बीएफ ब्लू फिल्म देहाती

छवि स्रोत,पुलिस वाली के सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स ऑंटी मराठी: बीएफ ब्लू फिल्म देहाती, उसका लंड बहुत मोटा और लंबा था जिसकी वजह से मेरी झांट सी चूत में घुस ही नहीं रहा था.

हिंदी सेक्सी मूवी सेक्सी वीडियो

ठन्डी बियर ने मेरी नींद तो उड़ा दी और मेरी ठन्ड के कारण हालत खराब कर दी. साउथ की चुदाई सेक्सीपेल दे अपना लंड मेरी फुद्दी में … कब से तेरे लंड के लिए तड़प रही थी.

शायद आप लोग बोर हो गए, लेकिन क्या करूँ असली कहानी है, तो जैसा हुआ वैसा ही लिख रहा हूँ. सेक्सी वीडियो चोदा वाला सेक्सीजब मैं उसके आर्मपिट और गर्दन पे ज़ुबान लगाता था, तो वो ऊपर को उछल पड़ती थी, जिससे मेरा लंड उसकी गांड पे टच हो रहा था.

उफ्फ्फ्फ … क्या मम्मे थे उसके … दूधिया रंगत के पिंक निप्पल एकदम से खड़े हुए थे.बीएफ ब्लू फिल्म देहाती: पेपर शुरू हुए करीब आधा घंटा हो गया था और मैं फ्रंट पेज पर अपनी डीटेल लिखने के अलावा कुछ नहीं कर पाई थी.

उसको इस बात का काफ़ी सदमा लगा और उसने नक्की किया कि वो जिंदगी भर कुंवारी रहेगी.दोपहर को, दीदी का मोबाईल मैसेज आया- हाय, कहां हो?मैंने तुरंत ही रिप्लाय करना शुरू किया- यहीं हूँ आस पास.

सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो जोधपुर - बीएफ ब्लू फिल्म देहाती

सच कह रहा हूँ, तब जाकर मुझमें थोड़ी हिम्मत आई और मैंने राहत महसूस की.भाभी बोली- बस करो जीतू … मार ही डालोगे तुम तो आज मुझे … आज तक तुम्हारे भाई ने भी मुझे इतना मज़ा नहीं दिया.

आज तेरी वजह से सुहागरात हो जाएगी, तेरा नाम हमेशा लूंगा कि मेरे भाई के कारण मेरी सुहागरात हुई थी. बीएफ ब्लू फिल्म देहाती उसके रुक रुक कर लगते हुए धक्के मुझे व्याकुल करने लगे थे और उसके लिंग में थकान की वजह से कड़कपन भी कम होने लगा था.

तभी वह जम के मेरे पिछवाड़े में लहंगे के ऊपर से ही अपना लंड दबाने लगा और दबाते दबाते 2 मिनट के बाद मेरे कान में बहुत दबी सी आवाज में बोला कि उधर चल … बहुत जम के करेंगे.

बीएफ ब्लू फिल्म देहाती?

उसने मेरी चूत को चाटने के बाद अपना लंड मेरी चूत पर रखा दिया और लंड के सुपारे को मेरी चूत की फांकों पर रगड़ने लगा. मुझे नशा सा हुआ तो मैंने सुनील को कहा- उफ आह मेरे राजा … खुलकर खेलो न मेरी जान. कोई बात नहीं …” मैंने बिना उसकी तरफ देखे ही बोला और मूवी देखता रहा।आप नाराज मत होइए … वो तो मुझे किसी और पर गुस्सा आ रहा था ऐसे ही मुँह से निकल गया.

कुछ देर रुकने के बाद, फिर उसने एक जोर का धक्का लगाया और इस बार उसका पूरा का पूरा लंड मेरी चुत में चला गया. उसने मुझे अपनी ओर खींच लिया और मेरे होंठों को पागलों की तरह चूसने लगा. हैलो फ्रेंड्स, मैं संजय सिंह, उम्र 32 साल, लुधियाना पंजाब का रहना वाला हूँ.

मैं और जोर जोर से अपना लंड को हिलाने लग गया, झट से बाथरूम में गया और वहां झाड़ दिया. जब मैं मस्ती से अपने बॉयफ्रेंड के लंड पर कूद रही थी, तो मेरी चूचियां हवा में हिल रही थीं. जरीना रोती हुई बोली- तुमने तो मार ही डालने का इरादा कर रखा है क्या? आराम आराम से नहीं कर सकते क्या? या यह कोई रबड़ का खिलौना है कि जैसे मर्जी वैसे तोड़ मरोड़ दिया?पर मैं बोला- मेरी इसमें क्या गलती है, तुम्हारी बुर है ही इतनी छोटी सी.

