बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ

छवि स्रोत,झवाझवि मराठी

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी बीएफ हॉट मूवी: बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ, अचानक उसने मेरे सर को अपने हाथ से अपनी बुर में ज़ोर से दबाया, साथ ही कमर को भी मेरे मुँह पर दबा दिया और ढीली हो गयी.

सेक्सी लड़की से बात करने के लिए नंबर

अब समय था, जब मेरी फूल जैसी चूत को चोदने के लिए एक मूसल एकदम कड़क हो कर मेरे सामने तन्ना रहा था. ब्रेस्ट कम करने वाली कोई क्रीमपम्मी की सगाई हो चुकी थी और वो मॉडर्न ख्यालात की थी, पर जरा नैरो माइंड फैमिली से थी.

अब दिव्या अपनी चूत ऊपर उठाने लगी, मैंने ज्यादा देर न करते हुए अपने लन्ड पर थोड़ा थूक लगा कर चिकना किया और दिव्या के होंठों को अपने होंठों में दबाकर लन्ड उसकी चूत के छेद पर टिका दिया।अब हल्के हल्के लन्ड का दबाब डालने लगा, लेकिन लन्ड अंदर नहीं जा रहा था, मैंने फिर से थोड़ा थूक लगाया, फिर से छेद पर टिका दिया, मैंने हल्का सा जोर लगाने की सोची, वरना मैं वहीं स्खलित हो जाता. गैंग रेप सेक्सी वीडियोभाभी ने मुझे सहयोग दिया और बस इसके बाद हम दोनों में चूमाचाटी होने लगी, लंबी किसबाजी चलने लगी.

उसने कहा- कौन सी फोटो?मैंने कहा- जो तुमने ओर मैंने बिना कपड़ों की फोटो खींची थी, उन्हीं फोटोज को देखता रहता हूँ.बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ: लेकिन तुझे अकेले जाना पड़ेगा, मुझे किट्टी पार्टी में जाना है!मैंने कहा- मम्मी पैसे तो दे दो?तो मम्मी ने मुझे अपना कार्ड दे दिया.

जब मेरा निकलने लगा, तो मैंने उसके मुँह में लंड का पानी खाली कर दिया.अब तक व्हिस्की भी खत्म हो चुकी थी क्योंकि टाइम भी बहुत हो चुका था, सो शॉप भी बन्द हो चुकी थी.

देवर भौजाई की - बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ

खैर हम लोग अपने से मतलब रखते, बाहरी किसी से भी नहीं बोलते।फिर ठंडी का मौसम आया तो अब कॉलेज में बहुत कम स्टूडेंट आते थे.वो उस दिन पीले रंग के सूट में ऑफिस आई थीं और अप्सरा से कम नहीं लग रही थीं.

यहाँ लोग हमें रोक रहे हैं और हम लोगों को आने में ज्यादा रात हो जाएगी. बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ लेकिन एक दिन भांडा फूट ही गया और आगे क्या हुआ, उसके लिए अगली कहानी का इंतजार कीजिएगा.

एक दिन मैं घर पे था, सेठानी जी और बुआ जी को उनकी किसी रिश्तेदारी में छोड़कर आया था.

बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ?

ऐसे ही कब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में जाने आने लगा, पता ही नहीं चला. फिर वो मुझे सोफे पर ही लेटाकर मेरे ऊपर लेट गया और मेरे मम्मों को मुँह में लेकर चूकने लगा. वो अपने बापू के सर को अपनी मक्खन जैसी नर्म चूत पर दबाए धीमी धीमी आवाज़ में तड़पती गयी.

भैया के दोस्त का लंड मेरे गले तक जाकर मेरी लंड चूसने की ख्वाहिश पूरी कर रहा था. उसकी चुत सहलाते हुए मैंने एक उंगली को उसकी गरम चुत में डाला तो चुत पूरी गीली हो गई थी. चलने पर उसकी चूचियां मस्त हिल रही थी और किसी का भी ध्यान आकर्षित करने की क्षमता रखती थी.

ऐसा करने से मैं और गर्म हो गया और कुछ ही पलों में भाभी की चूत में ही झड़ गया. ”मैं उसे मनाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन उसे किसी के आने का डर सता रहा था. मयूरी मन में ही सोचने लगी ‘देखो, जो भाई सुबह तक एक दूसरे से बात तक नहीं कर रहे थे वो अभी एक दूसरे का लंड चूसने को भी तैयार हैं…’रजत अपने लंड को अपने भाई के मुँह में महसूस कर के बहुत ही ज्यादा आनन्द ले रहा था.

