बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म

छवि स्रोत,नेपाली सेक्सी देखना है

तस्वीर का शीर्षक ,

देहाती सेक्सी बुर: बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म, कहते हुए राजे ने फुर्ती से मेरी टाँगें फैलाई और फुनफुनाते हुए लौड़े को चूत के मुंह से लगा दिया। चूत ने जैसे ही लंड का स्पर्श पाया साली धड़ाम से झड़ गई… ठरक से बेहद गर्म तो थी ही, रस की फुहारें लंड पर छा गयीं।दूसरे ही पल राजे ने माँ की लौड़ी.

रवीना की सेक्सी मूवी

और आंटी की चुत को किस करके अपने लंड को उनकी चुत पर लगा दिया। लंड के स्पर्श से आंटी ने चुत और खोल दी। मैंने पहला धक्का दिया तो थोड़ा सा लंड अन्दर घुस गया।आंटी के मुँह से जोर से आवाज़ आई- अह. सेक्सी वीडियो कपड़ा उतार केकैसे?मैंने उसके इस सवाल पर एक आँख मारने वाला स्माइली भेजते हुए लिखा- हर तरह से.

कहते हुए नीचे मेरी योनि की ओर अपना हाथ बढ़ाया और अपनी दो ऊंगलियाँ मेरी योनि में डाल दी. सेक्सी वीडियो चाहिए गानेक्योंकि ये मेरा दूसरी बार था, इसलिए शायद जल्दी नहीं निकल रहा था।थोड़ी देर बाद मुझे भी लगने लगा कि अब मेरा पानी गिरने वाला है, तो मैं धक्का जोर-जोर से देने लगा और दीदी की बुर में ही गिर गया।दोस्तो अगर मुझ से कोई गलती हो गई हो.

कब घूरता हूँ? ऐसा तो कुछ नहीं है।जूही- अच्छा, जब मैं कपड़े बर्तन धोती हूँ.बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म: लेकिन मैंने निकाली नहीं और मैं ऐसा शो करने लगा कि मुझे भी ठंड लग रही है।थोड़ी देर बाद उन्होंने पूछ ही लिया- तुम शॉल क्यों नहीं ओढ़ लेते?तो मैंने झूठ बोला- मैं जल्दी में लाना भूल गया।उन्होंने कहा- कोई बात नहीं.

जबकि वहीं उसकी पत्नी बहुत चालाक किस्म की औरत थी। उसका चक्कर अपने ही ड्राइवर के साथ था और वो भी उसके साथ ही रहता था। इस बारे में शिल्पा भी जानती थी.फिर मैं खाना लेकर आती हूँ।कोमल ने खाना के लिए मना करते हुए गेट बंद कर दिया और अपने कपड़े उतारने लगी। मैं उसे देख रहा था.

टीचर स्टूडेंट की सेक्सी पिक्चर - बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म

जैसे मैंने ये किया, उसने मुझ फिर से कस लिया, 8-10 धक्के मैंने और लगाए कि मेरा शरीर भी पिघल कर उसके शरीर में समाने लगा, इसके साथ मैं भी निढाल सा उसके ऊपर ही लेट गया.मेरा नाम जिगर है। मैं अमदाबाद, गुजरात का रहने वाला हूँ। मुझे सेक्स करना बहुत पसंद है.

आज ही मेरी चुत और गांड दोनों अन्दर से हिला दीं तूने।फिर थोड़ा जोर लगते ही ‘घच्छ. बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म मैं पायल आंटी की कभी एक चूची को निचोड़ता तो कभी दूसरी चूची को निचोड़ता। पायल आंटी की चूचियाँ भी बहुत नरम थीं और उन्हें दबाने में बहुत मज़ा आ रहा था।पायल आंटी- इनका दूध पियेगा?मैं- क्या इनमें दूध आता है?पायल आंटी- हाँ थोड़ा-थोड़ा दूध निकल आएगा.

इस तरह से लंड चुसाई करने में तो सनी लियोनी को भी फेल है।नेहा डॉक्टर साहब के ऊपर जा कर उनके पेट पर किस करने लगी और उनकी टी-शर्ट और बनियान उतारने की कोशिश करने लगी।फिर नेहा मेरी तरफ देख कर बोली- बैठ के वहाँ गांड मरा रहा है क्या.

बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म?

आज तो अंदर तक देख भी लिया और ठोक भी लिया। अब क्यों ऐसे देख रहा है?‘क्या भाभी मैंने क्या किया? यह तो तेरी पायल का करा धरा था। मुझे तो तू ऐसे ही बहुत सुन्दर लगती है. तो कभी उसे बड़ी जोरों से चूस रहा था। इससे रेखा भाभी की योनि का नमकिन रस मेरे मुँह में घुलने लगा, मेरे मुँह का स्वाद नमक के जैसा हो गया था। मगर फिर भी मैं सच कह रहा हूँ कि मुझे वो नमकीन रस. !वो मेरी बीवी की गोरी टांगों पर हाथ फेरते जा रहे थे।नेहा बोली- तुमको मालूम है नाइन पूछ रही थी कि मैडम आपके शरीर में सब जगह इतने सारे लाल-लाल दाग कैसे पड़ गए.

शायद मामी कुछ और ही चाहती थीं, उन्होंने मुझसे बोला- रोहित तुम बड़ी अच्छी मालिश करते हो, जरा मेरी कमर पर भी मालिश कर दो ना!मैं इस मौके को गंवाना नहीं चाहता था, सो मैंने झट से कहा- मामी कर तो दूंगा पर आपका गाउन बीच में आ रहा है।मामी बोलीं- तो तू एक काम कर. और मैं कमल जैसे मस्त चोदू सांड का खूब निचोड़ कर मज़ा ले सकती हूँ। पर मेरी नयना रानी, तू अच्छे से सोच ले. मैं डर के मारे बाहर ही खड़ा था। करीब दस मिनट बाद रोमा फिर से बाहर आई और मुझे बुला कर घर के अन्दर ले गई। अन्दर जाकर देखा तो सभी अपने-अपने काम में मग्न थे.

मेरे मन में पता नहीं क्या आया कि मैं उनकी तरफ बढ़ा और गिलास लेने के बहाने उनकी गांड पर हाथ फेरते हुए आगे को गया।ओहो. क्या मस्त लग रही थी। इस टॉप में उसके चूचे क्या मस्त उठे हुए दिख रहे थे।वो अन्दर आई. तो चख ले।पायल आंटी का बस यही बोलना था कि मैंने जल्दी से अपनी एक हाथ की उंगली उनकी पेशाब की धार में लगा दी। मैंने जैसे ही उनकी पेशाब की धार को उंगली लगाई.

अगले दिन रवि ने उससे पूछा- क्या आशु से बात हुई थी?तो सपना ने मना कर दिया।रवि ने अब उसे उकसाना शुरू किया और रात को सेक्स के दौरान बार बार आशु का जिक्र किया।सेक्स के दौरान रवि ने बार बार यही कहा कि एक दिन आशु को बुला लेते हैं, वो हमारी और तुम्हार पोर्न मूवी बना दे. आंटी ने मुझे उसी समय आने को कहा था। करीब 5-7 मिनट हुए कि आंटी मुझे दिखाई दीं।आंटी ने भी मुझे देख लिया, वे मुस्कुराते हुए मेरे पास आईं।मैंने उन्हें ‘हैलो.

