12 साल की बीएफ मूवी

छवि स्रोत,सेक्सी मध्ये

तस्वीर का शीर्षक ,

चोपड़ा की बीएफ सेक्सी: 12 साल की बीएफ मूवी, धीरे-धीरे उसने मेरे कंधे पर हाथ रख दिया, इससे मुझे जैसे कई करंट लग गया.

जीजा साली की बीएफ

अब अमित मेरी चुत के अन्दर लंड डाले ऐसे ही मेरे ऊपर चुपचाप लेटा हुआ मुझे जकड़े हुए था. साड़ी वाला सेक्सी बीएफ हिंदीमैं सतर्क हो गया था।मामा ने अपना सारा रस मीनू की चूत में ही छोड़ दिया था।मामा भांजी की चुदाई संपन्न हो गयी.

चुत के रस की चिकनाई से रोहन से भी रहा न गया और उसने अपना लंड रगड़ते रगड़ते ही अन्दर की तरफ धकेल दिया. सेक्स सेक्सी हिंदी सेक्सीमुझे देख कर भाभी बोलीं- अरे तुम … इतने दिनों बाद कैसे याद आ गई मेरी?मैंने भाभी को सब बताया.

मेरी बात सुनकर अब वो एकदम से थोड़ा खुश हुईं और बोलीं- सच में बेटा … तुम कर दोगे … उसके लिए मैं तुमको क्या क्या दे दूँ?मैंने बोला- मेरा घर यही पास में है और जो जो कागज़ मैं लिख देता हूं, वो आप मुझे दे दो.12 साल की बीएफ मूवी: फिर वो मेरे लंड की गोटियों को चूसने लगी और मेरे लंड को मुठ मारने लगी.

मैंने अपनी बातों को इतनी अच्छी तरीक़े से रखा था कि भाभी का दिल बहल जाए और वो खुलकर ना या हां करने से पहले सोच लें.बाहर मुँह मारने से नाम खराब होगा, तो तुमने जिस तरह उनकी मदद की, मुझे भी तुमसे वही प्यार चाहिए.

फिल्म ब्लू हिंदी में - 12 साल की बीएफ मूवी

उसके नाख़ून मेरी पीठ में चुभ रहे थे, तो मैं उसके रेशमी बालों को बिखेर रहा था.इतने दिनों तक जिन चूचियों को देखकर मुठ मारता था, आज वो मेरे हाथ में थीं.

एक दिन सीमा बोली- आप मेरे में क्या देखते हो?वो कुछ गुस्से से बोली … तो मैं डर गया मगर बोला कुछ नहीं. 12 साल की बीएफ मूवी मैं जीजू को देख कर वापस नीचे जाने लगा तो जीजू ने मुझे आवाज दी और ऊपर बुला लिया.

मैं पिज़्ज़ा का टुकड़ा अपने होंठों में दबा कर उसके होंठों में पकड़ाता, जिससे हम पिज़्ज़ा के साथ एक दूसरे के होंठों का भी रसपान कर रहे थे.

12 साल की बीएफ मूवी?

मैंने अब अपना जो वास्तविक काम था, उस पर आगे बढ़ने का निश्चय किया और हौले हौले उसके चिकने पेट को सहलाने लगा; साथ ही साथ उसके एक हाथ को अपने दूसरे हाथ से थामे रखा. मैं मदहोश हो गया और अपने थूक से गीली हो चुकी उंगली को वापस उसकी चुत में ठेल दिया. मेरी जितनी भी सहेलियां हैं … उनके घर में भी मुझे उनके पापा या भैया या उनके घर का कोई भी मर्द मुझको अश्लील भाव से ताड़ने का एक भी मौका नहीं छोड़ता था.

पति के गुज़र जाने के बाद शुरुआत के कुछ साल मेरे और मेरी बेटी के लिए बहुत मुश्किल के थे. वो बोली- बहुत दर्द हो रहा है विहान, मेरी कमर का पहले ही इलाज चल रहा था और आज ये झटका और लग गया ऊपर से।मैं बोला- मैं डॉक्टर के पास ले चलूँ आपको मौसी?वो बोली- नहीं, डॉक्टर के पास तो तेरे मौसा ले जायेंगे. ये हम दोनों का दूसरा राउंड था, इसलिए हम दोनों में से कोई भी जल्दी झड़ने वाला नहीं था.