वह महिला रंग में तो गोरी थी और दिखने में भी ठीक थी, वो मुझसे पूछने लगी- क्या बात है?मैंने कहा- आपके पास पी. पास किया है और ये मेरी अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज़ पर पहली कहानी है.

क्योंकि बाहर आकर पता लगा कि रात में ठंड बढ़ चुकी थी और ऑटोवाले भी उसको लालच भरी नज़रों से देख रहे थे.

मैंने किशोर को चाय का थरमस दिया और धीमे से कहा- फ्री हो क्या?वो बोला- अभी नहीं कल.

मैं उत्तेजना में उसके अंडों को जोर से दबोच लिया और लिंग को मुँह में भर होंठों और दातों से काटने जैसा करने लगी. पूरे आधा घंटा उनकी चूत पेलने के बाद जब हम दोनों झड़ गए तो मैं बिस्तर पर उनकी चुचियों में अपना सर घुसा कर लेट गया और वो भी प्यार से मेरा सर सहलाते हुए अपनी चूचियां चुसवाने लगीं. पहली बार उसकी जवानी को किसी ने छुआ था!मैं उसकी गांड के बीच में अपना लिंग रगड़ने लगा और उसे गले और पीठ पर चाटने लगा, बोबे दबाते हुए! उससे रहा नहीं गया और पलट कर उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रखकर पागलों की तरह चूसने लगी.

वो बोला- ऐसी कोई बात नहीं है … ज़िन्दगी ठीक चल रही है, बस मुझे खुद में रहना ज्यादा पसंद है, मैं हर हाल में खुश रहने की कोशिश करता हूँ, अच्छा हो तो भी, बुरा हो तो भी. मेरा ये दोहरा हमला वो झेल नहीं पाई और मेरे मुँह पे ही उसने अपना पानी छोड़ दिया. मैंने अब नीरू बहन का टॉप ऊपर से फाड़ कर निकाल दिया और उसकी नंगी चूचियों को अपने मुँह में भरकर पीने लगा.

मैं सोचने लगा कि यह सरप्राइज़ की क्या कहानी है, अब तो और भी जल्द पता लग जाएगी.

उसका लंड थोड़ा सा घुसा था, तो मैं बिल्कुल रंजना दीदी से लिपट गई और कान में बोली- दीदी बहुत मन कर रहा है कि कोई अन्दर कर दे. हालाँकि बीच में कुछ और फालतू फोन भी आये जिन्होंने मेरा नंबर उसी टैग से लिया था लेकिन वे मेरे परिचय वाले न साबित हुए तो मैंने बात बढ़ानी ठीक न समझी। क्या पता कौन हो कैसा हो. मैंने आहिस्ता आहिस्ता उसके सारे कपड़े उतार दिए और अपने भी निकाल दिए.

भाभी उस धक्के के लिए तैयार नहीं थी और जैसे ही पूरा लंड चूत के अंदर फंसा, भाभी की एकदम चीख निकल गई, बोली- राज! मुझे मार ही दिया, इतना मोटा लंड है तुम्हारा. थोड़ी देर बाद ही उसके बॉस की गाड़ी ड्राइवर लेकर आया और उसने मेरी बीवी को चलने को कहा. यह सुनकर वो भी थोड़ा मुस्कुरा कर बोलीं- हां क्यों नहीं … आपका हमेशा स्वागत है, अब से अगर किसी चीज की जरूरत पड़ी ना … तो मैं सीधे आपको बोलूँगी.

मैंने झट से मामी की साड़ी के ऊपर से ही अपनी पैन्ट में से ही लंड को रगड़ने लगा.

मुझे बिल्कुल भी होश नहीं था और अब डेविड ने स्पीड बढ़ा दी और चुदाई के कारण मेरी आवाज और तेज हो गयी थी. लिफ्ट में पहुंचने के बाद महिला ने 18 नंबर का बटन दबाया, इसका मतलब हम 18 वीं मंजिल पर जा रहे थे.

बीएफ ब्लू फिल्म देहाती मैंने उसकी चूची दोनों हाथों से पकड़कर दो आखिरी धक्के लगाए और अपना सारा माल उसकी चूत में ही गिरा दिया. वहां पता चला कि परीक्षा बहुत टाइट होने वाली है। मैं मन ही मन घबराई हुई थी क्योंकि वैसे भी मुझे इंग्लिश में कुछ आता नहीं था.

बीएफ ब्लू फिल्म देहाती खैर … हंसते हुए सब ठीक हुआ और मैंने पार्टी बम उठाया और साइड में खड़ी लड़की की कोहनियों को पकड़ा, जहां पर मैं खड़ा था … उसे साइड में लाया. मैंने भी हंसते हुए उनका हाथ पकड़ लिया- लगता है भईया जी, पैसे कमाने के चक्कर में अपने घर का खजाना लुटा देंगे … आप इतनी खूबसूरत हो भाभी जी, कौन मर्द भला, घर से बाहर रह सकता है.

