इंग्लिश पोर्न बीएफ

छवि स्रोत,चोदा चोदी देसी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी जबरदस्त हिंदी: इंग्लिश पोर्न बीएफ, हां, मगर जब एक दो बार हम चोरी छिपे मिलते थे तो मैंने उसकी चूचियों को छुआ था.

निरोध सेक्स

मैंने कहा- यार मराना है ही, फिर नखरे उठा पटक क्यों? लंड गांड में पिला है ही।वह बोला- नहीं, और लोग जब मारते हैं तो गांड हिलाता हूं नखरे करता हूं तो उन्हें मजा आता है। वे जल्दी झड़ जाते हैं. पूजा नाम की लड़की कैसी होती हैजब भी वो मेरे पीछे बाइक पर होती थी तो अपने चूचों को मेरी पीठ पर ऐसे दबा देती थी कि जैसे यही उनकी जगह है.

ज्योति को इस बात पर हंसी आ गयी और हंसी इतनी जोर से आयी कि उसका दूसरा हाथ मेरे लंड पर चला गया. हॉलीवुड रोमांटिक मूवीअब मैंने सोच लिया कि इसे जो भी करना है, कर लेने देती हूँ क्योंकि विरोध का कोई लाभ नहीं था.

मैंने उसकी आंखों में देखा और इशारे में पूछा- आगे क्या?तभी उसने मुझे आंख मारते हुए बेड पर गिरा दिया और मेरी शर्ट के बटन खोलने लगी.इंग्लिश पोर्न बीएफ: मेरा लंड फिर से चूत की गहराइयों को नापने लगा और वो आनन्द के सागर में अन्छुई और अनदेखी गहराइयों को महसूस करने लगी.

एक बार ऐसे ही बात करते करते भाभी ने मुझसे पूछ लिया कि आपकी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने कहा- नहीं है भाभी.मेरा लंड 6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है जो कि किसी भी लड़की या औरत को खुश कर सकता है।मेरी पिछली कहानीदोस्त की गर्लफ्रेंड की चुत और गांड की चुदाईआपने पढ़ी थी.

पानीपत मूवी - इंग्लिश पोर्न बीएफ

वो मेरे साथ बिस्तर में आ गया और मुझे अपनी बांहों में भर कर मुझे किस करने लगा.मैंने मॉम की चूचियां छोड़ दीं और नीचे आकर लेट कर अपनी जीभ से मॉम की चूत चूसने लगा.

उसने मुझे कसके चिपका लिया और ऐसे ही किस करते हुए हम एक दूसरे की बांहों में सो गए. इंग्लिश पोर्न बीएफ और अब खुद जॉयश की बारी थी खुद की सेक्स फेंटेसी बताने की!उसने कहा कि उसे दर्द और तकलीफ देने वाला सेक्स पसंद है.

उसके 34 इंच के उन्नत चूचे, पतली कमर, दूध जैसी गोरी चमड़ी … दिलकश आंखें … लम्बे काले लहराते हुए बाल.

इंग्लिश पोर्न बीएफ?

क्यूंकि उस टाइम सुबह के 5:30 हो रहे थे, मैंने भी कोई रिस्क नहीं लेना चाहा और बेड के एक किनारे पर खिसक कर सो गया. तो शुरू करो ना मेरे राजा … आज मुझे पूरी खुश कर दो … तगड़े लंड को तरस रही है मेरी चूत …”सुनील ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे उठाया, मुझे खड़ा करके उसने एक झटके में मेरा गाउन उतार दिया. उस दिन मैंने चाची की चुत में उंगली की तो चाची बोली- मुझे तेरे लंड चाहिये, उंगली से काम नहीं चलेगा.

इधर मामा ने कुछ देर तक चूचों को चूसा और फिर उसके निप्पलों को जीभ से चूसने लगे. आप तो जानते ही हैं कि मेरी माँ खुद एक टीचर हैं और वो उस समय छुट्टी पर आई हुई थीं. हम दोनों भाई बहन अधूरी चुदाई करने के बाद थोड़ी देर यूं ही चिपके हुए लेट कर आराम करते रहे और फिर दुबारा गर्म होने तक एक दूसरे की बांहों में आकर मूवी देखने लगे.