तभी मुझे ऊपर के दोनों कमरों का दरवाजा खुला दिखाई दिया और उनकी लाईट भी जल रही थी, मैंने सोचा शायद भाभी ऊपर होंगी.

बस!मैं- तुम्हें ऐसे देख कर तो खाना छोड़ तुम्हें खाने का मन करने लगा है।निक्की- बहुत उछलो मत.

उनको देख कर काव्या डरने लगी।मैंने काव्या को डरते हुए देख कर कहा- गांड नहीं चुदानी तो रहने दो. पर लंड निकल गया था, अतः फिर थूक लगा कर डाला और धीरे-धीरे स्पीड बढ़ा दी।अब मेरा लंड जोश से भर गया था। कैलाश ने भी गांड ढीली करके टांगें चौड़ी कर ली थीं और अपनी गांड उचकाने लगा था।मैं थोड़ा रुका. मैंने दरवाजा खोला तो सामने एक 22-23 साल की गोरी सुंदर लड़की खड़ी थी, उसके पास एक बैग था.

आप अपने विचार लिखें।[emailprotected]ममेरी बहन की और भाभी की चूत की चुदाई-2. और मैंने उन्हें किस करने की कोशिश करने लगा।उन्होंने मुझसे दूर होते हुए कहा- रूको यार. बड़े आराम से मेरा मूसल लंड आंटी की गांड में अन्दर-बाहर हो रहा था।आंटी की गांड मारने में बहुत मजा आ रहा था.

अपने लंड चुसवाने का आनन्द ले रहा था।माया की हथेलियां मेरी जांघ और गोटियां सहला रही थीं। उसने अब मेरा पूरा लौड़ा अपने मुँह में भरके उसे अपने थूक से गीला कर दिया था। कभी वो लंड को चूसती.

जो करना है नीचे करो!उसकी बात सुनी तो मैंने बिना कुछ चेतावनी देते हुए उसकी चुत में पहला शॉट लगा दिया। मेरा कड़क लंड उसकी चुत में घुसा. क्यों तड़फा रहे हो!मैंने थोड़ा सा थूक लंड पर लगा कर एक झटका लगा दिया। अभी मेरे लंड की टोपी ही चूत के अन्दर गई थी कि वो जोर से चिल्लाने लगी- आह छोड़ दो मुझे. मेरा नाम प्रीति कौर है, मैं चण्डीगढ़ में रहती हूँ। मेरे पति विदेश में रहते हैं और कभी-कभी भारत आते हैं। मेरा फिगर बिल्कुल किसी मॉडल की तरह मस्त है। मेरे बोबे 34 इंच साइज़ के बड़े और सख्त हैं। मैं बहुत गोरी भी हूँ। मैं कहीं बाल नहीं रखती.

अब मैं और भाभी दो ही जन घर में रह गए थे। हम दोनों शाम को खाना खा रहे थे, उस वक्त भाभी ने पिंक कलर की साड़ी पहन रखी थी।इस साड़ी में भाभी सेक्सी लग रही थीं। भाभी जब मुझे और खाना परोसने लगीं. मुझे टाइम नहीं मिलता।मैंने ‘हाँ’ बोल दी।अगले दिन मैं भाभी को बाइक पर घुमाने ले गया, उस दिन बारिश का मौसम था. बहुत मिल जाएँगे। एक से एक माल!’ मैंने प्यार से उसके कंधे पर हाथ रख कर कहा।‘हाय कमल राजा.

कुछ मजा आया या नहीं? बस अब और मत चालू हो जाना।पायल भी नेहा भाभी की बात सुन कर हंस पड़ती थी और बोल देती- भाभी, यह कमल तो बदमाश है ही… तू भी कम नहीं है।इस पर भाभी जवाब देती- कम क्यों.

फिर बताते हैं।फिर मैंने सबको खाना खाने के लिए कहा। उसके बाद सबने एक राउंड और चुदाई की। दूसरे राउंड में हम सबने भावना को एक साथ चोदा. वो चली गई।फिर वो शाम को आई और मैंने उसका कम्प्यूटर ठीक करके उसे दे दिया, उसने मुझे पैसे दिए और कम्प्यूटर लेकर चली गई।इस वक्त वो अपनी ड्रेस बदल कर आई थी। वो बहुत ही सेक्सी ड्रेस पहने हुई थी। उसे देख कर मेरा लंड तो ऐसा हो गया था.

बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म एक चूची तो पहले से ही मेरे एक हाथ से मसली जा रही थी, अब उसकी दोनों चूचियाँ मेरे दोनों हाथों में थी. मेरे तन शरीर में आग लगा रही थी।अचानक वह मुड़ी और उसने मुझे देख कर अन्दर बुला लिया और मुस्कुराकर दरवाज़ा को बन्द कर दिया। मुझे उसकी आँखों में अपने लिए प्यार और वासना साफ़ नजर आ गई थी।अब वह ब्लू शॉर्ट्स और टॉप पहन चुकी थी। मैंने कमरे में जाकर उसको गोद में उठा लिया। फिर मैंने कैमरा निकाल कर उसके बहुत सारे कामुक फ़ोटो निकाले।‘जीनत एक बात बोलूँ.

बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म अभी देखना जब ये पूरा खड़ा होगा और तेरी योनि में घुसेगा और ये जो माल यहाँ गिरा है ना इसे वीर्य कहते हैं, इसका स्वाद भी बहुत अच्छा होता है. सीधे घर जाने की बात कर रहे हो, बहुत तेज़ हो।मुझे लगा शायद मेरा ओवर कॉन्फिडेन्स बात बिगाड़ देगा.

फच…फ़च्छ… आवाज से कमरा गूँज रहा था।बीच में वो फिर एक बार झड़ गई लेकिन कुछ ही पलों में फिर से ताल से ताल मिला कर मेरा साथ देने लगी थी।अब मैंने उसे उठाया और सोफे के किनारे से उसे झुका कर खड़ा कर दिया, इस वक़्त सोफे पर पूरी तरह झुकी हुई थी, देखने वालों के लिए मानो झुक कर वो अपने ही घुटने को चूमना चाह रही हो.

सेक्सी पिक्चर वीडियो बीएफ पिक्चर वीडियो

और तेरी कितनी है?वो बोली- मुझे नहीं पता।मैंने कहा- क्यों तुम ब्रा नहीं पहनती क्या?वो बोली- पहनती हूँ।मैंने कहा- फिर भी नहीं पता. ऐसा मजा पहले तब आया था, जब तुमने मुझे पहली बार चोदा था।मैंने कहा- इसका मतलब तुमको नया लंड खूब पसंद आता है।बोली- हाँ. तभी मुझे ऊपर के दोनों कमरों का दरवाजा खुला दिखाई दिया और उनकी लाईट भी जल रही थी, मैंने सोचा शायद भाभी ऊपर होंगी.