मैंने कहा- ठीक है, मैं अपने मम्मी पापा को भी ले आऊंगा, अगर वह आते हैं. अब आगे:मयूरी ने इस बात का पूरा ध्यान रखा कि शीतल को अभी पता ना चले कि वो अपने दोनों भाइयों से पहले से ही चुद रही है और दोनों भाइयों को पता ना चले कि उसका अपनी माँ के साथ लेस्बियन सेक्स का रिश्ता स्थापित हो चुका है और वो उनकी माँ को अपने बेटों से चुदवाने के लिए तैयार कर रही है.

आगे आप लोगों को बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी सेक्सी किरायेदार को पटाया और उसको चोदा.

उनकी चूत से कामुकता का रस टपक रहा था, वो झड़ चुकी थीं, मगर ये आग अभी कहां शान्त होने वाली थी.

पद्मिनी उम्र में छोटी जरूर थी, मगर उसने रूप बिल्कुल अपनी माँ का धारण कर लिया था. उसने कहा- जीतू, अब कंट्रोल नहीं हो रहा मुझसे!तो मैंने कहा- यह तो हॉल है, यहां कुछ नहीं हो सकता, हम किसी होटल में चलते हैं!पहले तो वो मना करने लगी, फिर मेरे जोर देने पर वो मान गयी और हम मूवी बीच में ही छोड़कर पास की ही एक होटल में चले गए और एक रूम बुक करवाया और उसमें चले गए. अंकल बैंक में जॉब करते थे, आंटी हाउस वाइफ थीं और दोनों बेटियां अभी पढ़ती थीं.

पर कहते हैं कि ऐसी चीजें किसी से छुपाए नहीं छुपतीं, तो मेरे ऑफिस के एक दो बंदों को थोड़ा सा डाउट हुआ था, पर जिसे पता चला था, वो थीं ऑफिस की रिसेप्शनिस्ट और एडमिन गर्ल, हालांकि दोनों किसी न किसी से सैट थीं. मेरी गांड का छेद तो पहेले से ही गीला था, तो धीरे धीरे लंड अन्दर जाने लगा. वल्लिका भी अपने पड़ोसन सुनाक्षी के कहने पे एक दिन नियोगी बाबा के शिविर में जा पहुँची.

विक्रम- म… ग… प… क… म…रजत और मयूरी को विश्वास नहीं हुआ विक्रम ऐसा कर रहा है.

मैंने भाभी की हंसी देख कर हिम्मत बाँधी और कहा- भाभी ये आपको देखकर खड़ा हुआ है. जब मेरी चूत का दर्द थोड़ा सा कम हुआ तो वो अपना लंड मेरी चूत में अन्दर बाहर करने लगा. यह सुनकर मेरी तो किस्मत खुल गई कि आज इस मक्खन बदन को छू सकूँगा, जिसके मैं सपने देखता था.

फिर ट्रेन की उस छोटी सी सीट पर हम दोनों इस तरह से लेट गए कि उसकी गांड मेरी तरफ़ थी और चेहरा दूसरी तरफ़. तभी निक्की बोली- स्टुपिड यार, यह सब बंद करो और काम की बात करें?पम्मी- चाय तो पी लेने दे इसको. अब बारी मेरी थी, तो मैं भी भाभी को किस करने लगा और भाभी के मम्मों को चूसने लगा.

उससे कोई ज़बरदस्ती ना करो, उसे इस रंग में डाल दो कि वो खुद ही लंड की चाहत करे.

तब एक सुरीली सी आवाज़ मेरे कानों में पड़ी- रॉबी कहाँ जा रहे हो?मैं- दोस्त के घर. उनकी गोल गोल चूचियां इतनी तेज़ी से उछल रही थीं कि बस ऐसा लग रहा था कि खा जाऊं इनको.

बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ वो पूछने लगी- तुम कितनी बार कर सकते हो?मैं बोला- जितना तुम बर्दाश्त कर सकती हो. जैसे ही मैं घर पर पहुँची तो गाड़ी से उतरते हुए मैंने राहुल को अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों पर एक जोरदार किस कर दी, मगर राहुल ने इस बीच मेरा कोई साथ नहीं दिया.

बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ कुछ देर बाद उसकी माँ बाहर आई जिसको देख कर मेरा लौड़ा एकदम टाइट हो गया क्योंकि वो थी ही ऐसी. जब मैंने उससे पूछा कि अब कैसा फील हो रहा है?तो उसने मुस्कुराकर कहा- बहुत अच्छा.

मेरे हाथों ने उनके स्तनों को अपनी हथेलियों में भरा और उन्हें किस करने लगा.

