दो चार मिनट अपने मुँह से चूस ले. पीएम सेक्सीवो मुझे चूमते हुए बोली- तेरा स्टैमिना तो तेरे जीजा से बहुत ज्यादा है. जेल में सेक्सीयह सुनकर मैं खुश हो गया और कहा- सच में?उसने कहा- और नहीं तो क्या, अब मैं तुमसे मज़ाक करूंगी?उसकी बातें सुनकर मेरा लण्ड अभी भी खड़ा हुआ था. मैंने सन्नी को घुमा कर पूरा लौड़ा उसकी मस्त गांड में पेल दिया और झटके मारने लगा.

फिर उपिंदर ने वहीं फर्श पे लिटाया, टांगें चौड़ी की और मम्मी की खुली भोसड़ी में अपना लौड़ा पेल दिया और चोदने लगा.

कुछ पाठक मुझसे मेरी नायिकाओं का संपर्क नंबर मांगते हैं और मिलवाने की बोलते हैं, तो मेरा अनुरोध है कि सभी से मेरा रिश्ता विश्वास से ही बना है और मैं किसी का विश्वास नहीं तोडूंगा. मैंने उसे एक धीरे से गाल में प्यार से चपत मारी और कहा- चलो अब क्या देखते ही रहोगे. और फिर शाम को मैं एक बोतल व्हिस्की लेकर आया और हमने साथ साथ पी, रात भर मज़े किए.

उसने कहा- उसके बाद कोई मिली नहीं?तो मैंने बोल दिया कि अब तो सोच लिया है कि आपके जैसी ही कोई मिलेगी, तो ही प्यार करूँगा. तब सुनील बोला- आह अब यह आ गई अपनी लाइन पर … बहुत मस्त चुदक्कड़ है यार! इसकी चूत बहुत टाइट है. पुनीत मेरे बाल पकड़कर अपना पूरा लंड मेरे मुँह में घुसा कर अन्दर तक डाले दे रहा था.

भागोवाली सीरियल

तुम मुझे फ्रेंड मानती हो?उसने कहा कि कल जब हम चले जाएंगे तब क्या करोगे?मैंने उससे कहा- मैं तुमको बहुत चाहता हूं और जिंदगी भर चाहूंगा. बाहर यह सब देखकर मेरी हालत खराब हो रही थी, मैं गाउन पर से ही मेरी चुत को सहला रही थी. मैंने अब चाची की चूत की फांकों को खोलकर उसकी चूत के अंदर अपनी जीभ डाल दी.

भाबी अपने मम्मों को दबवाते हुए पागल हो रही थी और मेरे लंड को और जोर से चूस रही थी.

खाना खाने के बाद भाभी बोली- तुम यहीं ड्राइंग रूम में 10 मिनट बैठो, मैं आती हूँ, तुमने अन्दर नहीं आना है.

इसकी मम्मी भी आ रही है, उसकी एज लगभग 45 वर्ष है, पर वह इसकी मम्मी है, इसलिए उसको भी चोदना जरूरी है. 5 मिनट की धक्कापेल चुदाई के बाद वो एक तेज़ आह के साथ झड़ चुकी थी लेकिन मैंने अपनी रफ्तार कायम रखी जिससे उनकी चूत के पानी से फच्च फच्च की एक मधुर आवाज हमारी चुदाई में चार चांद लगा रही थी. दिलवाले फिल्म के गाने वीडियोउसने कहा- इधर कोई नहीं आता जाता है ये पूरा खंडहर है और ये घर मेरा ही है.

मैंने इधर उधर देखा, दादाजी के रूम का दरवाजा खुला हुआ था और अन्दर से टेबल लैंप की लाइट बाहर आ रही थी. जीजा जी ने धीरे धीरे करके मेरी चूत तक अपना हाथ रख दिया और वे चूत के ऊपर अपना हाथ फेरने लगे. आंटी हँस पड़ीं, तभी मेरी नज़र आंटी के फ़ोन पर पड़ी जो आंटी के हाथ में था.

दादाजी ने ही अपने दोनों हाथ सोनल के गाउन के ऊपर से ही दोनों स्तनों पर रखे और उनको मसलने लगे. उन्होंने मेरी एक टांग उठाकर अपने हाथ से साधी और अपने लंड को धीरे से मेरी चूत में पेल दिया.

फ़िर धीरे धीरे मेरे निप्पल को चाटते हुए नीचे आते हुए पूरे बदन को चाटने लगी.

फिर उन्होंने स्कर्ट को पीछे से ऊपर किया और मेरी चूत में अपनी हथेली को लगाया. मैंने मैम की साड़ी भी उतार दी, अब मैं उन्हें लाल रंग की ब्रा और पेंटी में देख कर पागल सा हो गया था. तभी मुझे ऐसा लगा कि अनिल आ रहा है, तो मैं वहां से झट से भागा और कमरे में आ गया.

हिंदी सेक्स चोदा चोदी वो भी मजे में मूड में हंस कर बोली- लो अब मैंने क्या किया मास्टर जी?कौशल्या जी आपके हाथ की चाय मुझे हमेशा मेरी पत्नी की याद दिला देती है, इसी लिए मैं हमेशा चाय पीने आपके घर आ जाता हूँ … आपको परेशान करने. फिर उसने झुकते हुए मेरी चूत को चूम लिया और ज़ुबान से मेरी चूत को कुरेदने लगी.