अभी उसकीचुत की सील तोड़नाबाकी है, अगली बार उसकी चुत चुदाई की कहानी लिखूँगा. पूरा कमरा मेरी कामुक आवाजों से गूंज रहा था ‘आआआह आआआह ऊऊह मम्मीई ऊऊऊऊई मर गई आह. मैंने बड़ी चालाकी से उनसे ये कहते हुए उनका नंबर भी मांग लिया कि आपके नम्बर की जरूरत पड़ेगी और मुझे कुछ पूछना हुआ, तो आप अपना फोन नंबर दे दीजिए.

जेठजी मेरे ऊपर पूरी तरह से छा गए और मेरी दोनों बगलों से हाथों को ले जाकर नीचे से मुझे आगोश में ले लिया. मामाजी और मीनू दोनों ही बारी बारी से ऊपर आ गये और अपनी अपनी जगह पर लेट गये.

आज उन्होंने एक काली बहुत चुस्त लैगिंग पहन रखी थी और उसके ऊपर हल्के रंग की एक बहुत चिपकी और मस्त कुर्ती पहनी हुई थी.

मैं समझ गई कि जेठजी मुझे घुटनों के बल बैठा कर लंड चूसने को कह रहे हैं.

इस बार मेरा आधा लंड चुत के अन्दर चला गया और उसकी जोर से चीख निकल गयी. [emailprotected]हॉट आंटी सेक्स कहानी का अगला भाग:मां बेटी की चुदास मेरे लंड से मिटी- 2. मैंने कहा- मैं आज तुम्हारी चुत का भोसड़ा बना कर ही छोडूंगा, ताकि किसी से फिर न चुदवा पाओ.

सुरीली के धीरे धीरे से ऊपर-नीचे होने से उसने मेरी सहनशक्ति भी तोड़ दी. पंकज ने बोला- जानू, मेरी एक बात मानोगी?पूजा बोली- तुम्हारे लिए तो अब जान भी हाजिर है … बोलो क्या बात है?पंकज ने कहा- पूजा डार्लिंग, मैं तुम्हारी गांड का रस अपने लंड को चखाना चाहता हूँ … और मैं भी चखना चाहता हूं. जब वह थोड़ी सामान्य हो गयी, तो मैंने ड्रेसिंग से क्रीम निकाली और खूब अच्छी तरीके से उसकी चूत में लगा दी.

जब उसने बाइक रोकने को कहा तो हम वहीं पहुंच गये थे जहां पर हम लोग खाना खाते थे.

आकृति आंटी तो दिन में या कभी मुझे रात भर के लिए बुला लेती थीं, जिसमें कभी रिट्ज की चुदाई होती, तो कभी आकृति आंटी की. वो पानी पी रही थी कि अचानक उसे खांसी आई और उसका पानी का ग्लास गिर कर उसके कपड़ों पर गिर गया, जिससे वो आगे से भीग गई और इस भीगे कुर्ते से उसके बूब्स और ब्रा दिखाई देने लगे थे. एक बार रॉय ने मेरी चुत का रस चाटा था और एक बार जॉन के मुँह में चुत का रस निकला था.

तब उसने मुझे उस दिन के लिए थैंक्स कहा और ऐसे पहली बार हमारी बात हुई. बार डांसर की कहानी में पढ़ें कि पैसे के लिए मैंने जुआ शराब के अड्डे में नौकरी की. वो मेरे नीचे से हट कर बाथरूम में चली गई और मैं पलंग कि चादर लपेट कर बाहर आ गया.

जब मुझसे नहीं रहा गया तो मैं पूर्ण उत्तेजित हो उठी और झट से अपने दाहिने हाथ को अपनी दोनों टांगों के बीच ले जाकर जेठजी के लंड को बीच से पकड़ कर अपनी गीली चूत के मुँह पर रख दिया.

आज मेरे पास कंडोम था क्योंकि भाभी ने पहले ही बोल दिया था कि आज कुछ करेंगे, तुम सेफ्टी लेते आना. मुझे तो लग रहा था कि इसके टॉप में गले की तरफ से हाथ डालकर एक दूध मसल दूँ.