हिदी बियफ

मैंने कहा- उसको चाट लो, बहुत अच्छा लगेगा!वो बोली- दीदी, मैंने कभी चाटा नहीं है, क्या आप चाटती हो?मैंने कहा- हाँ, बहुत अच्छा लगता है।फिर मैं उठी और अनुप्रिया की चूत को खूब चाटने लगी. जब पानी निकल गया, तब हम दोनों को होश आया कि कंडोम तो लगाया ही नहीं था. शादीशुदा लेडीज का तो कहना ही क्या; जैसे अपने कपड़े जेवर और बदन दिखाने ही आयीं हों शादी में.

की आवाज और हम दोनों की सिसकारने की आवाजों से पूरा कमरा गूँज रहा था. मम्मी- छोड़ मुझे कमीने!दीदी के ससुर जी मम्मी होंठों को काटने लगे, मम्मी तड़फने लगी।तब तक सब उठ गए दीदी भी आ गयी।दीदी ने मम्मी को सम्भाला, मुझे बोली- तुम कमरे में जाओ, लेटो जाकर!मैं कमरे में चली गयी।तेज आवाज में बहस चलने लगी, मैं खिड़की से देख रही थी।जीजा जी मम्मी से माफ़ी मांगने लगे. उसने पहले उसकी बेटी को मेरी सीट पे सुलाने को कहा और फ़िर मैंने वैसा ही किया.

अभिलाषा लगभग 30-32 साल की लेडी थी, जो थोड़ी सी मोटी लग रही थी, लेकिन वह भी गजब की सेक्सी लग रही थी.

लेकिन तुम्हारे पति को जो भी नौकरी मिल सकती है, उन सब में कुछ ना कुछ अशुद्धियाँ हैं. भाभी एकदम तृप्त हो चुकी थीं और वे मुझे बड़े प्यार से सहलाए जा रही थीं. मेरा रंग फेयर है, अच्छी हाइट है और लंड का साइज़ भी 6 इंच से ज्यादा है, जो किसी भी चूत को पागल बना दे.

आँटी मेरे कपड़े उतारने लगी, उन्होंने बड़े प्यार से मुझे नंगा किया और ललचाई नजर से मेरे जिस्म को निहारने लगी. मैं पास पहुँचा तो फिल्म में देख कर वे दोनों अपनी अपनी पेन्टी में हाथ डाल कर खुद को उत्तेजित कर रही थीं. उसकी आँखें हल्की गुलाबी हो चली थी, वह अपने पूरे शवाब पर थी, पता नहीं क्या क्या बोल रही थी।उसने नीचे झुक कर मेरी पैन्ट चड्डी एक साथ उतार दी और लंड को हाथ में लेते हुये कहने लगी- हाय मेरा मुन्ना कितना मुरझा गया है.

यह सुन कर उनको झटका सा लगा और उन्होंने कहा कि ये तुम सिर्फ़ मेरे साथ सेक्स रिलेशन बनाने के लिए बोल रहे हो. मैंने उसे पूछा- बॉडी मसाज जेंट्स करते हैं या लेडीज करती हैं?तो उसने बताया कि दोनों ही करते हैं.

मेरी सेक्स कहानी के प्रथम भागमेरे बेटे की डायरी: बेटे ने अपनी माँ को चोदा-1में आपने पढ़ा कि मुझे अपने बेटे की डायरी से पता चला कि वो अपनी मॉम को यानि मुझको चोदना चाहता है. काफी देर तक वो मुझे चोदता रहा, फिर अचानक उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी और 2-4 झटके के बाद उसने अपना लंड निकाला और मेरे पेट पर सफेद बहुत सारा पानी गिरा दिया. मैंने अपने लिए और अपने बुआ के बेटे के लिए चाय बनाई और अपने बुआ के बेटे से पूछने लगी कि मम्मी और बुआ कब तक आएंगी, कुछ मालूम है?बुआ का बेटा बोला कि वो लोग तो देर रात तक ही आएंगी.

अब पद्मिनी को समझ में आ रहा था कि उसकी जवानी उसके बाप को भी गरम कर रही है.

उधर मेरे चाचा शाज़िया को नोच रहे थे, कभी चूची पर काट लेते कभी निप्पल मसलने लगते।शाज़िया बोली- चाचा, प्लीज़ काटो मत! निशान पड़ जाएंगे चूचियों पर … आराम से कर लो आप … मैं मना तो नहीं कर रही।चाचा- क्या करूँ मेरी जान, तू तो मेरी भतीजी शालू से भी हॉट है। वैसे भी आज पहली बार तुम्हारे धर्म की लड़की को चोदूँगा।चाचा, चुदाई की बात नहीं हुई थी. थोड़ी देर बाद हम दोनों का मुठ झड़ गया और हम लोग ऐसे ही बेड पर पड़े रहे. उन्होंने अपना हाथ धीरे से मेरे नीचे नंगी चूत में ले गए और बोले- यह तेरी चूत से रस बह रहा है, तू तो बहुत चुदासी हो रही है, चल जल्दी से तुम्हारी चूत को मैं साफ कर दूं और तुम्हें एक अलग सा मजा भी दे दूं.