आपकी जवानी के रस के लिए कोई कुछ भी कर ले।अब मैंने उसे हल्का सा धक्का दिया. साहिल ने कहा- तुम बहुत सेक्सी हो!मैंने कहा- थैंक यू! मैं बहुत दिन से प्यासी थी! क्या तुम और चोदना चाहते हो मुझे?साहिल मुस्कुराने लगा और बोला- सच में तुम चूत चुदाई की बहुत प्यासी हो!उस रात हमने 2 बार और सेक्स किया. जिस कारण रोमा को पजामे के भीतर मेरे खड़े लंड का एहसास नहीं हो रहा था।रोमा- मामाजी आप मुझे बाइक को आगे बढ़ा कर दो फिर मैं चलाऊँगी।मैं- ठीक है.

इतना कहते ही भाभी एकदम से चुप हो गईं और अपनी नज़रें नीचे झुका लीं।मैंने अपना एक हाथ भाभी के कन्धों के ऊपर से ले जाकर उनके सीने पर टिका दिया और धीरे-धीरे उनके मम्मों को मसलने लगा।भाभी ने भी अपना एक हाथ मेरे दूसरे हाथ को जो कि मैंने अपनी जाँघों पर रखा था.

उसे चॉकलेट देना और उसके साथ गार्डन में खेलना शुरू कर दिया। फिर उसके घर पर उसे कार्टून की किताबें और बच्चों की कहानियों की किताबें आदि देने जाने लगा। इसी बहाने सबकी नजर बचा कर हर्षा भाभी को किस वगैरह भी कर लेता।मैं उसके बेटे अंश के लिए किताबें और खेलना-कूदना सब करता. कपड़े देना!फिर भाभी कपड़े देने आईं, तो मैंने दरवाज़ा खोल दिया, जैसे ही भाभी ने अपना हाथ आगे किया. बच्चे घर पे अकेले हैं। मैं उनको यह कह कर आई हूँ कि मैं मार्केट से सब्जी लेने जा रही हूँ।मैंने भाभी से ‘ओके.

क्या सॉफ्ट थी एकदम साफ़ और चिकनी, झांट रहित।मैंने उसकी तरफ देखा तो मुस्कराते हुए बोली- जान तुम्हारे लिए ही साफ़ की है।उसकी इस बात से मैं जोश में आ गया और उसके चुत पर किस करने लगा। देर तक चुत चूसने से उसकी चुत का दो बार पानी निकल गया।हिना तड़फ कर बोली- जानू अब रहा नहीं जाता है. आंटी ने मुझे उसी समय आने को कहा था। करीब 5-7 मिनट हुए कि आंटी मुझे दिखाई दीं।आंटी ने भी मुझे देख लिया, वे मुस्कुराते हुए मेरे पास आईं।मैंने उन्हें ‘हैलो. सलवार के ऊपर से ही क्या गदर नर्म थी।मामी की गांड पर मैं अपने हाथ को फेरता हुआ एकदम से उनकी गांड की दरार में ले जाता और तुरत ही हटा भी लेता। मैंने ऐसा 2 या 3 मर्तबा किया। जब उधर से कोई विरोध नहीं हुआ तो मैं अपना हाथ गांड के पीछे से ही मामी की चुत की तरफ ले गया।मामी ने टाँग मारी और फोल्डिंग पर मुझसे दूर हो गईं।मैं डर गया.

तो उसका रिप्लाई आया, वो बोली- यार तुमको मैं भी बहुत पसंद करती हूँ, तुम बहुत अच्छे हो, तुमको में बहुत टाइम से लाइक करती हूँ. और मॉम झड़ते हुए मुझसे लिपट कर बिस्तर पर निढाल होकर गिर गईं।थोड़ी देर बाद मैंने अपनी एक उंगली मॉम की गांड में घुसेड़ते हुए कहा- मॉम मुझे आपको फिर से चोदना है.

मुझे नहीं अच्छी लग रही है।‘पी लो बेटा, नखरे नहीं करते।’मैंने गिलास ज़बरदस्ती उसके मुँह को लगाकर पेप्सी में मिलाई गई वोदका उसको पिला दी।‘जीनत तुम मेघा से बड़ी हो या छोटी?’ मैंने उसका हाथ अपने हाथ में लेकर पूछा।‘बड़ी हूँ. सब जगह खूब चुदाई हुई।आप यह बताओ कि मेरी सेक्स स्टोरी कैसी लगी। कमेंट ज़रूर कीजिएगा. वे दोनों मेरे पूरे शरीर से खेल रहे थे।थोड़ी ही बाद में मुझे भी मजा आने लगा.

यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैं थोड़ी देर तक वहीं खड़ा होकर उन्हें जाते हुए देखता रहा और फिर अचानक से उस लिफ़ाफ़े का ख़याल आते ही लगभग दौड़ता हुआ अपने घर की तरफ भागा.

इसलिए मैं भाभी के कमरे में जाकर बैठ गया और उनके आने का इन्तजार करने लगा।मुझे कुछ देर ही हुई थी कि तभी रेखा भाभी दौड़ती हुई सी सीधे कमरे में आईं।अचानक ऐसे रेखा भाभी के आने से एक बार तो मैं भी घबरा गया मगर जब मेरा ध्यान रेखा भाभी के कपड़ों की तरफ गया तो बस मैं उन्हें देखता ही रह गया। क्योंकि रेखा भाभी मात्र ब्रा व एक पेटीकोट में मेरे सामने खड़ी थीं।रेखा भाभी नहाकर आई थीं. और सहलाते रहा अपनी डंडी।मैं किनारे बैठ गया।नेहा डॉक्टर साहब से बोली- आओ पतिदेव. खास कर उन पुरुषों और औरतों के लिए, जो कभी कभार बहकने की सीमा पर पहुँच जाते हैं और कोई गलत कदम भी उठा लेते हैं, या जो बहक गए हैं, उनका भविष्य कैसा होगा.

तो अन्दर आपके पास आ गई।दोस्तो, मैं आप सभी को बता दूँ कि दिव्या के मम्मों के साथ-साथ उसकी बॉडी भी बहुत मस्त है। मैं उससे कुछ बात करने लगा. और मैं शरमा गई, मैंने सैम के सीने में सर छुपाने की कोशिश की मगर सैम ने जानबूझकर मेरी ठोड़ी पकड़ के मुझसे नजरें मिलाई और हम दोनों मुस्कुरा उठे।फिर सैम ने मुझे उठाया और बिस्तर पर लेटा दिया और खुद नीचे की ओर सरक गया। मेरी योनि का दोनों भाई बहन मुयाना करने लगे, ऐसा लग रहा था जैसे वो मुझ पर कोई परीक्षण करने वाले हों।मैं अब कुछ भी नहीं कर सकती थी, मैं तो अब एक खिलौने की भांति उनके इशारों पर नाच रही थी.

