बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,इंग्लिश सेक्सी वीडियो लड़की

तस्वीर का शीर्षक ,

ಸೆಕ್ಸ್ ಬ್ಲೂ ಫಿಲಂ ಸೆಕ್ಸ್: बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी, अगले दिन मैंने ऑफिस बॉय को कहा कि आज सिर्फ बारह बजे तक ही पेशेंट देखूँगा.

सेक्सी युद्ध

योनि के गहरे रंग के होंठ खुले और राशिद के लिंग का अग्रभाग उसमें गायब हो गया।मेरी हैरानी की इन्तहा न रही. सेक्सी वीडियो करते करतेमुझे अपने सामने करके भाईजान मेरे चूतड़ों पर हाथ लगा कर दबाते हुए मुझे अपने पास को खींचा और अपने मुँह को मेरी चुत पर लगा दिया.

उनका मेन गेट जाली वाला था, पर घर गली में था इसलिए उनके घर को उस टाइम में ही देख सकता था. मराठी सेक्सी विडिओ क्लिप3-4 मिनट चाटने के बाद मैं उठा और उसी पोज़िशन में ही अपना लंड सामने से ही मम्मी की चूत में डाल दिया और हल्का हल्का शावर भी चला दिया.

वीर्य की एक बड़ी बूंद टोपे के छेद से निकली जिसे उसने जीभ से उठाया और पी लिया.बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी: सुकन्या जी ने अपना पता वगैरह सेंड करके बता दिया और साथ ही साथ गाड़ी या बाइक लाने के लिए भी मना कर दिया था.

मैं बैठ गया, भाबी मुझसे चिपक कर बैठ गईं और मैंने अपने हाथ भाबी के ब्लाउज पर फेरने शुरू कर दिए.इसलिये मम्मी और चाचियां अपने अपने सुबह के काम निपटा कर हमेशा बन संवर कर तैयार ही रहती हैं.

करीना कपूर वीडियो सेक्सी - बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी

और मोटा होने के साथ ये बहुत मजबूत भी है, क्योंकि मैं रोज सरसों के तेल से अपने लंड की मालिश करता हूँ.दअरसल वो पढ़ने में बहुत होशियार थी और मैंने उसको काफी हेल्प की, इसके चलते वो मुझसे काफी इम्प्रेस हो गई थी.

मैं अब क्या करूं, रूकूँ या जाऊं; मेरे समझ में कुछ भी नहीं आ रहा था. बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी फिर खाना खाने के बाद भाभी को तैयार किया गया और भैया भी तैयार हो गए।जब भाभी तैयार हुयी तो वह बहुत सुन्दर लग रही थी, उनकी ननदें यानी मेरी चचेरी बहनें उनको अन्दर कमरे में ले गयीं और बिस्तर पर बैठा दिया.

भले ही हमारी शादी नहीं हुई है, पर हैं हम दोनों एक पति पत्नी की तरह ही.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी?

मैं खाना खाकर अपने कमरे में चला गया और सोने की कोशिश कर रहा था मगर अपनी सौतेली बहन डॉली के बर्ताव की ओर दिमाग़ जा रहा था. मेरी कहानी के पहले भाग में अब तक आपने पढ़ा कि मेरी सहेली तबस्सुम मुझे खुल कर जीने के लिए अपनी चूत का इस्तेमाल करने के बारे में बता रही थी. उसके लंड चूसने से मुझे मजा बहुत आने लगा और मैं उसकी चुत में उंगली करने लगा.

मैंने मना किया तो वो बोलीं- सुरक्षा समझ के ले ले और हमारी गोपनीयता को बनाए रखने में सहयोग कर!मैंने पैसे लिए और वापिस आ गया।फिर मैंने चाची से थोड़ी देर बात की और अपने काम में व्यस्त हो गया. और मैं उसकी पीठ पर अपनी उंगली चलाने लगा। पीठ पर मेरी उंगली की थिरकन से उसे भी मज़ा आने लगा था और मैं जो भी लिखता वो उसे जानबूझकर 2 या 3 बार लिखवाती और फिर उसका जवाब देती।मैं भी अच्छे से समझ चुका था कि अब यही वो समय है कि मुझे अपने मन की बात उसे बात देनी चाहिए और मैंने उसकी पीठ पर लिखा ‘आई’उसने आसानी से सही जवाब दे दिया. मैंने निडर होकर पूछा- क्या हुआ?तो बोलीं- तुम्हारे चाचा को काम से फ़ुर्सत ही कहां है.

उनकी मदमस्त जवानी को देखकर एक पल के लिए तो मैं भी भूल गया था कि ये मेरी मॉम हैं. उसकी ख़ुशी देख कर मुझे भी बहुत ही अच्छा लगा कि मैंने किसी को खुश किया. करीब 3-4 मिनट तक आंटी ने मुझसे छूटने की कोशिश की पर मेरे लगातार होंठ चूसने चूचियां दबाने से शायद आंटी गर्म हो रही थी तो उन्होंने मेरा साथ देना तो शुरू नहीं किया पर विरोध बंद कर दिया.