काफी देर तक मैं सुलु भाभी की चूत में उंगली करता रहा और उसकी चूत ने एकदम से पानी छोड़ दिया और मेरा पूरा हाथ भाभी की चूत के रस में भीग गया. मैं सब जानती थी कि आगे क्या होने वाला है, इसलिए साड़ी पेटीकोट ब्लाउज निकाल कर लेट गयी. वो बोली- इससे पहले तुमने मुझे नहीं देखा क्या?मैंने कहा- देखा है, लेकिन आज तुम ज्यादा ही हॉट लग रही हो.

सुरेश थक कर हांफ रहा था और मैं दर्द से तड़फ रही थी, मगर चिंता केवल चरम सुख की थी. एक दिन मैं स्कूल गया तो मैंने चौकीदार और माँ की चुदाई का नजारा देखा.

ज़्यादा कुछ नहीं बोलते हुए उसने मुझे कुछ पीने को पूछा, तो मैंने ना कह दिया.

मैंने डरते डरते फोन उठा लिया।सर बोले- हेलो, बेटा कैसे हो?मैं (डरते हुए)- जी ठीक हूँ।सर- क्या बात है, आज तुम्हारी तबियत ठीक नहीं है क्या जिसकी वजह से आवाज तुम्हारी कुछ बदली हुई लग रही है?मैं- जी थोड़ा जुकाम है.

उसके बाद हम उसने मेरे ब्लाउज को उतार दिया और मेरे चूचों को दबाने लगा. भाभी के तने हुए चूचों को दबाते हुए मैंने उनको फिर से मुंह में लिया और जोर से चूसने लगा. खाना खाते हुए उसने बताया कि आज उसे डॉक्टर के पास जाना था, इसलिए छुट्टी ले रखी थी.

अभी मेरे लंड का टोपा ही अन्दर घुस पाया था कि आंटी दर्द से चिल्लाने लगीं. पूजा और संध्या के मम्मी पापा ने मेरी मम्मी और मेरा काफी सत्कार किया. कुछ देर बाद मैं झड़ने वाला था, तो मैंने अपना लंड निकाल लिया और बेड से नीचे उतर कर मुठ मार कर झड़ गया.

तो प्लीज़ मुझे मेल ज़रूर करें जिससे आगे भी मैं मेरी रिश्तों में चुदाई की स्टोरी आप लोगों के साथ शेयर करता रहूँ!मेरी मेल आई डी है[emailprotected].

मैं समझ गया कि आधा काम हो गया … मतलब ये कि वो चूत में उंगली करके अपनी मुठ मार रही होगी. उसने मुझसे पहुंचने का टाइम पूछ लिया था और कह दिया था कि मैं लालघाटी पर उतर जाऊं. वो सिसकारियां लेना चाह रही थी लेकिन जानती थी कि अगर जरा सी भी आवाज मुंह से बाहर निकली तो बहन उठ जायेगी और सारा मजा खराब हो जायेगा.

मैंने आंटी से पूछा- अब ज़रीना कैसी है? आप किधर जाने की तैयारी में हैं?आंटी बोलीं- बेटा तुम ही उससे बात करो … वो मेरे से तो बात ही नहीं कर रही है. मगर आजू बाजू की छत से सब कुछ खुला दिखता था, इसलिए मैं मनमसोस कर रह जाती थी. लाला ने भैंस के चारों तरफ घूम कर देखा और फिर माँ की ओर देखते हुए उसने अपने हाथ की एक उंगली हमारी भैंस के पिछवाड़े में डाली और थोड़ा सा आगे पीछे किया.

उसके फोन को देखते हुए मुझे उसमें अनिरूद्ध के नम्बर से नोटिफिकेशन मिली.

जब कभी हम दोनों रास्ते में मिल जाते थे, तो लोगों की नजरों से छुप कर एक दूसरे से बात कर लेते थे. वर्षा के घर वालों का उस पर बहुत विश्वास भी था … इसलिए उसके घर में मेरे जाने से कोई दिक्कत नहीं होगी, यह मुझे पता था.

इंग्लिश पोर्न बीएफ एक्सीडेंट के बाद उसकी गाड़ी चलाने की कभी हिम्मत नहीं हुई, इसलिए मैं अक्सर सुनील को ही साथ लेकर बाजार जाती. मैं- क्यों आपकी शादी उससे हुई है, तो मैं क्यों करूं … आपको कोई परेशानी है क्या?वो- जी हां.