आंटी ने मुझसे कहा- अगर तू मुझे ऐसे नहीं मिलता तो मैं ब्लैकमेल करके तेरे साथ यह सब करने वाली थी.

हिंदी हीरोइन बीएफ वीडियो

मैं और लता भाभी चुपचाप हर रोज़ चुदाई करते रहे और जैसे कि इश्क और मुश्क छिपाए नहीं छुपता, हमारे इस खेल का हेमा भाभी को शक हो गया था. मैंने जोर से चुची दबाई और निप्पल को और खड़ा करके उसे दांतों से खींचने लगा. इसके बाद गीता ने मुझे इशारा किया- क्या गान्डू की तरह खड़े हो … चोदो बेचारी को; कब से तरस रही है.

कुछ औपचारिक बातें फैमिली की करने के बाद मेरी तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाते हुए उसने पूछा- रीना जी, क्या हम दोस्त बन सकते हैं?मैं थोड़ी देर चुप रही … समझ नहीं आ रहा था कि क्या कहूँ. ‘पद्मा दीदी, आप लंड को संभालो मैं अपनी चूचियां और चूत इनसे मसलवाती हूँ, फिर हम दोनों जगह बदल लेंगी. प्रीति भी गर्म हो चुकी थी और वो भी मेरा साथ देने लगी। फिर मैंने उसकी योनि के नीचे चार तकिये लगा दिये जिसके कारण उसकी योनि बहुत ज्यादा ऊपर उठ गई और मैंने फ्रिज खोलकर उसमें से एक बाउल निकाल कर रसमलाई एवं स्पंज रसगुल्ले निकाल कर एक रसगुल्ले को योनि के ऊपर उसको निचोड़ दिया उसका ठंडा ठंडा रस जैसे ही उसकी योनि में गिरा उसका टांगें काम्प गई, मुख से हल्की सी चीख निकल गई.

भाभी की आंखें पहले ही नशीली थी और जब उनके ऊपर सेक्स का खुमार चढ़ा तो उनकी आंखें बिल्कुल ही शराबी की तरह से हो गई.

‘और उपिंदर तेरा फंक्शन कैसा रहा?’‘यार खाना पीना तो अच्छा था, पर लंड अब भी खड़ा है. दोस्तो, यह मेरी कहानी का पहला भाग है आगे मैं मेरी भाभी को विभिन्न आसनों में चोदने की पूरी कहानी बताऊंगा. फिर उन्होंने मुझे सोफे पे बिठा दिया और कहा- आज आप यहीं रुक जाइये, कल चले जाइएगा.

मैं बोला- ये सरप्राईज़ क्या है?तो वो बोली- बस थोड़ी देर और … चलो पहले बियर पीते हैं. हां हां, क्यों नहीं!”मैंने मन में सोचा ‘नेकी और पूछ पूछ …’ मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और पूरा नंगा उस के सामने खड़ा हो गया. वो सिसकी- ओह आमिर!मैं भी सिसका- ओह ज़रीना!वो नशीली आवाज में बोली- आमिर मुझे एक बार और किस करो ना!मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये और उसके होंठों को चूसने लगा.

कुछ ही दिनों में हमारे बीच घमासान चूमा चाटी और मसलने नोंचने की स्थितियां बनने लगी थीं. अभी तक जिन भी आंटियों के साथ रात बिताई, सभी की कुछ न कुछ समस्या थी.

वो गुस्से में होके बोला- अभी तुम जाओ … मेरे पास टाइम नहीं है, इन पांचों मजदूरों से काम निकलवाना है, हम पे मजदूरी चढ़ जाएगी, वैसे भी इस काम में हमको कुछ नहीं मिलने वाला. सी का मतलब था परीक्षा में नक़ल करते हुए पकड़े जाने पर एक से तीन साल तक के लिए बोर्ड परीक्षा से निष्काषित कर दिया जाना. थोड़ी देर बाद भाभी ने अपने चूतड़ों को थोड़ा हिलाया और लण्ड को चूत में अच्छे से सेट करके बोली- अब करो.

मैं- चलो अच्छा है … और सुनाओ तुम क्या कर रही हो?यहाँ मैं उसे भाभी लिख के आगे की बातें स्टार्ट करता हूँ, जिससे आपको समझने में आसानी हो.

मैंने भाभी की ब्लाउज खोलने के लिए अपना हाथ बढ़ाया तो भाभी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और हाथ को हटाते हुए मुझे किस करना जारी रखा. तो वो लंड के सुपा़ड़े को मुँह में लेकर चूसने लगी और धीरे-धीरे जितना लंड अंदर जा सका चूसने लगी. उसके बाद मैंने अपनी चुदाई तेज कर दी और जोर जोर से उसकी चूत को चोदने लगा.