!मैंने भाभी की आँखों से भी पट्टी हटा दी और हाथ भी खोल दिए।फिर 10-15 मिनट हम एक-दूसरे की बांहों में ही पड़े रहे।फिर भाभी बाथरूम जाने के लिए उठीं, तो वे ठीक से चल भी नहीं पा रही थीं।मैं- क्या हुआ रंडी. वो अपना सर इधर उधर घुमा रही थी, उसकी बर्दाश्त से बाहर हो रहा था सब. तो मैंने देखा वो बहुत बेसब्री से मेरा इंतज़ार कर रही थी और उसके चेहरे पर अजीब भाव प्रकट हो रहे थे।मैंने जाते ही पूछ लिया- क्या प्रॉब्लम है.

बीएफ सेक्सी हिंदी चुदाई वीडियो

तो मामी की चीख निकल गई।मैं उनके होंठ को चूसने लगा। जब वो शान्त हो गईं तो मैंने अबकी बार में पूरा लंड ठेल दिया और इस बार वो भी कसमसा कर अपनी चीख को दबा गईं। अब कमरे में मेरी और उनकी मादक सिसकारियाँ ही निकल रही थीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’वो मस्त हो कर मुझसे कह रही थीं- चोदो मेरे रोहित राजा.

उस वक्त कोई आए तो तुम बता देना।वो मान गया।दोस्तो, यह रिस्की तो बहुत था. तो वो भी मुझे भी डबल मीनिंग में रिप्लाई करती थी। हमारी बातें सिर्फ़ मेल पर ही होती थीं। मैंने उसका मोबाइल नंबर माँगा. वो पहली बार चुद रही थी।मैंने उसे फ्रेंच किस करना शुरू किया और अपने लंड को प्रेशर के साथ अन्दर डालने लगा। सुपारा बुर की फांकों में फंसा तो वो दर्द से तड़फ कर बोली- ओफ दर्द हो रहा है.

आदि इत्यादि!मैंने तो कभी सोचा भी नहीं था कि वो इतनी आसानी से तैयार हो जाएंगी। ऐसा भी नहीं था कि वो अपने पति से सैटिस्फाइड नहीं थीं. मुझे तेरे दूध पीना है। मैंने भी अपना सूट ऊपर की तरफ सरकाया और एक निप्पल निकाल कर अंकल के मुँह में दे दिया।अब अंकल बच्चों की तरह मेरे मम्मों को पी रहे थे। काफ़ी देर तक उन्होंने मेरे दूध पिए, उसके बाद उन्होंने मेरी सलवार उतार दी। मैंने अन्दर काले रंग के पेंटी पहनी हुई थी।अंकल की नज़र मेरी गांड पर थी. सेक्सी वीडियो जंगली देसीदोस्तो, मेरा नाम श्याम है, मैं ग्वालियर में रहता हूँ। मैं अन्तर्वासना की हिंदी चुदाई कहानी पढ़ना बहुत अच्छा लगता है.

देख कर लग रहा था जैसे कि इनको किसी ने दबाने या सहलाने की कोशिश ही ना की हो।उसके करीब होकर मैंने अपना काबू खो दिया था। मैं जल्दी से अपना लंड उसकी काली सी बुर में घुसा कर उसकी चूत फाड़ना चाहता था।मैंने धीरे से उसे अपने पास खींचा और अपनी बाँहों में भर लिया। अब मैं उसकी छाती को अपनी छाती से मसलने लगा था, बड़ी शान्ति मिल रही थी।क्या मस्त चूचियाँ थीं उसकी. चौथे महीने में सीढ़ियों से फिसलकर गिर जाने की वजह से हमारी दूसरी संतान इस दुनिया में आने से पहले ही…इस घटना ने मुझे जिन्दा लाश बना दिया था, मेरी हंसती खेलती दुनिया वीरान सी लगने लगी थी.

’यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!फिर उठ गईं। अँधेरे के कारण वो मुझे नहीं देख पाईं लेकिन मेरी किस्मत कितनी खराब थी। साली ने हाथ धोने के लिए लाइट ऑन कर ही दी और उनको मैं दिख गया।उनके मुँह से चीख निकलने ही वाली थी कि मैंने हाथ रख कर उन्हें रोक दिया।आंटी ने मेरे हाथ को झटका और बोलीं- तू यहाँ क्या कर रहा है?मेरी तो हालत बस पूछो मत. क्योंकि मेरा ऑपरेशन हो चुका है और कोई परेशानी की बात नहीं है।तब मैं बिना किसी टेन्शन के भाभी की चूत में ही झड़ गया और भाभी के ऊपर ही लेट गया।इसी तरह मैंने उस रात उस भाभी को 3 बार चोदा। जब मैं सुबह के टाइम घर आने के लिए निकला. थैंक्यू!मैंने कहा- आप इतनी गुड लुकिंग हो कि यक़ीन नहीं आता कि आपका कोई ब्वॉयफ्रेण्ड नहीं होगा।उसने कहा- यार यह क्या बात हुई? देखो आप से भी तो अच्छी फ्रैंकनेस है.

ताकि मैं फेसबुक चला सकूं।मैंने जब सुमन भाभी का अकाउंट फेसबुक पर बनाया था, उसी दिन उसको अपनी फ्रेंड लिस्ट में एड कर लिया था।बच्चों को बाहर भेज कर सुमन भाभी मेरे सर पर खड़ी हो गई थी।मैंने कहा- भाभी आप इतनी खूबसूरत हो. रंडी मामी की हिंदी चुदाई की कहानी-1अभी तक आपने इस हिंदी चुदाई की कहानी में पढ़ा कि मेरी मामी मुझसे चुदवाने के चक्कर में तो थीं, पर वे यह बात मुझसे कहना नहीं चाह रही थीं।अब आगे. मैं उसके सीने पर सर रख कर लेट गई… मैं बहुत खुश थी और वो भी!मैं उसका बदन अपने हाथ से सहला रही थी.

इतना सुनते ही मेरा रोम-रोम खड़ा हो गया।मैंने भी भाभी से कहा- आपके भी तो बड़े-बड़े हैं।उन्होंने कहा- क्या बड़े-बड़े हैं?मैंने कहा- आपके चूचे।वो हँस दीं।मैंने अनजान बन कर पूछा- भाभी ये बड़े कैसे हो जाते हैं.

वाह तू तो बहुत मस्त माल है।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!‘हाय राम. तो मॉम सोई हुई थीं। वहीं वियाग्रा का खाली पैकेट भी पड़ा था।मॉम ज़ब जगीं.

मैं महाराष्ट्र से हूँ और कॉलेज की स्टूडेंट हूँ। मेरी हाइट 5 फुट 4 इंच है और मैं अभी 21 साल की हूँ। मेरा फिगर 32-24-28 का है और रंग गोरा है।जो घटना आज सुनाने जा रही हूँ. हम भाई बहन हैं। तू हमारे बीच ये सब कैसे करवा सकती है।फिर मैंने उसको गाली बकी और कहा- भैन की लौड़ी. जो मेरे मौसाजी की उम्मीदों पर खरा उतरे। आखिर हार कर मेरे मौसाजी ने मेरी मम्मी के सामने एक बात कही- देखिये, मैंने अपनी तरफ से सारी कोशिशें कर ली हैं.