इंग्लिश पोर्न बीएफ धीरे धीरे उसके हाथ मेरी गांड को सहलाने लगे और मेरी सिस्कारियां बढ़ने लगीं. धीरे धीरे उसने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चूत को चोदने लगा.

उसके बाद मैंने उसको वापस लिटा दिया और उसकी चूत में जीभ देकर तेजी से अंदर बाहर करने लगा.

सेक्सी फिल्म वीडियो इंग्लिश फिल्म

मैंने जल्दी से पैकेट खोला, उसमें क्रॉस ड्रेसर का सामान था, एक लाल रंग का पटियाला सलवार सूट था. मैं विक्की के कमरे में झट से गया और वो सुशी भी पीछे पीछे आयी और दरवाजा बंद कर दिया।मैं बोला- ये क्या कर रही हो? खोलो दरवाजा … कोई देखेगा तो क्या कहेगा।सुशी – कोई देखेगा तब कहेगा न!मैं एकदम से डर गया क्योंकि ऐसा मेरे साथ पहली बार हो रहा था. मैंने कहा- ये सब हुआ कहां?वो बोला- नहर के पास ये अकेले मिल गया … तो मैंने अपने दोस्तों को फोन से बुलाकर उसका काम कर दिया.

मैंने उन्हें धक्का दे कर बिस्तर पर लेटा दिया और मैं उनके ऊपर चढ़ गया. मैं मना कर रही हूं क्या?मैं सुन कर हैरान हो गया लेकिन साथ ही खुश भी. जबकि मैं पहले से ही जान चुका था कि वो मेरी बहन की चुदाई करने के लिए मेरे ही घर पर आ रहा है.

पहले मुझे ऐसा अहसास कभी नहीं हुआ था … शायद मुझे अब मैम के मम्मों को देखने में मजा आने लगा था, इसीलिए मैं उनके मम्मों को चोरी से देख लेता.

मैंने उसे मुठ्ठी में भर कर 3 से 4 बार आगे पीछे हिलाया, तो चमड़ी पीछे होकर सुपारा खुल गया. मुझे देख कर भाभी फिर से हंसने लगीं और बोलीं कि अब जब भी किसी को पसंद करो, तो खुल कर इजहार कर देना. दस मिनट बाद मैंने ज़रीना से घोड़ी बनने के लिए कहा, जिससे कि मैं उसकी गांड के दर्शन कर सकूं.

कुछ देर बाद मैं छत पर चला गया क्योंकि मैं नहीं चाहता था कि किसी को कोई डाउट हो. तो फिर आज कौन है जो अपनी सेक्स फेंटेसी हो पूरी करवाना चाहता है?अब फिर सब की सब शांत हो गई और एक दूसरे की शक्ल देखने लगी. उसके बाद उसने मेरी पैन्ट का हुक खोला और पैन्टी सरका कर मेरी चूत में उंगली करने लगा.

उधर से सरस्वती बोली- ओहो … लगता है डिस्टर्ब हो गए सुरेश बाबू? क्या चल रहा था?सुरेश- वही जो तुम नहीं दे रही थी. और अब खुद जॉयश की बारी थी खुद की सेक्स फेंटेसी बताने की!उसने कहा कि उसे दर्द और तकलीफ देने वाला सेक्स पसंद है.

पर मोसी की चूत बहुत टाईट थी, शायद मौसा जी का लण्ड मेरे लण्ड से पतला था और शायद वो मोसी को रोज नहीं चोदते थे। वो भी बेवकूफ ही थे इतनी गर्म और सख्त माल को छोड़ दिया. जॉयश हॉल में नहीं आई थी, सब उसी का वेट कर रही थी और आज की किटी पार्टी के ड्रेस कोड का अंदाज लगा रही थी कि क्या होगा?मन ही मन वह यह तो सोच ही चुकी थी कि ड्रेस कोड उत्तेजक होगा. मैंने हल्का सा उठते हुए उसकी मदद की मगर उसको पता नहीं लगने दिया कि मैं भी उसकी हरकतों का मजा ले रही हूं.