फिर उन्होंने मेरा ब्लाउज और ब्रा भी उतार दी और खुद की चड्डी को भी उतार दिया. वो हमारे कॉंप्लेक्स के छत पर बने हुए एक बड़े से हॉल जैसे रूम में रहते हैं.

फिर उसने उसके लंड पर अपने होंठों से एक चुम्बन किया और फिर पूरा का पूरा लंड अपने मुँह में गपक से अंदर ले लिया और वो विक्रम के लंड को अपने मुँह में अंदर-बाहर करने लगी. जब मेरा लंड लोहे की रॉड की तरह खड़ा हो गया, तो सोनम ने मेरी पेंट और निक्क़र निकाल दी और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी. हम लोग स्टेशन से बाहर निकले तो वहाँ भी ऐसी कोई कार वगैरह नहीं थी, जो अहमदाबाद जा रही हो.

కాలేజీ సెక్స్ తెలుగు

मेरी चालू बीवी बोली- अब तो अपनी चुत में इसका लंड ले कर ही रहूंगी मैं!रितु ने भी उसकी प्रैक्टिस के समय पर जॉगिंग पर जाना शुरू कर दिया.

मुझे देख कर वो उठने लगा, मैंने कहा- लगे रहो, मैं जाता हूं!तो देवेश बोला- सर बैठें, देखें कि हम नादाँ ठीक से कर रहे हैं या नहीं!हम सब हंसने लगे. सब कुछ ठीक-ठाक ही चल रहा था कि अचानक एक दिन शालीन को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा. मैं थोड़ा सा उसकी तरफ को घूम गया और अपना दाहिना हाथ कोमल की जैकेट में डाल दिया.

एक दिन शनिवार को शाम को उसने फ़ोन कर मुझसे कहा कि उसके रूम में कोई नहीं है. मैंने उनसे पूछा- आप में से अभिलाषा कौन है?उनमें से एक लड़की जो बहुत सुंदर दिखाई दे रही थी, उसने बताया कि अभिलाषा मैम रिसेप्शन के पीछे बने कमरे में बैठती हैं. कैटरीना कैफ की एक्स वीडियोकाफी सारी कहानियां पढ़ने के बाद मैं अपनी जिंदगी में घटी घटना लिख रहा हूँ.

मेरी चुत को आज पहली बार सही में कोई लंड मिल रहा था और वो भी बहुत लंबा और मोटा. फिर वो बोली कि तूने मेरे तो सारे कपड़े उतार दिए और खुद क्यों पहन रखे हैं.

मैंने पेंट की चैन नीचे करते हुए लंड को खुली हवा की खुश्बू दिलाई और कहा- चाची, मैं कुछ मदद करूँ?चाची मेरे लंड की पहाड़ी पर आँख जमा कर बोलीं- तुम क्या करोगे. मैंने पूछा- वेयर इज़ मिसेस रानी?वो बोली- मेरी आहट सुन जब वो बाहर आई, मैं छिप गयी. हमारा फार्म हाउस दो मंजिला बना है, जिसके चारों ओर तारों की बाड़ है, जिसके मेनगेट बंद होने पर कोई भी अन्दर नहीं घुस सकता है.

वो ब्रा पैंटी में और मैं चड्डी में था, जिसमें मेरा लंड फूल कर रॉड बन गया था. दोस्तो, मेरा नाम प्राची है और मेरा नाम तो आपने पहले सुना ही होगा! तो मैं आज आपको एक बहुत ही ख़ास इंसान के लंड के बारे में कहानी सुनाने वाली हूँ. मैंने मोबाइल ले लिया, उसने मुझसे मोबाईल का वीडियो कैमरा चालू करने के लिए कहा तो मैंने वीडियो कैमरा चालू कर दिया.

सुरेश की बातों से पता चला कि उनकी फैमिली नासिक में है और उनका यहां पर ट्रान्सफर हो चुका था, इसलिए वो सिर्फ 2 साल के लिए पुणे आये थे.

मैंने उससे पूछा कि आज का क्या प्रोग्राम है?क्योंकि उस दिन रविवार था. चाचा ने अपने खेत में काम करने वाले उन दोनों से पूछा कि दो लड़के थे वहां, नहीं हैं उधर क्या?तो वह किसान बोले- नहीं, जब हम लोग अन्दर आए थे तब तो यहां कोई लड़के नहीं दिखे.