मेरे गिरते ही ज्योति मुझसे बेल की तरह लिपट गई और मुझे बेतहाशा चूमने लगी. बापू सोच में पड़ गया कि क्या इसको नींद में भी महसूस हो रहा है… जो इसकी चूत इतनी भीग गयी है?बापू ने पहले ऐसा सोचा, फिर अपने आप से कहा कि चलो देखता हूँ कि उस टीचर ने इसकी सील को तोड़ दिया है या नहीं, अगर सील बंद होगी, तो ऊपर ऊपर ही चोद लूंगा और अगर सील टूटी हुई निकली तो अन्दर अपना पूरा लंड घुसा दूंगा.

भाभी की चौड़ी और गुदाज कमर और गाण्ड उनके पारदर्शी गाउन में से साफ़ दिखाई दे रही थी.

फिर उसने अपने खड़े लंड को चूत के मुँह पर रखकर एक बहुत जोर का झटका मारा.

वो मुझे कुत्ते कुतिया की चुदाई के बाद दोनों की चुत लंड फंसने के सीन के बारे में बताता हुआ डरा रहा था. सच में पहली बार चुत के रस का टेस्ट लिया था, कितना एक्साइटिंग एक्सपीरियंस था. इन भैया को जाने दो, मैं स्टेशन भिजवा दूंगा!पर दिनेश मुझे छोड़ना नहीं चाहता था, बोला- भाई साहब, इनका गाना सुन लें, गांव में बहुत गाया और लोग इसरार करने लगे!मैंने गाना गाया, वह एक फ्यूजन सों था जो रैप और हमारी बुंदेली लोक धुन राई को मिला कर बना था.

इसके बाद छोटी चाची ने दारू अपने मुँह में भरी और वे दोनों वीर्य के साथ दारू का मजा लेने लगीं. दुबारा बापू ने फिर वही किया और इस बार जैसे ही उसका लंड पद्मिनी की चूत के छेद में घुसने को था, पद्मिनी ने फिर एक चीख़ देते हुए गांड को ऊपर उठा लिया और लंड फिर निकल गया. ये सब कहते हुए दोनों घुटनों के बल नीचे बैठ गईं और मेरे 8 इन्च लम्बे और तीन मोटे फ़ुल साईज लंड को बड़े गौर से देखने लगीं.

अब मैंने रोज़ भाभी के घर जाना शुरू कर दिया और भाभी भी मुझसे खूब हंस हंसकर बातें करने लगी थीं.

कहकर दोनों हंस पड़ते। अगर कोई दोनों की पसंद का होता तो- हाय! हंक है यार. अब जब भी मुझे मौका मिलता, मैं भाभी को इशारा कर देता और हम दोनों चुदाई कर लेते. थोड़ी देर होंठ चूसकर मैंने कहा- जान… तेरी चूत है या अँधा कुआं… बहनचोद इतनी ढेर सारी मलाई और ऊपर से ढेर सारा लावा… सब का सब लील गई.

बापू ने पद्मिनी की चूतड़ों की दरार में हाथ डाल दिया और उसकी गांड के छेद में साबुन लगाया. हाय दोस्तो, मेरा नाम राज है और मैं नीमच मध्यप्रदेश में रहता हूँ, मैं पिछले 3 महीने से ये सेक्सी चुत की कहानियां पढ़ रहा हूँ और मुझे भी ये कहानियां पढ़ना अच्छा लगता है. जो भी उसके मन में आ रहा था, वो सब मनोहर बोलते हुए मेरी चूत को ताकत के साथ चोदने लगा.

हम साथ में घूमने जाते, पसंद न पसंद की बातें करते और मूवी देखने जाते.

इसका असर यह हुआ कि दो तीन चुदाइयां देख कर ही उसकी भूखी चूत को कुछ ज़्यादा ही भूख लगने लगी. बेड की चादर पर भी ब्लड लग गया था जिसे हिमानी ने बाथरूम में ले जाकर तुरंत धो दिया और उसपर टोवल डाल दिया.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी उसकी नाभि गहरी थी जैसे किसी नदी में कोई भंवर हो… पूजा के होंठ थोड़े से खुले हुए थे. इस उम्र में भी एकदम टाइट था, मुझे विश्वास नहीं हो रहा था।फिर उन्होंने धीरे धीरे मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मुझे बेड पर लेटा दिया और वो मेरे पूरे शरीर पर किस करने लगे.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी मैं हैरान होकर बोला- मैम, आपकी बेटी इतनी बड़ी है, फिर भी आप आज भी उसकी सिस्टर लग रही हैं. फिर जब मैडम मुझे मिलीं तो पूछने लगीं- कैसा रहा?मैं बोला- जबर्दस्त!तो वो बोलीं- कुछ और धूम धड़ाका करना है?तो मैंने कहा- नहीं, बहुत हो चुका!तब वो बोलीं- पके हुए खाने को ना नहीं कहते!तो मैं बोला- अभी पेट भरा हुआ है, कहीं अपच हो गई तो! इसलिए पहले इसे पच जाने दो।चूँकि रात बहुत हो चुकी थी तो मैं घर जाकर सो गया.