कजरी मुझको देख कर बोली- बाबू साहब, आप गांव में नहीं रहते हैं क्या?मैंने बोला- नहीं कजरी, मैं सऊदी अरब में रहता हूँ.

उसके बाद भी कई बार मौका पाकर मैंने उस सेक्सी औरत की प्यासी चूत को चोदा. मैं जब भी विभोर के साथ कहीं बाहर घूमने के लिए जाती हूँ तो और विभोर के परिवार के लोग भी उसको कुछ नहीं बोलते. फेसबुक पर पटा कर मैंने एक चुदक्कड़ सेक्सी पंजाबन भाभी की चूत को कैसे मजा दिया.

सर्दी का मौसम था तो सब अपने कम्बल में दुबके हुए थे लेकिन मेरे अंदर हवस की गर्मी बढ़ती जा रही थी. बाकी के रिश्तेदार और मेरे बड़े पापा और चाचा का परिवार एक हफ्ते बाद आने वाला था.

मैंने मोनिषा आंटी के मम्मों को जोर जोर से मसलना शुरू कर दिया और उनकी आहें तेज़ हो गईं. एक मिनट तक बिना हिले मैं रुका रहा … फिर तेजी से लंड उसकी चुत में अन्दर बाहर करते हुए पेलने लगा. मेरी भी स्थिति अब ये थी कि मैं चूमने में उसका खुल कर साथ दे रही थी.

करीना कपूर का सेक्सी वीडियो हीरोइन

गोरा बदन, तीखी आँखें, गुलाबी लिपस्टिक से सजे होंठ, लगभग 33-27-34 का फिगर, फ्लोरल साड़ी, खुले काले बाल, बिना बाजू का गहरे गले का ब्लाउज.

उसकी बेताबी इतनी अधिक लग रही थी, मानो वो मुझे पूरा ही अन्दर ले लेगी. कुछ फिल्म बीत जाने के बाद मैंने पूजा से बोला कि क्या मैं तुम्हारे गले में हाथ रख सकता हूं. मैंने कॉल उठाया तो वो बोली- तुम मेरे घर के पास से गुजर जाते हो लेकिन कभी मुझसे मिलने नहीं आते घर पर!उसके बुलाने पर मैं उसके घर पर चला गया.

इरफान- अबे तेरी गांड तो बड़ी टाईट है रे … लगता है बहुत दिनों से इसमें कोई लंड अन्दर नहीं गया. उसके बाद उसने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरी गांड में उंगली से तेल अंदर करना शुरू कर दिया. चोदते हुएअब दरवाजे के पहुंचते ही मैंने अपना लंड बाहर निकाल लिया और जैसे ही दरवाजा खोला, अन्दर का नजारा देख कर मेरी आंखें खुली की खुली रह गईं.

मुझे अपने काम पर पहली बार गर्व हुआ और उस दिन के बाद पिछले तीन साल में अलग अलग कोखों से मेरे पांच बच्चे हुए. दूसरी तरफ सुनील था, जो मेरी सारी जरूरतें पूरी कर सकता था पर …उस पर भरोसा कैसे करूँ … कल कुछ हो गया तो? किसी को पता चल गया तो? मेरा घर उजड़ सकता है … नहीं नहीं, यह सही नहीं है.

मैंने कहा कि मैं उतर कर देखता हूं कि गाड़ी में क्या खराबी हो गई है. ”क्या हुआ डार्लिंग … अभी भी दर्द हो रहा है क्या?”नहीं मेरे राजा … बहुत अच्छा लग रहा है … इतना मजा मुझे पूरी जिंदगी में नहीं मिला. मैं अपनी सेक्स कहानी को लेकर हाजिर हूँमेरी पिछली सेक्स कहानीछत पर देवर भाभी सेक्स स्टोरीमें आपने पढ़ा था कि आखिरकार मैंने अपनी प्रिया भाभी को चोद ही दिया था.

खैर मैंने पूछा- तुम तो लंदन चले गए थे ना पढ़ने?उसने कहा- हाँ कुछ दिनों पहले ही लौटा हूँ. बुआ की चूत पर छोटे छोटे बाल थे, ऐसा लगता था कि उन्होंने थोड़े दिन पहले ही अपनी झांटों को साफ किया था. आह्ह … उम्म … ओह्ह … मस्त मजा आ रहा है … और जोर से … चोदो … आह्ह … तुम्हारा लंड तो मस्त है एकदम.