करीब बीस मिनट बाद उस आदमी ने अपना लौड़ा निकल लिया और मम्मी के मुँह में डाल दिया, मम्मी अब चूत मामा से मरवा रही थी और उस दूसरे आदमी का लौड़ा चूस रही थी. मेरा लंड रस निकलने ही वाला है, तुम दोनों जवान हो, इसे चोदते रहना और चोद चोद के ऐसा बना दो कि वन्द्या बिना हम लोगों से चुदवाए रह ही नहीं पाए. इसी तरह रात के करीब 2:00 बज गए, तीन चार घंटे कैसे बीत गए, पता ही नहीं चला.

वो बेचारी तो रोती रही थी और मुझसे बोलती रही कि मैं तुम्हारी बीवी हूँ. मैं चली तो गयी लेकिन इस बार बिना इन्फ़ॉर्म किए चली गयी थी, ग़लती मेरी ही थी. अभी ऐसा लग रहा है जैसे मेरे बदन की पूरी गर्मी उतर गई, मेरे जिस्म की हर ख्वाहिश पूरी हो गई, मैं बहुत ही कम उम्र की लड़की हूं.

बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ यह देख कर जेम्स ने भी धक्के मारने शुरू कर दिए, इधर से जेम्स धक्का मारता और उधर से मैं धक्का मारता. खैर मैं उस लड़के महेश की बात कर रही हूँ, जो मेरे साथ स्कूल में ही पढ़ता था.

ब्लू सेक्सी नई वाली

अब उन्होंने मेरे सिर को दोनों हाथों से पकड़ा और तेजी से कमर को हिलाते हिलाते मेरा मुँह चुत समझ कर चोदने लगे. उसने झट से पहले अपनी उंगलियाँ मयूरी की चुत पर रखी और फिर उसने बिना समय गंवाए अपनी जबान उसमें डाल दी. उसने मेरी ब्रा को निकाल दिया और मेरी चूची को अपने हाथों में लेकर जोर जोर से दबाना शुरू कर दिया.

फिर सुबह 5 बजे अपने ड्राइवर से बोला- इनको इनके घर पर छोड़ कर जल्दी से आओ. मैंने उनके बच्चे के बारे में पूछा तो उन्होंने बोला कि मेरे दो बच्चे हैं. सेक्सी श्रीदेवीफिर 3 दिन तक मैं कॉलेज नहीं गया तो चौथे दिन उसने मुझे फ़ोन किया और सीधे ‘आई लव यू…’ बोला.

मैंने उनसे पूछा- आप में से अभिलाषा कौन है?उनमें से एक लड़की जो बहुत सुंदर दिखाई दे रही थी, उसने बताया कि अभिलाषा मैम रिसेप्शन के पीछे बने कमरे में बैठती हैं.

अब शादी में आई थी तो रिश्तेदारी का लिंक मुझसे भी कहीं न कहीं से तो जुड़ेगा ही, मैंने सोचा. उसको नंगी करने का किस्सा बहुत ही रोमांचक है, जो आपको इस कहानी में मालूम होगा.

पीछे चाचा मेरी कमर को कस के पकड़ कर गांड में लौड़ा डाले जमके अन्दर बाहर कर रहे थे. उसने विक्रम की जबान को चूसना शुरू किया और दोनों एक-दूसरे को करीब पांच मिनट तक चूसते रहे. मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?तो उसने बताया- कुछ नहीं!मैं बोला- ओके!और फिर मैं अपने रूमाल से उसके आंसू पौंछने लगा.

तब बापू ने अपना हाथ स्कर्ट के नीचे डाला और अपने हाथों से उसकी पेंटी को आहिस्ते आहिस्ते खींचने लगा.

मुझे सब मालूम है, उस दिन की किचन में तुम जानबूझकर अपना सामान दिखाने के लिए खड़े थे ना? और आते जाते लिफ्ट में चांस लेते हो ना?मैं बोला- हां आंटी… लेकिन मेरे दिल में आप के लिए बहुत रिस्पेक्ट भी है. अब मैंने रोज़ ही मम्मी को बाथरूम देखना शुरू कर दिया था!कुछ दिनों बाद मेरे मामा घर आये, खूब मिठाई कपड़े वगैरह लेकर! मैं ऊपर से तो खुश था लेकिन अंदर से दुखी था कि अब मामा तो घर पे ही रहेगा तो मैं मम्मी को नहाते हुए भी शायद ही देख पाऊँगा!खैर मामा ने अपना बैग मुझे दिया और कहा कि इसे अपने कमरे में रख लूं!मैंने रख लिया. चूत लंड, मम्में, लंड चूसना, चूत चाटना, चुदाई … ये सब पोर्न फ़िल्में अब तो सहज ही सबको उपलब्ध हैं.