अन्तर्वासना के प्रबुद्ध पाठको, आप मेरी मदद करें, आप ही मुझे बतायें कि मैं क्या करूँ?मैं अब 19 का होने वाला हूँ और वो 21 की हो गई है पर वो आज भी पहले जैसी ही है और मैं थोड़ा बड़ा हो गया हूं.

मूवी सेक्सी सेक्सी वीडियो

मैं और सुमन दोनों बैठ कर बातें कर रहे थे, तभी टुटू आई और बोली- क्या बातें हो रही हैं. अपना रस किधर निकालूँ?उन्होंने कहा कि उनकी चुत प्यासी है उसी में झड़ जा. चल चूत में लंड डाल और ऐसा चोद कि तेरे अलावा वन्द्या को किसी का लंड पसंद ही नहीं आए.

मैंने निशाना लगाया, पर उनकी चूत छोटी होने की वजह से मेरा लंड फ़िसल गया. चूँकि मामी की हालत तो बिगड़ी हुई थी तो मैंने उन्हें उठाया, चादर बदली, वीर्य वगैरह साफ किया और कपड़े पहनाकर सुला दिया. वो हमेशा ही मुझसे बोलती थीं कि सब्जी कम खाया कर और दूध ज्यादा पिया कर.

उसका रंग गोरा है, हाईट कोई 5 फुट 9 इंच की है और वो अभी पढ़ाई कर रहा है.

सुमेर- हमारी बात केवल हाजिरी पर साइन की है।शशि- हां ठीक है।सुमेर ने अपनी पैन्ट की जेब से कमरे की चाबी निकाली और उसे दी- जाकर कमरे में बैठो, मैं आता हूं, हम दो लोग हैं।शशि देवेश की ओर देख आंखें फाड़ने लगा. अब दीदी भी मुझे गाली बकते हुए चुदाई का मजा लेने लगी-भैन के लंडसाले चोदने में दिमाग लगा. तब मैं अपने बैग में से क्रीम की शीशी लाया, दिनेश के लंड पर मली और लौंडे की गांड में अपनी ही क्रीम वाली उंगली डाल दी.

मैंने मिसेज़ रानी को जगाया, वो अपना सर पकड़े उठी, बोली- हैंग ओवर से सर फटा जा रहा है. मैं पार्क के हनुमान मंदिर वाले गेट पर पहुंचकर उनका इंतज़ार करने लगा. मैं शादीशुदा हूँ, मेरी शादी 3 साल पहले हुई है। मेरे पति बिजनेस के सिलसिले में अक्सर बाहर रहते हैं, मैं एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करती हूं, अभी तक मेरी कोई संतान नहीं है, मैं घर पर अकेली रहती हूं, मेरे पति महीनों महीनों में घर आते हैं.

फिर 5 मिनट के बाद जब वो वापस आयी, तो मैं तो उसको बस देखता ही रह गया. इधर मैंने ज्योति की पैंटी उतार दी और मैं ज्योति की चूत की तरफ आ गया.

इस तरह थोड़ी देर तक लगातार करते रहने से मेरी दो उंगलियाँ आरुषि की गांड के अन्दर आसानी से आने जाने लगी। फिर मैंने उसकी गांड और अपने लंड पर उसी के बैग से निकाल कर एक क्रीम लगाई और लंड को उसकी गांड में डालने का प्रयास किया।इधर मेरे टोपे में भी जलन होने लगी तो लेकिन फिर भी मैंने किसी तरह अपना टोपा आरुषि की थोड़ी देर की और मेहनत और दर्द को सहन करते हुए अब लंड आरुषि की गांड में अपनी जगह बना चुका था. मैं जब कमरे के पास पहुँचा तो वे तीनों शशि, सुमेर व देवेश कमरे में थे, मुझे बाहर उनकी बातें सुनाई दे रहीं थीं. फिर बोली- तुम्हारे पास कितना टाइम है?मैं बोला- तुम्हारे लिए तो टाइम ही टाइम है.

मैंने अब अपने हाथ उसके पैंटी पर डाले और उसे निकालने की कोशिश करी लेकिन उसने अपनी पैंटी ज़ोर से पकड़ ली.

अब मैंने उसको एक बार फिर से घोड़ी बनाया और उसकी चूत को किस करने के बाद उसकी गांड को किस किया. खैर उसने आते ही पूछा कि खाना खा लिया?मैंने कहा- नहीं मैं तुम्हारा इंतज़ार कर रही थी. मैं अपनी चुत साफ़ करके कपड़े पहन कर रंडियों के बाज़ार में कस्टमर को पकड़ने के लिए जैसे बैठ गई.

आपने क्या एड्रेस किया!वगैरह वगैरह… वे कमरा आते तक लगे ही रहे।कमरे में एक ही खटिया थी, मैंने कहा- नीचे बिछा लें?वे बोले- ठीक है।हमने नीचे फर्श पर बिस्तर लगाए, मेरे पास एक ही रजाई थी, मैंने कमरे पर आते ही अपने कपड़े उतार दिए, अंडरवियर बनियान में आ गया. फिर भाबी ने अचानक मेरे अंडरवियर में हाथ डाल कर मेरा खड़ा लंड बाहर निकाल लिया और जोर जोर से चूसने लगीं.