यह कहती हुई सारिका अपनी चूत से रस धार अंकुर के लंड पर छोड़ने लगी।अंकुर भी गालियाँ देते हुए चोदे जा रहा था- आह सी. फिर मूवी गए और फिर हम यूँ ही बाइक पर घूमते रहे।शाम को 8 बजे मैंने उसे उसके घर छोड़ा और उसने मुझे ‘गुडनाइट’ किस करके वापिस भेज दिया।अब तो अक्सर वो मेरे घर आ जाती, हम लंच साथ करते. तो मैंने भी अपनी स्पीड और बढ़ा दी और आखिरी झटके मारते हुए कहा- मामी जान, मैं माल अन्दर ही छोड़ रहा हूँ।‘अम आआआहह.

बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म उन्होंने पूरे जिस्म को तौलिया से लपेट रखा था।मैं आंटी को देखे जा रहा था। उनके चूचे. पर आप दोनों को भी अपनी मुनिया दिखानी पड़ेगी।’ मैंने हंस कर नेहा के ब्लाउज के ऊपर से ही चुची सहलाते हुए उसको चूम कर कहा।‘नहीं रे… हम सब मेरे कमरे में चले जाएँगे तो मम्मी को शक हो जाएगा। अभी तुम दोनों कमल के कमरे में चले जाओ, मैं बाद में आती हूँ। ऐसे भी मेरी देख कर क्या करेगा.

अंग्रेजी बीएफ चोदा चोदी

मुझे उसके बारे में थोड़ा जानकारी चाहिए।जब मैंने भाभी से पूछा- कब आना है?भाभी बोली- आप अभी आ सकते हो. अगर चाचा की जगह मैं होता तो आपको कभी छोड़ कर नहीं जाता।चाची मुझे चूमने लगीं।मैंने चाची से रिक्वेस्ट भी की- चाची ये बात मम्मी–पापा को ना बताना।चाची थोड़ा मुस्कुराईं और बोलीं- पगले. और यह कहते हुए उसने चड्डी को पैर से अलग किया और लिंग को हाथ में पकड़ कर आस-पास फैले सफेद द्रव्य को चड्डी से साफ करने लगी।मैं कौतूहल भरी नजरों से ये सब देख रही थी, रेशमा ने कहा- हाँ हाँ देख ले, पहली बार देख रही है ना! मेरे साथ भी यही हुआ था.

मैंने हैरत भरी निगाहों से मौन प्रश्न किया कि आखिर वो क्या था…‘हम लोग बाहर जा रहे हैं, शायद आने में देर हो जाए इसलिए घर की चाभियाँ आपको दिए जा रही हूँ, वंदना कॉलेज से आये तो उसे दे दीजियेगा. इसी तरह सिंक में बर्तन मांजते समय अपनी गांड में लंड लेकर कुतिया की तरह बनी रहतीं।मामी मुझसे कई तरह की कामोत्तेजक गोलियां और क्रीम मँगवा कर मेरे लंड को एक-एक घंटे तक खड़ा रखती थीं।कभी-कभी तो मामी मेरे लंड को चम्मच जैसे यूज करतीं। किसी रसीली खाने की चीज में मेरे लंड को डुबो कर लंड चूसतीं. xxx.iii सेक्सी वीडियो पिक्चरवो पिंक कलर की पेंटी में थीं। मैंने उनकी पेंटी भी खींच कर उतार दी। अब उनकी नंगी चुत मेरे सामने खुली थी, चाची की चुत पर थोड़े से बाल उगे हुए थे।चाची ने अपने पैर फैला कर चुत खोल दी और मेरा मुँह अपनी नंगी चुत के ऊपर लगा दिया। मैं उनकी चुत को चूसने लगा.

तू अपना काम करता रह!थोड़ी देर बाद मैं आंटी से बोला- आंटी अब कैसा लग रहा है?तो आंटी बोली- तूने तो मेरी कमर का एकदम डॉक्टर जैसे इलाज़ कर दिया.

तो क्या होगा?वो बोलने लगा- उसे पता चलेगा तो मैं तुम्हें अपनी बीवी बना लूंगा।यह कहकर उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूमने लगा. मैं तुम्हें लेने स्टेशन आ जाऊंगी।मैंने अगले दिन टिकट निकाल लिया और उसको मैसेज कर दिया।मेरी ट्रेन सुबह 4 बजे चली और 8 बजे पहुँच गई।उसका फ़ोन आया कि वह स्टेशन के बाहर मेरा इन्तजार कर रही है, उसने अपनी कार का नंबर बताया।मैं बाहर चल दिया, वहाँ उसकी कार खड़ी थी, मैं आगे बैठ गया.

पर उसने मना कर दिया। कुछ देर बाद भाभी ने कार साइड में लगा दी और हम दोनों ने थोड़ी देर बात की. तो मानो जैसे पूरा रूम खुशबू से महक गया था। मेरा मन कर रहा था जैसे मैं अभी चाची के पूरे बदन को चाट लूँ।उस दिन के बाद से मानो दिन रात बस मेरे दिमाग़ में चाची ही घूमने लगी।अब मुझे रात को नींद भी नहीं आती. भाभी के मुँह से आवाज निकल गई।अब मैं उसकी चूत को धीरे से चाट रहा था, वो आँखें बंद करके चूत चुसाई के मज़े ले रही थी, भाभी मस्ती में कह रही थी- आह्ह.

लंड के घुसने के साथ ही मैडम की चीख निकल गई और मैं उन्हें चोदता रहा। मैंने मैडम को सीधा करके.

तब वो मेरे सर में बड़ी मस्ती से हाथ घुमा रही थी और हल्के-हल्के से चुदास से भरी सिसकारियां ले रही थी।कुछ मिनट तक उसके रसीले मम्मों को चूसने के बाद मैंने फिर किसिंग चालू कर दी।अब वो भी एक हाथ से मेरे लंड को लोवर के ऊपर से दबाने लगी। मैंने अपना हाथ उसकी पेंटी में डाल दिया। थोड़ी देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके पूरे शरीर को चूमने लगा।वो मस्ती में ‘आहह. अन्दर के हिस्से में मकान मालकिन अपने 2 साल के बच्चे के साथ अकेली रहती थी, उसका नाम साधना था।साधना की उम्र 28 साल थी, उसका रंग गोरा. लेकिन अब वो अपनी फैमिली के साथ विदेश चली गई है।उसने पूछा- तो क्या कभी उसने आपको ‘खुश’ भी किया था?मैं उसके इस सवाल पर थोड़ा चौंका, फिर भी मैंने खुलते हुए कह दिया- हाँ कई बार.