मैंने कहा- ओह अच्छा …दीदी ने हंसते हुए कहा- याद है, जब मैंने येलो कलर का ड्रेस पहना था, उस वक्त भी मेरा इशारा था कि आ जा कुछ तो कर … तुझे याद है और भी दो तीन बार ऐसा हुआ था. मैं उससे बोला- नैना ये सब ठीक नहीं है तुम्हारी अपनी गृहस्थी है, मेरी अपनी है.

प्रशांत तो जैसे उससे बात करने का बहाना ही ढूंढ रहा था, उसने तपाक से पूछा- क्या हुआ मैडम? तबियत तो ठीक है न?इस पर नीना ने बड़े ही नाटकीय अंदाज में दिल धक-धक करने की समस्या साझा की, तो प्रशांत ने उसके करीब आते हुए मदद करने का ऑफर दिया. हम दोनों ने एक दूसरे को साफ़ किया और उधर ही शावर के नीचे खड़े होकर नहाने लगे. यह सब तो तभी पता लग पाएगा जब उसको फिर से चोदने का मौका मिलेगा और मैं आज तक उसी मौके की तलाश में हूँ.

जानवर बीएफ जानवर

बहुत दिनों तक मैंने पंकज के लंड से अपनी चूत की चुदाई करवाई और मेरी चूत की प्यास हर दिन बढ़ती ही चली गई.

मैंने कहा- हां हाँ मीशा … पूछो न जो पूछना चाहती हो!वो बोली- जब से मैं जवान हो रही हूँ, मेरे शरीर में बहुत परिवर्तन हो रहे हैं और मेरे मन में बहुत बैचैनी हो रही है. मैं उसकी चूत को जीभ से चाटने लगा, कभी कभी दांतों से चूत के मुकुट यानि उसकी क्लिट को हौले से खींच कर काट भी लेता. आधे घंटे बाद उन दोनों में किस चालू हुआ और वे 10 मिनट तक किस करते रहे.

वो मुझे बहुत गालियां दे रही थी- और चोद साले … और चोद … रंडी बना दे मुझे कुतिया बना ले अपनी. मुझे अभी भी लगता है कि वो भी मेरे साथ किये गए सेक्स के बारे में रोज़ सोचती होगी। अभी भी जब वो मायके वापस आती है तो मैं उसे चोदने की कोशिश में लगा रहता हूँ पर अभी तक सही मौका नहीं बन पाया है।मैं पूरी कोशिश में हूँ कि जैसे ही निहारिका दीदी के साथ चुदाई का सीन बनेगा मैं आप सबको जरूर बताऊंगा. सेक्सी पंजाबी अंग्रेजीवो बोला- ऐसी कोई बात नहीं है … ज़िन्दगी ठीक चल रही है, बस मुझे खुद में रहना ज्यादा पसंद है, मैं हर हाल में खुश रहने की कोशिश करता हूँ, अच्छा हो तो भी, बुरा हो तो भी.

उसने नीचे हाथ डाल के अपना साया ऊपर किया और कहा- आ जाओ मेरे छोटे भैया, चढ़ जाओ मेरे ऊपर और प्यास बुझा दो मेरी चूत की. बार-बार सलोनी अपनी कमर को उछाल कर अपनी चूत को मेरे होंठों के पास लाती और फिर से नीचे ले जाती.

बेटे को लेके मैं वापस लखनऊ आ गयी, अब्बा हुज़ूर ने संभाल तो लिया, पर रिटायर्ड होने के कारण पेन्शन में घर चलाने में थोड़ी तकलीफ़ होने लगी. उसके बाद उसने मिशिका के चूचों को अपने हाथों में भर लिया और उन दोनों कबूतरों को दबाने लगा. इतने में उसने मुझे पीछे हाथ करके रुकने के लिए बोला, मुझे समझ नहीं आया, पर मैं रुक गया.

जैसे ही वो गांड नीचे करके चुत उसके मुँह पर दबाती, वो उसकी चुत पर जोर से काट लेती और जैसे ही गीता वापस गांड ऊपर करती, मेरी उंगली और अन्दर हो जाती. इधर मेरा कॉन्ट्रैक्ट ख़त्म हो गया था लेकिन मुझे छुट्टी नहीं मिल रही थी क्योंकि मेरे रिलीवर की फ्लाइट मिस हो गई थी. आअह … आ आ आ आ … हहह … हम्म ओह …मैं उसकी जांघों के जोड़ के पास आकर रुक गया.

उसके बाद मैंने बाइक को घर से कुछ दूरी पर रोक लिया और ताक-झांक करने की कोशिश करने लगा.