फिर मेरी कमर में हाथ डाल कर मुझे चिपका लिया उनका लंड मेरे पेट में गड़ रहा था. थोड़ी देर बाद सोनू ने मेरी स्कर्ट खींच दी और अपनी ही माँ को नंगी कर दिया और खड़े होकर मुझसे लिपट गया. ये हमारी मम्मी कम और रंडी ज्यादा है!और इतना कहकर उसने उसके बाल पकड़े और साड़ी खोल दी!शीतल बोली- तुम लोग बातें करो, मैं कपड़े चेंज कर के आती हूँ.

हिंदी सेक्सी वीडियो 2005

फिर मैंने पास में रखे गद्दों के ढेर पर मोटी वाली को लिटाया और उसकी टांगों को एक दूसरे से दूर करते हुए उसकी योनि को खोला इसकी योनि पर भरपूर बाल थे.

वह जानती थी कि मैं रुकने वाला नहीं तो मज़े से चूतड़ दबवाने का मज़ा क्यों न लिया जाए. फिर मैंने एक ज़ोरदार धक्का लगा दिया तो उसकी चूत में मेरा पूरा लंड चला गया. लिविंग रूम के अन्दर वो घिनौना खेल चल रहा था, जिसकी कल्पना मैंने कभी सपने में भी नहीं की थी.

जैसे ही उसके पापा को कमरे में बंद किया, वो फिर मेरे गले लग गयी और रोते हुए थैक्स बोली. मंजू मचल पड़ी और दोनों हाथों से मुझे अपने सीने से लगाने लगी!अब मैंने मंजू के दोनों हाथों को उसकी कलाई से पकड़ा और बिस्तर में उसके ऊपर आ गया! और उसके होंठ चूसने लगा. पिक्चर सेक्सी में वीडियोतो मैं कह रहा था कि वे भाभी भी मेरी मॉम के साथ हमारे घर पर आती रहती थीं.

मैंने अन्दर आकर अपने हाथ में लिया उनका पैकेट उनके हाथ में दिया और कहा- ये लीजिये आपका सामान और अब मेरा इनाम दे दीजिये. वो मुझसे खुल कर सेक्स की बात करने लगी उसे और मुझे ऐसी बात करने में बहुत मज़ा आता था.

बस अब लंड चूत में मिलन के लिए आतुर था, पर मैंने जल्दीबाज़ी नहीं की और उसके बालों को सहलाने लगा. आप जानते हैं कि यह अपराध होता है, अगर आपने अभी ज़रीन से माफी नहीं माँगी तो मैं आपके खिलाफ केस करूँगा. मैंने कहा- ठीक है, गाड़ी निकालो और तुम अभी मेरे साथ मार्केट में चलो.

जैसे ही मैं कुतिया बनी, उसने अपना मूसल मेरी चुत में घुसेड़ कर और मेरे ऊपर चढ़ते हुए मम्मों को निचोड़ना शुरू कर दिया. इस पर उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर अपने मम्मों पर रखवाते हुए मुझसे कहा कि आप मेरी पैमाइश ठीक से ले लीजिएगा… वर्ना बाद में आप ये न कहो कि ठीक से नहीं ले पाया था. मैंने पहले तो उन पर ध्यान नहीं दिया क्योंकि मैं अपने काम में ही बहुत व्यस्त रहता था.

उसने तो सब संकेत दे दिए थे तो अब यह जिम्मेदारी मेरी थी कि पहला क़दम उठाऊँ और चुदाई के लिए कोई जगह का इंतज़ाम भी करूं.

इन चार में से दो वो थीं जिन्हें देखने मात्र के लिए हमारे कॉलेज के आधे स्टूडेंट रेगुलर कॉलेज जाते थे और जिसकी भी बात होती होगी वो कभी ना कभी हिलाता जरूर होगा इनके नाम पे!खैर इन्होंने तो मुझे नहीं पहचाना और जो बाकी दो थीं, ये भी 30-32 साल के एटम बम ही थीं जिन्हें देखकर मेरी लार घुटनों तक टपकी और मैंने हाँ बोल दिया. हम दोनों सिल्क की चॉकलेट, फैंटा की बोतल और नमकीन आदि लेकर उसकी फ्रेंड के घर जा पहुँचे.

वो मेरे मम्मों पर टूट पड़ा और मेरी एक चूची को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. करीब 3-4 मिनट तक आंटी ने मुझसे छूटने की कोशिश की पर मेरे लगातार होंठ चूसने चूचियां दबाने से शायद आंटी गर्म हो रही थी तो उन्होंने मेरा साथ देना तो शुरू नहीं किया पर विरोध बंद कर दिया. सच कितने अच्छे हैं मेरे बारे भाई, जो अपनी छोटी बहन का इतना ख्याल रखते हैं.