12 साल की बीएफ मूवी भाभी भी भांग के नशे में चूर होकर एकदम कामवासना के मद में मस्त हुई जा रही थीं. मैंने भाभी से कहा- अब चुदाई का काम शुरू करें?भाभी ने कहा- तेरे पास सेफ्टी है?मैंने पूछा- वो क्या होता है?भाभी बोलीं- मैं बिना कंडोम के सेक्स नहीं करूंगी.

12 साल की बीएफ मूवी फिर उन्होंने एकदम से मेरी चूत से लंड को बाहर निकाल लिया और मेरे मुंह पर उनके वीर्य की पिचकारी एकदम से आकर लगी. ये गरम गीली चुत स्टोरी आज से पांच साल पुरानी उस समय की है, जब मेरी नयी नयी जॉब लगी थी.

हम दोनों का ये युद्ध अति उत्साहित होने के कारण दस मिनट में ही समाप्त हो गया.

कोरियाई सेक्स

वो दोनों मस्ती में झूमती हुईं रेस्टोरेंट से बाहर निकलीं और मैं उन दोनों को संभालता हुआ बाहर लाया. अब उन्होंने अपने सामने ही मुझसे दीदी को चोदने के लिए कहा।मैंने कपड़े उतार दिए और मैं नेहा दीदी के पास गया. 9 जनवरी की रात जो ससुर और बहू की चुदाई हुई वो मैं कभी नहीं भूल पाती हूं.

उसने मुझे फट से अपने घर के अन्दर लिया और मुझसे पूछने लगी- कैसे करना चाहोगे?मैं चौंक गया कि घर में घुसते ही इसने सेक्स की बात की, ना पानी ना चाय …लेकिन मैंने उसको अपनी बांहों में उठा लिया और उसके होंठों पर जोरों से किस करने लगा. उसकी बिना बालों की चिकनी गुलाबी चूत गर्म हो गई थी।मैं समझ गया कि वो साड़ी के साथ ब्रा और पैंटी भी उतार कर आई है।उसने अपना हाथ मेरे लोवर में डाल कर लंड को सहलाना शुरू कर दिया।अब दोनों गर्म हो गए थे. उसने मुझे अल्ट्रासाउंड की जांच के लिए लिखा और एक पैथोलॉजी लैब की बताते हुए कहा कि वहां जाकर करा लेना.

लैटर में लिखा था:डिअर मॉम, पिछले कुछ दिनों में जो भी कुछ हुआ, वो अजीब जरूर था … पर बहुत अच्छा था.

अब आरिफा मेरे होंठों को चूसने लगी और जाकिरा मेरी पीठ को सहलाने लगी. इस बात पर भाभी को बहुत गुस्सा आ गया और उन्होंने अगले दिन ही दूसरी जगह कमरा ले लिया. फिलहाल मैं कॉलेज की पढ़ाई से आज़ाद थी और किसी से भी चुदने के लिए और कुछ भी करने के लिए मुझे पूरी स्वछंदता थी.

फिर उन दोनों ने कमरे का दरवाजा बंद किया और बेड के दोनों तरफ आकर खड़ी हो गयीं. मैंने दीदी जीजा जी दोनों से झूठ बोल दिया कि मैं यहां अपने किसी दोस्त की शादी में आया था, तो मुझे पता चला कि आप दोनों भी यहां आए हो. वो अचानक उठते हुए मुझसे चिपक गईं तो मैं समझ गया कि भाभी झड़ने वाली हैं.

भाभी के होंठों पर, गाल पर, आंखों पर, पूरे चहेरे पर, बालों पर, कान पर, गले पर, उनके रसीले मम्मों पर, उनके हाथों पर, उंगली पर किस करके उनको चाटने लगा. पांच मिनट बाद मैंने अपना लंड उसकी गांड पर सैट किया और मेरा लंड का टोपा अन्दर चला गया.

जिस तरह मेरा नाम सपना चौधरी है, उसी तरह की मैं दिखती भी एकदम असली वाली सपना चौधरी की तरह हूँ. मैंने कोमल की आंखों में देखा, तो उसकी आंखों में लाल डोरे तैर रहे थे. उनके साथ हुई इस रसीली हॉट वाइफ फंतासी स्टोरी को अगले भाग में लिखूंगा.