वह बोले कि तुमने उस दिन स्टोर में करवाते हुए बोला था कि आ जाओ बुला लो अपने विदेशी को. हां … इन 29 सालों में इतना तो किया कि मजदूरी करने से ऊपर उठकर एक 10′ गुणा 20′ का एक आशियाना बना लिया, जहां पहली मंजिल पर मैं रहता हूँ और नीचे छोटी सी दुकान चलाता हूँ.

उन्हें मैंने बहुत प्यार से समझाया और गले लगा कर कहा- मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ भाभी … मैं आपको रोते हुए नहीं देख सकता. इधर पीछे पुनीत भी रगड़ के मेरी पीठ पकड़ कर मेरी गांड के अन्दर तेजी से लंड चलाने लगा और तीन चार मिनट बाद ही वो भी छूटने को हो गया. मैं तुम्हारा एहसान कैसे चुकाऊं?अरे पगली, उसमें एहसान क्या … बस इसी तरह से चुदवाते रहना … हिसाब बराबर …”हम दोनों हंसने लगे.

ज़रीना चीखी- उफ्फफ … सारा आपा इतना बड़ा तगड़ा मेरे अन्दर कैसे जाएगा?सारा बोली- ज़रीना चिंता मत कर बहुत मजे करेगी … तू बस देखती रह और मजे लेने के लिए तैयार हो जा. मैंने जानबूझकर बाथरूम का दरवाज़ा लॉक नहीं किया था ताकि भाभी मेरे बाथरूम में नहाने के लिए आए और मुझे इस हाल में देख ले. मेरी किसी विदेशी मर्द से चुदने की पुरानी ख्वाहिश आज पूरी हो रही थी.

बीएफ ब्लू फिल्म देहाती फिर उसने आंखें खोलीं और शरमाई निगाहों से आंखों के इशारे से कुछ कहा. एक छोटा सा टेबल और उसके साथ एक स्टूल भी था और अंदर से ही एक अटैच्ड बाथरूम भी था.

करिश्मा कपूर की सेक्सी बीएफ वीडियो

एक दिन मैंने न्यूज़ पेपर में देखा कि एक कंपनी में लेडीज एकाउंटेंट की नौकरी खाली है. वो लड़का सभी से बहुत अच्छे से सबसे बात करता है और कभी कभी मुझसे भी बात करता है. अब तुम मुझे भाभी नहीं बुलाओगे … तुम्हारे लिए एक और सरप्राइज है मेरे पास!मैंने पूछा- क्या …शारदा बोली- मैं अभी तक आधी कुंवारी ही हूँ.

ये सब बातें मुझे जब पता चलीं तो मैं उसकी दर्द से नाटक करने की हरकत को याद करते हुए मन ही मन में हंस पड़ा. उसके बाद मैंने धीरे से लंड को फिर उसकी गांड पर सेट किया और एक ज़ोर का धक्का दिया तो अबकी बार आधा लंड उसकी गांड में घुसा दिया. हिंदी सेक्सी ऑडियो एंड वीडियोप्रमिला एकता की चुत को चाटती कभी मेरे लंड पर जीभ फेरती, तो कभी गोटियों को मुँह में ले के हम दोनों को मजा दे रही थी.

तभी निहाल अब मेरे कान के पास बोला- सोनू तुझे मजा आ रहा है ना?मैं कुछ नहीं बोली तो उसने आगे हाथ से चूत को फिर दबा दिया और बोला कि देखो मैं तेरे लिए पागल हो रहा हूं.

बड़ी बड़ी गोल चुचियां, कोमल बदन, ऊपर से लाल साड़ी आहह …वो भी जानबूझ कर अपना पल्लू सरका कर जाम बना रही थीं. मैं एक अदद लंड को बुरी तरह तरस रही थी।उन्होंने इसी मंच से मेरे लिये हेल्प मांगी थी और जो लोग दिये थे, उनमें भी ज्यादातर बेसब्रे और डरपोक किस्म के ही निकले। वह एक सीधा सिंपल लॉजिक नहीं समझ पाते कि मैं एक शादीशुदा औरत हूँ और कुछ भी हो, मैं अपने विवाहेत्तर सम्बंधों के चलते अपनी निजी जिंदगी और तबाह तो करूँगी नहीं, जो पहले ही ठीक नहीं ही है.

वो नारी सुलभ तरीके से शरमाने लगी और मुझसे बचने की नाकाम कोशिश करने लगी. टीवी का रिमोट तो शिखा के हाथो में था तो वो ही अपनी पसंद का कार्यक्रम देख रही थी. गर्मी शांत करने का तरीका मैं इसलिए लिख रहा हूँ क्योंकि आज के दिन के बाद हम दोनों ने कभी एक दूसरे को कॉल नहीं किया, ना ही बात की.