सेक्सी ब्लू पिक्चर वीडियो प्लेयरक्योंकि मुझे पता था कि उससे ताकत मिलती है। फिर उस दिन मैंने उसकी बहुत जमकर चुदाई की!. क्या-क्या बदमाशी चल रही थी।’फिर मैं गुप्ता जी के केबिन में आज की सारी रिपोर्ट देने के लिए चला गया।बाहर का सारा काम मेरी जिम्मेवारी थी.

इंग्लिश पिक्चर बीएफ देसी

तो मुझे लगा कि मैं किसी और ही दुनिया में जन्नत की सैर कर रहा हूँ। जितनी सिसकारियां उसके मुँह से निकल रही थीं. तो एक नई नवेली लड़की बस में पहली बार दिखी। उसको देखकर मैं ठगा सा रह गया। मैंने उसे देखकर पहले तो अनदेखा कर दिया। मैंने किसी साथी दोस्त को भी उसके बारे में नहीं बताया।मैंने सोचा शायद कोई यह सामान्य यात्री है, कॉलेज की स्टूडेन्ट नहीं… इससे सिवाए चक्षु चोदन के और क्या कुछ हो पाएगा। यह सोच कर मैंने उस पर ध्यान देना छोड़ दिया।चूंकि मैं हर रोज बस से कॉलेज जाता था. मैं देवास का रहने वाला हूँ। सबसे पहले मैं अपनी स्टोरी के बारे में आप लोगों को बता दूँ कि इस चुदाई की कहानी में और मैं मेरी बुआ की लड़की है, उसका नाम रोशनी है.

और चूत से खून भी रिसने लगा।मैंने अपनी बहन की सील तोड़ दी। उसकी आँखों में ख़ुशी और दर्द के आंसू थे।मैंने कहा- रुक, असली मज़ा तो अब आने वाला है।यह कहकर मैं धीरे-धीरे अपने लंड को भूमि की चूत में रगड़ने लगा।आह… क्या गर्मी थी उसकी चूत की. आप मुझे मेल कर सकते हैं।[emailprotected]आप मुझे इंस्टाग्राम पर भी जोड़ सकते हैं. साथ में खाते हैं।एकाध घंटे बाद खाना खाकर हम टीवी देखने बैठ गए। मैंने आगे का दांव खेलने का सोच ही लिया था कि आज कुछ भी हो आज की रात मेरा लंड या तो रोशनी की चुत में सोएगा या उसकी गांड में मजा करेगा।रोशनी ने भी वाईट कलर का गाउन पहना हुआ था.

अब मैं और जीजू कार में निकल गए और 15 मिनट बाद उनके एक दोस्त के रूम पर पहुँच गए। उनका दोस्त अपनी जॉब पर गया हुआ था. तो उसे उसकी गांड में इसका एहसास हो रहा था।वो बोली- मुझे जल्दी से घर ले जाकर ये दिखा दो. तो मैंने सोचा कि चाची नहा रही होंगी।मैं बैठ कर टीवी देखने लगा।करीब दस मिनट बाद बाथरूम का दरवाजा खुला तो मैं बाथरूम की ओर देखने लगा। चाची एक छोटी सी तौलिया लपेट कर बाहर आईं तो मैं उन्हें एकटक देखता ही रह गया।मेरा तो पसीना ही छूट गया.

हम दोनों तो जैसे ख़ुशी से रह नहीं पा रहे थे। हम दोनों ने साथ में खाना खाया, फिर सोने चले गए। हम दोनों एक ही रजाई में लेट कर आपस में बातें कर रहे थे।तभी रोशनी ने मेरे हाथ पर हाथ रख दिया और मैं उसकी आँखों में देखने लगा।मैं धीरे-धीरे उसके करीब आ गया, उसकी सांसों की गर्माहट मुझे महसूस हो रही थी। फिर मैं उसे होंठों पर किस करने लगा. पर मम्मी के समझाने पर पापा मान गए।अब मैं कभी कभी ही अपने घर जाया करता था, यहाँ अपनी चाची की दोनों लड़कियों के साथ खेलता रहता था। उनके स्कूल चले जाने पर मैं अपनी पढ़ाई वगैरह कर लिया करता था और उनको भी पढ़ा देता था।हम सभी भाई बहन और चाची एक ही रूम में.

तू आज मेरा चोदू पति बन जाएगा।मेरे निक्कर में ही वो मेरे खड़े लंड को बड़े प्यार से सहलाने लगी। अब तड़पने की बारी मेरी थी।वो अपनी एक हथेली लंड को रगड़ते हुए सहला रही थी और उसकी दूसरी हथेली मेरी बड़ी जाँघों को सहला रही थी।मेरे लंड के सुपारे पर करंट सा लग रहा था और वो झटके मार रहा था। मेरे लंड में एक अजीब सी गुदगुदी हो रही थी। उसमें एक मीठी सिरहन सी पैदा होने लगी.

बाद में कर दूँगी।यह कह कर मैं अपने कमरे में चली गई।रात को दीदी और जीजा जी सोने लगे, मैं पास के कमरे में लेटी हुई उनकी बातें सुनने लगी।दीदी ने कहा- यार आज मूड नहीं है. सेक्स भाभी सेक्सी फिल्म’ बोलीं।उनकी आवाज़ बहुत अच्छी थी, मैं तो उनकी आवाज़ में ही खो गया, सच में बहुत खनकती आवाज़ थी, मैं उनकी तरफ देख रहा था. दूल्हा दुल्हन की सेक्सी सुहागराततो अभी चलना है, बस आप जल्दी से उठो!मैं- पर कपड़े तो बदल लो!रोमा- नहीं. मेरी लंबाई 6 फुट से कुछ ज्यादा है।हुआ यूँ कि एक दिन मैं अकेला अपने कमरे में लैपटॉप पर पोर्न मूवी देख रहा था कि तभी सोनू मेरे पास आया और बोला- भैया कुछ नई मूवीज हों तो दे दो।वो मेरे बाजू में बैठ गया और मैंने जल्दी से पोर्न मूवी हटा दी और लैपटॉप में मूवी ढूँढने लगा।उसने शायद पोर्न मूवी की झलक देख ली थी, इसलिए वो मुझसे बोला- भैया अभी आप पोर्न देख रहे थे ना?मैं झिझकते हुए बोला- हाँ.

!’मैं घचाघच अपने लंड को मॉम की चुत में पेल रहा था, इस वक्त मैं भी ब्लू-फिल्म के हीरो की तरह अपनी मॉम को अन्तर्राष्ट्रीय रंडी सन्नी लियोनी की तरह चोद रहा था।मैंने चुदाई की रफ्तार बढ़ा दी।मॉम मस्ती में बड़बड़ा रही थीं- ऊऊऊह्ह.