अब निशा भाभी उठ कर सीधी हुईं, तो उनकी चूचियां ब्रा की कैद से आजाद हो चुकी थीं.

सुरीली को इतना मज़ा आ रहा था कि वो अपनी आवाज़ काबू नहीं कर पा रही थी. मैं राज़ एक बार से एक गर्लफ्रेंड सेक्स चुदाई की कहानी लेकर हाजिर हूँ. रमेश मेरी चूची मसलते हुए बोला- आह क्या मस्त चूत है तेरी … एकदम गर्म.

निशा भाभी- अब देखते ही रहना है … या कुछ करना भी है?उनके इतना बोलते ही मैं फिर से टूट पड़ा और किस करने लगा. जब मॉम थक कर सो गईं तब बहन ने मेरे लंड को पकड़ लिया और बोली- भैन के लंड … मादरचोद … अब मेरी आग भी बुझा दे.

ऊपर भाभी दिखाई दीं तो मैं झैंप गया और भाभी जी हंसते हुए अदर चली गईं. आंटी मुझसे बोलीं- शायद इसको ज़्यादा चढ़ गई है, तुम इसको गोद में उठा कर इसके कमरे में छोड़ आओ. कुसुम ने कच्छे के ऊपर से अपने बेटे के लंड को पकड़ लिया और उससे खेलने लगी.

भोजपुरीxxxxxx

मैंने भी उससे कहा- मैं ठीक हूं, तुम अपना बताओ?उसने हालचाल बताया और बोला- जान … तुम्हारी बहुत याद आ रही है.

कुछ देर बाद आंटी खड़ी हुईं और एक बार फिर से मेरे होंठों को चूमते चाटने लगीं. अब मेरा नंबर था तो मैंने उसके सिर को पकड़ा और अपने लौड़े को उसके मुँह में अन्दर तक घुसा कर अन्दर बाहर करने लगा. नवीन की मौत पर कोई रिश्तेदार नहीं आया, तो मैंने भी सबसे नाता तोड़ लिया था.

मैं सन्न रह गई, मेरे मुँह से जोर की चीख निकल गई और आंखों में अंधेरा छा गया. वाइफ स्वैप सेक्स कहानी दो सहेलियों और उनके पतियों की अदला बदली करके चुदाई करने की है. सेक्सी पिक्चर आंटीहॉल से निकलते समय वो जल्दी उठ गया और मुझे मोबाइल दिखाते हुए आने के लिए इशारा करने लगा.

उस वक्त वो एक गर्म सिसकारी भर देती- आह ओह यस!फिर मैंने उससे कहा- जोया, अब प्लीज मान जाओ … मेरा लंड चूसो न!वो मान गयी और हम लोग 69 की अवस्था में आ गए. अबकी बार औऱ भी मजे से मेरा लंड सरसराते हुए उसकी चूत में घुस गया और वो उछलने लगी.

मैं अपनी अगली सेक्स कहानी में आपको बताऊंगा कि कैसे मेरे दोस्तों ने भी भाभी की जम कर चुदाई की. अपने बेटे के लंड को पकड़ते ही कुसुम को पता चल गया कि ये चुत के अन्दर जाकर कितनी तबाही मचा सकता है. कम से कम वो मेरे दोस्त के सामने तो एक ऐसी रूपवती लड़की थी जिसके सामने मेरा दोस्त एक भोसड़ से ज्यादा कुछ नहीं था.

मैं जेठजी को देख कर मुस्कुरा दी और अपने दोनों हाथों को फैला कर जेठजी को आगोश में लेने के लिए इशारा किया. वो बिंदास आगे बढ़ा और उसने सरिता भाबी का हाथ पकड़ना चाहा, पर सरिता भाबी ने उसको अन्दर खींच लिया. कागज देखा, तो उसमें एक नंबर लिखा हुआ था और दिन में फोन करने के लिए लिखा हुआ था.

मैंने उससे कहा- क्या तुम मुझे उसके पास ले जा सकती हो?तो वो मुझे कॉलेज के स्टोर रूम में लेकर गई.