राज अंकल और जगत आगे पीछे भौंरे की तरह मंडराते रहे, पर दिन में आने जाने वालों की इतनी भीड़ रही कि कुछ होना सम्भव ही न था.

मैंने कहा- सॉरी भाभी!भाभी बोली- किस बात के लिए?मैं- उस दिन जो हुआ उसके लिए मुझे माफ कर दो प्लीज़!भाभी- अच्छा माफ कर दूंगी, मगर एक बात मुझे सच-सच बताना!मैंने कहा- क्या?भाभी- तू मेरी पेंटी में मुट्ठ क्यों मार रहा था?मैं- भाभी … आप और भाई कहीं गए हुए थे तो मैं घर पर आया था लेकिन मुझे घर में कोई नहीं दिखा. मैं- हां मैं आ जाऊंगा, पर आना कहां है?कल्पना- परसों मेरे घर वाले दोपहर में सूरत जा रहे हैं किसी शादी में शरीक होने. मैं तुम्हारे लंड को अपनी चूत में अंदर तक लेने के लिए तड़प रही हूँ मेरे राजा!मैंने कहा- आंटी, मैं भी आपकी चूत को चोदने के लिए तड़प रहा हूँ.

बिहार सेक्सी चाहिएउसने मेरे लंड को खड़ा होने के बाद अपने हाथों में भरने की कोशिश की मगर पैंट बीच में आ रही थी. मेरी एक पिचकारी के बदले सरदारजी ने 3 पिचकारी मार दीं और हांफते हुए ढीले पड़ने लगे.

सेक्सी पिक्चर बीएफ गुजराती

मैं मामी की चूचियों को इतनी जोर से मसल रहा था कि उनकी चूचियां एक की दो हो गई थीं. मैंने उसकी छाती के बालों में अपने होंठों को फिरा दिया और उनको चूम लिया. मैंने उसे बिस्तर पर लिटा लिया और उसकी बुर पर हाथ फ़ेरना शुरू कर दिया, उसने भी मेरा लंड पकड़ कर सहलाना चालू कर दिया.

उसके घर के पास जाकर मैंने फिर से पता पूछा और मैंने उसका घर ढूँढ लिया. अपने शौहर के लिए प्यार अब भी था, इसलिए आए दिन बेटे के बहाने उनसे बात करके उन्हें वापस पाने की कोशिश करती, पर हर बार जब वो दुत्कार देते तो एक रोष सा आ जाता कि बस अब बहुत हो गया. मैं जिस मोहल्ले में रहता हूँ, वहाँ ज्यादा घर नहीं हैं, सब कुल गिने हुए 25 घर हैं.

उन्होंने हल्के से चुत को मेरे अपने दोनों हाथों से फैलाये और फिर अपनी जीभ को जैसे ही चुत में टच कराया, मैं उछल पड़ी. हम उन्हें देखकर हड़बड़ा गए थे, मेरा लोअर वीर्य के दाग से गीला हो गया था और लता भाभी भी जहाँ खड़ी हुई थीं, वहां उनकी चूत से जमींन पर वीर्य की बूंदें गिर रही थी. कुछ धक्कों के बाद मैंने भी अपना माल उसकी चुत में छोड़ दिया और उसके पास लेट गया.

मैंने दरवाजे की कुंडी को खोल दिया और सुखबीर को फ़ोन करके आने को कहा. कोमल दीदी ही मुझसे ज्यादा बात करती थी और मुझे चाय के लिए भी पूछ लेती थी.

तब तो मैं जाकर उससे सेक्स कर सकूँ?मैंने कहा- मुझे उसको समझाने का मौका दो, मैं उसे देखती हूँ.

हम दोनों कमरे में आ कर कॉफी पीने लग गए, कॉफी खत्म होते ही मैंने साहिल से बोला- एक बात बोलूं?वह बोला- तुम्हें पूछने की कोई जरूरत नहीं है, तुम बेझिझक बोलो. मधु भोजपुरी का सेक्सी वीडियोइधर अब सारा भी मेरी बीवी थी, पर उसे तो हलाला के चलते तलाक देना होगा. हिंदी सेक्सी देहाती भोजपुरीइंटरव्यू वाले दिन मैं तैयार होकर जाने लगा तो शिखा ने मुझे हल्की सी स्माइल दी. फिर अंत में जब उससे नहीं रहा गया तो उसने मेरे सर को पकड़ लिया और जोर से अपनी चूत पर दबाने लगी.

लगता था उन दोनों ने पहले से ही हमारी सुहागदिन का इंतज़ाम कर रखा था.