हाइट में छोटी होने के कारण सोनू को गोदी में लेकर चोदते हुए मुझे बड़ा मजा आता था लेकिन वह मेरा लंड बर्दाश्त नहीं कर पाती थी इसलिए भी मुझे वापस उसको बेड पर लेटाना पड़ जाता था और वह भी उसी पोजीशन में चुदकर ज्यादा खुश होती थी. मैं चाची के सामने आ गया और उनकी बेल सी तनी हुई एक चुची को मुँह में भर कर चूसते हुए, और एक हाथ से दूसरी चुची को मसलने लगा. वंदना ने मेरे पास आकर मुझसे पूछा- तुम परेशान क्यों देख रहे हो?तब मैंने उससे कहा- कल ही तो मिली हो और आज ऐसे छोड़ कर जा रही हो.

साउथ हीरोइन की सेक्स

अब मैं भी अपनी कमर उठाने लगी और महेश को गाली देकर बोली- कुत्ते और डाल अन्दर साले मादरचोद. हमारी जो उम्र की अवस्था है, जिसमें हम ज्यादा उत्तेजित और कामुक समय काल में होते हैं, उसमें जीवन साथी की क्या भूमिका होती है?”हां … मैं समझ सकती हूँ, आपके पास जीवन साथी न होने का दुःख है और मुझे जीवन साथी होके भी वो सुख नहीं है. तभी प्रिया अपनी चूचियां छोड़ कर अपने हाथ अपनी बगल में ले गयी और दोनों हाथे से पकड़कर अपने घाघरे का हुक खोल दिया.

फिर सुबह 9 के करीब निजामुद्दीन पर वे दोनों उतरने लगीं, तो सरिता ने थोड़ा पीछे रहकर सेक्सी स्माईल देकर बाय-बाय किया. उसने अपना मुँह मेरे चेहरे की तरफ किया, उसकी गर्म सांसें साफ सुनाई दे रही थीं.

लता भाभी की सफ़ेद जांघें और केले के पेड़ जैसी शेप की टांगें, सुन्दर गुदाज गोल चूतड़, गज़ब ढहा रहे थे.

फिर उसने पास में ही पड़ी हुई क्रीम की बोतल उठाई और काफी सारी क्रीम अपने लंड और मेरी चूत पर लगा दी और अपने लंड को मेरी चूत पर सेट कर लिया. फिर अगले 15 मिनट तक मैंने उसके दोनों स्तनों को चूस चूस के खाली कर दिया. मेरे दोस्तों ने कहा था कि बुर की सील तोड़ते समय एक बार जब लंड बुर में घुस जाए तो सील टूटने का दर्द खत्म होने तक लंड बाहर नहीं निकालना चाहिए, वरना लड़की दुबारा लंड नहीं डालने देगी.

नीरू ने बतलाया कि मैंने आज ही इसको बुर के रोयें को साफ करने को बोला था. दर्द के मारे मेरे आंखों से आंसू निकल आए, पर अंकल उठने नहीं दे रहे थे. भाभी- ऊऊहू … ऐसा क्यों होगा जरा बताओ तो मुझे भी?मैं- अरे भाभी आप इतनी सुंदर और हॉट हो ना तो … सॉरी बुरा मत मानना, हॉट बोला इसलिए.

फ़िर हाथ फ़ेरते फ़ेरते उसने मेरे आंड को मसलना शुरू कर दिया और लंड के आस पास चाटती रही और साथ में दूसरे हाथ से मेरे निप्पल को मसलने लगी.

राजस्थानी बीएफ सेक्सी हॉट: मैंने उसकी चूची को चूसते हुए अपने दोनों हाथ नीचे किये और घाघरे के ऊपर से उसके भरे हुए मासंल नितम्बों को सहलाने लगा. फिर बहन ने अन्दर आकर दरवाजे की कुण्डी लगायी और वो भी हमारे साथ शामिल हो गयी.

आज प्रिया का व्यवहार कुछ बदला हुआ सा लग रहा था, पहले तो वो मुझसे बच कर भागती रहती थी, मगर अब वो खुद ही चलकर मेरे पास आ गयी थी. मैं सहेली के भाई से बात कर रही थी कि तभी उसने मुझसे मेरा नंबर माँगा. जैसे ही अब गाड़ी चली तो राज अंकल ने बोला- सोनू, ये बहुत बड़े ठेकेदार और जमीदार हैं.

इधर जगत अंकल ने मेरे मुँह में अपना लंड डाल ही दिया था, तो मेरी चीख भी बंद हो गई थीं.

मैं अब धीरे धीरे धक्के लगाते हुए भाभी‌ की दोनों चूचियों को भी मसलने‌ लगा जिससे भाभी मचल सी गईं. गांड सिर्फ़ दो बार मारने मिली थी, पर उसमें मुझे बदबू के कारण मज़ा नहीं आया था. मैंने अपना लंड भी बाहर निकाल लिया था, तो एकता अपने हाथों से उसे भी ऊपर नीचे कर रही थी.