झड़ जाने बाद मैं जल्दी से रसोई में गयी और दो गिलास ठंडा पानी लेकर आ गई.

मैंने उसको इतना किनारे खींच लिया था कि उसकी गांड बेड के किनारे पर आ गई. उस सेक्सी टीचर ने मेरी अन्तर्वासना, कामुकता जगायी, मुझे चुदाई, ज़िन्दगी जीना सिखाया.

झड़ जाने बाद मैं जल्दी से रसोई में गयी और दो गिलास ठंडा पानी लेकर आ गई. खाना अभी तैयार नहीं हुआ था, तो वो बाहर बैठ गया और फ़ोन पर किसी से बात करने लगा. मैंने फिर से अपने होंठ मॉम के स्तनों से लगा दिए और उनका दूध पीने लगा.

एक दिन जब मैं स्कूल गया, तो वहां एक लड़की मुझे बड़े गौर से देख रही थी. हम दोनों भाई बहन अधूरी चुदाई करने के बाद थोड़ी देर यूं ही चिपके हुए लेट कर आराम करते रहे और फिर दुबारा गर्म होने तक एक दूसरे की बांहों में आकर मूवी देखने लगे. उसके बाद मैंने अपने कपड़े निकाल कर एक तरफ डाल दिये और नंगा होकर भाभी के बूब्स को पीने लगा.

इंग्लिश पोर्न बीएफ फिर कुछ दिन बीत जाने के बाद मैं अपनी दीदी को लेने उसकी सुसराल गया और उसका भाई उसको भी ले आया. दीदी की सलवार अब नीचे गिरी हुई थी, वो अब भी अपनी सुसू वाली जगह को हाथ से मसल रही थी.

बिहार वाली भाभी के सेक्सी वीडियो

उसकी इस बात से मेरी थोड़ी हिम्मत खुली और मैंने उसे दिल का हाल कह दिया. मैं थोड़ी देर उसी तरह अपने चूतड़ों को उठाया, बिस्तर पर सिर गाड़े, आंखें बंद किए यूं ही सुस्ताती रही. कुछ दिनों के नाराज़गी के बाद मैंने उसके प्यार में मज़बूर हो कर उसको माफ कर दिया.

आप कभी करके देखना कि पूरा लंड चूत के अन्दर हो और बिना कोई हरकत किये हुए चूचियों पर से लिक्विड चॉकलेट को चाटना एक अलग ही मजा देता है. मैंने खाने को टेबल पर एक तरफ रख दिया क्योंकि अभी खाने की नहीं बल्कि हवस की भूख लगी हुई थी. बाथरूम वीडियोजरा धीरे से … फट जाएगी आ… आ… आ… ब… स… थोड़ा … रूको!पर मामा जी नहीं रुके, वे जोश में थे.

तन्वी की चीख निकली- मम्माह उम्म्ह … अहह … हय … ओह … मर गई!मेरी कजिन बहन की सील पैक बुर में लंड गया तो मजा आ गया.

मैं कभी कभी उसके लाल होंठ भी चूम लिया करता था और कभी कभी उसकी छातियां भी मसल दिया करता था. वो मुझे बहुत पसंद करती थीं, इसलिए वो मुझे समझाने की बहुत कोशिश करती थीं.

मैं हिंदी सेक्स साईट अन्तर्वासना पढ़ता था तो मुझे पता था कि लड़की के चूतड़ों के नीचे तकिया लगाना होगा जिससे चूत भेदन में आसानी हो. अब हम दोनों ही मिलने को बेताब थे, लेकिन मिलना एक कठिन काम था क्योंकि वो भोपाल में रहती थी और मैं इंदौर में था. अर्ध नग्न मेरी बीवी की सफेद दूध जैसे तन कर कह रहे हों कि उनसे बस अब दूध टपकने ही वाला है.

इतना बोला था मैंने कि संजय मोनिषा आंटी की चूत में लंड को फंसाने लगा.