अब मैंने कहा- घोड़े की सवारी करोगी?वो बोलीं- क्यों घोड़ी की सवारी से मन भर गया क्या?मैंने कहा- मेरी चांद तू तो रस का सागर है, तुझसे कैसे मन भर सकता है. वो समझ गई थी कि उसकी उम्र के कारण वह अब इस तरह देर तक चुदाई नहीं कर सकती, पर विजय का लंड तो खड़ा था.

वो जोर जोर से आवाजें कर रही थी- आह्ह … मामाजी … आह्ह … ईईस्स … ऊईई … आह्ह … नहीं … ऐसे मत करो … आई … आह्ह … मेरी चूत … आह्ह … मर जाऊंगी … आह्ह … मामाजी. और नीचे का बड़ा छेद जो है उसमें लंड घुसता है। और नीचे वाले बड़े छेद में से ही बच्चा निकलता है. उन दिनों मैंने 12 वीं का एग्जाम दिया था और कुछ काम ढूँढ रहा था, जिससे मैं भी घर पर कुछ पैसे दे सकूं.

वो पजामे के ऊपर से मेरा लंड पकड़ने लगी तो मैंने पजामा और टी-शर्ट दोनों को खोल दिया. उनकी उम्र 48 वर्ष है और वो दिखने में बहुत स्मार्ट और एक अच्छे शरीर के मालिक हैं. मैंने उसकी पूरी बात को ध्यान से सुना, तो समझ गया कि एक छेद लंड के लिए उपलब्ध हो सकता है.

12 साल की बीएफ मूवी फिर मैंने थूक लेकर सोनू की गांड के छेद पर लगाया और अपने लंड के सुपारे पर भी थूक लगा कर छेद में लंड सैट कर दिया. तभी मैं भी मजा आने से सिसकारने लगा क्योंकि ऐसा मेरी जिन्दगी में पहली बार मजा आ रहा था.

एक्स एक्स डिजाइन

मैंने इसी का फायदा उठाया और अपने दोनों हाथों से उसके चेहरे को पकड़ा और अपने प्यासे होंठों को उसके गुलाब जैसे होंठों से चिपका दिया. मैं उनको देख कर अपने मन में सोचता था कि कामदेव ने भी उनको कितनी फुर्सत से बनाया होगा. मैंने आंटी से आंटी बोला तो वो बोली मुझे आंटी नहीं … आकृति बोलो, सिर्फ तुम्हारी आकृति.

मैंने उनके कंधे को सहलाना शुरू कर दिया और वो मेरे लंड को मेरी लोअर के ऊपर से ही सहलाने लगीं. मैंने सोचा कि कहीं दीदी को कुछ हो तो नहीं गया है?मैं देखने के लिए उनके रूम में गया तो उनके रूम का दरवाजा खुला हुआ था. भोजपुरी बीएफ डाउनलोडिंगकुछ पल बाद मैंने अपने ब्वॉयफ्रेंड से कहा कि मुझे अभी ऑफिस के एक क्लाइंट से मिलने जाना है.

पहले तो मैंने सोचा कि वो ऐसे ही झूठ बोल रहा है, पर उसके बार बार बोलने पर मैंने सोचा कि इसकी मदद कर देता हूँ.

मुझे तो लग रहा था कि अभी ही उसे पकड़ कर अपना पूरा लंड उसकी चुत में उतार दूं और उसे चोद चोद कर भोसड़ा बना दूं. उसके बाद उसने नंगी ही टेबल पर पिज़्ज़ा लगाया और मेरी गोद में आकर बैठ गयी.

फिर मामी ने पूछा कि अमन घर में बनाने के लिए क्या है और क्या खाना पसंद करोगे?मैं बोला- जो रखा हुआ है वही बना दीजिए. मुस्कराते हुए वो नीचे बैठ गयी और उसने मेरे अंडरवियर को नीचे कर दिया. और किस्मत होगी तो फिर इसी बस में मिलेंगे।थोड़ी देर बाद वो नीचे उतर गई और मैं लेटा रहा.

तभी मैंने अपना लौड़ा उसकी गांड के ऊपर रखा और धीरे-धीरे अन्दर की ओर धक्का मारने लगा.