नंगी ब्लूजाते हुए कोमल ने थैंक्स कहा और बोलीं- शाम का डिनर साथ करेंगे, मेरी दोस्त आई है. दोस्तो! जैसे लंड की शेप और साइज़ अलग अलग होता है ऐसे ही चूत भी अलग अलग होती है.

सेक्सी वीडियो नंगी वीडियो

पद्मिनी की माँ का उस समय ही देहांत हो गया था, जब पद्मिनी कच्ची उम्र की थी. सुजाता ने पहले कभी गांड नहीं मरवायी थी तो उसे काफी दर्द हुआ और वो बिदकने लगी. पीछे से श्लोक ने आकर उसकी चूत में उसका लिंग डाल दिया और जोरदार झटके देने लगा। अब सीमा अपनी चूत में लिंग खाते हुए मेरे लिंग को चूस रही थी, श्लोक के जोरदार झटके मुझे सीमा के मुंह के जरिए अपने लिंग पर महसूस हो रहे थे।थोड़ी देर बाद श्लोक बाथटब पर बैठ गया, सीमा ने उसका लिंग अपने मुंह में ले लिया तथा घोड़ी बनी हुई सीमा की गांड में मैंने अपना लंड पेल कर उसकी गांड की चुदाई की.

थोड़ी देर बाद मम्मी ने अपनी नाइटी उतारी और उसके बाद तो मैं अपना आपा खो बैठा, एकदम बर्दाश्त के बाहर हो चुका था … मैं अपनी मम्मी को सिर्फ ब्रा और पेंटी में देख रहा था!एकदम गोरा चमकता हुआ जिस्म, बूब्स तो लग रहे थे कि ब्रा फाड़ के बाहर आ जायेंगे!मम्मी ने फिर अपनी ब्रा और पैंटी उतारी, ओह … वो गोरी गोरी गांड देख कर मेरा दिमाग ही घूम गया, एकदम बड़े बड़े बूब्स … उन पर मोटे मोटे निप्पल, मॉम की चूत एकदम साफ़ थी. काफी देर की मस्ती के बाद हम दोनों अपने अपने कपड़े पहन कर तैयार हो गए. मेरे लंड ने जोर से रितु की गांड में पानी भर दिया और मेरा लंड फिसल कर उसकी गांड से बाहर आ गया, मेरा वीर्य रिस कर उसकी चूत में जा रहा था.

मैंने उनकी बात मान ली और न चाहते हुए भी मुझे उनके लंड की चुसाई बंद करके अपना मुँह उनके लंड से निकालना पड़ा. तभी पीयूष ने पूछा- वन्द्या मौसी, आप यह बताओ कि यह होगा कैसे? ये दोनों कैसे यह करेंगे?तब मैं बोली- पीयूष, चलो मैं तुम्हें सब सिखा देती हूं. मेरी उसी विरहा सी गांड में सुरेश जी ने अपने गाढ़े वीर्य के पानी से पिचकारी छोड़कर, मेरी गांड को पूरा भर दिया.

फिर वल्लिका ने कहा- बाबा क्या आप मेरे साथ संबंध बनाएंगे?बाबा ने क्रोध से कहा- ये क्या कह रही हो तुम?वल्लिका ने कहा- मुझे क्षमा करें प्रभु. कुछ दिन बाद मैंने उससे उसका फ़ोन नम्बर मांगा तो उसने देते ही बोला- क्या अब आपका भी नंबर मिल सकता है?मैंने कहा- हाँ आज शाम को एक अनजान नंबर से कॉल आएगी, वही मेरा नंबर रहेगा.

अब तू सब भूल जा वन्द्या और बिल्कुल बाजारू रांड हो जा, जितनी गंदी गालियां, गंदी बातें बोल सकती है, खुलकर बोल.

माँ जी… बुरा मत मानना… पर क्या इन तेरह साल में कभी आपका मन नहीं हुआ किसी से सेक्स करने का?”नही… अशोक की परवरिश ही मेरा मकसद बन गया था तो इधर उधर कभी ध्यान ही नहीं गया. सेक्स ब्लू पिक्चर ओपन सेक्स‘आहह ऊँहह शई ससईई…’फिर मैंने सीधा होकर उनकी आंखों में देखा, वो मुझे नशीली आंखों से देखते हुए अपनी तन्हाई और जिस्म की भूख को दिखाते हुए मचल रही थीं. सेक्स कैसे किया जाएइस वजह से मैंने पेंटी के अन्दर ही जोर से पानी निकाल दिया, जिससे मेरी पूरी पेंटी गीली हो गयी. झटका देता हुआ लंड की चोट जब चूत की जड़ में लगती थी तो उसकी गोलियां भी चुत की फांकों और गांड पर टकरा रही थीं.