?मैंने उनके कान में दादा जी के लंड को सैट करने का मास्टर प्लान बताया तो मॉम की चुत खिल उठी. मैंने लंड गांड से बाहर निकाल कर दोनों को लंड के सामने मुँह करके बैठाया और अपना लंड हिलाने लगा. कभी कभी मैं ही अंकल को कहा देती- अंकल, आज आप मम्मी को पहले चोद दीजिये.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी अंकल सुरेंद्र जीजा को बोले- यार तू अब वन्द्या के पीछे का मोर्चा संभालना, मैं इसके आगे चूत को और बूब्स को देखता हूं।अंकल ने अब मेरी टांगों को इधर-उधर फैलाया और मेरे जांघ पर किस करते हुए बिल्कुल मेरी चूत में पहुंच गए और अपनी उंगली डाल दी. और तभी शीतल ने कहा- अंजलि दीदी, आप तो बस पी रही हो, इस प्रभा के साथ कुछ कर भी नहीं रही हो, अरे जो दिल करे वो करिये आप दोनों, अपना ही माल समझ के!अंजलि सोचने लगी.

हिंदी सेक्सी वीडियो सेक्स हिंदी सेक्स

फिर वो मेरी गर्दन को किस करने लगा, फिर उसने मेरे गालों को चूसना शुरू कर दिया और अपने दांतों से चबाने लग गया. मैं जब भी किसी औरत की मसाज करता था, तब ये सब होता ही था, न जाने मेरे हाथों ये क्या जादू है. मैंने सुबह ही बाइक धोई थी और प्लान के मुताबिक बाइक की सीट पर बाइक शाइनर लगाया था, जिससे जो भी बैठा हो, वो जरा से ब्रेक या धचके में आगे की तरफ फिसल जाता है.

वही हाल मेरा है, मुझे रात में नींद नहीं आती है, मैं हमेशा जिस्म की प्यासी रहती हूँ। मैंने पिछले 3 सालों में केवल 10 या 12 बार सेक्स किया होगा, यदि औरत को एक बार सेक्स की लत लग जाए वह फिर सेक्स के बिना नहीं रह सकती, उसकाप्यासा जिस्मकुछ भी करवा सकता है. लेकिन मुझे गंदी भाषा लड़की के सामने बोलना पसन्द नहीं है और अच्छी लड़कियां भी गंदे शब्दों को सुनना पसंद नहीं करती हैं. बहुत-बहुत सेक्सी वीडियोमैंने भाभी के होंठों को अपने होंठों से बंद कर दिया और फिर से एक ज़ोर का धक्का मारा.

मैं अपना लंड कड़क करके उसके सामने जाता, जिससे मेरे पजामे में तंबू बना रहता और बिना अंडरवियर के मेरे लौड़े का आकार और लम्बाई अच्छे से दिखाई देती.

मैं खुद इतना गर्म हो गया कि बनाना-शेक दोनों की चुची पर डाल कर चूचे चाटने लगा. मेरे चूतड़ बहुत गोल और बाहर को निकले हुए हैं जिनको देखकर किसी का भी लंड खड़ा हो जाये.

जब वो जा रही थीं तो तेरा सारा ध्यान उनकी ऊपर नीचे होती हुई गांड पर था. पहले ये बताओ?मैंने कहा- मुझे ये मालूम है कि लड़कियां बिना कुछ कहे मर्द के मन की सब बात समझ लेती हैं, तो क्या मैं ये समझ लूँ कि तुम मेरे सवाल के पीछे छिपे भाव को समझ गई हो?इस पर वो कुछ नहीं बोली और बस मुस्कुरा कर कहने लगी कि मुझे कुछ नहीं बताना है यदि तुम मेरे लिए कुछ भी सोचते हो तो सोचते रहो. जैसे ही उसने मेरे चेहरे को हाथ लगाया वो समझ गयी कि मैं संजू नहीं हूँ, राज हूँ क्योंकि संजू ने दाढ़ी मूँछ रखी थी और मैं बिल्कुल चिकना बन कर गया था.

उन्होंने अन्दर पिंक कलर की ब्रा पहनी हुई थी और वो बहुत ही हॉट लग रही थीं.

मम-मैं नहीं!” मैंने चेहरा पीछे खींचा।उसने वहीं पड़ा अपना दुपट्टा उठाया, और उससे रगड़ कर राशिद के अपने थूक से गीले लिंग को साफ कर दिया।ले अब चूस. कुछ देर बाद जब क्लास ओवर हुई और मैं हॉस्टल पहुँचा, तब भी मेरे दिमाग़ में वही सब चल रहा था. अभी थोड़ा वक्त गुजरने दो, फिर तुम्हें महसूस होने लगेगी और तब देखना कैसे किसी चीज की रगड़ तुम्हारी खुजली को शांत करती है।”मेरे होंठ और गला सूखने लगे और अहाना ने मेरा दुपट्टा गले से निकाल कर किनारे डाल दिया। फिर चाक से पकड़ कर कुर्ता ऊपर खींचा.

बिहारी सेक्सी भेजेंउधर टीवी पर इमरान हीरोइन के कपड़े उतार रहा था, तो मैंने भी वही करना चाहा और उनकी कमीज को निकाल दिया. मैंने पीछे से उनके चूतड़ों की दरार में अपना 8 इंची लौड़ा टिकाया और उनके मम्मे भींचने लगा.