एक दिन शीना किसी पान की दुकान से सिगरेट खरीद रही थी तो पीयूष भी वहीं आ गया. वो जल्दी से बैग की तरफ देखने लगीं और बोलीं- क्या है इसमें?मैंने कहा- बैग खोल कर देख लो. कोमल शर्म के मारे लाल हुए जा रही थी लेकिन कामुक सिसकारी के अलावा उसने अपने मुँह से कुछ नहीं कहा.

ভিডিও সেক্সের ভিডিওउनकी चौड़ी सी छाती सामने आ गई उनकी मर्दाना छाती पर काफी घने बाल थे. फिर नासिर जी बोले- बात ये है कि वो ग्राहक है, उसे औरतें बहुत पसंद हैं.

घर में कुआं होने से क्या होता है

मैंने उसे जाते हुए देखा, तो उससे ठीक से चलते नहीं बन रहा था मगर वह आराम आराम से चल रही थी. इससे कुसुम की मादक सिसकारियां निकलने लगीं- आह उंह आह ऐसे ही रोहन … और कसके दबाओ … आह कर लो अपने मन की मुराद पूरी. अचानक मुझे रोने की आवाज सुनाई देने लगी, तो मेरा ध्यान स्नेहा की ओर गया.

मैं नंगी आईने के सामने खड़ी होकर अपने बदन को निहारते हुए सोच रही थी कि आज मेरे जिस्म की प्यास बुझने वाली है. शायद रजनी कपड़े बदल रही थी।अंधेरे में कुछ पता नहीं चला में चुपचाप लेटा रहा. और किस्मत होगी तो फिर इसी बस में मिलेंगे।थोड़ी देर बाद वो नीचे उतर गई और मैं लेटा रहा.

आंटी एक पैग पीने के बाद मुझे अपने मायके और अपने बचपन के बारे में बताने लगीं. आंटी की चूत ने पानी छोड़ दिया और मेरा लौड़ा गर्म पानी से भीग गया; फच्च फच्च फच्च फच्च की आवाज होने लगी. मुझे उसका लंड अपनी चुत की गहराइयों में आता जाता बड़ी सनसनी दे रहा था.

मैंने जोर से उसको अपनी बांहों में भींच लिया था, जिससे उसके बोबे पिचक कर मेरे सीने से पिसने लगे थे. उसके बाद मैं बेड पर पैर सीधा करके बैठ गया और उसको खींचकर उसे अपने लंड पर बैठा लिया.

तभी मामाजी मुझसे बोले- मुझे अपने एक मित्र के साथ बिजनेस के सिलसिले में मिलने जाना है.

मेरे घुटने मोड़ कर उसने चुत का एक चुम्मा लिया और दोनों पैर को अलग करके जगह बना ली. गुजराती एक्स एक्स बीपी वीडियोउसने अपने फोन में मुझे एक वीडियो दिखाया, जिसमें मेरी आंखें बंद थीं और मेरा ब्वॉयफ्रेंड मेरे निपल्स चूस रहा था. மருமகள் புண்டைलंड चुसाई के बाद उसने मेरे लंड पर वैसलीन लगाई और अपनी गांड के छेद को भी वैसलीन से चिकना कर लिया. उसकी फिर से एक तेज़ सिसकी निकली और मैं उसके साथ चुदाई की धकापेल करने लगा.

मैंने सुनील से पूछा- यार, तुमने इतने कम समय में ये कैसे कर दिया?उसने कहा कि मुझे बड़े बड़े चुच्चे बहुत पसंद हैं.

फिर हम दोनों वैसे ही पड़े रहे, दोनों को बहुत खुशी थी क्योंकि दोनों को आज जन्नत का मज़ा मिला।हम दोनों एक साथ बाथरूम गये और मैं उसको गोद में लेकर वापस आया।उस रात हमने 4 बार चुदाई की. पांच मिनट लंड चुसवाने के बाद उसने मुझे लिटा दिया और मेरी टांगें उठा कर चुत में लंड पेलने लगा. पर जीजू ने कुछ कहा नहीं, बस मेरी तरफ देख मेरे सामने लंड हिलाया और चले गए.