तुम्हें जब भी चुदना होगा हमसे चुद लेना और ब्वायफ्रेंड के नाम पर सनत को बना रहने दो।तो उसने इशारे से उसे वापस बुला लिया।अब काली चरण ने एक जोर का धक्का लगाया, उसका लंड जड़ तक सरसराता चला गया। चूंकि लंड में निशा का पानी और खून लगा था. बहुत मजा आ रहा है दीपू!दीपू मेरा प्यार का नाम है।मामी ने अपनी टांगें दो बार ऊपर-नीचे की, शायद वो हल्की सी उत्तेजित सी हो गई थीं, पर मेरा उन्हें उत्तेजित करने जैसा कोई विचार नहीं था. जरा थोड़ी मलहम लगा दे।मैं भी जल्दी से उठकर मलहम लेकर मामी के पास आकर बैठा और मामी के गाउन को थोड़ा ऊपर करके उनके पैरों पर मलहम लगाने लगा।उनके चिकने पैरों का स्पर्श पाकर मुझे तो मजा आने लगा था। मैं सोच रहा था कि मेरा सपना सच होने वाला है। थोड़ी देर बाद मैं अपने हाथों को थोड़ा ऊपर ले जाने लगा तो मामी ने कुछ नहीं कहा, शायद उनको भी मजा आने लगा था।वो धीरे-धीरे मस्त होने लगीं.

दोनों के दिल बहुत तेज़ धड़क रहे थे। मैंने पहले अपनी जान के माथे को चूमा. लेकिन अब तक नहीं मिला इसलिए कल वापस गांव जा रहा हूँ।तो रवीना कहा- मेरे घर पर काम करोगे?मैंने कहा- मैं आपके क्या काम का?तो रवीना ने कहा- मेरे ड्राईवर का काम कर लोगे. बहुत मजा आएगा।गीता लंड को हाथ से पकड़कर सहलाने लगी और मैं गीता के शरीर में बचे हुए कपड़े उतारने लगा।एक एक करके मैंने गीता के सारे कपड़े उतार दिए, अब गीता मेरे सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी। फिर मैंने गीता का सिर पकड़कर अपना लंड उसके मुँह में लगाया तो गीता ने ‘छी.

बीएफ सेक्सी मेहरारू वाला

’ वो बस यही कहे जा रही थी। कुछ देर बाद मेरा वीर्यपात हुआ और मैं उसकी योनि में ही झड़ गया।जैसे ही मैंने लिंग बाहर निकाला, वो बोली- उंगली डाल दो।मैंने उंगली डाली और अन्दर-बाहर करने लगा. पर इसके बाद मैं भी लगाऊँगा!इस पर चाची ने बिंदास कहा- ठीक आज तू भी लगा लेना।उन्होंने मुझे मेरे चेहरे पर खूब रंग लगाया और मैं भी उनके मुलायम हाथों का स्पर्श महसूस करता रहा। इसके बाद जब मेरी बारी आई तो चाची ने मना कर दिया और अपने कमरे में भाग कर गेट बन्द कर लिया।मैंने बहुत कहा कि चाची यह बात गलत है. अपनी दीदी की बात नहीं मानोगे!तो मैंने कहा- अच्छा पहले एक बार गांड में डलवा लो.

काम करते-करते आप तो पसीने से पूरा भीग गई हो।ये बोल कर मैं उनके दूध की तरफ देखने लगा.

मेरे मन में अपराध भाव था कि मेरी वजह से मेरी दीदी की जिंदगी दांव पर लग गई है।अगले दिन उसने फिर मौका देख कर मुझे कहा- आज रात तुम दरवाजा खुला रखना, हम आयेंगे.

तो मुझे माफ़ करना क्योंकि ये मेरी पहली सेक्स स्टोरी है।अगर आपको अच्छा लगा हो तो मुझे मेल करना ना भूलना।[emailprotected]. लेकिन अभी नहीं, हो सकता है कोई किराएदार ऊपर सोने के लिए आ जाए।आमतौर पर ऐसा होता नहीं था क्योंकि सबको पता था कि ऊपर लड़की सोती है तो कोई भी ऊपर नहीं आता था। लेकिन फिर भी रिस्क लेना ठीक नहीं था।उसने कहा- आप सो जाओ. हिंदी सेक्सी फिल्म वीडियो ओपनहमेशा की तरह चुदाई की और भावना अपने घर चली गई।भावना इसी शहर की लड़की थी.

मेरी आंख से आंसू निकल आए थे।करन चिल्ला के बोले- क्या रंडी हो तुम?मैं समझ गई. नमस्कार दोस्तो, आपका संदीप साहू आप लोगों का प्यार पाकर गदगद है, आगे भी ऐसे ही साथ देते रहिये… किमी को आकर्षक और सुडौल बनाने के बाद किमी के साथ मेरा सेक्स संबंध बनने जा रहा है, अभी हम दोनों हॉल के बेड पर हैं।अब आगे. मेरा नाम रोहित मिश्र है, मैं नागपुर का रहने वाला हूँ। यह सेक्स कहानी मेरे जीवन की है, जिसमें मेरे साथ हुआ अनुभव मैं आपसे शेयर कर रहा हूँ।मैं एक कुशल डीजे हूँ.

पर बाद में तो वो एक रंडी की तरह मेरा लंड चूसने लगी। अब तो वो मेरा पूरा का पूरा लंड अपने मुँह में गले तक ले रही थी और जोर-जोर से चूस रही थी।मैं सातवें आसमान पर था… मेरा छूटने वाला था. तो बोलीं- कोई गर्लफ्रेंड बनाई कि नहीं?मैंने कहा- अब तक तो कोई नहीं है।इस तरह हम दोनों काफी खुल कर बातें करने लगे थे। देर तक बातें करने के बाद मैं अपने कमरे में सोने चला गया और मामी भी अपने कमरे में चली गईं।मैं कमरे में जाकर सो गया। रात को 3 बजे जब मैं बाथरूम जाने के लिए उठा.

मेरे पास अभी कंडोम नहीं है, मेरे लंड का माल चुत के भीतर लेगी या बाहर?भाभी- कोई बात नहीं साले.

वो एकदम सच है। भले ही आप उसे सत्य मानें या नहीं ये आप पर निर्भर करता है।बात आज से दो साल पहले की है. और फ्रीज से बर्फ कोल्डड्रिंक वगैरह निकाल लो और बस और चुदने के लिए तैयार हो जाओ।भावना ने ‘जो आज्ञा मेरे राजा जी. मैं तुम्हारी ही हूँ।’यह कहते हुए वो अकड़ गई और झड़ने को हो गई। मैं भी उसके ऊपर गिर गया और किस करने लगा।वो भी बराबर मेरा साथ दे रही थी.

मुझे सेक्सी वीडियो चाहिए सेक्सी वीडियो जिससे कि मम्मी को मालूम पड़ गया है।’‘मम्मी को अचानक मालूम पड़ जाने की वजह से हम दोनों की कामुक गतिविधियां रुक गई हैं। मैं तो कॉलेज में लाइन लगाए हुए किसी भी लड़के को टाँगों के बीच ले लेती हूँ. उसकी दर्द के मारे गांड फट गई और छटपटाने लगी।अभी मेरा सुपारा ही बुर की फांकों के अन्दर गया था कि वो चिल्लाने लगी, कहने लगी- उई.