सेक्सी वीडियो हिंदी में सेक्सी भेजो

अब इसकी कोई आशंका नहीं थी क्योंकि रिपेयर करने वाली कंपनी की गारंटी थी कि राइफल की गोली की आवाज भी दीवार के पार नहीं पहुँच सकती थी!ऊऊऊऊऊ… आआआआ… ओओओओ… आआआ…” नताशा के मुंह से निकलने वाली चीखें अब मुझे जरा भी नहीं डरा रही थीं बल्कि मैं और… और ज्यादा उत्तेजित होता जा रहा था. उस लंड को पहले मैंने चूस चूस कर गीला किया, फिर उससे कहा कि अब चोदो मेरी चूत को. आंटी के कमरे में उनके शानदार पलंग पर मोटी स्पंज वाली मैट्रेस लगी हुई थी.

फूफा जी का लंड भी इतना बड़ा था कि आसानी से अंदर नहीं लिया जा सकता था, मगर फिर भी मैं अपनी कमर हिला हिला कर फूफा जी का साथ दे रही थी. अब उसका लंड पद्मिनी की जांघों के बीचों बीच था, उसने खुद पद्मिनी की दोनों जांघों को थोड़ा उठाकर अपने लंड को बीच में डाला और ऊपर उसने पद्मिनी की चोली को ढीला करके उसकी नर्म नर्म रुई जैसी, छोटी सी नाज़ुक चूचियों को सहलाना शुरू किया. मैं बोली- जीजा, तुमने दरवाजा क्यों बंद कर दिया अंदर से?तो जीजा बोले- अपन अभी नाश्ता कर लें, वैसे भी मैं जब कमरे में आता हूं तो बंद ही कर लेता हूं.

मैंने उनसे माफी मांगी, तो बोलीं- मुझे भी माफ कर देना… मैंने आपको गाली दी. दीदी ने पहले तो मुझे रोकने की कोशिश की, लेकिन मैंने जबरन अपना मुँह लगाए रखा, तो दीदी ने अपनी टांगें खोल दीं. फिर, उसको अच्छा नहीं लगा क्योंकि उसकी पेंटी से उसके लंड पर रगड़ खाते हुए दर्द हो रहा था, तो उसने धीरे धीरे पद्मिनी की पेंटी को आहिस्ते आहिस्ते उतारना शुरू किया.

मैंने सोचा नंगी नहाती भाभी को देखने का ये अच्छा मौका है, उस समय घर पर कोई नहीं था. आज भले मेरी शादी नहीं हो रही क्योंकि मैं बदसूरत हूँ, पर अब जब भी सेक्स करने का मन होता है तो मैं बघेल को ही याद करती हूँ, और वो जब भी नशे में न हो, तो वो सेक्स के लिए मना कर देते हैं.

कुछ 5 मिनट बाद मैं झड़ने को हुआ तो मैंने भाभी को नीचे लेटा दिया और उनके ऊपर आकर तेज तेज धक्के लगाने लगा.

फिर मैंने धीरे से व्यवस्था बनाकर अपना हाथ उनकी मैक्सी के अन्दर डाल दिया और चाची की चूचियाँ दबाते हुए उनके निप्पल खोजने लगा. न्यू राजस्थानी सेक्सी वीडियोसऐसा लगा था जैसे कोई सरिया सी मेरी अंदरूनी चमड़ी को छीलती अंदर भुक गयी हो।मैंने तड़प कर उसकी उंगली निकालनी चाही लेकिन उसने मेरे पेडू पर दबाव डाल मुझे ऐसा करने से रोक दिया।चुपचाप पड़ी रह पागल… तेरी सील तो उंगली ने तोड़ी तो तुझे ज़रा ही तकलीफ हुई और मेरी सोच. सेक्सी कॉम डॉट कॉमदीदी बोली- मेरा तो सिर्फ आइडिया है तू किसी देसी कपल को भी सैट कर सकता है, पर वो हमारे लिए अजनबी होना चाहिए. तब मैंने कहा- उंगली अंदर डाल कर तेल लगा!देवेश ने अपनी तेल से भी उंगली मेरी गांड में डाली, पहले एक फिर दो उंगली… वह बड़े धीरे धीरे उंगली चला रहा था।फिर सुमेर मेरे ऊपर चढ़ बैठा और उसने अपना लंड मेरी गांड पर टिकाया और अंदर कर दिया मुझे बहुत आनंद आया.

मैंने उन्हें रोकते हुए कहा- अरे भैया… रुको तो अभी यार… थोड़ी देर… रुको… प्लीज़…कहते हुए उनके लन्ड को और भी सहलाने की कोशिश की.

जब वो जा रही थीं तो तेरा सारा ध्यान उनकी ऊपर नीचे होती हुई गांड पर था. अब मेरी ख्वाहिश है कि कोई ऐसा हो, जिसका लंड लंबा मोटा हो, जो मेरी चुत की अच्छे से चुदाई कर सके, उसकी चुदाई करने की स्टेमिना भी अच्छी होनी चाहिए. हम बहुत थक गए थे तो तुरंत ही सो गए!अगले दिन सुबह 8 बजे मेरी नींद खुली, मम्मी सो रही थी पलंग पे वही हॉट पैंट पहने हुए और शीतल मेरे साथ सोफे पे ही सोई थी.