सुरेश अपने हाथ में फ़ोन पकड़ बिस्तर पर लेट गया और मैं उसके लिंग को चूसने लगी. उसने मुझे टाइट पकड़ रखा था, तो मैंने भी उसके चूतड़ों को दबा कर मजे लिए. चूत पर मेरा स्पर्श पाकर सौम्या कामुक सिसकारियां लेने लगी और मेरे बालों को सहलाने लगी.

बुआ की चुदाई की कहानीहम लोग सेक्स के लिए गर्म हो गए थे और विभोर बहुत अच्छे से मेरी चूत को चाट रहा था. मैं झट से उठा और दरवाजे की सिटकनी खोल कर फिर उन्हीं के ही घर में सोफ़े और दीवार के कोने में छिप गया.

मराठी सेक्सी करताना दाखवा

वैसे मेरे पड़ोस में कई लोग मुझे लाइन मारते हैं, लेकिन मैंने ये बात अपने पति को नहीं बताई है क्योंकि मुझे उनमें से कुछ मर्द पसंद थे और मैं चाहती थी कि ये मुझे चोद कर मेरी सेक्स की प्यास को बुझाएं. मैंने मोनिषा आंटी के मम्मों को जोर जोर से मसलना शुरू कर दिया और उनकी आहें तेज़ हो गईं. मैंने कहा- अंकल को कहीं बाहर जाने दे … मैं तेरा काम फिट करवाता हूँ.

सुपारा अंदर घुस गया था, मेरे मुख से हल्की चीख निकली ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’वे बोले- ज्यादा लग रही है?मैंने इन्कार में सिर हिलाया तो वे बोले- तो पूरा पेल दूं?अपनी गांड की एक जोर दार ठांप से मैंने पीछे धक्का दिया. कुछ पल बाद मैंने उसको बेड पर सीधा लेटा दिया और अपनी टी-शर्ट उतार कर उसके ऊपर चढ़ गया. करीब 5 मिनट बाद उसने एक हाथ से मेरा सर दबाया और मेरे मुँह में झड़ गया.

ऐसा करते करते मेरा हाथ सुशी की चूत तक पहुँच गया और सुशी एकदम सिहर उठी. जितने भी पाठक अन्तर्वासना डॉट कॉम पर कहानियां पढ़ते हैं, ज़्यादातर तो हाथ से ही करते हैं, चाहे हो कोई लड़का हो, आदमी हो, लड़की हो औरत हो या कोई बुजुर्ग हो, ये तो एक नॉर्मल सी बात है. इसके बाद मैं सौम्या को किस करते हुए नीचे आने लगा और उसकी काले रंग की पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर किस करने लगा.

कभी कभी वह अपनी जीभ से मम्मी की चूत के दाने को छेड़ देता, तो मम्मी कसमसा जाती थीं. मुझे जरूरी काम से मार्केट जाना है, जब तक मैं आ न जाऊं, तुम इसके पास ही रहना.

उसने उर्वशी को पीछे की तरफ धक्का दे दिया और पैर लटकाए हुए मेरी पत्नी की पैंटी के नीचे छिपी हुई योनि मिहिर के मुंह के सामने उभर आई.

मैंने कच्ची नींद में आंख खोल कर देखा कि सोनू मेरी बगल में बैठी हुई थी. सेक्सी फिल्म ब्लू इंग्लिशउन सभी को मौसी ने बताया कि नई रंडी है … ये 15 दिन के बाद आने वाली है. हनीमून videoतभी माँ बोलीं- आह मैं गईईई …वो गांड मराने के साथ साथ अपनी चुत में भी उंगली करती जा रही थीं. जिधर कोठे की मालकिन के यहां एक पुलिस वाला मेरी बीवी को दस दिन के लिए अपने साथ ले जाने की कह रहा था.

ओह्ह … मेरे राजा … कितना गर्म … अहह … सच कहूँ … तो होली के बाद एक दिन ऐसा नहीं गया कि मैंने तुम्हारा नाम लेकर चूत में उंगली ना की हो … उस दिन तुमने शुरूआत की थी, पर मैं घबरा गयी थी.

वह भी अलग अलग लौंडों से!मेरे मुख से अनजाने में सच बात निकल गई, मैं फंस गया।मामा जी- तो उन दोस्तों से अब नहीं करवाते?मैं- मैं जहाँ पढ़ा, वह शहर छूट गया, कालेज का शहर भी छूट गया. मैंने कहा कि मैं उतर कर देखता हूं कि गाड़ी में क्या खराबी हो गई है. जयपुर में मेरे फ़्लैट के पड़ोस में मेरा एक दोस्त था, उसका नाम असगर था.