रजत मायूसी से- ऐसे तो अब मजा ही नहीं आ रहा यार…मयूरी- ऐसे कैसे?रजत- अरे.

शाज़िया का बदन गोरा है तो चाचा ने आराम से दोनों हाथ के अंगूठों से उसकी चूत को खोला और चूत के अंदर का गुलाबी भाग दिखने लगा।चाचा ने आहिस्ता से अपनी जीभ गुलाबी चूत में घुसा दी। शाज़िया ने कस कर चाचा का सर अपनी चूत पर दबा दिया. मुझे एक उपाय समझ आया, मैंने सोचा कि अपना डर खत्म करने के लिए टीवी देख लेती हूँ. इसके बाद मैंने उठा कर पैग बनाए और कोमल से बोला कि लो तुम अपना गिलास उठाओ.

ड्रेस भी ऐसी पहनी कि जैसे ही वो मेरा टॉप खोले तो मम्मे बाहर निकल कर उसके मुँह पर जा लगें. इसी के साथ ही मैंने मेरी उतरी हुई ब्रा पेंटी, धीरे धीरे सब उनके रूम के दरवाजे के सामने ही लगी रस्सी पे सूखने डाल दीं. तीनों ने अपना कॉलेज और कोचिंग छोड़कर तब तक घर में रहने का निर्णय लेते हैं जब तक उनके माता-पिता वापिस नहीं आ गए और इस दौरान घर में बस चुदाई ही चुदाई चलती रही.

हिंदी ब्लू फिल्म ब्लू

मैंने उसकी आँखों में देखा तो उसकी मुस्कान में मुझे मूक सहमति सी दिखी. बातें करते करते मौसी सो गई और उनके सोते ही मैंने एक रात पहले वाली हरकत शुरू कर दी, मैं उनके दूध धीरे धीरे फिर दबाने लगा. मुझे दुकान से कुछ ज्यादा सामान लेना नहीं था, इसीलिए मैंने अपना सामान लिया और वापस आने लगा.

एक दिन रात काफी हो चुकी थी, भाभी और मैं बात करते करते सेक्स के टॉपिक पे आ गए.

वल्लिका के मुँह से निकली इस बात ने बाबा का जोश बढ़ा दिया और वो धकाधक वल्लिका की चूत में अपना लंड पेलने लगा.

कुछ देर बाद आंटी उठ गईं, मुझे देखकर बोलीं- अरे सोये नहीं क्या?मैं बोला- नींद नहीं आई. मैं खुद डॉगी स्टायल में होकर एक हाथ से पेन्सिल अपनी गांड में डाल के उस पेन्सिल को आगे पीछे करता था. पुदी फोटोदोस्तो हम दोनों अब जो भी कर रहे थे पूरी नंगी अवस्था में रह कर ही कर रहे थे.

इस वक्त मेरी सास की चूत में से पानी सा रिस रहा था, जो उनकी चूत की लाइन से होता हुआ, उनकी गांड के छेद में घुसते हुए बिस्तर पर भी टपक रहा था. उसने भी मेरे निप्पलों को मसल मसल कर एकदम पत्थर जैसे सख्त कर दिए थे. नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम अमित है, यहाँ कहानियाँ पढ़ कर मैंने सोचा कि मैं भी अपना आँखों देखा हाल भी आप लोगों तक पहुँचाऊँ!मेरी उम्र 19 साल की है, अपने घर का मैं इकलौता लड़का हूँ, घर में माँ-पापा और मैं हम तीन लोग ही रहते हैं.

फिर एक दिन अरुण ने उसे मैसेज किया- आप मुझे शाम को रोज गार्डन में मिल सकती हैं?जवाब आया- हाँ. मैंने कहा- कहीं बच्चा ठहर गया तो?दीदी बोलीं- तो क्या हुआ मेरे बच्चे के बाप बन जाओगे.

मेरी ग्रुप सेक्स कहानी के प्रथम अंशकिरायेदार ने दोस्तों से मिल कर मुझे चोद डाला-1में आपने पढ़ा कि मेरे पति ने घर में एक जवान लड़का किरायेदार रख लिया क्योंकि वो अक्सर घर नहीं रहते थे.

ऐसा करते हुए 20 मिनट तक उसकी चुदाई की और इस दौरान वो 4 बार झड़ गयी थी. तब उसने बोला- मतलब तुम अभी तक कुंवारे हो??मैंने भी हाँ में सर हिला दिया तो उसने कहा- मैंने भी काफ़ी टाइम से सेक्स नहीं किया है. एक दिन जब मैं मसाज़ करवाने गयी तो जिस लड़की से मैं मसाज़ करवाती थी, वो नहीं आयी थी.