मैं अब जोर जोर से धक्के मार रहा था और माधुरी भी मजा ले कर चुद रही थी. वो मुझसे खुल कर सेक्स की बात करने लगी उसे और मुझे ऐसी बात करने में बहुत मज़ा आता था. वो मेरी चूची को थोड़ी देर चूसा और जब मुझे भी चुदवाने में मजा आने लगा, तो वो मुझे चोदने लगा.

पोर्न विडियो हिंदी सेक्सी

वो वहीं मुझसे बुरी तरह से चिपट गई, लेकिन बाथरूम में गर्मी बहुत थी तो हम ऊपर चौबारे में आ गए और फर्श पर गद्दा डाल कर मैंने उसकी जबरदस्त 2 बार मस्त चुदाई की. लंड की नीचे वाली मोटी सी उभरी हुई नस को दबाते हुए रानी ने गप्प से लौड़ा होंठों में दबा लिया और लगी चूमने. उसका एक रंग आ रहा था और दूसरा जा रहा था, वो बोली- नेहा प्लीज़ इसे डिलीट कर दो वरना मैं कहीं की नहीं रहूंगी.

उन्होंने पैर से ही मेरे बॉक्सर को नीचे कर दिया और मुझे अपने ऊपर खींचने लगीं.

5” का लंड देख कर वो घबरा गयी बोली- इतना मोटा लम्बा लंड?वो कहने लगी- ना बाबा ना, मैं इतने मोटे और लम्बे लंड से ना चुदवाऊँगी.

मैंने ध्यान से देखा कि वो अभी तुरंत नहा कर ही निकली थीं और उनके बाल भी खुले हुए थे. भले ही मैं लड़कियों से शर्मीला हूँ लेकिन खुद में बहुत माडर्न हूँ और सेक्स को लेकर ढेर सारी फैंटेसी मेरे दिमाग में घूमती रहती हैं. एक्स एक्स सेक्सी आंटीउसने मेरे हाथ पर हाथ रखा और बोला- देख यार… मैंने भी ज़िंदगी में बहुत धक्के खाए हैं। तेरे जैसा दोस्त मैं खोना नहीं चाहता। तुझे सेक्स नहीं करना तो ना सही लेकिन मुझसे रिश्ता क्यों तोड़ रहा है।मुझे उस पर तरस आ गया… मैंने कहा- ठीक है लेकिन मुझसे कभी फिज़ीकल होने की उम्मीद मत रखना.

लेकिन फिर भी मेरी शर्म, मेरी अना, मेरा गुरूर मुझे बेपर्दा होने से रोक रहा था।पर मेरी मुश्किल अहाना ने आसान कर दी. वो गरम हो गई, मैंने इस बार उसकी चुत के होंठों को मुँह में लेकर दांतों से खींच दिया. तभी मैंने अपने लंड को ज्योति की चूत से बिना निकाले पूरा खींच लिया और पूरी ताकत से एक और जोरदार धक्का लगा दिया, जिससे मेरा लंड ज्योति की चूत में 7 इंच तक घुस गया ज्योति एकदम से तड़फ उठी लेकिन वो कुछ कर न सकी.

रात में 2-3 बजे तक भी फोन चैट हुआ करती, जिसमें कभी कभी सेक्सी बातें भी हुआ करती थीं. वो बोली कि उसने ऐसा कभी नहीं किया और सुना है कि उसमें बहुत दर्द होता है.

अब वो मेरे ऊपर और मैं उसके नीचे था, दोनों के सारे कपड़े पहले ही अलग हो चुके थे, अब बस काण्ड होना बाकी था।जैसे ही मैंने उसको अपने लण्ड पर बैठने का इशारा किया उसने मेरा लण्ड पकड़ के एक टांग दूसरी साइड करके लण्ड को चूत पर सेट किया और पच्च से बैठ गयी.

मैं उसकी जीभ पीने लगा और मैंने उसके गले को चाटना से काटना शुरू कर दिया. उस वक्त मैं उसको दारू पिला कर पहले नशीला बनाती हूँ, फिर वो मुझे अपने नशीले लंड से मुझमें चुदाई का नशा भर देता है. मुझे पता नहीं क्यों… लेकिन मुझे इस बात पर गुस्सा आ गया, मैंने कहा- मेरे रहते तुम्हें कभी कुछ नहीं होगा!उसने मेरी आँखों में देखते हुए पूछा- मुझसे इतना प्यार कब हुआ?मैंने कहा- ये तो मुझे भी नहीं पता… लेकिन तुम्हारे साथ कभी कुछ बुरा हो, ऐसा मैं सोच भी नहीं सकता!उसे मैंने वहाँ ही अपनी बांहों में भर लिया, उसके गुलाबी होंठों को चूमना चालू कर दिया.