रोनिता मुझे हाथ से पकड़ कर खींचते हुए अन्दर लेकर आयी और मुझे सोफे पर धकेलते हुए बैठा दिया. सरस्वती- अरे तो क्या बुराई है … मजे करने का मौका था, थोड़ा स्वाद बदल लिया और क्या. मेरा लंड एक ही झटके में रीता की चूत को फाड़ता हुआ उसकी चूत में जड़ तक घुसता चला गया.

देसी गांव की सेक्सी चुदाई वीडियो

हुआ यूं कि उसने कोई परीक्षा फॉर्म भरा हुआ था, जिसका सेन्टर कानपुर था. फिर उसने मेरी जीभ को चूसना शुरू कर दिया और उसने मुझे दीवार की तरफ मुख करके खड़ा किया और मेरी गर्दन, पीठ सब जगह जोर जोर से किस करने लगा. मैंने उसे इशारे से निकल जाने को कहा और वो अगले ही पल मेरे मुँह में अपनी मलाई छोड़ बैठा.

आंटी ने मुझसे कहा- आयोडेक्स लगा दो … मेरे हाथों में बहुत दर्द हो रहा है.

मैं उसकी चुत पर लंड रगड़ने लगा, तो उसने अपनी चुदास के चलते जल्दी से मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा और अपनी चुत के छेद में डलवा लिया.

मेरी ये नर्स सेक्स कहानी आपको कैसी लगी, मुझे मेरे ईमेल पर जरूर बताएं. मैंने उसकी टाँगें उठाकर अपने काँधे पर रखी और फिर से चुदाई चालू कर दी।5 मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ गया और उसके ऊपर ही लेट गया।उसे लगा कि उसकी चूत से कुछ बह रहा तो उसने अपनी चूत में हाथ लगा कर देखा तो उसे पता कि वो खूँ है. बफ हिन्दी पिक्चर’इसके साथ ही एक मादक आवाज़ दस्तूर की भी आ रही थी, जो बहुत तेज थी ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह … फक मी … फक मी … फक मी … और ज़ोर से हर्ष और ज़ोर से … अन्दर तक ठोको … आआहह आआहह.

दोस्तो, मुझे इतना अच्छा लगा कि मैं भी उसकी तारीफ करने से खुद को रोक नहीं पाया. हम दोनों एक दूसरे से एकदम खुले हुए थे, एक दूसरे की किसी भी बात में दखल नहीं देते थे. दस्तूर ने कार से उतरते वक़्त मुझसे मेरा मोबाइल नंबर लिया और थैंक्स बोल कर चली गयी.

मैं उसे बगल में बिठा कर सवाल बताने लगा, तो उसके हाथ से पेन लेते वक्त उसने मेरी उंगलिया पकड़ लीं. मैंने उसे गौर से देखा, वर्षा दिखने में सांवली थी, लेकिन वो किसी गोरी लड़की से कम नहीं दिखती थी.

मुझे उसका पता नहीं, पर मैंने अपनी आंखें बंद कर रखी थीं और जैसे जैसे ठंडी हुई, ढीली होती चली गई.

क्या ये मेरी पाव रोटी को अच्छी तरह बेल पायेगा?मैंने कहा- एक बार अपनी पाव रोटी के दर्शन तो करवाओ. ये कोई धोखे से नहीं गया था, आप समझो यार कि किसी लड़की का हाथ किसी लड़के के लंड पर क्यों जाता है. मैंने एक उंगली को उसकी चूत में घुसा दिया और उसे खूब अन्दर बाहर करने लगा.

त्रिशाकर मधु का वीडियो क्या तुम मेरे सिर भी मालिश कर दोगे?मैंने बोला- हां आंटी बिल्कुल कर दूंगा. वर्षा ने मुझे पानी लाकर दिया और थोड़ी देर हम घर के हॉल में बैठे रहे.