मामा चोदने में मग्न थे।फिर मीनू ने अपनी टांगों से मामा की गांड को कस कर पकड़ लिया; उसकी टांगें मामा की गांड पर लिपट गयी थीं।मीनू का बदन एकदम से अकड़ गया और वो मामा से चिपट गयी।ये देखकर मेरा वीर्य निकलने को हो गया. मैं आपको बता दूँ कि जोया और मेरे बीच स्कूल टाइम से ही सब कुछ खुला चलता था. फाइनल राउंड की बारी आई तो लकी ने फिर पेल दिया अपना मूसल सारा की चूत में।काफी देर की धक्कम पेल के बाद सारा माल उसने सारा की चूत में डाल दिया.

प्रियंका चोपडा सेक्स व्हिडिओ

रमेश और अंजलि 69 की पोजीशन में थे इसलिए रमेश को मेरी बीवी की चुत चाटने में आसानी थी. मैंने मजाक में ही उससे चुचियां दिखाने के लिए बोला, जो कि मुझे लगता था कि संभव नहीं होगा. लवली ने मुझे ऐसे चिपका लिया जैसे कि हम दोनों को फेविकॉल से चिपका दिया हो.

मैंने देखा कि उनके रूम का टीवी चालू था और वो पलंग पर लेटी हुई अपने पैरों के बीच में अपने हाथ से कुछ कर रही थी.

मैं सोच रही थी कि नवीन के पास खूब पैसा है, तो मुझे अब किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं रहेगी.

फिर मैं बोली- तो कहां चोदेगा?जय बोला- मैं एक होटल का एड्रेस दे रहा हूँ … तू वहां आजा. वो बोली- क्या हुआ?मैंने कहा- अब सिर्फ बातें ही करते रहनी हैं या सही से मिलना भी होना है?वो हंस कर बोली- मिल तो गए और कैसे मिलते हैं. चोदा चोदी सेक्सी वीडियो भोजपुरीउसकी चूत से निकला गर्म खून और क्रीम की चिकनाई से अब मैंने लौड़े को जोर जोर से अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

मैंने कहा- मुझे भी ऐसे ही मजा दो तब तो मुझे मालूम चले कि ठंडी आइसक्रीम से कैसा लगता है. फिर एक अंडकोष को अपनी एक हथेली में लेकर मुँह में डाल लिया और उसे टॉफ़ी की तरह चूसने लगी. पापा बोले- बेटा अब तुम खुद ही देख लो, मैं क्या करूं … मुझे भी ज़रूरी काम है.

मुझे उसके बारे में बाद में मालूम हुआ कि ये लड़की इस बिल्डिंग में अकेली रहती थी. वो वापस मुड़ने को हुआ ही था कि कुसुम की आवाज ने उसे रोक लिया- रोहन मैं यहीं हूं.

दो तीन धक्कों में रमेश का लंड पूरी तरह से मेरी बीवी कि गांड के अन्दर घुस गया था.

मैं सुरीली के चुच्चों को लगातार मरोड़ रहा था और उन पर चांटे मार रहा था. मैंने बड़ी चालाकी से उनसे ये कहते हुए उनका नंबर भी मांग लिया कि आपके नम्बर की जरूरत पड़ेगी और मुझे कुछ पूछना हुआ, तो आप अपना फोन नंबर दे दीजिए. वे अपने दोनों हाथों से मेरी कमर को पकड़कर धक्का लगा रहे थे, मुझे पीछे अपनी तरफ खींच रहे थे.

सेकस हीनदी वो एकदम से सहम गई और बोली- यार …मैंने उसकी बात काटते हुए कहा- कुछ मत बोलो बस. मामा चोदने में मग्न थे।फिर मीनू ने अपनी टांगों से मामा की गांड को कस कर पकड़ लिया; उसकी टांगें मामा की गांड पर लिपट गयी थीं।मीनू का बदन एकदम से अकड़ गया और वो मामा से चिपट गयी।ये देखकर मेरा वीर्य निकलने को हो गया.

ये देसी गांड सेक्स कहानी तब की है, जब मैं जवानी की दहलीज पर कदम रख ही रहा था. जब तूफान शांत हुआ तो जेठजी मेरे ऊपर से उठ गए और अपने कपड़े पहनने लगे. अब पीयूष ने धीरे से अपना लौड़ा निकाल कर उसके मुँह पर रख दिया तथा उसके होंठों पर झटके देने लगा, जिससे शीना और ज्यादा गर्म हो रही थी.