बढ़िया से सेक्सी फिल्म मैंने उसकी ब्रा निकाल दी, साथ ही उसने टांगें उठाईं तो मैंने उसकी पेंटी भी निकाल दी. और एक बात याद रखो कि लड़की सिर्फ़ एक चूत होती है, उसका काम हैं लंड को अपनी चूत में ले कर स्वागत करना.

अपने साथ उसको बिठा कर बोला- यार, अपने पूरे कपड़े उतार दो, यहाँ पर कपड़ों का कोई काम नहीं है. उनके मम्मे ब्लाउज में इस कदर कसे हुए थे, मानो एकदम से बाहर आने को मचल रहे हों. मेरी माँ धीरे धीरे अपने कूल्हे उछाल उछाल कर चुत चुदाई का मजा लगातार ले रही थी.

मारवाड़ी हिंदी सेक्सी वीडियो फिल्म

देवेश भी बहुत तगड़ा मस्कुलर था और अभी अभी एक मस्त जवान अपने लम्बे मोटे लन्ड से मेरी गांड रगड़ चुका था। देवेश ने अपना पूरा लन्ड मेरी गांड में धीरे धीरे पेल दिया. मैंने सोचा नंगी नहाती भाभी को देखने का ये अच्छा मौका है, उस समय घर पर कोई नहीं था. मैंने कहा- मॉम आप एक बिकिनी भी लाना और कभी कभी घर में वो ही पहनना, पर कपड़े सिर्फ तभी पहनना, जब कोई आए.

उनके विरोध के बावजूद मैं उनके ऊपर चढ़ गया और उनके शरीर को अपने शरीर से दबाए रखा. क्योंकि हम लोग जवानी में ही अपनी चुत का भोसड़ा नहीं बनवाना चाहते थे.

ये नज़ारा देख कर मुझसे रहा नहीं गया और मैं अपने लंड को ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगा.

शायद नेहा ये समझ गयी थी, इसलिए उसने एक झटके में मेरे पैंट खोल दी और मैंने उसकी खोल दी. मैंने आपको अपनी चुत में उंगली करते हुए कई बार देखा है मुझसे आपका दुःख देखा नहीं जाता है. रंजीत के लंड का टोपा बहुत मोटा था, वो मेरी वाइफ के मुँह में पूरा नहीं आया, तो वो ऊपर से ही जीभ से चाटने लगी.

फिर मैं उनके ऑफिस में गई, वहाँ मुझको सब जानते थे इसलिए सभी लोग बहुत रिस्पेक्ट देकर मिले. रंजीत ने एक तेज धक्का मारा तो आधा ही लंड मेरी वाइफ की चुत में जा पाया. लेने वाले लेते ही हैं और वह कोई पेशाब नहीं होता, पेशाब से अलग एक सब्सटेंस होता है। तुम्हें हो सकता है कि खराब लगे, लेकिन जो बार-बार इसे मुंह में ले रही हैं, उन्हें यह भी टेस्टी लगने लगता है।”खैर.

मैंने दारू का इंतजाम भी कर रखा था तोथोड़ी देर बाद प्रदीप दारू पीने में लग गया क्योंकि वो बहुत बड़ा पियक्कड़ है.

बीएफ सेक्सी चुदाई वाली बीएफ सेक्सी: जो बातें कर रहे थे ब्लू फिल्म देखने के बाद और चुदने के टाईम, वह सब भी फिल्म में है।मैं बेबसी से होंठ कुचलती उसे देखने लगी।समर- वैसे मेरी आदत है लोगों के वीडियो शूट करने की. उसने मुझे अपनी बाँहों में लेकर मुझे किस किया और वो अपने घर चला गया.

मैं- वैशाली जग जाएगी वो हम दोनों को गलत समझेगी!कामिनी- गलत क्या समझेगी?मैं- यही कि हम भाई बहन हो कर कुछ गलत सलत कर रहे हैं. मैंने कहा- मुँह से मत चूसो, मुझे पेशाब करनी है, वीर्य नहीं निकालना है. रेखा रानी- ओये… लड़की हूँ… तुझे और कैसे संदेशा देती अपनी इच्छा का… मैंने कहा अगर समझदार होगा तो यह इशारे पढ़ लेगा, नहीं तो यह है ही नहीं मेरे लायक… अच्छा एक बात बता तू किरण को जूसी रानी क्यों कहता है.

मैंने अपने लंड को ख़ुशी की चुत पे रखा तो ख़ुशी ने मुझे रोक लिया और अपनी तरफ खींच कर अपनी बांहों में जकड़ लिया, मैंने भी ख़ुशी को जोर से पकड़ लिया.

लेकिन तभी सोचा कि राज के घरवाले होंगे घर में… मैं बोली- तुम्हारे घर वाले?वो बोला- चल तो सही… वो क्या है ना कि आज मैं अकेला ही हूँ, घर वाले बाहर गये हैं, 2 दिन बाद आयेंगे. फिर मैंने उसके पैर को छोड़कर उसके बड़े से कबूतर पकड़ लिए और दबाते हुए उसे चोदना चालू कर दिया. रहने दो पापा, धीरे से नहीं घुसा सकते क्या? बस आपको तो जरूरी है एकदम से आक्रमण कर देना.