मगर अब मैंने लंड को बाहर निकाला क्योंकि बड़ी मुश्किल से लंड चूत में गया था. गाड़ी जैसे जैसे तेज चलने लगी, राज अंकल मम्मी को जोर जोर से कस के पकड़े हुए उनके दूधों को दबाने लगे थे. निहाल मुझसे सटा हुआ था और उसका ही लंड मेरे पीछे पेंट के ऊपर से ही टच हो रहा था.

अब आगे …मैंने जैसे ही इतना कहा, तो उन्होंने अपना मुँह मेरी चूत में रख दिया और टांगों को और फैला दिया. वो अब तड़प रही थी, बार बार बोल रही थी- बेटा अब चोद दे मुझे, अब और ना तड़पा अपनी बुआ को. अगले तीन दिनों तक आरती हमारे यहाँ रही और इन तीनों दिन ही आरती को अशोक ने दबा दबा कर चोदा.

बीएफ वीडियो वॉलपेपर

मैंने उसे देख लिया उसके साथ एक लंबा हैंडसम लड़का शेरवानी सूट में था. मैंने ऐसा करते हुए अपना लंड उसकी चूत से बाहर नहीं आने दिया और उसको बेड पर लेटा कर किस करने लगा. जैसा कि मेरी पहले की कहानियों को पढ़ने के बाद कई महिलाओं एवं लड़कियों के ईमेल भी मुझे मिले, कई ने मिलने की इच्छा भी जताई, अन्नू और डॉली ने भी बाहर जाने की अनुमति दे दी, (अन्नू और डॉली की कहानी) तो मैंतीन आंटियों की दिल की मुरादउन्हीं के घर में पूरी करके आ गया.

सास मेरे बच्चों की थोड़ी बहुत मदद कर देती है लेकिन बाकी का सारा काम मुझे ही करना पड़ता है.

मैंने कहा- इशारे? वो कैसे?दीदी बोली- याद है जब मैंने लाइट ग्रीन कलर का पंजाबी ड्रेस पहना था.

भैया बोले- काहे की सुहागरात, साले ले जाएंगे आज शाम को … बहनचोद साले, साला शादी किए ही क्यों थे. मुझे इतना आनंद आ रहा था कि मैंने अपने चूतड़ों को आगे की तरफ धकेलते हुए उसके मुंह को चोदना शुरू कर दिया था, ऐसा लगा कि मैं सीधा झड़ ही जाऊंगा। दीदी मेरे लंड को मुंह में लेकर इतने प्यार से चूस रही थी जैसे उसके होंठ लंड को प्यार देने के लिए बनाए हैं ईश्वर ने. देवर भाभी का सेक्सी प्यारइस बार उसने बार-बार मुझे रोका क्योंकि वो झड़ गई थी, और झड़ने के बाद वो चुदाई कर नहीं पाती थी.

वो दिन भी आ गया, जब मैं पहली बार हितेश से मिली … दिखने में एकदम राजकुमार लग रहा था हितेश … 5 फ़ीट 10 इंच की लंबाई … बॉडी भी ठीक ठाक … चेहरा भी अच्छा खासा … मैं तो देखते ही उस पर फिदा हो गयी. अब मुझे चूत में दर्द महसूस होने लगा लेकिन मेरे पानी से चूत पूरी तरह से गीली हो गई थी जिसके कारण पंकज का लंड अब और ज्यादा अच्छी तरह मेरी चूत को फाड़ने में लग गया. अब मैं उसके ऊपर लेट कर अपने मुँह से उसके होंठों को किस किया और उसकी चूत में लंड रगड़ने लगा.

नंगी भाभी को देखकर तो मेरा 6 इंच का लंड अपने पूरे ज़ोर पर आ गया था और भाभी को सलामी देने लगा. भाभी मस्त हो गईं और मुझे चूमते हुए बड़े प्यार से बोलीं- सच्ची … अले मेला बेटू … चल कल ले अपनी मस्ती.

तब दीदी मुझसे बोली- अरे तुझे क्या हुआ … ऐसा लगता है कि जैसे कोई ने अन्दर डाल दिया हो?मैं बोली- हां दीदी, ऐसा ही समझ लो.

इसके लिए मेरी हरकत कोई शरमाने की बात नहीं, बल्कि मनोरंजन की बात है. राजिंदर मेरी गांड मार रहा था और उपिंदर लंड चुसवा रहा था और दोनों बातें कर रहे थे. वो जब भी अपने टाइट जिम वाले कपड़े पहन कर निकलती थी, तब उसका पूरा फिगर साफ़-साफ़ दिखता था.

श्रिया सरन की सेक्सी वीडियो मैं भी अपने बॉयफ्रेंड से चुदवाना चाहती थी, हम दोनों आज चुदाई का भरपूर मजा लेना चाहते थे. मैं दोनों हाथ से भाभी के चुचे दबाये जा रहा था और मुँह से चूसे जा रहा था.