लड़की को कैसे चोदा जाता है आप सब मुझे फीडबैक जरूर दें, इससे मुझे कहानी लिखने में थोड़ा मदद मिलती है. दो दिन हमारा झगड़ा बना रहा, उसके बाद उसका कॉल आया, वो बोली- मुझे तुमसे मिलना है.

मयूरी- पर ये तब हो पायेगा जब तुम्हारी बीवी इस बात के लिए मानेगी… और हर लड़की तुम्हारी अपनी बहन मयूरी नहीं है… की तुम दोनों का लंड एक साथ लेने को तैयार हो जाएगी. पर यह बता दो कि तुम्हें मजा आया कि नहीं?तो मैं बोली- तुम दोनों को थैंक्स तुम दोनों की वजह से मुझे बहुत मजा मिला. मैंने भाभी के कपड़े खींचते हुए उतारने शुरू किए, जिस कारण उसकी ब्रा फट गई लेकिन मैं रुका नहीं.

इंडियन सेक्सी पिक्चर बीपी

मैंने कहा- जूली नहीं आई है, वह धोखा दे गई, आप उससे बात करें या उसका फोन नंबर मुझे दे. अगले दिन शाम को जब मैं ऑफिस से निकलने की तैयारी कर रहा था, मुझे एक कॉल आया. इसके बाद तो कुछ होना बाकी रह ही नहीं गया था, सो मैं सो गया और दूसरे दिन मैं चेन्नई पहुँच गया.

मैंने बड़े प्यार से अन्दर लंड को डाला और थोड़ा अन्दर जाते ही उसे दर्द होने लगा. जैसे ही मैं छेद में उंगली डालने का प्रयास करती, तो उसकी गांड सिकुड़ जाती और उसकी जीभ मेरे चूत में और अन्दर घुस जाती.

उसने अपना मुँह हटा लिया, बोली- दीदी, आपकी चूत से बहुत सारा पानी निकल रहा है.

मैं बिस्तर से उठ कर भागी, पर उनके हाथ में मेरी साड़ी का पल्लू आ गया, उन्होंने साड़ी का पल्लू खींचा और मैं भागी तो मेरी साड़ी उतर गई. मैं चड्डी में ही पड़ा था, मेरा लंड खड़ा होने लगा और दो मिनट में ही तम्बू बन गया. थोड़ी देर बाद मेरा लंड फिर खड़ा हुआ तो मैंने चाची को घोड़ी बनने को कहा और वो झट से घोड़ी बन गईं.

फ़िर लेकिन मैं भी अपनी धुन में लगा रहा और मैंने थोड़ा अन्दर बाहर किया तो उसे भी मज़ा आने लगा. उस वक्त एक उसकी चाचा की लड़की निकिता है, उसके बारे में वह मुझे चुदाई के लिए बोलता है. मम्मी घर में मखमली नाइटी पहन कर घूमा करती थी जो उसके बदन से पूरी चिपकी रहती थी जिससे उसके बड़े बड़े चुचे और मटकती गांड एकदम झलकती रहती थी.

मैंने भी देर न करते हुए स्वाति को लेटा दिया और अपना लंड उसकी चुत पर रगड़ कर डालने लगा.

बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी में बीएफ: हेलो… अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार! मैं आज जालंधर जिला पंजाब से हूं, मेरा नाम रमनजीत सिंह (बदला हुआ) है, मैं सिख फैमिली से सम्बन्ध रखता हूं. मैंने अनीता दीदी को जल्दी से कपड़े पहनने को बोल दिया दीदी फटाफट कपड़े पहनने लगीं.

मेरी प्यारी बीवी मुझसे लिपट कर सो गई और हमें कब नींद लगी, हमको पता भी नहीं चला. वो सब बाद में फिर कभी लिखूंगा, मेरे पुराने दोस्त और भाभियां तो मुझे और मेरे बारे में जानते हैं. मुस्कान बोली- यश मुझे तुमसे कुछ बोलना है और अगर तुमको अच्छा ना लगे तो सॉरी.

ये सोच कर ही मेरा लंड भी अंगड़ाई लेने लगा कि आज एक नई चूत का स्वाद मिलने वाला है.

मैंने कहा- कहीं बच्चा ठहर गया तो?दीदी बोलीं- तो क्या हुआ मेरे बच्चे के बाप बन जाओगे. कोई भी लडकी घर से निकल कर ज्यादा उन्मुक्त महसूस करती है और अपनी दबी छुपी तमन्नाओं इच्छाओं को पूरा कर गुजरना चाहती है. मैं कुछ देर तो वहां अपना हाथ घुमाता रहा, फिर धीरे धीरे हाथ बढ़ा कर मम्मों पर हाथ फिराने लगा.