मगर फिर वो मुझे रोकने लगीं। शायद उन्हें दिक्कत हो रही थी मगर मैं रूका नहीं और धक्के लगाता रहा क्योंकि मैं भी अपनी मँजिल के करीब ही था।भाभी को भी शायद अहसास हो गया था कि इस हालत में मेरा रुकना मुमकिन नहीं होगा. उसे बाँहों में लेकर मानो ज़न्नत नसीब हो गई।उसने मुझे एमसी साहब के बारे में सब बताया. इतनी गोरी और चिकनी जांघें देखने से मेरा लंड खड़ा हो गया।चाची मुझको देख कर फिर वापस अन्दर चली गईं और मुझे आवाज देते हुए बोलने लगीं- राजेश राजेश.

बीएफ सेक्सी एचडी फुल एचडी

और वो भी उसी गांव में पढ़ाने जा रही थीं।गाँव का रास्ता बहुत ही खराब था. 5 इंच लम्बा और खीरे जैसे मोटा है। मैं नाँदेड (महाराष्ट्र) में रहता हूँ।यह उन दिनों की बात है. जीनत कंप्यूटर पर एक ब्लू-फ़िल्म देख रही थी। दरअसल यह ब्लू-फ़िल्म मैंने ही अपनी बेटी के कंप्यूटर के डेस्कटॉप पर डाली थी। मेरी आहट पाकर जीनत ने फ़िल्म बंद कर दी।‘यह लो बेटा कोल्ड ड्रिंक पियो।’जीनत ने घूँट भरा ‘बहुत कड़वी है यह तो अंकल?’‘हा हा हा.

फिर एक दिन आप आये और पता नहीं क्या हुआ, मेरी आँखें न चाहते हुए भी आपकी तरफ उठने लगीं और मैं धीरे-धीरे आप में अपनी ख़ुशी तलाश करने लगी. वो तो उनकी गांड में घुसी थी।यही सोच दिमाग में चल रही थी कि मैं कब उनको नंगी करूँगा, कब उनके गोल नंगे चूतड़ों को अपने हाथों में लूँगा।इस बीच मैं बार-बार बाथरूम जाता रहा कि रात को मामी जान के दर्शन हो जाएं, पर नहीं हुए।सुबह मैं देर से उठा, फिर मामी-मामा को प्रणाम किया.

बस यह जान ले कि जीजू को कभी कुछ मत बताना और मौज ले! इसमें कोई बुराई नहीं है, एक बात तुझे बताती हूँ कि मेरा भी एक फ्रेंड है.

मैं परदा हटा दूंगी।हमारे बाथरूम में गलास की वाल है अगर कर्टेन हटा दो तो अन्दर जो भी नहा रहा होगा. कुछ ही देर में भाभी ने मेरी गोटियों को भी सहलाना शुरू कर दिया तो मेरा झरना फूट पड़ा।भाभी ने पूरा माल अपनी चूचियों पर ले लिया और हम दोनों तृप्त हो कर निढाल लेट गए। कुछ देर बाद हम दोनों ने अपने आपको साफ़ किया और सो गए।एक हफ्ते मैं तो भाभी ने मुझे पूरा चुदक्कड़ बना दिया था।आपको मेरी यह हिंदी सेक्स स्टोरी कैसी लगी. मैं तड़प रहा हूँ।उन्होंने भी बाँहें फैलाते हुए कहा- मैं भी तड़प रही हूँ राजा.

और धक्के लगाते हैं।तो मैंने मम्मी से कहा- क्या मैं भी एक बार धक्के लगा कर… अपनी नूनू अंदर बाहर कर के देख सकता हूं?मम्मी बोली- ठीक है… बस सिर्फ एक बार कर लो. तो मैं भी उनके शरीर पर किस करने लगी।उन्होंने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और वो मुझ पर छा गए। इसके बाद वो मेरे होंठों को किस करते हुए अपने हाथों से मेरे मम्मों को दबाने लगे। मुझे भी मजा आने लगा, वो बहुत जोर-जोर से मेरे मम्मों को मसलने लगे।मुझे कुछ दर्द सा होने लगा था. चूंकि ये मेरी पहली चुदाई थी तो उन्होंने मुझे चूत के अन्दर ही लंड की पिचकारी छोड़ने को कह दिया।अब मैंने अपने धक्के तेज किए और लंड की गर्म मलाई चूत में डाल दी। भाभी बेसुध हो कर आँखें मूंद कर वीर्य की गर्मी से चूत को तृप्त करने लगीं।इसके कुछ पल बाद तक मैंने उनकी चूत में लंड को घुसाए रखा। फिर वो संभलीं और मेरी तरफ शुक्रगुजार भरी नजरों से देखने लगीं।मैंने कहा- भाभी ये तो ट्रेलर है.

हिना मेरे तने हुए लंड को आँखें फाड़ कर देखने लगी।मैंने पूछा- क्या हुआ जानू?बोली- जान ये तो मेरी चुत के परखच्चे ही उड़ा देगा!मैंने कहा- चिंता मत करो जान.

बीएफ सेक्सी नंगी वीडियो फिल्म: अभी नींद ही नहीं आ रही है।मामी बोली- नींद तो मुझे भी नहीं आ रही है. क्योंकि दोनों के घर वालों को हम दोनों के बारे में पता है। इसी वजह से मैंने तुम्हें मना कर दिया। वैसे मैं भी तुम्हें पसंद करती हूँ और प्यार करने लगी हूँ। पर मुझे अब प्यार के नाम से डर लगता है.

इस तरह से लंड चुसाई करने में तो सनी लियोनी को भी फेल है।नेहा डॉक्टर साहब के ऊपर जा कर उनके पेट पर किस करने लगी और उनकी टी-शर्ट और बनियान उतारने की कोशिश करने लगी।फिर नेहा मेरी तरफ देख कर बोली- बैठ के वहाँ गांड मरा रहा है क्या. हम सेक्स कर लेते थे। एक महीने पहले उसकी शादी हो गई। सेक्स तो हम आज भी करते हैं, पर अब हमारे पास पहले जितना मौका नहीं होता है।अब मैं नई चुत सर्च कर रहा हूँ, काश कोई मिले, तो ये लंड भी शांत हो जाए।तो फ्रेंड्स ये थी मेरे दोस्त की बहन की चुत की चुदाई की स्टोरी, प्लीज मुझे मेल जरूर करें, मैं आपके मेल का इन्तजार करूँगा।[emailprotected]. वो मैं अगली बार बताऊँगा।आप अपने विचार मुझे नीचे लिखे ई-मेल पर भेज सकते हैं।[emailprotected].

वो वास्तव में बहुत सुंदर थी। कमरे में जाते ही मैंने उसके होंठों पर किस किया और देर तक चूमता रहा। वो शायद इसके लिए तैयार थी.

चाची भी पूरा साथ दे रही थीं। चाची अपनी पूरी जीभ मेरे मुँह के अन्दर डाल देतीं. मैं बोला- खुल कर एक बार बोल दो क्या करना है?उसे कोई होश नहीं था… वो तुरंत बोली- चोद दो मुझे. उसने झट से मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मेरे लंड को देख कर कहने लगी- यह क्या है.