प्रियंका चोपड़ा सेक्सी ब्लू

उसने कहा- तुमको जल्दी क्या है … डर रहे हो क्या? आराम से बात करते हैं ना. अब मुझे इंतज़ार था रिट्ज का, वो भी एक बहुत सेक्सी सी कॉस्ट्यूम में बाहर आई. मैंने कहा- बताओ न यार?वो हंस कर बोली- तुमने गांड पर हाथ रखा है तो क्या करना चाहोगे? मैं तो उसी दिन तुम्हारी नीयत समझ गई थी जब तुम मुझे घूर कर देख रहे थे.

मेरी इस हरकत से मायरा ने आंखें बंद कर लीं और अपनी पीठ मेरी बांहों में टिका दीं. इतनी देर में उसके दिमाग में ऑफिस के सारे खूबसूरत चेहरे अपने बिस्तर पर उसका लंड चूसते दिख गए.

मैंने अपनी घड़ी में टाइम देखा, मुझे बाथरूम में आए एक घंटा हो चुका था.

सुबह जब सब लोग वापस जाने की तैयारी कर रहे थे, तभी जीजू आए और मुझे अपना व्हाट्सैप नंबर देकर बोले- वीडियो कॉल पर बातें करेंगे. उसकी टांगों को जितना हो सके उतना चौड़ा कर दिया और जोर जोर से चुदाई करने लगा. शेखर- रोहन बेटा, तुम अपने कमरे में जा कर नहा धो लो, फिर हम खाने पर मिलते हैं.

तो मैंने सोचा कि कल पहले एकाध को चोद कर लंड की भूख शांत कर लेता हूँ, फिर इस अनीषा की तो मां की चुत … साली को चाहे जब पटक कर चोद दूंगा. फिर अगले 10-15 दिन तक ना तो मैंने मुठ मारी … ना तो किसी के साथ सेक्स किया. अंकल को जब इसका अहसास हुआ तो उन्होंने मुझे एकदम से पकड़ लिया और मुझे अपने से एकदम सटा लिया.

रोहन ने धीरे से अपने मुँह को कुछ आगे को किया और उसने अपनी मॉम के होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

12 साल की बीएफ मूवी: मैंने भी मुस्कुरा कर कहा- मुझे आपके स्वाभाव ने बहुत खुश किया है, आप बहुत ईमानदार आदमी हैं. मैंने उससे बिना कुछ पूछे अपने ढके तेज किए और अपना पूरा उसकी चुत के अन्दर ही निकाल दिया.

मेरे होंठ सरकते हुए अब उसके चिकने पेट पर आ चुके थे और अपने होंठों से में उसके पेट को चूम रहा था, चूस रहा था. फिर भाभी बोलीं- अच्छा ये बताओ … तुम्हें कैसी लड़की पसंद है?मैंने झट से बोल दिया- आपके जैसी. पीयूष मदहोशी में था; वो बोला- कभी ना कभी तो लंड को अपनी बुर में लेना ही पड़ेगा … क्यों ना आज तुम अपने भाई का लंड ही ले लो.

मगर फिर एक दिन मैं उनके सामने ऐसे एक्टिंग करी जैसे मैं उनकी दलीलों से हार मान गया हूँ।तो मेरी अम्मा ने तो पहले से ही दो तीन लड़कियां तो नहीं कह सकते हाँ दो तीन औरतें ढूंढ रखी थी।एक तलाक़शुदा थी और दो विधवा थी।मुझे इन तीनों की तस्वीरें दिखाई गई.

उसने सारे कपड़े उतार लिए और अपनी पैंटी को जैसे ही उतारना चाहा, उसे गीलापन महसूस हुआ क्योंकि वह तो मैंने ही गीली कर दी थी. तभी भाभी ने मेरा लंड पकड़ लिया और मुझसे कहने लगीं- अमन, आज मुझे खूब चोदो … आज मुझे पूरी औरत बना दो अब मुझसे चुदे बिना रहा नहीं जा रहा है … मुझ पर रहम करो … मैं बहुत प्यासी हूं. मैं उत्तेजित हुए जा रही थी … मुझे भी मर्द का साथ बहुत अच्छा लग रहा था.