गीता की चुचियां बहुत मस्त थीं और अब तक के खेल में उसकी निप्पल भी टाइट हो गये थे. पर यह सच है हर किसी लड़की को कभी ना कभी, कहीं ना कहीं ऐसा लड़का मिलता है, जिसे देख कर वह चाहती है कि ये मुझे खूब चोदे. मैंने भाभी की चूत की फांकों में लौड़ा रख कर एक ज़ोरदार धक्का लगा दिया.

स्कूल के बच्चों की सेक्सी बीएफ

मैं माफी चाहता हूँ, थोड़ा बिज़ी था, इसलिए आप सबसे मुखातिब होने में जरा देरी से आ पाया. भाभी की तबीयत ठीक ना होने के कारण मैंने ही दूध गर्म किया और भाभी और मैं साथ में दूध पीकर सो गए. वो जैसे ही मेरे लंड को मुँह में ले कर अन्दर बाहर करने लगी, मुझे लगा कि अभी तुरंत ही लंड छूट जाएगा और हुआ भी वही.

रास्ते में पहले तीन लोग कार में, दो मॉल में और फिर स्टोर से बंगले पहुंचने में एक. इतने में लाइट फिर से आ गई और वह जो नीचे लड़का चूत चाट रहा था, वह झट से बाहर निकल आया.

वो पैंटी के ऊपर से चुत में लंड के धक्के मारने लगा और अपने हाथ से मेरे छोटे-छोटे मम्मों को पकड़कर जोर से दबाने लगा.

आपने अब तक की कहानी में पढ़ा था कि मैं सुखबीर के साथ सम्भोग करने में लगी थी. अमित का एक हाथ मेरी कुर्ती के अंदर सरक गया और सुरक्षा कवच के अंदर गंतव्य स्थान पर पहुंच कर उसने मेरे उरोजों को सहलाना शुरू कर दिया. और अगर तुम्हें या तुम्हारे पति को न जमे, तो जैसे ही तुम्हारी भाभी के घर वाले चले जाएंगे, तो जग को वापस भेज देना.

कुछ देर बाद कोमल दीदी ने कहा कि तुम दोनों ही एक ही फील्ड की जॉब की तलाश में हो तो बेहतर होगा कि तुम दोनों एक-दूसरे की मदद कर लिया करो. बस 5-6 मिनट बाद मैं भी उसकी चूत में झड़ गया और उठ कर अपने लंड को पानी डाल कर साफ़ किया. मैंने कहा- दीदी क्या मैं आपकी चुत चूस लूँ?दीदी ने कहा- हां क्यों नहीं … लेकिन तू उसे चुत मत बोल, मुझे अच्छा नहीं लगता … तू उसे बिल्ली बोला कर.

मैंने मुड़ कर देखा कि वो बिलकुल नंगी थी और उसके हाथ में बियर की दो बोतलें थीं.

बीएफ ब्लू फिल्म देहाती: मैंने इंदु के पैरों को छत की तरफ उठा दिया और अपना लंड इंदु की चुत के मुहाने पे रख के जोर से धक्का दे मारा. अभी तक आपने पढ़ा कि छुट्टी के बाद पेपर करने गई हम दोनों सहेलियां सर के साथ ऑफिस में बैठकर नकल उतार रही थीं.

उसकी ब्रा के ऊपर से मैंने उसकी चुचियों को दबाना चालू किया और उसकी चुचि के निप्पल को होंठों में दबा कर सक करने लगा. ठंड की वजह से पूरी सड़क मोहल्ले सुनसान होते थे, सो बड़ी परेशानी में थी. घर पहुंचा तो पाया दरवाजे में अन्दर से कोई लॉक नहीं लगा था, मैं बैडरूम में गया तो देखा कि शंकर जी और मदन दोनों नंगे एक दूसरे से लिपट कर मस्त सोए हुए थे.

उसे भी मेरी गरम सांसें अपने कान पर महसूस होने लगीं और वो भी कुछ अजीब सा बिहेव करने लगी.

तभी भाभी ने आवाज़ दी- रोहित मोबाइल में क्या कर रहे हो?मैं थोड़ा हंस दिया और ‘कुछ नहीं भाभी. आंखों ही आंखों में हम दोनों ने एक दूसरे को काफी गहरे से पढ़ लिया था. भाभी कहने लगी- अब मैं तुमसे एक बात पूछती हूं, सच-सच बताना, झूठ नहीं बोलना है … क्या तुमने लता को चोद लिया है?”मैं पहले तो कुछ नहीं बोला और चुप रहा लेकिन भाभी ने मुझसे दोबारा पूछा- देखो राज! मुझसे झूठ नहीं बोलना, मैं अपना सब कुछ आज तुम्हें सौंप रही हूँ.