उसकी लम्बाई 5 फुट 5 इंच थी और उसका 34-28-34 का फिगर बड़ा ही शानदार था. आप पसन्द कर लेना, बस हुकुम करो, वे लौंडे ही अपना कोई दोस्त या साथी ले आएंगे. वो मेरे लंड को अपने हाथ से अपनी चूत पर रगड़ने लगी और एक झटके में अपनी चूत में डाल कर अपने चूतड़ों को तेज़ी से ऊपर-नीचे करने लगी.

सेक्सी वीडियो रोजा

चूंकि मेरे घर में केवल दीदी और मैं ही रहते थे, किसी का कोई डर ही नहीं था. उसकी लार मेरे मुंह में जा रही थी और मैं उसकी लार को खींच कर पी रही थी. कहते हुए साहब ने अपनी जेब से पांच सौ रूपये का नोट निकाल कर मेरी तरफ बढ़ा दिया.

उसके बड़े बड़े चूचे, लेकिन प्रीति से छोटे … और पिछवाड़ा तो क्या बताऊं … एकदम घायल कर गए. लंड के प्रवेश के समय तो उर्वशी के मुंह से दर्द की कुछ आवाजें निकलीं मगर मिहिर भी कच्चा खिलाड़ी न था.

मैंने वो ही क्रीम ली और उसके उल्टा लेट जाने पर उसकी पीठ पर क्रीम लगायी और रगड़ने लगा.

तीसरे दिन ऑफिस से पापा का फ़ोन आया कि वो 3 दिन के लिए दोस्तों के साथ टूर पर जाने वाले हैं. जब मैंने देखा कि तुम मेरे पीछे पड़े हो, तो मैंने सोचा कि कहीं बाहर चुदने से तो अच्छा है कि घर में तुम्हीं से चुद जाऊं … इससे बदनामी का डर भी नहीं रहेगा. अब मैंने एक एक करके उसके सारे कपड़े उतार दिए … और उसकी चुत में फिंगर डाल दी.

अब तो मैं बस उनकी चूत के छेद में उन्हीं की चूत से निकला लंड डालना चाहता था. फिर उसने बताया कि कैसे बड़ी मुश्किल से वो सुरेश के लिए समय निकाल सकी थी … और गाय वाले घर में एक खटिया पर दोनों ने संभोग किया था. मैं उनके एक चूचे को चचोरने लगा और धक्का मारते हुए मैंने बुआ की चुत को अपने पानी से भर दिया.

एक बार मुझे एक ट्रक में लिफ्ट लेनी पड़ी तो मैंने ट्रक ड्राईवर से गांड मरवाई.

इंग्लिश पोर्न बीएफ: वो अपनी चूत को भी अपने हाथ से सहलाती थीं और कभी कभी तो उसमें उंगली भी डाल लेती थीं. भाभी एक पल के लिए सिहर गईं और उनके मुँह से मस्त आवाज निकल आई- अहहहह हहहह.

फिर आंटी ने बोला- आप दिल्ली में कहां रहते हो?मैंने आंटी को जहां मैं रहता हूं, वहां का एड्रेस बताया कि मैं दिल्ली में यहां पर रहता हूं. मैं उनके लंड को अपने हाथ से सहलाते हुए उनके टोपे को आगे-पीछे करने लगी. फिर एक ही बार में उसे अपने मुँह में भर कर फिर से चूसने लगी कि जैसे वो मेरे लंड को पूरा का पूरा निगल जाएगी.

सुशी- हेल्लो!मैं- हाँ बोलो सुशी जी?सुशी- आ रहे हो क्या?मैं बोला- हाँ आ रहा हूँ … लेकिन आना किस तरफ से है?सुशी बोली- सामने वाले दरवाजे से … मैं दरवाजे के पास खड़ी हूँ।मैं बोला- ठीक है।मैं डरे सहमे 11 बजे के बाद उसके घर के पास पहुँचा और इधर उधर को देखने लगा कि कोई है तो नहीं.

मैंने कहा- जानू अभी तो आधी ही अन्दर गयी है … अभी तो मैं इसमें पूरा हाथ भर का अपना अन्दर डालूँगा. उसके चूचों की दरार पर लगी पानी की बूंदें देख कर मेरा लंड खड़ा होने लगा था. वो मान गई और उसने मुझे बिस्तर पर पीठ के बल लेटा कर मेरा लंड मुँह में ले लिया.